क्या इंटरनेट की वजह से आजकल के बच्चे बिगड़ रहे हैं?...


user
1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बड़ा अच्छा अपनी पूछा कि क्या इंटरनेट की वजह से बच्चे बिगड़ गए नहीं बिल्कुल नहीं बिगड़ रहे बच्चे और आजकल के बच्चे अगर वह मोबाइल को देख रहे हैं इंटरनेट को देख काफी चीजें सीख रहे हैं आज हमारे बच्चे आप अपने आपको अपने बच्चे से तुलना करके देखे तो बच्चे हमारे बहुत ही आगे फास्ट है वह वह वह कर ले रहे जो हमारा नहीं कर पा रहे हैं अपने समय में उस समय जब हमारा बचपन होता तो हम उसको नहीं कर पा रहे थे जो आजकल के बच्चे कर ले ने उसकी काफी चीजें जो है बच्चे मोबाइल से ही सीख जाते हैं और इंटरनेट से सीखते हैं उन पर ध्यान देना चाहिए गाना चाहिए और बहुत सारी चीजें हैं जो पढ़ाई से संबंधित है एप्स जो बच्चों की काफी मदद करते हैं स्पेलिंग से बच्चों को हर चीज में बहुत ही अच्छा हो सकते हैं अगर उनको थोड़ा सा अगर उसी चीज को इंटरनेट को यूज अगर आप स्टडी में ढंग से करा ले जाएं थोड़ा सा तो बहुत इंटरेस्ट आता है उसकी सीखने में भी और बच्चा बहुत ही जल्दी सीखता है जो चीज हम बहुत ही जो बच्चों को हम प्लेस में डालते हैं वहां नहीं सिखा पाता वह बच्चे सब अपने आप सेटिंग जाते हैं अब आपको हमें आपको जल्दी उस समय कल आया रंग का ज्ञान उतना अच्छा नहीं रहता था देखी जब छोटे पंजाब समय आने पर आज के बच्चे की कितना तेज है और बिल्कुल उनको हमसे दूर ना रखें नहीं तो वह बच्चे आज के हमारे बच्चे हम और उनके बच्चों से पीछे हो जाएंगे तो बिल्कुल आप उनको देखने दीजिए लेकिन उनको एक थोड़ा सा ध्यान दे दीजिए कि वह क्या कर रहे हैं

bada accha apni poocha ki kya internet ki wajah se bacche bigad gaye nahi bilkul nahi bigad rahe bacche aur aajkal ke bacche agar vaah mobile ko dekh rahe hain internet ko dekh kaafi cheezen seekh rahe hain aaj hamare bacche aap apne aapko apne bacche se tulna karke dekhe toh bacche hamare bahut hi aage fast hai vaah vaah vaah kar le rahe jo hamara nahi kar paa rahe hain apne samay mein us samay jab hamara bachpan hota toh hum usko nahi kar paa rahe the jo aajkal ke bacche kar le ne uski kaafi cheezen jo hai bacche mobile se hi seekh jaate hain aur internet se sikhate hain un par dhyan dena chahiye gaana chahiye aur bahut saree cheezen hain jo padhai se sambandhit hai apps jo baccho ki kaafi madad karte hain spelling se baccho ko har cheez mein bahut hi accha ho sakte hain agar unko thoda sa agar usi cheez ko internet ko use agar aap study mein dhang se kara le jayen thoda sa toh bahut interest aata hai uski sikhne mein bhi aur baccha bahut hi jaldi sikhata hai jo cheez hum bahut hi jo baccho ko hum place mein daalte hain wahan nahi sikha pata vaah bacche sab apne aap setting jaate hain ab aapko hamein aapko jaldi us samay kal aaya rang ka gyaan utana accha nahi rehta tha dekhi jab chote punjab samay aane par aaj ke bacche ki kitna tez hai aur bilkul unko humse dur na rakhen nahi toh vaah bacche aaj ke hamare bacche hum aur unke baccho se peeche ho jaenge toh bilkul aap unko dekhne dijiye lekin unko ek thoda sa dhyan de dijiye ki vaah kya kar rahe hain

बड़ा अच्छा अपनी पूछा कि क्या इंटरनेट की वजह से बच्चे बिगड़ गए नहीं बिल्कुल नहीं बिगड़ रहे

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  505
WhatsApp_icon
14 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dollie Kashwani

