अगर आप KBC में 1 करोड़ जीतते, तो आप उसे कैसे ख़र्च करते?...


user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

2:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इस सवाल पर 12 है याद आ रहा है और वह कुछ ऐसे हैं प्रभु धन इतना दीजिए जामे कुटुम समाय मैं भी भूखा ना रहूं मेरा साधु न भूखा जाए इसका मतलब यही हुआ सशक्त में कि भाई अमीर को उतना पैसा या ध्यान दीजिए आता कि मेरा निर्वाह हो सके मेरा घर चल सके साथ में मेरे घर अगर कोई मेहमान आती थी आता है वह भी भूखा ना चाहे हालांकि उस समय में जिस समय यह दुआ लिखा गया था और जिसने लिखा है अब बहुत सोच समझकर बहुत अच्छी तरीके से लिखा है इंसान का जीवन ऐसे ही होना चाहिए संतोष पुरवा की होना चाहिए और है लेकिन टाइम के साथ और जरूरतों के साथ शायद ऐसा नहीं हो पाता मेरी वह ताकि यह टाइम के कारण यह दुआ वैलिड नहीं जी ने ऐसा नहीं है मैं अभी भी ऐसी विचारधारा का हूं कि भैया मेरे पास इतना जरूर नाचेगी मेरे काम चल जाएगा मैं संतोष पूर्वक राशि खुशी अपना जीवन अपने परिवार के साथ बिता सकूं जब मेरे पास एक करोड़ आ जाए या फिर मैं भी चाहता हूं एक करोड़ तुम्हें डेफिनेटली उन सारी चीजों के लिए उसको खर्च करूंगा जिनकी मुझे जरूरत रही है तो मुझे आज जो कुछ भी अभी लगता है कि घर में आज सिर्फ की जरूरत है और उसकी कमी काफी समय से रह रही थी सबसे पहले उसकी पूर्ति करना जरूरी होता है और उसके बाद यह भी साथ में जरूर रहता है क्योंकि देखिए यह मेरे कारण नहीं मिलेगा एक करोड़ यह मिलेगा तो भगवान के आशीर्वाद से मैं कुछ भी नहीं हूं जब तक उनका आशीर्वाद दिया प्लेसिंग ना हो तो फिर उनका ब्लेसिंग है तो मेरे को इस पेज से पैसे में से कुछ पैसा इसका अनेक काम में भी डालना चाहिए और वह नेक काम कुछ है मेरे दिमाग में तो उसमें से उसको अगर किया जाए तो बहुत अच्छा रहेगा जैसे फॉर एग्जांपल मैं बच्चों को पढ़ाना चाहता हूं और कुछ आता हूं कि ऐसा कुछ अस्थाई प्रबंध हो जाए उनके लिए जो सक्षम नहीं है लेकिन मुझे नहीं पता कि शायद स्कूल खोलना चाहिए इतने में हो जाएगा क्या होगा वह सब नहीं पता लेकिन इतना जरूर है कि उस एरिया में थोड़ा काम करना चाहिए थोड़ा बहुत ध्यान जरूर हो जाएगा यह पैसों से कहीं पर अगर मुझे लग रहा है कि मेरे आस पड़ोस में कहीं पर किसी को कुछ जरूरत है या कोई पैसे पैसे किसी की रिक्वायरमेंट थी आज तो मैं उसको बोल दूंगा तो फिलहाल तो मेरे दिमाग में ही आता है हां क्योंकि मैं तैयार नहीं था और यह पोस्ट ना किया तो इसलिए ऐसे करके अगर कल को मुझे केबीसी से बुलावा आ जाता है और मैं जाता हूं तो डेफिनेटली है मेरी सोच और मेरा छोटे से सुना होगा कि अगर ऐसा कुछ होता है तो मैं उसको कैसे खर्च करूं मैं शायद थोड़ा बहुत है बदले और वह भी उस एरिया में बटेगा कि मैं औरों के लिए क्या कर सकता हूं डेफिनेटली

is sawaal par 12 hai yaad aa raha hai aur vaah kuch aise hain prabhu dhan itna dijiye jame kutum samaye main bhi bhukha na rahun mera sadhu na bhukha jaaye iska matlab yahi hua sashakt mein ki bhai amir ko utana paisa ya dhyan dijiye aata ki mera nirvah ho sake mera ghar chal sake saath mein mere ghar agar koi mehmaan aati thi aata hai vaah bhi bhukha na chahen halaki us samay mein jis samay yah dua likha gaya tha aur jisne likha hai ab bahut soch samajhkar bahut achi tarike se likha hai insaan ka jeevan aise hi hona chahiye santosh purva ki hona chahiye aur hai lekin time ke saath aur jaruraton ke saath shayad aisa nahi ho pata meri vaah taki yah time ke karan yah dua valid nahi ji ne aisa nahi hai abhi bhi aisi vichardhara ka hoon ki bhaiya mere paas itna zaroor nachegi mere kaam chal jaega main santosh purvak rashi khushi apna jeevan apne parivar ke saath bita saku jab mere paas ek crore aa jaaye ya phir main bhi chahta hoon ek crore tumhe definetli un saree chijon ke liye usko kharch karunga jinki mujhe zarurat rahi hai toh mujhe aaj jo kuch bhi abhi lagta hai ki ghar mein aaj sirf ki zarurat hai aur uski kami kaafi samay se reh rahi thi sabse pehle uski purti karna zaroori hota hai aur uske baad yah bhi saath mein zaroor rehta hai kyonki dekhiye yah mere karan nahi milega ek crore yah milega toh bhagwan ke ashirvaad se main kuch bhi nahi hoon jab tak unka ashirvaad diya placing na ho toh phir unka blessing hai toh mere ko is page se paise mein se kuch paisa iska anek kaam mein bhi dalna chahiye aur vaah neck kaam kuch hai mere dimag mein toh usme se usko agar kiya jaaye toh bahut accha rahega jaise for example main baccho ko padhana chahta hoon aur kuch aata hoon ki aisa kuch asthai prabandh ho jaaye unke liye jo saksham nahi hai lekin mujhe nahi pata ki shayad school kholna chahiye itne mein ho jaega kya hoga vaah sab nahi pata lekin itna zaroor hai ki us area mein thoda kaam karna chahiye thoda bahut dhyan zaroor ho jaega yah paison se kahin par agar mujhe lag raha hai ki mere aas pados mein kahin par kisi ko kuch zarurat hai ya koi paise paise kisi ki requirement thi aaj toh main usko bol dunga toh filhal toh mere dimag mein hi aata hai haan kyonki main taiyar nahi tha aur yah post na kiya toh isliye aise karke agar kal ko mujhe kbc se bulava aa jata hai aur main jata hoon toh definetli hai meri soch aur mera chote se suna hoga ki agar aisa kuch hota hai toh main usko kaise kharch karu main shayad thoda bahut hai badle aur vaah bhi us area mein batega ki main auron ke liye kya kar sakta hoon definetli

इस सवाल पर 12 है याद आ रहा है और वह कुछ ऐसे हैं प्रभु धन इतना दीजिए जामे कुटुम समाय मैं भी

Romanized Version
Likes  520  Dislikes    views  7515
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
आप उसे ; कैसा ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!