भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया?...


user

Manish Dev

Motivational Speaker, Yoga-Meditation Guide, Spiritualist, Psycho-analyst, Astrologer, Spiritual Healer, Life Coach

4:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान कृष्ण ने दुनिया क्यों बनाई दुनिया का निर्माण किया यह प्रश्न है तो बंधु यह जान लो कि दुनिया है क्या पहले तो यह समझो कि दुनिया क्या है आपकी नजर में दुनिया क्या है आप भगवान कृष्ण दुनिया क्यों बनाई भगवान कृष्ण स्वयं तो कभी कहा नहीं कि मैंने दुनिया बने लेकिन आप यहां प्रश्न कर रहे हैं कि कृष्ण ने दुनिया क्यों बनाई तो आप पहले तो यह समझना जरूरी है कि दुनिया आप किसको कह रहे हैं दुनिया का अर्थ बहुत कुछ हो सकता है एक तो दुनिया यह संसार संसार में रिश्ते नाते परिवार घर परिवार आप इसको दुनिया कहते हैं आपकी इच्छाएं आपके कामनाएं तो एक छोटे से शब्द में मैं कहना चाहूंगा छोटे से वाक्य में मैं कहना चाहूंगा कि क्रिया और प्रतिक्रिया एक्शन और रिएक्शन यही प्रकृति है प्रतिक्रिया से ही प्रकृति बनी है तो क्रिया और प्रतिक्रिया जहां पर भी होगा वहां दुनिया होगी जिसे आप दुनिया कह रहे हैं जिसमें सुख दुख होगा उसमें लाभ हानि होगी जय पराजय होगा मान अपमान होगा सारी चीजें उसमें होगी कोई ऊंचा उठ रहा होगा कोई नीचे गिर रहा होगा उठापटक चलती रहेगी जहां यह सब चले बस वही दुनिया यह बनाई नहीं है यह तो बन गई है किसी ने नहीं बनाई या बन गई है यह कैसे बन गई है जब रोशनी ना होना सामने आपने सुना होगा शास्त्रों का एक बहुत पुराना बहुत प्रचलित उदाहरण है कि अंधेरे में अगर रश्मि दिखाई देते दिखाई दे तो वह साथ लगने लग जाती लगता है कि सांप सांप है नहीं है तो रखी है कभी किसकी है कभी प्रकाश की है अगर प्रकाश प्रगट हो जाए वहां पर कहीं से लाइट आ जाए बिजली आ जाए और बल्ब जल जाए कि ब्लैक जलजा हैलोजन जल जाए एलईडी चल जाए कुछ जल जाए तो क्या होगा कि वह दिख जाएगा कि है क्या रखती है यह सांवरिया का भाव रहा है भ्रम वश दुनिया का भाषा के कारण अज्ञान के कारण अविद्या के कारण अविद्या के कारण दुनिया की अनुभूति हो रही है सरकार की अनुभूति विद्या का नाश होगा चित्र निर्मल होगा चित्र पड़े हुए वृत्तियों का निरोध हो जाएगा तब जाकर प्रिय दुनिया में रहने वाली आप के समर्थन में रहेगा और दुनिया में क्या होता है क्या नहीं होता है आप इसके लिए कभी चिंतित नहीं होंगे चिंता कभी नहीं करेंगे इसलिए स्वयं को जानिए सदृश टू स्वरूप व्यवस्था ना योगश्चित्त वृत्ति निरोधा योगसूत्र क्या कह रहा है पतंजलि का योग यही तो कह रहा निरोध कर दो फिर तुम्हारा स्वरूप तुम्हारे सामने होगा सातवें हो जाए इसमें समझ लीजिए जान लीजिए कि किस प्रकार से एक है दुनिया बनाई किसीने नहीं प्रिया प्रतिक्रिया रूप में हमारे सामने हैं और जब हम इस क्रिया प्रतिक्रिया से अपने आपको अलग करना शुरू कर देंगे तो फिर सारी चीजें तारा रहस्य भी सामने आ जाएगा हम दृष्टा मात्र हैं लेकिन हम डस्टर ना होकर हम भोक्ता हो जाते हैं और जब भोक्ता हो जाते हैं तो उसमें भी हम भोक्ता भी नहीं हो जाते हम बोलते हो कि हम पर भी भव्य बन जाते ना समझते आ जाती है जब स्वयं भाग्य बन जाते हैं तो इससे बचना है इससे बचना है और क्रिया प्रतिक्रिया से बचना है श्री कृष्ण ने कहा कि दिल्ली ही शकुनी मामा दूर है कैसे पार निकलोगे नाम एवं पते बाय अमिताभ टंकी के एकाग्रता को व्यक्त करो प्रभु के स्मरण में एकाग्रता को विकसित करो उनके अलावा दूसरा कोई मन में भावना हो प्रभु भाग के अलावा प्रभु के प्रति शक्ति है उस गांव के अलावा कोई दूसरा भाग मन में ना आए तब जाकर यह स्पष्ट हो जाएगा कि दुनिया कहां से आई किस प्रकार