Relationship counselor | Wellness Designer |Energy alchemist |

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो मैं हूं लाइफ फुलटोली आपने पूछा इंटरनेट की वजह से आजकल के बच्चे बिगड़ रहे हैं प्रॉब्लम इंटरनेट नहीं है प्रॉब्लम हम और आप पर हम और आप किस चीज के बारे में डरते हैं आपस में किस-किस दिन के साथ रहते हैं वह किस चीज के बारे में डिस्कशन करते हैं और इंटरनेट से ज्यादा जो है प्रॉब्लम करती है टीवी में जो किस तरह की सीरियल देखने किस तरह की फिल्में देखते हैं आप जैसे करेंगे कोशिश करें कि अपने बच्चों को अच्छा मोहाल दिलवाए उनके सामने जो है इस तरह की चीजें दिक्कत ना करें जिससे उनका जो है माइंड गलत जगह डाइवर्ट हो उन्हें अच्छे से अच्छे और बुरे के बीच का फर्क समझाएं यहां पर प्रॉब्लम आपकी पेंटिंग में होती है प्रॉब्लम इंटरनेट में नहीं है

hello main hoon life fultoli aapne poocha internet ki wajah se aajkal ke bacche bigad rahe hain problem internet nahi hai problem hum aur aap par hum aur aap kis cheez ke bare mein darte hain aapas mein kis kis din ke saath rehte hain vaah kis cheez ke bare mein discussion karte hain aur internet se zyada jo hai problem karti hai TV mein jo kis tarah ki serial dekhne kis tarah ki filme dekhte hain aap jaise karenge koshish kare ki apne baccho ko accha mohal dilvaye unke saamne jo hai is tarah ki cheezen dikkat na kare jisse unka jo hai mind galat jagah Divert ho unhe acche se acche aur bure ke beech ka fark samjhayen yahan par problem aapki painting mein hoti hai problem internet mein nahi hai

हेलो मैं हूं लाइफ फुलटोली आपने पूछा इंटरनेट की वजह से आजकल के बच्चे बिगड़ रहे हैं प्रॉब्लम

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
play
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:26

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या इंटरनेट की वजह से आजकल के बच्चे बिगड़ जाए यह काफी हद तक सही है इंटरनेट की वजह से बच्चे बिगड़ जाए अगर इंटरनेट में कुछ साइट ब्लॉक कर दी जाए तो सिर्फ लाइट ओपन रखी जाए और बाकी सब ठीक है बच्चे भी नहीं कर सकते हैं इतना पढ़ना चाहिए

kya internet ki wajah se aajkal ke bacche bigad jaaye yah kaafi had tak sahi hai internet ki wajah se bacche bigad jaaye agar internet mein kuch site block kar di jaaye toh sirf light open rakhi jaaye aur baki sab theek hai bacche bhi nahi kar sakte hain itna padhna chahiye

क्या इंटरनेट की वजह से आजकल के बच्चे बिगड़ जाए यह काफी हद तक सही है इंटरनेट की वजह से बच्च

Romanized Version
Likes  390  Dislikes    views  4532
WhatsApp_icon
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

3:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आज के जमाने में इंटरनेट होना बहुत जरूरी है अब इंटरनेट अवेलेबिलिटी बहुत सारी जगह पर है आ जाए आपके मोबाइल पर हो ड्रेस शॉप पर हो घर पर हो कहीं पर भी हो अवेलेबल है इसका होना चाहिए बिल्कुल होना चाहिए क्या यह जरूरी है बिल्कुल जरूरी है किसी चीज का हम कैसे प्रयोग करते हैं वह हम पर डिपेंड करता है अभी देखे इंटरनेट के पीछे 2 लोग होते हैं पहला तो यह कि वह इंसान या संस्था या लोहिया ग्रुप जो इंटरनेट में चीजें पोस्ट करते हैं या कहीं पर भी सोशल मीडिया पर या किसी भी तरीके से वह इंटरनेट के जरिए चीजें अवेलेबल है एक तो वह तो वह लोग कौन सी चीज है अवेलेबल कराते हैं एक तो उनका रिस्पांसिबिलिटी होता है दूसरा ही होता है कि घर परिवार में और बच्चे में कि भाई हम क्या देख रहे हैं क्या कर रहे हैं क्या सुन रहे हैं यह हमारा रिस्पांसिबिलिटी है हमारा निजी रे सिविलिटी है हर इंसान का अपना रिस्पांसिबिलिटी है तो दोनों का रिस्पांसिबिलिटी बहुत बड़ा होता है इंटरनेट अपने आप में खराब चीज नहीं है और हाइट उसका होना अनिवार्य है लेकिन जो पोस्ट उस पर डालता है उस पर पोस्ट मतलब खाली में सोशल मीडिया की बात नहीं कर रहा जो भी कुछ इंटरवेनेस में अवेलेबल है उसको डालने वाला उसकी रिस्पांसिबिलिटी भी बनती है लेकिन हम सब को कंट्रोल नहीं कर सकते तो इसीलिए गवर्मेंट की पॉलिसी सोने से कि वह इंटरनेट पर यह सारी चीजें अवेलेबल हो लेकिन पॉलिसी के बावजूद था मुझे देखेंगे या तभी भी शायद पॉलिसी इतनी रोबोट नहीं हो पाएगी कि इतना सारा यूनो इतने सारे लोगों को और क्या क्या आते हैं इतने पर उसको रोक सके ओके हर सेकेंडरी सा जर्मनी से उस पर हमला काबू नहीं पा रहे हैं पापा रे तो उसका मतलब यह थोड़ी ना हुआ कि वह हम चीजों को ऐसे ही छोड़ दें भाई घर में माता पिता किस तरीके से बच्चों को एक्सेस देते हैं इंटरनेट कितने टाइम तक का देखते हैं देते हैं किस उम्र में दे देते हैं किस लिए देते हैं सभी बड़ा निवारे होता है देखेंगे तो वह तो आपने आप जो मन में आएगा वह तो करेगा ही करेगा भाई हमें तो ध्यान रखना चाहिए कि हमारे घर में बच्चों को संस्कार क्या मिले हैं वह कैसे हमारी बातों का पालन करते हैं और क्या करते हैं क्या नहीं करते हैं मैं पता होना चाहिए मेरे बच्चे हमारे बच्चे हमारे सामने क्या करते हैं हमारे पीठ पीछे क्या करते हैं यह सब थोड़ा होना चाहिए घर में एक शिष्टाचार होना चाहिए नहीं तो क्या होगा इंटरनेट पर बहुत सारी ऐसी चीजें अवेलब्ले जो किसी को देखने का सुनने का मन करेगा ही करेगा और पता भी नहीं चलेगा कि का कोई बच्चा कैसा ड्रेस में चला गया किसी चीज को पकड़कर क्योंकि देखिए इंसान का यह फितरत होता है कि भाई अब वह चीजों को अनुभव करना चाहता है है ना पूछा था कि यह भी देखने की भी समझ ले जिज्ञासा बनी रहती है तो जब तक हो जिज्ञासा कंप्लीट ना हो जाए तो इंसान को वह वह अंदर ख्याल आते रहते हैं कि नहीं उसको देख लेते हैं इसके बारे में सुन लेते हैं इसके बारे में पढ़ लेते हैं वगैरह वगैरह तो यह घर में जो भी लोग हैं उनको देखना चाहिए सतर्कता बरतनी चाहिए कि हमारे बच्चे क्या देख रहे हैं हां डेफिनिटी अगर इस पर काबू नहीं पाया गया तो बच्चे डेफिनेटली इधर की वजह उधर जा सकते हैं उनकी मानसिकता में परिवर्तन आ सकता है हमें नहीं पता कि वह क्वालिटी वाला इंफॉर्मेशन देख रहे हैं yahoo.co गुड नाइट ऑफ इंफॉर्मेशन देख रहे हैं जो वह भी अवेलेबल है इंटरनेट पर इसीलिए हमें थोड़ा सोच समझ कर आगे बढ़ना चाहिए

