भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया आपके कहे अनुसार कि भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण किया यह अपने आप में एक सवाल यह है क्योंकि इस दुनिया का यानी कि ब्रह्मांड का जो निर्माण हमारे ब्रह्मा जी ने किया था ब्रह्मा जी ने पूरे ब्रह्मांड का निर्माण किया था विश्व पृथ्वी को निर्माण में सहभागी थे विश्वकर्मा भगवान विश्वकर्मा जी इस पृथ्वी का निर्माण किया था पहले आग का गोला था सूर्य से अलग हुआ था और यहां पर सिर्फ अग्नि अग्नि थी और बहुत ही कहा जाता है कि बड़ी बरसात होने के कारण वह आग ठंडी हुई और समुद्र और पर्वत का निर्माण हुआ और सजीव सृष्टी धीमे-धीमे सबसे पहले सजीव सृष्टी अमीबा और उसके बाद धीमे-धीमे आदम हो रही आने के बाद मनुष्य की जाती इस पृथ्वी पर आई इसलिए कृष्ण थे वह द्वापर युग में पैदा हुए थे उसके पहले सत्यता और सतयुग के पहले हम पत्थर युग में थे इसलिए बहुत ही डिफरेंस वास ट्रेन से तालुका की एक योग बीतने के बाद द्वापर युग के मध्य में श्री कृष्ण भगवान ने जन्म लिया था तूने तो निर्माण किया नहीं था निर्माण तो उस समय ऑलरेडी हो चुका था कृष्ण भगवान ने तो यहां पर जो जो राक्षस व्यक्ति जो पृथ्वी पर बढ़ गई थी और उसको नष्ट करने के लिए उसका वध करने के लिए श्री कृष्ण भगवान ने जन्म लिया था और द्वारका नगरी को उन्होंने बताया था आप का तात्पर्य जो है इस दुनिया का निर्माण तो नहीं लेकिन द्वारका नगरी का निर्माण श्री कृष्ण भगवान ने किया मथुरा में उनका जन्म हुआ था और वहां से फिर उन्होंने अपनी बाल लीला है वहां पर की थी और फिर बाद में द्वारिका नगरी गुजरात में जो है वह उन्होंने बसाई थी यादों याने की अहीरों को जो गोपालक जड़ों को जोड़ते हैं उनके द्वारा यदुवंशी कहलाते हैं वह उन्होंने द्वारका बसाई थी इस पृथ्वी का निर्माण किया था लेकिन द्वारिका का निर्माण किया था आज भी जब उत्खनन की जाते हैं समुद्र में तो बहुत से प्रमाण मिले हैं कि द्वारिका के बहुत बड़े बड़े गेट द्वार और सभा मंडप को यह सब मिला है वह सब पुरानी द्वारका जो है वह समुद्र में समा गई और आजकल जो द्वारिका है वह फिर से बनाई गई द्वारिका है लेकिन श्री कृष्ण भगवान की द्वारिका नगरी कहलाती है और उन्होंने उसी का निर्माण किया था आपको यह माहिती अच्छी लगी होगी और आपको संतोष हुआ होगा धन्यवाद

bhagwan krishna ne is duniya ka nirmaan kyon kiya aapke kahe anusaar ki bhagwan krishna ne is duniya ka nirmaan kiya yah apne aap mein ek sawaal yah hai kyonki is duniya ka yani ki brahmaand ka jo nirmaan hamare brahma ji ne kiya tha brahma ji ne poore brahmaand ka nirmaan kiya tha vishwa prithvi ko nirmaan mein sahbhagi the vishvakarma bhagwan vishvakarma ji is prithvi ka nirmaan kiya tha pehle aag ka gola tha surya se alag hua tha aur yahan par sirf agni agni thi aur bahut hi kaha jata hai ki badi barsat hone ke karan vaah aag thandi hui aur samudra aur parvat ka nirmaan hua aur sajeev srishti dhime dhime sabse pehle sajeev srishti amoeba aur uske baad dhime dhime aadam ho rahi aane ke baad manushya ki jaati is prithvi par I isliye krishna the vaah dwapar yug mein paida hue the uske pehle satyata aur satayug ke pehle hum patthar yug mein the isliye bahut hi difference was train se Taluka ki ek yog beetane ke baad dwapar yug ke madhya mein shri krishna bhagwan ne janam liya tha tune toh nirmaan kiya nahi tha nirmaan toh us samay already ho chuka tha krishna bhagwan ne toh yahan par jo jo rakshas vyakti jo prithvi par badh gayi thi aur usko nasht karne ke liye uska vadh karne ke liye shri krishna bhagwan ne janam liya tha aur dwarka nagari ko unhone bataya tha aap ka tatparya jo hai is duniya ka nirmaan toh nahi lekin dwarka nagari ka nirmaan shri krishna bhagwan ne kiya mathura mein unka janam hua tha aur wahan se phir unhone apni baal leela hai wahan par ki thi aur phir baad mein dwarika nagari gujarat mein jo hai vaah unhone basai thi yaadon yane ki ahiron ko jo gopalak jadon ko jodte hain unke dwara yaduvanshi kahalate hain vaah unhone dwarka basai thi is prithvi ka nirmaan kiya tha lekin dwarika ka nirmaan kiya tha aaj bhi jab utkhanan ki jaate hain samudra mein toh bahut se pramaan mile hain ki dwarika ke bahut bade bade gate dwar aur sabha mandap ko yah sab mila hai vaah sab purani dwarka jo hai vaah samudra mein sama gayi aur aajkal jo dwarika hai vaah phir se banai gayi dwarika hai lekin shri krishna bhagwan ki dwarika nagari kahalati hai aur unhone usi ka nirmaan kiya tha aapko yah mahiti achi lagi hogi aur aapko santosh hua hoga dhanyavad

भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया आपके कहे अनुसार कि भगवान कृष्ण ने इस दुनिया

Romanized Version
Likes  70  Dislikes    views  1418
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

1:20

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान कृष्णा ने इस दुनिया का निर्माण किया इंसानों को बनाने के लिए निर्माण किया इंसान भी रहे और बहुत अलग अलग सारे 71415 27 ने ब्रह्मांड में पृथ्वी है उसमें सब लोग अलग-अलग रहे जिंदा रहे ओके सर कोई किसी का जीवन हो कि से कम रूचि हो सब कुछ हो चलता रहे चलता नहीं चलता रहे क्या उनको ब्लॉक निर्माण निर्माण करते हैं आपको भी एक थिंकिंग देश बचने की ताप निष्कासन कर लिया भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया आपने प्रश्न कर दिया मैंने जवाब नहीं दिया फिर आप सुनो के काफी लोग और दूसरे लोग सुनेंगे सबकी अपनी मर्जी है अपना-अपना थिंकिंग है सोचते अलग-अलग है आपने अच्छा सोचा अपने हिसाब से आंसर मैंने दे दिया आप सहमत भी हो कि नहीं पियोगे सबके ऊपर वाले निर्माण किया सही समझ रहे हो क्या कहना क्या कर रहे हो

bhagwan krishna ne is duniya ka nirmaan kiya insanon ko banaane ke liye nirmaan kiya insaan bhi rahe aur bahut alag alag saare 71415 27 ne brahmaand mein prithvi hai usmein sab log alag alag rahe zinda rahe ok sir koi kisi ka jeevan ho ki se kam ruchi ho sab kuch ho chalta rahe chalta nahi chalta rahe kya unko block nirmaan nirmaan karte hain aapko bhi ek thinking desh bachne ki taap nishkasan kar liya bhagwan krishna ne is duniya ka nirmaan kyon kiya aapne prashna kar diya maine jawab nahi diya phir aap suno ke kafi log aur dusre log sunenge sabki apni marji hai apna apna thinking hai sochte alag alag hai aapne accha socha apne hisab se answer maine de diya aap sahmat bhi ho ki nahi piyoge sabke upar waale nirmaan kiya sahi samajh rahe ho kya kehna kya kar rahe ho

भगवान कृष्णा ने इस दुनिया का निर्माण किया इंसानों को बनाने के लिए निर्माण किया इंसान भी रह

Romanized Version
Likes  325  Dislikes    views  4516
WhatsApp_icon
user

Shubham Saini

Software Engineer

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान कृष्ण इस दुनिया के निर्माण इसलिए किए हैं क्योंकि इस दुनिया की जनजाति से उन्हें बहुत प्यार है अपने इस निर्माण पर उन्हें 555 कर दें कि वह इस दुनिया का निर्माण किया क्या कि मानव जाति से उन्हें बहुत प्यार है

bhagwan krishna is duniya ke nirmaan isliye kiye hain kyonki is duniya ki janjaati se unhe bahut pyar hai apne is nirmaan par unhe 555 kar dein ki vaah is duniya ka nirmaan kiya kya ki manav jati se unhe bahut pyar hai

भगवान कृष्ण इस दुनिया के निर्माण इसलिए किए हैं क्योंकि इस दुनिया की जनजाति से उन्हें बहुत

