मोदी को वोट न देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार क्यों है?...


user

Mayur

Orator, Philosopher, Motivational Speaker, Counsellor, Entrepreneur

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोदी को वोट नहीं देने का मतलब यह बिल्कुल नहीं है क्या आप उसकी आलोचना नहीं कर सकते हैं क्योंकि क्रिटिसिज्म इज द बैक बोन ऑफ डेमोक्रेसी लोकतंत्र में सरकार के ऊपर अंकुश लगाने का काम विपक्ष का होता है और जनता का होता है मोदी सरकार को पूरा का पूरा सौ पर्सेंट वोट नहीं मिला है मोदी सरकार को 18 परसेंट वोट मिला है जिसके बल पर सरकार बनाई है बाकी बोर्ड सारे अलग-अलग लोगों को अलग-अलग पार्टियों को मिला है अलग-अलग लोगों ने दिया तो किसे मानते हैं इसका मतलब यह नहीं है कि वह सुपर हो गया मोदी जी देश नहीं हजारों मोदी आएंगे जाएंगे लेकिन देश बना रहेगा तो देश सबसे आगे देश की चिंता देश की हित का मतलब यह नहीं है कि हम उसी से सरकार की आलोचना नहीं कर सकता सरकार की आलोचना बहुत जरूरी है इस सरकार का अंकुश बना रहता है और गलत नीतियां अगर होती है किसी भी सरकार की चाहे वो कोई भी सरकार मोदी सरकार कांग्रेस सरकार हो तो हर एक इंसान को हक है कि वह उसको क्रिटिसाइज करें लोकतंत्र की यही खूबी है कि आप गलत चीज के खिलाफ आवाज उठा सकते हैं आप इसके लिए फ्री हैं लेकिन वह संवैधानिक होना चाहिए किसी भी प्रकार की गलत गलत बात है ना फैलाएं आप लोग के वोट नहीं दिए हैं तो आलोचना घड़ी का अधिकार क्यों है यह साफ-साफ आप इसमें पूछने की आलोचना का अधिकार क्यों आपको यह पता नहीं है पहले क्या सोचना क्यों कर रहे हो ठीक है आप आज आपको अपने मन को उत्तर मिल गया होगा पसंद है तो लाइक कर फॉलो कीजिए धन्यवाद

modi ko vote nahi dene ka matlab yah bilkul nahi hai kya aap uski aalochana nahi kar sakte hain kyonki kritisijm is the back bone of democracy loktantra me sarkar ke upar ankush lagane ka kaam vipaksh ka hota hai aur janta ka hota hai modi sarkar ko pura ka pura sau percent vote nahi mila hai modi sarkar ko 18 percent vote mila hai jiske bal par sarkar banai hai baki board saare alag alag logo ko alag alag partiyon ko mila hai alag alag logo ne diya toh kise maante hain iska matlab yah nahi hai ki vaah super ho gaya modi ji desh nahi hazaro modi aayenge jaenge lekin desh bana rahega toh desh sabse aage desh ki chinta desh ki hit ka matlab yah nahi hai ki hum usi se sarkar ki aalochana nahi kar sakta sarkar ki aalochana bahut zaroori hai is sarkar ka ankush bana rehta hai aur galat nitiyan agar hoti hai kisi bhi sarkar ki chahen vo koi bhi sarkar modi sarkar congress sarkar ho toh har ek insaan ko haq hai ki vaah usko criticize kare loktantra ki yahi khoobi hai ki aap galat cheez ke khilaf awaaz utha sakte hain aap iske liye free hain lekin vaah samvaidhanik hona chahiye kisi bhi prakar ki galat galat baat hai na failaen aap log ke vote nahi diye hain toh aalochana ghadi ka adhikaar kyon hai yah saaf saaf aap isme poochne ki aalochana ka adhikaar kyon aapko yah pata nahi hai pehle kya sochna kyon kar rahe ho theek hai aap aaj aapko apne man ko uttar mil gaya hoga pasand hai toh like kar follow kijiye dhanyavad

मोदी को वोट नहीं देने का मतलब यह बिल्कुल नहीं है क्या आप उसकी आलोचना नहीं कर सकते हैं क्यो

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
2:09
Play

Likes  3  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि यह अधिकार उनको संविधान देता है नरेंद्र मोदी जी 130 करोड़ देशवासियों के प्रधान सेवक हैं प्रधानमंत्री हैं चौकीदार हैं उनको वोट न देने वाला व्यक्ति भी उनकी आलोचना कर सकता है वोट नहीं दिया है तो उसके पीछे कोई न कोई वजह होगी और यह संविधान अधिकार देता है यह लोकतंत्र है कि आप किसी के बारे में अच्छा या बुरा कर सकते हैं हां उसके कहने के पीछे आधार होना चाहिए और इस देश में बहुत से लोग राजनीतिक पार्टियों से जुड़े हैं किसी विचार से जुड़े हैं इस वजह से वह माननीय नरेंद्र मोदी जी का विरोध करते हैं उसके पीछे बस वजह यही है और संविधान सबको अधिकार देता है कि किसी के बारे में अच्छा या बुरा कहने का और रही बात एक अच्छी सरकार चलाने के लिए एक अच्छा विपक्ष भी होना चाहिए मेरा जहां तक मानना है जब प्रधान सेवक की आलोचना करेंगे तो प्रधान सेवक काम और अच्छे से करेगा इसीलिए किसी भी सरकार की आलोचना होना जरूरी भी है मैं ऐसा मानता हूं

kyonki yah adhikaar unko samvidhan deta hai narendra modi ji 130 crore deshvasiyon ke pradhan sevak hain pradhanmantri hain chaukidaar hain unko vote na dene vala vyakti bhi unki aalochana kar sakta hai vote nahi diya hai toh uske peeche koi na koi wajah hogi aur yah samvidhan adhikaar deta hai yah loktantra hai ki aap kisi ke bare me accha ya bura kar sakte hain haan uske kehne ke peeche aadhar hona chahiye aur is desh me bahut se log raajnitik partiyon se jude hain kisi vichar se jude hain is wajah se vaah mananiya narendra modi ji ka virodh karte hain uske peeche bus wajah yahi hai aur samvidhan sabko adhikaar deta hai ki kisi ke bare me accha ya bura kehne ka aur rahi baat ek achi sarkar chalane ke liye ek accha vipaksh bhi hona chahiye mera jaha tak manana hai jab pradhan sevak ki aalochana karenge toh pradhan sevak kaam aur acche se karega isliye kisi bhi sarkar ki aalochana hona zaroori bhi hai main aisa maanta hoon

क्योंकि यह अधिकार उनको संविधान देता है नरेंद्र मोदी जी 130 करोड़ देशवासियों के प्रधान सेव