dekhiye aaj ke jamane mein internet hona bahut zaroori hai ab internet avelebiliti bahut saree jagah par hai aa jaaye aapke mobile par ho dress shop par ho ghar par ho kahin par bhi ho available hai iska hona chahiye bilkul hona chahiye kya yah zaroori hai bilkul zaroori hai kisi cheez ka hum kaise prayog karte hai vaah hum par depend karta hai abhi dekhe internet ke peeche 2 log hote hai pehla toh yah ki vaah insaan ya sanstha ya lohiya group jo internet mein cheezen post karte hai ya kahin par bhi social media par ya kisi bhi tarike se vaah internet ke jariye cheezen available hai ek toh vaah toh vaah log kaun si cheez hai available karate hai ek toh unka responsibility hota hai doosra hi hota hai ki ghar parivar mein aur bacche mein ki bhai hum kya dekh rahe hai kya kar rahe hai kya sun rahe hai yah hamara responsibility hai hamara niji ray civility hai har insaan ka apna responsibility hai toh dono ka responsibility bahut bada hota hai internet apne aap mein kharab cheez nahi hai aur height uska hona anivarya hai lekin jo post us par dalta hai us par post matlab khaali mein social media ki baat nahi kar raha jo bhi kuch intaravenes mein available hai usko dalne vala uski responsibility bhi banti hai lekin hum sab ko control nahi kar sakte toh isliye government ki policy sone se ki vaah internet par yah saree cheezen available ho lekin policy ke bawajud tha mujhe dekhenge ya tabhi bhi shayad policy itni robot nahi ho payegi ki itna saara uno itne saare logo ko aur kya kya aate hai itne par usko rok sake ok har secondary sa germany se us par hamla kabu nahi paa rahe hai papa ray toh uska matlab yah thodi na hua ki vaah hum chijon ko aise hi chod de bhai ghar mein mata pita kis tarike se baccho ko access dete hai internet kitne time tak ka dekhte hai dete hai kis umr mein de dete hai kis liye dete hai sabhi bada nivare hota hai dekhenge toh vaah toh aapne aap jo man mein aayega vaah toh karega hi karega bhai hamein toh dhyan rakhna chahiye ki hamare ghar mein baccho ko sanskar kya mile hai vaah kaise hamari baaton ka palan karte hai aur kya karte hai kya nahi karte hai pata hona chahiye mere bacche hamare bacche hamare saamne kya karte hai hamare peeth peeche kya karte hai yah sab thoda hona chahiye ghar mein ek shishtachar hona chahiye nahi toh kya hoga internet par bahut saree aisi cheezen avelable jo kisi ko dekhne ka sunne ka man karega hi karega aur pata bhi nahi chalega ki ka koi baccha kaisa dress mein chala gaya kisi cheez ko pakadakar kyonki dekhiye insaan ka yah phitarat hota hai ki bhai ab vaah chijon ko anubhav karna chahta hai hai na poocha tha ki yah bhi dekhne ki bhi samajh le jigyasa bani rehti hai toh jab tak ho jigyasa complete na ho jaaye toh insaan ko vaah vaah andar khayal aate rehte hai ki nahi usko dekh lete hai iske bare mein sun lete hai iske bare mein padh lete hai vagera vagairah toh yah ghar mein jo bhi log hai unko dekhna chahiye satarkata bartani chahiye ki hamare bacche kya dekh rahe hai haan definiti agar is par kabu nahi paya gaya toh bacche definetli idhar ki wajah udhar ja sakte hai unki mansikta mein parivartan aa sakta hai hamein nahi pata ki vaah quality vala information dekh rahe hai yahoo co good night of information dekh rahe hai jo vaah bhi available hai internet par isliye hamein thoda soch samajh kar aage badhana chahiye

