क्या आपके अनुसार स्वच्छ भारत अभियान सफल रहा है या नहीं?...


user

Ashok Clinic

Sexologist

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके अनुसार स्वच्छ भारत अभियान सफल रहा है या नहीं जी बिल्कुल बहुत अच्छा टॉपिक है इंसानी जिंदगी को निरोग करने के लिए छोटा भाई जरूरी है गवर्नमेंट किस बात के पीछे पड़ी हुई है बहुत अच्छा टारगेट है ऐसे लोगों को सेट मिलेगी निरूकता मिलेगी और जीवन उम्र लंबी होगी अभी आप देखिए इंडियन किया जबरदस्ती 768 हो गई है तो नहीं रहेंगे रहेंगे हंसते बहुत अच्छा रहा करो मैं सरकार को बधाई देता हूं उसको

aapke anusaar swachh bharat abhiyan safal raha hai ya nahi ji bilkul bahut accha topic hai insani zindagi ko nirog karne ke liye chota bhai zaroori hai government kis baat ke peeche padi hui hai bahut accha target hai aise logo ko set milegi nirukata milegi aur jeevan umr lambi hogi abhi aap dekhiye indian kiya jabardasti 768 ho gayi hai toh nahi rahenge rahenge hansate bahut accha raha karo main sarkar ko badhai deta hoon usko

आपके अनुसार स्वच्छ भारत अभियान सफल रहा है या नहीं जी बिल्कुल बहुत अच्छा टॉपिक है इंसानी जि

Romanized Version
Likes  311  Dislikes    views  3897
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr.Pavan Mishra

Naturopath Doctor | Physician

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे अनुसार स्वच्छ भारत का जो अभियान है जो इसके कार्य करता है उनकी तरफ से मैं यह बोल सकता हूं कि 50 6% यह अभियान सफल रहा है अभी भी 40% की कमी है और इसमें जो कमियां पाई जा रही है वह कहीं न कहीं हम देशवासियों की भी कमियां है जो हम लोग इसके ऊपर पूरी तरह से जागरूक नहीं हो पा रहे हैं या उसको आप कह सकते हैं कि हमारे अंदर जो आलस्य की भावना है और कहीं न कहीं जो इगो हमें हर्ट करता है जब भी इस तरह से कुछ स्वच्छता की बात आती है तो तो जो कमी है वह कुछ न कुछ हम लोगों की तरफ से भी हैं बाकी तो अभियान तो लगभग 50 60% तो सफल है ही धन्यवाद

hamare anusaar swachh bharat ka jo abhiyan hai jo iske karya karta hai unki taraf se main yah bol sakta hoon ki 50 6 yah abhiyan safal raha hai abhi bhi 40 ki kami hai aur isme jo kamiyan payi ja rahi hai vaah kahin na kahin hum deshvasiyon ki bhi kamiyan hai jo hum log iske upar puri tarah se jagruk nahi ho paa rahe hain ya usko aap keh sakte hain ki hamare andar jo aalasya ki bhavna hai aur kahin na kahin jo ego hamein heart karta hai jab bhi is tarah se kuch swachhta ki baat aati hai toh toh jo kami hai vaah kuch na kuch hum logo ki taraf se bhi hain baki toh abhiyan toh lagbhag 50 60 toh safal hai hi dhanyavad

हमारे अनुसार स्वच्छ भारत का जो अभियान है जो इसके कार्य करता है उनकी तरफ से मैं यह बोल सकत

Romanized Version
Likes  119  Dislikes    views  1924
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आप के अनुसार स्वच्छ भारत अभियान सफल रहा है या नहीं नहीं अभी तक सफल नहीं हुआ है अभी बहुत बाकी है सिर्फ 1.1% बाकी 9199 फसल है अभी भी उतना नहीं है त्वचा काफी अभी वक्त लगेगा शायद 5 या 10 साल और लग जाएगा मुझे तो यही लग रहा है पता नहीं अमेरिका जैसा है इंडिया पता नहीं अमेरिका जैसा कब बनेगा

kya aap ke anusaar swachh bharat abhiyan safal raha hai ya nahi nahi abhi tak safal nahi hua hai abhi bahut baki hai sirf 1 1 baki 9199 fasal hai abhi bhi utana nahi hai twacha kaafi abhi waqt lagega shayad 5 ya 10 saal aur lag jaega mujhe toh yahi lag raha hai pata nahi america jaisa hai india pata nahi america jaisa kab banega

क्या आप के अनुसार स्वच्छ भारत अभियान सफल रहा है या नहीं नहीं अभी तक सफल नहीं हुआ है अभी बह

Romanized Version
Likes  305  Dislikes    views  4154
WhatsApp_icon
play
user

Greeshma Nataraj

Psychology Counseling, Life Coach, NLP, Cognitive Behavioral Therapist, Motivational Speaker, Handwriting Signature Analyst.

