आपके अनुसार भारत में रेप केस की क्या सज़ा होनी चाहिए?...


user
Play

Likes  4  Dislikes    views  393
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

1:21

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसे कि आपका प्रश्न है आपके अनुसार भारत में रेप केस की सजा क्या होनी चाहिए तो यहां पर आपको बताना चाहेंगे कि वैसे तो इस पर कानून बने में ही है और उसमें अलग-अलग कैसेट में अलग सजा का प्रावधान भी है हाल मेरा लेकिन एक मानना है कि जो लोग नाबालिगों के रेप में अनमोल होते हैं उनको तो तुरंत माना कि जल्द से जल्द उनका फेस जो केस है वह फास्ट ट्रैक कोर्ट में चले और उसके बाद उनको तुरंत वहीं से सजा-ए-मौत मिल जानी चाहिए अगर उसमें उनकी इंवॉल्वमेंट पाई जाती है तो इसमें बहुत ज्यादा जो लिपस्टिक बना दिया जाता है कि इसके बाद सेक्शन स्कोर्ड थे हाई कोर्ट में उसके बाद सुप्रीम कोर्ट में चलते रहते हैं मुकदमे हनुमान जी गए फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाने से क्या फायदा है अगर हम उस फास्ट्रेक के बाद भी उस पूरा प्रोसेस उसमें कर रहे हो तो सीधा तो उसके बाद केस होना चाहिए कि आपका वह फास्ट ट्रैक कोर्ट इस तरह की बननी चाहिए कि उसमें सुप्रीम कोर्ट के अंदर भी आप अपील ना कर पाए इसकी तासीर महर्षि राष्ट्रपति के पास जाएगा फिर सीधा फांसी हो जाए और यकीन मानिए इस तरह क्या अगर आग दिल के शीश में भी फैसला आ गया और तुरंत फांसी मिल गई तो जोकि के सो रहे बलात्कार के और वह सब छोटे बच्चों के साथ कम से कम उस में तो बहुत बड़ी रोक लग ही जाएगी धन्यवाद

jaise ki aapka prashna hai aapke anusaar bharat mein rape case ki saza kya honi chahiye toh yahan par aapko bataana chahenge ki waise toh is par kanoon bane mein hi hai aur usme alag alag kaiset mein alag saza ka pravadhan bhi hai haal mera lekin ek manana hai ki jo log nabaligon ke rape mein anmol hote hai unko toh turant mana ki jald se jald unka face jo case hai vaah fast track court mein chale aur uske baad unko turant wahi se saza a maut mil jani chahiye agar usme unki invalwament payi jaati hai toh isme bahut zyada jo lipstick bana diya jata hai ki iske baad section scored the high court mein uske baad supreme court mein chalte rehte hai mukadme hanuman ji gaye fast track court banane se kya fayda hai agar hum us fastrek ke baad bhi us pura process usme kar rahe ho toh seedha toh uske baad case hona chahiye ki aapka vaah fast track court is tarah ki banani chahiye ki usme supreme court ke andar bhi aap appeal na kar paye iski tasir maharshi rashtrapati ke paas jaega phir seedha fansi ho jaaye aur yakin maniye is tarah kya agar aag dil ke sheesh mein bhi faisla aa gaya aur turant fansi mil gayi toh joki ke so rahe balatkar ke aur vaah sab chote baccho ke saath kam se kam us mein toh bahut baadi rok lag hi jayegi dhanyavad

जैसे कि आपका प्रश्न है आपके अनुसार भारत में रेप केस की सजा क्या होनी चाहिए तो यहां पर आपको

Romanized Version
Likes  368  Dislikes    views  6259
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके अनुसार भारत में रेप केस की क्या सजा होनी चाहिए डायरेक्ट जुड़ा था जब पता चलता है कुछ पता चला वहां के हाउस को खत्म करके जैसे सऊदी में होता है वैसे ही फांसी लटका दो बुमराह ने बीच रास्ते में ओके

aapke anusaar bharat mein rape case ki kya saza honi chahiye direct juda tha jab pata chalta hai kuch pata chala wahan ke house ko khatam karke jaise saudi mein hota hai waise hi fansi Latka do bumrah ne beech raste mein ok

