अगर भगवान राम बिना किसी देवत्व के इंसान थे, तो क्या उन्होंने कभी भगवान विष्णु की पूजा की थी?...


user

Amit vishwakarma

Psychologist

0:18
Play

Likes  8  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:08

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर भगवान राम बिना किसी देवत्व के इंसान थे तो क्या उन्होंने कभी भगवान विष्णु की पूजा की थी मेट्रोलॉजी के अनुसार को भगवान राम 200 अवतार थे का कहा जाता है तो उन्होंने महेश की पूजा की थी जब उन्होंने लंका पर चढ़ाई करने की योजना बनाई लंकापति रावण के ऊपर जब उन्होंने वानर सेना बनाई तब उन्होंने विष्णु भगवान की पूजा की थी और तत्पश्चात रामेश्वरम का जो शिवलिंग है वह उन्होंने समुद्र की रेती याने की बालू से बनाया था और ब्रह्मा विष्णु महेश तीनों की पूजा करके एकदम उन्होंने पूजा करके समुद्र देव को आह्वान किया था कि जिस बालू की जो चट्टाने हैं उन्हें राम लिखकर उनको तैरता हुआ कर दिया जाए और इस तरह से उनको राम सेतु पुल का नाम हमने बांटने दिया लेकिन रामेश्वरम में जो ज्योतिर्लिंग है वह भगवान श्री शंकर जी का ज्योतिर्लिंग माना जाता है और 12 ज्योतिर्लिंगों में उनकी हम आज भी पूजा करते हैं और दर्शन करते हैं और वहां पर जो रामेश्वरम में जो मंदिर है उसमें 22 कुंड समुद्र पास में होने के बावजूद सभी कुंडों में मीठे पानी से हम स्नान करते हैं तभी हमें रामेश्वरम जी का 2 दिन का दर्शन करने का लाभ मिलता है वही आनंद जो उन्होंने यह प्रावधान किया वह विभूति का अनुभव करता है और रामेश्वरम शिवलिंग का

agar bhagwan ram bina kisi devatwa ke insaan the toh kya unhone kabhi bhagwan vishnu ki puja ki thi Metrology ke anusaar ko bhagwan ram 200 avatar the ka kaha jata hai toh unhone mahesh ki puja ki thi jab unhone lanka par chadhai karne ki yojana banai lankapati ravan ke upar jab unhone vanar sena banai tab unhone vishnu bhagwan ki puja ki thi aur tatpashchat rameshwaram ka jo shivling hai vaah unhone samudra ki reti yane ki baalu se banaya tha aur brahma vishnu mahesh tatvo ki puja karke ekdam unhone puja karke samudra dev ko aahvaan kiya tha ki jis baalu ki jo chattane hai unhe ram likhkar unko tairata hua kar diya jaaye aur is tarah se unko ram setu pool ka naam humne baantne diya lekin rameshwaram mein jo jyotirling hai vaah bhagwan shri shankar ji ka jyotirling mana jata hai aur 12 jyotirlingon mein unki hum aaj bhi puja karte hai aur darshan karte hai aur wahan par jo rameshwaram mein jo mandir hai usme 22 kund samudra paas mein hone ke bawajud sabhi kundon mein meethe paani se hum snan karte hai tabhi hamein rameshwaram ji ka 2 din ka darshan karne ka labh milta hai wahi anand jo unhone yah pravadhan kiya vaah vibhuti ka anubhav karta hai aur rameshwaram shivling ka

अगर भगवान राम बिना किसी देवत्व के इंसान थे तो क्या उन्होंने कभी भगवान विष्णु की पूजा की थी

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  1086
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

3:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीटी भगवान राम शिवम विष्णु के 24 अवतारों में से अकाउंट किए जाते हैं भगवान श्री राम भगवान श्री कृष्ण विष्णु के 24 अवतारों में है तो बेटा आपने यह कैसे कह दिया कि वह देवक तो नहीं थे वह इंसान से इंसान की तो कोई टाइम नहीं है लिवरपूल थे वह चार पुरुष थे वह हमारे महापुरुष हैं दे मर्यादा पुरुषोत्तम है आज संसार भर में मानव समाज में सभ्य सभ्यता देख रहे हो मानव मर्यादा में देख रहे हो हिंदुओं में अपनी बहनों के साथ दिमाग कोई नहीं करता है हिंदुओं में बहन को बहन का रिश्ता बहन और भाई के रिश्ते को संसार का सबसे पवित्र स्थान माना जाता है यह मर्यादा के 20 ग्राम में पिता की आज्ञा का पालन करते हैं अमृता की सेवा करते हैं यह मर्यादा किसने दी श्री राम ने माता पिता के आज्ञाकारी होना यह मर्यादा के सामने एक आदर्श पति का रोल दिखा आदर्श पिता का रोल एक आदर्श भाई का रोल एक आदर्श व्यक्ति का रोल यह सारे रोल करना किसने सिखाया भगवान श्री राम श्री राम मर्यादा पुरुषोत्तम हैं उनके हर कार्य मर्यादा से अनुबंधित सा मर्यादा युक्त था अपितु पूर्ण जन्म से लेकर मृत्यु तक उन्होंने संसार के लिए मर्यादा यदि हैं सिखाया है उनका जीवन किसी भी नहीं अभी शादी तो है भी हमारे आराध्य देव थे हैं और रहेंगे उन भारतीयों को शर्म आनी चाहिए जो श्री राम के देश में रहते हैं श्रीराम के देश की भूमिका खा रहे हैं और पे जीसस को तो जानते हैं लेकिन राम के बारे में पूछने पर कहते हैं हु इज दिस राम अरे शर्म करो ऐसे तुम अंग्रेज की औलाद नहीं हो तो बेंगलुरु इंडियन नहीं हो जब इंडिया में रहकर के इंडिया की खा रहे हो लेकिन फिर भी श्रीराम तो नहीं जानते आप कितने शर्मनाक बात है उसकी सच को तो जानते हो जो विदेश में पैदा हुआ लेकिन उस बढ़िया तो कुछ शुभ तुम को शाम को नहीं जानते हैं जिनकी जन्मभूमि भारत है जो भारतीय संस्कृति के मूल आधार हैं उनकी वास्तविकता है ऐसी आधुनिक ऐसी आधुनिक शिक्षा प्राप्त लड़की लड़कियों ने इस देश की संस्कृति को जब तक लगाए हैं वह वापस में असूस में नींद नहीं है शर्मनाक है

BT bhagwan ram shivam vishnu ke 24 avataron mein se account kiye jaate hain bhagwan shri ram bhagwan shri krishna vishnu ke 24 avataron mein hai toh beta aapne yah kaise keh diya ki vaah devak toh nahi the vaah insaan se insaan ki toh koi time nahi hai Liverpool the vaah char purush the vaah hamare mahapurush hain de maryada purushottam hai aaj sansar bhar mein manav samaj mein sabhya sabhyata dekh rahe ho manav maryada mein dekh rahe ho hinduon mein apni bahnon ke saath dimag koi nahi karta hai hinduon mein behen ko behen ka rishta behen aur bhai ke rishte ko sansar ka sabse pavitra sthan mana jata hai yah maryada ke 20 gram mein pita ki aagya ka palan karte hain amrita ki seva karte hain yah maryada kisne di shri ram ne mata pita ke aagyaakaaree hona yah maryada ke saamne ek adarsh pati ka roll dikha adarsh pita ka roll ek adarsh bhai ka roll ek adarsh vyakti ka roll yah saare roll karna kisne sikhaya bhagwan shri ram shri ram maryada purushottam hain unke har karya maryada se anubandhit sa maryada yukt tha apitu purn janam se lekar mrityu tak unhone sansar ke liye maryada yadi hain sikhaya hai unka jeevan kisi bhi nahi abhi shadi toh hai bhi hamare aradhya dev the hain aur rahenge un bharatiyon ko sharm aani chahiye jo shri ram ke desh mein rehte hain shriram ke desh ki bhumika kha rahe hain aur pe jesus ko toh jante hain lekin ram ke bare mein poochne par kehte hain hoon is this ram are sharm karo aise tum angrej ki aulad nahi ho toh bengaluru indian nahi ho jab india mein rahkar ke india ki kha rahe ho lekin phir bhi shriram toh nahi jante aap kitne sharmnaak baat hai uski sach ko toh jante ho jo videsh mein paida hua lekin us badhiya toh kuch shubha tum ko shaam ko nahi jante hain jinki janmbhoomi bharat hai jo bharatiya sanskriti ke mul aadhaar hain unki vastavikta hai aisi aadhunik aisi aadhunik shiksha prapt ladki ladkiyon ne is desh ki sanskriti ko jab tak lagaye hain vaah wapas mein asus mein neend nahi hai sharmnaak hai

