कृष्णा ने दुर्योधन को क्यों नहीं मारा?...


user

Gayatri Shukla

Social Worker Director Of Smt Educational Society

1:14
Play

Likes  66  Dislikes    views  1303
WhatsApp_icon
18 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सेक्स ब्लू मूवी कारकों को या कौरव पक्ष के किसी व्यक्ति को बीमार हो क्योंकि मैं तो पहले ही जाती थी मैं इसके प्रधान मीणा पप्पू का हमने जो कहा था उसके अनुसार समस्त कौरव सेना का नाश भगवान श्री कृष्ण के सुदर्शन चक्र नहीं किया था

sex blue movie kaarakon ko ya kaurav paksh ke kisi vyakti ko bimar ho kyonki main toh pehle hi jaati thi main iske pradhan meena pappu ka humne jo kaha tha uske anusaar samast kaurav sena ka naash bhagwan shri krishna ke sudarshan chakra nahi kiya tha

सेक्स ब्लू मूवी कारकों को या कौरव पक्ष के किसी व्यक्ति को बीमार हो क्योंकि मैं तो पहले ही

Romanized Version
Likes  318  Dislikes    views  4979
WhatsApp_icon
user

Bharti saxena

Special Educator And Behaviour Therapist

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कृष्णा ने दुर्योधन को क्यों नहीं मारा यह सवाल किया किसने मैं जब मैं जाऊंगी क्योंकि इसमें किसी को भी नहीं माना ऑफिस नहीं सब को मारा वह परम शक्ति है जो यह हमें समझाना चाहते थे कि अपने कर्मों का फल आपको मिलता है तो उन्होंने इसके माध्यम से में समझाया है कि जो जैसा करता है उसमें से करो उसका फल मिलता है तो तुझे दिल में जो किया उसका फल उसको मिला रहे हो ना होता क्या है अगर आप ही कर्म दुर्योधन के समान होंगे तो आपको वैसे ही कम मिलेगा उन्होंने तो किया भी है और नहीं

krishna ne duryodhan ko kyon nahi mara yah sawaal kiya kisne main jab main jaungi kyonki isme kisi ko bhi nahi mana office nahi sab ko mara vaah param shakti hai jo yah hamein samajhana chahte the ki apne karmon ka fal aapko milta hai toh unhone iske madhyam se me samjhaya hai ki jo jaisa karta hai usme se karo uska fal milta hai toh tujhe dil me jo kiya uska fal usko mila rahe ho na hota kya hai agar aap hi karm duryodhan ke saman honge toh aapko waise hi kam milega unhone toh kiya bhi hai aur nahi

कृष्णा ने दुर्योधन को क्यों नहीं मारा यह सवाल किया किसने मैं जब मैं जाऊंगी क्योंकि इसमें क

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  81
WhatsApp_icon
play
user

महेश दुबे

कवि साहित्यकार

0:19

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान श्री कृष्ण ने महाभारत का युद्ध आरंभ होने के पूर्व ही शस्त्र धारण न करने की प्रतिज्ञा ली थी उसी प्रतिज्ञा का पालन करते हुए उन्होंने दुर्योधन को नहीं मारा और वे चाहते थे महाभारत की युद्ध में दुर्योधन को मारने का श्रेय अर्जुन को प्राप्त हो

bhagwan shri krishna ne mahabharat ka yudh aarambh hone ke purv hi shastra dharan na karne ki pratigya li thi usi pratigya ka palan karte hue unhone duryodhan ko nahi mara aur ve chahte the mahabharat ki yudh mein duryodhan ko maarne ka shrey arjun ko prapt ho

भगवान श्री कृष्ण ने महाभारत का युद्ध आरंभ होने के पूर्व ही शस्त्र धारण न करने की प्रतिज्ञा

