कुछ भारतीयों द्वारा सबसे कुख्यात और पिछड़े अनुष्ठान क्या हैं?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:10

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुछ भारतीयों द्वारा सबसे ऊंचा और पिछड़े अनुष्ठान क्या है मतलब को भारतीय में अगर आपको हिंदू की बात कर रहे हैं तो उसमें जन्म विवाह और मृत्यु इन तीनों पर जो बिन जरूरी खर्चे और जो दुनिया को दिखा देने का एक शोमैनशिप तो चलती है वह थोड़ी खराब माना जाता है और ज्यादा लोगों को खिलाया जाता है और मरने के पश्चात जो प्रीतिभोज होता है जिसको तेरहवीं के दिन या 12वीं के दिन पढ़ते हैं तो वह भी थोड़ा गलत प्रिंस में लोग अब मानने लगे हैं क्योंकि मरने के बाद जो सिर्फ पांच ब्राह्मणों को ही लाकर और उन्हें अयोग्य दान दक्षिणा और कपड़े और सईया दानवेंद्रो करके हम वह कार्य को प्रीत भोजन का आयोजन अवश्य करते हैं लोग और उसने दिन जरूरी खर्चे होते हैं अनुष्ठान गलत होता है मुस्लिम संप्रदाय में भी 40 वा होता है 40 दिन की उनकी होती है और याद करते हैं और हर महीने जिसको कब्र में दफनाया गया अपने सजन को उसके पास हर महीना उस तारीख को जाकर वह वहां पर धूप अगरबत्ती याद करते हैं और कल्पना करते हैं कि हम वह आत्मा के पास हम बैठे हैं और उन से बनी मगर प्यार पूर्वक आंसू भी बात से और बात भी नहीं करते कहां तक हम गलत कहे कि गलत अनुष्ठान है इसी तरह और भी धर्मों में कुछ-कुछ अनुष्ठान होते हैं गलत लेकिन इस सब बातों के पीछे एक शुभ मकसद होता है कि इससे हमें अच्छा लगेगा औरों को भी अच्छा लगेगा और जो उस से रिलेटेड जो है लोग उनको भी आत्मा को अच्छा लगेगा धन्यवाद

kuch bharatiyon dwara sabse uncha aur pichade anushthan kya hai matlab ko bharatiya mein agar aapko hindu ki baat kar rahe hain toh usmein janam vivah aur mrityu in teenon par jo bin zaroori kharche aur jo duniya ko dikha dene ka ek shomainship toh chalti hai vaah thodi kharaab mana jata hai aur zyada logon ko khilaya jata hai aur marne ke pashchat jo pritibhoj hota hai jisko terahavin ke din ya vi ke din padhte hain toh vaah bhi thoda galat prince mein log ab manane lage hain kyonki marne ke baad jo sirf paanch brahmanon ko hi lakar aur unhe ayogya daan dakshina aur kapde aur saiya danvendro karke hum vaah karya ko prateet bhojan ka aayojan avashya karte hain log aur usne din zaroori kharche hote hain anushthan galat hota hai muslim sampraday mein bhi 40 va hota hai 40 din ki unki hoti hai aur yaad karte hain aur har mahine jisko kabr mein dafnaya gaya apne sajan ko uske paas har mahina us tarikh ko jaakar vaah wahan par dhoop agarbatti yaad karte hain aur kalpana karte hain ki hum vaah aatma ke paas hum baithe hain aur un se bani magar pyar purvak aansu bhi baat se aur baat bhi nahi karte kahaan tak hum galat kahe ki galat anushthan hai isi tarah aur bhi dharmon mein kuch kuch anushthan hote hain galat lekin is sab baaton ke peeche ek shubha maksad hota hai ki isse hamein accha lagega auron ko bhi accha lagega aur jo us se related jo hai log unko bhi aatma ko accha lagega dhanyavad

कुछ भारतीयों द्वारा सबसे ऊंचा और पिछड़े अनुष्ठान क्या है मतलब को भारतीय में अगर आपको हिंद

Romanized Version
Likes  72  Dislikes    views  1414
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!