इंसान पूजा क्यों करता है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

3:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रपोज करना कोई गुनाह नहीं करनी चाहिए यह ईश्वर को अभागन के विभिन्न साधन है विभिन्न माध्यम अब आप ही कहेंगे ना मानने वाले मस्जिद में जाकर की नमाज पढ़ते हैं तो भी क्या गुनाह करके आप का मैटर को याद करने का और कोई सा कारवादी है कोई मंदिर में जाकर ईश्वर पूजन करता है आराधन करता है वंदन करता है नमन करता है तो वह क्या गलत है कोई गिरजा करने जा करके बहुत के सामने राजन करता है उनका पूरा मैटर क्योंकि हम भारतीय संविधान सभी धर्मावलंबियों का देता है एक दूसरे के धर्म को बुरा ना कि तू ही एक दूसरे के धर्म को भी अपने धर्म के समान सम्मान सम्मान देते हुए सभा के साथ अपने धर्म के अनुसार आराधन कर सकते हैं तू अपने अपने विश्वास होते हैं अपने अपने विचार होते हैं लेकिन हम भारतीयों में एक बहुत बड़ी कमी है कि हम इतने धार्मिक आस्था एवं एक दूसरे के धर्म को बुरा कहते हैं गलत कहते हैं अपशब्द कहते हैं और सिर्फ जिस धर्म को मानते हैं उसी धर्म को हमसे कहते हैं हमारी धार्मिक असहिष्णुता है यह धार्मिक अमरिक कटता है यह हमारी अशिक्षा है हमारी अज्ञानता है कि हमारी मूर्खता हमारी अरब्रिट पर क्वेश्चन मार्क हमारी क्वालिफिकेशन पर क्वेश्चन मार्क है क्योंकि हर समझदार व्यक्ति दूसरों को भी उतनी इज्जत देता है जितनी अपने लिए जो चाहता है इसलिए किसी दूसरे की आराधना पद्धति पर हमको उंगली उठाने का कोई अर्थ नहीं होता है हमें ठीक है हम अपने में हम ईश्वर का पूजन करते हैं लेकिन दूसरों को ऑफ करना दूसरों की भावनाओं को चोट पहुंचाना दूसरों पर लांछन लगाना दूसरों पर आरोप लगाना सबसे बड़ा गुनाह है आदमी को दूसरों का भी इज्जत करनी चाहिए दूसरों का भी सम्मान करना चाहिए दूसरों की भावनाओं की कद्र करनी चाहिए वह सबसे अच्छा आदमी है पहली फाइट जीनियस है ब्यूटीफुल है और मैं उसे जेंटल प्रसन्न कर सकता हूं जो दूसरों की भावनाओं को फिर बताएं जो दूसरों की भावनाओं में दोस्त निकालता है बस्ती में चाहे वह सपा पास लिख दिया पीएचडी की हो चाय पी ली क्यों क्या कितनी बड़ी उच्च पद पर काम करता हूं मैं उससे नथिंग मानता हूं वह पार्टी लेट्स है वह एबिलिटी लेस कॉलेज के जलजले है क्योंकि दूसरों को दूसरों को सम्मान देना चाहिए सबके अपने अपने अलग विचार होते हैं इसका मतलब यह नहीं कि मेरे विचार ही मात्र सत्य संसार में और के भी विचार सकते हैं और भी उनके मेथड है उनको भी सकते हैं सभी को सम्मान देना हमारा फर्ज है कर्तव्य है पर यही हमारी कॉल भी संस्कृति है यही हमारा नंबर समझाता है

propose karna koi gunah nahi karni chahiye yah ishwar ko abhagan ke vibhinn sadhan hai vibhinn madhyam ab aap hi kahenge na manne waale masjid mein jaakar ki namaz padhte hain toh bhi kya gunah karke aap ka matter ko yaad karne ka aur koi sa karvadi hai koi mandir mein jaakar ishwar pujan karta hai aradhan karta hai vandan karta hai naman karta hai toh vaah kya galat hai koi giraja karne ja karke bahut ke saamne rajan karta hai unka pura matter kyonki hum bharatiya samvidhan sabhi dharmavalambiyon ka deta hai ek dusre ke dharm ko bura na ki tu hi ek dusre ke dharm ko bhi apne dharm ke saman sammaan sammaan dete hue sabha ke saath apne dharm ke anusaar aradhan kar sakte hain tu apne apne vishwas hote hain apne apne vichar hote hain lekin hum bharatiyon mein ek bahut badi kami hai ki hum itne dharmik astha evam ek dusre ke dharm ko bura kehte hain galat kehte hain apashabd kehte hain aur sirf jis dharm ko maante hain usi dharm ko humse kehte hain hamari dharmik asahishnuta hai yah dharmik amarik katata hai yah hamari asiksha hai hamari agyanata hai ki hamari murkhta hamari arabrit par question mark hamari qualification par question mark hai kyonki har samajhdar vyakti dusro ko bhi utani izzat deta hai jitni apne liye jo chahta hai isliye kisi dusre ki aradhana paddhatee par hamko ungli uthane ka koi arth nahi hota hai hamein theek hai hum apne mein hum ishwar ka pujan karte hain lekin dusro ko of karna dusro ki bhavnao ko chot pahunchana dusro par lanchan lagana dusro par aarop lagana sabse bada gunah hai aadmi ko dusro ka bhi izzat karni chahiye dusro ka bhi sammaan karna chahiye dusro ki bhavnao ki kadra karni chahiye vaah sabse accha aadmi hai pehli fight genius hai beautiful hai aur main use Gentle prasann kar sakta hoon jo dusro ki bhavnao ko phir bataye jo dusro ki bhavnao mein dost nikalata hai basti mein chahen vaah sapa paas likh diya phd ki ho chai p li kyon kya kitni badi ucch pad par kaam karta hoon main usse nothing manata hoon vaah party lets hai vaah ability less college ke jaljale hai kyonki dusro ko dusro ko sammaan dena chahiye sabke apne apne alag vichar hote hain iska matlab yah nahi ki mere vichar hi matra satya sansar mein aur ke bhi vichar sakte hain aur bhi unke method hai unko bhi sakte hain sabhi ko sammaan dena hamara farz hai kartavya hai par yahi hamari call bhi sanskriti hai yahi hamara number samajhaata hai

प्रपोज करना कोई गुनाह नहीं करनी चाहिए यह ईश्वर को अभागन के विभिन्न साधन है विभिन्न माध्यम

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  1163
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!