भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को इतना नापसंद क्यों करते हैं?...


user

Ritesh Kashyap

Journalist, Speaker, Writer, Blogger

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को इतना भी ना पसंद क्यों करते हैं यह सवाल वैसे भी अपने आप में कई जवाब है दोनों दो दल है और ऐसा नहीं है कि भाजपा समर्थक ही अरविंद केजरीवाल को नापसंद करते हैं अरविंद केजरीवाल के भी समर्थक उनको ना पसंद करते हैं कांग्रेस के समर्थक दोनों को नापसंद करते हैं इसलिए यह एक राजनीतिक प्रतिद्वंदिता है और नफरत होना लाजमी है

aapka sawaal hai ki bhajpa samarthak arvind kejriwal ko itna bhi na pasand kyon karte hain yah sawaal waise bhi apne aap me kai jawab hai dono do dal hai aur aisa nahi hai ki bhajpa samarthak hi arvind kejriwal ko napasand karte hain arvind kejriwal ke bhi samarthak unko na pasand karte hain congress ke samarthak dono ko napasand karte hain isliye yah ek raajnitik pratidwandita hai aur nafrat hona lajmi hai

आपका सवाल है कि भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को इतना भी ना पसंद क्यों करते हैं यह सवाल वैस

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anshul Shah Markam

Social Activist

2:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल जी को इसलिए ना पसंद करते हैं कि उसके पीछे एक बहुत बड़ा भाईचारे के मतभेद है मत भेज यह है कि दिल्ली की जनता जिन चीजों से जूझ रही है तो आप दिल्ली एक ऐसा एक राजधानी काजल है तो वहां पर देख सकते हैं कि लोगों के पास संसाधनों की पहली प्रवृत्ति रहती है एक विकास की पहली पर बैठी रहती वहां पर स्वास्थ्य पहली प्योरिटी रहती है शिक्षा की पहली प्रवृत्ति रहती है और अरविंद केजरीवाल जी अक्षर स्वास्थ शिक्षा रोजगार के मसलों पर अपनी बात रखते हैं और वह हिंदू मुस्लिम भाईचारे की बात करते हैं परंतु क्या होता है कि भारतीय जनता पार्टी का जो आधार है जो पूरी की पूरी जो राजनीतिक सत्ता है वह हिंदू मुस्लिम तुष्टीकरण पर ही आधारित है और अभी भी ऐसा है कि जितना भी विकास की बात भारतीय जनता पार्टी के द्वारा की गई है तू कहीं ना कहीं अधूरी या फिर झूठ ही या फिर सिर्फ पोस्टर या फिर बयान में ही सीमित रह गई है जमीन पर भारतीय जनता पार्टी का विकास स्पष्ट रूप से नहीं दिखाई देता है परंतु उसके स्थान पर अरविंद केजरीवाल जी के द्वारा अपना जो प्रतिनिधित्व है उसको जनता के प्रति पूर्ण समर्पित रखने का एक पूरा जो प्रयास होता है वह एक नए प्रकार की राजनीति जो है भारत के अंदर तैयार होने की एक सूट बूट आहट खेमे में तैयार कर दी है तो इसलिए भारतीय जनता पार्टी कहीं ना कहीं उनसे डरती है उस चीज से कि कहीं इनके वजह से लोग धर्म जात पर लड़कर वोट में बैठना छोड़कर एक ही साथ शिक्षा रोजगार पर वोट मांगने लगे तो फिर भाजपा और कांग्रेस सब की पोल खुल जाएगी और दूसरी चीज यहां पर यह भी है कि अरविंद केजरीवाल जी हमेशा से धर्म को निजी मामला एवं व्यक्तिगत मामला के साथ-साथ सेकेंडरी कहते हुए प्राथमिकता संविधान और जिस देश में हम रहते हैं उस देश को प्राथमिकता देने की बात करते हैं जो कि भारतीय जनता पार्टी कभी नहीं करती है भारतीय जनता पार्टी की विचारधारा से निकले हुए लोग कहते हैं कि हम तो संविधान मिटाने आए हैं तो उसी की विचारधारा के लोग संविधान की प्रतियां जला देते हैं तो उस प्रकार से जो लोग संविधान विरोधी हैं वह लोग अरविंद केजरीवाल जैसे नेतृत्व का विरोध निरंतर करेंगे

bhajpa samarthak arvind kejriwal ji ko isliye na pasand karte hain ki uske peeche ek bahut bada bhaichare ke matbhed hai mat bhej yah hai ki delhi ki janta jin chijon se joojh rahi hai toh aap delhi ek aisa ek rajdhani kajal hai toh wahan par dekh sakte hain ki logo ke paas sansadhano ki pehli pravritti rehti hai ek vikas ki pehli par baithi rehti wahan par swasthya pehli pyoriti rehti hai shiksha ki pehli pravritti rehti hai aur arvind kejriwal ji akshar swaasth shiksha rojgar ke maslon par apni baat rakhte hain aur vaah hindu muslim bhaichare ki baat karte hain parantu kya hota hai ki bharatiya janta party ka jo aadhar hai jo puri ki puri jo raajnitik satta hai vaah hindu muslim tushtikaran par hi aadharit hai aur abhi bhi aisa hai ki jitna bhi vikas ki baat bharatiya janta party ke dwara ki gayi hai tu kahin na kahin adhuri ya phir jhuth hi ya phir sirf poster ya phir bayan me hi simit reh gayi hai jameen par bharatiya janta party ka vikas spasht roop se nahi dikhai deta hai parantu uske sthan par arvind kejriwal ji ke dwara apna jo pratinidhitva hai usko janta ke prati purn samarpit rakhne ka ek pura jo prayas hota hai vaah ek naye prakar ki raajneeti jo hai bharat ke andar taiyar hone ki ek suit boot aahat kheme me taiyar kar di hai toh isliye bharatiya janta party kahin na kahin unse darti hai us cheez se ki kahin inke wajah se log dharm jaat par ladkar vote me baithana chhodkar ek hi saath shiksha rojgar par vote mangne lage toh phir bhajpa aur congress sab ki pole khul jayegi aur dusri cheez yahan par yah bhi hai ki arvind kejriwal ji hamesha se dharm ko niji maamla evam vyaktigat maamla ke saath saath secondary kehte hue prathamikta samvidhan aur jis desh me hum rehte hain us desh ko prathamikta dene ki baat karte hain jo ki bharatiya janta party kabhi nahi karti hai bharatiya janta party ki vichardhara se nikle hue log kehte hain ki hum toh samvidhan mitane aaye hain toh usi ki vichardhara ke log samvidhan ki pratiyan jala dete hain toh us prakar se jo log samvidhan virodhi hain vaah log arvind kejriwal jaise netritva ka virodh nirantar karenge

भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल जी को इसलिए ना पसंद करते हैं कि उसके पीछे एक बहुत बड़ा भाईचार

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user

Mukesh Saini

Health and Fitness Expert/ MOTIVATION SPEAKER

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक गंदी राजनीति का हिस्सा है और यह डिपेंड करता है कि आप किस पार्टी के फॉलोअर हैं जरूरी नहीं है कि भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को बिल्कुल भी पसंद नहीं करते हैं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो की विशेषताओं को व्यक्ति की विशेषताओं को देखकर के पसंद और नापसंद करते हैं यदि अरविंद केजरीवाल जी कुछ अच्छा कार्य कर रहे हैं तो उसकी सराहना करनी चाहिए और मोदी जी कुछ अच्छा करने तो उसकी सराहना करनी चाहिए हमारे को हमारे हिसाब से देखना चाहिए ना कि पब्लिक भी उसके ऊपर चलना चाहिए यदि आप पब्लिक भी उसके ऊपर किसी को पसंद ना पसंद करेंगे तो उसमें आपकी पसंद ना पसंद का तो सवाल ही खत्म हो जाता है और मैक्सिमम लोगों को यही देखा गया है कि अपने अड़ोस पड़ोस को देखकर के व्यक्ति को पसंद करते हैं ना कि अपने खुद के विचारों को प्रकट करते हैं इसमें क्या होता है कि अरविंद केजरीवाल जी है चाय नरेंद्र मोदी है बहुत से लोग नरेंद्र मोदी को बिल्कुल भी पसंद नहीं करते इसका मतलब यह नहीं कि वह अरविंद केजरीवाल समर्थक हैं और बहुत से लोग भाजपा समर्थ अरविंद केजरीवाल को पसंद करते हैं दोनों बातों में क्या होता है कि हमारे को पॉलिटिकल फंडों को या तो फॉलो करें या फिर अपनी समझ से काम ले व्यस्त है कि यहां पर आपको अपनी समझ के सबसे चलना चाहिए कि यदि कोई व्यक्ति आपके लिए आपके देश के लिए कुछ कर रहा है तो उसको सपोर्ट करना चाहिए

ek gandi raajneeti ka hissa hai aur yah depend karta hai ki aap kis party ke follower hain zaroori nahi hai ki bhajpa samarthak arvind kejriwal ko bilkul bhi pasand nahi karte hain kuch log aise bhi hain jo ki visheshtaon ko vyakti ki visheshtaon ko dekhkar ke pasand aur napasand karte hain yadi arvind kejriwal ji kuch accha karya kar rahe hain toh uski sarahana karni chahiye aur modi ji kuch accha karne toh uski sarahana karni chahiye hamare ko hamare hisab se dekhna chahiye na ki public bhi uske upar chalna chahiye yadi aap public bhi uske upar kisi ko pasand na pasand karenge toh usme aapki pasand na pasand ka toh sawaal hi khatam ho jata hai aur maximum logo ko yahi dekha gaya hai ki apne ados pados ko dekhkar ke vyakti ko pasand karte hain na ki apne khud ke vicharon ko prakat karte hain isme kya hota hai ki arvind kejriwal ji hai chai narendra modi hai bahut se log narendra modi ko bilkul bhi pasand nahi karte iska matlab yah nahi ki vaah arvind kejriwal samarthak hain aur bahut se log bhajpa samarth arvind kejriwal ko pasand karte hain dono baaton me kya hota hai ki hamare ko political fundon ko ya toh follow kare ya phir apni samajh se kaam le vyast hai ki yahan par aapko apni samajh ke sabse chalna chahiye ki yadi koi vyakti aapke liye aapke desh ke liye kuch kar raha hai toh usko support karna chahiye

एक गंदी राजनीति का हिस्सा है और यह डिपेंड करता है कि आप किस पार्टी के फॉलोअर हैं जरूरी नही

Romanized Version
Likes  52  Dislikes    views  835
WhatsApp_icon
user

Shubham Namdev

Business owner(Engineer)

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार इसका सीधा सा जवाब है अरविंद केजरीवाल की एग्जाम लगा के पूजन की कमी और और बेतुकी बयानबाजी बस फ्री पानी फ्री बिजली फ्री विकासशील देश में कुछ आता है कि नहीं उसका देश का विकास हो और बहुत सारे काम ज्यादातर देखा गया है कि अरविंद केजरीवाल ज्यादातर के साथ खड़े हो जाते हैं जो कि बिल्कुल सही नहीं है कोई भी भाजपा समर्थक क्योंकि भाजपा के समर्थन में होते हैं

namaskar iska seedha sa jawab hai arvind kejriwal ki exam laga ke pujan ki kami aur aur betuki bayanbazi bus free paani free bijli free vikasshil desh me kuch aata hai ki nahi uska desh ka vikas ho aur bahut saare kaam jyadatar dekha gaya hai ki arvind kejriwal jyadatar ke saath khade ho jaate hain jo ki bilkul sahi nahi hai koi bhi bhajpa samarthak kyonki bhajpa ke samarthan me hote hain

नमस्कार इसका सीधा सा जवाब है अरविंद केजरीवाल की एग्जाम लगा के पूजन की कमी और और बेतुकी बया