आपके अनुसार भारत में रेप केस की क्या सजा होनी चाहिए डायरेक्ट जुड़ा था जब पता चलता है कुछ प

Romanized Version
Likes  356  Dislikes    views  5090
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उनका नाम राजन बाबू पिक आपका जो है वैसे ठीक है पूछ रहे हो कि आपके अनुसार भारत में इसकी क्या सजा होनी चाहिए वैधानिक रूप से क्या होता है हमारे देश की प्रथम पक्ष में भी क्या किया गया फांसी की सजा बढ़ा जा सकता है अपराध की गंभीरता पर निर्भर हो जाते है या पर्सनल भी तो यही है कि भाई पूजा से पॉक्सो एक्ट में फांसी की सजा निर्धारित की गई है तो बाकी के लिए भी की जा सकती है उसका दुरुपयोग होने की संभावना बढ़ जाती है लेकिन हमने देखा कि कुछ मामलों में ही पाया जाता है हंसी का कानून भी अब नहीं करके आते हो उसे कानून को कैसे किया जाता है उस महिला को भी कड़ी सजा मिलनी चाहिए 10 साल 8 साल तो उसके आधार पर की जा सकती अपराध की प्रकृति को ध्यान रखते हुए मेरे विचार है तुम्ही दवा पसंद है धन्यवाद

unka naam rajan babu pic aapka jo hai waise theek hai puch rahe ho ki aapke anusaar bharat mein iski kya saza honi chahiye vaidhyanik roop se kya hota hai hamare desh ki pratham paksh mein bhi kya kiya gaya fansi ki saza badha ja sakta hai apradh ki gambhirta par nirbhar ho jaate hai ya personal bhi toh yahi hai ki bhai puja se pakso act mein fansi ki saza nirdharit ki gayi hai toh baki ke liye bhi ki ja sakti hai uska durupyog hone ki sambhavna badh jaati hai lekin humne dekha ki kuch mamlon mein hi paya jata hai hansi ka kanoon bhi ab nahi karke aate ho use kanoon ko kaise kiya jata hai us mahila ko bhi kadi saza milani chahiye 10 saal 8 saal toh uske aadhaar par ki ja sakti apradh ki prakriti ko dhyan rakhte hue mere vichar hai tumhi dawa pasand hai dhanyavad

उनका नाम राजन बाबू पिक आपका जो है वैसे ठीक है पूछ रहे हो कि आपके अनुसार भारत में इसकी क्य

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  147
WhatsApp_icon
user

Abhay Pratap

Advocate | Social Welfare Activist

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से रेप की सजा फांसी और अगर वह व्यक्ति फांसी पर नहीं चलना चाहता उसके दोनों हाथ दोनों पैर काट कर खुले मैदान में 5 घंटे के लिए छोड़ देना चाहिए और एक तीसरा उसे माफ भी कर देना चाहिए

mere hisab se rape ki saza fansi aur agar vaah vyakti fansi par nahi chalna chahta uske dono hath dono pair kaat kar khule maidan mein 5 ghante ke liye chhod dena chahiye aur ek teesra use maaf bhi kar dena chahiye

मेरे हिसाब से रेप की सजा फांसी और अगर वह व्यक्ति फांसी पर नहीं चलना चाहता उसके दोनों हाथ