बीटी भगवान राम शिवम विष्णु के 24 अवतारों में से अकाउंट किए जाते हैं भगवान श्री राम भगवान श

Romanized Version
Likes  69  Dislikes    views  1376
WhatsApp_icon
user
0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान राम स्वयं विष्णु के अवतार थे और जितने भी अवतार इस पृथ्वी पर हुए हैं उसमें भगवान विष्णु ने लिया भगवान राम ने समय-समय पर ईश्वर और देवकी को बताने के लिए कई बार विभिन्न देवी-देवताओं की धरा पर पूजा आराधना की

bhagwan ram swayam vishnu ke avatar the aur jitne bhi avatar is prithvi par hue hain usme bhagwan vishnu ne liya bhagwan ram ne samay samay par ishwar aur devki ko batane ke liye kai baar vibhinn devi devatao ki dhara par puja aradhana ki

भगवान राम स्वयं विष्णु के अवतार थे और जितने भी अवतार इस पृथ्वी पर हुए हैं उसमें भगवान विष्

Romanized Version
Likes  102  Dislikes    views  2038
WhatsApp_icon
user

Dr. Guddy Kumari

UPSC Coach / Ph.d

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न क्या भगवान राम बिना किसी देवता के जानते हो क्या उन्होंने कभी भगवान विष्णु की पूजा की थी बिल्कुल की थी भगवान विष्णु की पूजा शंकर की पूजा ब्रह्मा की पूजा हुई तो करते थे और रही बात 2 की तो एक तो खुद विष्णु के अवतार समझाते हैं दूसरी बात लेकिन उन्होंने एक और दूसरी बात जो थे वह भी कहा जाता है कि वह विष्णु के ही रुकते क्योंकि देवता एक दूसरे से अलग नहीं रहते हैं इसलिए लव राम लक्ष्मण ब्रह्मा विष्णु महेश पार्ट थे इसीलिए वह दोनों

prashna kya bhagwan ram bina kisi devta ke jante ho kya unhone kabhi bhagwan vishnu ki puja ki thi bilkul ki thi bhagwan vishnu ki puja shankar ki puja brahma ki puja hui toh karte the aur rahi baat 2 ki toh ek toh khud vishnu ke avatar smajhate hain dusri baat lekin unhone ek aur dusri baat jo the vaah bhi kaha jata hai ki vaah vishnu ke hi rukte kyonki devta ek dusre se alag nahi rehte hain isliye love ram lakshman brahma vishnu mahesh part the isliye vaah dono

प्रश्न क्या भगवान राम बिना किसी देवता के जानते हो क्या उन्होंने कभी भगवान विष्णु की पूजा क