1:49

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुड आफ्टरनून स्वच्छ भारत अभियान इतना हद तक सफल हो रहा है या नहीं यह मैं नहीं जानती हूं लेकिन इतना सही है कि हम अगर प्रयास करेंगे तो यस हर राज्य स्वस्थ स्वस्थ हो सकता है हम ही लोग हैं जो गंदगी फैलाते हैं हम मगर कंट्रोल करें यहां वहां कचरा ना फेंकने का यहां वहां शौचालय ना करने का या जो भी नित्य कार्य है वह बाथरूम यूज करने का और उन्हें साफ-सुथरे रखने का तो यह कार्य जो अभियान जो मोदी सरकार ने शुरू किया है वह हंड्रेड पर्सन सफल हो सकता है अगर हम अपनी नदियां और समुंदर साफ रखेंगे हम अपना परिवार एनवायरनमेंट को कंट्रोल साफ रखने में कंट्रोल करेंगे तो स्वच्छ भारत का अभियान हंड्रेड परसेंट सक्सेसफुल हो सकता है सुनाई दिया कितना हुआ कितना प्रतिशत सफल हुआ यह हमारे ऊपर डिपेंड करता है कि हम अपना एनवायरमेंट कितना साफ सुथरा रखते हैं हम अपनी बिल्डिंग हम अपने घर के बाजू का जो कूड़ा कचरा है वह एक जगह कैसे इकट्ठा करते हैं और हम अपना एरिया अगर हम अपने घर को स्वच्छ रख सकते हैं तो अपनी प्रिमाइजेज अपना बिल्डिंग अपनी सड़क जो अपने घर तक जाती है हम यह छोटी-छोटी चीजों के ऊपर अगर ढंग से काम करेंगे तो मेरे ख्याल से यह जो सफाई अभियान शुरू किया था वह एक हद तक सफल हो रहा है लेकिन अगर उसको हंड्रेड परसेंट सफल बनाना है तो चलो हम एक दूसरे का साथ पकड़ के आगे बढ़े और इसको हंड्रेड पर्सन सफल बनाएं थैंक यू

good afternoon swachh bharat abhiyan itna had tak safal ho raha hai ya nahi yah main nahi jaanti hoon lekin itna sahi hai ki hum agar prayas karenge toh Yes har rajya swasthya swasth ho sakta hai hum hi log hain jo gandagi failate hain hum magar control kare yahan wahan kachra na fenkne ka yahan wahan shauchalay na karne ka ya jo bhi nitya karya hai vaah bathroom use karne ka aur unhe saaf suthre rakhne ka toh yah karya jo abhiyan jo modi sarkar ne shuru kiya hai vaah hundred person safal ho sakta hai agar hum apni nadiyan aur samundar saaf rakhenge hum apna parivar environment ko control saaf rakhne mein control karenge toh swachh bharat ka abhiyan hundred percent successful ho sakta hai sunayi diya kitna hua kitna pratishat safal hua yah hamare upar depend karta hai ki hum apna environment kitna saaf suthara rakhte hain hum apni building hum apne ghar ke baju ka jo kooda kachra hai vaah ek jagah kaise ikattha karte hain aur hum apna area agar hum apne ghar ko swachh rakh sakte hain toh apni primaijej apna building apni sadak jo apne ghar tak jaati hai hum yah choti choti chijon ke upar agar dhang se kaam karenge toh mere khayal se yah jo safaai abhiyan shuru kiya tha vaah ek had tak safal ho raha hai lekin agar usko hundred percent safal banana hai toh chalo hum ek dusre ka saath pakad ke aage badhe aur isko hundred person safal banaye thank you

गुड आफ्टरनून स्वच्छ भारत अभियान इतना हद तक सफल हो रहा है या नहीं यह मैं नहीं जानती हूं लेक

Romanized Version
Likes  234  Dislikes    views  3338
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

2:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन ऐसे की चर्चा का विषय है कि क्या आपके अनुसार स्वच्छ भारत अभियान सफल रहा है या नहीं तो यहां बताना चाहेंगे कि यह जो अभियान है कि कोई 1 दिन या 1 साल या 10 साल का बयान नहीं है इसको वक्त लगेगा क्योंकि यह मानसिकता बदलने का बयान है या स्वच्छ भारत जो अभियान चल रहा है यह से कूड़ा साफ नहीं करना है यहां पर आदतें बदलनी है लोगों की मानसिकता है उसको बदलना है कि हां हम खुले में गंदगी ना सके छोटा सा उदाहरण देने आपको और अगर आपको पसंद आए तो जरूर कमेंट सेक्शन बताइएगा क्या होता है कि यहां से हम इंडिया में हम लोग चीजें खरीदते हैं खाते पीते हैं उसके बाद उसको हम लोग तो खाने के बाद पैकेट वही भेज देते हैं लेकिन जब वही पसंद वही इंडिविजुअल जब किसी फोन कंट्री में जाता है तो बड़े आराम से उस खाली पैकेट को अपनी पॉकेट में रख लेता है जस्ट बिकॉज कि उसको पता है अगर उसने यहां कहीं भी फेंका तो एक तो उसे जुर्माना लगेगा उसे पेनल्टी लगेगी जेल हो सकती है यह सारी चीजें उसको बड़े ख्याल क्या उस कंट्री को स्वच्छ रखना है लेकिन जैसे ही वह इंडिया में वापस आता है फिर उसकी वही हरकत चालू हो जाती है तो यहां मानसिकता बदलने वाली चीज है और जब तक मानसिकता नहीं बदलेगी लोग नहीं सुधरने वाले नहीं चेंज होने वाला तो यह मानसिकता बदलने का जो प्रयास है यह शुरू हो चुका है आगे आने वाली जैसे उसको फॉलो भी कर रही है लेकिन हम जो लोग हैं पुरानी पीढ़ी अकरम बात करें तो वीडियो और हमसे सीनियर्स नहीं है तो उनकी मानसिकता बदलने वाला अभी चल रहा है धीरे-धीरे बदलाव आ रहा है लेकिन पूरी तरह अगर आप सोचेंगे बदल जाएगा ऐसा भी नहीं होगा हां काफी हद तक उसमें सुधार थी तेरे आने शुरू हो गए और दिखाई भी दे रहे हैं और उसको बदलते में समय लगेगा तो मेरे हिसाब से जो अभियान चलाया है सा फल है और उसको हमें पूरी तरह सफल बनाना है यहां पर सिर्फ कूड़ा नहीं फेंकना इसमें सारी चीजों के यहां पर सफाई करने का प्रयास है फिर चाहे वह हमारे नदी नाले चाय हमारे अड़ोस पड़ोस के लड़के हो या हमारी सीटिंग हो शहर हो उन सब चीजों का में स्वच्छ बनाना है साफ करना है धन्यवाद

lekin aise ki charcha ka vishay hai ki kya aapke anusaar swachh bharat abhiyan safal raha hai ya nahi toh yahan bataana chahenge ki yah jo abhiyan hai ki koi 1 din ya 1 saal ya 10 saal ka bayan nahi hai isko waqt lagega kyonki yah mansikta badalne ka bayan hai ya swachh bharat jo abhiyan chal raha hai yah se kooda saaf nahi karna hai yahan par aadatein badalni hai logo ki mansikta hai usko badalna hai ki haan hum khule mein gandagi na sake chota sa udaharan dene aapko aur agar aapko pasand aaye toh zaroor comment section bataiega kya hota hai ki yahan se hum india mein hum log cheezen kharidte hain khate peete hain uske baad usko hum log toh khane ke baad packet wahi bhej dete hain lekin jab wahi pasand wahi individual jab kisi phone country mein jata hai toh bade aaram se us khaali packet ko apni pocket mein rakh leta hai just because ki usko pata hai agar usne yahan kahin bhi fenkaa toh ek toh use jurmana lagega use penalty lagegi jail ho sakti hai yah saree cheezen usko bade khayal kya us country ko swachh rakhna hai lekin jaise hi vaah india mein wapas aata hai phir uski wahi harkat chaalu ho jaati hai toh yahan mansikta badalne wali cheez hai aur jab tak mansikta nahi badalegi log nahi sudharne waale nahi change hone vala toh yah mansikta badalne ka jo prayas hai yah shuru ho chuka hai aage aane wali jaise usko follow bhi kar rahi hai lekin hum jo log hain purani peedhi akram baat kare toh video aur humse seniors nahi hai toh unki mansikta badalne vala abhi chal raha hai dhire dhire badlav aa raha hai lekin puri tarah agar aap sochenge badal jaega aisa bhi nahi hoga haan kaafi had tak usme sudhaar thi tere aane shuru ho gaye aur dikhai bhi de rahe hain aur usko badalte mein samay lagega toh mere hisab se jo abhiyan chalaya hai sa fal hai aur usko hamein puri tarah safal banana hai yahan par sirf kooda nahi phenkana isme saree chijon ke yahan par safaai karne ka prayas hai phir chahen vaah hamare nadi naale chai hamare ados pados ke ladke ho ya hamari Seating ho shehar ho un sab chijon ka mein swachh banana hai saaf karna hai dhanyavad

लेकिन ऐसे की चर्चा का विषय है कि क्या आपके अनुसार स्वच्छ भारत अभियान सफल रहा है या नहीं तो

Romanized Version
Likes  329  Dislikes    views  6823
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

2:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए हमारे अनुसार स्वच्छ भारत अभियान का मिशन सफल रहा प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने स्वच्छ भारत अभियान के मिशन के माध्यम से लोगों को जागरूक किया है 2014 के पहले इतना स्वच्छता नहीं रहती थी हमारे देश में लेकिन 2014 के बाद आपने देखा होगा गांव में लोग अपने घर की सफाई करते हैं तो गली में आकर थोड़ा गली को भी साफ करते हैं और बाहर से जब कोई व्यक्ति आता है गांव में तो कहता है कि गांव बहुत साफ है यह 2014 के पानी ऐसी भाषा कोई नहीं बोलता था किसी गांव के लिए लेकिन आज के डेट में बोला जा रहा है सभी लोग सभी जगह जा रहे हैं तो वहां पर उनको सफाई मिल रही है स्वच्छता मिल रही है सफाई स्वच्छता हमारे जीवन का प्रतीक होना चाहिए हमारी जीवन की हाइट होनी चाहिए हम लोगों की हाइट बनती जा रही है पहले इतनी जागरूक नहीं थी और आज के डेट में हमारे देश में बीमारी बहुत कम है क्योंकि लोग अपने घर अपने आसपास के जगह को साफ सुथरा रखने आपने देखा होगा बहुत सारे लोग पेड़ लगाते हुए अपना फोटो फेसबुक पर शेयर करते हैं कितना अच्छा समय आ गया पेड़ हमारे जीवन में कई तरह से लाभ पहुंचाता है एक तो शुद्ध हवा देता है अब शुद्ध हवा से पूरा एनवायरमेंट साफ रहता है पीपल का पेड़ बरगद का पेड़ और नीम का पेड़ यह तीन पेड़ अगर आपने अपने आसपास लगा दिया तो रोक कोसों दूर रहेगा तो स्वच्छ भारत अभियान के मिशन में सफलता प्राप्त हुई है मैं यह नहीं कहता कि हंड्रेड परसेंट सफलता प्राप्त हुई है लेकिन 70 परसेंट तक सफलता प्राप्त हुई है अभी भी कुछ इतनी सफाई नहीं हो पा रही है वहां तक लोग अभी अभियान पहुंच नहीं पाया है क्योंकि बहुत हमारे देश में क्या है कि बहुत सारे लोग अभी टीवी हुई देखते नहीं है उतना इंटरनेट इंटरनेट यूज नहीं करते हैं लेकिन स्वच्छ भारत अभियान के मिशन को सफल बनाने के लोग वहां तक पहुंच रहे हैं लोग वहां तक पहुंच कर सभी लोगों को जागरूक कर रहे हैं तो धीरे-धीरे एक दो साल में हंड्रेड परसेंट सफलता मिल जाएगी तो आप सभी लोगों से निवेदन है कि आप सभी लोग भारतीय जनता पार्टी का समर्थन करिए मोदी जी का सपोर्ट करिए स्वच्छ भारत अभियान के मिशन को हंड्रेड परसेंट सफल बनाने के लिए सभी लोगों को समझाइए स्वच्छता के लिए ताकि यह मिशन सफल हो सके और दुनिया का सबसे सुंदर और सबसे खूबसूरत देश हमारा हिंदुस्तान बन सके धन्यवाद

dekhiye hamare anusaar swachh bharat abhiyan ka mission safal raha pradhanmantri shri narendra modi ji ne swachh bharat abhiyan ke mission ke madhyam se logo ko jagruk kiya hai 2014 ke pehle itna swachhta nahi rehti thi hamare desh mein lekin 2014 ke baad aapne dekha hoga gaon mein log apne ghar ki safaai karte hain toh gali mein aakar thoda gali ko bhi saaf karte hain aur bahar se jab koi vyakti aata hai gaon mein toh kahata hai ki gaon bahut saaf hai yah 2014 ke paani aisi bhasha koi nahi bolta tha kisi gaon ke liye lekin aaj ke date mein bola ja raha hai sabhi log sabhi jagah ja rahe hain toh wahan par unko safaai mil rahi hai swachhta mil rahi hai safaai swachhta hamare jeevan ka prateek hona chahiye hamari jeevan ki height honi chahiye hum logo ki height banti ja rahi hai pehle itni jagruk nahi thi aur aaj ke date mein hamare desh mein bimari bahut kam hai kyonki log apne ghar apne aaspass ke jagah ko saaf suthara rakhne aapne dekha hoga bahut saare log ped lagate hue apna photo facebook par share karte hain kitna accha samay aa gaya ped hamare jeevan mein kai tarah se labh pohchta hai ek toh shudh hawa deta hai ab shudh hawa se pura environment saaf rehta hai pipal ka ped bargad ka ped aur neem ka ped yah teen ped agar aapne apne aaspass laga diya toh rok koson dur rahega toh swachh bharat abhiyan ke mission mein safalta prapt hui hai yah nahi kahata ki hundred percent safalta prapt hui hai lekin 70 percent tak safalta prapt hui hai abhi bhi kuch itni safaai nahi ho paa rahi hai wahan tak log abhi abhiyan pohch nahi paya hai kyonki bahut hamare desh mein kya hai ki bahut saare log abhi TV hui dekhte nahi hai utana internet internet use nahi karte hain lekin swachh bharat abhiyan ke mission ko safal banane ke log wahan tak pohch rahe hain log wahan tak pohch kar sabhi logo ko jagruk kar rahe hain toh dhire dhire ek do saal mein hundred percent safalta mil jayegi toh aap sabhi logo se nivedan hai ki aap sabhi log bharatiya janta party ka samarthan kariye modi ji ka support kariye swachh bharat abhiyan ke mission ko hundred percent safal banane ke liye sabhi logo ko samjhaiye swachhta ke liye taki yah mission safal ho sake aur duniya ka sabse sundar aur sabse khoobsurat desh hamara Hindustan ban sake dhanyavad