देखिए आज के जमाने में इंटरनेट होना बहुत जरूरी है अब इंटरनेट अवेलेबिलिटी बहुत सारी जगह पर ह

Romanized Version
Likes  561  Dislikes    views  7015
WhatsApp_icon
user

Nitish Kumar

RRB Railway JE

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है सर क्या इंटरनेट की वजह से आजकल के बच्चे बिगड़ जाते हैं तो एक तरह से कहना भी सही है इंटरनेट की वजह से बच्चे लोग जाते हैं इंटरनेट से ऐसी रोचक कहानियां मिलते हैं हमें बोरिंग महसूस नहीं आता है और लगता है कि हमसे देखते जाए इस तरह बच्चे इंटरनेट में इतना व्यस्त हो जाते हैं कि आपकी लाइफ को भूल जाते हैं और मोबाइल में अपनी लगाओ लगा लेते

aapka question hai sir kya internet ki wajah se aajkal ke bacche bigad jaate hain toh ek tarah se kehna bhi sahi hai internet ki wajah se bacche log jaate hain internet se aisi rochak kahaniya milte hain hamein boaring mehsus nahi aata hai aur lagta hai ki humse dekhte jaaye is tarah bacche internet mein itna vyast ho jaate hain ki aapki life ko bhool jaate hain aur mobile mein apni lagao laga lete

आपका क्वेश्चन है सर क्या इंटरनेट की वजह से आजकल के बच्चे बिगड़ जाते हैं तो एक तरह से कहना

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  226
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां आपने बिल्कुल सही बोला इंटरनेट की वजह से बच्चे बिगड़ रहे हैं लेकिन जो बच्चे इंटरनेट का सही उपयोग करते हैं वह बच्चे अच्छे भी बन जाते हैं लेकिन मैक्सिमम बच्चे इंटरनेट का गलत उपयोग करते हैं इसलिए माता-पिता को अपने बच्चों पर ध्यान देना चाहिए जो बच्चे छोटे हैं 78 में पढ़ रहे हैं या क्लास फाइव सिक्स में तुमको ज्यादा इंटरनेट यूज़ ना करने दे क्योंकि इंटरनेट यूज करेंगे तो कोई ऐसी पिक आ जाएगी कोई ऐसा वीडियो आ जाएगा जिसको देखकर उनका ध्यान भटक जाएगा अब अटक जाएगा फिर लत लग जाएगी लत लग जाएगी तो बच्चे बिगड़ जाएंगे तो इसलिए इंटरनेट से बच्चों को दूर रखें आप फोन पर गेम खेलने दीजिए थोड़ा बहुत बात करने दीजिए तो लेकिन इंटरनेट से दूर रखना बच्चों को यह माता-पिता की सबसे बड़ी जिम्मेवारी है नहीं तो बच्चे बिगड़ जाएंगे और बच्चों के पास अच्छा से अच्छा भी नहीं आ पाएगा जब शिक्षक नहीं हो पाएंगे तो आप जानते ही हैं कैरियर बर्बाद हो जाएगा धन्यवाद

ji haan aapne bilkul sahi bola internet ki wajah se bacche bigad rahe hain lekin jo bacche internet ka sahi upyog karte hain vaah bacche acche bhi ban jaate hain lekin maximum bacche internet ka galat upyog karte hain isliye mata pita ko apne baccho par dhyan dena chahiye jo bacche chote hain 78 mein padh rahe hain ya class five six mein tumko zyada internet use na karne de kyonki internet use karenge toh koi aisi pic aa jayegi koi aisa video aa jaega jisko dekhkar unka dhyan bhatak jaega ab atak jaega phir lat lag jayegi lat lag jayegi toh bacche bigad jaenge toh isliye internet se baccho ko dur rakhen aap phone par game khelne dijiye thoda bahut baat karne dijiye toh lekin internet se dur rakhna baccho ko yah mata pita ki sabse badi jimmewari hai nahi toh bacche bigad jaenge aur baccho ke paas accha se accha bhi nahi aa payega jab shikshak nahi ho payenge toh aap jante hi hain carrier barbad ho jaega dhanyavad

