क्या लोग "डिजिटल इंडिया" से खुश हैं?...


user

Mehnaz Amjad

Certified Life Coach

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या लोग डिजिटल इंडिया से खुश है देखकर खुश है दुखी हैं कि पहले यह जाने कितने लोग इंडिया में डिजिटल इंडिया का मीनिंग मतलब समझते हैं डिजिटल इंडिया कन्वीनियंस है यह एक तरह का हम बाहर के टेक्नोलॉजी क्योंकि टेक्नोलॉजी काफी प्रचलित है काफी हमारे हर इंसान के हाथ में स्मार्टफोन है तो टेक्नोलॉजी ने बहुत सी चीजें आसान करनी है लेकिन क्या इसे हम खुश हैं यह थोड़ा कह पाना मुश्किल है क्योंकि इसकी सक्सेस के हम डिजिटल इंडिया में कितनी सफलता पाएं इस पर निर्भर करता है कि कितने लोग इस चीज को समझते हैं कितने लोग इस चीज का इस्तेमाल कर रहे हैं और कितने लोगों को इससे फायदा पहुंच रहा है यह तीन चीजों की अगर हम एनालिसिस करें देखें जांचे परखे अब हमें समझ में आएगा कि क्या इंडिया में कुछ फायदा हुआ है और इस बिना पर से हम कह सकते कि हम भूत है या नहीं अभी शायद ऐसी को एनालिसिस भी नहीं है तो ठीक से कह पाना मुश्किल है कि यह पूरी तरह लोग इससे उसे संतुष्ट है या नहीं

kya log digital india se khush hai dekhkar khush hai dukhi hain ki pehle yah jaane kitne log india mein digital india ka meaning matlab samajhte hain digital india convenience hai yah ek tarah ka hum bahar ke technology kyonki technology kafi prachalit hai kafi hamare har insaan ke hath mein smartphone hai toh technology ne bahut si cheezen aasaan karni hai lekin kya ise hum khush hain yah thoda keh paana mushkil hai kyonki iski success ke hum digital india mein kitni safalta paen is par nirbhar karta hai ki kitne log is cheez ko samajhte hain kitne log is cheez ka istemal kar rahe hain aur kitne logon ko isse fayda pahunch raha hai yah teen chijon ki agar hum analysis karen dekhen janche parakhe ab hamein samajh mein aayega ki kya india mein kuch fayda hua hai aur is bina par se hum keh sakte ki hum bhoot hai ya nahi abhi shayad aisi ko analysis bhi nahi hai toh theek se keh paana mushkil hai ki yah puri tarah log isse use santusht hai ya nahi

क्या लोग डिजिटल इंडिया से खुश है देखकर खुश है दुखी हैं कि पहले यह जाने कितने लोग इंडिया मे

Romanized Version
Likes  264  Dislikes    views  3779
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

2:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है क्या लोग डिजिटल इंडिया से खुश है लिखी इसके दो पहलू होते हैं एक होता है द कंफर्ट जो आसानी से आप अभी काम कर पाते हैं विदाउट गोइंग टू द डिटेल एग्जाम पेंट करना है तो यूपी न्यूज़ इट्रांजैक्शंस आपको चली पैसे निकालकर पहले के जमाने के पैसे निकाल कर देख कर क्या इसमें चैप्टर आपको इतना कुछ असर नहीं पड़ता है ना उठाएं 200 में नहीं आप ट्राई कर पेटीएम गूगल पर एंड दर ऑप्शंस बैंक इन डायरेक्टली ट्रांसफर सिस्कॉम बोलते हैं आल्सो जो अभी ऑनलाइन सिटीजन एंड बैंकिंग है और एक्टिंग पीपल ऑल ओवर द वर्ल्ड 200 से बात कर सकते हैं आप और जो पहले जो मुश्किल था काम एक सफर करने का काम डिटेल में जो टाइम लगता था अभी वह आसानी से कुछ ही मिनटों में लेकिन यहां पर मैं यह भी कहना चाहूंगी कि इस प्रोग्रेस से अच्छा तो बहुत कुछ हुआ है लेकिन रिलेशनशिप्स रिश्तो में काफी दरार आई है क्योंकि एक लेटर जो पहले हमको मिलता था हैंड रिटर्न लिखा हुआ पत्र उस पत्र के लिए जो हम इंतजार करते थे कि डाकी आएगा वह पत्र देगा और किसी के हाथों से लिखा हुआ पत्र जो है उसके इमोशंस को बयान करता है ईमेल में कोई आपसे कुछ कहे तो वह इमोशंस को बयान उतना नहीं कर पाता वैसे ही जिस तरह से हम लोग पैसे बचाते थे और उन बच्चे हुए पैसों से हम जिसे खरीदते थे किसी को गिफ्ट देते थे तो उसका वैल्यू कुछ और था उसका मूल्य कुछ और दो अमूल्य था इनफैक्ट आजकल लोग लोन लेकर में गिफ्ट देते हैं लौंडे की भी सारी चीजें करते हैं अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए लेकिन गो टो एनी एक्सटेंट और कभी-कभी वह बात पर भी होता है तो जितनी तरक्की हुई है उतना ही प्रॉब्लम भी है उतना बात पर भी हम गए कुछ एरियाज में नेकलेस बरेली ब्रेकिंग आप लोगों का रिश्ता जो है कभी खोखला हो गया 8:00 हो गया है टेंशन बन गया मतलबी बन गया है जहां पर लोग तरक्की और पैसे कमाने के लिए देख रहे हैं एक दूसरे को यूज करके अब जाने का देख रहे हैं जानते हैं कि उन्हें क्या करना है उनके लिए तो बहुत है लेकिन जो लोग इतने मैं चोर नहीं है जानते नहीं कि लाइफ को कैसे आगे ले जाना है उन लोगों के लिए काफी प्रॉब्लम होगा या विकृत और इनटू अननेसेसरी थिंग्स एक्स्ट्रा लोन इन रिलेशनशिप्स एंड ब्रेकिंग डाउन ऑफ़ फैमिली तो दोनों तटों तक दोनों प्रॉब्लम आए हैं एक तो तरक्की नहीं हुई है लेकिन जितनी तरक्की हुई है उत्तरा डैमेज भी हुआ है कोई टैक्स डिलीवरिंग प्लीज कनेक्ट ऑन कविता पानी एम डॉट कॉम

aapka sawaal hai kya log digital india se khush hai likhi iske do pahaloo hote hain ek hota hai the comfort jo aasani se aap abhi kaam kar paate hain without going to the detail exam paint karna hai toh up news itranjaikshans aapko chali paise nikalakar pehle ke jamaane ke paise nikaal kar dekh kar kya isme chapter aapko itna kuch asar nahi padta hai na uthaen 200 mein nahi aap try kar Paytm google par and dar options bank in directly transfer siskam bolte hain aalso jo abhi online citizen and banking hai aur acting pipal all over the world 200 se baat kar sakte hain aap aur jo pehle jo mushkil tha kaam ek safar karne ka kaam detail mein jo time lagta tha abhi vaah aasani se kuch hi minaton mein lekin yahan par main yah bhi kehna chahungi ki is progress se accha toh bahut kuch hua hai lekin relationships rishto mein kafi daraar I hai kyonki ek letter jo pehle hamko milta tha hand return likha hua patra us patra ke liye jo hum intejar karte the ki daki aayega vaah patra dega aur kisi ke hathon se likha hua patra jo hai uske emotional ko bayan karta hai email mein koi aapse kuch kahe toh vaah emotional ko bayan utana nahi kar pata waise hi jis tarah se hum log paise bachate the aur un bacche hue paison se hum jise kharidte the kisi ko gift dete the toh uska value kuch aur tha uska mulya kuch aur do amuly tha inafaikt aajkal log loan lekar mein gift dete hain launde ki bhi saree cheezen karte hain apni jaruraton ko pura karne ke liye lekin go toe any extent aur kabhi kabhi vaah baat par bhi hota hai toh jitni tarakki hui hai utana hi problem bhi hai utana baat par bhi hum gaye kuch areas mein necklace bareilly breaking aap logon ka rishta jo hai kabhi khokhla ho gaya 8 00 ho gaya hai tension ban gaya matlabi ban gaya hai jahan par log tarakki aur paise kamane ke liye dekh rahe hain ek dusre ko use karke ab jaane ka dekh rahe hain jante hain ki unhe kya karna hai unke liye toh bahut hai lekin jo log itne main chor nahi hai jante nahi ki life ko kaise aage le jana hai un logon ke liye kafi problem hoga ya vikrit aur into unnecessary things extra loan in relationships and breaking down of family toh dono taton tak dono problem aaye hain ek toh tarakki nahi hui hai lekin jitni tarakki hui hai uttara damage bhi hua hai koi tax dilivaring please connect on kavita paani imei dot com

