जो लोग बुरे समय में साथ छोड़ देते हैं, और अच्छे समय में साथ देते हैं, ऐसे लोगों के साथ कैसा बर्ताव करना चाहिए?...


user

Tilak Singh

Sch.Topper,Parnassian & Author

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आजकल के लोग बहुत सेल्फिश हो गए हैं तो वह हमें दुख देखकर वह खुद हम खुश हैं तो वह हमारी खुशी में शामिल तो हो सकती हैं अच्छे वक्त पर तो हमारा साथ जरूर देंगे लेकिन अगर हम किसी टेंशन में हैं और हमारा टाइम खराब चल रहा है तो वह सोचते हैं अभी आएगा हम उसके पास जाएंगे मेरा दिमाग खराब करेगा तो वह इस प्रकार से स्वस्थ

jaisa ki hum sabhi jante hain ki aajkal ke log bahut selfish ho gaye hain toh vaah hamein dukh dekhkar vaah khud hum khush hain toh vaah hamari khushi mein shaamil toh ho sakti hain acche waqt par toh hamara saath zaroor denge lekin agar hum kisi tension mein hain aur hamara time kharab chal raha hai toh vaah sochte hain abhi aayega hum uske paas jaenge mera dimag kharab karega toh vaah is prakar se swasth

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आजकल के लोग बहुत सेल्फिश हो गए हैं तो वह हमें दुख देखकर वह खुद

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  177
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Norang sharma

Social Worker

1:57

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार सवाल है कि जो लोग बुरे वक्त पर साथ छोड़ देते हैं और अच्छे वक्त पर साथ देते हैं तो ऐसा क्यों होता है देखिए दुनिया में हर तरह के लोगों से हमारा सामना होता है कुछ लोग बहुत अच्छे होते हैं और कुछ लोग बहुत रिजर्व बड़े होते हैं ना वह अच्छे हैं ना वह पूरे और कुछ लोग बुरे होते हैं तो हमें सभी तरह के लोगों से डील करना आना चाहिए बुरे वक्त में जो साथ छोड़ देते हैं वह क्या आपके लिए बहुत बेशकीमती सबक आपको सिखा करके जाते हैं आप पहले से ज्यादा परिपक्व हो जाते हैं पहले से ज्यादा मैच्योर हो जाते हैं और पहले से ज्यादा प्रैक्टिकल हो जाते हैं लाइफ में तो मुझे लगता है ऐसे लोग भी आपको कुछ ना कुछ लेकर ही जाते हैं आपके लिए उन्होंने कुछ भी नहीं और ऐसे समय में आपको इंसानों की पंक्ति हो जाती है कि कौन असल में आपके साथ है और कौन आप के खिलाफ तुम मुझे लगता है कि हमारा क्या रिएक्शन होना चाहिए ऐसे लोगों के लिए तो मुझे लगता है कि हमारा रिएक्शन उस फूल की तरह होना चाहिए जो किसी भी हाथ में अगर चला जाए तो अपनी खुशबू कहां बिखेर दें क्योंकि दोस्तों मैंने सुना है जो फूल बेचने वाले होते हैं अंत में कुछ खुशबू उनके अपने हाथों में भी रह जाती है तुम नेकी कर दरिया में डाल क्योंकि टिट फॉर टैट की जो नीति है वह हर जगह सही नहीं मानी जाती कुछ मानवीय पहलू भी होते हैं जिन्हें हमें समझने की कोशिश करनी चाहिए तो कर दिखाइए कुछ ऐसा कि दुनिया करना चाहे आपके जैसा और यह तभी होगा जब आप वह करें जो दुनिया से हटकर हो जी हां धन्यवाद