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  1310
WhatsApp_icon
user

Karan Janwa

Automobile Engineer

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब श्री कृष्ण ने गीता का संदेश दिया तो उन्हें अर्जुन श्री कृष्ण चंद उनकी मांग थी कि वह जितने प्रत्यक्ष रूप से भाग नहीं लेंगे तो नहीं किसी का वध करेंगे तो श्रीकृष्ण प्रतिज्ञा ले रखी थी जो युद्ध में प्रत्यक्ष रूप से भाग नहीं लेंगे इसलिए श्री कृष्ण ने शिव आरती का काम किया था और ब्रिटेन को भीम ने मारा था धन्यवाद

jab shri krishna ne geeta ka sandesh diya toh unhe arjun shri krishna chand unki maang thi ki vaah jitne pratyaksh roop se bhag nahi lenge toh nahi kisi ka vadh karenge toh shrikrishna pratigya le rakhi thi jo yudh mein pratyaksh roop se bhag nahi lenge isliye shri krishna ne shiv aarti ka kaam kiya tha aur britain ko bhim ne mara tha dhanyavad

जब श्री कृष्ण ने गीता का संदेश दिया तो उन्हें अर्जुन श्री कृष्ण चंद उनकी मांग थी कि वह जित

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  213
WhatsApp_icon
user

Dr. KRISHNA CHANDRA

Rehabilitation Psychologist

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कृष्ण भगवान श्री कृष्ण ने दुर्योधन को क्यों नहीं मारा जब महाभारत का युद्ध हो रहा था तो अर्जुन और दुर्योधन दोनों किसके पास गए थे और जब कृष्ण ने अर्जुन ने कृष्ण को मांगा तो उन्होंने कहा कि हम उस में हत्या नहीं उठाएंगे जब दुर्योधन ने कृष्ण की शादी सेना का मांग लिया था इसलिए उन्होंने आधार उठाने का भजन दिया था कि वह खाद्यान्न उठान जाए इसलिए महाभारत जितने उन्होंने लोगों को मरवाया है किसी को मारना नहीं है इस प्रक्रिया में दोहा श्री कृष्ण ने धर्म के साथ नीति को भी जोड़ा और राजनीति उधर नीति के अनुसार जो है उन्होंने कहा भारत में यह दुल्हन आया जिससे कि अर्जुन पांडव युद्ध में विजय लगे

krishna bhagwan shri krishna ne duryodhan ko kyon nahi mara jab mahabharat ka yudh ho raha tha toh arjun aur duryodhan dono kiske paas gaye the aur jab krishna ne arjun ne krishna ko manga toh unhone kaha ki hum us mein hatya nahi uthayenge jab duryodhan ne krishna ki shadi sena ka maang liya tha isliye unhone aadhaar uthane ka bhajan diya tha ki vaah khadyann uthan jaaye isliye mahabharat jitne unhone logo ko marwaya hai kisi ko marna nahi hai is prakriya mein doha shri krishna ne dharm ke saath niti ko bhi joda aur raajneeti udhar niti ke anusaar jo hai unhone kaha bharat mein yah dulhan aaya jisse ki arjun pandav yudh mein vijay lage

कृष्ण भगवान श्री कृष्ण ने दुर्योधन को क्यों नहीं मारा जब महाभारत का युद्ध हो रहा था तो अर्