आपका सवाल है क्या लोग डिजिटल इंडिया से खुश है लिखी इसके दो पहलू होते हैं एक होता है द कंफर

Romanized Version
Likes  811  Dislikes    views  11491
WhatsApp_icon
play
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

3:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे यह कहना तो बड़ा मुश्किल होगा मेरे अपने हिंदी विषय के पास से जीने के लोग खुश हैं या नहीं आए इसके लिए तो हमें आज सर्वे पर या स्टैटिसटिक्स पर भरोसा करना पड़ेगा और वह भी सभी क्या होता है वही कपूर होता है एक छोटे से बाहर का जो शायद एक आईडिया देता है कि लोग इससे खुश हैं या नहीं है मेरे पास उसका कोई आईडिया नहीं है हां लेकिन अगर मैं अपने निजी व्यक्तिगत राय बताता हूं तो मेरी राय है कि देखे कोई भी चीज अगर हमारे विकास में हमारे डेवलपमेंट में सहायक सिद्ध होती है तो वह अच्छी बात है बात करते हैं तो एक तरफ जा रहा है एक तरीके से जा रहे तो इंडिया को भी उस तरीके को देखना चाहिए अपनाना चाहिए अगर वह तरीका सही है तो अभी हम क्या करते हैं हम फिजिकल नोट और कॉइन से आदान-प्रदान करते हैं ट्रांजैक्शन करते हैं लेनदेन करते हैं लेकिन सोचिए अगर उसको हम डिजिटल कर देते हैं तो क्या यह सहायक नहीं होता है क्या यह हेल्पफुल नहीं होता जरूर हेल्पफुल होता है इसका मतलब सी की करेंसी को एकदम खत्म कर देना चाहिए बांधकर कर देना चाहिए मैं उसके पक्ष में शायद कभी नहीं रहूंगा क्योंकि भारत ऐसा देश अभी है नहीं और वहां तक पहुंचा नहीं है वहां तक पहुंचने में बहुत साल लगेंगे ओके कई दशक लग जाएंगे लेकिन मैं यह जरूर बोलूंगा कि हां इसको डिजिटलाइजेशन के साथ था जो करेंसी है उस वह भी चलती रहेगी तो बहुत बढ़िया रहेगा अब डिजिटल इंडिया से फायदा यह है कि भाई आपके पास पैसा है नहीं है अगर आपके पास मोबाइल है इंटरनेट है तो आप पॉइंट्स ऑन जैकसन कर सकते हैं पैसे इधर-उधर भेज सकते हैं आप चीजें खरीद सकते हैं अगर आपके पास अभी हार्ड कैसे नहीं है तो भी तो कई सारी सुविधाएं हैं इससे जो कि हमें आप बहुत अच्छी लग रही है चाहे वह ट्रैवल से रिलेटेड हो खानपान से रिलेटेड रहने से रिलेटेड होटल वगैरह में या एजुकेशन से रिलेटेड कोई भी चीज में क्या वो हेल्प हेल्प नहीं है क्या हमारे लिए अच्छा नहीं है आप मोबाइल पर बैठे-बैठे चेक बुक आर्डर कर लेते हैं क्या वो अच्छी बात नहीं है आप मनी ट्रांसफर कर देते हैं इधर से उधर उधर से इधर कुछ भी कर सकते हैं आप महेश अपने मोबाइल से तो क्या है अच्छी बात नहीं है जरूरी नहीं कि आपको घर पर ही होना है आपके पास कंप्यूटर होना चाहिए आप ऑफिस में होंगे तभी कर सकते हैं आपको बैंक जाना पड़े यह सब काम करने के लिए छोटी छोटी चीजों के लिए बैंक जाना पड़े वह तो सही नहीं है ना एक जमाना था जब मुझे याद है पिताजी हमारे पास या कोई अंकल है जो भी हो गए जिनको मैंने देखा था वह पैसा वीडियो करने के लिए बैंक में जाते थे आधे दिन का छुट्टी ले लेते थे या एक-दो घंटे का अवकाश ऑफिस से लेते थे उसके आज बैंक में चाहते थे वहां पर फॉर्म फिल करके अकाउंट नंबर डालकर खड़े रहते थे लाइन में उसके बाद क्या सुविधा करके लाते थे आज तो ऐसा नहीं है आज तोमर का सिटी में इसी तरह हम एटीएम से भी और आगे चले गए हैं तो यह हमारे लिए पता है कि हमें इसका अब इसको प्रेषित करना चाहिए और हम सबको कुछ न कुछ ऐसे अपने पास रखनी चाहिए 819 चाहिए एप्लीकेशन जो हमारे रोजमर्रा के जीवन में सहायक सिद्ध होते हैं

