गायों को हिंदू धर्म (सनातन धर्म) में पवित्र पशु क्यों माना जाता है?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:55

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गाय को हिंदू धर्म सनातन धर्म में पवित्र पशु क्यों माना जाता है लेकिन आपने लिखा है पवित्र पशु पशु शब्द ना कह कर हम गाय को मां गौ माता के क्योंकि जो भी होगा गाय को माता समझता गौमाता अगर बच्चा जो भी जन्म लेता है माता के दूध के बाद सिर्फ गाय का ही दूध उसके लिए उपयुक्त होता है और गाय के प्रत्येक अंग होते हैं चाहे पूछो चाहे मत रहो चाहे गोबर हो चाहे सिंह वो जो भी गाय के अंग है वह सब पृथ्वी के लिए इंसानों के लिए भलाई के ही काम करते हैं इस बहुत सारी दवाई बनती है यहां तक कि कैंसर की रोकथाम गोमूत्र के द्वारा की जाती है और पौराणिक मान्यताओं के अनुसार गाय माता के शरीर में एक-एक अंग में मिलाकर 33 करोड़ देवी देवताओं का वास और गरुड़ पुराण के अनुसार गाय की पूंछ जो है उसी को पकड़कर जो वैतरणी पार करती है जो भी आत्मा यहां से गुजरती है जो शरीर मर जाता है और वह स्वर्ग जब जाते हैं तो गाय की पूंछ पकड़कर को वैतरणी पार करते ऐसा करो अगर हम इन सब बातों को ना माने साइंटिफिक रीजन से कर देते हैं तो गाय में हम अपनी माता का रूप देखते हैं और उनके गोमूत्र रहे हो क्या गोबर हो उसका भरपूर उपयोग करते हैं और जो है वह किसी भी इंसान के लिए उत्तम कोटि का दूध होता है जिसमें कैलोरी भैंस के दूध से कम होती है और बाकी सब जो है पर जाते वह संपूर्ण आहार के रूप में गाय का दूध माना जाता है गाय को गौ माता की रक्षा करना और इसकी रक्षा करनी

gaay ko hindu dharm sanatan dharm mein pavitra pashu kyon mana jata hai lekin aapne likha hai pavitra pashu pashu shabd na keh kar hum gaay ko maa gau mata ke kyonki jo bhi hoga gaay ko mata samajhata gaumata agar baccha jo bhi janam leta hai mata ke doodh ke baad sirf gaay ka hi doodh uske liye upyukt hota hai aur gaay ke pratyek ang hote hai chahen pucho chahen mat raho chahen gobar ho chahen Singh vo jo bhi gaay ke ang hai vaah sab prithvi ke liye insano ke liye bhalai ke hi kaam karte hai is bahut saree dawai banti hai yahan tak ki cancer ki roktham gomutra ke dwara ki jaati hai aur pouranik manyataon ke anusaar gaay mata ke sharir mein ek ek ang mein milakar 33 crore devi devatao ka was aur garuda puran ke anusaar gaay ki puch jo hai usi ko pakadakar jo vaitarani par karti hai jo bhi aatma yahan se gujarati hai jo sharir mar jata hai aur vaah swarg jab jaate hai toh gaay ki puch pakadakar ko vaitarani par karte aisa karo agar hum in sab baaton ko na maane scientific reason se kar dete hai toh gaay mein hum apni mata ka roop dekhte hai aur unke gomutra rahe ho kya gobar ho uska bharpur upyog karte hai aur jo hai vaah kisi bhi insaan ke liye uttam koti ka doodh hota hai jisme calorie bhains ke doodh se kam hoti hai aur baki sab jo hai par jaate vaah sampurna aahaar ke roop mein gaay ka doodh mana jata hai gaay ko gau mata ki raksha karna aur iski raksha karni

गाय को हिंदू धर्म सनातन धर्म में पवित्र पशु क्यों माना जाता है लेकिन आपने लिखा है पवित्र प

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  1261
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
kyon mana jata hai ; भारतीय पौराणिक मान्यता के अनुसार वैतरणी या वैतरणा क्या या कौन है ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!