Romanized Version
Likes  124  Dislikes    views  1202
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं इस बात पर थोड़ा सा अनसैटल टू एचडी मैंने अभी मूवी देखी थी सेक्शन 375 अगर आपने नहीं देखी है तो पहले इस मूवी को देखें और जरूर देखें हर व्यक्ति को इस मूवी को देखना चाहिए उस मूवी में बताया गया है कि हमारे देश में काम किस तरीके का है हमारे देश का कानून कुछ जगह पर इस तरीके का है कि कुछ केस में दोषी बच जाते हैं और कुछ केस इसमें जो दोषी नहीं है उनको भी सजा मिल जाती है इसीलिए शायद शायद यही सबसे बड़ा कारण इसकी वजह से फांसी की सजा या कैपिटल पनिशमेंट हमारे देश में फांसी के लिए नहीं दी जाती है और और उस मूवी को देखने के बाद तुम्हें खुद सोचने लग गया था कि क्या सच में कोई एक ऐसी सजा हो सकती है जो सबको दिया सके क्योंकि हर एक व्यक्ति का किस अलग तरीके का हो सकता है डेफिनिटी हो सकता है और रेप की खास बात यह होती है कि जाधव केस लगाए जा रहे हैं रेप केस में पुलिस बोलती है पुलिस का कहना है कि जहां तक इस नकली या फर्जी होते हैं या पैसे ऐंठने के तरीके होते हैं जो रियल कैसे सोते हैं उसमें कार्रवाई लंबित न तो चलती है उसमें कार्यवाही के साथ साथ आरोपी के ब्लड टेस्ट मेडिकल सब कुछ होता है उसके बाद सजा का प्रावधान है लेकिन जो निश्चित रूप से किस देखे जाते हैं पता चलता है कि वह फर्जी है अगर डायरेक्ट पनिशमेंट का प्रधान इसमें आ जाएगा तो उसे वह बेकसूर को भी परेशानी होगी जूनो जी ने कुछ किया नहीं है वह केवल केस में क्योंकि इस केस में विटनेस की मांग नहीं होती रेप केस में सीधा सीधा लड़की ने जो बयान दिया है वही उसको विकनेस माना जाता है और सीधा उस पर कार्रवाई की जाती है तो मुझे लगता है कि हमें इस बारे में गहन सोच करना चाहिए और एक 11 कमेटी की चूत अच्छी सजा पुस्तकें और एक-एक डिफाइन चीज कैसे सोचा कि आपका क्या मानना है आप भी मुझे बताइए और आर्टिकल 370 मूवी जरूर देखिए सॉरी सेक्शन 370 जरूर देखें

main is baat par thoda sa anasaital to hd maine abhi movie dekhi thi section 375 agar aapne nahi dekhi hai toh pehle is movie ko dekhen aur zaroor dekhen har vyakti ko is movie ko dekhna chahiye us movie mein bataya gaya hai ki hamare desh mein kaam kis tarike ka hai hamare desh ka kanoon kuch jagah par is tarike ka hai ki kuch case mein doshi bach jaate hain aur kuch case isme jo doshi nahi hai unko bhi saza mil jaati hai isliye shayad shayad yahi sabse bada karan iski wajah se fansi ki saza ya capital punishment hamare desh mein fansi ke liye nahi di jaati hai aur aur us movie ko dekhne ke baad tumhe khud sochne lag gaya tha ki kya sach mein koi ek aisi saza ho sakti hai jo sabko diya sake kyonki har ek vyakti ka kis alag tarike ka ho sakta hai definiti ho sakta hai aur rape ki khaas baat yah hoti hai ki jadhav case lagaye ja rahe hain rape case mein police bolti hai police ka kehna hai ki jaha tak is nakli ya farji hote hain ya paise ainthane ke tarike hote hain jo real kaise sote hain usme karyawahi lambit na toh chalti hai usme karyavahi ke saath saath aaropi ke blood test medical sab kuch hota hai uske baad saza ka pravadhan hai lekin jo nishchit roop se kis dekhe jaate hain pata chalta hai ki vaah farji hai agar direct punishment ka pradhan isme aa jaega toh use vaah bekasur ko bhi pareshani hogi juno ji ne kuch kiya nahi hai vaah keval case mein kyonki is case mein witness ki maang nahi hoti rape case mein seedha seedha ladki ne jo bayan diya hai wahi usko weakness mana jata hai aur seedha us par karyawahi ki jaati hai toh mujhe lagta hai ki hamein is bare mein gahan soch karna chahiye aur ek 11 committee ki chut achi saza pustakein aur ek ek define cheez kaise socha ki aapka kya manana hai aap bhi mujhe bataye aur article 370 movie zaroor dekhiye sorry section 370 zaroor dekhen

मैं इस बात पर थोड़ा सा अनसैटल टू एचडी मैंने अभी मूवी देखी थी सेक्शन 375 अगर आपने नहीं देखी