dekhe yah kehna toh bada mushkil hoga mere apne hindi vishay ke paas se jeene ke log khush hain ya nahi aaye iske liye toh hamein aaj survey par ya statistic par bharosa karna padega aur vaah bhi sabhi kya hota hai wahi kapur hota hai ek chhote se bahar ka jo shayad ek idea deta hai ki log isse khush hain ya nahi hai mere paas uska koi idea nahi hai haan lekin agar main apne niji vyaktigat rai batata hoon toh meri rai hai ki dekhe koi bhi cheez agar hamare vikas mein hamare development mein sahaayak siddh hoti hai toh vaah achi baat hai baat karte hain toh ek taraf ja raha hai ek tarike se ja rahe toh india ko bhi us tarike ko dekhna chahiye apnana chahiye agar vaah tarika sahi hai toh abhi hum kya karte hain hum physical note aur coin se aadaan pradan karte hain transaction karte hain lenden karte hain lekin sochiye agar usko hum digital kar dete hain toh kya yah sahaayak nahi hota hai kya yah helpful nahi hota zaroor helpful hota hai iska matlab si ki currency ko ekdam khatam kar dena chahiye bandhkar kar dena chahiye main uske paksh mein shayad kabhi nahi rahunga kyonki bharat aisa desh abhi hai nahi aur wahan tak pahuncha nahi hai wahan tak pahuchne mein bahut saal lagenge ok kai dashak lag jaenge lekin main yah zaroor boloonga ki haan isko dijitlaijeshan ke saath tha jo currency hai us vaah bhi chalti rahegi toh bahut badhiya rahega ab digital india se fayda yah hai ki bhai aapke paas paisa hai nahi hai agar aapke paas mobile hai internet hai toh aap points on jackson kar sakte hain paise idhar udhar bhej sakte hain aap cheezen kharid sakte hain agar aapke paas abhi hard kaise nahi hai toh bhi toh kai saree suvidhaen hain isse jo ki hamein aap bahut achi lag rahi hai chahen vaah travel se related ho khanpan se related rehne se related hotel vagairah mein ya education se related koi bhi cheez mein kya vo help help nahi hai kya hamare liye accha nahi hai aap mobile par baithe baithe check book order kar lete hain kya vo achi baat nahi hai aap money transfer kar dete hain idhar se udhar udhar se idhar kuch bhi kar sakte hain aap mahesh apne mobile se toh kya hai achi baat nahi hai zaroori nahi ki aapko ghar par hi hona hai aapke paas computer hona chahiye aap office mein honge tabhi kar sakte hain aapko bank jana pade yah sab kaam karne ke liye choti choti chijon ke liye bank jana pade vaah toh sahi nahi hai na ek jamana tha jab mujhe yaad hai pitaji hamare paas ya koi uncle hai jo bhi ho gaye jinako maine dekha tha vaah paisa video karne ke liye bank mein jaate the aadhe din ka chhutti le lete the ya ek do ghante ka avkash office se lete the uske aaj bank mein chahte the wahan par form fill karke account number dalkar khade rehte the line mein uske baad kya suvidha karke laate the aaj toh aisa nahi hai aaj tomar ka city mein isi tarah hum atm se bhi aur aage chale gaye hain toh yah hamare liye pata hai ki hamein iska ab isko preshit karna chahiye aur hum sabko kuch na kuch aise apne paas rakhni chahiye 819 chahiye application jo hamare rozmarra ke jeevan mein sahaayak siddh hote hain

देखे यह कहना तो बड़ा मुश्किल होगा मेरे अपने हिंदी विषय के पास से जीने के लोग खुश हैं या नह

