पेड़ों के कटने पर हमारा ही नुक़सान होता है, ये लोग क्यूँ नहीं समझते?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

समाज शिक्षा के कारण से अज्ञानता के कारण से उसी प्रकार से जैसे कोई व्यक्ति पेड़ पर बैठा है और जिस तरह दो बेटा उसी डाली को पुलिस जनता के नजदीक जाऊंगा और लग जाएगी और मर जाऊंगा लेकिन ऐसे लोग जो यह नहीं जानते कि पर्यावरण को प्रसन्न करने में बहुत सहयोगी हो रहे हैं क्योंकि पेड़ स्वच्छता फैलाते सछवा देते हैं कि अधिक तरजीह देते दवाइयां भेज देंगे कल देते हैं फ्रूट जल देते पत्तियां देते हैं इनका सब कुछ काम आता है परदेसी तो चाहिए स्वच्छ वायु देते हैं उचित कि हम पेड़ लगा सकेंगे और हमारा पर्यावरण स्वच्छ रहेगा स्वच्छ रहेगा हम स्वस्थ रहेंगे और जिन पेड़ों की कटाई हो जाएगी उतना ही पर्यावरण को दूषित हो तो चला जाएगा आपको याद होगी देश तो मुझे अभिमन्यु नाम याद नहीं आ रहा वहां पर पेड़ों की बहुत आनंद पटेल जी प्रणाम सर बहुत भयंकर रूप से वहां पर अकाल पड़ा था तो मेरे से हमें पेड़ नहीं काटना चाहिए शिक्षक होने के नाते हमारा फर्ज बनता है कि हम कितने पेड़ लगा सके हमें पेड़ लगाने चाहिए हमारे आसपास हरियाली कितनी चाहिए को यह सभी हम सभी मानव जाति के लिए कार्य पर्यावरण प्रदूषण बढ़ेगा तोमर मानव जीवन कट जाएगा और पर्यावरण स्वच्छ रहेगा दिन परिवार पर्यावरण को साफ सकेंगे स्वच्छ रखेंगे संग्रहित रखेंगे उतना ही हमारे मानव जीवन के लिए तैयारी है सभी मानवों के लिए तैयारी है

samaaj shiksha ke karan se agyanata ke karan se usi prakar se jaise koi vyakti ped par baitha hai aur jis tarah do beta usi dali ko police janta ke nazdeek jaunga aur lag jayegi aur mar jaunga lekin aise log jo yah nahi jante ki paryavaran ko prasann karne mein bahut sahyogi ho rahe hai kyonki ped swachhta failate sachava dete hai ki adhik tarajih dete davaiyan bhej denge kal dete hai fruit jal dete pattiyan dete hai inka sab kuch kaam aata hai pardesi toh chahiye swachh vayu dete hai uchit ki hum ped laga sakenge aur hamara paryavaran swachh rahega swachh rahega hum swasthya rahenge aur jin pedon ki katai ho jayegi utana hi paryavaran ko dushit ho toh chala jaega aapko yaad hogi desh toh mujhe abhimanyu naam yaad nahi aa raha wahan par pedon ki bahut anand patel ji pranam sir bahut bhayankar roop se wahan par akaal pada tha toh mere se hamein ped nahi kaatna chahiye shikshak hone ke naate hamara farz baata hai ki hum kitne ped laga sake hamein ped lagane chahiye hamare aaspass hariyali kitni chahiye ko yah sabhi hum sabhi manav jati ke liye karya paryavaran pradushan badhega tomar manav jeevan cut jaega aur paryavaran swachh rahega din parivar paryavaran ko saaf sakenge swachh rakhenge sangrahit rakhenge utana hi hamare manav jeevan ke liye taiyari hai sabhi manavon ke liye taiyari hai

समाज शिक्षा के कारण से अज्ञानता के कारण से उसी प्रकार से जैसे कोई व्यक्ति पेड़ पर बैठा है

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  1122
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
ped paudhon ko katna uchit nahin hai karan bataen ; kya hoga agar ham pedon ki katai karte rahenge ; ped katne se kya nuksan hota hai ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!