नारद मुनि हिंदू पौराणिक कथाओं में सबसे आकर्षक पात्रों में से एक है। क्या आप हमें हिंदू पौराणिक कथाओं से नारद मुनि की कुछ दिलचस्प कहानियां बता सकते हैं?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

3:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नारद मुनि जी ब्रह्म ऋषि और उनको मन की गति से चलने का वरदान भगवान नारायण के द्वारा प्राप्त है लेकिन उनको एक के शराब भी है कि बेटे किसान तो कभी क्लिक करके नहीं रह सकते हैं क्योंकि एक स्थान पर टिक करके रह जाएंगे तो फिर इस प्रकार से हरी नाम की चर्चा नहीं होगी दूसरा भी कितनी लड़ाइयां करा देंगे क्योंकि नारदजी टककारी था देव कार्य करना और राक्षसों का विनाश करवाना लेकिन एक के बाद दूसरे को दूसरे के बाद तीसरे को इस प्रकार भी कहते हुए भ्रमण करते हैं नारद जी को एक बार अभिमान हो गया कि मुझसे बड़ा इस संसार में नारायण का कोई बात नहीं है और मैं संसार का सबसे ब्रहमचारी हूं मेरे समान कोई भी ब्रह्मचर्य का पालन नहीं कर सकता है भगवान श्रीहरि नहीं यह जान लिया मेरे भक्तों को बहुत बड़ा अभिमान हो गया है उन्होंने क्या किया कि एक सुंदर स्त्री का रूप धारण किया यह योग माया को सुंदर स्त्री का रूप धारण करवाया और वह अपने महल के ऊपर अपने बाल सुखाने लगे नारे जी ऊपर छोड़ कर के जा रहे थे तो उस लड़की के सौंदर्य को देखकर के नारद जी का मन मोहित हो गया और वे भूल गए कि मैं ब्रह्म ऋषि हूं मियां में ब्रह्मचर्य का पालन करने वाला हूं और मैं उस लड़की के समुचित से और कहा कि ही सुंदरी मैं तुम से विवाह करना चाहता हूं तो उसने कहा कि परसों मेरा नंबर है आप सब कुछ में पधारी है और मैं निश्चित रूप से आप और योग्य होंगे तो मैं आपको बरन कर लूंगी इस प्रकार से उसके सौंदर्य से मुक्त मोहित होकर के नारद जी वापिस आए और उन्होंने भगवान विष्णु का स्मरण किया या विष्णु जी का अपमान किया भगवान विष्णु से कहा कि एगो श्रीहरि मुझे कुछ दिनों के लिए आप का रूप दे दो उस श्रीहरि ने कहा तथास्तु अब नारदजी को हरि भगवान नारायण जी ने हरि का रूप दे दिया हर एक बंदर को भी कहते हैं हरिश्चंद्र को भी कहते हैं उनको भी कहते हैं और बंदर का रूप दे दिया अब नारदजी बंदर के रूप को लेकर क्यों उस नंबर पर चले गए वहां समस्त राजाओं नहीं तो अंदर को देखा तो फिर सवारने लगे उधर वह राजकुमारी बी आई जो लक्ष्मी जी का रूप थी और उसने भी नाराज जी को देखा बंदर रूप में तो वह भी हंस करके निकल गई रिचा करके उसने भगवान विष्णु के गले में वरमाला पहना दी इस बात से नाराज जी बहुत क्रोधित हुए उन्होंने कहा कि हृदय नारायण तुमने जिस तरह से मेरा मजाक उड़ाया है देश शराब देता तुम भी एक स्त्री के वियोग में किसी प्रकार तड़पाओगे जब भगवान विष्णु ने कहा हंसते हुए नाराज तुमको तुमने एक बात बताता हूं कि जैसे एक मां भोजन बना रही है चूल्हे पर और उसका छोटा सा मुन्ना बालक को साग में हाथ दे रहा है तो मां क्या करेगी कि मां अपना हाथ जला लेगी लेकिन बालक के हाथ को जलने नहीं देगी फिर ठीक इसी प्रकार मैंने किया तो मारे ब्रह्मचर्य व्रत टूटता है इसलिए मैंने तुमको यह रूप दिया था तब नारदजी को बड़ा दुख हुआ और नारद जी ने भगवान विष्णु के चरण पकड़ लिया कहां की गोविंद निरंतर आप तो दे दिया है लेकिन यही बंदर रूप तुम्हारे काम आएगा और श्री राम के जन्म के समय में इसी बंदर रूप में भगवान की सहायता की थी