Romanized Version
Likes  293  Dislikes    views  5885
WhatsApp_icon
user

Niraj Devani

PHILOSOPHER

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कृष्णा एक अवतार है वह ईश्वर है और दुर्योधन एक इंसान है ईश्वर सबको अच्छे को अच्छा और बुरे को बुरा फल देने के लिए दूसरों को निमित्त बनाता है वह खुद कुछ नहीं करते आप देखिए कि आप आसपास पूरे विश्व में कितनी घटनाएं घट रही है अच्छा भी हो रहा है बुरा भी हो रहा है लेकिन हर एक चीज में भगवान कोई आकर नहीं करता कुछ उसने सब बना के रखा है जो एक निश्चित वस्तु बना के रखी है यह इस वक्त इस दिन यह होने वाला है वह पहले से ही लिखा हुआ है सब तो उसको कोई टाल नहीं सकता और फिर यह अगर भगवान ने सब ही रचनाएं भगवान की और सब भगवान ने किया है तो फिर भगवान क्यों आएंगे यह सब करने के लिए उन्होंने अगर सोचा होता कि मुझे ही करना है तो वह करते लेकिन उनको नहीं करना था इसके पीछे भी भूत कारण होते हैं तो आप समझ गए होंगे कि जो करता है ऊपर वाला ही सब करता है लेकिन लिमिट दूसरों को बनाता है खुदा के कुछ नहीं करता

krishna ek avatar hai vaah ishwar hai aur duryodhan ek insaan hai ishwar sabko acche ko accha aur bure ko bura fal dene ke liye dusro ko nimitt banata hai vaah khud kuch nahi karte aap dekhiye ki aap aaspass poore vishwa mein kitni ghatnaye ghat rahi hai accha bhi ho raha hai bura bhi ho raha hai lekin har ek cheez mein bhagwan koi aakar nahi karta kuch usne sab bana ke rakha hai jo ek nishchit vastu bana ke rakhi hai yah is waqt is din yah hone vala hai vaah pehle se hi likha hua hai sab toh usko koi tal nahi sakta aur phir yah agar bhagwan ne sab hi rachnaye bhagwan ki aur sab bhagwan ne kiya hai toh phir bhagwan kyon aayenge yah sab karne ke liye unhone agar socha hota ki mujhe hi karna hai toh vaah karte lekin unko nahi karna tha iske peeche bhi bhoot karan hote hain toh aap samajh gaye honge ki jo karta hai upar vala hi sab karta hai lekin limit dusro ko banata hai khuda ke kuch nahi karta

कृष्णा एक अवतार है वह ईश्वर है और दुर्योधन एक इंसान है ईश्वर सबको अच्छे को अच्छा और बुरे क

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  423
WhatsApp_icon
user

Rasbihari Pandey

लेखन / कविता पाठ

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कृष्णा ने यह प्रण किया था कि वह दुर्योधन के रक्त से अपने बालों को स्नान कर आएगी उसके बाद बालों को बांधने की तू अपने प्रण को पूर्ण करने के लिए उसमें मारा नहीं हुआ चाहती तो उसके लिए दुर्योधन या किसी भी व्यक्ति को मार पाना असंभव बात नहीं थी क्योंकि वह एक यज्ञ कुंड से निकली हुई एक बहुत दैवीय शक्ति वाली नारी थी

krishna ne yah pran kiya tha ki vaah duryodhan ke rakt se apne balon ko snan kar aayegi uske baad balon ko bandhne ki tu apne pran ko purn karne ke liye usme mara nahi hua chahti toh uske liye duryodhan ya kisi bhi vyakti ko maar paana asambhav baat nahi thi kyonki vaah ek yagya kund se nikli hui ek bahut daiviye shakti wali nari thi

कृष्णा ने यह प्रण किया था कि वह दुर्योधन के रक्त से अपने बालों को स्नान कर आएगी उसके बाद

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  260
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्री कृष्ण महाभारत की लड़ाई से पहले ही यह संकल्प लिया था कि इस लड़ाई में मैं शस्त्र नहीं उठाऊंगा वैसे भी दुर्योधन के बाद का संकल्प भीम ने जब द्रोपदी को अपनी जान पर बैठने के लिए इशारा किया था दुर्योधन ने तभी भीम ने संकल्प लिया था कि दुर्योधन तुम्हारे इस जगह को मैं उठा लूंगा और तुम्हारा बंद नहीं करूंगा तो भीम ही संकल्पित है उस कार्य के लिए और श्रीकृष्ण ने तो शस्त्र उठाने का संकल्प ले रखा था धन्यवाद