namaskar doston vaah kal par sun rahe mere sabhi shrotaon ko mera pyar bhara namaskar sawaal hai ki jo log bure waqt par saath chod dete hain aur acche waqt par saath dete hain toh aisa kyon hota hai dekhiye duniya mein har tarah ke logo se hamara samana hota hai kuch log bahut acche hote hain aur kuch log bahut reserve bade hote hain na vaah acche hain na vaah poore aur kuch log bure hote hain toh hamein sabhi tarah ke logo se deal karna aana chahiye bure waqt mein jo saath chod dete hain vaah kya aapke liye bahut beshkimati sabak aapko sikha karke jaate hain aap pehle se zyada paripakva ho jaate hain pehle se zyada mature ho jaate hain aur pehle se zyada practical ho jaate hain life mein toh mujhe lagta hai aise log bhi aapko kuch na kuch lekar hi jaate hain aapke liye unhone kuch bhi nahi aur aise samay mein aapko insano ki pankti ho jaati hai ki kaun asal mein aapke saath hai aur kaun aap ke khilaf tum mujhe lagta hai ki hamara kya reaction hona chahiye aise logo ke liye toh mujhe lagta hai ki hamara reaction us fool ki tarah hona chahiye jo kisi bhi hath mein agar chala jaaye toh apni khushboo kahaan bikher de kyonki doston maine suna hai jo fool bechne waale hote hain ant mein kuch khushboo unke apne hathon mein bhi reh jaati hai tum neki kar dariya mein daal kyonki tutt for tatte ki jo niti hai vaah har jagah sahi nahi maani jaati kuch manviya pahaloo bhi hote hain jinhen hamein samjhne ki koshish karni chahiye toh kar dikhaaiye kuch aisa ki duniya karna chahen aapke jaisa aur yah tabhi hoga jab aap vaah kare jo duniya se hatakar ho ji haan dhanyavad

नमस्कार दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार सवाल है कि जो

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  386
WhatsApp_icon
user

Dr. Jitubhai Shah

Friend, Philosopher and Guide

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो लोग बुरे समय में साथ छोड़ देते हैं और अच्छे से में साथ देते हैं ऐसे लोगों के साथ देवर नहीं रखना चाहिए क्योंकि यह लोग संतुष्ट हो गए आपके पास कुछ काम के लिए आती है जब आप उनके सपोर्ट के लिए समर्थ नहीं है आपका बुरा समय चलता है तो आप को छोड़ कर चले जाते हैं और आपका अच्छा समय होता है तो कुछ पाने के लिए आपके पास आते हैं तो मेरे ख्याल से जो ऐसे लोग हैं कि जो बुरे समय में चले जाते हैं अच्छे समय पास आते हैं ऐसे लोगों के साथ संबंध नहीं रखने चाहिए इसको आपको केवल नुकसान की होने की संभावना है

jo log bure samay mein saath chod dete hain aur acche se mein saath dete hain aise logo ke saath devar nahi rakhna chahiye kyonki yah log santusht ho gaye aapke paas kuch kaam ke liye aati hai jab aap unke support ke liye samarth nahi hai aapka bura samay chalta hai toh aap ko chod kar chale jaate hain aur aapka accha samay hota hai toh kuch paane ke liye aapke paas aate hain toh mere khayal se jo aise log hain ki jo bure samay mein chale jaate hain acche samay paas aate hain aise logo ke saath sambandh nahi rakhne chahiye isko aapko keval nuksan ki hone ki sambhavna hai

जो लोग बुरे समय में साथ छोड़ देते हैं और अच्छे से में साथ देते हैं ऐसे लोगों के साथ देवर न

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  501
WhatsApp_icon
user

Praveen keer

Businessman

0:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अच्छे समय में उन फालतू लोगों का भी कुछ स्वार्थ होता है और बुरे समय में उसका कुछ स्वार्थ संपन्न नहीं होता है तो वह छोड़ कर चले जाते हैं अपने को

acche samay mein un faltu logo ka bhi kuch swarth hota hai aur bure samay mein uska kuch swarth sampann nahi hota hai toh vaah chod kar chale jaate hain apne ko

अच्छे समय में उन फालतू लोगों का भी कुछ स्वार्थ होता है और बुरे समय में उसका कुछ स्वार्थ सं

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  315
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
bure waqt me sab sath chod dete hai ; sath n ; amcat log in ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!