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  51
WhatsApp_icon
user

राकेश

Journalist

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाजपा समर्थित ही नहीं बल्कि कोई भी वर्तमान स्थिति में केजरीवाल को पसंद नहीं करता कारण कि उनकी जो नीतियां हैं वह कहीं ना कहीं एक केवल वोट बैंक को लेकर अभी भी आप देखिए तो अंशु करुणा वायरस को लेकर उसमें भी भेदभाव किया जा रहा है यदि वह किसी एक खास जमात से जुड़े हुए हैं उनको सुविधाएं मिल रही हैं जबकि अन्य को कोई सुविधा नहीं है इसका प्रमाण उनका फेसबुक है फेसबुक पर आप देख सकते हैं कि 1254 समाज से जुड़े हुए लोग हैं कि मुस्लिम समुदाय के लोग हैं उनके लिए भोजन किया जा रहा है वह और जो नाम लोगों को दिया जा रहा है वह दोनों में अंतर देख लीजिए आपको पता चल जाएगा कि क्या है उनकी नीति

bhajpa samarthit hi nahi balki koi bhi vartaman sthiti me kejriwal ko pasand nahi karta karan ki unki jo nitiyan hain vaah kahin na kahin ek keval vote bank ko lekar abhi bhi aap dekhiye toh anshu corona virus ko lekar usme bhi bhedbhav kiya ja raha hai yadi vaah kisi ek khas jamaat se jude hue hain unko suvidhaen mil rahi hain jabki anya ko koi suvidha nahi hai iska pramaan unka facebook hai facebook par aap dekh sakte hain ki 1254 samaj se jude hue log hain ki muslim samuday ke log hain unke liye bhojan kiya ja raha hai vaah aur jo naam logo ko diya ja raha hai vaah dono me antar dekh lijiye aapko pata chal jaega ki kya hai unki niti

भाजपा समर्थित ही नहीं बल्कि कोई भी वर्तमान स्थिति में केजरीवाल को पसंद नहीं करता कारण कि उ

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  99
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि केजरीवाल जी ही ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने भाजपा को देश की राजधानी में धूल चटाई है और वह जो कार्य कर रहे हैं जैसे बिजली फ्री है पानी फ्री है जैसी योजनाओं को लेकर जनता के बीच में जनता क्लीनिक हो ऐसे मुद्दों को लेकर जो काम राजधानी के अंदर कर रहे हैं इससे भाजपा चिड़ी हुई है क्योंकि उन्हें मालूम है कि ऐसा काम नहीं कर पा रहे हैं सिर्फ जातिवाद की राजनीति करते हैं इसलिए उन्हें जुड़े हुए हैं

kyonki kejriwal ji hi aise vyakti hain jinhone bhajpa ko desh ki rajdhani me dhul chatai hai aur vaah jo karya kar rahe hain jaise bijli free hai paani free hai jaisi yojnao ko lekar janta ke beech me janta clinic ho aise muddon ko lekar jo kaam rajdhani ke andar kar rahe hain isse bhajpa chidi hui hai kyonki unhe maloom hai ki aisa kaam nahi kar paa rahe hain sirf jaatiwad ki raajneeti karte hain isliye unhe jude hue hain

क्योंकि केजरीवाल जी ही ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने भाजपा को देश की राजधानी में धूल चटाई है औ

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  65
WhatsApp_icon
user

Pandit Prem

शायर, पुस्तक संपादक

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि केजरीवाल बेहद ईमानदार है वह केजरीवाल से जो काम कर रहे हैं वह जनता के साथ ईमानदारी से कर रहे हैं जनता के पैसे को यानी जनता के दिए हुए टैक्स को इमानदारी स्कूल जनता के हित में उपयोग कर रहे हैं और भाजपा यह बिल्कुल नहीं चाहती भ्रष्टाचारियों की जमात है भाजपा सबसे बड़े बड़े भ्रष्ट भाजपा के अंदर पड़े हुए हैं धन्यवाद

kyonki kejriwal behad imaandaar hai vaah kejriwal se jo kaam kar rahe hain vaah janta ke saath imaandaari se kar rahe hain janta ke paise ko yani janta ke diye hue tax ko imaandari school janta ke hit mein upyog kar rahe hain aur bhajpa yah bilkul nahi chahti bharashtachariyo ki jamaat hai bhajpa sabse bade bade bhrasht bhajpa ke andar pade hue hain dhanyavad

क्योंकि केजरीवाल बेहद ईमानदार है वह केजरीवाल से जो काम कर रहे हैं वह जनता के साथ ईमानदारी

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  723
WhatsApp_icon
user

Bhuvi Jain

Engineer, Educator, Writer

8:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी भी भाजपा के समर्थक के सामने आप अरविंद केजरीवाल का नाम दीजिए तो तिरस्कार अवहेलना यानी डिजडेन एक्सप्रेशन उनकी शब्दों में आप देख जिसे बीजेपी ने खिलाया पिलाया और पूरी बढ़ा बाकी है कि जीवन के बारे में लोगों को पता चलने लगा था शुरू में तब तक बीजेपी नेशनल सीन में काफी हो चुका था नरेंद्र मोदी जी भी घर-घर में एक फैमिलियर नेम हो चुके थे तथा एक पावरफुल पॉलिटिशन की तरह माने जाने लग गए थे मोदी और केजरीवाल के बीच में क्या तुलना बीजेपी के सपोर्टर कहते हैं हमेशा आपके पूछ बात करना केजरीवाल की और यही आपको सुनने में मिलेगा उन्हें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि इस तुलना का कोई मतलब ही नहीं है मोदी जी तो एक नेशनल लेवल के फॉर थे और केजरीवाल एक नए प्ले प्लेयर तो फिर दिल्ली में जो अब मोरल है अभी ही ना साबित होने लगे तो मोदी जी का एक ग्लोबल यानी संसारी इमेज है तथा एक तीव्र पॉलिटिशन दिल है जिसमें वह पॉपुलर के पीछे नहीं भागते हैं और कुछ ऐसी स्टेप्स लेने को तैयार हैं तो शायद कोई सैक्टर सैक्टर नाभि करें जैसे डिमॉनेटाइजेशन जीएसटी लागू करना एनआरसी बगैरा केजरीवाल से बिल्कुल स्वस्थ हैं अरविंद केजरीवाल किसी भी वोट बैंक को डिस्टर्ब नहीं करेंगे चाहे कुछ भी हो जाए किसी भी मुद्दे में जिसमें उन्हें ऐसी डिसिशन लेनी चाहिए जिसमें कि ग्रेटर गुड में उनको लेना चाहिए फिर भी वह वैसे नहीं लेंगे जिससे कि उनका कोई सा भी वोट बैंक चाहे किसी भी सिम को डिस्टर्ब बीजेपी के सपोर्टर्स का यह एक मेल आरोप है कि अरविंद केजरीवाल पर भी यही कि वह एक पीपल प्लीजर है आज लोगों के बीच भागते हैं मुद्दों के पीछे नहीं केजरीवाल को शुरू के पॉलिटिक्स का कुछ अता पता जब नहीं था तो उन्हें सीखना बहुत खुश था और उन्होंने ऐसे की स्विमिंग पूल में अपनी साइड में किसी को फेंक देते हो तो उन्हें जैसे पानी के बीच साइड में फेंक दिया गया और उन्हें जब सिर्फ आधा पौना ही स्विमिंग कानून से बचना सी मतलब बचना सीखा उन्होंने और वह भी तब जब एक बड़ा अभी पक्षी बार-बार उन्हें पानी के नीचे खींचने का प्रयत्न करता रहा ऊपर से पुराने जो एक्टिवेट एक्टिवेशन के रूट्स हैं उनके सीएम के फंक्शनिंग का साइज भी बंद है तो एलजी ने परेशान कर दिया मोदी जी काम नहीं करना तेरे चलो धरना करो यहां तक कि लोगों ने उनका नाम धरना मेहंदी रखना शुरू कर दिया यह तो कोई ब्रिटिश राज तो नहीं है जान गांधीजी का चलन पॉपुलर होगा लोगों को जो दिल्ली के जो लोगों को यह देखकर अच्छा नहीं लगा कि उनके सीएम सड़क पर बैठे हुए हैं धरना करके और इंटर सेंटर के खिलाफ प्रोटेस्ट करते हैं उसके बावजूद काम करने वाला सीएम चाहिए था दिल्ली को ना कि ऐसा जो कि जब देखो हर बारी शिकायतकर्ता रहे शिकायती टट्टू सेंट्रल और स्टेट के बीच की लड़ाई में बिकने को तैयार नहीं थे दिल्ली के दिल्ली वासी आपको का काम देखना चाहते थे गुस्सा नहीं तो केजरीवाल का जो यह रूप है बीजेपी सपोर्टर्स का और मौत पूरी दुनिया के सारे बिल्कुल नापसंद केजरीवाल जनरल इलेक्शन 2019 में उसी कांग्रेस जिसके विरोध में खड़े हुए थे जिसकी वजह से आम आदमी पार्टी बना था उसी कांग्रेस के साथ हाथ जोड़ने को तैयार हो गए थे ममता बनर्जी जैसे कर अप सीएम का साथ भी लगान करने को तैयार हो गए थे एनिमी ऑफ एनिमी इक्वल टू फ्रेंड यानी कि जो दुश्मन का दुश्मन है वह मेरा दोस्त है ऊपर से मोदी जी के लिए काफी अनाप-शनाप भी बोल रहे थे इसलिए बीजेपी के सपोर्टर क्या काफी लोग इस बात का विरोध करते थे फिर केजरीवाल बदल गए अब एक नया केजरीवाल देखने लगा जो कि सेंटर की प्रशंसा करने में ही चाहता नहीं था जो अब चेंज केजरीवाल है वह सिम सेंटर के कुछ फैसलों पर सहमति भी देता था जैसे कश्मीर के अधिवेशन ऑफ आर्टिकल 370 पर बीजेपी के सपोर्टर्स ने कहा कि केजरीवाल और जमीन पर अपना नाक रगड़ने को उसकी आ गई है फिर वही तिरस्कार फिर वही अब लेना तो करो तुम करो तो मरो ना करो तो भी मरो यही है केजरीवाल का हाथ आम आदमी पार्टी ने कई सींस में काफी बचत दिखाया जैसे पैसों का भी वक्त काफी जैसे चाहे फिल्म घर बनाने में चाहे गवर्मेंट स्कूल पुरैना वेट करने करके प्राइवेट स्कूल के काफी बराबर तक लाने में चाहे स्कीम्स दौर तक तक पहुंचाने में चाहे वह एक छोटी सी बात हो जैसे कि बच्चों के सीबीएसई के फीस पर करने में चाहे बिजली पानी पहुंचाने में बीजेपी सपोर्टर कहते ठीक है यह सब छोटी छोटी बातें कर रहा है पर यह तो लोकल सी चेंजर सेना मोदी जी को विश्व में गर्भ से कैसे हमारा सर ऊंचा हो रहा है उनकी तरफ से उनकी वजह से दूसरी बात है केजरीवाल का जो सोशलिस्ट बैकग्राउंड है आम आदमी की जिंदगी को आसान करने में ज्यादा बिलीव करता है वह ज्यादा लोड क्लास के लोगों के लिए काम करते हैं मैं इस बात से सहमत हूं या नहीं हूं कि वह काफी कुछ दिल्ली के लोग क्लास को फ्री बीज के रूप में देते हैं मतलब की मुफ्त में देते हैं उनका इस जवाब का उनके उस मेरी इस ओपिनियन का इस जवाब से कोई लेना देना नहीं है चाहे फ्रीलेक्स सिटी हो फ्री पानी हो फ्री बर्बसाइड 100 महिलाओं के लिए चाहिए महिलाओं के लिए फ्री मेट्रो राइट्स हूं इसमें कोई शक नहीं है कि जो आफ गवर्नमेंट एक जगह बचाता है वह उसी चीज को दूसरी जगह लोगों के पास ही लौटा देता है इसे सोशल वेलफेयर भी कहते हैं बीजेपी सपोर्टर्स अमूमन कैपिटल सोते हैं फिर भी कल्चर लोगों की ऑल को आलसी बनाता है यह उनका मानना होता है तो इसलिए मोर डिस्टेंस और भी ज्यादा उनको पसंद नहीं आती है बात झोला धारी पॉलीटिशियन के दिन खत्म हो गया डिजाइनर कुर्ता मोदी जैकेट पहनने वाले हमारे फैशनेबल प्राइम मिनिस्टर के सामने यह बिखरे बाल वाला पुराना स्वेटर-मफलर पहनावा चप्पल वाला सीएम झल्ला लगता है मोदी के सपोर्टर को यह भी पसंद नहीं है सीएम बनने के बाद पहले रिपब्लिक डे परेड पर केजरीवाल का ट्रेडमार्क मफलर चप्पल और स्वेटर पर मजाक बनाकर मजाक का पात्र ही बनके हमारे जो बीजेपी सपोर्टर्स का यह मानना है कि वह तुमको गीत को मानने को भी तैयार नहीं है कि दिल्ली के स्कूल से अब काफी अच्छे हो गए काफी इंप्रूवमेंट आ गई है उनसे कोई अगर कह दे कि 3:00 एम के वाइट बोर्ड काफी बल्क ऑर्डर दिया गया जिसमें कि सारे स्कूल के वह जो पुराने जमाने के चौक डस्टर वाले बोर्ड से वह सब चले जाएंगे और बढ़िया वाले बोर्ड जाएंगे तो वह कहेंगे कि जब देखेंगे तब मानेंगे या बसपा चारों में कभी नहीं रखेंगे तो आप क्या देखोगी और क्या मानो तो मैं और यह में एक और चीज है कहूंगी कि तो यह जो बात है कि इन गिस इन चीजों को यह मानने को तैयार ही नहीं है और अपने यह कहूंगी कि यह केजरीवाल की बेवकूफी है कि एक छोटी सी चींटी बराबर पॉलिटिशन होकर नेशनल लेवल के मोदी जी से बराबरी करने चले थे 2014 इलेक्शंस में अब इसी वजह से ही जो बीजेपी के सपोर्टर हैं उनके पीछे उनके खिलाफ हो गए और काफी उनके लिए बुरा भला कहते हैं लेकिन बात यही है कि हाथी चींटी की लड़ाई में चाहे चींटी बहुत छोटी है लेकिन चींटी हाथी के नाक पर दम तो करके ही रहती है और शायद इसी वजह से बीजेपी के सपोर्टर केजरीवाल को बिल्कुल ही पसंद नहीं करते

