ट्रम्प जूनियर ने कहा है कि सबसे गरीब भारतीयों के चेहरे पर मुस्कुराहट है।क्या पैसे खुशी से संबंधित है?...


play
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:28

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विक्रम जूनियर ने कहा कि सबसे गरीब भारतीय के चेहरे पर मुस्कुराहट है उन्होंने मेरा पर्सनल मानना है कि पैसा खुशी से ज्यादा रिलेटेड नहीं है ऐसा इसलिए क्योंकि बहुत छोटे बच्चों को मैंने बहुत बार देखा है कि उनके पास पहनने को कपड़े नहीं होते चप्पल नहीं होती पैरों में पहनने को पर वह बहुत खुश होते हैं उसी के साथ खेल रहे होते और अपने बचपन कंप्लीटली एंजॉय कर रहे होते हैं हालांकि जिससे लोग बड़े होते जाते हैं वैसे वैसे ही खुशी कम होती जाती है और पैसे पाने की जो इच्छा है वह बढ़ती जाती है क्योंकि पैसे के बिना वैसे तो लाइफ में कुछ भी पॉसिबल नहीं है बचपन होता है जिसमें पैसे की इंपोर्टेंट होती नहीं होती उसके बाद तो पैसे की इंपोर्टेंस खुशी को पागल कर ही लेती है पर फिर भी हम भारतीयों में ऐसे कुछ कमाल के के लिए जींस जींस हो गया कमाल का हमारा जरूर होता है कि हम हर प्रॉब्लम से हंसी खुशी से निकल जाते हैं और पैसों को इतनी इंपॉर्टेंस नहीं दिखाती पर जितना जैसे पहले था तब पैसे फिर भी बिल्कुल इंपॉर्टेंट नहीं थे जितना कि आज है आज तो Facebook के बिना काम चलता ही नहीं है पर मेरे साथ से शिरडी की फिर भी पैसे और खुशी रिलेटिव नहीं है ज्यादा हां रिलेटिव है पर उसने उस एक्सीडेंट तक नहीं है कि बिना पैसों के खुश नहीं रह सकता इंसान

vikram junior ne kaha ki sabse garib bharatiya ke chehre par muskurahat hai unhone mera personal manana hai ki paisa khushi se zyada related nahi hai aisa isliye kyonki bahut chote baccho ko maine bahut baar dekha hai ki unke paas pahanne ko kapde nahi hote chappal nahi hoti pairon mein pahanne ko par vaah bahut khush hote hain usi ke saath khel rahe hote aur apne bachpan completely enjoy kar rahe hote hain halaki jisse log bade hote jaate hain waise waise hi khushi kam hoti jaati hai aur paise paane ki jo iccha hai vaah badhti jaati hai kyonki paise ke bina waise toh life mein kuch bhi possible nahi hai bachpan hota hai jisme paise ki important hoti nahi hoti uske baad toh paise ki importance khushi ko Pagal kar hi leti hai par phir bhi hum bharatiyon mein aise kuch kamaal ke ke liye jeans jeans ho gaya kamaal ka hamara zaroor hota hai ki hum har problem se hansi khushi se nikal jaate hain aur paison ko itni importance nahi dikhati par jitna jaise pehle tha tab paise phir bhi bilkul important nahi the jitna ki aaj hai aaj toh Facebook ke bina kaam chalta hi nahi hai par mere saath se shirdi ki phir bhi paise aur khushi relative nahi hai zyada haan relative hai par usne us accident tak nahi hai ki bina paison ke khush nahi reh sakta insaan

विक्रम जूनियर ने कहा कि सबसे गरीब भारतीय के चेहरे पर मुस्कुराहट है उन्होंने मेरा पर्सनल मा

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  66
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!