narad muni ji Brahma rishi aur unko man ki gati se chalne ka vardaan bhagwan narayan ke dwara prapt hai lekin unko ek ke sharab bhi hai ki bete kisan toh kabhi click karke nahi reh sakte hain kyonki ek sthan par tick karke reh jaenge toh phir is prakar se hari naam ki charcha nahi hogi doosra bhi kitni ladaiyan kara denge kyonki naradji takkari tha dev karya karna aur rakshason ka vinash karwana lekin ek ke baad dusre ko dusre ke baad teesre ko is prakar bhi kehte hue bhraman karte hain narad ji ko ek baar abhimaan ho gaya ki mujhse bada is sansar me narayan ka koi baat nahi hai aur main sansar ka sabse brahamchari hoon mere saman koi bhi brahmacharya ka palan nahi kar sakta hai bhagwan shrihari nahi yah jaan liya mere bhakton ko bahut bada abhimaan ho gaya hai unhone kya kiya ki ek sundar stree ka roop dharan kiya yah yog maya ko sundar stree ka roop dharan karvaya aur vaah apne mahal ke upar apne baal sukhane lage nare ji upar chhod kar ke ja rahe the toh us ladki ke saundarya ko dekhkar ke narad ji ka man mohit ho gaya aur ve bhool gaye ki main Brahma rishi hoon miyan me brahmacharya ka palan karne vala hoon aur main us ladki ke samuchit se aur kaha ki hi sundari main tum se vivah karna chahta hoon toh usne kaha ki parso mera number hai aap sab kuch me padhari hai aur main nishchit roop se aap aur yogya honge toh main aapko baran kar lungi is prakar se uske saundarya se mukt mohit hokar ke narad ji vaapas aaye aur unhone bhagwan vishnu ka smaran kiya ya vishnu ji ka apman kiya bhagwan vishnu se kaha ki ego shrihari mujhe kuch dino ke liye aap ka roop de do us shrihari ne kaha tathastu ab naradji ko hari bhagwan narayan ji ne hari ka roop de diya har ek bandar ko bhi kehte hain harishchandra ko bhi kehte hain unko bhi kehte hain aur bandar ka roop de diya ab naradji bandar ke roop ko lekar kyon us number par chale gaye wahan samast rajaon nahi toh andar ko dekha toh phir savarane lage udhar vaah rajkumari be I jo laxmi ji ka roop thi aur usne bhi naaraj ji ko dekha bandar roop me toh vaah bhi hans karke nikal gayi richa karke usne bhagwan vishnu ke gale me varmala pehna di is baat se naaraj ji bahut krodhit hue unhone kaha ki hriday narayan tumne jis tarah se mera mazak udaya hai desh sharab deta tum bhi ek stree ke viyog me kisi prakar tadapaoge jab bhagwan vishnu ne kaha hansate hue naaraj tumko tumne ek baat batata hoon ki jaise ek maa bhojan bana rahi hai choolhe par aur uska chota sa munna balak ko saag me hath de raha hai toh maa kya karegi ki maa apna hath jala legi lekin balak ke hath ko jalne nahi degi phir theek isi prakar maine kiya toh maare brahmacharya vrat tootata hai isliye maine tumko yah roop diya tha tab naradji ko bada dukh hua aur narad ji ne bhagwan vishnu ke charan pakad liya kaha ki govind nirantar aap toh de diya hai lekin yahi bandar roop tumhare kaam aayega aur shri ram ke janam ke samay me isi bandar roop me bhagwan ki sahayta ki thi

नारद मुनि जी ब्रह्म ऋषि और उनको मन की गति से चलने का वरदान भगवान नारायण के द्वारा प्राप्त

Romanized Version
Likes  510  Dislikes    views  6645
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
narad muni ki mala ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!