kisi bhi bhajpa ke samarthak ke saamne aap arvind kejriwal ka naam dijiye toh tiraskar avhelna yani dijden expression unki shabdon mein aap dekh jise bjp ne khilaya pilaaya aur puri badha baki hai ki jeevan ke bare mein logo ko pata chalne laga tha shuru mein tab tak bjp national seen mein kaafi ho chuka tha narendra modi ji bhi ghar ghar mein ek faimiliyar name ho chuke the tatha ek powerful politician ki tarah maane jaane lag gaye the modi aur kejriwal ke beech mein kya tulna bjp ke supporter kehte hai hamesha aapke puch baat karna kejriwal ki aur yahi aapko sunne mein milega unhe is baat se koi fark nahi padta ki is tulna ka koi matlab hi nahi hai modi ji toh ek national level ke for the aur kejriwal ek naye play player toh phir delhi mein jo ab moral hai abhi hi na saabit hone lage toh modi ji ka ek global yani SANSARI image hai tatha ek tivra politician dil hai jisme vaah popular ke peeche nahi bhagte hai aur kuch aisi steps lene ko taiyar hai toh shayad koi saiktar saiktar nabhi kare jaise demonitization gst laagu karna NRC bagaira kejriwal se bilkul swasthya hai arvind kejriwal kisi bhi vote bank ko disturb nahi karenge chahen kuch bhi ho jaaye kisi bhi mudde mein jisme unhe aisi decision leni chahiye jisme ki greater good mein unko lena chahiye phir bhi vaah waise nahi lenge jisse ki unka koi sa bhi vote bank chahen kisi bhi sim ko disturb bjp ke supporters ka yah ek male aarop hai ki arvind kejriwal par bhi yahi ki vaah ek pipal plijar hai aaj logo ke beech bhagte hai muddon ke peeche nahi kejriwal ko shuru ke politics ka kuch ata pata jab nahi tha toh unhe sikhna bahut khush tha aur unhone aise ki Swimming pull mein apni side mein kisi ko fenk dete ho toh unhe jaise paani ke beech side mein fenk diya gaya aur unhe jab sirf aadha pauna hi Swimming kanoon se bachna si matlab bachna seekha unhone aur vaah bhi tab jab ek bada abhi pakshi baar baar unhe paani ke niche kheenchne ka prayatn karta raha upar se purane jo activate activation ke roots hai unke cm ke functioning ka size bhi band hai toh LG ne pareshan kar diya modi ji kaam nahi karna tere chalo dharna karo yahan tak ki logo ne unka naam dharna mehendi rakhna shuru kar diya yah toh koi british raj toh nahi hai jaan gandhiji ka chalan popular hoga logo ko jo delhi ke jo logo ko yah dekhkar accha nahi laga ki unke cm sadak par baithe hue hai dharna karke aur inter center ke khilaf protest karte hai uske bawajud kaam karne vala cm chahiye tha delhi ko na ki aisa jo ki jab dekho har baari shikayatakarta rahe shikayati tattu central aur state ke beech ki ladai mein bikne ko taiyar nahi the delhi ke delhi waasi aapko ka kaam dekhna chahte the gussa nahi toh kejriwal ka jo yah roop hai bjp supporters ka aur maut puri duniya ke saare bilkul napasand kejriwal general election 2019 mein usi congress jiske virodh mein khade hue the jiski wajah se aam aadmi party bana tha usi congress ke saath hath jodne ko taiyar ho gaye the mamata banerjee jaise kar up cm ka saath bhi lagaan karne ko taiyar ho gaye the enemy of enemy equal to friend yani ki jo dushman ka dushman hai vaah mera dost hai upar se modi ji ke liye kaafi anap shanap bhi bol rahe the isliye bjp ke supporter kya kaafi log is baat ka virodh karte the phir kejriwal badal gaye ab ek naya kejriwal dekhne laga jo ki center ki prashansa karne mein hi chahta nahi tha jo ab change kejriwal hai vaah sim center ke kuch faisalon par sahmati bhi deta tha jaise kashmir ke adhiveshan of article 370 par bjp ke supporters ne kaha ki kejriwal aur jameen par apna nak ragadane ko uski aa gayi hai phir wahi tiraskar phir wahi ab lena toh karo tum karo toh maro na karo toh bhi maro yahi hai kejriwal ka hath aam aadmi party ne kai since mein kaafi bachat dikhaya jaise paison ka bhi waqt kaafi jaise chahen film ghar banane mein chahen government school puraina wait karne karke private school ke kaafi barabar tak lane mein chahen schemes daur tak tak pahunchane mein chahen vaah ek choti si baat ho jaise ki baccho ke cbse ke fees par karne mein chahen bijli paani pahunchane mein bjp supporter kehte theek hai yah sab choti choti batein kar raha hai par yah toh local si Changer sena modi ji ko vishwa mein garbh se kaise hamara sir uncha ho raha hai unki taraf se unki wajah se dusri baat hai kejriwal ka jo socialist background hai aam aadmi ki zindagi ko aasaan karne mein zyada believe karta hai vaah zyada load kashi ke logo ke liye kaam karte hai is baat se sahmat hoon ya nahi hoon ki vaah kaafi kuch delhi ke log kashi ko free beej ke roop mein dete hai matlab ki muft mein dete hai unka is jawab ka unke us meri is opinion ka is jawab se koi lena dena nahi hai chahen frileks city ho free paani ho free barbasaid 100 mahilaon ke liye chahiye mahilaon ke liye free metro rights hoon isme koi shak nahi hai ki jo of government ek jagah bachata hai vaah usi cheez ko dusri jagah logo ke paas hi lauta deta hai ise social welfare bhi kehte hai bjp supporters amuman capital sote hai phir bhi culture logo ki all ko aalsi banata hai yah unka manana hota hai toh isliye mor distance aur bhi zyada unko pasand nahi aati hai baat jhola dhari politician ke din khatam ho gaya designer kurta modi jacket pahanne waale hamare fashionable prime minister ke saamne yah bikhare baal vala purana swetar muffler pahanava chappal vala cm jhalla lagta hai modi ke supporter ko yah bhi pasand nahi hai cm banne ke baad pehle Republic day parade par kejriwal ka trademark muffler chappal aur swetar par mazak banakar mazak ka patra hi banke hamare jo bjp supporters ka yah manana hai ki vaah tumko geet ko manne ko bhi taiyar nahi hai ki delhi ke school se ab kaafi acche ho gaye kaafi improvement aa gayi hai unse koi agar keh de ki 3 00 M ke white board kaafi bulk order diya gaya jisme ki saare school ke vaah jo purane jamane ke chauk distr waale board se vaah sab chale jaenge aur badhiya waale board jaenge toh vaah kahenge ki jab dekhenge tab manenge ya BSP charo mein kabhi nahi rakhenge toh aap kya dekhogi aur kya maano toh main aur yah mein ek aur cheez hai kahungi ki toh yah jo baat hai ki in gis in chijon ko yah manne ko taiyar hi nahi hai aur apne yah kahungi ki yah kejriwal ki bewakoofi hai ki ek choti si chinti barabar politician hokar national level ke modi ji se barabari karne chale the 2014 elections mein ab isi wajah se hi jo bjp ke supporter hai unke peeche unke khilaf ho gaye aur kaafi unke liye bura bhala kehte hai lekin baat yahi hai ki haathi chinti ki ladai mein chahen chinti bahut choti hai lekin chinti haathi ke nak par dum toh karke hi rehti hai aur shayad isi wajah se bjp ke supporter kejriwal ko bilkul hi pasand nahi karte

किसी भी भाजपा के समर्थक के सामने आप अरविंद केजरीवाल का नाम दीजिए तो तिरस्कार अवहेलना यानी

Romanized Version
Likes  930  Dislikes    views  11519
WhatsApp_icon
user
0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ए पार्टियों की अपनी-अपनी विचारधारा होती है भाजपा के लोगों की विचारधारा लगे और अरविंद केजरीवाल की विचारधारा लगे इसलिए भाजपा वाले अरविंद केजरीवाल को ज्यादा पसंद नहीं करते और फिर भी दोनों एक दूसरे के प्रति जल्दी पार्टी स्वाभाविक है जो एक दूसरे को कैसे पसंद कर सकते इसलिए भाजपा वाले अरविंद केजरीवाल को नापसंद करते

a partiyon ki apni apni vichardhara hoti hai bhajpa ke logo ki vichardhara lage aur arvind kejriwal ki vichardhara lage isliye bhajpa waale arvind kejriwal ko zyada pasand nahi karte aur phir bhi dono ek dusre ke prati jaldi party swabhavik hai jo ek dusre ko kaise pasand kar sakte isliye bhajpa waale arvind kejriwal ko napasand karte

ए पार्टियों की अपनी-अपनी विचारधारा होती है भाजपा के लोगों की विचारधारा लगे और अरविंद केजरी

