अगर भगवान राम बिना किसी देवत्व के इंसान थे, तो क्या उन्होंने कभी भगवान विष्णु की पूजा की थी?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

0:55
Play

Likes  557  Dislikes    views  12247
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Karan Janwa

Automobile Engineer

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो भगवान राम भगवान विष्णु के अवतार थे तो कुछ कर नहीं सकते हैं उन्होंने कहा है कि जो समुद्र में भगवान राम को रास्ता नहीं दिया तो उन्होंने शक्ति की पूजा की थी पूजा करने के बाद पवन सिंह को ही उन्होंने रामेश्वर का लिंग बनाया रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग बनाया था लेकिन शक्ति की पूजा और महादेव

jo bhagwan ram bhagwan vishnu ke avatar the toh kuch kar nahi sakte hain unhone kaha hai ki jo samudra mein bhagwan ram ko rasta nahi diya toh unhone shakti ki puja ki thi puja karne ke baad pawan Singh ko hi unhone rameshwar ka ling banaya rameshwaram jyotirling banaya tha lekin shakti ki puja aur mahadev

जो भगवान राम भगवान विष्णु के अवतार थे तो कुछ कर नहीं सकते हैं उन्होंने कहा है कि जो समुद्र

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  255
WhatsApp_icon
user

Siyaram Dubey

YouTuber/Spiritual Person/Thinker/Social-media Activist

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भगवान किसी भी अवतार में अपने आप को भगवान नहीं कहा है लोगों के द्वारा ऐसी धारणा है कि यह ईश्वर के समान है क्योंकि उसमें कुछ अलग तरीके की काम करने की क्षमता होती है लोगों को ऐसा लगता है कि भगवान है तो भगवान विष्णु के अवतार है श्री रामचंद्र जी इसलिए खुद अपने आप को कभी पूजा नहीं कर पाएंगे हां भगवान विष्णु भगवान शिव की पूजा आराधना जरूर किए हैं क्योंकि भगवान विष्णु के आराध्य देव भगवान शिव हैं और भगवान शिव के आराध्य देव भगवान विष्णु है

dekhiye bhagwan kisi bhi avatar mein apne aap ko bhagwan nahi kaha hai logo ke dwara aisi dharana hai ki yah ishwar ke saman hai kyonki usme kuch alag tarike ki kaam karne ki kshamta hoti hai logo ko aisa lagta hai ki bhagwan hai toh bhagwan vishnu ke avatar hai shri ramachandra ji isliye khud apne aap ko kabhi puja nahi kar payenge haan bhagwan vishnu bhagwan shiv ki puja aradhana zaroor kiye hain kyonki bhagwan vishnu ke aradhya dev bhagwan shiv hain aur bhagwan shiv ke aradhya dev bhagwan vishnu hai

देखिए भगवान किसी भी अवतार में अपने आप को भगवान नहीं कहा है लोगों के द्वारा ऐसी धारणा है कि

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
play
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:38

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एके भगवान राम ओम विष्णु के अवतार थे उन्होंने भगवान शिव की उपासना की रामेश्वरम की स्थापना की अश्वनी विश्नोई और ने देवर से उन्हीं के अवतार की मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम ने विष्णु भगवान की पूजा की कसम की पूजा की रानी की वस्तुओं में गीत

AK bhagwan ram om vishnu ke avatar the unhone bhagwan shiv ki upasana ki rameshwaram ki sthapna ki ashwani Vishnoi aur ne devar se unhi ke avatar ki maryada purushottam shri ram ne vishnu bhagwan ki puja ki kasam ki puja ki rani ki vastuon mein geet

एके भगवान राम ओम विष्णु के अवतार थे उन्होंने भगवान शिव की उपासना की रामेश्वरम की स्थापना क

