भगवद् गीता का सार क्या है?...


play
user

Karan Janwa

Automobile Engineer

1:43

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवत गीता बहुत ही पवित्र ग्रंथ है इस ग्रंथ के अंदर हमें अपनी जिंदगी के सारे सवालों के जवाब मिल जाते हैं तो गीता में कहा गया है कि क्या आत्मा अविनाशी अरे इसको चित्र निकाल सकते हैं और हमें किसी भी वस्तु का शौक नहीं करना चाहिए और मुंह से सुना होता है तो हमारे जितने भी दुख है इन सभी का कारण हमारा मुंह है और जीवन को समग्र रूप से जीने के लिए हमें योग की आवश्यकता होती है तो ध्यान योग और दो कर्म योग और प्रयोग सही आंसर की शक्ति कर सकते हैं और हमें कर्मों के बंधन से मुक्त होने के लिए निष्काम कर्म करना होता है कि निष्काम कर्म करने से में कर्मफल में आ सकती नहीं रहती तो फल की आसक्ति का त्याग करना ही निष्काम कर्म कला का है और जो सन्यासी होता है वह हमेशा सुख दुख में एक जैसा रहता है स्थिर बुद्धि वाला होता है इस रिपोर्ट दी स्थितप्रज्ञ ही सही जीवन जी सकता है इससे बुद्धि का अर्थ है अपने को सभी सुख दुख से विक्रमशिला सकती से खाना और इस सृष्टि में देवी और आश्चर्य दो तरह की शक्तियां होती है और हमें अपने जीवन में जितने भी बुर्के के बुरी में जा रहे हैं तो उनसे भी ऊपर उठकर अच्छाई की तरफ जाना चाहिए जो जितने भी नकारात्मक विचार है नेगेटिव फिल्म उन सब से ऊपर उठकर अच्छा की तरफ जाना है तभी हम स्थिति बन सकते हैं धन्यवाद यही पिता का नाम था

bhagwat geeta bahut hi pavitra granth hai is granth ke andar hamein apni zindagi ke saare sawalon ke jawab mil jaate hain toh geeta mein kaha gaya hai ki kya aatma avinashi are isko chitra nikaal sakte hain aur hamein kisi bhi vastu ka shauk nahi karna chahiye aur mooh se suna hota hai toh hamare jitne bhi dukh hai in sabhi ka karan hamara mooh hai aur jeevan ko samagra roop se jeene ke liye hamein yog ki avashyakta hoti hai toh dhyan yog aur do karm yog aur prayog sahi answer ki shakti kar sakte hain aur hamein karmon ke bandhan se mukt hone ke liye nishkam karm karna hota hai ki nishkam karm karne se mein karmfal mein aa sakti nahi rehti toh fal ki aasakti ka tyag karna hi nishkam karm kala ka hai aur jo sanyaasi hota hai vaah hamesha sukh dukh mein ek jaisa rehta hai sthir buddhi vala hota hai is report di sthitapragya hi sahi jeevan ji sakta hai isse buddhi ka arth hai apne ko sabhi sukh dukh se vikramashila sakti se khana aur is shrishti mein devi aur aashcharya do tarah ki shaktiyan hoti hai aur hamein apne jeevan mein jitne bhi Burke ke buri mein ja rahe hain toh unse bhi upar uthakar acchai ki taraf jana chahiye jo jitne bhi nakaratmak vichar hai Negative film un sab se upar uthakar accha ki taraf jana hai tabhi hum sthiti ban sakte hain dhanyavad yahi pita ka naam tha

भगवत गीता बहुत ही पवित्र ग्रंथ है इस ग्रंथ के अंदर हमें अपनी जिंदगी के सारे सवालों के जवाब

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  264
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!