Romanized Version
Likes  96  Dislikes    views  1849
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उसका मेन कारण है कि केजरीवाल एक विश्वासपात्र व्यक्ति नहीं करा सकते हैं केजरीवाल जी का वह बताएं इनका यह वह दगाबाज कुमार विश्वास जैसे कि को विदा कर चुके हैं उन्होंने अन्ना हजारे के साथ दगा किया किरण बेदी किरण बेदी ने अन्ना हजारे के आंदोलन से ही मृतक के दिन केजरीवाल चमके थे और अन्ना हजारे ने बिल्कुल सही कहा था यदि आप राजनीति में चले जाएंगे तो इस आंदोलन को जिस जिस देश पर्यावरण खड़ा किया गया था यह कमजोर हो जाएगा लेकिन केजरीवाल साहब नहीं माने अन्ना अन्ना हजारे के बीच में जाकर कि उन्होंने बागी की जयंती पर कुमार विश्वास उनके साथ में शुरू से थे लेकिन कुमार विश्वास के साथ दगा किया इन्होंने और जैसे ही निकाल देते हैं उस तरह से निकाल दिया किरण बेदी को देखिए आप टॉप अच्छी एडमिनिस्ट्रेशन में चीन में उन्होंने अच्छे कार्य किए थे लेकिन उनको निकाल दिया अब उसी के पास किया गया इनके पास सिसोदिया जैसी मंत्री रह गए इनके पास ऐसे लोग रहेंगे जिनके आपने टीवी वीडियो देखें जिनके नाम कई गलत पोस्ट में आए थे तो इसका सकते हैं आप केजरीवाल जी पसंद के लायक भी नहीं हूं मैं मानता हूं दिल्ली में 9 स्टेट के लिए किया है कि सरकार के लिए किया है लेकिन नेशनल लेवल तक कभी नहीं है नेशनल लेवल की कट तो अभी आप ही मान के चलिए ममता बनर्जी का मायावती जी का नहीं है तो तुम सोचो इनका खास हो जाएगा और राजनीति में विश्वास उसका करना चाहिए जो जीता भी एक पार्टी में हर माता दी एक ही पार्टी में है अपने साथियों के साथ गद्दारी नहीं करता है जैसे अटल बिहारी बाजपेई जैसे इंदिरा जी इनके नाम आपकी पार्टी पार्टी करते जबकि क्योंकि उनकी कारण यह राजनीति में आए थे

uska main karan hai ki kejriwal ek vishwasapatra vyakti nahi kara sakte hain kejriwal ji ka vaah bataye inka yah vaah dagabaaz kumar vishwas jaise ki ko vida kar chuke hain unhone anna hazare ke saath daga kiya kiran bedi kiran bedi ne anna hazare ke andolan se hi mritak ke din kejriwal chamke the aur anna hazare ne bilkul sahi kaha tha yadi aap raajneeti mein chale jaenge toh is andolan ko jis jis desh paryavaran khada kiya gaya tha yah kamjor ho jaega lekin kejriwal saheb nahi maane anna anna hazare ke beech mein jaakar ki unhone baagi ki jayanti par kumar vishwas unke saath mein shuru se the lekin kumar vishwas ke saath daga kiya inhone aur jaise hi nikaal dete hain us tarah se nikaal diya kiran bedi ko dekhiye aap top achi administration mein china mein unhone acche karya kiye the lekin unko nikaal diya ab usi ke paas kiya gaya inke paas sisodiya jaisi mantri reh gaye inke paas aise log rahenge jinke aapne TV video dekhen jinke naam kai galat post mein aaye the toh iska sakte hain aap kejriwal ji pasand ke layak bhi nahi hoon main manata hoon delhi mein 9 state ke liye kiya hai ki sarkar ke liye kiya hai lekin national level tak kabhi nahi hai national level ki cut toh abhi aap hi maan ke chaliye mamata banerjee ka mayawati ji ka nahi hai toh tum socho inka khaas ho jaega aur raajneeti mein vishwas uska karna chahiye jo jita bhi ek party mein har mata di ek hi party mein hai apne sathiyo ke saath gaddari nahi karta hai jaise atal bihari baajpayee jaise indira ji inke naam aapki party party karte jabki kyonki unki karan yah raajneeti mein aaye the

उसका मेन कारण है कि केजरीवाल एक विश्वासपात्र व्यक्ति नहीं करा सकते हैं केजरीवाल जी का वह ब

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1289
WhatsApp_icon
user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

2:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरविंद केजरीवाल जी की पार्टी मुख्य रूप से दिल्ली में छाई हुई है और दिल्ली में जो इस समय स्थिति है वह यह है कि बीजेपी और आम आदमी पार्टी यह दो ही इस समय एक-दूसरे के विरोधी पक्ष में खड़ी होने वाली पार्टियां हैं कांग्रेसी किस तरह से धराशाई हो चुकी है या कांग्रेसका वजूद जिस तरह से दिखाई नहीं दे रहा है उससे ऐसा लग रहा है कि अरविंद केजरीवाल जी को हमेशा आगे भी फायदा मिल रहा है अगले चुनाव में भी फायदा मिल सकता है पार्टी है जो प्रबल दावेदार है सत्ता के लिए वह भारतीय जनता पार्टी है और प्रबल दावेदार पार्टी होगी वह जो सामने वाली पार्टी है उसके आम आदमी पार्टी है जैसे कि दिल्ली में और भी अरविंद केजरीवाल जी उसके मुखिया है तो उसके लिए उनके मन में उड़ा साधना पसंदगी तो रहेगा ही क्योंकि धीरे-धीरे एक माहौल सब बन जाता है उनके नकारात्मकता और यह ऐसे कार्यों को समाज के सामने गिनाते गिनाते जिससे ये अपने आप को सही साबित कर सकें इस तरह देखा जाए तो हर पार्टी की अपनी खूबियां हैं और अपनी कुछ कमियां है कि अपने अपने पार्टी के एजेंडे के हिसाब से होती हैं अरविंद केजरीवाल जी ने भी कुछ अच्छाइयां हैं बहुत सारे कार्य अरविंद केजरीवाल जी के अनोखे भी रहे हैं लेकिन अच्छा नहीं किया न्यूनतम पेंशन तो कम से कम 2 सरकारी कर्मचारियों की मांग की थी इस तरह के बहुत सारे कार्य और भी बहुत सारे तारे गिने जा सकते हैं यही कर सकता हूं कि भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल जी को इतना पसंद करते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि दिल्ली में बीजेपी पार्टी सत्ता में नहीं आ पाई इसके मुख्य कारण अरविंद केजरीवाल जी हैं और आगे भी उन्हें सत्ता से रोकने वाली कोई पार्टी है तू अरविंद केजरीवाल जी पार्टी हो सकती है इसलिए या नापसंद ली है

arvind kejriwal ji ki party mukhya roop se delhi mein chhai hui hai aur delhi mein jo is samay sthiti hai vaah yah hai ki bjp aur aam aadmi party yah do hi is samay ek dusre ke virodhi paksh mein khadi hone wali partyian hain congressi kis tarah se dharashai ho chuki hai ya kangresaka wajood jis tarah se dikhai nahi de raha hai usse aisa lag raha hai ki arvind kejriwal ji ko hamesha aage bhi fayda mil raha hai agle chunav mein bhi fayda mil sakta hai party hai jo prabal davedaar hai satta ke liye vaah bharatiya janta party hai aur prabal davedaar party hogi vaah jo saamne wali party hai uske aam aadmi party hai jaise ki delhi mein aur bhi arvind kejriwal ji uske mukhiya hai toh uske liye unke man mein uda sadhna pasandagi toh rahega hi kyonki dhire dhire ek maahaul sab ban jata hai unke nakaratmakta aur yah aise karyo ko samaj ke saamne ginate ginate jisse ye apne aap ko sahi saabit kar sake is tarah dekha jaaye toh har party ki apni khubiya hain aur apni kuch kamiyan hai ki apne apne party ke agent ke hisab se hoti hain arvind kejriwal ji ne bhi kuch achaiya hain bahut saare karya arvind kejriwal ji ke anokhe bhi rahe hain lekin accha nahi kiya ninuntam pension toh kam se kam 2 sarkari karmachariyon ki maang ki thi is tarah ke bahut saare karya aur bhi bahut saare taare gine ja sakte hain yahi kar sakta hoon ki bhajpa samarthak arvind kejriwal ji ko itna pasand karte hain kyonki unhe lagta hai ki delhi mein bjp party satta mein nahi aa payi iske mukhya karan arvind kejriwal ji hain aur aage bhi unhe satta se rokne wali koi party hai tu arvind kejriwal ji party ho sakti hai isliye ya napasand li hai

अरविंद केजरीवाल जी की पार्टी मुख्य रूप से दिल्ली में छाई हुई है और दिल्ली में जो इस समय स्

Romanized Version
Likes  104  Dislikes    views  2058
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को इतना ना पसंद क्यों करते हैं क्योंकि अरविंद केजरीवाल जी ने पिछले चुनाव में दिल्ली की विधानसभा में बहुत ज्यादा सीटें जीती थी और भाजपा को हराया था उनको बहुत ही कम सीटें मिली थी भाजपा को इसलिए वह मुंबई राजकरण में जो है पॉलिटिक्स में विरोधी एक दूसरे को खटकती पर रहते हैं हर कोई पक्ष सत्तारूढ़ होना चाहता है और अपने विरोधी को परास्त करना चाहता है लेकिन यह भी हमारी राजकरण की बलिहारी है कि कौन सा नेता कब कौन से पक्ष में चला जाएगा इसका भी कोई भरोसा नहीं क्योंकि अरविंद केजरीवाल जी दिल्ली में चुनाव जीतने के बाद और क्यों क्यों पहले ब्यूरोक्रेट थे और उन्होंने जीवन कैसे को साथ में रखकर दिल्ली में बहुत अच्छा नहीं लेकिन अच्छा सुशासन जरूर चलाया और आम जनता की भलाई के लिए जैसे मोहल्ला क्लीनिक है और जो सरकारी स्कूलों की जो हालत है वह बहुत सुधार किया है और वह अच्छा अच्छा काम करते रहे हैं पानी सस्ता कर दिया है पानी कुछ मुफ्त मुहैया कराया है और जो बिजली है उसकी तरह भी उन्होंने काफी हद तक कम करवा दी है अब इतना अच्छा शासन देने के बाद ऑफिस से जब अरविंद केजरीवाल जी चुनाव के मैदान में उतरेंगे तो भाजपा और अरविंद केजरीवाल की पार्टी अपना दल है आपकी पार्टी आप और भाजपा में बहुत ही घमासान जिसको गए हैं कि चुनाव के दरमियान होने की संभावना है उसमें से कौन जीत के आता है वह अपने कार्यों को आगे रखकर वोट मांगने का भरसक प्रयत्न करेंगे अरविंद केजरीवाल और भाजपा अपने दिल्ली के कार्यों को जो देश के करीब 2 दिन आकर अपना वोट मांगने की कोशिश करेंगे पॉलिटिक्स है इसमें सब कुछ पॉसिबल है आज किसी की ना पसंद आने वाले कल में उनकी पसंद भी बन सकती है इसलिए हमको हर तरीके से तैयार रहना चाहिए कोई समाचार सुनने के लिए कि जो हमने कल्पना भी न की हो ऐसे भी समाचार सुनने के लिए तैयार रहना चाहिए और दोनों दलों को हार्दिक शुभेच्छा धन्यवाद

bhajpa samarthak arvind kejriwal ko itna na pasand kyon karte hain kyonki arvind kejriwal ji ne pichle chunav mein delhi ki vidhan sabha mein bahut zyada seaten jeeti thi aur bhajpa ko haraya tha unko bahut hi kam seaten mili thi bhajpa ko isliye vaah mumbai rajyakaran mein jo hai politics mein virodhi ek dusre ko khatkati par rehte hain har koi paksh sattarudh hona chahta hai aur apne virodhi ko parast karna chahta hai lekin yah bhi hamari rajyakaran ki balihari hai ki kaun sa neta kab kaunsi paksh mein chala jaega iska bhi koi bharosa nahi kyonki arvind kejriwal ji delhi mein chunav jitne ke baad aur kyon kyon pehle Bureaucrat the aur unhone jeevan kaise ko saath mein rakhakar delhi mein bahut accha nahi lekin accha sushashan zaroor chalaya aur aam janta ki bhalai ke liye jaise mohalla clinic hai aur jo sarkari schoolon ki jo halat hai vaah bahut sudhaar kiya hai aur vaah accha accha kaam karte rahe hain paani sasta kar diya hai paani kuch muft muhaiya raya hai aur jo bijli hai uski tarah bhi unhone kaafi had tak kam karva di hai ab itna accha shasan dene ke baad office se jab arvind kejriwal ji chunav ke maidan mein utarenge toh bhajpa aur arvind kejriwal ki party apna dal hai aapki party aap aur bhajpa mein bahut hi ghamasan jisko gaye hain ki chunav ke darmiyaan hone ki sambhavna hai usme se kaun jeet ke aata hai vaah apne karyo ko aage rakhakar vote mangne ka bharasak prayatn karenge arvind kejriwal aur bhajpa apne delhi ke karyo ko jo desh ke kareeb 2 din aakar apna vote mangne ki koshish karenge politics hai isme sab kuch possible hai aaj kisi ki na pasand aane waale kal mein unki pasand bhi ban sakti hai isliye hamko har tarike se taiyar rehna chahiye koi samachar sunne ke liye ki jo humne kalpana bhi na ki ho aise bhi samachar sunne ke liye taiyar rehna chahiye aur dono dalon ko hardik shubheccha dhanyavad

भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को इतना ना पसंद क्यों करते हैं क्योंकि अरविंद केजरीवाल जी न

Romanized Version
Likes  62  Dislikes    views  1217
WhatsApp_icon
user

Norang sharma

Social Worker

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज का सवाल है कि भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल जी को इतना ना पसंद क्यों करते हैं दोस्तों दो अलग-अलग राजनीतिक विचारधाराओं में आप यह मानकर चलें कि समर्थकों के भी जो विश्वास है जो आस्था है वह बैठी हुई है जो इंसान बीजेपी की विचारधारा को समझता है और सहमति जताते है वह बाकी विचारधाराओं से अपने आप को ऑटोमेटिकली अलग कर लेगा और जो आम आदमी पार्टी के समर्थक हैं किसी विचारधारा से खुद को इतना कनेक्ट नहीं कर पाते तो यह तो ठीक वैसा ही है कि अगर कोई इंसान किसी एक महिला से शादी कर लेता है तो वह दूसरे से क्यों नहीं करता तो दोस्तों जैसी जिसकी 24 या जो किसी इंसान को या किसी राजनीतिक पार्टी को पसंद करता है वह उसकी तरफ अट्रैक्ट हो जाता है या उसकी खुद की जो विचारधारा है वह किसी अन्य विचारधारा से मेल खा जाती है तो वह उसी पार्टी का समर्थक बन जाता है उसे फिर बाकी पार्टियों उतनी अट्रैक्ट नहीं कर पाती या बाकी विचारधाराओं से उसका फतेह विरोध हो जाता है तो यही कारण है दोस्तों धन्यवाद

namaskar doston vaah kal par sun rahe mere sabhi buddhijeevi shrotaon ko mera pyar bhara namaskar aaj ka sawaal hai ki bhajpa samarthak arvind kejriwal ji ko itna na pasand kyon karte hain doston do alag alag raajnitik vichardharaon mein aap yah maankar chalen ki samarthakon ke bhi jo vishwas hai jo astha hai vaah baithi hui hai jo insaan bjp ki vichardhara ko samajhata hai aur sahmati jatate hai vaah baki vichardharaon se apne aap ko atometikli alag kar lega aur jo aam aadmi party ke samarthak hain kisi vichardhara se khud ko itna connect nahi kar paate toh yah toh theek waisa hi hai ki agar koi insaan kisi ek mahila se shadi kar leta hai toh vaah dusre se kyon nahi karta toh doston jaisi jiski 24 ya jo kisi insaan ko ya kisi raajnitik party ko pasand karta hai vaah uski taraf attract ho jata hai ya uski khud ki jo vichardhara hai vaah kisi anya vichardhara se male kha jaati hai toh vaah usi party ka samarthak ban jata hai use phir baki partiyon utani attract nahi kar pati ya baki vichardharaon se uska fateh virodh ho jata hai toh yahi karan hai doston dhanyavad

नमस्कार दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज

Romanized Version
Likes  80  Dislikes    views  1308
WhatsApp_icon
user

Harish Chand

Social Worker

2:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाजपा समर्थक की बात नहीं है जी अरविंद केजरीवाल जी की कथनी और करनी में जमीन आसमान का फर्क है और वह ऐसे नेता के रूप में देखे जाते हैं उनकी जो नीतियां हैं वह पाकिस्तान परस्त ऐसी नीति उनको दिल की जाती है वह हम से मांगते हैं कि भाई बालकोट का जो भी हुआ था उसके सबूत चाहिए अभी यह शाहीन बाग में हुआ मौजपुर में हुआ भजन पर दिल्ली में जो हुआ है उसको सबूत देने चाहिए अभी इसका पार्षद है कोई कमिटमेंट नहीं आई मैं यह कहता हूं जब भी देश पर संकट आता है तो इसके मुंह से एक शब्द नहीं निकलता है और हां किसी अल्पसंख्यक को कुछ हो तुरंत जा कर के वहां पर अपने झंडा उठा लेते हैं यह इनकी नीतियों के कारण बिल्कुल ना पसंद किया जाता है और यह दिल्ली से आगे कहीं जाने वाले नहीं और जीवन का लास्ट मोमेंट चल रहा है आने वाली सरकार मेल का कोई रोल नहीं होगा या मैं आपको बता दूं क्यों क्योंकि जनता दुखी है भाई दिल्ली को इन्होंने क्या बना दिया बना दिया मुख्यमंत्री तो है ना दिल्ली का जी या वह भी नहीं है एक मुख्यमंत्री की कितनी चलती है कितनी पहचान होती है उसके पास में 6263 एमएलए है जो साइन वालों चल रहा था तो क्यों नहीं गया था समझाने के लिए यह सिर्फ राजनीतिक स्टंट करते हैं कि इधर शाहनवाज चल रहा था उधर वह जाकर के माता गांधी की समाधि पर बैठ गए इससे करप्ट नेता अमेरिकन से हिंदुस्तान में कोई नहीं है चाहे आपको अच्छा लगे या बुरा लगे जय हिंद

bhajpa samarthak ki baat nahi hai ji arvind kejriwal ji ki kathni aur karni mein jameen aasman ka fark hai aur vaah aise neta ke roop mein dekhe jaate hain unki jo nitiyan hain vaah pakistan parast aisi niti unko dil ki jaati hai vaah hum se mangate hain ki bhai balkot ka jo bhi hua tha uske sabut chahiye abhi yah saheen bagh mein hua maujpur mein hua bhajan par delhi mein jo hua hai usko sabut dene chahiye abhi iska parshad hai koi commitment nahi I main yah kahata hoon jab bhi desh par sankat aata hai toh iske mooh se ek shabd nahi nikalta hai aur haan kisi alpsankhyak ko kuch ho turant ja kar ke wahan par apne jhanda utha lete hain yah inki nitiyon ke karan bilkul na pasand kiya jata hai aur yah delhi se aage kahin jaane waale nahi aur jeevan ka last moment chal raha hai aane wali sarkar male ka koi roll nahi hoga ya main aapko bata doon kyon kyonki janta dukhi hai bhai delhi ko inhone kya bana diya bana diya mukhyamantri toh hai na delhi ka ji ya vaah bhi nahi hai ek mukhyamantri ki kitni chalti hai kitni pehchaan hoti hai uske paas mein 6263 mla hai jo sign walon chal raha tha toh kyon nahi gaya tha samjhane ke liye yah sirf raajnitik stunt karte hain ki idhar shahnawaz chal raha tha udhar vaah jaakar ke mata gandhi ki samadhi par baith gaye isse corrupt neta american se Hindustan mein koi nahi hai chahen aapko accha lage ya bura lage jai hind

भाजपा समर्थक की बात नहीं है जी अरविंद केजरीवाल जी की कथनी और करनी में जमीन आसमान का फर्क ह

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
user

Kishan Kumar

Motivational speaker

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तों आप का क्वेश्चन है भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को इतना नापसंद क्यों करते हैं दोस्तों इसलिए ना पसंद करते हैं क्योंकि दोनों अलग-अलग पार्टी और चाहे भारत हो चाहे कोई भी विदेशों में जहां-जहां भी कोई अच्छा काम करता है उसको लोग ज्यादातर इतने में और नापसंद करते तो कहीं ना कहीं माननीय केजरीवाल जी भी अच्छा कर रहे हैं उसी की पार्टी करती है लेकिन दोनों पार्टी एक दूसरे के इंटर फेल रहते हैं इसलिए शायद ऐसा होता है

hello doston aap ka question hai bhajpa samarthak arvind kejriwal ko itna napasand kyon karte hain doston isliye na pasand karte hain kyonki dono alag alag party aur chahen bharat ho chahen koi bhi videshon me jaha jaha bhi koi accha kaam karta hai usko log jyadatar itne me aur napasand karte toh kahin na kahin mananiya kejriwal ji bhi accha kar rahe hain usi ki party karti hai lekin dono party ek dusre ke inter fail rehte hain isliye shayad aisa hota hai

हेलो दोस्तों आप का क्वेश्चन है भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को इतना नापसंद क्यों करते हैं

Romanized Version
Likes  194  Dislikes    views  1659
WhatsApp_icon
user

Ajay Kumar

Astrologer

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां जी देखे दिए भाजपा हो कांग्रेसो केजरीवाल हो जो भी सत्ता में बैठता हूं बैठता है उसका विरोध होता ही है अब दो पार्टियां मैदान में लड़ रही है अगर वह आ जाती है तो उसका विरोध जो नई पार्टी आती वह करेगी यह तो पॉलिटिक्स का एक नियम है पिताजी अगर यह विरोध नहीं करेंगे तो वह तो इतने पॉपुलर हो जाएंगे कि आपका तो नंबर ही नहीं लगेगा अब भाजपा आ गई तो केजरीवाल गलती निकालेगा केजरीवाल आ गया तो भाजपा गलती निकालेगी उधर सेंटर में कांग्रेसी आ जाती तो भाजपा गलती निकालती ठीक है जी अगर भाजपा गई है तो अब कांग्रेसी गलती निकाल रही है यह तो चलता रहता है 70 साल से 72 साल 70 साल यही दे जो भी नेता आ जाए सवाल यह है जो भी नेता जाए क्या देश के बारे में सोचता है देश वही खड़ा है गरीबी वही है बेरोजगारी वही है काम कोई किसी के चल नहीं रहा यह बातें एक दूसरे के विरोध में जनता का मान जो है वह डाइवर्ट कर देते हैं उधर जाता ही नहीं है अपने फायदे उठा लेते हैं केजरीवाल हो भाजपा हो कांग्रेसो सब एक ही है पता नहीं वह कौन सा फरिश्ता आएगा इस देश में जो इस देश का भला करेगा और कुछ सोचेगा जय हिंद

haan ji dekhe diye bhajpa ho kangreso kejriwal ho jo bhi satta me baithta hoon baithta hai uska virodh hota hi hai ab do partyian maidan me lad rahi hai agar vaah aa jaati hai toh uska virodh jo nayi party aati vaah karegi yah toh politics ka ek niyam hai pitaji agar yah virodh nahi karenge toh vaah toh itne popular ho jaenge ki aapka toh number hi nahi lagega ab bhajpa aa gayi toh kejriwal galti nikalega kejriwal aa gaya toh bhajpa galti nikalegi udhar center me congressi aa jaati toh bhajpa galti nikalati theek hai ji agar bhajpa gayi hai toh ab congressi galti nikaal rahi hai yah toh chalta rehta hai 70 saal se 72 saal 70 saal yahi de jo bhi neta aa jaaye sawaal yah hai jo bhi neta jaaye kya desh ke bare me sochta hai desh wahi khada hai garibi wahi hai berojgari wahi hai kaam koi kisi ke chal nahi raha yah batein ek dusre ke virodh me janta ka maan jo hai vaah Divert kar dete hain udhar jata hi nahi hai apne fayde utha lete hain kejriwal ho bhajpa ho kangreso sab ek hi hai pata nahi vaah kaun sa farishta aayega is desh me jo is desh ka bhala karega aur kuch sochega jai hind