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  96
WhatsApp_icon
user

Sanjoy Sachdev

Life Coach | Chairman Love Commandos

3:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बड़ा अजीब सा सवाल है आपका मोदी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार तो सवाल वोट देने वालों का या ना देने वालों का नहीं है देश के हर उस नागरिक को जो देश के संविधान में विश्वास रखता है और उसे लगता है कि देश का मौजूदा नेतृत्व नरेंद्र मोदी कर रहे हो या कोई और करें वह जनता की इच्छाओं पर खरा नहीं उतर रहा उसकी नीतियां देश हित में नहीं है यह जो भी कुछ उसे लगता है उस नेता की आलोचना करने का पूरा अधिकारी है सिर्फ आप यह क्यों मानते हैं कि इसको वोट नहीं देते वही आलोचना करें बहुत से ऐसे लोग हर हीरालाल उसका कर रहे हैं कई लोगों को यहां तक और कहा कि मुझे बीजेपी को वोट दें का दुख है कि मैंने ऐसा किया उनको अधिकार है ना आप भी भारत के नागरिक हैं आपको भी वही पूरा अधिकार है अनुष्का करने का और आलोचना सत्ताधारी दल की होती तू सरकार वह चला रहे होते एक अजीब सा ट्रेंड चला है विपक्ष की निंदा या आलोचना करने का विपक्ष के पास जो सत्ता ही नहीं है पूरी दुनिया में एक ही नियम है कि जो सत्ता में होता है जो सरकार में होता है लोकतंत्र में उसकी गलतियां लोग निकालते हैं तभी लोकतंत्र जिंदा रहता है यदि लो ऐसा करना बंद कर देंगे रे लोकतंत्र खत्म हो जाएगा तानाशाही हावी हो जाएगी भारत को बचाना है भारत के लोकतंत्र को बचाना है तो लोगों की आलोचना का अधिकार रहना चाहिए एक समय की बात है राजीव गांधी आईटी डिफेक्शन लाल लेकर आए थे उससे पहले देश में जनों के अंदर भी दल के नेताओं की आलोचना होती थी स्वच्छता के साथ बहुत अच्छा समय था जो मूल तंत्र है भारत के संविधान कर लोकतंत्र का लेकिन जब सौदेबाजी होने लगी सांसदों की विधायकों की तो वह बिल लाया गया यदि देखा जाए संवैधानिक दृष्टि से तोहार एक व्यक्ति को ऊंचाई किसी को वोट दे या ना दे उसके गलत कार्यों की गलत नीतियों की आलोचना करने का अधिकार है था और रहेगा इस अधिकार पर अंकुश लगाने का काम करने वाले देशद्रोही हैं भारत के संविधान का अपमान करने वाले हैं ऐसे तत्वों को सामाजिक जीवन एक बार करके ही इस देश की रक्षा हो सकती है नमस्कार

bada ajib sa sawaal hai aapka modi ko vote na dene walon ko unki aalochana karne ka adhikaar toh sawaal vote dene walon ka ya na dene walon ka nahi hai desh ke har us nagarik ko jo desh ke samvidhan me vishwas rakhta hai aur use lagta hai ki desh ka maujuda netritva narendra modi kar rahe ho ya koi aur kare vaah janta ki ikchao par Khara nahi utar raha uski nitiyan desh hit me nahi hai yah jo bhi kuch use lagta hai us neta ki aalochana karne ka pura adhikari hai sirf aap yah kyon maante hain ki isko vote nahi dete wahi aalochana kare bahut se aise log har HEERALAAL uska kar rahe hain kai logo ko yahan tak aur kaha ki mujhe bjp ko vote de ka dukh hai ki maine aisa kiya unko adhikaar hai na aap bhi bharat ke nagarik hain aapko bhi wahi pura adhikaar hai anushka karne ka aur aalochana sattadhari dal ki hoti tu sarkar vaah chala rahe hote ek ajib sa trend chala hai vipaksh ki ninda ya aalochana karne ka vipaksh ke paas jo satta hi nahi hai puri duniya me ek hi niyam hai ki jo satta me hota hai jo sarkar me hota hai loktantra me uski galtiya log nikalate hain tabhi loktantra zinda rehta hai yadi lo aisa karna band kar denge ray loktantra khatam ho jaega tanashahi haavi ho jayegi bharat ko bachaana hai bharat ke loktantra ko bachaana hai toh logo ki aalochana ka adhikaar rehna chahiye ek samay ki baat hai rajeev gandhi it defection laal lekar aaye the usse pehle desh me jano ke andar bhi dal ke netaon ki aalochana hoti thi swachhta ke saath bahut accha samay tha jo mul tantra hai bharat ke samvidhan kar loktantra ka lekin jab saudebaaji hone lagi sansadon ki vidhayakon ki toh vaah bill laya gaya yadi dekha jaaye samvaidhanik drishti se tohar ek vyakti ko unchai kisi ko vote de ya na de uske galat karyo ki galat nitiyon ki aalochana karne ka adhikaar hai tha aur rahega is adhikaar par ankush lagane ka kaam karne waale deshdrohi hain bharat ke samvidhan ka apman karne waale hain aise tatvon ko samajik jeevan ek baar karke hi is desh ki raksha ho sakti hai namaskar

बड़ा अजीब सा सवाल है आपका मोदी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार तो सवाल

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  303
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है मोदी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार क्यों है वसुधा भारत एक लोकतंत्र है और लोकतंत्र में जनता में ही सारी शक्ति निहित होती है वास्तविक शक्ति जनता में ही निहित होती है जनता के मताधिकार के प्रयोग के द्वारा ही सर्वोच्च पदों पर बैठे लोगों का निर्वाचन होता है जैसे कि राष्ट्रपति उसका अप्रत्यक्ष निर्वाचन होता है और प्रधानमंत्री उसका प्रत्यक्ष निर्वाचन होता है सांसद के रूप में भारत का संविधान भारत के संविधान में आर्टिकल 19 अनुच्छेद 19 19 में अभिव्यक्ति और विचार की स्वतंत्रता की आजादी अभिव्यक्ति और विचार की स्वतंत्रता दी गई उसको प्रदर्शन करने की शक्ति दी गई आपको संविधान में अधिकार प्राप्त हैं तो सरकार या सरकार में बैठे किसी व्यक्ति यहां पर न्यायपालिका को हम थोड़ा सा अलग करते हैं उसके निर्णय के विरोध का दूसरा तरीका है तो सरकार अर्थात जैसे कि हम मोदी आप कह रहे हैं यहां पर जो सर्वोच्च उपाधि कार्यपालिका का राष्ट्रपति के अतिरिक्त सरकार में बैठे किसी भी व्यक्ति की आलोचना जनता का मौलिक अधिकार है जनता की विचार एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अंतर्गत आता है आप उनके समर्थन में अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं और उसी प्रकार उनकी किसी नीति के विरोध में अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं यह आपको अधिकार संविधान ने प्रदान किया है इसलिए मोदी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार प्राप्त है

aapka prashna hai modi ko vote na dene walon ko unki aalochana karne ka adhikaar kyon hai vasudha bharat ek loktantra hai aur loktantra me janta me hi saari shakti nihit hoti hai vastavik shakti janta me hi nihit hoti hai janta ke matadhikar ke prayog ke dwara hi sarvoch padon par baithe logo ka nirvachan hota hai jaise ki rashtrapati uska apratyaksh nirvachan hota hai aur pradhanmantri uska pratyaksh nirvachan hota hai saansad ke roop me bharat ka samvidhan bharat ke samvidhan me article 19 anuched 19 19 me abhivyakti aur vichar ki swatantrata ki azadi abhivyakti aur vichar ki swatantrata di gayi usko pradarshan karne ki shakti di gayi aapko samvidhan me adhikaar prapt hain toh sarkar ya sarkar me baithe kisi vyakti yahan par nyaypalika ko hum thoda sa alag karte hain uske nirnay ke virodh ka doosra tarika hai toh sarkar arthat jaise ki hum modi aap keh rahe hain yahan par jo sarvoch upadhi karyapalika ka rashtrapati ke atirikt sarkar me baithe kisi bhi vyakti ki aalochana janta ka maulik adhikaar hai janta ki vichar evam abhivyakti ki swatantrata ke antargat aata hai aap unke samarthan me apne vichar vyakt kar sakte hain aur usi prakar unki kisi niti ke virodh me apne vichar vyakt kar sakte hain yah aapko adhikaar samvidhan ne pradan kiya hai isliye modi ko vote na dene walon ko unki aalochana karne ka adhikaar prapt hai

आपका प्रश्न है मोदी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार क्यों है वसुधा भारत