जी हां आपने बिल्कुल सही बोला इंटरनेट की वजह से बच्चे बिगड़ रहे हैं लेकिन जो बच्चे इंटरनेट

Romanized Version
Likes  177  Dislikes    views  3542
WhatsApp_icon
user

Dr Asha B Jain

Dip in Naturopathy, Yoga therapist Pranic healer, Counselor

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल हंड्रेड परसेंट सही है इंटरनेट की वजह से आजकल बच्चे बिगड़ रहे हैं जो भी वह नेट पर सोशल मीडिया पर देखते हैं उसको कॉपी करने की कोशिश करते हैं अपनी बुद्धि का उपयोग करते नहीं हैं जैसे कि व्हाट्सएप हुआ कई ऐप हैं यूट्यूब हुआ इंस्टाग्राम हुआ एक लिमिट होती है हर चीज की उस लिमिट से वह पार जाते हैं और इतना ज्यादा उससे उनका गुस्सा बढ़ जाता है क्योंकि जो वह सोशल मीडिया पर देखते हैं उससे उसके कारण उनकी इच्छाओं इच्छाएं और ज्यादा प्रबल हो जाती है सेटिस्फेक्शन का लेवल बहुत कम हो गया है विल पावर बहुत कम हो गया है क्योंकि प्रैक्टिकली फिजिकली हो कुछ भी नहीं कर रहे हैं केवल मेंटल उपयोग हो रहा है उनका पूरे टाइम मीडिया पर लगे हुए हैं छोटे-छोटे बच्चे देखे हैं 6677 साल के बच्चे टाइम मूवी है पर अपना मीडिया पर अपना टाइम पास कर सकते हैं उन्हें कोई भी आउटडोर गेम आवश्यकता ही नहीं लगती खेलने के लिए जबकि अपनी फिजिकल बॉडी के लिए आउटडोर गेम बच्चों को खेलना बहुत ज्यादा जरूरी है अब तो बिल्कुल ही बंद हो गया है हमारे जमाने में ऐसे गुल्ली डंडा हुआ कंचे हुए बैडमिंटन टेबल टेनिस बहुत सारे ऐसे गेम थे जो हम प्रतिदिन खेलते थे वह बिल्कुल ही खत्म हो गए हैं क्योंकि सबके हाथ में मोबाइल आ गया है इन सब चीजों का एक तरीके से एडिक्शन हो गया है बच्चों में जो की बहुत खतरनाक रूप ले रहा है कई बीमारियों का भी है रूप ले रहा है मानसिक भी और शारीरिक बीमारियां इसके कारण बहुत बढ़ गई है

bilkul hundred percent sahi hai internet ki wajah se aajkal bacche bigad rahe hain jo bhi vaah net par social media par dekhte hain usko copy karne ki koshish karte hain apni buddhi ka upyog karte nahi hain jaise ki whatsapp hua kai app hain youtube hua instagram hua ek limit hoti hai har cheez ki us limit se vaah par jaate hain aur itna zyada usse unka gussa badh jata hai kyonki jo vaah social media par dekhte hain usse uske karan unki ikchao ichhaen aur zyada prabal ho jaati hai setisfekshan ka level bahut kam ho gaya hai will power bahut kam ho gaya hai kyonki practically physically ho kuch bhi nahi kar rahe hain keval mental upyog ho raha hai unka poore time media par lage hue hain chhote chhote bacche dekhe hain 6677 saal ke bacche time movie hai par apna media par apna time paas kar sakte hain unhe koi bhi outdoor game avashyakta hi nahi lagti khelne ke liye jabki apni physical body ke liye outdoor game baccho ko khelna bahut zyada zaroori hai ab toh bilkul hi band ho gaya hai hamare jamane mein aise gulli danda hua kanche hue Badminton table tennis bahut saare aise game the jo hum pratidin khelte the vaah bilkul hi khatam ho gaye hain kyonki sabke hath mein mobile aa gaya hai in sab chijon ka ek tarike se addiction ho gaya hai baccho mein jo ki bahut khataranaak roop le raha hai kai bimariyon ka bhi hai roop le raha hai mansik bhi aur sharirik bimariyan iske karan bahut badh gayi hai

बिल्कुल हंड्रेड परसेंट सही है इंटरनेट की वजह से आजकल बच्चे बिगड़ रहे हैं जो भी वह नेट पर स