हां जी देखे दिए भाजपा हो कांग्रेसो केजरीवाल हो जो भी सत्ता में बैठता हूं बैठता है उसका विर

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  179
WhatsApp_icon
user

Mayasingh Tak Hinganghat

Chardikala foods Products Pvt Ltd ,Owner

4:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को इसीलिए ना पसंद करती है क्योंकि यह कांग्रेस और भाजपा को बुरा बताकर अपनी राजनीति सीखना चाहता है और ऐसा ही है कुछ हमारे बिके हुए लोग इसकी चॉकलेट में आ जाते हैं दिल्ली में अब 10 साल हो राज करेगा अन्ना हजारे के पीठ में खंजर भोंक के आगे बढ़ा है और 30 तक के मुसलमान का ज्यादा समर्थन लेकर दिल्ली पर राज कर रहा है और हम हिंदू लोगों को चॉकलेट पर चॉकलेट देकर पूरा हिंदुस्तान के दिल्ली को जलाया है और हिंदुओं और मुसलमानों का आपस में लड़ आया है ताकि केजरीवाल अपनी जिंदगी के बूटे चेक करके और भविष्य में वह प्रधानमंत्री का ख्वाब देख रहा है दोस्तों जो कि मुख्यमंत्री के पत्ते होते हुए शायद देश में ऐसा ना हो जाए मगर याद रखो हिंदुस्तान के लोग केजरीवाल बहुत ही गिरा हुआ इंसान हैं केजरीवाल सिर्फ चॉकलेट दे रहा है केजरीवाल की सरकार बहुत घाटे में चल रही है मगर लोगों को पूरा दिल्ली का खजाना लूटा के और लोगों को सुविधा पहुंचा रहा है इसीलिए क्योंकि मुझे दिल्ली का राजा बनना है या बन गया है उसकी राजनीति को आप समझो वह गुरु दिल्ली को आधे दिल्ली को लेटर ले और कमजोर कमीने बना देगा हिंदुस्तान का करो प्रधानमंत्री कभी भविष्य में बनता है तो हिंदुस्तान को बेंच देगा विदेशी ताकतों के हाथ में और इतनी बार याद रखिए भविष्य में अगर प्रधानमंत्री बनता है तो देश हिंदुस्तान नहीं रहेगा यह इस्लामिक स्टेट बन जाएंगे इसके अंदर हंड्रेड वन परसेंट गारंटी देता हूं इसलिए इस बात को गौर करो फोकट का खाना बंद करो वह कटका खाया हुआ जो खेलते खेलते पाई जिसका हम खाते हैं उसकी वाह भाई करते हैं तो केजरीवाल ने दिल्ली शहर वालों को बहुत जनों को खिलाया है तेरी बस सेवा कर दिया महिलाओं के लिए इंटरनेट फ्री कर दिया वाईफाई फ्री कर दिया तो उसको यू पेट के बिल माफ कर दिए लोगों को लगता है कि वह तो गुजारा यूं ही हो जाएगा तो दोस्तों फ्री वाला आइटम से देश तरक्की नहीं करता मुझे बताइए पूरा जाकर कभी टैक्स माफ कर देगा तो देश कैसा चलेगा देश के पास कहां से पैसे आएंगे दिल्ली का आज इतना हाल देख लीजिए उस चौक से बहुत सुंदर देखेंगे मगर दिल्ली के शहर में अंदर गलियों में घुस जाए आप इतना सारा कबाड़ देखेंगे आपको रोड से भयंकर है पानी गुजरता नहीं लाइन कांट्रैक्ट अंडर ग्राउंड हुआ नहीं मैं दिल्ली में घुमा हूं चांदनी चौक से बंदर को जाइए सराफा लाइन में बहुत महान है और इधर चांदनी चौक के आगे करोलबाग के गले में भेजेंगे तो आप देखोगे कितना खाना कचरा है केजरीवाल इस बात का ध्यान नहीं लगा था आप समझिए बहुत विचार गिरे किशन की राशि करता है केजरीवाल इसीलिए भाजपा समर्थक उसका समर्थन क्यों करेंगे वह बीजेपी को और कांग्रेस को नीचा दिखाकर आप ऊंचा पढ़ना चाहता है यह बात को समझो उसको लगता है कि मेरी तीसरी एक महाशक्ति के रूप में उभर लूंगा अगर ऐसे ही हो हिंदुस्तान को चॉकलेट देखा गया तो वह भी दिन दूर नहीं हूंगा दोस्तों जिस दिन देश का प्रधानमंत्री बन जाए मानव मुख्यमंत्री बनते अगर प्रधानमंत्री पद पर बैठकर जिस तरह मोदी ने घोषणा की थी जन धन योजना में काला पैसा अगर आता है तो जन धन योजना में 15000 1500000 रुपए का आपको अकाउंट में भेज दिया जाएगा ऐसा अगर वह कह देता है मगर वह करता है अगर 1500000 बेचने हर अकाउंट में दे दिया यह घोषणा कर दी तो उसकी सत्ता हिंदुस्तान में अवश्य बैठ जाएंगे दोस्तों और उसे 15 लाख तो नहीं मगर 245 लाख निकाल देना जो मोदी सरकार नहीं कर पाई लोगों को फ्री पर खाने की आदत है दोस्तों इस बात को समझो

bhajpa samarthak arvind kejriwal ko isliye na pasand karti hai kyonki yah congress aur bhajpa ko bura batakar apni raajneeti sikhna chahta hai aur aisa hi hai kuch hamare bikey hue log iski chocolate me aa jaate hain delhi me ab 10 saal ho raj karega anna hazare ke peeth me khanjar bhonk ke aage badha hai aur 30 tak ke musalman ka zyada samarthan lekar delhi par raj kar raha hai aur hum hindu logo ko chocolate par chocolate dekar pura Hindustan ke delhi ko jalaya hai aur hinduon aur musalmanon ka aapas me lad aaya hai taki kejriwal apni zindagi ke bute check karke aur bhavishya me vaah pradhanmantri ka khwaab dekh raha hai doston jo ki mukhyamantri ke patte hote hue shayad desh me aisa na ho jaaye magar yaad rakho Hindustan ke log kejriwal bahut hi gira hua insaan hain kejriwal sirf chocolate de raha hai kejriwal ki sarkar bahut ghate me chal rahi hai magar logo ko pura delhi ka khajana loota ke aur logo ko suvidha pohcha raha hai isliye kyonki mujhe delhi ka raja banna hai ya ban gaya hai uski raajneeti ko aap samjho vaah guru delhi ko aadhe delhi ko letter le aur kamjor kamine bana dega Hindustan ka karo pradhanmantri kabhi bhavishya me banta hai toh Hindustan ko bench dega videshi takaton ke hath me aur itni baar yaad rakhiye bhavishya me agar pradhanmantri banta hai toh desh Hindustan nahi rahega yah islamic state ban jaenge iske andar hundred van percent guarantee deta hoon isliye is baat ko gaur karo fokat ka khana band karo vaah katka khaya hua jo khelte khelte payi jiska hum khate hain uski wah bhai karte hain toh kejriwal ne delhi shehar walon ko bahut jano ko khilaya hai teri bus seva kar diya mahilaon ke liye internet free kar diya wifi free kar diya toh usko you pet ke bill maaf kar diye logo ko lagta hai ki vaah toh gujara yun hi ho jaega toh doston free vala item se desh tarakki nahi karta mujhe bataiye pura jaakar kabhi tax maaf kar dega toh desh kaisa chalega desh ke paas kaha se paise aayenge delhi ka aaj itna haal dekh lijiye us chauk se bahut sundar dekhenge magar delhi ke shehar me andar galiyon me ghus jaaye aap itna saara kabad dekhenge aapko road se bhayankar hai paani guzarta nahi line kantraikt under ground hua nahi main delhi me ghuma hoon chandni chauk se bandar ko jaiye sarafa line me bahut mahaan hai aur idhar chandni chauk ke aage karolbag ke gale me bhejenge toh aap dekhoge kitna khana kachra hai kejriwal is baat ka dhyan nahi laga tha aap samjhiye bahut vichar gire kishan ki rashi karta hai kejriwal isliye bhajpa samarthak uska samarthan kyon karenge vaah bjp ko aur congress ko nicha dikhakar aap uncha padhna chahta hai yah baat ko samjho usko lagta hai ki meri teesri ek mahashakti ke roop me ubhar lunga agar aise hi ho Hindustan ko chocolate dekha gaya toh vaah bhi din dur nahi hunga doston jis din desh ka pradhanmantri ban jaaye manav mukhyamantri bante agar pradhanmantri pad par baithkar jis tarah modi ne ghoshana ki thi jan dhan yojana me kaala paisa agar aata hai toh jan dhan yojana me 15000 1500000 rupaye ka aapko account me bhej diya jaega aisa agar vaah keh deta hai magar vaah karta hai agar 1500000 bechne har account me de diya yah ghoshana kar di toh uski satta Hindustan me avashya baith jaenge doston aur use 15 lakh toh nahi magar 245 lakh nikaal dena jo modi sarkar nahi kar payi logo ko free par khane ki aadat hai doston is baat ko samjho

भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को इसीलिए ना पसंद करती है क्योंकि यह कांग्रेस और भाजपा को बुर

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  97
WhatsApp_icon
user

Rs Rathore

Politician

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अंकित ईशान है कि भाजपा समर्थित अरविंद केजरीवाल को इतना नापसंद क्यों करते हैं तो सभी को जैसा अरविंद केजरीवाल को दूसरे लोग जो है दूसरी पार्टी के लोग हैं वह पसंद करें बिल्कुल नहीं करेंगे और ना पसंद करेंगे तो पसंद करती रह जाएंगे आना अपनी पार्टी के प्रगति नहीं होगी राजनीति हाई कुछ ऐसी दूसरे को नीचा दिखाओ खुद उनका हो जाओ ऐसा कुछ नहीं है खाना और इस सिस्टम के माध्यम से ही मैं कह सकता हूं कहीं ना कहीं जो लोग हैं प्रत्येक राजनेता है उसके अंदर तिरस्कार की भावना है वह बड़ी

ankit ishan hai ki bhajpa samarthit arvind kejriwal ko itna napasand kyon karte hain toh sabhi ko jaisa arvind kejriwal ko dusre log jo hai dusri party ke log hain vaah pasand kare bilkul nahi karenge aur na pasand karenge toh pasand karti reh jaenge aana apni party ke pragati nahi hogi raajneeti high kuch aisi dusre ko nicha dikhaao khud unka ho jao aisa kuch nahi hai khana aur is system ke madhyam se hi main keh sakta hoon kahin na kahin jo log hain pratyek raajneta hai uske andar tiraskar ki bhavna hai vaah badi

अंकित ईशान है कि भाजपा समर्थित अरविंद केजरीवाल को इतना नापसंद क्यों करते हैं तो सभी को जैस

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  219
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