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  176
WhatsApp_icon
user

Prem Ranjan

Career Counsellor, Motivational Speaker, Educationist

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जानकारी के लिए आपको बता दूं कि नरेंद्र मोदी सिर्फ उनके प्रधानमंत्री नहीं है जिन्हें ने उनको वोट किया था हम अपनी सरकार को वोट करें या ना करें अगर उस सरकार को हमारी देश की जनता ने एक जिम्मेदारी सौंपी है कि आप देश के विधि व्यवस्था को अपने हिसाब से संभाल ली उसे चलाइए तो यह मायने नहीं रखता कि हमने उन्हें वोट किया था नहीं हम लोकतांत्रिक प्रणाली जैसे देश के नागरिक हैं अतः वह सरकार हमारी भी हम वोट उसे करें या ना करें हमारा फर्ज बनता है कि हम उनके अच्छाई में उनके साथ रहे और उनकी बुराई में उनका आलोचना करें अतः लोकतांत्रिक प्रणाली जैसे देशों में सरकार किसी एक व्यक्ति की यासिर मोटर की नहीं होती है वह तमाम जनता उन्हीं की जनता होती है और हर जनता को बराबर हक है कि वह सरकार की गलत कार्यों पर उनकी आलोचना करें

jaankari ke liye aapko bata doon ki narendra modi sirf unke pradhanmantri nahi hai jinhen ne unko vote kiya tha hum apni sarkar ko vote kare ya na kare agar us sarkar ko hamari desh ki janta ne ek jimmedari saumpi hai ki aap desh ke vidhi vyavastha ko apne hisab se sambhaal li use chalaiye toh yah maayne nahi rakhta ki humne unhe vote kiya tha nahi hum loktantrik pranali jaise desh ke nagarik hain atah vaah sarkar hamari bhi hum vote use kare ya na kare hamara farz banta hai ki hum unke acchai me unke saath rahe aur unki burayi me unka aalochana kare atah loktantrik pranali jaise deshon me sarkar kisi ek vyakti ki yasir motor ki nahi hoti hai vaah tamaam janta unhi ki janta hoti hai aur har janta ko barabar haq hai ki vaah sarkar ki galat karyo par unki aalochana kare

जानकारी के लिए आपको बता दूं कि नरेंद्र मोदी सिर्फ उनके प्रधानमंत्री नहीं है जिन्हें ने उनक

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  100
WhatsApp_icon
user

Rubal Sharma

Politician

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोकतंत्र में लोगों को अपना नेता चुनने का अधिकार होता है और पार्टियां अलग-अलग होती है भिन्न-भिन्न पार्टी होती हैं नेता लक लक जब चुनाव के समय में हर वोटर अपने नेता को और अपनी पार्टी को जिताना चाहता है हर पार्टी का क्योंकि एक अलग मेनिफेस्टो होता है वह लोगों के बीच में जाते हैं और अपने मेनिफेस्टो की बात करते हैं और अपना वोट मांगते हैं अब रही बात चुनाव के बाद कि जो भी व्यक्ति चुनाव जीता है प्रधानमंत्री सर्वोच्च पद किसी भी देश के लिए होता है और हमारे देश के लिए भी है माननीय मोदी जी हमारे देश के प्रधानमंत्री अब पूरे देश की बागडोर उनके हाथ में है अब हमारे मौलिक अधिकारों में हमें यह बताया गया है कि हमें आलोचना का अधिकार है उसमें हमारे कुछ मौलिक अधिकार भी हैं और कर्तव्य भी तो पूर्व अब वह किसी पार्टी के लीडर तो ही पार्टी को तो देखते हैं लेकिन अब उन्होंने पूरा देश देखना है तो किसी को भी उनकी आलोचना करने का पूरा पूरा अधिकार है यदि वह अपनी कसौटी पर खरा नहीं होता और जो चल रहा है वह आपको पता ही है देश में क्या चल रहा है

loktantra me logo ko apna neta chunane ka adhikaar hota hai aur partyian alag alag hoti hai bhinn bhinn party hoti hain neta luck luck jab chunav ke samay me har voter apne neta ko aur apni party ko jitana chahta hai har party ka kyonki ek alag Menifesto hota hai vaah logo ke beech me jaate hain aur apne Menifesto ki baat karte hain aur apna vote mangate hain ab rahi baat chunav ke baad ki jo bhi vyakti chunav jita hai pradhanmantri sarvoch pad kisi bhi desh ke liye hota hai aur hamare desh ke liye bhi hai mananiya modi ji hamare desh ke pradhanmantri ab poore desh ki baghdor unke hath me hai ab hamare maulik adhikaaro me hamein yah bataya gaya hai ki hamein aalochana ka adhikaar hai usme hamare kuch maulik adhikaar bhi hain aur kartavya bhi toh purv ab vaah kisi party ke leader toh hi party ko toh dekhte hain lekin ab unhone pura desh dekhna hai toh kisi ko bhi unki aalochana karne ka pura pura adhikaar hai yadi vaah apni kasouti par Khara nahi hota aur jo chal raha hai vaah aapko pata hi hai desh me kya chal raha hai

लोकतंत्र में लोगों को अपना नेता चुनने का अधिकार होता है और पार्टियां अलग-अलग होती है भिन्न

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  61
WhatsApp_icon
user

नरेन्द्र शिवाजी पटेल

Engineer, समाज सेवक, अध्यात्म जिज्ञासु

4:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए लोकतंत्र में सभी को अपने जनप्रतिनिधियों की समालोचना करने की स्वतंत्रता है बिल्कुल उनके बारे में जो भी लोकतांत्रिक तरीके से और अमर्यादित शब्दों में बात कही जा सकती हो कहीं भी जानी चाहिए और वोट दिया हो या ना दिया हो परंतु प्रधानमंत्री तो सभी के होते हैं तो समस्त नागरिक अपने प्रधानमंत्री के कार्यों की समालोचना मर्यादित शब्दों में करने का अधिकार है परंतु आलोचना केवल सुनी सुनाई बातों पर हम करते हैं जो विपक्षी दल भ्रम पैदा करने की कोशिश करते हैं जो वोट बैंक की राजनीति करते थे आज उनकी राजनीति नहीं चल पा रही है ऐसे लोग कोई मोदी जी के बारे में गलत बातें फैलाते हैं उन्हीं बातों के लिए हम दौर आने लगे तो नहीं है आपने मोदी जी को वोट दिया हो या ना दिया हो परंतु यदि आप बन के कामों को देखेंगे उन्होंने जो भारतवर्ष की उन्नति के लिए काम किया भारतवर्ष की एकता की जो काम किया भारत वर्ष की गई अपनी जो काम किया किसी भी पंत जाति धर्म में सबका में भेदभाव नहीं किया उज्जवला कनेक्शन हो चाहे प्रधानमंत्री आवास योजना हो जाए शौचालय का निर्माण स्तर की समस्त योजना में किसान सम्मान निधि कौन किस जाति का किस धर्म का केस बंद रही है थोड़ी देखा गया पूरे 36 करोड़ भारतीय नागरिकों को एक दृष्टि से देखा गया सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास का मंत्र लिखकर मोदी जी आगे बढ़ रहे हैं जब आप उनके काम में कोई ऐसी बात देख नहीं रही तो आप क्यों उनकी आलोचना करेंगे हां जहां तक कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिनके बारे में भ्रमित करने की कोशिश करते हैं उनको भी आप भारत के नागरिक के रूप में स्वतंत्र नागरिक के रूप में जो विचार करेंगे तो पाएंगे कि नरेंद्र मोदी जी ने जितने भी निर्णय कश्मीर में 370 धारा हटाने का बातों के तीन तलाक हटाने की बात हो चाहे सीसीए हो यह सारे के सारे देश हित में लिए गए निर्णय हैं और तीन तलाक तो अनेकों मुस्लिम देशों में तीन तलाक को दशकों से प्रतिबंधित कर दिया गया लेकिन अपने देश में प्रतिबंधित नहीं था क्यों नहीं होना चाहिए भाई जब मुस्लिम देश भी उसको स्वीकार नहीं कर रहा है मुस्लिम इस देश को मानवता के खिलाफ सामाजिक नियमों के खिलाफ मानना तो हम क्यों नहीं मारना चाहिए था सुप्रीम कोर्ट ने भी उसके बारे में दिया था लेकिन पूर्वर्ती सरकार कट्टरपंथियों के दबाव में जाती थी और नहीं करती थी आज नरेंद्र मोदी ने दिखाकर मुस्लिम माता बहनों को से मुक्ति दिलाई है उसमें कांग्रेस के लोग और जो अन्य विपक्षी दलों ने कम लोग हैं उन लोगों ने भी इस मुद्दे को लेकर लोगों को भड़काने की कोशिश की जबकि उसका भारतीय मुसलमानों से कोई संबंध नहीं था कि 1 देशों में अल्पसंख्यक है जो पाकिस्तान बांग्लादेश और पाकिस्तान में अल्पसंख्यक लोगों को मां पर प्रताड़ना की जाती है यदि तीनों के तीनों देश से उसे तो मुस्लिम देश हैं तो वहां पर जो अल्पसंख्यक एवं को संरक्षण प्राप्त नहीं होता और उन को संरक्षण देने के लिए हमने शिष्य बनाया जो बांग्लादेश पाकिस्तान तो हमारे देश के सराय पहले अवैध जिस आधार पर बनकर अलग हुए हैं हम कहे कि नहीं पाकिस्तान और बांग्लादेश के मुसलमानों को भी आप पर नीम की पत्तियों को उन्होंने पाकिस्तान अलग बना या नहीं बना तेरी भारत में रहना था तो केवल बनाया गया उसमें क्या आपत्ति है कोई आपत्ति नहीं है भारतीय मुसलमानों को क्या उसमें मारा जा रहा है कोई भी हक नहीं मारा जा रहा भारतीय मुसलमानों के साथ कोई भी भेदभाव नहीं हो रहा तो केवल काम ने लोगों ने कांग्रेसी लोगों ने नरेंद्र मोदी के विरोधी लोगों ने इस तरह का भ्रम फैलाया समस्त के भरम में नरेंद्र मोदी जी के लिए कोई ऐसी आलोचना करना चाहते हैं जिसमें सुधार करने की आवश्यकता है जो नरेंद्र मोदी जी को आप सीधे सुझाव दे सकते हैं और जनता पार्टी को सजा दे सकते हैं नरेंद्र मोदी एप पर जाकर आप नरेंद्र मोदी से सीधा ठोस आलोचना है उसमें सुधार