Romanized Version
Likes  634  Dislikes    views  7933
WhatsApp_icon
user

Mr. Mukesh Kumar

Youtuber, https://youtu.be/lxwi7CXLHSQ

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां लोग डिजिटल इंडिया से बहुत खुश है क्योंकि डिजिटल इंडिया हो जाने से हमारा काम सरल हो गया हम आसानी से एक जगह से दूसरी जगह पैसे ट्रांसफर कर देते हैं घर बैठे घर बैठे ही हम अपने से हजारों किलोमीटर दूर परिवार के सदस्य श्री आसानी से बात कर लेते हैं इस दुनिया की खबर पढ़ लेते हैं लेते हैं सो में हमें जानकारी दो डिटेल इंडिया के चक्कर में जो सरकार कुछ ऐसी नीतियां लगा रही है जिससे आम जनता को दुख पहुंच रहा है थोड़ा सोचने वाली बात है बाकी मिस्टर इंडिया से

ji haan log digital india se bahut khush hai kyonki digital india ho jaane se hamara kaam saral ho gaya hum aasani se ek jagah se dusri jagah paise transfer kar dete hain ghar baithe ghar baithe hi hum apne se hazaron kilometre dur parivar ke sadasya shri aasani se baat kar lete hain is duniya ki khabar padh lete hain lete hain so mein hamein jaankari do detail india ke chakkar mein jo sarkar kuch aisi nitiyan laga rahi hai jisse aam janta ko dukh pahunch raha hai thoda sochne waali baat hai baki mister india se

जी हां लोग डिजिटल इंडिया से बहुत खुश है क्योंकि डिजिटल इंडिया हो जाने से हमारा काम सरल हो

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  456
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता है कि दिल से लोग खुश हैं और सबसे पहले तो डाटा की ही वैल्यू की बात की जाए तो पहले पीटा की वैल्यू 1GB डाटा की वैल्यू होती थी 1 महीने के लिए मिलता था और की वैल्यू का 304 सर का कुछ होती थी आज इतने ही रुपए में अब 3 महीने का डाटा आराम से खरीद सकते हैं मतलब आजकल 5gb डाटा मिल जाता है तो पहली बात तो यह कि इससे उन्हें बहुत ही शांति आई है लोगों में एजुकेशन बहुत ज्यादा जल्दी से गांव की बाद में करता हूं तो मुझे पता था कि कितने लोगों को अवेयरनेस नहीं थी जब उनके पास फोन नहीं था लेकिन फोन नहीं लगा उनको अवेयरनेस नहीं थी लेकिन जब से उनके पास फोन आया था उनके पास बहुत सारी जरिया है सीखने का मौका मिला है यूट्यूब से अन्य नेताओं से और अपने जो और प्रोग्राम में बने चलाते हैं या गवर्नमेंट भी कोई या हमें कोई ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करना है उस तरह की सुविधाएं बढ़ी है तो मुझे लगता है और इसके कुछ ना करें लेकिन आपने पूछिए तो मैं कहूंगा कि यह अच्छी बात है अच्छी खबर है और और तेज इंटरनेट जब इंसान को मिलेगा तो हमारा व्यक्ति जो है वह और और प्रगति करेगा और भारत भी काफी धन्यवाद

mujhe lagta hai ki dil se log khush hain aur sabse pehle toh data ki hi value ki baat ki jaaye toh pehle pita ki value 1GB data ki value hoti thi 1 mahine ke liye milta tha aur ki value ka 304 sir ka kuch hoti thi aaj itne hi rupaye mein ab 3 mahine ka data aaram se kharid sakte hain matlab aajkal 5gb data mil jata hai toh pehli baat toh yah ki isse unhe bahut hi shanti I hai logon mein education bahut zyada jaldi se gaon ki baad mein karta hoon toh mujhe pata tha ki kitne logon ko awareness nahi thi jab unke paas phone nahi tha lekin phone nahi laga unko awareness nahi thi lekin jab se unke paas phone aaya tha unke paas bahut saree zariya hai seekhne ka mauka mila hai youtube se anya netaon se aur apne jo aur program mein bane chalte hain ya government bhi koi ya hamein koi online transaction karna hai us tarah ki suvidhaen badhi hai toh mujhe lagta hai aur iske kuch na karen lekin aapne puchiye toh main kahunga ki yah achi baat hai achi khabar hai aur aur tez internet jab insaan ko milega toh hamara vyakti jo hai vaah aur aur pragati karega aur bharat bhi kafi dhanyavad

मुझे लगता है कि दिल से लोग खुश हैं और सबसे पहले तो डाटा की ही वैल्यू की बात की जाए तो पहले