Romanized Version
Likes  52  Dislikes    views  1038
WhatsApp_icon
user
5:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि भारत में रेप की सजा क्या होनी चाहिए मेरा मानना है कि रेप जैसा कुकृत्य इस संसार में कुछ दूसरा नहीं है खासकर आजकल के समाज में हम देख रहे हैं कि नाबालिग लड़कियों से मुझे तो शर्म आती है ऐसी ऐसी बातों बातों को कहते हुए और यह समझते हुए कि 2233 महिलाओं की महीना की बच्चियों के साथ जो रेप हुआ है यह यह समाज जा कहां रहा है आखिर लोगों की सोच को सोच कर सोचो क्या हुआ है समझ में नहीं आता है कि किन विचारों से किस स्थिति के आधार पर यह लोग चल रहे हैं लोगों की निजता पुणे सोचेको मैच 19th शब्द का इस्तेमाल कर रहा हूं उससे भी इनके लिए कुछ सब्जी नहीं बना है जो इन की गिरती हुई मानसिकता को प्रसारित कर सकें सरकार को चाहिए कि और भी कठोर कदम उठाएं जिससे भारत में देव की जो घटनाएं घट रही हैं क्या वह निर्भया कांड हो या उसके बाद से अनेक घटनाएं घटती चली आ रही है उसको पर कोई फर्क नहीं पड़ रहा है और अब तक होती आ रही है 1 लोगों में कानून का कोई डर भय है ही नहीं अगर अगर सरकार कोई कानून पारित करने की सोचती है या पैसा कानून लाया जाता है तो मानव अधिकार भी पर चलाता है क्या मानव अधिकार उस बच्ची का नहीं जो जिसने इसे संस्कृति को समाज को समझने से पहले सब कुछ खत्म कर दिया क्या मार दिया क्या लेकिन हमारा समाज उस चीज को भूल जाता है और फिर आगे बढ़ने लगता है लेकिन आगे बढ़े लेकिन उन चीजों से सीख लेकर आगे बढ़े लेकिन ऐसा होता नहीं है हमारे दोनों सदनों को उच्च सदन कौन जो नींद सदन राज्यसभा व लोकसभा दोनों को एक कठोर कानून बनाना चाहिए जिसमें स्पीडट्रेक के तहत उस चीज को तुरंत उसकी केस को समाप्त किया जाए और तत्पश्चात उसकी एक ही और एक ही सजा हो हंसी या जिस प्रकार सऊदी अरेबिया में जिस प्रकार की सजा दी जाती है उस प्रकार की सजा की सख्त जरूरत है तभी हम इस प्रकार के समस्याओं को दूर कर सकेंगे या मेन कुछ हद तक उस समस्याओं का हल कर सकेंगे मैं नहीं मानता कि आप पूर्ण रूप से यह चीजें रुक जाएगी लेकिन कुछ हद तक कम हो सकती हैं इस सब चीजों के लिए लोगों को और आगे आना होगा मैं यह नहीं कहता हूं कि सारे के सारे दोस्त है वह कानून का है राजनेताओं का है कुछ जी मोरिया हमारी भी है जो हम अपनी जिम्मेदारियों को छोड़ देते हैं हम उस समाज के नाम इस समाज में रहते हैं इस हम इस देश के नागरिक हैं और अपनी नागरिकता को छोड़कर अपने कार्यों में लगे रहते हैं जब भी किसी अप्रिय घटना हमारे सामने होती है तो हम सोचते हैं कि हमें थे क्या मतलब है लेकिन हमें भी अपनी आवाज को और कठोरता से लाना होगा तभी इस समाज में इतनी विविधता बनी जो घटनाएं हो रही है अरे उसको हम दूर कर सकेंगे सबसे बड़ी बात है कि कानून और सख्त होनी चाहिए और मृत्युदंड के अलावा दूसरा जो दूसरी कानून है इसमें आने ही नहीं चाहिए मैं यह भी मानता हूं कि मृत्यु से डर डर से के भय से रेप रुक जाएंगे मैं इससे तो सब तो नहीं कर सकता लेकिन इससे भी कोई कठोर कानून बन सके तो इसके लिए बनना ही चाहिए और उसमें ना बनाया जाए कि 15 साल से जो नवाई बच्ची से रेप होता है उसके लिए फांसी उसे नीचे होता है तो उसके लिए फांसी नहीं दोनों चीजों में भी रिश्ता एक ही है हां लेकिन थोड़ा तात्पर्य यह है कि जो कम उम्र की बच्चियों के साथ ऐसा होता है उनको निश्चित तौर पर कहीं भी किसी भी प्रकार से माफी नहीं मिलनी चाहिए और जो 18 साल के बाद की समस्याओं से होता है उसमें पब्लिकेशन है जिसका जिसकी जांच कराकर पूर्ण रूप से सरकार के द्वारा कानून के द्वारा जांच करके और निश्चित तौर पर उन्हें भी फांसी ही मिलनी चाहिए तभी एक संदेश जाएगा उन लोगों के लिए जो ऐसा कार्य करते हैं या इससे भी कोई कोई एप्स है अब सजा है तो वह मिलने चाहिए बहुत से लोग कहते हैं कि जो कार्य से यह कार्य हुआ है वही का वही का अधिकार देना चाहिए लिंग को काट देना चाहिए लेकिन मैं नहीं मानता इस प्रकार की चीजों से अरे रुक जाएगा हां लेकिन सरकार को एक बहुत ही मजबूत कानून बनाने की आवश्यकता है जिससे इस प्रकार की समस्याओं का हल निकाल सके धन्यवाद