केवल चौकी अरविंद केजरीवाल कई बार पाकिस्तान का समर्थन करता है

keval chowki arvind kejriwal kai baar pakistan ka samarthan karta hai

केवल चौकी अरविंद केजरीवाल कई बार पाकिस्तान का समर्थन करता है

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
user

shri Kanhaiya das ji maharaj

Shri Mad Bhagwat Katha Prachar Seva

7:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार राधे-राधे पढ़ाई सुंदर कृष्ण आपका भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को चलाना पसंद क्यों करते हैं क्यों क्योंकि यह दोगले व्यक्ति है और मुसलमानों का सबसे बड़ा खतरा समर्थक है उनको अपनी जेब में रखना जानता है मुसलमान को तो टोपी भी फ्री वोट देंगे तो भी सारी बुड्ढे हो जाएंगे पर इसने तो तीन चार महीने बिजली-पानी बस फ्री दिया फ्री बांटा है सब कुछ आप लोग इतने तो जानते होगे इतने समझदार तो हो गए कि हम अगर फ्री सब कुछ बांटने लगे इस कैसे चलेगा क्या हालत हो जाएगी तो सारा देश फ्री बांटने लगे फिर कैसे करो चलो यह तो राज्य अब आप यह कहोगे कि अरे दिल्ली सरकार बजट के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार और बजट में से चला रहा है नहीं जी ऐसी आपके सोचने की भूल ना करें 3 महीने इसने बिजली राशन यह जो बिजली और पानी फ्री दिया है चुनाव गुजरे 2 महीने हुए हैं चुनाव गुजरने के बाद इसका बैलेंस ही खत्म हो गया पैसे खत्म हो गए सैलरी कहां से दूंगा यह कहां से करूंगा वैसे कैसे करूंगा केंद्र सरकार काम नहीं करने दे रही यह कैसे चालू हो जाएंगे आप इतने समझदार तो होगी इन सब चीजों को समझ सकते हो यह सब केवल वोट की राजनीति थी और यह जानता था कि शायद हिंदू इतना फ्री का लालची नाम का मुसलमान तो केवल टॉफियां भी अगर दे देंगे तब भी इसकी बोल रहे थे कुछ भी फ्री के नाम पर ही फ्री से भी मतलब नहीं था केवल भैंस का तो मुसलमान को तो चाहिए कि बीजेपी के अगेंस्ट कोई ऐसा व्यक्ति हो जिसका वजूद बंजारा और इसने उन को बरगलाया और उनका नेता बन के आ गया सामने तो मेन मोटिव केजरीवाल नहीं है कि केजरीवाल केजरीवाल इंसान हैं और पसंद ना पसंद नहीं है पसंद नापसंद उसकी करनी से है जो देश के खिलाफ होगा उसे हम कभी पसंद नहीं करेंगे और जो देश के खिलाफ कार्य करेगा विपरीत कार्य करेगा उसे पसंद करें रात्रि में 12:00 बजे स्कूल लोनी से मिल रही अननोन कंपनी डोनेशन कर रही है मुख्यमंत्री पद की आड़ में बहुत सारा पैसा कमाने वाला व्यक्ति है केवल पैसे के पीछे भागता है बहुत गंदी राजनीति करता है थप्पड़ भी खा सकता है यह कोई अपने को चर्चा में लाने के लिए मीडिया में लाने के लिए यह थप्पड़ भी खा सकता है कुल मिलाकर की और व्यवस्था दे देना पसंद नहीं है नहीं वह भी इसका माल मैंने कई भाजपा समर्थकों से बात की है तो हम जब उनसे बात की तो उसकी प्रिया प्रकाश ने किया है हमने उनसे प्रश्न भी किया तो उन्होंने भी यही सब बातें करें इसीलिए हम आपसे करें कि और कोई रीज़न नहीं है ना पार्टी बनाने का है न केजरीवाल को पसंद करना पसंद करने का कोई और कारण है कि इसकी गतिविधियां नहीं लगती इसलिए इसको ना पसंद करते हैं बीजेपी को पसंद करते हैं लोग क्यों बीजेपी इतनी बड़ी निकम्मी पार्टी है बीजेपी अपनी कभी कार्यकर्ता की अपने की इज्जत नहीं करती शायद आप जानते हो नहीं जानते हो लेकिन मैं आपको बता देता हूं बीजेपी का कोई भी कार्यकर्ता हमेशा ही रोता ही मिलेगा बीजेपी कभी अपने कार्यकर्ता कीजिए अपने छोटे कार्यकर्ता भोजपुरी में बीजेपी के साथ जुड़े रहते हैं कारण अगर ना जुड़े रहते तो a370 हट नहीं सकता था वैसी ने बोला भी तो हाथ लगा कर देखो 370 खून की नदियां बहा देंगे और ऐसा हो सकता था लेकिन यह बीजेपी थी जो उसने कर दिया राम मंदिर का अयोध्या में राम मंदिर हो नहीं सकता था कभी भी बीजेपी ने बहुत गंदी राजनीति की इस पर और फिर भी अंत समय योगी ने तो योगी ने कहा था कि इसको आप हमारे हाथ में दे दी थी 24 घंटे में रिजल्ट आ जाएगा तब करने वाले होते हैं वह तो तुरंत कार्य करते हैं स्कूल आते रहे कि हमारी सरकार नहीं बनी है बनी है तो गठबंधन से बनी है राज्य का भाव चाहिए यह चाहिए राज्य बहुमत चाहिए अरे यार जब बनाना आएगा तो कभी भी कोई भी किसी करनी संता बना दो और बनाया कोलकाता की मंदिर और इसने मूवी तो बनाए हॉस्पिटल बनाया वह अरे यार उस समय के युग से आप चल कर आ रहे हो इस समय अब उस समय से और क्या बनाते तुम पागल बनाते 70 साल के राज करता है आप लोगों ने टैक्स के बदौलत तो फिर और क्या करोगे उस पैसे का क्या तात्पर्य केवल को कोई पसंद नहीं करता मैं इसलिए नहीं करूं कि बीजेपी के आदेश चाहता है उसको वोट मिला था क्योंकि वह उस समय सारी पार्टियों का गैस का आगाज हो केवल बीजेपी के साथ है कांग्रेश उसके लिए हुए तहसील कागज के साथ मिलकर सरकार बना सकता है वह और बहुत गंदगी है उसको

namaskar radhe radhe padhai sundar krishna aapka bhajpa samarthak arvind kejriwal ko chalana pasand kyon karte hain kyon kyonki yah dogle vyakti hai aur musalmanon ka sabse bada khatra samarthak hai unko apni jeb me rakhna jaanta hai musalman ko toh topi bhi free vote denge toh bhi saari buddhe ho jaenge par isne toh teen char mahine bijli paani bus free diya free baata hai sab kuch aap log itne toh jante hoge itne samajhdar toh ho gaye ki hum agar free sab kuch baantne lage is kaise chalega kya halat ho jayegi toh saara desh free baantne lage phir kaise karo chalo yah toh rajya ab aap yah kahoge ki are delhi sarkar budget ke liye kendra sarkar aur rajya sarkar aur budget me se chala raha hai nahi ji aisi aapke sochne ki bhool na kare 3 mahine isne bijli raashan yah jo bijli aur paani free diya hai chunav gujare 2 mahine hue hain chunav guzarne ke baad iska balance hi khatam ho gaya paise khatam ho gaye salary kaha se dunga yah kaha se karunga waise kaise karunga kendra sarkar kaam nahi karne de rahi yah kaise chaalu ho jaenge aap itne samajhdar toh hogi in sab chijon ko samajh sakte ho yah sab keval vote ki raajneeti thi aur yah jaanta tha ki shayad hindu itna free ka lalchi naam ka musalman toh keval tafiyan bhi agar de denge tab bhi iski bol rahe the kuch bhi free ke naam par hi free se bhi matlab nahi tha keval bhains ka toh musalman ko toh chahiye ki bjp ke against koi aisa vyakti ho jiska wajood banjara aur isne un ko baragalaya aur unka neta ban ke aa gaya saamne toh main motive kejriwal nahi hai ki kejriwal kejriwal insaan hain aur pasand na pasand nahi hai pasand napasand uski karni se hai jo desh ke khilaf hoga use hum kabhi pasand nahi karenge aur jo desh ke khilaf karya karega viprit karya karega use pasand kare ratri me 12 00 baje school loni se mil rahi unknown company donation kar rahi hai mukhyamantri pad ki aad me bahut saara paisa kamane vala vyakti hai keval paise ke peeche bhagta hai bahut gandi raajneeti karta hai thappad bhi kha sakta hai yah koi apne ko charcha me lane ke liye media me lane ke liye yah thappad bhi kha sakta hai kul milakar ki aur vyavastha de dena pasand nahi hai nahi vaah bhi iska maal maine kai bhajpa samarthakon se baat ki hai toh hum jab unse baat ki toh uski priya prakash ne kiya hai humne unse prashna bhi kiya toh unhone bhi yahi sab batein kare isliye hum aapse kare ki aur koi region nahi hai na party banane ka hai na kejriwal ko pasand karna pasand karne ka koi aur karan hai ki iski gatividhiyan nahi lagti isliye isko na pasand karte hain bjp ko pasand karte hain log kyon bjp itni badi nikammee party hai bjp apni kabhi karyakarta ki apne ki izzat nahi karti shayad aap jante ho nahi jante ho lekin main aapko bata deta hoon bjp ka koi bhi karyakarta hamesha hi rota hi milega bjp kabhi apne karyakarta kijiye apne chote karyakarta bhojpuri me bjp ke saath jude rehte hain karan agar na jude rehte toh a370 hut nahi sakta tha vaisi ne bola bhi toh hath laga kar dekho 370 khoon ki nadiyan baha denge aur aisa ho sakta tha lekin yah bjp thi jo usne kar diya ram mandir ka ayodhya me ram mandir ho nahi sakta tha kabhi bhi bjp ne bahut gandi raajneeti ki is par aur phir bhi ant samay yogi ne toh yogi ne kaha tha ki isko aap hamare hath me de di thi 24 ghante me result aa jaega tab karne waale hote hain vaah toh turant karya karte hain school aate rahe ki hamari sarkar nahi bani hai bani hai toh gathbandhan se bani hai rajya ka bhav chahiye yah chahiye rajya bahumat chahiye are yaar jab banana aayega toh kabhi bhi koi bhi kisi karni santa bana do aur banaya kolkata ki mandir aur isne movie toh banaye hospital banaya vaah are yaar us samay ke yug se aap chal kar aa rahe ho is samay ab us samay se aur kya banate tum Pagal banate 70 saal ke raj karta hai aap logo ne tax ke badaulat toh phir aur kya karoge us paise ka kya tatparya keval ko koi pasand nahi karta main isliye nahi karu ki bjp ke aadesh chahta hai usko vote mila tha kyonki vaah us samay saari partiyon ka gas ka agaj ho keval bjp ke saath hai congress uske liye hue tehsil kagaz ke saath milkar sarkar bana sakta hai vaah aur bahut gandagi hai usko

नमस्कार राधे-राधे पढ़ाई सुंदर कृष्ण आपका भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को चलाना पसंद क्यों

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरविंद केजरीवाल बापू मुख्यमंत्री हम लोग बना दिया वोट देकर जनता लेकिन मुख्यमंत्री के लायक में मुख्यमंत्री का नाम सीएम सीएम का मतलब चीफ मिनिस्टर हो गया चीफ मिनिस्टर की कितनी पावर होती है चीफ मिनिस्टर नाम लेने में मुख्यमंत्री का कितना ही होता है लेकिन उसका प्रभाव नहीं है यह लोग सिर्फ गंदी राजनीति करते हैं मैं उन नेताओं के बहुत जीना की दृष्टि से देखता हूं कोई भी नहीं और मैं ऐसा चाहता हूं कि 15 बरस 10 बरस का सनकी दिल्ली में इनकी सिर्फ आधे से अधिक झूठ बोलते हैं नहीं जो आप कहते हो कुछ तो किया करो आप ठीक है जितना बोले उतना नहीं किया लेकिन मैं एक बात जरूर बताना चाहूंगा कि 15 वर्ष शासन की इनको अभी तक यह पता नहीं हुआ और की और वही 2 बरस जाए हमारे यूपी के योगी जी इस आसन के दोनों का फर्क मिला लिए तो केजरीवाल जी को मैं कहना चाहूंगा कि भले ही हम हैं लेकिन इनके बस की चीज नहीं है दिल्ली संभल सके खैर पब्लिक जैसी इच्छा मैं उनको समर्थन करता हूं कि नहीं भाई आपको अगर जीते हैं तो लेकिन यह चाहेंगे कि पूरे समुदाय को मिला क्या चलाएं और जिस तरह यूपी यूपी में योगी जी के शासन है कि एक भी दिन का ही लेना ही नहीं हो आप स्वतंत्र हैं आप कोई भी कदम उठाई अकड़ा तेवर कानून का राज हो ऐसी आप लेकर चलेंगे उसमें कोई दिक्कत नहीं जिस दिन भूत की अब राजनीति करेंगे उस दिन आपको सीएम पद की रेस से गिरना पड़ेगा

arvind kejriwal bapu mukhyamantri hum log bana diya vote dekar janta lekin mukhyamantri ke layak me mukhyamantri ka naam cm cm ka matlab chief minister ho gaya chief minister ki kitni power hoti hai chief minister naam lene me mukhyamantri ka kitna hi hota hai lekin uska prabhav nahi hai yah log sirf gandi raajneeti karte hain main un netaon ke bahut jeena ki drishti se dekhta hoon koi bhi nahi aur main aisa chahta hoon ki 15 baras 10 baras ka sanaki delhi me inki sirf aadhe se adhik jhuth bolte hain nahi jo aap kehte ho kuch toh kiya karo aap theek hai jitna bole utana nahi kiya lekin main ek baat zaroor batana chahunga ki 15 varsh shasan ki inko abhi tak yah pata nahi hua aur ki aur wahi 2 baras jaaye hamare up ke yogi ji is aasan ke dono ka fark mila liye toh kejriwal ji ko main kehna chahunga ki bhale hi hum hain lekin inke bus ki cheez nahi hai delhi sambhal sake khair public jaisi iccha main unko samarthan karta hoon ki nahi bhai aapko agar jeete hain toh lekin yah chahenge ki poore samuday ko mila kya chalaye aur jis tarah up up me yogi ji ke shasan hai ki ek bhi din ka hi lena hi nahi ho aap swatantra hain aap koi bhi kadam uthayi akada tewar kanoon ka raj ho aisi aap lekar chalenge usme koi dikkat nahi jis din bhoot ki ab raajneeti karenge us din aapko cm pad ki race se girna padega