Romanized Version
Likes  72  Dislikes    views  1675
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या इंटरनेट की वजह से आजकल के बच्चे बिगड़ रहे हैं कि एक सर्वे में ऐसा देखा गया है कि कम उम्र के बच्चों को जो उनकी जरूरत नहीं लिए थे तब भी वह इंटरनेट का यूज करते हैं मोबाइल हम उनको कम उम्र में दे देते हैं और उपुल विश्व से कनेक्ट हो जाते हैं तब नेट के माध्यम से उनको सब मालूम पड़ जाता है दोस्तों से नेट में हमें कौन सी साइट पर जाना है हमें यूट्यूब देखना है हमें फेसबुक क्यों अपने आप आईडी बना लेते हैं व्हाट्सएप पर भी फ्रेंड्स बना देते हैं भाई लावेकरा फिल्में भी इंटरनेट यूजर से देखकर और उनका जो बहुत ही कम मानस होता है उनकी मेंटालिटी है वह बिगड़ सकती है इसलिए इंटरनेट की वजह से इफेक्ट तो आता ही है इसलिए बच्चों को समझ देनी चाहिए मोबाइल दे या कंप्यूटर दे तो समझ पहले देनी पड़ती है समझाना पड़ता है कि देखो इसमें सब कुछ है सब कुछ तुम खोज सकते हो अगर तुमको अच्छा कोई ना है तो अच्छा भी खोज सकते हो गलत खोजना है गंदा खोजना है और कोई खराब चीज बीच कुछ नहीं है तो भी इसमें यूपी को सकते हो इंटरनेट सा समुद्र है कि जिसमें मोती भी समुद्र में से निकलते हैं और अजगर भी निकलते हैं शांति निकलते हैं बच्चे कैसे करते हैं बड़ी-बड़ी व्हेल मछलियां भी निकलते हैं और बुरे संस्कार भी वहीं से वह सीख सकते इसलिए यह समझ लो उनको एजुकेट करना जरूरी होता है इसके बाद नेट देना चाहिए और थोड़ी बहुत परफेक्ट होती है थोड़ा रखना जरूरी होता है कि बच्चे क्या कौन-कौन सी साइट पर जा रहे हैं क्या कर रहे हैं फेसबुक में उनके कौन कौन से फ्रेंड है उन्होंने ऐसे फ्रेंड बनाए हुए हैं क्या चैटिंग करते हैं थोड़ा उनके वॉच रखना जरूरी होता है कौन सी वेबसाइट है वह

kya internet ki wajah se aajkal ke bacche bigad rahe hai ki ek survey mein aisa dekha gaya hai ki kam umr ke baccho ko jo unki zarurat nahi liye the tab bhi vaah internet ka use karte hai mobile hum unko kam umr mein de dete hai aur upul vishwa se connect ho jaate hai tab net ke madhyam se unko sab maloom pad jata hai doston se net mein hamein kaun si site par jana hai hamein youtube dekhna hai hamein facebook kyon apne aap id bana lete hai whatsapp par bhi friends bana dete hai bhai lavekara filme bhi internet user se dekhkar aur unka jo bahut hi kam manas hota hai unki mentalaity hai vaah bigad sakti hai isliye internet ki wajah se effect toh aata hi hai isliye baccho ko samajh deni chahiye mobile de ya computer de toh samajh pehle deni padti hai samajhana padta hai ki dekho isme sab kuch hai sab kuch tum khoj sakte ho agar tumko accha koi na hai toh accha bhi khoj sakte ho galat khojana hai ganda khojana hai aur koi kharab cheez beech kuch nahi hai toh bhi isme up ko sakte ho internet sa samudra hai ki jisme moti bhi samudra mein se nikalte hai aur azgar bhi nikalte hai shanti nikalte hai bacche kaise karte hai baadi badi whale machhliyan bhi nikalte hai aur bure sanskar bhi wahi se vaah seekh sakte isliye yah samajh lo unko educate karna zaroori hota hai iske baad net dena chahiye aur thodi bahut perfect hoti hai thoda rakhna zaroori hota hai ki bacche kya kaun kaun si site par ja rahe hai kya kar rahe hai facebook mein unke kaun kaunsi friend hai unhone aise friend banaye hue hai kya chatting karte hai thoda unke watch rakhna zaroori hota hai kaun si website hai vaah

क्या इंटरनेट की वजह से आजकल के बच्चे बिगड़ रहे हैं कि एक सर्वे में ऐसा देखा गया है कि कम उ

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  1276
WhatsApp_icon
user

M D Agrawal

Professor

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अधिकांश बच्चे इंटरनेट सेक्सी बातें तो देखते नहीं है करा बातें देखते हैं इसलिए यह कहा जा सकता है कि नेट की वजह से बच्चे बिगड़ रहे हैं परंतु मां-बाप उनके इन कारणों पर निगरानी रखें और उन्हें सही मार्ग दिखाते रहें इंटरनेट पर नहीं दिख रहे

adhikaansh bacche internet sexy batein toh dekhte nahi hai kara batein dekhte hain isliye yah kaha ja sakta hai ki net ki wajah se bacche bigad rahe hain parantu maa baap unke in karanon par nigrani rakhen aur unhe sahi marg dikhate rahein internet par nahi dikh rahe

अधिकांश बच्चे इंटरनेट सेक्सी बातें तो देखते नहीं है करा बातें देखते हैं इसलिए यह कहा जा सक

