क्या वाक़ई में भूत या आत्माएँ होती हैं?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

6:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

712 विधियों से दिया जा सकता है और तमबीडीए डिस्कॉम साइंटिफिक कहेंगे साइक्लोजिकल की दूसरी विधि एवं आध्यात्मिक है सच कहती है कि मानव का मर जाने के बाद में कोई वजूद नहीं रहता है क्योंकि वह उसके शरीर पंच भौतिक शरीर को जला दिया जाता है इसलिए कुछ नहीं रहता बे भूत और आत्मा अधिक कोई शिकार नहीं करते साइकोलॉजी यह कहती है कि आदमी को यह भूत और यह आत्मा वर्क कुछ नहीं होते देखकर में जो तुमको एहसास होता है तुम कहते हो कि मुझे भूत दिखाई दिया या मुझे डर लगा यह सारे आपके जैसे सपने बुरे सपने आते हैं मुझे बुरी बुरी आत्माएं सपनों में दिखाई देती हैं भूत दिखाई देते हैं चुड़ैल दिखाई देती है सपने में दिखाई देता है जब जिंदा आदमी जो चीज को काम नहीं कर पाता साइकोलॉजी कहती हूं मृत आत्मा कुछ नहीं कर सकती ऐसा क्योंकि उसको तो शरीर भी नहीं हुई पुष्कर चल चुका साइकोलॉजी कहती है कि मानसिक धारणा देश की बनी हुई है आपकी वैसा ही आप को मूर्त रूप दिखाई देता है देखो एक पेड़ के नीचे से आप निरंतर बचपन से गुजरते रहे हैं गांव में चर्चा चलती है अक्षर और एक व्यक्ति कुछ मीठा खाकर गया है वहां से और उसकी ठोकर लगी और उसको गिर पड़ा अचानक ही उल्लू बोलने लगा रात का निराशा है वह घबरा गया और वह कहने लगा अरे वह तो बहुत हल्ला मच गया अब सीमा कुछ दो या तीन व्यक्ति पीछे कभी फीचर में कोई घटना घट जाती है तो निश्चित रूप से प्राप्त हो जाएगा किस पेड़ पर एक भूत रहता है और लोग उसके नीचे उतरकर गुजरेंगे साइकोलॉजी कहती कि जैसे ही कोई व्यक्ति उस पेड़ के पास आता है रात के अंधेरे में उसका मन कपड़ा नहीं लगता है यह साइकोलॉजी है और ना चाहते हुए ना होते हुए भी उस पेड़ पर तो गया वह स्थान भूतों का क्या यह साइकोलॉजी की भाषा है आध्यात्मिकता कहती है कि मानव की एक आयु निश्चित होती है जो समाज का जन्म होता है उसकी आयु फिक्स हो जाती है मानना है यह कार्य करने हैं अब किसी से झगड़ा हो गया और उसमें उसको चाकू मार दिया या गोली मार दी असम भाई ग्रुप से उसकी शादी हो गई और क्योंकि विधाता नहीं जूस के लिए उम्र तिथि मालूम 80 साल की उम्र दी थी और उसकी लड़ाई हो गई 26 साल की एज में दो लड़कों में आपस में चाकूबाजी हो गई यार बोली चल रही हो उसकी साल की 25 साल की उम्र उसको लिख रखी थी अब बताइए वह 64 साल का हो गुजारे गा आध्यात्मिक योनि में गुजारना होगा इसलिए ऐसी असामयिक मृत्यु होती है जो एक्सीडेंट में होती है अर्जुन की लड़ाई झगड़े के कारण से होती है भीम वाले लोग प्रेत योनि में विचरण करते रहते हैं ऐसा आध्यात्मिकता कहती है लेकिन यह देखो साधारण मृत्यु को नहीं करेंगे आप जो जनरल मृत्यु है जो स्वाभाविक रूप से मृत्यु हो रही है कोई व्यक्ति बरसों से रोग से पीड़ित है और उसकी मृत्यु हुई है तो वह स्वाभाविक गुण है यह अकाल मृत्यु नहीं है अकाल मृत्यु वह कल आएगी जो एक्सीडेंट में हुई है इसी कड़ी में हुई है गोलीकांड आदि में हुई है या किसी की हत्या कर दी गई है मैं तो करिश्मा मेरा मानना अलग है मेरा मानना यह है कि यह सब पूर्व की ओर धर्मों का परिणाम है इस जन्म में जिस व्यक्ति ने जिस पत्नी को गोली मारी है हो सकता है कि अगले या तो उसने उसको गोली मारी थी या वह अगले जन्म में उसको गोली मारेगा बहुत सारे कर्मों के परिणाम अपने आप ही मिलते रहते हैं आप जो कर चुके हैं उसका परिणाम पर है या दुख करेंगे उसका भी आपको प्रणाम स्वाभाविक रूप से ही मिलेंगे मेरा मानना यह है तो अब यहां पर आपको अपने विवेक से सोचना चाहिए कि यथार्थ में क्या है मैं साइकोलॉजी का जवाब मानने वाला हूं मेरा मानना यह है कि भूत आत्मा दुखी होते हैं मैंने इनका वजूद कभी नहीं देखा नहीं देखा ना महसूस किया रमेश को दावे से तो नहीं कह सकता यथाशक्ति क्या है बाकी आप अपने अनुभव के आधार पर भी इसका कंप्लेन कर सकते हैं हर व्यक्ति की अपनी अपनी अलग-अलग धारणाएं होती हैं अलग-अलग विचार होते हैं और वह अपने विचारों को अपनी धारणा के अनुसार ही प्रस्तुत करता है