देखिए हमारे अनुसार स्वच्छ भारत अभियान का मिशन सफल रहा प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने

Romanized Version
Likes  202  Dislikes    views  4040
WhatsApp_icon
user

Niraj Devani

PHILOSOPHER

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डीके स्वच्छ भारत अभियान है वह सफल या विफल हुआ यह अभी तो सोचना नहीं है हमको क्योंकि कई आदत ऐसी होती है कि जो तुरंत हमारे जीवन से नहीं जाती है एक और स्वच्छता भी एक ऐसी ही आदत बन गई है कि ज्यादातर लोग ऐसा सोचते हैं कि हम कहीं भी जाएं तो बहुत सोच होनी चाहिए जगह लेकिन वह यह नहीं सोचते कि हम इस जगह को फिर छोड़ के हम जाए तो भी हमें उसको स्वच्छ करके जाना चाहिए ताकि आगे जो आए उनको तकलीफ ना हो अगर हम ट्रेन में इंटर करते हैं और जो दबाए ट्रेन का डिब्बा अच्छा नहीं है तो हम क्या बोलेंगे कि यह देखो कितना गंदा किया हुआ है लेकिन अगर वही डब्बा अच्छा हुआ और हमने कुछ खा पी के वहां पर छोड़कर चले आए उसके रिपोर्ट वगैरा सब हमको यह बात तब भी हमको यह लगना चाहिए कि अगर हम ऐसा करेंगे तो हमारे बाद जाएंगे उनको परेशानी होगी यह नहीं पसंद आएगा तो स्वच्छता ऐसी चीज है कि अब लंबे समय तक इसका रेट के दिमाग में हर एक वक्त यह रहना चाहिए कि मुझे स्वच्छ रखना है जब भी आप कोई कूड़ा फेंकने की कोशिश करें या कोई गंदगी करने की कोशिश करें तो आपको मम्मी तरफ होना चाहिए कि नहीं यह मेरा देश है यह मेरी जगह है यह मेरे आसपास का विस्तार है यह मेरे लिए सब सुविधा है उसको मुझे धंधा नहीं करना चाहिए अगर यह सोच है वह बहुत लंबे समय को चाहिए सबके मन को बदलने के लिए तो अभी तो बहुत हमें कोशिश करनी चाहिए ना कि सफल या विफल यह सोचना चाहिए सफल रही है बहुत बहुत जगह पर देखा है कि लोग अब स्वच्छता का ख्याल रखते हैं तो लोगों के दिमाग में यह बात तो आ गई है कभी चलो हमें स्वच्छ रखना है लेकिन हर एक जगह पर पहुंचने में थोड़ा वक्त लगेगा हम सबको इसमें प्रयास करना होगा और स्वच्छता की ओर एक कदम बढ़ाना होगा

DK swachh bharat abhiyan hai vaah safal ya vifal hua yah abhi toh sochna nahi hai hamko kyonki kai aadat aisi hoti hai ki jo turant hamare jeevan se nahi jaati hai ek aur swachhta bhi ek aisi hi aadat ban gayi hai ki jyadatar log aisa sochte hain ki hum kahin bhi jaye toh bahut soch honi chahiye jagah lekin vaah yah nahi sochte ki hum is jagah ko phir chod ke hum jaaye toh bhi hamein usko swachh karke jana chahiye taki aage jo aaye unko takleef na ho agar hum train mein inter karte hain aur jo dabaye train ka dibba accha nahi hai toh hum kya bolenge ki yah dekho kitna ganda kiya hua hai lekin agar wahi dabba accha hua aur humne kuch kha p ke wahan par chhodkar chale aaye uske report vagera sab hamko yah baat tab bhi hamko yah lagna chahiye ki agar hum aisa karenge toh hamare baad jaenge unko pareshani hogi yah nahi pasand aayega toh swachhta aisi cheez hai ki ab lambe samay tak iska rate ke dimag mein har ek waqt yah rehna chahiye ki mujhe swachh rakhna hai jab bhi aap koi kooda fenkne ki koshish kare ya koi gandagi karne ki koshish kare toh aapko mummy taraf hona chahiye ki nahi yah mera desh hai yah meri jagah hai yah mere aaspass ka vistaar hai yah mere liye sab suvidha hai usko mujhe dhandha nahi karna chahiye agar yah soch hai vaah bahut lambe samay ko chahiye sabke man ko badalne ke liye toh abhi toh bahut hamein koshish karni chahiye na ki safal ya vifal yah sochna chahiye safal rahi hai bahut bahut jagah par dekha hai ki log ab swachhta ka khayal rakhte hain toh logo ke dimag mein yah baat toh aa gayi hai kabhi chalo hamein swachh rakhna hai lekin har ek jagah par pahuchne mein thoda waqt lagega hum sabko isme prayas karna hoga aur swachhta ki aur ek kadam badhana hoga