dekhiye loktantra me sabhi ko apne janapratinidhiyon ki samalochna karne ki swatantrata hai bilkul unke bare me jo bhi loktantrik tarike se aur amaryadit shabdon me baat kahi ja sakti ho kahin bhi jani chahiye aur vote diya ho ya na diya ho parantu pradhanmantri toh sabhi ke hote hain toh samast nagarik apne pradhanmantri ke karyo ki samalochna maryadit shabdon me karne ka adhikaar hai parantu aalochana keval suni sunayi baaton par hum karte hain jo vipakshi dal bharam paida karne ki koshish karte hain jo vote bank ki raajneeti karte the aaj unki raajneeti nahi chal paa rahi hai aise log koi modi ji ke bare me galat batein failate hain unhi baaton ke liye hum daur aane lage toh nahi hai aapne modi ji ko vote diya ho ya na diya ho parantu yadi aap ban ke kaamo ko dekhenge unhone jo bharatvarsh ki unnati ke liye kaam kiya bharatvarsh ki ekta ki jo kaam kiya bharat varsh ki gayi apni jo kaam kiya kisi bhi pant jati dharm me sabka me bhedbhav nahi kiya ujjavala connection ho chahen pradhanmantri aawas yojana ho jaaye shauchalay ka nirmaan sthar ki samast yojana me kisan sammaan nidhi kaun kis jati ka kis dharm ka case band rahi hai thodi dekha gaya poore 36 crore bharatiya nagriko ko ek drishti se dekha gaya sabka saath sabka vikas sabka vishwas ka mantra likhkar modi ji aage badh rahe hain jab aap unke kaam me koi aisi baat dekh nahi rahi toh aap kyon unki aalochana karenge haan jaha tak kuch aise mudde hain jinke bare me bharmit karne ki koshish karte hain unko bhi aap bharat ke nagarik ke roop me swatantra nagarik ke roop me jo vichar karenge toh payenge ki narendra modi ji ne jitne bhi nirnay kashmir me 370 dhara hatane ka baaton ke teen talak hatane ki baat ho chahen CCA ho yah saare ke saare desh hit me liye gaye nirnay hain aur teen talak toh anekon muslim deshon me teen talak ko dashakon se pratibandhit kar diya gaya lekin apne desh me pratibandhit nahi tha kyon nahi hona chahiye bhai jab muslim desh bhi usko sweekar nahi kar raha hai muslim is desh ko manavta ke khilaf samajik niyamon ke khilaf manana toh hum kyon nahi marna chahiye tha supreme court ne bhi uske bare me diya tha lekin purvarti sarkar kattarapanthiyon ke dabaav me jaati thi aur nahi karti thi aaj narendra modi ne dikhakar muslim mata bahnon ko se mukti dilai hai usme congress ke log aur jo anya vipakshi dalon ne kam log hain un logo ne bhi is mudde ko lekar logo ko bhadkaane ki koshish ki jabki uska bharatiya musalmanon se koi sambandh nahi tha ki 1 deshon me alpsankhyak hai jo pakistan bangladesh aur pakistan me alpsankhyak logo ko maa par prataadana ki jaati hai yadi tatvo ke tatvo desh se use toh muslim desh hain toh wahan par jo alpsankhyak evam ko sanrakshan prapt nahi hota aur un ko sanrakshan dene ke liye humne shishya banaya jo bangladesh pakistan toh hamare desh ke sarai pehle awaidh jis aadhar par bankar alag hue hain hum kahe ki nahi pakistan aur bangladesh ke musalmanon ko bhi aap par neem ki pattiyo ko unhone pakistan alag bana ya nahi bana teri bharat me rehna tha toh keval banaya gaya usme kya apatti hai koi apatti nahi hai bharatiya musalmanon ko kya usme mara ja raha hai koi bhi haq nahi mara ja raha bharatiya musalmanon ke saath koi bhi bhedbhav nahi ho raha toh keval kaam ne logo ne congressi logo ne narendra modi ke virodhi logo ne is tarah ka bharam faelaya samast ke bharm me narendra modi ji ke liye koi aisi aalochana karna chahte hain jisme sudhaar karne ki avashyakta hai jo narendra modi ji ko aap sidhe sujhaav de sakte hain aur janta party ko saza de sakte hain narendra modi app par jaakar aap narendra modi se seedha thos aalochana hai usme sudhaar

देखिए लोकतंत्र में सभी को अपने जनप्रतिनिधियों की समालोचना करने की स्वतंत्रता है बिल्कुल उन

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user

Laxmikant Vyas

Politician

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह लोकतांत्रिक देश है और लोकतंत्र के अंदर सब को बोलने की आजादी है इसलिए वह वोट दे या ना दे देश का नागरिक होने के नाते उनकी बोलने का अधिकार तो मिल ही जाता है हां वैसे मोदी जी देश के लिए बहुत अच्छा काम करता मैं उनका करता हूं

yah loktantrik desh hai aur loktantra ke andar sab ko bolne ki azadi hai isliye vaah vote de ya na de desh ka nagarik hone ke naate unki bolne ka adhikaar toh mil hi jata hai haan waise modi ji desh ke liye bahut accha kaam karta main unka karta hoon

यह लोकतांत्रिक देश है और लोकतंत्र के अंदर सब को बोलने की आजादी है इसलिए वह वोट दे या ना दे

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  123
WhatsApp_icon
user

राकेश

Journalist

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा नहीं है आपने बोल दिया हूं या ना दिया हो आपको किसी की भी आलोचना करने का अधिकार है लेकिन आप जिस की भी आलोचना कर रहे हैं उसके संबंध में आपको अगर पूरी जानकारी होनी चाहिए आप जिस मुद्दे को लेकर आलोचना कर रहे हैं देखना होगा कि वह सही है या नहीं गलत कई बार ऐसा देखा गया है कि लोग गलत नीतियों को लेकर भटक जाते हैं और अकारण ही किसी का विरोध करने लगते हैं और बाद में जब तक उसको पछताना पड़ता है किसी का विरोध करना सही है या गलत

aisa nahi hai aapne bol diya hoon ya na diya ho aapko kisi ki bhi aalochana karne ka adhikaar hai lekin aap jis ki bhi aalochana kar rahe hain uske sambandh me aapko agar puri jaankari honi chahiye aap jis mudde ko lekar aalochana kar rahe hain dekhna hoga ki vaah sahi hai ya nahi galat kai baar aisa dekha gaya hai ki log galat nitiyon ko lekar bhatak jaate hain aur akaran hi kisi ka virodh karne lagte hain aur baad me jab tak usko pachhataana padta hai kisi ka virodh karna sahi hai ya galat

