क्या यह सच है कि सैकड़ों वर्षों से हिमालय में रहने वाले (ध्यान करने वाले) लोग वाक़ई में हैं?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. [email protected]

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने कहा टाइट अच्छे की सैकड़ों वर्षों सीमा में रहने वाले लोग वाकई में है जो अपने आप को ध्यान में समर्पित कर चुके हैं और भगवान के शरण में विराजमान हो चुके हैं उनका इस लोक से कोई संबंध नहीं है उनकी आत्मिक रूप में शरीर भले ही उनका हिमालय में टक्कर रहा है लेकिन वह सिर्फ 1 वर्ष के रूप में आत्मा भगवान के चरणों में भगवान शिव के चरणों में संगठित हो चुकी है और यह सच है कि सैकड़ों वर्ष तपस्या करने वालों तपस्वी ऋषि मुनि आज भी भारत में हिमालय में विद्यमान ही उनका जीवन है लेकिन हां उनकी जीवन की तपस्या को भंग करने का अपराध कोई ना करें अन्यथा उन तपस्वी की तपस्या की भंग होने का क्या दुष्परिणाम हो सकता है कोई नहीं जानता मैं बार-बार कहता हूं कि जब धरती पर पाप बढ़ते हैं तो कोई अवतार लेता है ढिशूम अन्य पक्षियों में से ही कोई धरती पर अवतार ले चुका है

aapne kaha tight acche ki saikadon varshon seema me rehne waale log vaakai me hai jo apne aap ko dhyan me samarpit kar chuke hain aur bhagwan ke sharan me viraajamaan ho chuke hain unka is lok se koi sambandh nahi hai unki atmik roop me sharir bhale hi unka himalaya me takkar raha hai lekin vaah sirf 1 varsh ke roop me aatma bhagwan ke charno me bhagwan shiv ke charno me sangathit ho chuki hai aur yah sach hai ki saikadon varsh tapasya karne walon tapaswi rishi muni aaj bhi bharat me himalaya me vidyaman hi unka jeevan hai lekin haan unki jeevan ki tapasya ko bhang karne ka apradh koi na kare anyatha un tapaswi ki tapasya ki bhang hone ka kya dushparinaam ho sakta hai koi nahi jaanta main baar baar kahata hoon ki jab dharti par paap badhte hain toh koi avatar leta hai dhishum anya pakshiyo me se hi koi dharti par avatar le chuka hai

आपने कहा टाइट अच्छे की सैकड़ों वर्षों सीमा में रहने वाले लोग वाकई में है जो अपने आप को ध्य

Romanized Version
Likes  415  Dislikes    views  5391
KooApp_icon
WhatsApp_icon
17 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!