712 vidhiyon se diya ja sakta hai aur tamabidiye discom scientific kahenge saiklojikal ki dusri vidhi evam aadhyatmik hai sach kehti hai ki manav ka mar jaane ke baad me koi wajood nahi rehta hai kyonki vaah uske sharir punch bhautik sharir ko jala diya jata hai isliye kuch nahi rehta be bhoot aur aatma adhik koi shikaar nahi karte psychology yah kehti hai ki aadmi ko yah bhoot aur yah aatma work kuch nahi hote dekhkar me jo tumko ehsaas hota hai tum kehte ho ki mujhe bhoot dikhai diya ya mujhe dar laga yah saare aapke jaise sapne bure sapne aate hain mujhe buri buri aatmaen sapno me dikhai deti hain bhoot dikhai dete hain chudail dikhai deti hai sapne me dikhai deta hai jab zinda aadmi jo cheez ko kaam nahi kar pata psychology kehti hoon mrit aatma kuch nahi kar sakti aisa kyonki usko toh sharir bhi nahi hui pushkar chal chuka psychology kehti hai ki mansik dharana desh ki bani hui hai aapki waisa hi aap ko murt roop dikhai deta hai dekho ek ped ke niche se aap nirantar bachpan se gujarate rahe hain gaon me charcha chalti hai akshar aur ek vyakti kuch meetha khakar gaya hai wahan se aur uski thokar lagi aur usko gir pada achanak hi ullu bolne laga raat ka nirasha hai vaah ghabara gaya aur vaah kehne laga are vaah toh bahut halla match gaya ab seema kuch do ya teen vyakti peeche kabhi feature me koi ghatna ghat jaati hai toh nishchit roop se prapt ho jaega kis ped par ek bhoot rehta hai aur log uske niche utarakar gujrenge psychology kehti ki jaise hi koi vyakti us ped ke paas aata hai raat ke andhere me uska man kapda nahi lagta hai yah psychology hai aur na chahte hue na hote hue bhi us ped par toh gaya vaah sthan bhooton ka kya yah psychology ki bhasha hai aadhyatmikta kehti hai ki manav ki ek aayu nishchit hoti hai jo samaj ka janam hota hai uski aayu fix ho jaati hai manana hai yah karya karne hain ab kisi se jhagda ho gaya aur usme usko chaku maar diya ya goli maar di assam bhai group se uski shaadi ho gayi aur kyonki vidhata nahi juice ke liye umar tithi maloom 80 saal ki umar di thi aur uski ladai ho gayi 26 saal ki age me do ladko me aapas me chakubaji ho gayi yaar boli chal rahi ho uski saal ki 25 saal ki umar usko likh rakhi thi ab bataiye vaah 64 saal ka ho gujare jaayega aadhyatmik yoni me gujarana hoga isliye aisi asamayik mrityu hoti hai jo accident me hoti hai arjun ki ladai jhagde ke karan se hoti hai bhim waale log pret yoni me vichran karte rehte hain aisa aadhyatmikta kehti hai lekin yah dekho sadhaaran mrityu ko nahi karenge aap jo general mrityu hai jo swabhavik roop se mrityu ho rahi hai koi vyakti barson se rog se peedit hai aur uski mrityu hui hai toh vaah swabhavik gun hai yah akaal mrityu nahi hai akaal mrityu vaah kal aayegi jo accident me hui hai isi kadi me hui hai golikand aadi me hui hai ya kisi ki hatya kar di gayi hai main toh karishma mera manana alag hai mera manana yah hai ki yah sab purv ki aur dharmon ka parinam hai is janam me jis vyakti ne jis patni ko goli mari hai ho sakta hai ki agle ya toh usne usko goli mari thi ya vaah agle janam me usko goli marenge bahut saare karmon ke parinam apne aap hi milte rehte hain aap jo kar chuke hain uska parinam par hai ya dukh karenge uska bhi aapko pranam swabhavik roop se hi milenge mera manana yah hai toh ab yahan par aapko apne vivek se sochna chahiye ki yatharth me kya hai main psychology ka jawab manne vala hoon mera manana yah hai ki bhoot aatma dukhi hote hain maine inka wajood kabhi nahi dekha nahi dekha na mehsus kiya ramesh ko daave se toh nahi keh sakta yathashakti kya hai baki aap apne anubhav ke aadhar par bhi iska complain kar sakte hain har vyakti ki apni apni alag alag dharnae hoti hain alag alag vichar hote hain aur vaah apne vicharon ko apni dharana ke anusaar hi prastut karta hai