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  428
WhatsApp_icon
user

Shubham Saini

Software Engineer

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान विष्णु ही खुद राम अवतार थे अपनी फुल जनना करके भगवान शंकर की पूजा करते थे और उन्हें दोषी नहीं मानते थे

bhagwan vishnu hi khud ram avatar the apni full janana karke bhagwan shankar ki puja karte the aur unhe doshi nahi maante the

भगवान विष्णु ही खुद राम अवतार थे अपनी फुल जनना करके भगवान शंकर की पूजा करते थे और उन्हें द

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  562
WhatsApp_icon
user

Siyaram Dubey

YouTuber/Spiritual Person/Thinker/Social-media Activist

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भगवान स्वयं भगवान विष्णु के अवतार माने जाते हैं हमारे शास्त्रों में वर्णित है तो अगर आपको कहा जाए कि खुद अपने आप को दंडवत कीजिए प्रणाम कीजिए तो आप कैसे कर सकते हैं हां भगवान के भगवान विष्णु के इष्टदेव भगवान शिव है और भगवान शिव के इष्टदेव भगवान विष्णु है तो भगवान विष्णु ने हमेशा शिव की आराधना की है रामावतार में प्रश्न करने के लिए धन्यवाद जय श्रीमन्नारायण

dekhiye bhagwan swayam bhagwan vishnu ke avatar maane jaate hain hamare shastron mein varnit hai toh agar aapko kaha jaaye ki khud apne aap ko dandvat kijiye pranam kijiye toh aap kaise kar sakte hain haan bhagwan ke bhagwan vishnu ke ishta dev bhagwan shiv hai aur bhagwan shiv ke ishta dev bhagwan vishnu hai toh bhagwan vishnu ne hamesha shiv ki aradhana ki hai ramavatar mein prashna karne ke liye dhanyavad jai shrimannarayan

देखिए भगवान स्वयं भगवान विष्णु के अवतार माने जाते हैं हमारे शास्त्रों में वर्णित है तो अगर

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान राम एक सूर्यवंशी थे और वह अपने कुल देवताओं की पूजा करते थे अपने पूर्वजों की पूजा करते थे पिता की पूजा करते थे इसके अलावा भगवान शिव की पूजा करते थे भगवान विष्णु की पूजा को कैसे करते हो तो स्वयं ही विष्णु का अवतार थे इसलिए शायद भगवान शिव की पूजा करते थे भगवान शिव के लिए उन्होंने जो दक्षिण भारत में रामेश्वरम एक शिवलिंग का निर्माण किया और समुद्र पार करने से पहले उस पर अभिषेक किया बहुत धन्यवाद

bhagwan ram ek suryavanshi the aur vaah apne kul devatao ki puja karte the apne purvajon ki puja karte the pita ki puja karte the iske alava bhagwan shiv ki puja karte the bhagwan vishnu ki puja ko kaise karte ho toh swayam hi vishnu ka avatar the isliye shayad bhagwan shiv ki puja karte the bhagwan shiv ke liye unhone jo dakshin bharat mein rameshwaram ek shivling ka nirmaan kiya aur samudra par karne se pehle us par abhishek kiya bahut dhanyavad

भगवान राम एक सूर्यवंशी थे और वह अपने कुल देवताओं की पूजा करते थे अपने पूर्वजों की पूजा करत