ऐसा नहीं है आपने बोल दिया हूं या ना दिया हो आपको किसी की भी आलोचना करने का अधिकार है लेकिन

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
user

Anil Bajpai

Writer | Publisher | Investor | Hotelier | Devloper

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है मोदी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार क्यों है देखिए भारत लोकतंत्र है और लोकतंत्र में वोट देने वाले को भी अधिकार है आलोचना करने का आरोप नहीं देने वाले को भी अधिकार है आलोचना करने का प्रधानमंत्री जी अगर अच्छा कार्य करते हैं तो वोट जिसने दिया है वह भी आलोचना कर सकता है जिसमें नहीं दिया है वह भी कर सकता

aapka prashna hai modi ko vote na dene walon ko unki aalochana karne ka adhikaar kyon hai dekhiye bharat loktantra hai aur loktantra me vote dene waale ko bhi adhikaar hai aalochana karne ka aarop nahi dene waale ko bhi adhikaar hai aalochana karne ka pradhanmantri ji agar accha karya karte hain toh vote jisne diya hai vaah bhi aalochana kar sakta hai jisme nahi diya hai vaah bhi kar sakta

आपका प्रश्न है मोदी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार क्यों है देखिए भारत

Romanized Version
Likes  121  Dislikes    views  1838
WhatsApp_icon
user

Charansingh

Politician/ Social Worker

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदू देश लोकतांत्रिक है यहां पर सभी को यह देश लोकतांत्रिक है यहां पर सभी को बोलने का अभिव्यक्ति की आजादी है और हमारे कोई जिम्मेदार व्यक्ति कोई प्रदूषित बड़ा व्यक्ति अगर है कि समाज और देश के प्रति जवाबदेही है उसके बारे में भी आलोचना करने का अधिकार सभी को है और यह अधिकार ही हमारी लोकतांत्रिक व्यवस्था को मजबूत करता है

hindu desh loktantrik hai yahan par sabhi ko yah desh loktantrik hai yahan par sabhi ko bolne ka abhivyakti ki azadi hai aur hamare koi zimmedar vyakti koi pradushit bada vyakti agar hai ki samaj aur desh ke prati javabdehi hai uske bare me bhi aalochana karne ka adhikaar sabhi ko hai aur yah adhikaar hi hamari loktantrik vyavastha ko majboot karta hai

हिंदू देश लोकतांत्रिक है यहां पर सभी को यह देश लोकतांत्रिक है यहां पर सभी को बोलने का अभिव

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  87
WhatsApp_icon
user

Vinod uttrakhand Tiwari

Author,Youtube(rastraniti)

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोदी जी को वोट देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार क्यों है वह इसीलिए है क्योंकि मोदी जी प्रधानमंत्री उन लोगों के लिए भी बन गए जिन लोगों ने मोदी जी को वोट नहीं दिया था अगर मैं आपको आंकड़े बताओ तो 18 करोड लोगों ने बीजेपी को वोट दिया था और 12 करोड़ लोगों ने कांग्रेस को वोट दिया था जो कि कुल वोटों का करीब करीब 40 परसेंटेज बीजेपी को मिला था और करीब करीब 30 परसेंटेज कांग्रेस को मिला था तो मोदी जी देश के 40 फ़ीसदी हिस्से के प्रधानमंत्री नहीं बने ना राहुल गांधी को 30% हिस्सों का प्रधानमंत्री बनाया गया तो आप अगर बुद्धिजीवी होंगे तो समझ गए होंगे अगर आप ऐसे ही रोचक वीडियोस ज्ञानवर्धक वीडियो देखना चाहते हैं तो यूट्यूब के सर्च बॉक्स में जाकर के टाइप करें विनोद उत्तराखंड दिवारी उसके नीचे एक चैनल आएगा थॉट ऑफ सक्सेस उसे सब्सक्राइब जरूर करें

modi ji ko vote dene walon ko unki aalochana karne ka adhikaar kyon hai vaah isliye hai kyonki modi ji pradhanmantri un logo ke liye bhi ban gaye jin logo ne modi ji ko vote nahi diya tha agar main aapko aankade batao toh 18 crore logo ne bjp ko vote diya tha aur 12 crore logo ne congress ko vote diya tha jo ki kul voton ka kareeb kareeb 40 percentage bjp ko mila tha aur kareeb kareeb 30 percentage congress ko mila tha toh modi ji desh ke 40 fisadi hisse ke pradhanmantri nahi bane na rahul gandhi ko 30 hisson ka pradhanmantri banaya gaya toh aap agar buddhijeevi honge toh samajh gaye honge agar aap aise hi rochak videos gyanavardhak video dekhna chahte hain toh youtube ke search box me jaakar ke type kare vinod uttarakhand divari uske niche ek channel aayega thought of success use subscribe zaroor kare

मोदी जी को वोट देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार क्यों है वह इसीलिए है क्योंकि मोदी

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  101
WhatsApp_icon
user

Bhuvi Jain

Engineer, Educator, Writer

3:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिन लोगों ने मोदी को वोट नहीं किया क्या उन्हें मोदी को क्रिटिसाइज करने का कोई हक है इस प्रश्न का एक सिंपल जवाब है क्योंकि जिन्होंने उनको वोट दिया वह तो क्रिटिसाइज करते ही नहीं है तो फिर चादर बुक करना भी नहीं चाहते तो फिर करेगा कौन सिटी साइज तो मोदी जी को वोट नहीं करने वालों के कारण कई हो सकते हैं उनका दूसरा किसी पार्टी पर विश्वास हो या वे बीजेपी के लिए वोट करना चाहते थे परंतु लोकल कैंडिडेट सही नहीं था करब था कम्युनल था इन एक्सपीरियंस था यह चाहे जो भी बचे हो या दूसरा कोई कैंडिडेट उससे बेहतर था अब एक-एक कारण बहुत अहम कारण जो कहते हैं कि इसके लिए लोग गांव बीजेपी मोदी जी के लिए वोट करना चाहते थे वह है कि ना दयानी की दर इस नो अल्टरनेटिव वाला फैक्टर तो यह मोदी जी के फेवर में माना चाहता था तो उस वोटर को कन्वेंस करने के यह काफी नहीं था इसलिए उसने मोदी जी को वोट नहीं दिया तो यह सो सकते हैं जिसके लिए के लोगों ने मोदी के लिए वोट नहीं किया हो बाकी जिन्होंने मोदी के लिए वोट किया तो वे काफी हस्ताक्षर थे कि उन्हें अपने देश के डोर जो है उनके हाथों में सौंपना है और यह था कि मोदी जी के नेतृत्व नेतृत्व पर उन्हें पूरा विश्वास था तुम मोदी बीजेपी को सात खून माफ से इनकी नज़रों में यह तो इनकी मतलब हम तो यह तो उनकी निंदा तो करेंगे ही नहीं क्योंकि बात पलट कर फिर उन पर आ जाएगी क्या आपने सुना अब आप क्यों कह रहे हो ऐसी बातें यह तो मजाक किया है बट यह है कि जिन्होंने मोदी के लिए वोट किया उन्होंने एक जो कहते हैं लिफाफे लिया है कि मोदी मोदी जी हमारे लिए सब सही करेंगे तो यह लोग जो है बहुत अति जब पहुंचेगा तभी ही वह कैटेगरी चाय क्रिटिसाइज करेंगे ना कोर्स ऑफ द इवेंट्स में नहीं करेंगे अब जो है वह हर नागरिक का होता है चुनाव के पश्चात मोदी जी हर भारतीय के प्रतिनिधि हैं हम सबके रिप्रेजेंटेटिव हैं जिन्होंने उनके पक्ष में वोट दिया और जिन्होंने नहीं दिया जो घर में बैठकर अपने वोटिंग का राइट क्यों है उसको एक्सरसाइज नहीं जिन लोगों ने किया उनके प्रतिनिधि हैं हम सब के प्रधानमंत्री हैं प्रधान सेवक के ऐसे भी अपने आप को कहते हैं हमारी उनके लिए कुछ एक्सपेक्टशंस हैं उन्हें उन एक्सपेक्टेशन में से कुछ सही है कुछ रियलिस्टिक है कुछ आदर्शवाद है मतलब कि आइडियलिस्टिक है कि हम चाहते हैं कि वह यह सब चीजें तो एक प्रधानमंत्री को करने चाहिए और कुछ कंपनियां कुछ एसेसरियल एक्सपेक्टेशन सोते हैं जो कि बहुत ही ज्यादा हाई एक्सपेक्टेशन जिसको कहते हैं लेकिन एक्सपेक्टशंस है वह हमारे प्रधानमंत्री हैं स्टेशंस है हमारे एक्सपेक्टशंस पर पर खरे नहीं उतरेंगे तो फिर हर नागरिक का हक बनता है कि वे क्रिटिसाइज करें और यही क्रिटिसिज्म जो है यह डेमोक्रेसी की है और इस वीर को क्वेश्चन कोई कर ही नहीं सकता कि आपने वोट नहीं दिया तो आप को क्रिटिसाइज करने का हक नहीं