aapka prashna hai ki bharat mein rape ki saza kya honi chahiye mera manana hai ki rape jaisa kukritya is sansar mein kuch doosra nahi hai khaskar aajkal ke samaj mein hum dekh rahe hain ki nabalik ladkiyon se mujhe toh sharm aati hai aisi aisi baaton baaton ko kehte hue aur yah samajhte hue ki 2233 mahilaon ki mahina ki bachiyo ke saath jo rape hua hai yah yah samaj ja kahaan raha hai aakhir logo ki soch ko soch kar socho kya hua hai samajh mein nahi aata hai ki kin vicharon se kis sthiti ke aadhaar par yah log chal rahe hain logo ki nijata pune socheko match 19th shabd ka istemal kar raha hoon usse bhi inke liye kuch sabzi nahi bana hai jo in ki girti hui mansikta ko prasarit kar sake sarkar ko chahiye ki aur bhi kathor kadam uthaye jisse bharat mein dev ki jo ghatnaye ghat rahi kya vaah Nirbhaya kaand ho ya uske baad se anek ghatnaye ghatati chali aa rahi hai usko par koi fark nahi pad raha hai aur ab tak hoti aa rahi hai 1 logo mein kanoon ka koi dar bhay hai hi nahi agar agar sarkar koi kanoon paarit karne ki sochti hai ya paisa kanoon laya jata hai toh manav adhikaar bhi par chalata hai kya manav adhikaar us bachi ka nahi jo jisne ise sanskriti ko samaj ko samjhne se pehle sab kuch khatam kar diya kya maar diya kya lekin hamara samaj us cheez ko bhool jata hai aur phir aage badhne lagta hai lekin aage badhe lekin un chijon se seekh lekar aage badhe lekin aisa hota nahi hai hamare dono sadano ko ucch sadan kaun jo neend sadan rajya sabha va lok sabha dono ko ek kathor kanoon banana chahiye jisme spidatrek ke tahat us cheez ko turant uski case ko samapt kiya jaaye aur tatpashchat uski ek hi aur ek hi saza ho hansi ya jis prakar saudi arabia mein jis prakar ki saza di jaati hai us prakar ki saza ki sakht zarurat hai tabhi hum is prakar ke samasyaon ko dur kar sakenge ya main kuch had tak us samasyaon ka hal kar sakenge main nahi manata ki aap purn roop se yah cheezen ruk jayegi lekin kuch had tak kam ho sakti hain is sab chijon ke liye logo ko aur aage aana hoga main yah nahi kahata hoon ki saare ke saare dost hai vaah kanoon ka hai rajnetao ka hai kuch ji moriya hamari bhi hai jo hum apni jimmedariyon ko chod dete hain hum us samaj ke naam is samaj mein rehte hain is hum is desh ke nagarik hain aur apni nagarikta ko chhodkar apne karyo mein lage rehte hain jab bhi kisi apriya ghatna hamare saamne hoti hai toh hum sochte hain ki hamein the kya matlab hai lekin hamein bhi apni awaaz ko aur kathorata se lana hoga tabhi is samaj mein itni vividhata bani jo ghatnaye ho rahi hai are usko hum dur kar sakenge sabse badi baat hai ki kanoon aur sakht honi chahiye aur mrityudand ke alava doosra jo dusri kanoon hai isme aane hi nahi chahiye main yah bhi manata hoon ki mrityu se dar dar se ke bhay se rape ruk jaenge main isse toh sab toh nahi kar sakta lekin isse bhi koi kathor kanoon ban sake toh iske liye banna hi chahiye aur usme na banaya jaaye ki 15 saal se jo navai bachi se rape hota hai uske liye fansi use niche hota hai toh uske liye fansi nahi dono chijon mein bhi rishta ek hi hai haan lekin thoda tatparya yah hai ki jo kam umr ki bachiyo ke saath aisa hota hai unko nishchit taur par kahin bhi kisi bhi prakar se maafi nahi milani chahiye aur jo 18 saal ke baad ki samasyaon se hota hai usme publication hai jiska jiski jaanch karakar purn roop se sarkar ke dwara kanoon ke dwara jaanch karke aur nishchit taur par unhe bhi fansi hi milani chahiye tabhi ek sandesh jaega un logo ke liye jo aisa karya karte hain ya isse bhi koi koi apps hai ab saza hai toh vaah milne chahiye bahut se log kehte hain ki jo karya se yah karya hua hai wahi ka wahi ka adhikaar dena chahiye ling ko kaat dena chahiye lekin main nahi manata is prakar ki chijon se are ruk jaega haan lekin sarkar ko ek bahut hi majboot kanoon banane ki avashyakta hai jisse is prakar ki samasyaon ka hal nikaal sake dhanyavad