shri krishna mahabharat ki ladai se pehle hi yah sankalp liya tha ki is ladai mein main shastra nahi uthaunga waise bhi duryodhan ke baad ka sankalp bhim ne jab draupadi ko apni jaan par baithne ke liye ishara kiya tha duryodhan ne tabhi bhim ne sankalp liya tha ki duryodhan tumhare is jagah ko main utha lunga aur tumhara band nahi karunga toh bhim hi sankalpit hai us karya ke liye aur shrikrishna ne toh shastra uthane ka sankalp le rakha tha dhanyavad

श्री कृष्ण महाभारत की लड़ाई से पहले ही यह संकल्प लिया था कि इस लड़ाई में मैं शस्त्र नहीं उ

Romanized Version
Likes  99  Dislikes    views  2007
WhatsApp_icon
user

Sandeep Sastri

Motivational Speaker

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी किसी भाई ने क्वेश्चन पूछा और उसका उत्तर देना मेरी मजबूरी है मैंने आज तक इस शब्द का इस्तेमाल नहीं किया था मैं आज कर रहा हूं विस्थापन ले कृष्ण की जो है व्यक्तिगत तौर पर किसी से बैर का सीन है कि वह जो है उसे चक्कर बारी है केशव है माधव है चक्रधारी हो उन्होंने ऐसी परिस्थितियां पैदा कर दी जिससे कि जो है दुर्योधन का वध भीम को करना पड़ा अब मैं क्या बताऊं आपको मैं खुद भी थोड़ा सा फंक्शन है कि आपको हो सकता है उत्तर समझ में भी ना आए इसलिए जो है मैं इस बात पर आपको थोड़ा सा भी कुछ अच्छा महसूस हुआ हूं मेरी आवाज सुनकर अब जो भी मुझे फॉलो कीजिए मैं हूं आपका अपना फर्नीचर

dekhi kisi bhai ne question poocha aur uska uttar dena meri majburi hai maine aaj tak is shabd ka istemal nahi kiya tha main aaj kar raha hoon visthapan le krishna ki jo hai vyaktigat taur par kisi se bair ka seen hai ki vaah jo hai use chakkar baari hai keshav hai madhav hai chakradhari ho unhone aisi paristhiyaann paida kar di jisse ki jo hai duryodhan ka vadh bhim ko karna pada ab main kya bataun aapko main khud bhi thoda sa function hai ki aapko ho sakta hai uttar samajh mein bhi na aaye isliye jo hai is baat par aapko thoda sa bhi kuch accha mehsus hua hoon meri awaaz sunkar ab jo bhi mujhe follow kijiye main hoon aapka apna furniture

देखी किसी भाई ने क्वेश्चन पूछा और उसका उत्तर देना मेरी मजबूरी है मैंने आज तक इस शब्द का इस

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  490
WhatsApp_icon
user

Dr. Sudha Chauhan

Author / Social Worker/Writer

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप का फैशन है वैष्णो दुर्योधन को क्यों नहीं मारा आपको ज्ञात होगा श्री कृष्ण ने महाभारत आरंभ होने की पहली यह बात स्पष्ट कर दी थी कि वह किसी भी तरह महाभारत युद्ध में हथियार नहीं उठाएंगे और दूसरी बात मैंने कसम खाई थी जब द्रोपती का चीर हरण हुआ था कि वह दुर्योधन की जंघा का लहू प्रशासन की छाती का लहू पिएगा श्री कृष्ण दुर्योधन को कैसे मार सकते थे हमें मालूम था की कसम पूरी तो भीम को करना है धन्यवाद दोस्तों

aap ka fashion hai vaishno duryodhan ko kyon nahi mara aapko gyaat hoga shri krishna ne mahabharat aarambh hone ki pehli yah baat spasht kar di thi ki vaah kisi bhi tarah mahabharat yudh mein hathiyar nahi uthayenge aur dusri baat maine kasam khai thi jab draupadi ka chir haran hua tha ki vaah duryodhan ki jangha ka lahoo prashasan ki chhati ka lahoo piega shri krishna duryodhan ko kaise maar sakte the hamein maloom tha ki kasam puri toh bhim ko karna hai dhanyavad doston