jin logo ne modi ko vote nahi kiya kya unhe modi ko criticize karne ka koi haq hai is prashna ka ek simple jawab hai kyonki jinhone unko vote diya vaah toh criticize karte hi nahi hai toh phir chadar book karna bhi nahi chahte toh phir karega kaun city size toh modi ji ko vote nahi karne walon ke karan kai ho sakte hain unka doosra kisi party par vishwas ho ya ve bjp ke liye vote karna chahte the parantu local candidate sahi nahi tha karab tha communal tha in experience tha yah chahen jo bhi bache ho ya doosra koi candidate usse behtar tha ab ek ek karan bahut aham karan jo kehte hain ki iske liye log gaon bjp modi ji ke liye vote karna chahte the vaah hai ki na dayani ki dar is no Alternative vala factor toh yah modi ji ke favour mein mana chahta tha toh us voter ko convence karne ke yah kaafi nahi tha isliye usne modi ji ko vote nahi diya toh yah so sakte hain jiske liye ke logo ne modi ke liye vote nahi kiya ho baki jinhone modi ke liye vote kiya toh ve kaafi hastakshar the ki unhe apne desh ke door jo hai unke hathon mein saumpana hai aur yah tha ki modi ji ke netritva netritva par unhe pura vishwas tha tum modi bjp ko saat khoon maaf se inki nazro mein yah toh inki matlab hum toh yah toh unki ninda toh karenge hi nahi kyonki baat palat kar phir un par aa jayegi kya aapne suna ab aap kyon keh rahe ho aisi batein yah toh mazak kiya hai but yah hai ki jinhone modi ke liye vote kiya unhone ek jo kehte hain lifafe liya hai ki modi modi ji hamare liye sab sahi karenge toh yah log jo hai bahut ati jab pahunchaega tabhi hi vaah category chai criticize karenge na course of the events mein nahi karenge ab jo hai vaah har nagarik ka hota hai chunav ke pashchat modi ji har bharatiya ke pratinidhi hain hum sabke representative hain jinhone unke paksh mein vote diya aur jinhone nahi diya jo ghar mein baithkar apne voting ka right kyon hai usko exercise nahi jin logo ne kiya unke pratinidhi hain hum sab ke pradhanmantri hain pradhan sevak ke aise bhi apne aap ko kehte hain hamari unke liye kuch eksapektashans hain unhe un expectation mein se kuch sahi hai kuch realistic hai kuch adarshwad hai matlab ki aidiyalistik hai ki hum chahte hain ki vaah yah sab cheezen toh ek pradhanmantri ko karne chahiye aur kuch companiya kuch esesriyal expectation sote hain jo ki bahut hi zyada high expectation jisko kehte hain lekin eksapektashans hai vaah hamare pradhanmantri hain steshans hai hamare eksapektashans par par khare nahi utarenge toh phir har nagarik ka haq baata hai ki ve criticize kare aur yahi kritisijm jo hai yah democracy ki hai aur is veer ko question koi kar hi nahi sakta ki aapne vote nahi diya toh aap ko criticize karne ka haq nahi

जिन लोगों ने मोदी को वोट नहीं किया क्या उन्हें मोदी को क्रिटिसाइज करने का कोई हक है इस प्र

Romanized Version
Likes  1063  Dislikes    views  14110
WhatsApp_icon
user
4:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीपी सबसे पहले समझना चाहिए की आलोचना और विरोध में एक काफी अंतर होता है तो आलोचना एक ऐसी चीज है हम किसी की भी आलोचना कर सकते हैं किसी को भी क्रिटिसाइज हम कर सकते हैं चाहे वह अपना ही क्यों ना हो क्योंकि आलोचना करना बुरा नहीं है लेकिन ध्यान हमें यह देना चाहिए यह आलोचना कब विरोध बन जाता है उस पर ध्यान देना चाहिए कि हमारे द्वारा की गई आलोचना विरोध ना बन जाए कभी-कभी मौके पर विरोध भी अगर बन जाए तो वह अंध विरोध ना बन जाए तो किसी के को हम किसी के प्रति अगर में कोई बात रखनी है तो हम उसकी आलोचना कर सकते हैं लेकिन हमें विरोध से बचना चाहिए और विरोध से बचना चाहिए और वह भी अंध विरोध से सबसे ज्यादा यानी ब्लाइंड्ली हमें किसी का पोस्ट नहीं करना है यह हमें ध्यान देना चाहिए और रही मोदी जी की बात तो मोदी जी हमारे देश के प्राइम मिनिस्टर हैं तो आप उन उनकी भी आलोचना कर सकते हैं क्योंकि आलोचना किसी की भी की जा सकती है विरोध नहीं आप विरोध करने के लिए आलोचना नहीं करनी चाहिए आप आलोचना एक सही तरीके से एक है जो समालोचना जिसे कहते हैं उस तरह से सारे आलोचना कर सकते हैं हमारे यहां कहा भी गया है हमारे कल्चर में निंदक नियरे राखिए तो उसी चीज को हमें वह करना चाहिए लेकिन विरोध या अंध विरोध ज्यादा अंध विरोध की तरफ में नहीं जाना चाहिए आप शब्दों की तरफ गलत मर्यादा के साथ उधर से नहीं जाना चाहिए लेकिन आलोचना करने में कोई बुराई नहीं है किसी का भी विचार या कोई भी एंटी विचार हो सकता है किसी का विचार कुछ है किसी के विचार कुछ किसी की आईडी लॉजी अलग है और किसी की भी फ्रेंड है और हम किसी का भी विचार चाहे और इससे नहीं मतलब है कि वोट ना देने वाले वह चाहे दिया हो जिसने या ना दिया हो वह जिसने दिया भी है वह भी किसी पार्टी को अगर जिस ने वोट दिया है अगर बीजेपी बीजेपी सपोर्टर है या कांग्रेसी सपोर्टर है तो अगर बीजेपी सपोर्टर है तो भी बीजेपी की आलोचना कर सकता है या कांग्रेसी अदर पार्टी का सपोर्ट है तो उसकी आलोचना कर सकता है तो आलोचना एक ऐसी चीज है जो किसी भी चीज को रिफाइन करती है उसका नवीनीकरण करती है तो आलोचना करते रहना चाहिए हम जब आलोचना करेंगे तो वह चीज हमें नए रूप में सामने आती है और उसमें सुधार होता रहता है लेकिन विरोध नहीं रोते विचार मर जाता है तो विरोध करने से हमें एक तरह से बचना चाहिए आलोचना करते रहना चाहिए लेकिन फिर वही बात ब्लाइंड्ली आलोचना भी नहीं करनी तू इससे फर्क नहीं पड़ता कि किसी ने वोट दिया है या वोट नहीं दिया है हम किसी की आलोचना कर सकते हैं चाहे वह बीजेपी को ही हो या कांग्रेस की कांग्रेस की भी लीडर कि अगर जहां पर हमें बस यह ध्यान देना चाहिए कि उनका जो अल्टीमेट उद्देश है वह क्या है और उनके द्वारा किए गए काम कितने सही हैं तो जो काम अच्छे हो रहे हैं किसी पार्टी द्वारा उनकी हमें प्रशंसा करनी चाहिए और जो गलत काम हो रहा है उनका विरोध करना चाहिए तो अगर किसी पार्टी द्वारा कोई काम अच्छा हो रहा है तो उसको हमें ऐसा भी करनी चाहिए जिससे सामाजिक बदलाव आ रहा है अगर कुछ गलत लग रहा है तो उसको हमें आलोचना कर देनी चाहिए वह चाहे किसी भी पार्टी का हो तो हमें आलोचना वह भी करना चाहिए और कभी-कभी किसी डॉक्टर द्वारा अच्छे काम भी होते हैं तो बुरे काम भी हो जाते इस बात का ध्यान रखना चाहिए वोट देना ना देना एक अलग बात है और यह एक लोकतांत्रिक तरीका भी है यह डेमोक्रेटिक मैंने है तो डेमोक्रेटिक मैंने किसी की भी आलोचना कर सकते हो एक हद तक विरोध भी कर सकते हो लेकिन वही बात है अंध विरोध करना अपशब्द बोलना गाली देना यह डेमोक्रेटिक मैनेज नहीं है यह लोकतांत्रिक तरीका नहीं हो सकता