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  831
WhatsApp_icon
user
1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो भारत के उच्च कोटि के नाम है वह डिजिटल इंडिया से बहुत ही खुश है लेकिन योनि जिले के दूरदराज के गांव के हैं उन्हें डिजिटल इंडिया से नहीं है क्योंकि इंडिया के बारे में उनको जानकारी नहीं है इसलिए नाखुश हैं वही लोग उसमें जो पढ़े-लिखे और सक्षम हैं जो इंडिया को आगे बढ़ता हुआ देखना चाहते हैं नई पिक्चर इंडिया

jo bharat ke ucch koti ke naam hai vaah digital india se bahut hi khush hai lekin yoni jile ke durdaraj ke gaon ke hain unhe digital india se nahi hai kyonki india ke bare mein unko jaankari nahi hai isliye nakhush hain wahi log usmein jo padhe likhe aur saksham hain jo india ko aage badhta hua dekhna chahte hain nayi picture india

जो भारत के उच्च कोटि के नाम है वह डिजिटल इंडिया से बहुत ही खुश है लेकिन योनि जिले के दूरदर

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  655
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिजिटल इंडिया से मुझे लगता है कि लोग खुश नहीं बल्कि बहुत ज्यादा खुश हैं उनको बहुत ज्यादा हेल्प मिल रही है इससे कि जैसे कि आप देखिएगा डिजिटल इंडिया से आप यहां से बैठे-बैठे किसी को भी मेल कर सकते हैं अपनी बात को कह सकते हैं वहां से कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं देख सकते हैं उसको उसको फेस टू फेस बात कर सकते हैं कि पहले क्या होता था कि हम बात कर रहे हैं जैसे मान लीजिए हमारे घर का बड़ा भाई है छोटा छोटा भाई कोई भी अपने घर के पिताजी भी बाहर रहता है तो वहां क्या था कि साल फोन होता था पहले मैं जब चिट्टियां चलती थी फिर फोन चले बेसिक वाले फोन तो उनसे क्या था कि बहुत मतलब ऐसा होता रहता था लेकिन अब जरा सी भी आपका मूड ऑफ हुआ और जरा सी भी अगर आपको लगा कि हम बात करेंगे तुरंत उठाया व्हाट्सएप के जरिया वीडियो कॉल कर सकते हैं एटीएम के एटीएम से पहले अगर आपको 50000 की जरूरत है तो आप पहले 50 दिन पहले चिट्ठी लिख रहा है या 50 दिन पहले फोन से कह रहे हैं लेकिन आप जरा सा मैसेज किया कि मुझे जरूरत है डिस्टर्ब ट्रांसफर कर दिया भीम ऐप से बैंकिंग से बहुत तो मुझे लगता है कि डिजिटल इंडिया से खुश नहीं बहुत ज्यादा खुश होना चाहिए बहुत ज्यादा बैटर फील करेंगी कल का अपना एग्जांपल देते देते कि ₹2000 कि हमको जरूरत थी ₹2000 की जरूरत थी एक बैंक में फेस्टिवल है दीपावली का एक बैंक में बहुत लंबी कतार लगी हुई है सोच लीजिए 50 लोगों से ज्यादा लगी हुई अब हमको ₹2000 की जरूरत है यहां से 2 किलोमीटर दूर कानपुर में लेकिन यहां पर बैठा हुआ बंदा जब निकालेगा या यहां से बैठा हुआ बंदा जब जाएगा उसका 50 नंबर आएगा या नहीं 3 घंटे बाद कब तक कि हमारा वहां पर काम लेट हो चुका होगा लेकिन आजकल दे मेल पेटीएम यह जो मुझे लगता है कि डिजिटल इंडिया से हेल्प हो रही है डिजिटल इंडिया से स्कैन हो रहा है आधार कार्ड से आप देखिएगा बिल्कुल जरा सी मिलाप कहीं भी चाहिए आधार कार्ड कहीं भी कहीं भी आप खड़े हैं आधार कार्ड कहीं जा रहे हैं आधार कार्ड नहीं खा रहा था काश तुम मुझे बहुत ज्यादा पढ़ाई पढ़ना कितना आसान हो गया है जो मैं लीजिए हम जिस पढ़ाई के लिए भी डर तो ₹200000 खर्च करते थे बस अब क्या है तीन 400 का रिचार्ज कराई फोन पर यूट्यूब पर बढ़िया से बढ़िया क्लास देखिए दामों में प्रोवाइड करा रहे हैं यह सब डिटेल इंडिया का ही मुझे लगता है कि एक एग्जांपल है और हमको देखने को मिलता है कि आप देखते कि यहां से घर बैठे खाना बनाने का मूड नहीं हो रहा है सही से मंगा रहे हैं जो मैटर समाका आ रहे हैं हमको कोई सब्जी खरीदनी है नहीं जा रहे हैं तो मुझे लग रहा है कि खून कर दिया आ रहे हैं घर पर तो यह दिन से आई है तो मुझे लगता है डिजिटल इंडिया एलपी कर रही है कुछ भी कर रही है और कहीं ना कहीं हालत भी कर रही है तो मुझे लगता है कि हमको डिजिटल इंडिया बहुत ज्यादा खुश कर रहे थैंक यू