712 विधियों से दिया जा सकता है और तमबीडीए डिस्कॉम साइंटिफिक कहेंगे साइक्लोजिकल की दूसरी वि

Romanized Version
Likes  347  Dislikes    views  3882
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या वाकई में भूतिया नहीं होती दिखी हमने कभी भूत कोलिया आत्मा को अभी तक तो देखा नहीं और अनुभव नहीं किया इसलिए हम यह नहीं कह सकते भूत प्रेत आत्मा के साथ यह सब होते क्योंकि हमारा जो फ्रेंड है हम खुद ही है या हमारा तरफ जो है वह जब तक देखता नहीं है तब तक उस बात को मानता नहीं यकीन नहीं करता इसलिए हमें यह मानने से इनकार होता है कि वाकई में वो की आत्माएं होती है हमें ऐसा लगता है कि यह हमारे मन का कुछ लाभ होगा हमारे मन का कुछ सेकेंड की दर की जो भावना होती है दिल की फीलिंग होती है उसे हम भूत प्रेत पिशाच डाके नगर वेदर अपना दे देते हैं धन्यवाद

kya vaakai mein bhutiya nahi hoti dikhi humne kabhi bhoot koliya aatma ko abhi tak toh dekha nahi aur anubhav nahi kiya isliye hum yah nahi keh sakte bhoot pret aatma ke saath yah sab hote kyonki hamara jo friend hai hum khud hi hai ya hamara taraf jo hai vaah jab tak dekhta nahi hai tab tak us baat ko manata nahi yakin nahi karta isliye hamein yah manane se inkar hota hai ki vaakai mein vo ki aatmaen hoti hai hamein aisa lagta hai ki yah hamare man ka kuch labh hoga hamare man ka kuch second ki dar ki jo bhavna hoti hai dil ki feeling hoti hai use hum bhoot pret pishach dake nagar Weather apna de dete hain dhanyavad

क्या वाकई में भूतिया नहीं होती दिखी हमने कभी भूत कोलिया आत्मा को अभी तक तो देखा नहीं और अन