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  838
WhatsApp_icon
user
2:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा कि आपको पूछा है कि राम भगवान के बारे में आपने वैसे पुष्टि किया है तो राम भगवान विष्णु भगवान के ही 10 अवतारों में से एक है और राम भगवान ने जो है बस जी के यहां जो है जन्म लिया था और उनका जीवन हमारे लिए बहुत ही अनुकरणीय पत्र डालता है पर आस्था का म्यूजिक है आस्था जो है हमारे द्वारा भगवान राम के रसिया पिता मर्यादा पुरुषोत्तम और संसद पर सर्वोच्च और मनुष्य को जो है कभी उदास तो सभी प्रकार से प्रेरणादायक और मनुष्य को प्रेरणा देने वाले हैं अपने माता पिता की सेवा करनी चाहिए माता पिता की सेवा के लिए हमें जो है तभी यह मोह माया त्याग कर उनके वचन का पालन करना चाहिए यही बड़वानी का दोहरा चरित्र जीवन और उनके बारे में दिखाएं सर वह जाता है रामेश्वर रामेश्वर कुश राम से बड़ा ना कोई राम का जन्म मरण की जय हर दुख काहे को होय राम जी का अगला अवतार जब चौहान का गुलाब बाग डिफेंस के पश्चात 10 अवतारों में श्रीकृष्ण भगवान जी से लोकेशन गांधी जी की आराधना पास में घर के नंबर पर को सफल बना सकते हैं उनकी आराधना पास्ता में शांतिपूर्ण और लोकतांत्रिक जो है आत्म चिंतन होता है

jaisa ki aapko poocha hai ki ram bhagwan ke bare me aapne waise pushti kiya hai toh ram bhagwan vishnu bhagwan ke hi 10 avataron me se ek hai aur ram bhagwan ne jo hai bus ji ke yahan jo hai janam liya tha aur unka jeevan hamare liye bahut hi anukaraneey patra dalta hai par astha ka music hai astha jo hai hamare dwara bhagwan ram ke rasiya pita maryada purushottam aur sansad par sarvoch aur manushya ko jo hai kabhi udaas toh sabhi prakar se preranadayak aur manushya ko prerna dene waale hain apne mata pita ki seva karni chahiye mata pita ki seva ke liye hamein jo hai tabhi yah moh maya tyag kar unke vachan ka palan karna chahiye yahi badvani ka dohra charitra jeevan aur unke bare me dikhaen sir vaah jata hai rameshwar rameshwar kush ram se bada na koi ram ka janam maran ki jai har dukh kaahe ko hoy ram ji ka agla avatar jab Chauhan ka gulab bagh defence ke pashchat 10 avataron me shrikrishna bhagwan ji se location gandhi ji ki aradhana paas me ghar ke number par ko safal bana sakte hain unki aradhana pasta me shantipurna aur loktantrik jo hai aatm chintan hota hai

जैसा कि आपको पूछा है कि राम भगवान के बारे में आपने वैसे पुष्टि किया है तो राम भगवान विष्णु

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  509
WhatsApp_icon
user
0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी भगवान राम ने भगवान विष्णु की पूजा करी थी सूर्य की पूजा करी थी शंकर भगवान की पूजा करी थी और बन जाने से पहले उनके घर में छोटा सा देवालय है उस देवालय में लक्ष्मी नारायण भगवान की मूर्ति है ठाकुर जी की उनको प्रणाम करके जीवन में गए थे

ji bhagwan ram ne bhagwan vishnu ki puja kari thi surya ki puja kari thi shankar bhagwan ki puja kari thi aur ban jaane se pehle unke ghar me chota sa devalay hai us devalay me laxmi narayan bhagwan ki murti hai thakur ji ki unko pranam karke jeevan me gaye the

जी भगवान राम ने भगवान विष्णु की पूजा करी थी सूर्य की पूजा करी थी शंकर भगवान की पूजा करी थी