digital india se mujhe lagta hai ki log khush nahi balki bahut zyada khush hain unko bahut zyada help mil rahi hai isse ki jaise ki aap dekhiega digital india se aap yahan se baithe baithe kisi ko bhi male kar sakte hain apni baat ko keh sakte hain wahan se conference kar sakte hain dekh sakte hain usko usko face to face baat kar sakte hain ki pehle kya hota tha ki hum baat kar rahe hain jaise maan lijiye hamare ghar ka bada bhai hai chota chota bhai koi bhi apne ghar ke pitaji bhi bahar rehta hai toh wahan kya tha ki saal phone hota tha pehle main jab chittiyan chalti thi phir phone chale basic waale phone toh unse kya tha ki bahut matlab aisa hota rehta tha lekin ab zara si bhi aapka mood of hua aur zara si bhi agar aapko laga ki hum baat karenge turant uthaya whatsapp ke zariya video call kar sakte hain atm ke atm se pehle agar aapko 50000 ki zaroorat hai toh aap pehle 50 din pehle chitthi likh raha hai ya 50 din pehle phone se keh rahe hain lekin aap zara sa massage kiya ki mujhe zaroorat hai disturb transfer kar diya bhim app se banking se bahut toh mujhe lagta hai ki digital india se khush nahi bahut zyada khush hona chahiye bahut zyada better feel karengi kal ka apna example dete dete ki Rs ki hamko zaroorat thi Rs ki zaroorat thi ek bank mein festival hai deepawali ka ek bank mein bahut lambi katar lagi hui hai soch lijiye 50 logon se zyada lagi hui ab hamko Rs ki zaroorat hai yahan se 2 kilometre dur kanpur mein lekin yahan par baitha hua banda jab nikalega ya yahan se baitha hua banda jab jaega uska 50 number aayega ya nahi 3 ghante baad kab tak ki hamara wahan par kaam let ho chuka hoga lekin aajkal de male Paytm yah jo mujhe lagta hai ki digital india se help ho rahi hai digital india se scan ho raha hai aadhaar card se aap dekhiega bilkul zara si milap kahin bhi chahiye aadhaar card kahin bhi kahin bhi aap khade hain aadhaar card kahin ja rahe hain aadhaar card nahi kha raha tha kash tum mujhe bahut zyada padhai padhna kitna aasaan ho gaya hai jo main lijiye hum jis padhai ke liye bhi dar toh Rs kharch karte the bus ab kya hai teen 400 ka recharge karai phone par youtube par badhiya se badhiya class dekhiye daamo mein provide kara rahe hain yah sab detail india ka hi mujhe lagta hai ki ek example hai aur hamko dekhne ko milta hai ki aap dekhte ki yahan se ghar baithe khana banaane ka mood nahi ho raha hai sahi se Manga rahe hain jo matter samaka aa rahe hain hamko koi sabzi kharidani hai nahi ja rahe hain toh mujhe lag raha hai ki khoon kar diya aa rahe hain ghar par toh yah din se I hai toh mujhe lagta hai digital india LP kar rahi hai kuch bhi kar rahi hai aur kahin na kahin halat bhi kar rahi hai toh mujhe lagta hai ki hamko digital india bahut zyada khush kar rahe thank you

डिजिटल इंडिया से मुझे लगता है कि लोग खुश नहीं बल्कि बहुत ज्यादा खुश हैं उनको बहुत ज्यादा ह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  147
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!