सामंत वाद क्या है?...


play
user

gurpreet singh

Computer graduate

0:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सामंतवाद की मतलब मध्ययुगीन यूरोप में सामंतवाद कानूनी और सहने रिवाजों का एक संयोजन था जो नवमी और पंचमी शताब्दी के बीच विकसित हुआ था

saamantvaad ki matlab madhyayugin europe mein saamantvaad kanooni aur sahane rivajon ka ek sanyojan tha jo navami aur panchami shatabdi ke beech viksit hua tha

सामंतवाद की मतलब मध्ययुगीन यूरोप में सामंतवाद कानूनी और सहने रिवाजों का एक संयोजन था जो नव

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  22
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

समाजवादी अर्थव्यवस्था बोल सकते हैं एक प्रथा थी उसमें बेसिकली इंग्लैंड और यूरोप पर की प्रथा है जो कि मध्यकालीन युग में थी इसमें विश्व के लिए क्या होता है जो राजा है आबू सबसे टॉप सबसे ऊंचा स्थान क्यों देते उसके नीचे अलग-अलग तरह के सामंत होते थे जो कि निम्न स्तर पर और उसके नीचे से ताकि सानिया दांत होते संरक्षक जो है या अधीनस्थ लोगों का यह संगठन था जिसको कि हम सा मंत्र बोलते थे तो इसमें जो राजा है पूरे दिन पूरे राज्य का मालिक स्वामी मनाया सक्रिय भूमिका और स्थानांतरण जो थे राजा के प्रति स्वामी भक्ति से बोलते साईं भक्ति भरते थे और रक्षा के लिए सेना थी अब बदले में क्या करते हैं राजा भूमि जिससे किसानों को किसानों है जो उसके और जो पसंद है वह राजा को दी और कुछ पसंद है अपने पास है फिर से यह प्रार्थना है कि मध्यकालीन युग में थी सामंतवाद जो पड़ता है

samajwadi arthavyavastha bol sakte hai ek pratha thi usme BA sically england aur europe par ki pratha hai jo ki madhyakalin yug mein thi isme vishwa ke liye kya hota hai jo raja hai aabu sabse top sabse uncha sthan kyon dete uske niche alag alag tarah ke samant hote the jo ki nimn sthar par aur uske niche se taki saniya dant hote sanrakshak jo hai ya adhinasth logo ka yah sangathan tha jisko ki hum sa mantra bolte the toh isme jo raja hai poore din poore rajya ka malik swami manaya sakriy bhumika aur sthanantaran jo the raja ke prati swami bhakti se bolte sai bhakti bharte the aur raksha ke liye sena thi ab BA dle mein kya karte hai raja bhoomi jisse kisano ko kisano hai jo uske aur jo pasand hai vaah raja ko di aur kuch pasand hai apne paas hai phir se yah prarthna hai ki madhyakalin yug mein thi saamantvaad jo padta hai

समाजवादी अर्थव्यवस्था बोल सकते हैं एक प्रथा थी उसमें बेसिकली इंग्लैंड और यूरोप पर की प्रथा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  43
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
सामंत का अर्थ क्या है ; सामंत ; samant kya hai ; samantvad ; सामंत कौन थे ; samantvad kya hai ; सामन्तवाद क्या है ; samant kaun the ; samantvad ka arth ; samantvad kya hai in hindi ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!