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  198
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां इंटरनेट और सोशल मीडिया हमारे बच्चों को बिगाड़ने में बहुत बड़ी भूमिका निभा रही है हालांकि यह दोनों चीजें बहुत काम के हैं अभिभावक को चाहिए कि अपने बच्चों के एक्टिविटीज पर नजर रखें धन्यवाद

ji haan internet aur social media hamare baccho ko bigadne mein bahut badi bhumika nibha rahi hai halaki yah dono cheezen bahut kaam ke hain abhibhavak ko chahiye ki apne baccho ke activities par nazar rakhen dhanyavad

जी हां इंटरनेट और सोशल मीडिया हमारे बच्चों को बिगाड़ने में बहुत बड़ी भूमिका निभा रही है हा

Romanized Version
Likes  91  Dislikes    views  2279
WhatsApp_icon
user

Sonika Mishra

Research & Poetry

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या इंटरनेट की वजह से आजकल के बच्चे बिगड़ रहे हैं कहीं ना कहीं हां कि वह अपने समय को पॉजिटिव चीजों में रिप्लाई नहीं करते हैं वह कहीं ना कहीं पूरे पूरे दिन फोन में ही लगे रहते हैं उनको जितना सामाजिक होना चाहिए उतना सामाजिक नहीं हो पा रहे हैं

kya internet ki wajah se aajkal ke bacche bigad rahe hain kahin na kahin haan ki vaah apne samay ko positive chijon mein reply nahi karte hain vaah kahin na kahin poore poore din phone mein hi lage rehte hain unko jitna samajik hona chahiye utana samajik nahi ho paa rahe hain

क्या इंटरनेट की वजह से आजकल के बच्चे बिगड़ रहे हैं कहीं ना कहीं हां कि वह अपने समय को पॉजि

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  2140
WhatsApp_icon
user
1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड सामने पेश किया जाए आजकल के बच्चे भी आपको बता देना चाहता हूं कि एक को डाउनलोड करके बच्चे बिगड़ रहे हैं इसलिए उन्हें को बंद कर देना चाहिए जिससे बच्चे भी हो रहे हैं और रही बात इंटरनेट इंटरनेट से हमारे बहुत से ऐसे कार है जो आसानी से हो रहे हैं कोई भी समस्या है तो हम इंटरनेट यूज से जान सकते हैं उसका प्रयोग हमारे लिए अच्छा साबित हो रहा है इंटरनेट सेवा

hello friend saamne pesh kiya jaaye aajkal ke bacche bhi aapko bata dena chahta hoon ki ek ko download karke bacche bigad rahe hain isliye unhe ko band kar dena chahiye jisse bacche bhi ho rahe hain aur rahi baat internet internet se hamare bahut se aise car hai jo aasani se ho rahe hain koi bhi samasya hai toh hum internet use se jaan sakte hain uska prayog hamare liye accha saabit ho raha hai internet seva

हेलो फ्रेंड सामने पेश किया जाए आजकल के बच्चे भी आपको बता देना चाहता हूं कि एक को डाउनलोड क

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  704
WhatsApp_icon
user

Ramesh Prajapati

||....Be....Legendary......||

1:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे इंटरनेट के वजह से बच्चे को देखिए बिगड़ रहे हैं लेकिन यह कहना तो मुश्किल है कि सब बिगड़ते हैं देखिए सब नहीं बिगड़ते पर कुछ लोग ऐसे हैं कि बच्चे बिगड़ते आजकल आप देख लीजिए खुद ही पब्जी पब्जी में इस समय तो जितने भी लोग हैं मतलब तीन एजर्स जो भी है यह लोग पब्जी के चक्कर में काफी ज्यादा बिजी रहते हैं इंटरनेट में भी इंटरनेट जो है हर चीज की सुविधा दी गई है इंडिया में हर चीज हर हर चीज का सलूशन है और सुविधा भी है इंटरनेट को अगर अच्छी तरीके से अपने फायदे के लिए यूज करेंगे तो बेहतर है अन्यथा अगर यह जो आजकल बेफ्रिके जो कुछ है आपसे और बुरी चीज है जो वीडियो है दिन भर लगे रहते चैटिंग भेज दीजिए गलत बात है हर चीज का टाइम टेबल नहीं है आप देखते कि टिक तोक भी चल चुका है टिक तोक हाइक मैसेंजर कुछ भी चलाइए आप लेकिन उसके एक समय सीमा होती है तो वह बुरी नहीं है और घर वाले भी इस चीज को मना नहीं करेंगे देखे इंटरनेट को अपने फायदे के लिए यूज करें गेम खेलने का मन करता है तो उसके थोड़ा सा टाइम टाइम सेट कीजिए नॉर्मल इसको के लिए कोई पूरी नहीं होती इंटरनेट अपने फायदे के लिए यूज करेंगे तो ही बैठक बेहतर है धन्यवाद