डीके स्वच्छ भारत अभियान है वह सफल या विफल हुआ यह अभी तो सोचना नहीं है हमको क्योंकि कई आदत

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  629
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आप के अनुसार स्वच्छ भारत अभियान सफल रहा है या नहीं यह मेरे हिसाब से यह स्वच्छ भारत अभियान बहुत थी ज्यादा हंड्रेड परसेंट को नहीं कहा जाएगा लेकिन सफलता मिली है लोग स्वच्छ भारत अभियान के तहत जुड़कर और जो लोगों में एक तरह की स्वच्छता के प्रति जागृति जरूर आई जो लोग स्वच्छता को कोई मानने को तैयार नहीं थे वह लोग स्वच्छता को एक अच्छा घूम मानते हुए उसके बारे में अवश्य विचार करते हैं और इधर-उधर कूड़ा फेंकने का भी वोट डालते हैं इसके बाद जो भारत में चला है स्वच्छ भारत मिशन के तहत उसे जागृति आने से अभिनेत्री पड़ी है लोगों की सोच बदली है लोगों के एचएचएम भी बदले लेकिन तब भी अभी हंड्रेड परसेंट जिसको कहा जाए कि सफलता हमें नहीं मिली कारण भी है कुछ की जो वर्षों से जो चली हुई आदत है वह जल्दी मिटते नहीं है जल्दी जाते नहीं उसको जाने में प्रिया निकल जाती है लेकिन एक शुरुआत हुई है एक मिशन के रूप में एक जागृति के रूप में तो अभी जाकर यह पूरी तरह से सफल जरूर होगी क्योंकि एक अच्छी रास्ते पर हमारा देश चल निकला है और लोगों की सोच बदली है तू उस बारे में दिन-ब-दिन प्रगति जरूर होगी धन्यवाद

kya aap ke anusaar swachh bharat abhiyan safal raha hai ya nahi yah mere hisab se yah swachh bharat abhiyan bahut thi zyada hundred percent ko nahi kaha jaega lekin safalta mili hai log swachh bharat abhiyan ke tahat judakar aur jo logo mein ek tarah ki swachhta ke prati jagriti zaroor I jo log swachhta ko koi manne ko taiyar nahi the vaah log swachhta ko ek accha ghum maante hue uske bare mein avashya vichar karte hain aur idhar udhar kooda fenkne ka bhi vote daalte hain iske baad jo bharat mein chala hai swachh bharat mission ke tahat use jagriti aane se abhinetri padi hai logo ki soch badli hai logo ke HHM bhi badle lekin tab bhi abhi hundred percent jisko kaha jaaye ki safalta hamein nahi mili karan bhi hai kuch ki jo varshon se jo chali hui aadat hai vaah jaldi mitte nahi hai jaldi jaate nahi usko jaane mein priya nikal jaati hai lekin ek shuruat hui hai ek mission ke roop mein ek jagriti ke roop mein toh abhi jaakar yah puri tarah se safal zaroor hogi kyonki ek achi raste par hamara desh chal nikala hai aur logo ki soch badli hai tu us bare mein din bsp din pragati zaroor hogi dhanyavad

क्या आप के अनुसार स्वच्छ भारत अभियान सफल रहा है या नहीं यह मेरे हिसाब से यह स्वच्छ भारत अभ

Romanized Version
Likes  63  Dislikes    views  1266
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