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  615
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न भगवान कृष्ण इस दुनिया का निर्माण क्यों किया तो मैं आपको बता दूं कि पौराणिक कथाओं और शास्त्रों के अनुसार भगवान कृष्ण ने दुनिया का निर्माण किया था यह दुनिया निर्माण ब्रह्मा जी ने किया इस सृष्टि का निर्माण ब्रह्मा जी ने किया था विष्णु भगवान कृष्ण तो द्वापर में विष्णु भगवान के अवतार की थी और उनके दुनिया में आने का उद्देश धर्म की स्थापना करना और अधर्म का नाश करना था पापियों का संघार करना और दुष्टों की कार्य करना कि आपके प्रश्न का उत्तर

aapka prashna bhagwan krishna is duniya ka nirmaan kyon kiya toh main aapko bata doon ki pouranik kathao aur shastron ke anusaar bhagwan krishna ne duniya ka nirmaan kiya tha yah duniya nirmaan brahma ji ne kiya is shrishti ka nirmaan brahma ji ne kiya tha vishnu bhagwan krishna toh dwapar me vishnu bhagwan ke avatar ki thi aur unke duniya me aane ka uddesh dharm ki sthapna karna aur adharma ka naash karna tha papiyon ka sanghar karna aur dushton ki karya karna ki aapke prashna ka uttar

आपका प्रश्न भगवान कृष्ण इस दुनिया का निर्माण क्यों किया तो मैं आपको बता दूं कि पौराणिक कथा

Romanized Version
Likes  195  Dislikes    views  2228
WhatsApp_icon
user
1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय हो गीत आजा हो क्या तेरी पूजा किया करो कुछ और आतंकवाद पर मैं क्या करूं कुछ तो करेंगे ही ना मनुष्य का जो है इस संबंध में बताया गया है कि पाकिस्तान को कभी करूंगी बाद में बात करते हैं कि मनुष्य कर्म तो कुछ ना कुछ तो करेंगे अगर हम प्राणी है तो कहां से लेंगे और गर्म पानी है तो सांस लेंगे और वहां से तो साथ में शंकर भगवान हे भगवान लोगों के भले के लिए दूसरों के हित के लिए कार्य किया लोग अपने अधिकारियों की प्रकृति और मौसम विभाग रिमाइंड करवाओ किराए पर मकान संख्या कम होगी तो कृष्णा तेलुगू

jai ho geet aajad ho kya teri puja kiya karo kuch aur aatankwad par main kya karu kuch toh karenge hi na manushya ka jo hai is sambandh me bataya gaya hai ki pakistan ko kabhi karungi baad me baat karte hain ki manushya karm toh kuch na kuch toh karenge agar hum prani hai toh kaha se lenge aur garam paani hai toh saans lenge aur wahan se toh saath me shankar bhagwan hai bhagwan logo ke bhale ke liye dusro ke hit ke liye karya kiya log apne adhikaariyo ki prakriti aur mausam vibhag remind karwao kiraye par makan sankhya kam hogi toh krishna telugu

जय हो गीत आजा हो क्या तेरी पूजा किया करो कुछ और आतंकवाद पर मैं क्या करूं कुछ तो करेंगे ही

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  516
WhatsApp_icon
user

Er Jaisingh

Mathematics Solution, 1:00PM TO 2:00PM

3:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया आपका प्रश्न है मैं यह कहना चाहूंगा कि भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण नहीं किया इस दुनिया का निर्माण ब्रह्मांड ने किया प्रकृति ने किया प्रति सम्मान सम्मान यही सब कुछ किया नेटवर्क प्राकृतिक रूप से जो भी सब कुछ हुआ है प्राकृतिक रूप से हुआ है केवल पृथ्वी पर ही प्राणी जगत क्यों है अन्य ग्रहों पर क्यों नहीं है क्योंकि और संभव भी नहीं है मनुष्य कितना भी प्रयास कर ले प्राणी जगत को बसाना किसी भी ग्रह पर संभव भी नहीं हो सकता प्राकृतिक चीजें जो होती है प्रकृति ने जो बना दिया है वही रहेगा उसका संतुलन है पृथ्वी का घूमना ग्राम का घूमना सूर्य का घूमना तारों का गिरना उल्का पिंड गिरना यह नहीं है कि उल्कापिंड हमारी पृथ्वी पर ही गिरता है उल्कापिंड हो सकता है वह किसी दूसरे ग्रह पर गिरता हो देखा तो नहीं है कहीं भी गिर सकता है आकर्षण से गुरुत्वाकर्षण से कहीं पर भी गिर सकता है हमारी सेटेलाइट जो है जब वायुमंडल में भेजे जाते हैं तो कितनी स्पीड से भेजे जाते हैं कि वह गुरुत्वाकर्षण जहां जीरो हो जाता है उसको पार करके जिस स्थिति में वह पार करता है उसी स्थिति में वायुमंडल में सेटेलाइट घूमता रहता है तो कहने का मतलब यह है कि ब्रह्मांड में ब्रह्मा जी ने ब्रह्मा जी पैदा हुए पृथ्वी एक स्त्रीलिंग है सबसे पहले स्त्री पैदा हुई उसके बाद पुरुष पैदा हुआ ऐसी शिव आधा शरीर स्त्री का आधा पुरुष का शव उसके ब्रह्मांड ब्रह्मांड से ब्रह्माजी शिव और उसके बाद इस संसार पिक्चर मैत्री सृष्टि रची भगवान कृष्ण ने दुनिया को निर्माण नहीं किया है और भी कई अतिरेक है इसके बारे में कुछ कह नहीं सकते हैं लेकिन शक्ति क्या है सही क्या है झूठ क्या है कुछ ना कुछ तो सत्य है इसलिए बुद्धि और विवेक से सोच कर के जो भी शब्द है जो भी सर्च सच है वह अपनी बुद्धि से समझना चाहिए और आगे बढ़ना चाहिए धन्यवाद