dekhe internet ke wajah se bacche ko dekhiye bigad rahe hain lekin yah kehna toh mushkil hai ki sab bigadte hain dekhiye sab nahi bigadte par kuch log aise hain ki bacche bigadte aajkal aap dekh lijiye khud hi PUBG PUBG mein is samay toh jitne bhi log hain matlab teen azores jo bhi hai yah log PUBG ke chakkar mein kaafi zyada busy rehte hain internet mein bhi internet jo hai har cheez ki suvidha di gayi hai india mein har cheez har har cheez ka salution hai aur suvidha bhi hai internet ko agar achi tarike se apne fayde ke liye use karenge toh behtar hai anyatha agar yah jo aajkal befrike jo kuch hai aapse aur buri cheez hai jo video hai din bhar lage rehte chatting bhej dijiye galat baat hai har cheez ka time table nahi hai aap dekhte ki tick tok bhi chal chuka hai tick tok hike messenger kuch bhi chalaiye aap lekin uske ek samay seema hoti hai toh vaah buri nahi hai aur ghar waale bhi is cheez ko mana nahi karenge dekhe internet ko apne fayde ke liye use kare game khelne ka man karta hai toh uske thoda sa time time set kijiye normal isko ke liye koi puri nahi hoti internet apne fayde ke liye use karenge toh hi baithak behtar hai dhanyavad

देखे इंटरनेट के वजह से बच्चे को देखिए बिगड़ रहे हैं लेकिन यह कहना तो मुश्किल है कि सब बिगड

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  547
WhatsApp_icon
user

Raj Kumar

Sports Coach

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने बहुत ही अच्छा क्वेश्चन किया है इस तरह के क्वेश्चन बहुत कम पूछे जाते हैं कि तुम मैं आपको बताना चाहूंगा कि इंटरनेट आज के जीवन में आज के जीवन में इतना महत्व रखता है कि बहुत ज्यादा बहुत अधिक महत्व रखता है मैं आपको बताना चाहूंगा आपने कहा कि बच्चे आजकल के बच्चे बिगड़ बिगड़ रहे हैं दूसरी जिसमें दो चीज आपको पहले बता दो पहले चीज यह है कि इंटरनेट वह माध्यम है जिससे आप किसी भी तरह की जानकारी आप घर बैठे ले सकते हैं अभी बताइएगा आप मुझे कि यह आपके लिए एडवांटेज होता है लाभदायक है या डिसएडवांटेज है क्या हानिकारक है अब सबसे पहले पेरेंट्स को आपको यह जानना होगा कि क्या चीज आपके लिए अच्छी है क्या चीज आपके लिए उचित है और क्या चीज आपके लिए अनुचित है तो कोशिश यह करें आप इंटरनेट का यूज करें समय पर यूज करें यह नहीं कि आप 24 घंटे लगे रहे ठीक है अच्छी अच्छी चीज भी देख रहे हैं तब भी आप टाइम से अपना टाइम डिवाइड करें कि मुझे इस टॉपिक पर इस टाइम देखना है इस टॉपिक को टाइम देना स्वीट बनाइए मैं नहीं कहूंगा कि आप कोशिश करें 24 घंटे नेट नेट कभी उस ना करें कि आप उससे आपकी आइस पर फक्र पड़ता और यूएन जैसे बताएं इंटरनेट में एक चीज और बताऊंगा आपको बताना चाहूंगा कि इंटरनेट यूज करते समय इंटरनेट यूज करते हैं कोशिश करें कि कोशिश करें कि अपने फोन को अपनी आंखों से दूर रखें धन्यवाद

aapne bahut hi accha question kiya hai is tarah ke question bahut kam pooche jaate hain ki tum main aapko bataana chahunga ki internet aaj ke jeevan mein aaj ke jeevan mein itna mahatva rakhta hai ki bahut zyada bahut adhik mahatva rakhta hai aapko bataana chahunga aapne kaha ki bacche aajkal ke bacche bigad bigad rahe hain dusri jisme do cheez aapko pehle bata do pehle cheez yah hai ki internet vaah madhyam hai jisse aap kisi bhi tarah ki jaankari aap ghar baithe le sakte hain abhi bataiega aap mujhe ki yah aapke liye advantage hota hai labhdayak hai ya disadvantage hai kya haanikarak hai ab sabse pehle parents ko aapko yah janana hoga ki kya cheez aapke liye achi hai kya cheez aapke liye uchit hai aur kya cheez aapke liye anuchit hai toh koshish yah kare aap internet ka use kare samay par use kare yah nahi ki aap 24 ghante lage rahe theek hai achi achi cheez bhi dekh rahe hain tab bhi aap time se apna time divide kare ki mujhe is topic par is time dekhna hai is topic ko time dena sweet banaiye main nahi kahunga ki aap koshish kare 24 ghante net net kabhi us na kare ki aap usse aapki ice par fakra padta aur un jaise bataye internet mein ek cheez aur bataunga aapko bataana chahunga ki internet use karte samay internet use karte hain koshish kare ki koshish kare ki apne phone ko apni aankho se dur rakhen dhanyavad

आपने बहुत ही अच्छा क्वेश्चन किया है इस तरह के क्वेश्चन बहुत कम पूछे जाते हैं कि तुम मैं आप

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
bacche kya kar rahe hain ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!