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  1052
WhatsApp_icon
user

AmarDeep Mukul

मैं ब्लॉगर हूं और मेरी वाइफ ब्यूटीशियन है।

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान राम राम के अवतार का सबसे बड़ा यही खूबी है कि वह देव होते हुए भी कभी देवत्व का प्रदर्शन नहीं किया सबसे बड़ी खूबी उनकी यही है दे भक्तों का प्रदर्शन वह बस कुछ मौकों पर ही किया जैसे समुंद्र ने उनको साधारण इंसान मान के रास्ता देने से इनकार किया तो उन्होंने उसको सुखा देने के लिए ही तीर कमान उठा लिए तब वह डर कर भयभीत होकर उनको पहचान कर उनके शरण में आया देवराज इंद्र का पुत्र जयंत उनको साधारण इंसान समझकर उनकी परीक्षा लेने के लिए सीता जी के उंगली में चोट मारी तो राम ने बिना फलक वाला बान उसकी ओर चलाया और वह तीनों लोकों में भागता फिरा उसे कहीं भी शरण नहीं मिली अंत में उसे राम के शरण में आना पड़ा यह बताता है कि वह देव थे लेकिन उन्होंने कभी भी देवत्व का प्रदर्शन नहीं किया यही उस अवतार की खूबी थी और हां उन्होंने भगवान विष्णु की पूजा की थी जब अश्वमेध यज्ञ हुआ था तो उसमें भी उन्होंने विष्णु की पूजा की थी क्योंकि जब भी कोई बड़ा आयोजन है यज्ञ होता है उसमें त्रिदेव की पूजा होती थी

bhagwan ram ram ke avatar ka sabse bada yahi khoobi hai ki vaah dev hote hue bhi kabhi devatwa ka pradarshan nahi kiya sabse badi khoobi unki yahi hai de bhakton ka pradarshan vaah bus kuch maukon par hi kiya jaise samundra ne unko sadhaaran insaan maan ke rasta dene se inkar kiya toh unhone usko sukha dene ke liye hi teer kamaan utha liye tab vaah dar kar bhayabhit hokar unko pehchaan kar unke sharan me aaya devraj indra ka putra jayant unko sadhaaran insaan samajhkar unki pariksha lene ke liye sita ji ke ungli me chot mari toh ram ne bina falk vala Baan uski aur chalaya aur vaah tatvo lokon me bhagta fira use kahin bhi sharan nahi mili ant me use ram ke sharan me aana pada yah batata hai ki vaah dev the lekin unhone kabhi bhi devatwa ka pradarshan nahi kiya yahi us avatar ki khoobi thi aur haan unhone bhagwan vishnu ki puja ki thi jab ashwamedh yagya hua tha toh usme bhi unhone vishnu ki puja ki thi kyonki jab bhi koi bada aayojan hai yagya hota hai usme tridev ki puja hoti thi

भगवान राम राम के अवतार का सबसे बड़ा यही खूबी है कि वह देव होते हुए भी कभी देवत्व का प्रदर्

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  165
WhatsApp_icon
user
1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान श्री राम जय भगवान का ही अपराध थे और उन्होंने जो है दशरथ जी के यहां लिस्ट पुत्र के रूप में जन्म लिया था और उन्होंने उनके है और उनके जो है माता पिता के प्रति किए गए कार्यों के लिए जो है और संस्कार के लिए उन्होंने जो कुछ सब मानव जाति की सेवा के लिए जो देश के वीरों ने याद किया है क्या उनका स्मरण चंदा मरणम करते हैं और भगवान राम राम सत्य शर्मा और उनके द्वारा ही सृष्टि का निर्माण हुआ है यह प्रकृति सूर्य चंद्र आदि ओपन फार्म सकते हैं और उन से बढ़कर कोई नहीं है और बाकी जीवन का अपराध कृष्ण जी से उनकी भी आराधना ओपा स्तान करते हैं और उस माध्यम से अपन को प्राप्त करने का तरीका जी को तैयार साथियों पारसनाथ भगवान की भक्ति से वशीकरण से कर सकते हैं थैंक यू धन्यवाद

bhagwan shri ram jai bhagwan ka hi apradh the aur unhone jo hai dashrath ji ke yahan list putra ke roop me janam liya tha aur unhone unke hai aur unke jo hai mata pita ke prati kiye gaye karyo ke liye jo hai aur sanskar ke liye unhone jo kuch sab manav jati ki seva ke liye jo desh ke veero ne yaad kiya hai kya unka smaran chanda marnam karte hain aur bhagwan ram ram satya sharma aur unke dwara hi shrishti ka nirmaan hua hai yah prakriti surya chandra aadi open form sakte hain aur un se badhkar koi nahi hai aur baki jeevan ka apradh krishna ji se unki bhi aradhana opa stan karte hain aur us madhyam se apan ko prapt karne ka tarika ji ko taiyar sathiyo parasnath bhagwan ki bhakti se vashikaran se kar sakte hain thank you dhanyavad

भगवान श्री राम जय भगवान का ही अपराध थे और उन्होंने जो है दशरथ जी के यहां लिस्ट पुत्र के रू