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  1178
WhatsApp_icon
user

Liyakat Ali Gazi

Motivational Speaker, Life Coach & Soft Skills Trainer 📲 9956269300

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां हकीकत में भूत प्रेत आत्माएं होती हैं यह बात शत प्रतिशत सत्य है इस बात के प्रमाण जो हैं हमारे सभी धर्म के ग्रंथों से भी मिलता है और यह हमारे बुजुर्गों के द्वारा भी और हमारे परंपराओं के द्वारा भी बताया गया है और हकीकत में बांट सकते हो

ji haan haqiqat mein bhoot pret aatmaen hoti hain yah baat shat pratishat satya hai is baat ke pramaan jo hain hamare sabhi dharam ke granthon se bhi milta hai aur yah hamare bujurgon ke dwara bhi aur hamare paramparaon ke dwara bhi bataya gaya hai aur haqiqat mein baant sakte ho

जी हां हकीकत में भूत प्रेत आत्माएं होती हैं यह बात शत प्रतिशत सत्य है इस बात के प्रमाण जो

Romanized Version
Likes  74  Dislikes    views  1480
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वैसे जैसे कि आज की चर्चा का विषय है क्या वाकई में भूत की आत्माएं होती है तो आपको बताना चाहेंगे कि अगर आप भगवान पर भरोसा करते हैं तो आपको शैतान पर भी कुछ हद तक भरोसा होना चाहिए अगर आप भगवान को मानते हैं क्या भगवान इस दुनिया में गैस करते हैं तो उसी प्रकार आपको पैरानॉर्मल एक्टिविटीज और ऐसे क्रिएचर्स पर भी भरोसा करना चाहिए कि यह भी इस संसार में विद्यमान है भले वह आपको कोई हानि पहुंचाए ना पहुंचाएं लेकिन इस बात को तो साइंस भी मानता है कि हां कुछ तरह के पैरानॉर्मल एक्टिविटीज होती है जो कि साइंस के अंदर डिफाइंड नहीं है धन्यवाद

waise jaise ki aaj ki charcha ka vishay hai kya vaakai mein bhoot ki aatmaen hoti hai toh aapko bataana chahenge ki agar aap bhagwan par bharosa karte hain toh aapko shaitaan par bhi kuch had tak bharosa hona chahiye agar aap bhagwan ko maante hain kya bhagwan is duniya mein gas karte hain toh usi prakar aapko paranormal activities aur aise kriechars par bhi bharosa karna chahiye ki yah bhi is sansar mein vidyaman hai bhale vaah aapko koi hani pahunchaye na paunchaye lekin is baat ko toh science bhi manata hai ki haan kuch tarah ke paranormal activities hoti hai jo ki science ke andar defined nahi hai dhanyavad

वैसे जैसे कि आज की चर्चा का विषय है क्या वाकई में भूत की आत्माएं होती है तो आपको बताना चाह

Romanized Version
Likes  395  Dislikes    views  5434
WhatsApp_icon
user

महेश सेठ

रेकी ग्रैंडमास्टर,लाइफ कोच

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भभूति आत्माएं एक मन की कल्पना है इससे किसी का कोई लाभ नहीं होता केवल डर होता है और यह सब लोडर डार्क अंडर करके अपना उल्लू सीधा करते हैं डरा डरा करके कुछ नहीं है सब बकवास है

bhabhuti aatmaen ek man ki kalpana hai isse kisi ka koi labh nahi hota keval dar hota hai aur yah sab Loader dark under karke apna ullu seedha karte hain dara dara karke kuch nahi hai sab bakwas hai

भभूति आत्माएं एक मन की कल्पना है इससे किसी का कोई लाभ नहीं होता केवल डर होता है और यह सब ल

Romanized Version
Likes  140  Dislikes    views  2434
WhatsApp_icon
play
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

