ज़िन्दगी में हम जैसा चाहते हैं वैसा क्यों नहीं होता है?...


user

गोपाल पांडेय

Journalist, Counselor, motivational speaker

4:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तों नमस्कार मैं गोपाल पांडे आज का क्वेश्चन है जिंदगी में हम जैसा चाहते हैं वैसा क्यों नहीं होता क्वेश्चन बड़ा अच्छा है और इसका जवाब देने में मजा आएगा क्योंकि मुझे जहां तक लगता है जिंदगी में हम जैसा चाहते हैं वैसा अगर हो जाता तो शायद सब लोग भगवान बन जाते भगवान तो बन जाते लेकिन सबसे बड़ी तकलीफ ही रहती कौन अच्छा भगवान सकता मुझे लगता यार मैं अच्छा भगवानों किसी और को लगता कि वह अच्छा भगवान है जब हम लोग सारे लोग भगवान बन जाते तो भी यही सोचते कि यार वह मेरे से ज्यादा अच्छा भगवान है मैं उससे अच्छा भगवान बना तू मेरा कहने का तात्पर्य इतना ही है कि चाय हम जान रहे या भगवान रहेगी हमारी जिंदगी सिर्फ दूसरों से क्या करने में दूसरों से बड़ा बनने में दूसरों से अच्छा बनने में दूसरों से दूसरों को अपने से नीचे दिखाने के लिए ही हम जीते हैं हम अगर एक अच्छे इंसान बन जाए एक रोटी में 4 भाग करके अगर हम खाना चालू करें तो फिर हम ही जरूरत ही नहीं पड़ेगी हमको कभी नहीं सोचना ही नहीं पड़ेगा कि हम जैसा चाहते हैं वैसा क्यों नहीं होता लेकिन हम सोचते हैं तो मैं यही कहना चाहूंगा कि इंसान की सोच इंसान की फितरत और खुद इंसान कभी एक समान नहीं हो सकती प्रकृति ने ही इंसानों को इस दिन विभिन्न अवस्थाओं में उतारा है क्योंकि प्रकृति भी समझती है कि संतुलन बनाने के लिए ऐसे भिन्न-भिन्न प्रकार के व्यक्तित्व की आवश्यकता इस धरती को है वरना सभी अच्छे हो जाते उसमें भी होड़ लगती कि सभी और अच्छे हो जाते उसमें भी हो लगती कि मैं उससे अच्छा हो जाता हूं यह सभी बुरे हो जाते हैं तो उसमें होल्ड थे कि मैं उससे बुरा हो जाता हूं उसने और ज्यादा हुई लगती क्या नहीं सबसे बुरा मैं हो जाता तो एक तरफ अच्छाई की होड़ एक तरफ बुराई की हो यही रहता उससे अच्छा है कि प्रकृति जैसा चाहती है वैसा हम रहे जैसा हम चाहते हैं वैसा हम रहे आज मैं चाहूं तो हवा में नहीं उड़ सकता तुझे पति के गुण हैं कि यार आप अपनी लिमिटेशंस समझ सकते हो या भावे में नहीं मुड़ सकते उसके लिए बुद्धि लगानी पड़ेगी हवा में उड़ने के लिए हमको हवाई जहाज में बैठना पड़ेगा पंछी होता है आप लोग बोलोगे पैराग्लाइडिंग की तरह हापुड़ सकते हो हमने कहा पंछी की तरह उड़ ना खुले स्वभाव वह जो आनंद लेता है वह पंछी समक्ष सकता है आप नहीं समझते और जो आप आनंद लेते हैं वह पंछी नहीं समझ सकता तो यही प्रकृति है और प्रकृति के साथ रहना ही जीवन है धन्यवाद आपका दिन शुभ हो हंसते रहें मुस्कुराते रहें और यूं ही

hello doston namaskar main gopal pandey aaj ka question hai zindagi me hum jaisa chahte hain waisa kyon nahi hota question bada accha hai aur iska jawab dene me maza aayega kyonki mujhe jaha tak lagta hai zindagi me hum jaisa chahte hain waisa agar ho jata toh shayad sab log bhagwan ban jaate bhagwan toh ban jaate lekin sabse badi takleef hi rehti kaun accha bhagwan sakta mujhe lagta yaar main accha bhagwano kisi aur ko lagta ki vaah accha bhagwan hai jab hum log saare log bhagwan ban jaate toh bhi yahi sochte ki yaar vaah mere se zyada accha bhagwan hai main usse accha bhagwan bana tu mera kehne ka tatparya itna hi hai ki chai hum jaan rahe ya bhagwan rahegi hamari zindagi sirf dusro se kya karne me dusro se bada banne me dusro se accha banne me dusro se dusro ko apne se niche dikhane ke liye hi hum jeete hain hum agar ek acche insaan ban jaaye ek roti me 4 bhag karke agar hum khana chaalu kare toh phir hum hi zarurat hi nahi padegi hamko kabhi nahi sochna hi nahi padega ki hum jaisa chahte hain waisa kyon nahi hota lekin hum sochte hain toh main yahi kehna chahunga ki insaan ki soch insaan ki phitarat aur khud insaan kabhi ek saman nahi ho sakti prakriti ne hi insano ko is din vibhinn avasthaon me utara hai kyonki prakriti bhi samajhti hai ki santulan banane ke liye aise bhinn bhinn prakar ke vyaktitva ki avashyakta is dharti ko hai varna sabhi acche ho jaate usme bhi hod lagti ki sabhi aur acche ho jaate usme bhi ho lagti ki main usse accha ho jata hoon yah sabhi bure ho jaate hain toh usme hold the ki main usse bura ho jata hoon usne aur zyada hui lagti kya nahi sabse bura main ho jata toh ek taraf acchai ki hod ek taraf burayi ki ho yahi rehta usse accha hai ki prakriti jaisa chahti hai waisa hum rahe jaisa hum chahte hain waisa hum rahe aaj main chahu toh hawa me nahi ud sakta tujhe pati ke gun hain ki yaar aap apni Limitations samajh sakte ho ya bhave me nahi mud sakte uske liye buddhi lagani padegi hawa me udane ke liye hamko hawai jahaj me baithana padega panchhi hota hai aap log bologe pairaglaiding ki tarah hapur sakte ho humne kaha panchhi ki tarah ud na khule swabhav vaah jo anand leta hai vaah panchhi samaksh sakta hai aap nahi samajhte aur jo aap anand lete hain vaah panchhi nahi samajh sakta toh yahi prakriti hai aur prakriti ke saath rehna hi jeevan hai dhanyavad aapka din shubha ho hansate rahein muskurate rahein aur yun hi

हेलो दोस्तों नमस्कार मैं गोपाल पांडे आज का क्वेश्चन है जिंदगी में हम जैसा चाहते हैं वैसा क

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  66
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!