भारत के खजुराहो मंदिरों में इतनी कामुकता क्यों है?...


user

Dr Raj Kumar Kochar

Ayurvedic Doctors ( Researcher )

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिन राजा महाराजाओं ने खुजराहो का मंदिर का निर्माण किया था उन्होंने 84 कामकला स्वामी 8984 कामकला को चित्रित करने का काम किया इसलिए वहां पर ज्यादा कामुकता है क्योंकि वह मंदिर कामसूत्र से प्रेरित है

jin raja maharajaon ne khujraho ka mandir ka nirmaan kiya tha unhone 84 kamkala swami 8984 kamkala ko chitrit karne ka kaam kiya isliye wahan par zyada kamukata hai kyonki vaah mandir kamsutra se prerit hai

जिन राजा महाराजाओं ने खुजराहो का मंदिर का निर्माण किया था उन्होंने 84 कामकला स्वामी 8984 क

Romanized Version
Likes  404  Dislikes    views  4542
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खजुराहो का मंदिर दसवीं शताब्दी केंद्र बनाया गया है तब लोगों में कामुकता और सेक्स ज्ञान का चित्रण करने के लिए इस प्रकार की कामोद्दीपक चित्र खजुराहो में उस टाइम के कलाकारों ने बनाए थे जो कि लोगों को प्रेरणा देने के लिए सेना तूने कोई गंदी नजर से देखने वाली बात थी वह कलाकार की उस समय की भावना को प्रदर्शित करता है

khajuraho ka mandir dasavi shatabdi kendra banaya gaya hai tab logo mein kamukata aur sex gyaan ka chitran karne ke liye is prakar ki kamoddipak chitra khajuraho mein us time ke kalakaron ne banaye the jo ki logo ko prerna dene ke liye sena tune koi gandi nazar se dekhne wali baat thi vaah kalakar ki us samay ki bhavna ko pradarshit karta hai

खजुराहो का मंदिर दसवीं शताब्दी केंद्र बनाया गया है तब लोगों में कामुकता और सेक्स ज्ञान का

Romanized Version
Likes  153  Dislikes    views  2743
WhatsApp_icon
play
user

महेश दुबे

कवि साहित्यकार

0:43

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्राचीन काल से ही भारतीय संस्कृति में काम को कभी भी राम से अलग नहीं समझा गया यह सारी स्विफ्ट ही काम पर आधारित है काम को इस तरह से कोई अछूत विषय नहीं माना जाता काम भी जीवन का ही एक अंग है इसीलिए सनातन संस्कृति में धर्म अर्थ काम और मोक्ष चारों की कल्पना की गई है और उसी के लिए हर व्यक्ति प्रयत्नशील रहता है खजुराहो के मंदिरों में भी इसीलिए काम कला से संबंधित मूर्तियों का निर्माण किया गया है और काम का जीवन में क्या महत्व है दर्शाया गया है काम से भागकर कभी आप राम को नहीं पा सकते

prachin kaal se hi bharatiya sanskriti mein kaam ko kabhi bhi ram se alag nahi samjha gaya yah saree swift hi kaam par aadharit hai kaam ko is tarah se koi achut vishay nahi mana jata kaam bhi jeevan ka hi ek ang hai isliye sanatan sanskriti mein dharm arth kaam aur moksha charo ki kalpana ki gayi hai aur usi ke liye har vyakti prayatnashil rehta hai khajuraho ke mandiro mein bhi isliye kaam kala se sambandhit murtiyon ka nirmaan kiya gaya hai aur kaam ka jeevan mein kya mahatva hai darshaya gaya hai kaam se bhagkar kabhi aap ram ko nahi paa sakte

प्राचीन काल से ही भारतीय संस्कृति में काम को कभी भी राम से अलग नहीं समझा गया यह सारी स्विफ

Romanized Version
Likes  69  Dislikes    views  1213
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी आपका प्रश्न भारत की खजुराहो मंदिरों में इतनी कामुकता क्यों अच्छा है भारत की खजुराहो मंदिर में बहुत सी मूर्तियां ऐसी हैं जिनमें कामुकता कूट-कूट कर भरी हुई है नर नारी के तरह-तरह की संसद को को दिखाया गया है कि हिंदू धर्म में हमेशा पुरुषार्थ चतुष्टय की बाकी की धर्म के अनुसार धर्म अर्थ काम मोक्ष इन चारो का सेवन हमेशा व्यक्ति को करना चाहिए और इसी में सृष्टि का कल्याण है धर्म से तो आप परिचित हैं सभी धर्म करते हैं सभी धार्मिक कार्य करते हैं सभी धर्म में लगी रहती है लेकिन अर्थ भी सभी कमाते हैं मुक्त की शुभकामना रहती है लेकिन हमारे प्राचीन हिंदू शास्त्रों में पुरुषार्थ चतुष्टय होते हुए भी काम का काम को बहुत बुरा बताया गया है सभी ग्रंथों में काम को अक्षय बुरा बताया गया तरह से कहा गया है कि सुंदर युक्तियां जो जवानियां होती है वह नरक का मार्ग दिखाना इस तरह की उस समय इसकी अवधारणा हो गई थी इन दोनों को पढ़ पढ़ कर काम अध्यक्ष बहुत बुरी चीजें खजुराहो के मंदिरों में कामुकता का प्रदर्शन करके उस समय की राजाओं ने यह संदेश दिया काम जो है पुरुषार्थ कुत्ते की एक प्रमुख श्री है और काम से ही चेक से ही किसी चलती है अतः काम के महत्वपूर्ण हमें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए

vicky aapka prashna bharat ki khajuraho mandiro me itni kamukata kyon accha hai bharat ki khajuraho mandir me bahut si murtiya aisi hain jinmein kamukata kut kut kar bhari hui hai nar nari ke tarah tarah ki sansad ko ko dikhaya gaya hai ki hindu dharm me hamesha purusharth chatushtay ki baki ki dharm ke anusaar dharm arth kaam moksha in chaaro ka seven hamesha vyakti ko karna chahiye aur isi me shrishti ka kalyan hai dharm se toh aap parichit hain sabhi dharm karte hain sabhi dharmik karya karte hain sabhi dharm me lagi rehti hai lekin arth bhi sabhi kamate hain mukt ki shubhkamna rehti hai lekin hamare prachin hindu shastron me purusharth chatushtay hote hue bhi kaam ka kaam ko bahut bura bataya gaya hai sabhi granthon me kaam ko akshay bura bataya gaya tarah se kaha gaya hai ki sundar yuktiyan jo javaniyan hoti hai vaah narak ka marg dikhana is tarah ki us samay iski avdharna ho gayi thi in dono ko padh padh kar kaam adhyaksh bahut buri cheezen khajuraho ke mandiro me kamukata ka pradarshan karke us samay ki rajaon ne yah sandesh diya kaam jo hai purusharth kutte ki ek pramukh shri hai aur kaam se hi check se hi kisi chalti hai atah kaam ke mahatvapurna hamein najarandaj nahi karna chahiye

विकी आपका प्रश्न भारत की खजुराहो मंदिरों में इतनी कामुकता क्यों अच्छा है भारत की खजुराहो

Romanized Version
Likes  193  Dislikes    views  2757
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!