bhagwan krishna ne is duniya ka nirmaan kyon kiya aapka prashna hai main yah kehna chahunga ki bhagwan krishna ne is duniya ka nirmaan nahi kiya is duniya ka nirmaan brahmaand ne kiya prakriti ne kiya prati sammaan sammaan yahi sab kuch kiya network prakirtik roop se jo bhi sab kuch hua hai prakirtik roop se hua hai keval prithvi par hi prani jagat kyon hai anya grahon par kyon nahi hai kyonki aur sambhav bhi nahi hai manushya kitna bhi prayas kar le prani jagat ko basana kisi bhi grah par sambhav bhi nahi ho sakta prakirtik cheezen jo hoti hai prakriti ne jo bana diya hai wahi rahega uska santulan hai prithvi ka ghumana gram ka ghumana surya ka ghumana taaron ka girna ulka pind girna yah nahi hai ki ulkapind hamari prithvi par hi girta hai ulkapind ho sakta hai vaah kisi dusre grah par girta ho dekha toh nahi hai kahin bhi gir sakta hai aakarshan se gurutvaakarshan se kahin par bhi gir sakta hai hamari satellite jo hai jab vayumandal mein bheje jaate hain toh kitni speed se bheje jaate hain ki vaah gurutvaakarshan jahan zero ho jata hai usko par karke jis sthiti mein vaah par karta hai usi sthiti mein vayumandal mein satellite ghoomta rehta hai toh kehne ka matlab yah hai ki brahmaand mein brahma ji ne brahma ji paida hue prithvi ek striling hai sabse pehle stree paida hui uske baad purush paida hua aisi shiv aadha sharir stree ka aadha purush ka shav uske brahmaand brahmaand se brahmaji shiv aur uske baad is sansar picture maitri shrishti rachi bhagwan krishna ne duniya ko nirmaan nahi kiya hai aur bhi kai atirek hai iske bare mein kuch keh nahi sakte hain lekin shakti kya hai sahi kya hai jhuth kya hai kuch na kuch toh satya hai isliye buddhi aur vivek se soch kar ke jo bhi shabd hai jo bhi search sach hai vaah apni buddhi se samajhna chahiye aur aage badhana chahiye dhanyavad

भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया आपका प्रश्न है मैं यह कहना चाहूंगा कि भगवा

