दुर्गा पूजा का पर्व क्यों मनाया जाता है?...


play
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

5:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फैशन है दुर्गा पूजा का पर्व क्यों मनाया जाता है दर्शन पूजन कथा के अनुसार प्राण उक्त दुर्गा देवी जी महिषासुर जैसे असुरों जो बहुत प्रकरण में और पति चटी गुरु थे और बहुत ही बलवान प्रचंड रूप से का वातावरण था तो ऐसे ही दुष्ट समो सकती को उन्होंने मिनिस्टर किया दुर्गा शक्ति के रूप में और दुर्गम नामक असुर था उसको भी संघार किया तो दुर्गा पर वह शक्ति का स्वरूप है शक्ति मतलब एक पर चंडिका की ताकत इसलिए इसकी उपासना और पर्व किया जाता है वैष्णो दिन के संघर्ष में अपनी विजय पताका फैलाई धर्म और सत्य के और भक्तों के साथ उन्होंने सहयोग दिया अपना वरदहस्त रखा तो इस तरह से हम एक देवी मां आचरण के द्वारा हम अपने अंदर करण में भी ऐसी शक्ति का महानता के गुण धर्मों को रचना करते हैं जगाते हैं और प्रार्थना रूप से उनको धारण करते हैं ताकि जो हमारे जीवन में जटिल परिस्थितियां उत्पन्न होती है वह इस देवी शक्ति के द्वारा उसका समाधान हो सके और अनिश्चितता के तौर पर जिंदगी आगे मंगलमय कल्याण रात ज्ञापन हो सके तो इसी एकता शक्ति पर आहूजा है जिसका हम निरंतर 9 दिनों के लिए अपनी व्यवस्था बनाते हैं और इसमें जो श्रद्धा भक्ति और विश्वास आस्था के साथ जुड़े हुए लोग तल्लीनता के साथ आत्मसात करते हैं और भली प्रकार उनको भक्ति फल का प्रसाद प्राप्त होता है अपने और जनकल्याण अर्थ आशीष प्राप्त होता है और अपने आप को सामर्थ्य बनाते हैं जो लोग आस्था में रखना चाहिए और बहुत ही महान कृपा है कि इसमें सिर्फ एक इच्छा और प्रार्थना चलती है जो वर्ष भर के जितने भी अपने दोष युक्त पापी युक्त अन्य तरह से नियमित आती है उसको पुलिस परिहार करा जाता है और अपनी नवीन सरचना में नवीन अवधारणा में उसकी जागृत की जाती है और महसूस किया जाता है कि हमारे अंदर देवी क्षेत्र उत्पन्न हो रही है और सतत रूप से होती भी है दूसरा यह फायदा है कि प्रकृति अपने मौसम के हिसाब से परिवर्तन करती है और शरीर के अंदर जिसे संघर्ष से एक नई शक्तियां हमारे अंदर शरीर के सेल्स बगैरा सचेत हो जाते उत्सर्जन आ होती है तो प्रतिरोधक क्षमता हमारे अंदर और बढ़ जाती है और मौसम बहुत गंभीर हो जाता है अति शरद ऋतु आती है तो इसमें जो शरीर के हिसाब से हमें जो लाभ होता है यदि उत्तम होता है तो हर रूप में बहुत ही कल्याण दायक यह पर्व मनाया जाता है और इसमें अपने आप को एक नई उमंग के साथ नवनिर्माण की संरचना में अपने आप को प्रयोग करते हैं और हर्षोल्लास जीवन में एक धारण करते हैं यह मेरी शार्दिक्रॉप अच्छा नहीं है आप सब का मंगलमय हो धन्यवाद

fashion hai durga puja ka parv kyon manaya jata hai darshan pujan katha ke anusaar praan ukth durga devi ji mahishasur jaise asuron jo bahut prakaran mein aur pati chati guru the aur bahut hi balwan prachand roop se ka vatavaran tha toh aise hi dusht samo sakti ko unhone minister kiya durga shakti ke roop mein aur durgam namak asur tha usko bhi sanghar kiya toh durga par vaah shakti ka swaroop hai shakti matlab ek par chandika ki takat isliye iski upasana aur parv kiya jata hai vaishno din ke sangharsh mein apni vijay pataka failai dharm aur satya ke aur bhakton ke saath unhone sahyog diya apna varadahast rakha toh is tarah se hum ek devi maa aacharan ke dwara hum apne andar karan mein bhi aisi shakti ka mahanata ke gun dharmon ko rachna karte hain jagate hain aur prarthna roop se unko dharan karte hain taki jo hamare jeevan mein jatil paristhiyaann utpann hoti hai vaah is devi shakti ke dwara uska samadhan ho sake aur anishchitata ke taur par zindagi aage mangalmay kalyan raat gyapan ho sake toh isi ekta shakti par ahuja hai jiska hum nirantar 9 dino ke liye apni vyavastha banate hain aur isme jo shraddha bhakti aur vishwas astha ke saath jude hue log tallinata ke saath aatmsat karte hain aur bhali prakar unko bhakti fal ka prasad prapt hota hai apne aur jankalyan arth aashish prapt hota hai aur apne aap ko samarthya banate hain jo log astha mein rakhna chahiye aur bahut hi mahaan kripa hai ki isme sirf ek iccha aur prarthna chalti hai jo varsh bhar ke jitne bhi apne dosh yukt papi yukt anya tarah se niyamit aati hai usko police parihar kara jata hai aur apni naveen sarchana mein naveen avdharna mein uski jagrit ki jaati hai aur mehsus kiya jata hai ki hamare andar devi kshetra utpann ho rahi hai aur satat roop se hoti bhi hai doosra yah fayda hai ki prakriti apne mausam ke hisab se parivartan karti hai aur sharir ke andar jise sangharsh se ek nayi shaktiyan hamare andar sharir ke sales bagaira sachet ho jaate utsarjan aa hoti hai toh pratirodhak kshamta hamare andar aur badh jaati hai aur mausam bahut gambhir ho jata hai ati sharad ritu aati hai toh isme jo sharir ke hisab se hamein jo labh hota hai yadi uttam hota hai toh har roop mein bahut hi kalyan dayak yah parv manaya jata hai aur isme apne aap ko ek nayi umang ke saath Navanirmaṇa ki sanrachna mein apne aap ko prayog karte hain aur harshollas jeevan mein ek dharan karte hain yah meri shardikrap accha nahi hai aap sab ka mangalmay ho dhanyavad

फैशन है दुर्गा पूजा का पर्व क्यों मनाया जाता है दर्शन पूजन कथा के अनुसार प्राण उक्त दुर्गा

Romanized Version
Likes  62  Dislikes    views  1203
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!