1:11

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या वाकई में भूतिया समय होती है औरत होती है और एक में होता है कि जिसमें भूत प्रेत को मानते हैं और दूसरा है जिसमें भूत प्रेत को नहीं मारते ओके एक कुर्ता है कॉलेज में जो बेंगलुरु में होता है सिर्फ इंडिया में सिर्फ और सिर्फ बेंगलुरु में उसमें आत्मा आत्मा उसे पूरा रिसर्च होता है कि वह साइकोलॉजी सिर्फ और सिर्फ आत्माओं करता है और उसे सारा काम बताओ तो कुछ साइकोलॉजि में है क्या आत्माएं है

kya vaakai mein bhutiya samay hoti hai aurat hoti hai aur ek mein hota hai ki jisme bhoot pret ko maante hain aur doosra hai jisme bhoot pret ko nahi marte ok ek kurta hai college mein jo bengaluru mein hota hai sirf india mein sirf aur sirf bengaluru mein usmein aatma aatma use pura research hota hai ki vaah psychology sirf aur sirf atmaon karta hai aur use saara kaam batao toh kuch psycology mein hai kya aatmaen hai

क्या वाकई में भूतिया समय होती है औरत होती है और एक में होता है कि जिसमें भूत प्रेत को मानत

Romanized Version
Likes  319  Dislikes    views  4321
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी दो अलग-अलग चीजें हैं पर आती है जब आत्माओं की बात होती है तो यह तो पूरा विश्व कहता है साइंस कहता है हमारे वेद पुराण सब कहते क्या हमारे शरीर में भी आत्माएं हैं और आत्मा को कोई शरीर नहीं होता जब आपकी शरीर में है तब तक आप की भी है आपका शादी नष्ट हो जाने पर मैं तो किसी दूसरे शरीर में प्रवेश कर जाती है यह बात तो बिल्कुल और इसमें कोई दो राय नहीं है अब आप भूत की बात करते हैं तो मुझे लगता है कि घोस्ट भूत एक काल्पनिक रचना है जो एक बुरी आत्मा को दर्शाने का प्रतीक है और यह कार्य किया गया है एक स्पष्ट तरीके से फिल्म इंडस्ट्री वालों के द्वारा आप मुझे लगता है कि जो हॉलीवुड वाली है उन्होंने पहले किया और पॉलीवाल्विस के बाद में किया अलग तरीके का मेकअप करके अलग तरीके आवाज से जोड़ जोड़ कर उन्होंने इस तरह की चीज है क्रिएट किसने की चीजों को पर्दे पर दिखाए कि हम भी सोचने को मजबूर हो गए कि क्या यह सच में होती है या नहीं और इसमें हमारा दोष नहीं है हम जो भी चीज प्रदीप देखते हैं उसको रियल लाइफ में ऐड करने कोशिश करते हम सीखने की कोशिश करते हैं आप भूत होते हैं इस कन्फर्मेशन तो नहीं है लेकिन यह बात जरूर है कि यह चीजों की शुरुआत हुई और मुझे लगता है कि नहीं है जिस तरह से दिखाया जाता है उस तरह से तो बिल्कुल भी नहीं है अलग-अलग मेकअप करके आवाज दिखा करके भी सकती हो सकती है लेकिन यह कंफर्म करना मुझे लगता नहीं है कि सही होगा धन्यवाद आपके विचार क्या है अपने विचार भी कमेंट

vicky do alag alag cheezen hain par aati hai jab atmaon ki baat hoti hai toh yah toh pura vishwa kahata hai science kahata hai hamare ved puran sab kehte kya hamare sharir mein bhi aatmaen hain aur aatma ko koi sharir nahi hota jab aapki sharir mein hai tab tak aap ki bhi hai aapka shadi nasht ho jaane par main toh kisi dusre sharir mein pravesh kar jaati hai yah baat toh bilkul aur isme koi do rai nahi hai ab aap bhoot ki baat karte hain toh mujhe lagta hai ki ghost bhoot ek kalpnik rachna hai jo ek buri aatma ko darshane ka prateek hai aur yah karya kiya gaya hai ek spasht tarike se film industry walon ke dwara aap mujhe lagta hai ki jo hollywood waali hai unhone pehle kiya aur palivalwis ke baad mein kiya alag tarike ka makeup karke alag tarike awaaz se jod jod kar unhone is tarah ki cheez hai create kisne ki chijon ko parde par dekhiye ki hum bhi sochne ko majboor ho gaye ki kya yah sach mein hoti hai ya nahi aur isme hamara dosh nahi hai hum jo bhi cheez pradeep dekhte hain usko real life mein aid karne koshish karte hum seekhne ki koshish karte hain aap bhoot hote hain is conformation toh nahi hai lekin yah baat zaroor hai ki yah chijon ki shuruaat hui aur mujhe lagta hai ki nahi hai jis tarah se dikhaya jata hai us tarah se toh bilkul bhi nahi hai alag alag makeup karke awaaz dikha karke bhi sakti ho sakti hai lekin yah confirm karna mujhe lagta nahi hai ki sahi hoga dhanyavad aapke vichar kya hai apne vichar bhi comment

