भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया आपके कहे अनुसार कि भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण किया यह अपने आप में एक सवाल यह है क्योंकि इस दुनिया का यानी कि ब्रह्मांड का जो निर्माण हमारे ब्रह्मा जी ने किया था ब्रह्मा जी ने पूरे ब्रह्मांड का निर्माण किया था विश्व पृथ्वी को निर्माण में सहभागी थे विश्वकर्मा भगवान विश्वकर्मा जी इस पृथ्वी का निर्माण किया था पहले आग का गोला था सूर्य से अलग हुआ था और यहां पर सिर्फ अग्नि अग्नि थी और बहुत ही कहा जाता है कि बड़ी बरसात होने के कारण वह आग ठंडी हुई और समुद्र और पर्वत का निर्माण हुआ और सजीव सृष्टी धीमे-धीमे सबसे पहले सजीव सृष्टी अमीबा और उसके बाद धीमे-धीमे आदम हो रही आने के बाद मनुष्य की जाती इस पृथ्वी पर आई इसलिए कृष्ण थे वह द्वापर युग में पैदा हुए थे उसके पहले सत्यता और सतयुग के पहले हम पत्थर युग में थे इसलिए बहुत ही डिफरेंस वास ट्रेन से तालुका की एक योग बीतने के बाद द्वापर युग के मध्य में श्री कृष्ण भगवान ने जन्म लिया था तूने तो निर्माण किया नहीं था निर्माण तो उस समय ऑलरेडी हो चुका था कृष्ण भगवान ने तो यहां पर जो जो राक्षस व्यक्ति जो पृथ्वी पर बढ़ गई थी और उसको नष्ट करने के लिए उसका वध करने के लिए श्री कृष्ण भगवान ने जन्म लिया था और द्वारका नगरी को उन्होंने बताया था आप का तात्पर्य जो है इस दुनिया का निर्माण तो नहीं लेकिन द्वारका नगरी का निर्माण श्री कृष्ण भगवान ने किया मथुरा में उनका जन्म हुआ था और वहां से फिर उन्होंने अपनी बाल लीला है वहां पर की थी और फिर बाद में द्वारिका नगरी गुजरात में जो है वह उन्होंने बसाई थी यादों याने की अहीरों को जो गोपालक जड़ों को जोड़ते हैं उनके द्वारा यदुवंशी कहलाते हैं वह उन्होंने द्वारका बसाई थी इस पृथ्वी का निर्माण किया था लेकिन द्वारिका का निर्माण किया था आज भी जब उत्खनन की जाते हैं समुद्र में तो बहुत से प्रमाण मिले हैं कि द्वारिका के बहुत बड़े बड़े गेट द्वार और सभा मंडप को यह सब मिला है वह सब पुरानी द्वारका जो है वह समुद्र में समा गई और आजकल जो द्वारिका है वह फिर से बनाई गई द्वारिका है लेकिन श्री कृष्ण भगवान की द्वारिका नगरी कहलाती है और उन्होंने उसी का निर्माण किया था आपको यह माहिती अच्छी लगी होगी और आपको संतोष हुआ होगा धन्यवाद

bhagwan krishna ne is duniya ka nirmaan kyon kiya aapke kahe anusaar ki bhagwan krishna ne is duniya ka nirmaan kiya yah apne aap mein ek sawaal yah hai kyonki is duniya ka yani ki brahmaand ka jo nirmaan hamare brahma ji ne kiya tha brahma ji ne poore brahmaand ka nirmaan kiya tha vishwa prithvi ko nirmaan mein sahbhagi the vishvakarma bhagwan vishvakarma ji is prithvi ka nirmaan kiya tha pehle aag ka gola tha surya se alag hua tha aur yahan par sirf agni agni thi aur bahut hi kaha jata hai ki badi barsat hone ke karan vaah aag thandi hui aur samudra aur parvat ka nirmaan hua aur sajeev srishti dhime dhime sabse pehle sajeev srishti amoeba aur uske baad dhime dhime aadam ho rahi aane ke baad manushya ki jaati is prithvi par I isliye krishna the vaah dwapar yug mein paida hue the uske pehle satyata aur satayug ke pehle hum patthar yug mein the isliye bahut hi difference was train se Taluka ki ek yog beetane ke baad dwapar yug ke madhya mein shri krishna bhagwan ne janam liya tha tune toh nirmaan kiya nahi tha nirmaan toh us samay already ho chuka tha krishna bhagwan ne toh yahan par jo jo rakshas vyakti jo prithvi par badh gayi thi aur usko nasht karne ke liye uska vadh karne ke liye shri krishna bhagwan ne janam liya tha aur dwarka nagari ko unhone bataya tha aap ka tatparya jo hai is duniya ka nirmaan toh nahi lekin dwarka nagari ka nirmaan shri krishna bhagwan ne kiya mathura mein unka janam hua tha aur wahan se phir unhone apni baal leela hai wahan par ki thi aur phir baad mein dwarika nagari gujarat mein jo hai vaah unhone basai thi yaadon yane ki ahiron ko jo gopalak jadon ko jodte hain unke dwara yaduvanshi kahalate hain vaah unhone dwarka basai thi is prithvi ka nirmaan kiya tha lekin dwarika ka nirmaan kiya tha aaj bhi jab utkhanan ki jaate hain samudra mein toh bahut se pramaan mile hain ki dwarika ke bahut bade bade gate dwar aur sabha mandap ko yah sab mila hai vaah sab purani dwarka jo hai vaah samudra mein sama gayi aur aajkal jo dwarika hai vaah phir se banai gayi dwarika hai lekin shri krishna bhagwan ki dwarika nagari kahalati hai aur unhone usi ka nirmaan kiya tha aapko yah mahiti achi lagi hogi aur aapko santosh hua hoga dhanyavad

भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया आपके कहे अनुसार कि भगवान कृष्ण ने इस दुनिया

Romanized Version
Likes  70  Dislikes    views  1421
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!