क्या 'वन नेशन, वन लैंग्वेज', जैसा कि गृह मंत्री अमित शाह ने हिंदी दिवस पर किया था, क्या वास्तव में भारत में काम होता है इसका फायदा और नुकसान क्या होगा?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वन नेशन वन लैंग्वेज जैसा के गृह मंत्री श्री अमित शाह ने हिंदी दिवस पर किया था क्या वास्तव में भारत में काम होता है इसका फायदा क्या होगा अभी हिंदी दिवस पर उन्होंने ऐसा एक विचार देश के सामने रखा था कि हिंदी को वन नेशन वन लैंग्वेज के तहत शिकार किया था लेकिन दक्षिण के कुछ राज्यों से उसका उस विचार का विरोध हुआ था कि हमारे ऊपर हिंदी फुकिंग ऐसा लगता है कि जब तक पूरे देश के सभी राज्यों के राजनेताओं को जब तक यह स्वीकार्य नहीं होगा तब तक वन नेशन वन लैंग्वेज का विचार है सरकार को पास होना मुश्किल होगा अभी हिंदी को राजकीय भाषा के रूप में पहले से ही पुरस्कृत करते आए हैं और हमारी राष्ट्रीय भाषा हिंदी है और अधिकतर काम हिंदी में यह जाते का नुकसान यह है कि जैसे कि कुछ शब्द है कुछ शब्द जो है उसे अंग्रेजी में प्रचलित है अब उसका हिंदी में रूपांतर करना कभी कभी मुश्किल हो जाता है इसलिए उसको अंग्रेजी शब्द का इस्तेमाल किया जाता है ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की जो इंग्लिश में हिंदी शब्दों का भोजपुरिया गाना नुकसान के बारे में सोचें तो अलग-अलग प्रदेश में अलग-अलग राजकीय भाषा साउथ के राज्यों में वहां की प्रादेशिक भाषा का उपयोग करते हैं और उसके अलावा अंग्रेजी का बहिष्कार तो नहीं किया है लेकिन उसका उपयोग कब करते हैं अब फायदा तो बहुत है वन नेशन वन लैंग्वेज हमारा राष्ट्रपिता जो हमारे गांधी जी हमारे राष्ट्रपति जो है वर्तमान हमारे प्रधानमंत्री जी हमारा राष्ट्रीय पक्षी मोर हमारा राष्ट्रीय गीत एक है तो राष्ट्रीय भाषा क्यों नहीं हो सकती इस पर गहनता से पूरे देश के सभी प्रांतों के राजनेताओं को एक मत होना बेशक बहुत जरूरी भविष्य में हो जाएगा ऐसा मेरा मानना है धन्यवाद जय हिंद

van nation van language jaisa ke grah mantri shri amit shah ne hindi divas par kiya tha kya vaastav mein bharat mein kaam hota hai iska fayda kya hoga abhi hindi divas par unhone aisa ek vichar desh ke saamne rakha tha ki hindi ko van nation van language ke tahat shikaar kiya tha lekin dakshin ke kuch rajyon se uska us vichar ka virodh hua tha ki hamare upar hindi fuking aisa lagta hai ki jab tak poore desh ke sabhi rajyon ke rajnetao ko jab tak yah svikarya nahi hoga tab tak van nation van language ka vichar hai sarkar ko paas hona mushkil hoga abhi hindi ko rajkiya bhasha ke roop mein pehle se hi puraskrit karte aaye hain aur hamari rashtriya bhasha hindi hai aur adhiktar kaam hindi mein yah jaate ka nuksan yah hai ki jaise ki kuch shabd hai kuch shabd jo hai use angrezi mein prachalit hai ab uska hindi mein roopantar karna kabhi kabhi mushkil ho jata hai isliye usko angrezi shabd ka istemal kiya jata hai oxford university ki jo english mein hindi shabdon ka bhojpuriya gaana nuksan ke bare mein sochen toh alag alag pradesh mein alag alag rajkiya bhasha south ke rajyon mein wahan ki pradeshik bhasha ka upyog karte hain aur uske alava angrezi ka bahishkar toh nahi kiya hai lekin uska upyog kab karte hain ab fayda toh bahut hai van nation van language hamara rashtrapita jo hamare gandhi ji hamare rashtrapati jo hai vartmaan hamare pradhanmantri ji hamara rashtriya pakshi mor hamara rashtriya geet ek hai toh rashtriya bhasha kyon nahi ho sakti is par gahanata se poore desh ke sabhi praaton ke rajnetao ko ek mat hona beshak bahut zaroori bhavishya mein ho jaega aisa mera manana hai dhanyavad jai hind

वन नेशन वन लैंग्वेज जैसा के गृह मंत्री श्री अमित शाह ने हिंदी दिवस पर किया था क्या वास्तव

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  1174
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!