विकी दो अलग-अलग चीजें हैं पर आती है जब आत्माओं की बात होती है तो यह तो पूरा विश्व कहता है

Romanized Version
Likes  44  Dislikes    views  893
WhatsApp_icon
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जो प्राणी अकाल मृत्यु मर जाता है उसको यदि समय पर दूसरा शरीर नहीं मिल पाता तो इसकी आत्माएं भटकती है और नहीं आत्मा ही बहुत याद में बन जाती हैं और रहे हैं कोई न कोई विवाह संस्थान की चाहत में किसी के शरीर में है रिपब्लिक भी हो सकती है उनकी आत्माओं को आत्महत्या शास्त्र विधि है

dekhiye jo prani akaal mrityu mar jata hai usko yadi samay par doosra sharir nahi mil pata toh iski aatmaen bhatakti hai aur nahi aatma hi bahut yaad mein ban jaati hain aur rahe hain koi na koi vivah sansthan ki chahat mein kisi ke sharir mein hai Republic bhi ho sakti hai unki atmaon ko atmahatya shastra vidhi hai

देखिए जो प्राणी अकाल मृत्यु मर जाता है उसको यदि समय पर दूसरा शरीर नहीं मिल पाता तो इसकी आ

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  1247
WhatsApp_icon
user
0:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां भूत और आत्मा होते हैं क्योंकि वह एक प्रकार की ऊर्जा है

haan bhoot aur aatma hote hain kyonki vaah ek prakar ki urja hai

हां भूत और आत्मा होते हैं क्योंकि वह एक प्रकार की ऊर्जा है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल वाकई में भूत और आत्मा होती है लेकिन वह सचमुच में नहीं होती है वह हमारे मन के अंदर के रहते आत्माएं होती है अमेरिका के सेंट इसने वाइल्ड गुरु ने एक रिसर्च के दौरान ऐसा पाया कि आदमी जब मरते हैं तो थोड़ी देर बाद उसकी आंखों उसके शरीर को छोड़कर चल जाती है इसको ग्रुप करने के लिए उन्होंने एक मरते हुए आदमी को कुछ मिनट पहले एक शीशे में बंद कर दिया जब वह मरने लगा तो थोड़ी देर बाद इसी से को छोड़कर एक अजीब सी शक्ति गई और उसी से को फोड़ दिया उसके लिए पता चलता है मैं की आत्मा या भूत होते हैं जिसके कारण आप अपने शरीर को चला सकते हैं अगर आत्मा या भूत ही नहीं होती तो हम सांस कैसे लेते पानी कैसे पिक्चर अमेरिकन क्या हुआ खाना पड़ रहा है

bilkul vaakai mein bhoot aur aatma hoti hai lekin vaah sachmuch mein nahi hoti hai vaah hamare man ke andar ke rehte aatmaen hoti hai america ke sent isne wild guru ne ek research ke dauran aisa paya ki aadmi jab marte hain toh thodi der baad uski aakhon uske sharir ko chhodkar chal jaati hai isko group karne ke liye unhone ek marte hue aadmi ko kuch minute pehle ek shishe mein band kar diya jab vaah marne laga toh thodi der baad isi se ko chhodkar ek ajib si shakti gayi aur usi se ko fod diya uske liye pata chalta hai main ki aatma ya bhoot hote hain jiske karan aap apne sharir ko chala sakte hain agar aatma ya bhoot hi nahi hoti toh hum saans kaise lete paani kaise picture american kya hua khana pad raha hai

बिल्कुल वाकई में भूत और आत्मा होती है लेकिन वह सचमुच में नहीं होती है वह हमारे मन के अंदर

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!