IFS अधिकारी का जीवन कैसा है?...


play
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:14

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अधिकारी का जीवन आनंद में होता है इसमें कोई दो राय नहीं है लेकिन जिम्मेदारी भी होती है संपूर्ण रिस्पांसिबिलिटी संपूर्ण लायबिलिटी संपूर्ण ड्यूटी इसके साथ काम करने का आनंद यह तो बहुत ही अच्छी बात है ठाकुर लगन से निष्ठा से समय पर कर्तव्य मत करो और यह टोटके करेंगे नहीं यह मेरी ड्यूटी है तो आपको काम करने का आनंद आएगा और आपका जीवन आनंद में हो जाएगा लेकिन अगर आप कमजोर किस्म के हैं या कुछ आपकी कमियां है जो सामने वाला घर पानी लेता है या जान देता है तो आपका जीवन नारकीय हो जाएगा और एक बार आप दलदल में फंस गए प्रमाने नहीं कर सकते उसने अपनी कमजोरियों को या तो मिटा दीजिए उसका अंत कर दीजिए अगर कमजोरियों पर रहते हुए पद पर बने रहेंगे तो एक नागिन निश्चित रूप से इस पद की गरिमा को अपमान का सामना करना पड़ेगा और किसी एक के कारण इस पद में जितने भी लोग हैं वह सब उसी नजरिए से देखे जाएंगे तो यहां किसी व्यक्ति विशेष का करत हो ना या ईमानदार होना मायने नहीं रखता बल्कि उस पद की गरिमा का बहुत मायने रखता है हमको तो चैन की पीएम पद की गरिमा को किस तरह से चरितार्थ किया जा रहा है उसी प्रकार के आईएएस अधिकारी को सिस्टर मत लेना चाहिए और जीवन कैसा है यह अपने हाथ में अच्छा बनाएं या बुरा बनाएं

adhikari ka jeevan anand mein hota hai isme koi do rai nahi hai lekin jimmedari bhi hoti hai sampurna responsibility sampurna Liability sampurna duty iske saath kaam karne ka anand yah toh bahut hi achi baat hai thakur lagan se nishtha se samay par kartavya mat karo aur yah totake karenge nahi yah meri duty hai toh aapko kaam karne ka anand aayega aur aapka jeevan anand mein ho jaega lekin agar aap kamjor kism ke hain ya kuch aapki kamiyan hai jo saamne vala ghar paani leta hai ya jaan deta hai toh aapka jeevan narkiya ho jaega aur ek baar aap duldula mein fans gaye pramane nahi kar sakte usne apni kamzoriyo ko ya toh mita dijiye uska ant kar dijiye agar kamzoriyo par rehte hue pad par bane rahenge toh ek nagin nishchit roop se is pad ki garima ko apman ka samana karna padega aur kisi ek ke karan is pad mein jitne bhi log hain vaah sab usi nazariye se dekhe jaenge toh yahan kisi vyakti vishesh ka karat ho na ya imaandaar hona maayne nahi rakhta balki us pad ki garima ka bahut maayne rakhta hai hamko toh chain ki pm pad ki garima ko kis tarah se charitarth kiya ja raha hai usi prakar ke IAS adhikari ko sister mat lena chahiye aur jeevan kaisa hai yah apne hath mein accha banaye ya bura banaye

अधिकारी का जीवन आनंद में होता है इसमें कोई दो राय नहीं है लेकिन जिम्मेदारी भी होती है संप

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1302
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!