माननीय प्रधानमंत्री जी से बहुत अच्छा चलाया है स्वच्छ भारत अभियान लेकिन दुर्भाग्य इस बात का है कि भारतीय लोग लालच के वशीभूत स्वार्थ से भरे हुए पूरे मनोयोग के साथ में उनका साथ नहीं देते हैं परिणाम स्वरूप यह अभियान उतरी सफलता प्राप्त नहीं कर सकता है जो सफलता प्राप्त करनी चाहिए थी क्योंकि हम भारतीय लोग स्वाद खुदगर्जी और लालच के पुतले हम तो गुलाबी मार्कशीट लेकर जीते हैं हम कहते कुछ हैं करते कुछ है कहने को तो उनकी रैलियों में शामिल होते हैं स्वच्छ भारत के नारे लगाते हैं लेकिन हम आलसी इतने हैं कि वही मूंगफली खाते हैं वही केले खाते हो चेकअप हो वही हम भी सड़क पर या बीच रास्ते पर डालते थे यह हमारा नैतिक चरित्र है ट्रेन में जा रहे हैं मूंगफली खाएंगे छोड़कर वहीं फेंक देंगे गंगा जी पर स्नान करने जाते हैं वही खाना खाते हैं वहीं गंदगी को भी फेंक देते हैं गंगा में डाल देते हैं यह हमारा नैतिक चरित्र है तो स्वच्छ भारत अभियान माननीय प्रधानमंत्री जी का दिया हुआ यह अभियान तभी सफल हो सकता है जब इसमें हम भारतीय लोग अपने लोग लाल स्वार्थों को त्याग करके आलस को त्याग करके मनोयोग के साथ में समय साथ देंगे सहयोग करेंगे और ना कल गंदगी हम खिलाएंगे ना गंदगी फैलाने देंगे ना प्रदूषण हम पिलाएंगे ना प्रदूषण फैलाने देंगे इस प्रकार की जब मानसिकता रखेंगे तभी जाकर यह सफल हो सकता है फ्रांस में देखिए आप ट्रांस पेरिस की सड़कें आप सच कही जाती हैं कि जहां पर एक छोटी सी भी गंदगी नहीं करा सकते हैं आप आप यदि पैलेस घूमने के लिए गए हैं फ्रांस घूमने के लिए गए और बंदगी आपने कुछ छिलका खाया अकेले खाई के बाहर फेंक दिए तो वहां पर टाइम हो जाएगा और यदि वहां का कोई नागरिक देख रहा है तो वह आपसे तो कुछ नहीं करेगा लेकिन खुद उठा कर क्यों से डस्टबिन में डालेगा उसे आप शर्मिंदा हूं आपको शर्म आएगी कि हम भारतीय लोग कितने संस्कार भी ही में जापान में देखिए आप टोक्यो में देखिए यही हालत है वहां के लोगों में देशभक्ति है देश के प्रति निष्ठा है तो यही देशभक्ति के भाव आज हमें जागृत करने की आवश्यकता है हम माननीय प्रधानमंत्री जी के आंदोलन को इस अभियान को सफल बनवाएं

mananiya pradhanmantri ji se bahut accha chalaya hai swachh bharat abhiyan lekin durbhagya is baat ka hai ki bharatiya log lalach ke vashibhut swarth se bhare hue poore manoyog ke saath me unka saath nahi dete hain parinam swaroop yah abhiyan utari safalta prapt nahi kar sakta hai jo safalta prapt karni chahiye thi kyonki hum bharatiya log swaad khudagarji aur lalach ke putale hum toh gulabi marksheet lekar jeete hain hum kehte kuch hain karte kuch hai kehne ko toh unki railiyo me shaamil hote hain swachh bharat ke nare lagate hain lekin hum aalsi itne hain ki wahi mungfaali khate hain wahi kele khate ho checkup ho wahi hum bhi sadak par ya beech raste par daalte the yah hamara naitik charitra hai train me ja rahe hain mungfaali khayenge chhodkar wahi fenk denge ganga ji par snan karne jaate hain wahi khana khate hain wahi gandagi ko bhi fenk dete hain ganga me daal dete hain yah hamara naitik charitra hai toh swachh bharat abhiyan mananiya pradhanmantri ji ka diya hua yah abhiyan tabhi safal ho sakta hai jab isme hum bharatiya log apne log laal swarthon ko tyag karke aalas ko tyag karke manoyog ke saath me samay saath denge sahyog karenge aur na kal gandagi hum khilaenge na gandagi felane denge na pradushan hum pilaenge na pradushan felane denge is prakar ki jab mansikta rakhenge tabhi jaakar yah safal ho sakta hai france me dekhiye aap trans paris ki sadaken aap sach kahi jaati hain ki jaha par ek choti si bhi gandagi nahi kara sakte hain aap aap yadi Palace ghoomne ke liye gaye hain france ghoomne ke liye gaye aur bandagi aapne kuch chhilka khaya akele khai ke bahar fenk diye toh wahan par time ho jaega aur yadi wahan ka koi nagarik dekh raha hai toh vaah aapse toh kuch nahi karega lekin khud utha kar kyon se dustbin me dalega use aap sharminda hoon aapko sharm aayegi ki hum bharatiya log kitne sanskar bhi hi me japan me dekhiye aap Tokyo me dekhiye yahi halat hai wahan ke logo me deshbhakti hai desh ke prati nishtha hai toh yahi deshbhakti ke bhav aaj hamein jagrit karne ki avashyakta hai hum mananiya pradhanmantri ji ke andolan ko is abhiyan ko safal banwaye

माननीय प्रधानमंत्री जी से बहुत अच्छा चलाया है स्वच्छ भारत अभियान लेकिन दुर्भाग्य इस बात का