आप का फैशन है वैष्णो दुर्योधन को क्यों नहीं मारा आपको ज्ञात होगा श्री कृष्ण ने महाभारत आरं

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

2:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राम राम जी की लिखी आपका प्रश्न कृष्णा ने अर्जुन को क्यों नहीं मारा भगवान ने जब दुर्योधन और युधिष्ठिर दोनों कृष्ण की सहायता लेने के लिए गए तो कृष्ण भगवान सो रही थी इधर अर्जुन वगैरह कृष्ण भगवान की पैरों पर बैठ कर रो के पास बैठ गई और दुर्योधन की स्थिति के पास बैठ गया तो भगवान भी नहीं तो पहले वह उनको देखे युधिष्ठिर अर्जुन को देखते हैं और कहते हैं भाई कैसे आए क्या चाहिए तुम्हें तो लगता है मैं पहले आया था भगवान कहते हैं मैंने पहले पांडवों को देखा है लेकिन ठीक है तुम पहले तुम पहले आएगा तो पहले तुम्हें क्या चाहिए मांगो क्या मांगते हो अब्दुल धन कहता है कि मुझे आपकी सहायता चाहिए तो कृष्ण भगवान कहते हैं कि एक तरफ मैकडा रहूंगा और एक तरफ मेरी चना रहेगी अपन उसे कहते हैं तो मांगू पहली पांडव कहते हैं मुझे भगवान अरविंद कहते हैं मुझे आपका साथ चाहिए निशा सुराग चाहिए दुल्हन बॉक्स होता है और वह किस भगवान की नारायणी सेना को लेकर प्रसन्न हो जाता है क्योंकि भगवान ने हथियार ना उठाने का निर्णय लिया था युद्ध में निशा देने का निर्णय लिया था इसलिए बार इनकी सबकी का काम करते हैं और इसीलिए वह किसी भी पांडव पर आक्रमण नहीं करती भी कॉल नहीं करती हैं और अपनी कूटनीति से अपनी बुद्धि बल से पांडवों के द्वारा कौरवों को मरवाती

ram ram ji ki likhi aapka prashna krishna ne arjun ko kyon nahi mara bhagwan ne jab duryodhan aur yudhishthir dono krishna ki sahayta lene ke liye gaye toh krishna bhagwan so rahi thi idhar arjun vagera krishna bhagwan ki pairon par baith kar ro ke paas baith gayi aur duryodhan ki sthiti ke paas baith gaya toh bhagwan bhi nahi toh pehle vaah unko dekhe yudhishthir arjun ko dekhte hain aur kehte hain bhai kaise aaye kya chahiye tumhe toh lagta hai main pehle aaya tha bhagwan kehte hain maine pehle pandavon ko dekha hai lekin theek hai tum pehle tum pehle aayega toh pehle tumhe kya chahiye mango kya mangate ho abdul dhan kahata hai ki mujhe aapki sahayta chahiye toh krishna bhagwan kehte hain ki ek taraf maikda rahunga aur ek taraf meri chana rahegi apan use kehte hain toh maangu pehli pandav kehte hain mujhe bhagwan arvind kehte hain mujhe aapka saath chahiye nisha surag chahiye dulhan box hota hai aur vaah kis bhagwan ki narayani sena ko lekar prasann ho jata hai kyonki bhagwan ne hathiyar na uthane ka nirnay liya tha yudh me nisha dene ka nirnay liya tha isliye baar inki sabki ka kaam karte hain aur isliye vaah kisi bhi pandav par aakraman nahi karti bhi call nahi karti hain aur apni kootneeti se apni buddhi bal se pandavon ke dwara kauravon ko marvati