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  112
WhatsApp_icon
user

AmarDeep Mukul

मैं ब्लॉगर हूं और मेरी वाइफ ब्यूटीशियन है।

2:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान राम बिना किसी देवत्व के इंसान थे यह कहा गया है क्योंकि उन्होंने कभी भी दे भक्तों का प्रदर्शन मिथ्या नहीं किया उन्होंने कहा खुद को नहीं कहा कि मैं देव हूं उन्होंने साधारण मानव ही कहा था परशुराम के क्रोध करने पर भी और कई सारे जगहों पर भी लेकिन अपने देवत्व का प्रदर्शन उन्होंने कई बार रामायण में किया है उन्होंने जब समुंद्र से जब वह रास्ता मांगे 3 दिन तक बिना की याद नहीं माना तो उन्होंने को दंड उठाकर उसे दंड देने की कोशिश की वह तुरंत उनके देवत्व को पहचान कर उनका शरणागत हो गया जयंत ने भी उनके उनको साधारण इंसान माना और देवी सीता के पैर में चोट मार अंगूठे में चोट मारा राम ने बिना फलक का भाग चलाया वो तीनो लोग भागता सिरा लेकिन उसे कहीं भी छोड़ नहीं मिला अंत में उसे राम के ही शरण में आकर शांति मिली तो यह राम के देवताओं के कुछ चुनिंदा उदाहरण है अन्यथा राम ने कभी भी देवत्व का प्रदर्शन नहीं किया इसलिए कहा जाता है कि वह बिना देवत्व के इंसान थे अब सवाल यह कि उन्होंने विष्णु की कभी पूजा की थी तो भैया राम बिना देवत्व के इंसान थे तो उनकी भी शादी हुई थी अब जान लो शादी में या किसी भी बड़े फंक्शन में बिना पंच देवता के पूजा की पंच देवता में विष्णु रुद्र विष्णु रुद्र गणेश पार्वती गम यह आते हैं विष्णु उसमें भी हैं इसके अलावा त्रिदेव श्राद्ध के अवसर पर भी त्रिदेव की भी पूजा होती है साथ ही साथ अश्वमेध यज्ञ में भी कह दिया कि मैं भी किसी भी समय दिया के क्या किसी भी यज्ञ में भगवान विष्णु की पूजा किए बिना शुरू ही नहीं होता है अतः उन्होंने यह सब उदाहरण है उनके विष्णु पूजा के

bhagwan ram bina kisi devatwa ke insaan the yah kaha gaya hai kyonki unhone kabhi bhi de bhakton ka pradarshan mithya nahi kiya unhone kaha khud ko nahi kaha ki main dev hoon unhone sadhaaran manav hi kaha tha parshuram ke krodh karne par bhi aur kai saare jagaho par bhi lekin apne devatwa ka pradarshan unhone kai baar ramayana me kiya hai unhone jab samundra se jab vaah rasta mange 3 din tak bina ki yaad nahi mana toh unhone ko dand uthaakar use dand dene ki koshish ki vaah turant unke devatwa ko pehchaan kar unka sharanagat ho gaya jayant ne bhi unke unko sadhaaran insaan mana aur devi sita ke pair me chot maar anguthe me chot mara ram ne bina falk ka bhag chalaya vo teeno log bhagta sira lekin use kahin bhi chhod nahi mila ant me use ram ke hi sharan me aakar shanti mili toh yah ram ke devatao ke kuch chuninda udaharan hai anyatha ram ne kabhi bhi devatwa ka pradarshan nahi kiya isliye kaha jata hai ki vaah bina devatwa ke insaan the ab sawaal yah ki unhone vishnu ki kabhi puja ki thi toh bhaiya ram bina devatwa ke insaan the toh unki bhi shaadi hui thi ab jaan lo shaadi me ya kisi bhi bade function me bina punch devta ke puja ki punch devta me vishnu rudra vishnu rudra ganesh parvati gum yah aate hain vishnu usme bhi hain iske alava tridev shraddh ke avsar par bhi tridev ki bhi puja hoti hai saath hi saath ashwamedh yagya me bhi keh diya ki main bhi kisi bhi samay diya ke kya kisi bhi yagya me bhagwan vishnu ki puja kiye bina shuru hi nahi hota hai atah unhone yah sab udaharan hai unke vishnu puja ke

भगवान राम बिना किसी देवत्व के इंसान थे यह कहा गया है क्योंकि उन्होंने कभी भी दे भक्तों का

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  175
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!