आपका प्रश्न है कि भारत में रेप की सजा क्या होनी चाहिए मेरा मानना है कि रेप जैसा कुकृत्य इ

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  158
WhatsApp_icon
user

Rihan Shah

I want to become An IAS Officer (Love Realationship Full Experience)

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेमंत जी आप चाय बनदो रे भोले होता है जो चाहिए वह कम से कम दफा 302 लगन चाहिए कम से कम 3 बार फिर उधर आएंगे मगर वह कुछ स्पेशल रहती है हनी सिंह और सारी धाराएं अभी कैसे बजाते हो आपका आपका आशीर्वाद लेकर आए हो जाए उसी पर फिर देखना है

hemant ji aap chai banado ray bhole hota hai jo chahiye vaah kam se kam dafa 302 lagan chahiye kam se kam 3 baar phir udhar aayenge magar vaah kuch special rehti hai honey Singh aur saree dharayen abhi kaise bajaate ho aapka aapka ashirvaad lekar aaye ho jaaye usi par phir dekhna hai

हेमंत जी आप चाय बनदो रे भोले होता है जो चाहिए वह कम से कम दफा 302 लगन चाहिए कम से कम 3 बार

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  674
WhatsApp_icon
user
0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे अनुसार भारत में रेप की कड़ी से कड़ी सजा होनी चाहिए मेरे सबसे रेप कितना दिन होना अपराध है जो रेप करता है और जिस लड़की का रेप होता है वह रेपिस्ट को लड़की के घरवालों के हवाले कर देना चाहिए और उसका डिटेल लड़की के मां-बाप को लेने देना चाहिए उसकी जितनी कड़ी से कड़ी सजा दी जाए वह भी कम है

mere anusaar bharat mein rape ki kadi se kadi saza honi chahiye mere sabse rape kitna din hona apradh hai jo rape karta hai aur jis ladki ka rape hota hai vaah rapist ko ladki ke gharwaalon ke hawale kar dena chahiye aur uska detail ladki ke maa baap ko lene dena chahiye uski jitni kadi se kadi saza di jaaye vaah bhi kam hai

मेरे अनुसार भारत में रेप की कड़ी से कड़ी सजा होनी चाहिए मेरे सबसे रेप कितना दिन होना अपराध

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
user
0:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फांसी की सजा होनी चाहिए

fansi ki saza honi chahiye

फांसी की सजा होनी चाहिए

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  2
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!