राम राम जी की लिखी आपका प्रश्न कृष्णा ने अर्जुन को क्यों नहीं मारा भगवान ने जब दुर्योधन और

Romanized Version
Likes  196  Dislikes    views  2277
WhatsApp_icon
user

Sumita Pal

Pharmacist

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वैष्णो दुर्योधन को क्यों नहीं मारा कृष्ण दुर्योधन इसलिए नहीं बाकी भीम ने प्रतिज्ञा ली गई थी दिलों गन्ने प्रतिज्ञा की थी दुर्योधन का वध वही करेंगे इसलिए कृष्ण ने दुर्योधन को नहीं मारा

vaishno duryodhan ko kyon nahi mara krishna duryodhan isliye nahi baki bhim ne pratigya li gayi thi dilon ganne pratigya ki thi duryodhan ka vadh wahi karenge isliye krishna ne duryodhan ko nahi mara

वैष्णो दुर्योधन को क्यों नहीं मारा कृष्ण दुर्योधन इसलिए नहीं बाकी भीम ने प्रतिज्ञा ली गई थ

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user
1:24
Play

Likes  78  Dislikes    views  1553
WhatsApp_icon
user
2:02
Play

Likes  27  Dislikes    views  442
WhatsApp_icon
user
0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार पैसा वाले कृष्णा ने निवेदन को क्यों नहीं मारा देखिए भगवान कृष्ण के भजन कोई से नहीं मारूंगी देगा को मारने में अंदर महागौरी भी नहीं पसंद थे और उन्हें प्रतिज्ञा भी की थी कि वह निवेदन को टांगे तोड़ेंगे घर जाएंगे तो लेंगे और उनको उनको मारेंगे इसलिए मैं भी करूंगा कि मैं जिस ने वचन दिया था कि वह यूज नहीं करेंगे घटा ही रहेंगे इनमें धन्यवाद

namaskar paisa waale krishna ne nivedan ko kyon nahi mara dekhiye bhagwan krishna ke bhajan koi se nahi marungi dega ko maarne mein andar mahagauri bhi nahi pasand the aur unhe pratigya bhi ki thi ki vaah nivedan ko tange todenge ghar jaenge toh lenge aur unko unko marenge isliye main bhi karunga ki main jis ne vachan diya tha ki vaah use nahi karenge ghata hi rahenge inmein dhanyavad

नमस्कार पैसा वाले कृष्णा ने निवेदन को क्यों नहीं मारा देखिए भगवान कृष्ण के भजन कोई से नहीं

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  178
WhatsApp_icon
user

Lokesh kesharwani

Psychologist & Philosopher (Life Coach), Counsellor Of Everything.

0:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि भगवान श्री कृष्ण महाभारत के युद्ध शुरू होने से पहले ही वस्त्र ना उठाने के लिए प्रतिबद्ध थे इसलिए उन्होंने त्यागपत्र नहीं उठाया धन्यवाद

kyonki bhagwan shri krishna mahabharat ke yudh shuru hone se pehle hi vastra na uthane ke liye pratibaddh the isliye unhone tyagpatra nahi uthaya dhanyavad

क्योंकि भगवान श्री कृष्ण महाभारत के युद्ध शुरू होने से पहले ही वस्त्र ना उठाने के लिए प्रत

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user
0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कृष्ण ने दुर्योधन को इसलिए नहीं मारा क्योंकि वह शपथ बदले रखी थी कि मैं उठा लूंगा जिसके कारण आया था

krishna ne duryodhan ko isliye nahi mara kyonki vaah shapath badle rakhi thi ki main utha lunga jiske karan aaya tha

कृष्ण ने दुर्योधन को इसलिए नहीं मारा क्योंकि वह शपथ बदले रखी थी कि मैं उठा लूंगा जिसके कार

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!