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  822
WhatsApp_icon
user

Kesharram

Teacher

3:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया दोस्तों भगवान श्री कृष्ण ने पढ़ते हैं आज बार देश सभी देशों के साथ माली ने जिस समय नेहरु जी ने पंचशील सिद्धांत दिया था आप लोगों को पता भी होगा और उस पंचशील सिद्धांत का उद्देश्य क्या था और फिर वह इनमें गुटनिरपेक्ष किया है तो अगर हम इनकी बात करें और उसी हिसाब से श्रीकृष्ण ने नामक राक्षस का नरसंहार किया और वहां पर आपको पता है कि शक्तिशाली राज्य स्थापित किया और राज्य स्थापित करना मानो की सेवा करना कहलाता है आपको पता है कि धान की प्रजातियों की होगी वहां का राजा बहुत बड़ा होगा और दोस्तों फिर श्री कृष्ण का उद्देश्य था कि ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोग पर क्या है कि मनुष्य दें और अपना जीवन यापन करके और परलोक सिधार गए क्योंकि जो आए हैं उसको तो जाना ही है और इसमें दोस्तों श्रीकृष्ण ने दुनिया का निर्माण भी किया मैं आपको बता देना चाहता हूं कि आपको पता ही होगा शायद आपको नहीं पता होगा इस चीज का लेकिन बाद में दिल्ली के अंदर जो तनोट देवी उन्होंने दोस्तों 1000 बोलने जिसको बोलते हैं हम और वह वहां पर बरसाए गए थे तब उनको एक कॉपी फटने नहीं दिया आपको पता है इस गोले को कौन बनाते हैं डिजाइन बनाते उस गोले को विज्ञान के द्वारा कब बनाया जाता है दोस्तों यह आपने पहले भी एक वीडियो में सुना था कि ब्रह्मांड ब्रह्मांड है क्या पहले तो आप ब्रह्मांड का दिन कीजिए उसके बाद में आपको पता चलेगा कि वास्तव में जो सिद्धांत है वह अपने स्तर पर है और जो हमारे देवी देवता है और उन्होंने मनुष्य का जो निर्माण किया है और उनको अग्रसर की है प्रेरित की एयर कार्य के लिए वह अपनी जगह एक अलग है श्री कृष्ण ने दुनिया का निर्माण आपको ही पता होगा कि ऐसे नहीं किए उन्होंने कहा कि हां यह जो भी जीव जंतु है यहां पर वितरण करें अपना समय व्यतीत करें और उसके बाद में वह यहां इस संसार से परलोक गमन सिद्धार्थ जाए और उनका नामांकन कर सके कि वास्तव में इस संसार के अंदर जो भी आता है उसको कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है दुख सुख उसके जीवन में आते हैं और इस प्रकार से वह क्या है कि क्रियाकलाप करता रहेगा और यह मृत्युलोक चलता रहेगा तो दोस्तों हमारे द्वारा दी गई जानकारी चाहिए शेर और कमेंट करना जय हिंद दोस्तों

bhagwan krishna ne is duniya ka nirmaan kyon kiya doston bhagwan shri krishna ne padhte hain aaj baar desh sabhi deshon ke saath maali ne jis samay nehru ji ne Panchsheel siddhant diya tha aap logon ko pata bhi hoga aur us Panchsheel siddhant ka uddeshya kya tha aur phir vaah inmein gut nirpeksh kiya hai toh agar hum inki baat karen aur usi hisab se shrikrishna ne namak rakshas ka narasanhar kiya aur wahan par aapko pata hai ki shaktishali rajya sthapit kiya aur rajya sthapit karna maano ki seva karna kehlata hai aapko pata hai ki dhaan ki prajatiyo ki hogi wahan ka raja bahut bada hoga aur doston phir shri krishna ka uddeshya tha ki zyada se zyada sankhya mein log par kya hai ki manushya dein aur apna jeevan yaapan karke aur parlok sidhar gaye kyonki jo aaye hain usko toh jana hi hai aur isme doston shrikrishna ne duniya ka nirmaan bhi kiya main aapko bata dena chahta hoon ki aapko pata hi hoga shayad aapko nahi pata hoga is cheez ka lekin baad mein delhi ke andar jo tanot devi unhone doston 1000 bolne jisko bolte hain hum aur vaah wahan par barsaye gaye the tab unko ek copy fatne nahi diya aapko pata hai is gole ko kaun banate hain design banate us gole ko vigyan ke dwara kab banaya jata hai doston yah aapne pehle bhi ek video mein suna tha ki brahmaand brahmaand hai kya pehle toh aap brahmaand ka din kijiye uske baad mein aapko pata chalega ki vaastav mein jo siddhant hai vaah apne sthar par hai aur jo hamare devi devta hai aur unhone manushya ka jo nirmaan kiya hai aur unko agrasar ki hai prerit ki air karya ke liye vaah apni jagah ek alag hai shri krishna ne duniya ka nirmaan aapko hi pata hoga ki aise nahi kiye unhone kaha ki haan yah jo bhi jeev jantu hai yahan par vitaran karen apna samay vyatit karen aur uske baad mein vaah yahan is sansar se parlok gaman siddharth jaaye aur unka namankan kar sake ki vaastav mein is sansar ke andar jo bhi aata hai usko kathinaiyon ka samana karna padta hai dukh sukh uske jeevan mein aate hain aur is prakar se vaah kya hai ki kriyakalap karta rahega aur yah mrityulok chalta rahega toh doston hamare dwara di gayi jaankari chahiye sher aur comment karna jai hind doston

भगवान कृष्ण ने इस दुनिया का निर्माण क्यों किया दोस्तों भगवान श्री कृष्ण ने पढ़ते हैं आज बा

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  295
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!