अरविंद केजरीवाल बापू मुख्यमंत्री हम लोग बना दिया वोट देकर जनता लेकिन मुख्यमंत्री के लायक

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  6  Dislikes    views  125
WhatsApp_icon
user

Shailesh Thakur

Abhi To Graduate hu.

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कि वे जब हमारे देश के जवानों ने सर्जिकल स्ट्राइक के s-type के तब भी आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल को हमारे सेना के जवानों पर संदेह था कि उन्होंने पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक की है या नहीं यही एक कारण है कि भाजपा के युवा आम आदमी पार्टी अरविंद केजरीवाल को नापसंद करते और अरविंद केजरीवाल मुस्लिम तुष्टिकरण करते हैं

ki ve jab hamare desh ke jawano ne surgical strike ke s type ke tab bhi aam aadmi party aur arvind kejriwal ko hamare sena ke jawano par sandeh tha ki unhone pakistan me surgical strike ki hai ya nahi yahi ek karan hai ki bhajpa ke yuva aam aadmi party arvind kejriwal ko napasand karte aur arvind kejriwal muslim Tustikaran karte hain

कि वे जब हमारे देश के जवानों ने सर्जिकल स्ट्राइक के s-type के तब भी आम आदमी पार्टी और अरवि

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
user
0:51
Play

Likes  3  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
play
user

Kumar

Social Worker

0:41

Likes  26  Dislikes    views  515
WhatsApp_icon
user

Sandeep Singh

Business Owner

4:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाजपा समर्थक केजरीवाल को भी पसंद नहीं करते क्योंकि जिस प्रकार की राजनीति करते हैं राजनीति अच्छी लगती हो झूठ की राजनीति करते हुए क्योंकि मैंने खुद केजरीवाल को मैंने कुछ दोस्त बहुत अच्छा नेता के रूप में देखा था जब वह चैटिंग में दिल्ली में रेप किया था दो बहुत सा ऐसा चीजें देखकर मुझे लगा कि हम इंसान दिल्ली को ठीक करेगा या जिनका नाम के लिए लेकिन उसके बाद झज्जार इस टाइप की राजनीति कर रहे थे वह बहुत से लोगों को पसंद नहीं आई अरविंद केजरीवाल जिस प्रकार का मुद्दा उठा लो अभी मां विजय पिक अप राम लखन नाटक का छोटा-मोटा उठा और प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दो मेरे पास ही है मेरे पास हुआ है यह सब ऐसा कोई सबूत मिलता है कोई एक्टिविटी द्वारा होती है और बहुत ही चीजों में मैंने देखा है अरुण जेटली से माफी मांगे केजरीवाल की राजनीति से ज्यादा फिर वह जाकर लैब करते हुए भारत के कुछ देखते हैं लेकिन अंदर कुछ ऐसे ही जैसे लगते हैं जैसे को और सरकारी कर्मचारियों को जिस लैंग्वेज में बात करते हो अपने देश के पीएम जिस लैंग्वेज में बात करते हैं और उनका नेचर उनका जब फूल खिले तहसील होने के बाद अंकल कुछ बातें करना पसंद करोगे फिल्म को कैसे बोलना चाहिए अपने बड़े अधिकारियों से कैसे बात करनी चाहिए वह छोटे काम करते हैं सोचते हैं कि हाल सब कुछ नहीं हुई और नहीं आदिल को पूरा चला लूंगा सब मेरे अंदर ही काम करेंगे मैं जैसा बोलो केजरीवाल की नई नई कौन सी कुछ कारणों से वह लोगों को अच्छे नहीं लगते और और बहुत से उनके छोटे कैसे तो सबको मालूम है कि मैं कांग्रेस के साथ मिली रविवार मना लूंगा मेरे बच्चों की कसम खाता हूं फिर से तोड़ दूं मैं गाड़ी नहीं ली मां बनने वाली गाड़ी ले लेते हो टाइप की फिर वो नहीं रही हो सीएम बनने के बाद तो बहुत से चेंजेज में आगे जो कि सबके सामने विनय सपने देखें श्री जंक्शन बस केजरीवाल को जय हिंद

bhajpa samarthak kejriwal ko bhi pasand nahi karte kyonki jis prakar ki raajneeti karte hain raajneeti achi lagti ho jhuth ki raajneeti karte hue kyonki maine khud kejriwal ko maine kuch dost bahut accha neta ke roop me dekha tha jab vaah chatting me delhi me rape kiya tha do bahut sa aisa cheezen dekhkar mujhe laga ki hum insaan delhi ko theek karega ya jinka naam ke liye lekin uske baad jhajjar is type ki raajneeti kar rahe the vaah bahut se logo ko pasand nahi I arvind kejriwal jis prakar ka mudda utha lo abhi maa vijay pic up ram lakhan natak ka chota mota utha aur press conference kar do mere paas hi hai mere paas hua hai yah sab aisa koi sabut milta hai koi activity dwara hoti hai aur bahut hi chijon me maine dekha hai arun jaitley se maafi mange kejriwal ki raajneeti se zyada phir vaah jaakar lab karte hue bharat ke kuch dekhte hain lekin andar kuch aise hi jaise lagte hain jaise ko aur sarkari karmachariyon ko jis language me baat karte ho apne desh ke pm jis language me baat karte hain aur unka nature unka jab fool khile tehsil hone ke baad uncle kuch batein karna pasand karoge film ko kaise bolna chahiye apne bade adhikaariyo se kaise baat karni chahiye vaah chote kaam karte hain sochte hain ki haal sab kuch nahi hui aur nahi adil ko pura chala lunga sab mere andar hi kaam karenge main jaisa bolo kejriwal ki nayi nayi kaun si kuch karanon se vaah logo ko acche nahi lagte aur aur bahut se unke chote kaise toh sabko maloom hai ki main congress ke saath mili raviwar mana lunga mere baccho ki kasam khaata hoon phir se tod doon main gaadi nahi li maa banne wali gaadi le lete ho type ki phir vo nahi rahi ho cm banne ke baad toh bahut se changes me aage jo ki sabke saamne vinay sapne dekhen shri junction bus kejriwal ko jai hind

भाजपा समर्थक केजरीवाल को भी पसंद नहीं करते क्योंकि जिस प्रकार की राजनीति करते हैं राजनीति

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user

Ankit raja

ushari Hasanpura

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाजपा समर्थन अरविंद केजरीवाल को नापसंद क्यों करते हैं मैं आपको बता दूं भाजपा समर्थन अरविंद केजरीवाल को पसंद इसलिए नहीं करते हैं क्योंकि इलेक्शन के टाइम में अरविंद केजरीवाल ने बिजली का बिल फ्री क्यों नहीं किया वह अपने इलेक्शन के रोटी सेकने के लिए बिजली का बिल फ्री कर दिया तो वहां के दिल्ली के आम जनता के लिए आम जनता को कुछ नहीं हुआ आम जनता के लिए कुछ नहीं की है वहां के बिजनेसमैन जितने भी हैं उस बिजनेसमैन के लिए फ्री हो गया इसलिए अरविंद केजरीवाल से भाजपा के समर्थन नफरत करते क्योंकि अब अरविंद केजरीवाल गद्दार है देशद्रोही है और धोखेबाज है

bhajpa samarthan arvind kejriwal ko napasand kyon karte hain main aapko bata doon bhajpa samarthan arvind kejriwal ko pasand isliye nahi karte hain kyonki election ke time me arvind kejriwal ne bijli ka bill free kyon nahi kiya vaah apne election ke roti sekne ke liye bijli ka bill free kar diya toh wahan ke delhi ke aam janta ke liye aam janta ko kuch nahi hua aam janta ke liye kuch nahi ki hai wahan ke bussinessmen jitne bhi hain us bussinessmen ke liye free ho gaya isliye arvind kejriwal se bhajpa ke samarthan nafrat karte kyonki ab arvind kejriwal gaddar hai deshdrohi hai aur dhokhebaj hai

भाजपा समर्थन अरविंद केजरीवाल को नापसंद क्यों करते हैं मैं आपको बता दूं भाजपा समर्थन अरविंद

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user
2:28
Play

Likes  6  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
user
0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को पसंद इसलिए नहीं करते क्योंकि अरविंद केजरीवाल हमेशा हर जगह पर सिर्फ और सिर्फ भाजपा की बुराई करते हैं चाहे भाजपा का अच्छा फैसला हो चाहे भाजपा का फैसला हो इसीलिए उन्हें कोई भाजपा के समर्थक हूं पसंद नहीं करते हैं सबसे बड़ा मुद्दा आप देखिए जब वह कहीं रैली में जाते हैं तो कुछ भी करते हैं तो वह सीधे सीधे भाजपा पर अपना निशाना बनाते हैं वह यह सोचते हैं कि दिल्ली में सब कुछ उन्होंने किया है हां मैं मानता हूं दिल्ली में उन्होंने बहुत सुधार किए हैं ताकि नहीं जो वह कहते कि भाजपा ने कुछ किया ही नहीं जो किया है शीला दीक्षित पुरानी मुख्यमंत्री उन्होंने किया है फिर उससे ज्यादा किया है तो कि अरविंद केजरीवाल शब्द किया

bhajpa samarthak arvind kejriwal ko pasand isliye nahi karte kyonki arvind kejriwal hamesha har jagah par sirf aur sirf bhajpa ki burayi karte hain chahen bhajpa ka accha faisla ho chahen bhajpa ka faisla ho isliye unhe koi bhajpa ke samarthak hoon pasand nahi karte hain sabse bada mudda aap dekhiye jab vaah kahin rally me jaate hain toh kuch bhi karte hain toh vaah sidhe sidhe bhajpa par apna nishana banate hain vaah yah sochte hain ki delhi me sab kuch unhone kiya hai haan main maanta hoon delhi me unhone bahut sudhaar kiye hain taki nahi jo vaah kehte ki bhajpa ne kuch kiya hi nahi jo kiya hai shila dixit purani mukhyamantri unhone kiya hai phir usse zyada kiya hai toh ki arvind kejriwal shabd kiya

भाजपा समर्थक अरविंद केजरीवाल को पसंद इसलिए नहीं करते क्योंकि अरविंद केजरीवाल हमेशा हर जगह

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  92
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!