Romanized Version
Likes  226  Dislikes    views  3195
WhatsApp_icon
user

Sumita Pal

Pharmacist

0:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वच्छ भारत अभियान सफल हो रहा है या नहीं जी सरकार पूरी कोशिश कर रही है स्वच्छ भारत अभियान सफल करने की पर कुछ लोग ऐसे भी हैं जो स्वच्छता स्वच्छता का साथ नहीं दे रहे हैं

swatch bharat abhiyan safal ho raha hai ya nahi ji sarkar puri koshish kar rahi hai swachh bharat abhiyan safal karne ki par kuch log aise bhi hain jo swachhta swachhta ka saath nahi de rahe hain

स्वच्छ भारत अभियान सफल हो रहा है या नहीं जी सरकार पूरी कोशिश कर रही है स्वच्छ भारत अभियान

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वच्छ भारत का अभियान जो है वह एक सतत प्रयास है वह एक ऐसा अभियान नहीं है जो आज चलाएं और कल खत्म कर दें क्योंकि जब तक मनुष्य के पास विभिन्न चीजें आती रहेंगे वह खरीदेगा वह उन चीजों में से बचे हुए रिलेटिव को कहां देखता है इस बात पर निर्भर करता है तो यही चलेगा हमें अपनी आने वाली पीढ़ियों को यह समझाना होगा मैं अपने देश को स्वच्छ रखना है यही गांधीजी का वह देश है जो गांधीजी स्वावलंबी थे और अपनी शौचालय को स्वयं साफ करते थे तो अगर हम अपने देश की विदेश में पहचान बनाने से बनाना चाहती हमारे देश की स्वच्छता की से बीमारियां कम होती हैं देश की आय भी पड़ती है इसकी वजह से बीमारी पर कम खर्चा होता है तो मुझे लगता है कि अभी तक क्लास तक काफी सफल रहा है और यह सफल बनाते रहना होगा लगातार प्रयास करते रहे होंगे क्योंकि हमें सीखना है सबसे बड़ी बात यह थी कि आती है क्योंकि हम ही वह लोग हैं जो विदेश में जाकर कचरा कचरा फेंकते हैं यह दिखाने के लिए कि हम तो आपके देश को भारत की संविधान नागरिक हैं लेकिन हम लोग ऐसा करते हैं तो कोई बाहर का नहीं जाता अगर आप जरूर ऐसा होगा डोर टू डोर कचरा लेने वाली जो गाड़ी आती है उस पर आप कचरा डाली है या उपयुक्त अपने जो कचरा जब भी आपको बस की यात्रा करते में बच्चे उसके साथ एक पॉलिथीन लेकर जाइए केले के छिलके या कोई ऐसी चीज है उसको उस पर में डालो जब भी आपको एक छोटा सा काम करना है आपको अपने बच्चों से काम करवाना है ताकि आने वाली पीढ़ी भी इस अभियान को सफल बनाने की कोशिश करें बहुत-बहुत धन्यवाद

swatch bharat ka abhiyan jo hai vaah ek satat prayas hai vaah ek aisa abhiyan nahi hai jo aaj chalaye aur kal khatam kar de kyonki jab tak manushya ke paas vibhinn cheezen aati rahenge vaah kharidega vaah un chijon mein se bache hue relative ko kahaan dekhta hai is baat par nirbhar karta hai toh yahi chalega hamein apni aane wali peedhiyon ko yah samajhana hoga main apne desh ko swachh rakhna hai yahi gandhiji ka vaah desh hai jo gandhiji svaavlambi the aur apni shauchalay ko swayam saaf karte the toh agar hum apne desh ki videsh mein pehchaan banane se banana chahti hamare desh ki swachhta ki se bimariyan kam hoti hain desh ki aay bhi padti hai iski wajah se bimari par kam kharcha hota hai toh mujhe lagta hai ki abhi tak class tak kaafi safal raha hai aur yah safal banate rehna hoga lagatar prayas karte rahe honge kyonki hamein sikhna hai sabse badi baat yah thi ki aati hai kyonki hum hi vaah log hain jo videsh mein jaakar kachra kachra phenkate hain yah dikhane ke liye ki hum toh aapke desh ko bharat ki samvidhan nagarik hain lekin hum log aisa karte hain toh koi bahar ka nahi jata agar aap zaroor aisa hoga door to door kachra lene wali jo gaadi aati hai us par aap kachra dali hai ya upyukt apne jo kachra jab bhi aapko bus ki yatra karte mein bacche uske saath ek polythene lekar jaiye kele ke chilake ya koi aisi cheez hai usko us par mein dalo jab bhi aapko ek chota sa kaam karna hai aapko apne baccho se kaam karwana hai taki aane wali peedhi bhi is abhiyan ko safal banane ki koshish kare bahut bahut dhanyavad

स्वच्छ भारत का अभियान जो है वह एक सतत प्रयास है वह एक ऐसा अभियान नहीं है जो आज चलाएं और कल

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  996
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!