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  326
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं भगवान राम अपने आप को भगवान नहीं मानते थे गलत कहा जाता है लेकिन वह भगवान ही थे और भगवान क्यों जलते राम-राम इसलिए कहना है कि आप जानते ही हो मर्यादा पुरुषोत्तम राम थे हमेशा धाम के मार्ग पर चलें वचन के अपने पूरे कि हमारा ध्यान मर्यादा पुरुषोत्तम थे रीडर उनको भगवान कहां गया उसको अवतारी का गाना लव स्टोरी गुरु विष्णु का अवतार माना गया और उसकी मां दुर्गे की पूजा करते थे ना कि विष्णु भगवान के विष्णु भगवान के अवतार थे

nahi bhagwan ram apne aap ko bhagwan nahi maante the galat kaha jata hai lekin vaah bhagwan hi the aur bhagwan kyon jalte ram ram isliye kehna hai ki aap jante hi ho maryada purushottam ram the hamesha dhaam ke marg par chalen vachan ke apne poore ki hamara dhyan maryada purushottam the reader unko bhagwan kahaan gaya usko AVTARI ka gaana love story guru vishnu ka avatar mana gaya aur uski maa durge ki puja karte the na ki vishnu bhagwan ke vishnu bhagwan ke avatar the

नहीं भगवान राम अपने आप को भगवान नहीं मानते थे गलत कहा जाता है लेकिन वह भगवान ही थे और भगवा

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  277
WhatsApp_icon
user

Kesharram

Teacher

2:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर भगवान राम बिना किसी देवताओं के इंसान को क्या उन्होंने भी भगवान की पूजा और सीबीआई अवतार राम अवतार था आपको पता है यह देवता ही है जिन्होंने क्योंकि विष्णु जी ने जो अवतार लिया था वह द्वापर में कृष्ण का और त्रेता में राम का अवतार लिया था दोस्तों जो जिस रूप में होते हैं वह अलग-अलग रूप में अपनी पहचान रखते हैं और उनका महत्व भी अलग अलग ही होता है तो दोस्तों जिस समय वह किशन अवतार लेकर के हिसाब से राम का अवतार लेकर के रावण का वध किया इसलिए दोस्तों अलग-अलग उनकी होते हुए भी आप की पूजा कर सकते हो राम क्यों करते हो अपनी दृष्टि से वह कार्य करते हैं लेकिन पूजा-अर्चना की जाती है तो मैं आपको बोल देता हूं कि यह संभव नहीं होता है क्योंकि धीरे धीरे धीरे धीरे जब इससे बने रहो और मैं संभाल लूंगा तब आपको पता चलेगा कि वास्तव में क्या चीज है लॉक करके पर्वती पर करती है मैं यह नहीं बोलता हूं तो हमको खेलने वाला है तो इसलिए दोस्तों श्रीहरि की पूजा भी भगवान राम की है यह बात नहीं है क्योंकि वह तो खुद ही थे तो अब आप की पूजा कर सकते हैं धन्यवाद दोस्तों

agar bhagwan ram bina kisi devatao ke insaan ko kya unhone bhi bhagwan ki puja aur cbi avatar ram avatar tha aapko pata hai yah devta hi hai jinhone kyonki vishnu ji ne jo avatar liya tha vaah dwapar mein krishna ka aur treta mein ram ka avatar liya tha doston jo jis roop mein hote hain vaah alag alag roop mein apni pehchaan rakhte hain aur unka mahatva bhi alag alag hi hota hai toh doston jis samay vaah kishan avatar lekar ke hisab se ram ka avatar lekar ke ravan ka vadh kiya isliye doston alag alag unki hote hue bhi aap ki puja kar sakte ho ram kyon karte ho apni drishti se vaah karya karte hain lekin puja archna ki jaati hai toh main aapko bol deta hoon ki yah sambhav nahi hota hai kyonki dhire dhire dhire dhire jab isse bane raho aur main sambhaal lunga tab aapko pata chalega ki vaastav mein kya cheez hai lock karke parvati par karti hai yah nahi bolta hoon toh hamko khelne vala hai toh isliye doston shrihari ki puja bhi bhagwan ram ki hai yah baat nahi hai kyonki vaah toh khud hi the toh ab aap ki puja kar sakte hain dhanyavad doston

अगर भगवान राम बिना किसी देवताओं के इंसान को क्या उन्होंने भी भगवान की पूजा और सीबीआई अवतार

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  290
WhatsApp_icon
user
0:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं कृष्ण भगवान विष्णु के अवतार थे

nahi krishna bhagwan vishnu ke avatar the

नहीं कृष्ण भगवान विष्णु के अवतार थे

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!