महाभारत के बाद क्या हुआ?...


user

Gyandeep Kkr

Social Activist

3:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महाभारत के बाद जब श्री कृष्ण जी को तीर लगा तो जब अर्जुन और उनके पास आए तो श्री कृष्ण दिन को सलाह दी कि आप हिमालय में तब करके कल जाना तो अर्जुन ने पूछा ऐसा भी क्यों तो उन्होंने बताया कि आपको पाप कर्म जो आपके ऊपर पाप कर्म अर्जुन ने पूछा कि मैं तो युद्ध से मना कर रहा था तब श्री कृष्ण जी ने बताया कि मुझे नहीं पता मैंने उस समय क्या कहा था परंतु यह काम कर लेना और पांडव हिमालय में गले और उसके बाद उनको नर्क में जाना पड़ा युद्ध में किए हुए पापों के कारण और युधिष्ठिर की को भी अपना फल भोगने के लिए कुछ समय क्योंकि उन्होंने कहा था सुदामा मारा गया झूठ बोला था कुछ समय नाक में जाना पड़ा था जब उनको अपने परिजनों की याद आई थी धोखे से उनको भी नर्क में वहां मिलवाया गया हूं तब धर्मराज इनकी ने कहा कि आप जब युधिष्ठिर जी ने कहा कि मुझे भी यहां रख लो तो उन्होंने कहा युक्ति बताता हूं कि आप अपने पूर्व इनके संकल्प कर दीजिए तो युधिष्ठिर ने ऐसा कि यूजीसी के पूर्व कर्मों से कुछ समय के लिए उन को स्वर्ग में स्थान मिला यानी कि परमानेंट स्वर्ग में पांडव नहीं गए महाभारत के बाद से हुआ यह एक शक्ति है काल से आप भ्रम के नाम से ही जानते होंगे जो कभी किसी के समक्ष नहीं आता जो व्यक्ति रहता है यानी कि वह वास्तव में है परंतु किसी के सामने नहीं आता ऐसा क्यों तुम किसकी भयंकर शक्ल है और यह जीवो को मारता और खाता है जहां देखो जन्म मृत्यु होती है यह बहुत हंसते हैं हमारी बुद्धि पर ऐसे पत्थर पड़े हुए कि हम जानने की कोशिश भी नहीं करते परंतु जब आप मृत्यु के बाद एक भयंकर सत्य से परिचित हो गए तब आपके हाथ कुछ नहीं लग सकता इसलिए समय रहते कार्य चांदी की पुस्तकों में भी जिक्र है हमारी बूटी पकड़ नहीं पाती मैं सोचा करती थी पहले ब्रह्मा विष्णु महेश के बारे में तो मुझे इतनी जानकारी नहीं थी क्रम में भागवत पुराण पढ़ने लगी तब श्री श्री कृष्ण मिश्रा डा हो गई एक दिन मैंने उसी भागवत पुराण में पड़ा कि इनसे ऊपर कोई और परमात्मा है या कोई और परमात्मा है उसमें लिखा हुआ था उसके बारे में तो इस तरह से आपका वहां गौर गया या नहीं गया यह तो आप जाने परंतु इनकी मृत्यु के बारे में भी संकेत है तो आप अब जैसे मैंने जाना आप भी ऐसे जान क्योंकि हमें जन्म मृत्यु से पीछा छुड़ाना चाहिए परमात्मा आपको संकेत किस तरह से दे रहा है आप समझिए अगर आपको यह ज्ञान पहुंच जाए जो मैं बताना चाहती हूं आप भी पुस्तक पढ़िए जान दूंगा यह आप अभी प्राप्त कर सकते हैं मैंने अपने प्रोफाइल के डिस्क्रिप्शन में लिंक दिया हुआ है वहां से डाउनलोड कर लीजिए

mahabharat ke baad jab shri krishna ji ko teer laga toh jab arjun aur unke paas aaye toh shri krishna din ko salah di ki aap himalaya me tab karke kal jana toh arjun ne poocha aisa bhi kyon toh unhone bataya ki aapko paap karm jo aapke upar paap karm arjun ne poocha ki main toh yudh se mana kar raha tha tab shri krishna ji ne bataya ki mujhe nahi pata maine us samay kya kaha tha parantu yah kaam kar lena aur pandav himalaya me gale aur uske baad unko nark me jana pada yudh me kiye hue paapon ke karan aur yudhishthir ki ko bhi apna fal bhogane ke liye kuch samay kyonki unhone kaha tha sudama mara gaya jhuth bola tha kuch samay nak me jana pada tha jab unko apne parijanon ki yaad I thi dhokhe se unko bhi nark me wahan milvaya gaya hoon tab Dharamraj inki ne kaha ki aap jab yudhishthir ji ne kaha ki mujhe bhi yahan rakh lo toh unhone kaha yukti batata hoon ki aap apne purv inke sankalp kar dijiye toh yudhishthir ne aisa ki ugc ke purv karmon se kuch samay ke liye un ko swarg me sthan mila yani ki permanent swarg me pandav nahi gaye mahabharat ke baad se hua yah ek shakti hai kaal se aap bharam ke naam se hi jante honge jo kabhi kisi ke samaksh nahi aata jo vyakti rehta hai yani ki vaah vaastav me hai parantu kisi ke saamne nahi aata aisa kyon tum kiski bhayankar shakl hai aur yah jeevo ko maarta aur khaata hai jaha dekho janam mrityu hoti hai yah bahut hansate hain hamari buddhi par aise patthar pade hue ki hum jaanne ki koshish bhi nahi karte parantu jab aap mrityu ke baad ek bhayankar satya se parichit ho gaye tab aapke hath kuch nahi lag sakta isliye samay rehte karya chaandi ki pustakon me bhi jikarr hai hamari buti pakad nahi pati main socha karti thi pehle brahma vishnu mahesh ke bare me toh mujhe itni jaankari nahi thi kram me bhagwat puran padhne lagi tab shri shri krishna mishra da ho gayi ek din maine usi bhagwat puran me pada ki inse upar koi aur paramatma hai ya koi aur paramatma hai usme likha hua tha uske bare me toh is tarah se aapka wahan gaur gaya ya nahi gaya yah toh aap jaane parantu inki mrityu ke bare me bhi sanket hai toh aap ab jaise maine jana aap bhi aise jaan kyonki hamein janam mrityu se picha chhudana chahiye paramatma aapko sanket kis tarah se de raha hai aap samjhiye agar aapko yah gyaan pohch jaaye jo main batana chahti hoon aap bhi pustak padhiye jaan dunga yah aap abhi prapt kar sakte hain maine apne profile ke description me link diya hua hai wahan se download kar lijiye

महाभारत के बाद जब श्री कृष्ण जी को तीर लगा तो जब अर्जुन और उनके पास आए तो श्री कृष्ण दिन क

Romanized Version
Likes  143  Dislikes    views  1386
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
kuch samay baad ; mahabharat ; के बाद क्या हुआ ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!