जब रावण ने सीता को छुआ भी नहीं था तो रावण को एक बहुत ही क्रूर चरित्र के रूप में क्यों दिखाया गया?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

का वनडे सीतापुर में हुआ था हुआ था उसका कारण यह था कि सीता परम शक्ति दुर्गा का अवतार है इसलिए उसे छूना संभव हो सका लेकिन आप तीन प्रकार के होते हैं मानसिक वाचिक और मानसिक पाप है जब आपने किसी का अहित चिंतन किया है इसी के पूरी करने के लिए आप विचार बना रहे हो आप चिंतन भी कर रहे हो तो वह मानसिक पाप है बातचीत पाप पर है जब आप किसी को शराब दे रहे हो उसका अहित करने के लिए कह रहे हो उसके बाद उसका पूरा हो ऐसा कह रहे हो उसको गाली दे रहे हो उसका अपमान कर रहे हो तो यह बात है बाबा चुपचाप है और का एक बाप होता है जब किसी अपने शरीर के द्वारा आप किसी को हानि पहुंचा रहे हो किसी टाइप कर रहे हो किसी को बर्बाद करने का प्रयास कर रहे हो तो मैं आपका का एक पाप है क्योंकि रावण ने यह तीनों ही बात किए हैं रावण से सीता का अपहरण करने का उसने विचार बनाया यह मानसिक पाप से हरण करके लाया यह पाप और उसने सीता को अपनी संपत्ति रूप में स्वीकार करने के लिए कहा यूज़ का काय बातचीत और मानसिक प्रकार का अपराध है इसलिए रावण की अधोगति हुई थी रावण पाप का रूप माना जाता है रावण एक बुराई का रूप माना जाता है यही कारण है कि हम दशहरा पर सभी भारतीय बुराई पर भलाई की विजय के रूप में दशहरा क्यों मनाते हैं

ka oneday sitapur me hua tha hua tha uska karan yah tha ki sita param shakti durga ka avatar hai isliye use chhuna sambhav ho saka lekin aap teen prakar ke hote hain mansik vachik aur mansik paap hai jab aapne kisi ka ahit chintan kiya hai isi ke puri karne ke liye aap vichar bana rahe ho aap chintan bhi kar rahe ho toh vaah mansik paap hai batchit paap par hai jab aap kisi ko sharab de rahe ho uska ahit karne ke liye keh rahe ho uske baad uska pura ho aisa keh rahe ho usko gaali de rahe ho uska apman kar rahe ho toh yah baat hai baba chupchap hai aur ka ek baap hota hai jab kisi apne sharir ke dwara aap kisi ko hani pohcha rahe ho kisi type kar rahe ho kisi ko barbad karne ka prayas kar rahe ho toh main aapka ka ek paap hai kyonki ravan ne yah tatvo hi baat kiye hain ravan se sita ka apahran karne ka usne vichar banaya yah mansik paap se haran karke laya yah paap aur usne sita ko apni sampatti roop me sweekar karne ke liye kaha use ka kya batchit aur mansik prakar ka apradh hai isliye ravan ki adhogati hui thi ravan paap ka roop mana jata hai ravan ek burayi ka roop mana jata hai yahi karan hai ki hum dussehra par sabhi bharatiya burayi par bhalai ki vijay ke roop me dussehra kyon manate hain

का वनडे सीतापुर में हुआ था हुआ था उसका कारण यह था कि सीता परम शक्ति दुर्गा का अवतार है इसल

Romanized Version
Likes  353  Dislikes    views  5585
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!