bhagwan krishna ne duniya kyon banai duniya ka nirmaan kiya yah prashna hai toh bandhu yah jaan lo ki duniya hai kya pehle toh yah samjho ki duniya kya hai aapki nazar me duniya kya hai aap bhagwan krishna duniya kyon banai bhagwan krishna swayam toh kabhi kaha nahi ki maine duniya bane lekin aap yahan prashna kar rahe hain ki krishna ne duniya kyon banai toh aap pehle toh yah samajhna zaroori hai ki duniya aap kisko keh rahe hain duniya ka arth bahut kuch ho sakta hai ek toh duniya yah sansar sansar me rishte naate parivar ghar parivar aap isko duniya kehte hain aapki ichhaen aapke kamanaen toh ek chote se shabd me main kehna chahunga chote se vakya me main kehna chahunga ki kriya aur pratikriya action aur reaction yahi prakriti hai pratikriya se hi prakriti bani hai toh kriya aur pratikriya jaha par bhi hoga wahan duniya hogi jise aap duniya keh rahe hain jisme sukh dukh hoga usme labh hani hogi jai parajay hoga maan apman hoga saari cheezen usme hogi koi uncha uth raha hoga koi niche gir raha hoga uthapatak chalti rahegi jaha yah sab chale bus wahi duniya yah banai nahi hai yah toh ban gayi hai kisi ne nahi banai ya ban gayi hai yah kaise ban gayi hai jab roshni na hona saamne aapne suna hoga shastron ka ek bahut purana bahut prachalit udaharan hai ki andhere me agar rashmi dikhai dete dikhai de toh vaah saath lagne lag jaati lagta hai ki saap saap hai nahi hai toh rakhi hai kabhi kiski hai kabhi prakash ki hai agar prakash pragat ho jaaye wahan par kahin se light aa jaaye bijli aa jaaye aur bulb jal jaaye ki black jalaja halogen jal jaaye LED chal jaaye kuch jal jaaye toh kya hoga ki vaah dikh jaega ki hai kya rakhti hai yah sanwariya ka bhav raha hai bharam vash duniya ka bhasha ke karan agyan ke karan avidya ke karan avidya ke karan duniya ki anubhuti ho rahi hai sarkar ki anubhuti vidya ka naash hoga chitra nirmal hoga chitra pade hue vrittiyon ka nirodh ho jaega tab jaakar priya duniya me rehne wali aap ke samarthan me rahega aur duniya me kya hota hai kya nahi hota hai aap iske liye kabhi chintit nahi honge chinta kabhi nahi karenge isliye swayam ko janiye sadrish to swaroop vyavastha na yogashchitt vriti nirodha yogsutra kya keh raha hai patanjali ka yog yahi toh keh raha nirodh kar do phir tumhara swaroop tumhare saamne hoga satve ho jaaye isme samajh lijiye jaan lijiye ki kis prakar se ek hai duniya banai kisi ne nahi priya pratikriya roop me hamare saamne hain aur jab hum is kriya pratikriya se apne aapko alag karna shuru kar denge toh phir saari cheezen tara rahasya bhi saamne aa jaega hum drishta matra hain lekin hum distr na hokar hum bhokta ho jaate hain aur jab bhokta ho jaate hain toh usme bhi hum bhokta bhi nahi ho jaate hum bolte ho ki hum par bhi bhavya ban jaate na samajhte aa jaati hai jab swayam bhagya ban jaate hain toh isse bachna hai isse bachna hai aur kriya pratikriya se bachna hai shri krishna ne kaha ki delhi hi shakuni mama dur hai kaise par nikloge naam evam pate bye amitabh tanki ke ekagrata ko vyakt karo prabhu ke smaran me ekagrata ko viksit karo unke alava doosra koi man me bhavna ho prabhu bhag ke alava prabhu ke prati shakti hai us gaon ke alava koi doosra bhag man me na aaye tab jaakar yah spasht ho jaega ki duniya kaha se I kis prakar

भगवान कृष्ण ने दुनिया क्यों बनाई दुनिया का निर्माण किया यह प्रश्न है तो बंधु यह जान लो कि

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  125
KooApp_icon
WhatsApp_icon
24 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!