क्या आपको लगता है अब्दुल्ला परिवार के साथ कश्मीर में सही बर्ताव हुआ या नहीं?...


user

Nikhil Ranjan

Programme Coordinator - National Institute of Electronics and Information Technology (NIELIT)

1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे जैसे कि आज की चर्चा का विषय है क्या आपको लगता है कि अब्दुल्ला परिवार के साथ कश्मीर में सही बढ़ता हुआ है या नहीं है तक बताना चाहेंगे कि पर्सनल ओपिनियन की अगर बात करें तो मुझे तो सही लगता है क्योंकि जिस तरह से इनकी हुकूमत रही है इतने सालों तक पहले इनके बाप दादों से लेकर अब तक जो इनके बारे में अकूत संपत्ति कट्टी हो गई है इन्होंने कश्मीरियों के लिए कुछ नहीं किया यह सिर्फ उसका एक प्रकांड अच्छा बना कर चलाते रहें अपने खुद के बच्चे इनके बाहर पढ़ते हैं विदेश में जाकर पढ़ते हैं जो एक लाइफस्टाइल दूसरे लोगों का होता है वही इन्होंने अपने बच्चों को दिया है और पहनावा देखिए कुछ भी देखिए वह सारी चीजें इनकी बिल्कुल ही अलग है जुदा है जो इनकी सोच है जो इन्होंने अपने बच्चों को दी है उसके कंपेयर करिए और जो इन्होंने जूस कश्मीरियों को दी है उसमें कंपेयर करिए तो जमीन आसमान का फर्क है फिर चाहे सिर्फ अब्दुल्ला परिवार हो या फिर अलगाववादी नेता हूं उन सब की जो सोच है वह दोगली रही है कश्मीरियों के लग रही है और अपने लिए अलग रही है और अल्टीमेटली सबने अपने-अपने लिए पैसे कमाए हैं नोट छापे हैं उन्होंने तस्वीरों के लिए जो काम करना चाहिए था उस हिसाब से एक परसेंट भी नहीं किया है तो जवाब उनके साथ बढ़ता हो रहा है वह उसी के लायक है धन्यवाद

dekhe jaise ki aaj ki charcha ka vishay hai kya aapko lagta hai ki abdullah parivar ke saath kashmir mein sahi badhta hua hai ya nahi hai tak bataana chahenge ki personal opinion ki agar baat kare toh mujhe toh sahi lagta hai kyonki jis tarah se inki hukumat rahi hai itne salon tak pehle inke baap dadon se lekar ab tak jo inke bare mein akut sampatti kethi ho gayi hai inhone kashmiriyon ke liye kuch nahi kiya yah sirf uska ek prakaand accha bana kar chalte rahein apne khud ke bacche inke bahar padhte hain videsh mein jaakar padhte hain jo ek lifestyle dusre logo ka hota hai wahi inhone apne baccho ko diya hai aur pahanava dekhiye kuch bhi dekhiye vaah saree cheezen inki bilkul hi alag hai juda hai jo inki soch hai jo inhone apne baccho ko di hai uske compare kariye aur jo inhone juice kashmiriyon ko di hai usme compare kariye toh jameen aasman ka fark hai phir chahen sirf abdullah parivar ho ya phir alagaavavaadee neta hoon un sab ki jo soch hai vaah dogli rahi hai kashmiriyon ke lag rahi hai aur apne liye alag rahi hai aur altimetli sabane apne apne liye paise kamaye hain note chaape hain unhone tasviron ke liye jo kaam karna chahiye tha us hisab se ek percent bhi nahi kiya hai toh jawab unke saath badhta ho raha hai vaah usi ke layak hai dhanyavad

देखे जैसे कि आज की चर्चा का विषय है क्या आपको लगता है कि अब्दुल्ला परिवार के साथ कश्मीर मे

Romanized Version
Likes  430  Dislikes    views  5503
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!