BP sabse pehle samajhna chahiye ki aalochana aur virodh mein ek kaafi antar hota hai toh aalochana ek aisi cheez hai hum kisi ki bhi aalochana kar sakte hain kisi ko bhi criticize hum kar sakte hain chahen vaah apna hi kyon na ho kyonki aalochana karna bura nahi hai lekin dhyan hamein yah dena chahiye yah aalochana kab virodh ban jata hai us par dhyan dena chahiye ki hamare dwara ki gayi aalochana virodh na ban jaaye kabhi kabhi mauke par virodh bhi agar ban jaaye toh vaah andh virodh na ban jaaye toh kisi ke ko hum kisi ke prati agar mein koi baat rakhni hai toh hum uski aalochana kar sakte hain lekin hamein virodh se bachna chahiye aur virodh se bachna chahiye aur vaah bhi andh virodh se sabse zyada yani blaindli hamein kisi ka post nahi karna hai yah hamein dhyan dena chahiye aur rahi modi ji ki baat toh modi ji hamare desh ke prime minister hain toh aap un unki bhi aalochana kar sakte hain kyonki aalochana kisi ki bhi ki ja sakti hai virodh nahi aap virodh karne ke liye aalochana nahi karni chahiye aap aalochana ek sahi tarike se ek hai jo samalochna jise kehte hain us tarah se saare aalochana kar sakte hain hamare yahan kaha bhi gaya hai hamare culture mein nindak niyare rakhiye toh usi cheez ko hamein vaah karna chahiye lekin virodh ya andh virodh zyada andh virodh ki taraf mein nahi jana chahiye aap shabdon ki taraf galat maryada ke saath udhar se nahi jana chahiye lekin aalochana karne mein koi burayi nahi hai kisi ka bhi vichar ya koi bhi anti vichar ho sakta hai kisi ka vichar kuch hai kisi ke vichar kuch kisi ki id laji alag hai aur kisi ki bhi friend hai aur hum kisi ka bhi vichar chahen aur isse nahi matlab hai ki vote na dene waale vaah chahen diya ho jisne ya na diya ho vaah jisne diya bhi hai vaah bhi kisi party ko agar jis ne vote diya hai agar bjp bjp supporter hai ya congressi supporter hai toh agar bjp supporter hai toh bhi bjp ki aalochana kar sakta hai ya congressi other party ka support hai toh uski aalochana kar sakta hai toh aalochana ek aisi cheez hai jo kisi bhi cheez ko refine karti hai uska naveenikaran karti hai toh aalochana karte rehna chahiye hum jab aalochana karenge toh vaah cheez hamein naye roop mein saamne aati hai aur usme sudhaar hota rehta hai lekin virodh nahi rote vichar mar jata hai toh virodh karne se hamein ek tarah se bachna chahiye aalochana karte rehna chahiye lekin phir wahi baat blaindli aalochana bhi nahi karni tu isse fark nahi padta ki kisi ne vote diya hai ya vote nahi diya hai hum kisi ki aalochana kar sakte hain chahen vaah bjp ko hi ho ya congress ki congress ki bhi leader ki agar jaha par hamein bus yah dhyan dena chahiye ki unka jo ultimate uddesh hai vaah kya hai aur unke dwara kiye gaye kaam kitne sahi hain toh jo kaam acche ho rahe hain kisi party dwara unki hamein prashansa karni chahiye aur jo galat kaam ho raha hai unka virodh karna chahiye toh agar kisi party dwara koi kaam accha ho raha hai toh usko hamein aisa bhi karni chahiye jisse samajik badlav aa raha hai agar kuch galat lag raha hai toh usko hamein aalochana kar deni chahiye vaah chahen kisi bhi party ka ho toh hamein aalochana vaah bhi karna chahiye aur kabhi kabhi kisi doctor dwara acche kaam bhi hote hain toh bure kaam bhi ho jaate is baat ka dhyan rakhna chahiye vote dena na dena ek alag baat hai aur yah ek loktantrik tarika bhi hai yah democratic maine hai toh democratic maine kisi ki bhi aalochana kar sakte ho ek had tak virodh bhi kar sakte ho lekin wahi baat hai andh virodh karna apashabd bolna gaali dena yah democratic manage nahi hai yah loktantrik tarika nahi ho sakta

बीपी सबसे पहले समझना चाहिए की आलोचना और विरोध में एक काफी अंतर होता है तो आलोचना एक ऐसी ची

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  736
WhatsApp_icon
user

Dr. Ashwani Kumar Singh

Chairman & Director at VEMS

3:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोदी को वोट ना देने वाले प्रधानमंत्री और प्रधानमंत्री तक जो भी काम करने के तरीके अगर आपका प्लीज फाइंड नहीं मिलता है बिना लॉजिक और विशेषकर करते हैं अगर मैंने कोई पॉलिटिकल आदमी क्या करता है आजकल कांग्रेसी काम नहीं लग रहा है अब तो समझ में आ जाएगा कि बहुत बड़ा हिस्सा लगभग पूरा तो फिर यह नहीं कहा जा सकता है कि यहां में वोट दिया वह नहीं कर सकती और न पार्टी होना चाहिए होना चाहिए मोदी जी अच्छे हैं अच्छे काम कर रहे हैं उनकी सराहना बहुत अपेक्षा ही परिणाम है कि केवल और केवल मोदी के नाम पर है एडिट करते हैं कि आप अपनी काबिलियत अपना कौन-कौन सा सिद्धांत होने के बावजूद एक बर्बाद कौन बाल मानववाद क्या-क्या करते हैं और उसके बाद आपको आपकी भी खत्म हो गई खानदानी पाटिया देश का भला नहीं कर सकता है राष्ट्रीय शापित शुक्रिया

modi ko vote na dene waale pradhanmantri aur pradhanmantri tak jo bhi kaam karne ke tarike agar aapka please find nahi milta hai bina logic aur visheshkar karte hain agar maine koi political aadmi kya karta hai aajkal congressi kaam nahi lag raha hai ab toh samajh mein aa jaega ki bahut bada hissa lagbhag pura toh phir yah nahi kaha ja sakta hai ki yahan mein vote diya vaah nahi kar sakti aur na party hona chahiye hona chahiye modi ji acche hain acche kaam kar rahe hain unki sarahana bahut apeksha hi parinam hai ki keval aur keval modi ke naam par hai edit karte hain ki aap apni kabiliyat apna kaun kaun sa siddhant hone ke bawajud ek barbad kaun baal manavwad kya kya karte hain aur uske baad aapko aapki bhi khatam ho gayi khandani patiya desh ka bhala nahi kar sakta hai rashtriya shaapit shukriya

मोदी को वोट ना देने वाले प्रधानमंत्री और प्रधानमंत्री तक जो भी काम करने के तरीके अगर आपक

Romanized Version
Likes  208  Dislikes    views  2719
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

4:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि मोदी जी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार क्यों है देखिए हमारे लोकतंत्र में सबको समान अधिकार दिया गया है जो लोग जिसको मन करे उसको वोट देते हैं जो लोग जिसको मन करे उसको वोट नहीं देते हैं जब चुनाव होता है बहुत सारे लोग कांग्रेस के पक्ष में होते हैं बहुत सारे लोग भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में होते हैं और बहुत सारे लोग किसी दूसरे लोकल पार्टी को लाइक करते हैं अब चुनाव हुआ चुनाव में 80 परसेंट लोगों ने बीजेपी को वोट दिया 20 परसेंट लोगों ने कांग्रेस को वोट दिया बीजेपी चुनाव जीत गए भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी बन गए 20 परसेंट लोग जिन्होंने वोट नहीं दिया मोदी जी को वह मोदी जी की आलोचना कर सकते हैं क्योंकि उनको मेंटल राइट्स मिला है और आलोचना कर सकते हैं कुछ अपशब्द नहीं बोल सकते हैं गाली गलौज नहीं दे सकते हैं मोदी जी को अगर वह ऐसा करेंगे तो लोकतांत्रिक तरीके से उनके ऊपर एक्शन होगा हर कोई लोकतांत्रिक दायरे में रहकर किसी की भी आलोचना कर सकता है किसी के भी कामकाज को समाज के सामने प्रस्तुत कर सकता है जब मोदी जी देश के प्रधानमंत्री बन गए अब मोदी जी यह नहीं देखते हैं कि किस समुदाय के लोगों ने हम को वोट दिया कि समुदाय के लोगों ने हमको वोट नहीं दिया वह समस्त देशवासियों को साथ लेकर चलते हैं 132 करोड़ देशवासियों को साथ लेकर चलते हैं कांग्रेसी चुनाव जीती थी तो वह देखती थी कि किस जाति से हमें फायदा हुआ किस जाति से हमारा नुकसान हुआ तो जिस जाति से उसको फायदा हुआ उस उसके लिए थोड़ा बहुत कार्य कर देती थी थोड़ा बहुत करती थी पूरा भी नहीं करती थी और जिस जाति से उनको थोड़ा बहुत फायदा हुआ उसका नुकसान कर देती थी जबकि लोकतंत्र में ऐसा नहीं होना चाहिए मोदी जी हैं मोदी जी देखे देश के सबसे अच्छे प्रधानमंत्री उनका कोई भी कार्य पूरे देश के लिए होता है वह जो भी एक्शन लेते हैं देश की तरक्की के लिए लेते हैं वह कुछ भी करते हैं विदेश जाते तो विदेश में जाने का भी उनका मकसद होता है कि हमारा देश मजबूत स्थिति में हमारे देश में अगर बेरोजगारी है तो दूसरे देशों में मैं जाऊंगा तू वहां अपने देश के नारायों को मोटिवेट करूंगा कि आप लोग थोड़ा टूरिज्म के लिए यहां के लोगों को बताइए और दूसरी बात वहां के प्रधानमंत्री से बोलूंगा कि आइए हमारे देश में बिजनेस का सबसे बढ़िया स्कोप है तो यहां पर इंडस्ट्रीज लगेगी कंपनी खुलेगी तो बेरोजगारी दूर होगी और उस देश में हमारे देश के लोग जाकर नौकरी भी कर सकते हैं तो कहने का तात्पर्य है जो लोग वोट नहीं दिए हैं वह आलोचना दे सकते हैं आलोचना कर सकते हैं मोदी जी का क्योंकि उनके पास फंडामेंटल राइट्स है लेकिन आलोचना करने का भी एक लिमिट होता है उस लोकतांत्रिक लिमिट में रहकर ही कर सकते हैं अगर लोकतांत्रिक लिमिट के बाहर जाकर कुछ भी अपशब्द बोलेंगे तो उनके ऊपर एक्शन होगा लोकतांत्रिक तरीके से तो हम सभी भारत वासियों से निवेदन करना चाहते हैं कि मोदी जी की प्रशंसा करिए मोदी जी के पक्ष में अच्छा वार्तालाप करिए पक्ष में वार्तालाप करने का मतलब है कि आप मोदी जी के कामकाज को देशवासियों के सामने रखिए प्रस्तुत करिए और जो लोग कांग्रेसी विचारधारा के हैं उनको भी बताइए कि मोदी जी ने बेहतर काम किया कांग्रेस से तो वह कांग्रेसका बात बताएगा बताएगा कि कांग्रेस ने इतना अच्छा काम किया कोई बात नहीं आप मोदी जी के कामकाज को बताइए तब उस पता चलेगा कि नहीं मोदी जी ने कुछ बेहतर किया है कांग्रेस से ज्यादा अच्छा काम मोदी जी ने किया है धन्यवाद

aapka sawaal hai ki modi ji ko vote na dene walon ko unki aalochana karne ka adhikaar kyon hai dekhiye hamare loktantra mein sabko saman adhikaar diya gaya hai jo log jisko man kare usko vote dete hain jo log jisko man kare usko vote nahi dete hain jab chunav hota hai bahut saare log congress ke paksh mein hote hain bahut saare log bharatiya janta party ke paksh mein hote hain aur bahut saare log kisi dusre local party ko like karte hain ab chunav hua chunav mein 80 percent logo ne bjp ko vote diya 20 percent logo ne congress ko vote diya bjp chunav jeet gaye bharatiya janta party ke pradhanmantri mananiya narendra modi ji ban gaye 20 percent log jinhone vote nahi diya modi ji ko vaah modi ji ki aalochana kar sakte hain kyonki unko mental rights mila hai aur aalochana kar sakte hain kuch apashabd nahi bol sakte hain gaali galoj nahi de sakte hain modi ji ko agar vaah aisa karenge toh loktantrik tarike se unke upar action hoga har koi loktantrik daayre mein rahkar kisi ki bhi aalochana kar sakta hai kisi ke bhi kaamkaaj ko samaj ke saamne prastut kar sakta hai jab modi ji desh ke pradhanmantri ban gaye ab modi ji yah nahi dekhte hain ki kis samuday ke logo ne hum ko vote diya ki samuday ke logo ne hamko vote nahi diya vaah samast deshvasiyon ko saath lekar chalte hain 132 crore deshvasiyon ko saath lekar chalte hain congressi chunav jeeti thi toh vaah dekhti thi ki kis jati se hamein fayda hua kis jati se hamara nuksan hua toh jis jati se usko fayda hua us uske liye thoda bahut karya kar deti thi thoda bahut karti thi pura bhi nahi karti thi aur jis jati se unko thoda bahut fayda hua uska nuksan kar deti thi jabki loktantra mein aisa nahi hona chahiye modi ji hain modi ji dekhe desh ke sabse acche pradhanmantri unka koi bhi karya poore desh ke liye hota hai vaah jo bhi action lete hain desh ki tarakki ke liye lete hain vaah kuch bhi karte hain videsh jaate toh videsh mein jaane ka bhi unka maksad hota hai ki hamara desh majboot sthiti mein hamare desh mein agar berojgari hai toh dusre deshon mein main jaunga tu wahan apne desh ke narayon ko motivate karunga ki aap log thoda tourism ke liye yahan ke logo ko bataye aur dusri baat wahan ke pradhanmantri se boloonga ki aaiye hamare desh mein business ka sabse badhiya scope hai toh yahan par industries lagegi company khulegi toh berojgari dur hogi aur us desh mein hamare desh ke log jaakar naukri bhi kar sakte hain toh kehne ka tatparya hai jo log vote nahi diye hain vaah aalochana de sakte hain aalochana kar sakte hain modi ji ka kyonki unke paas fundamental rights hai lekin aalochana karne ka bhi ek limit hota hai us loktantrik limit mein rahkar hi kar sakte hain agar loktantrik limit ke bahar jaakar kuch bhi apashabd bolenge toh unke upar action hoga loktantrik tarike se toh hum sabhi bharat vasiyo se nivedan karna chahte hain ki modi ji ki prashansa kariye modi ji ke paksh mein accha vartalaap kariye paksh mein vartalaap karne ka matlab hai ki aap modi ji ke kaamkaaj ko deshvasiyon ke saamne rakhiye prastut kariye aur jo log congressi vichardhara ke hain unko bhi bataye ki modi ji ne behtar kaam kiya congress se toh vaah kangresaka baat batayega batayega ki congress ne itna accha kaam kiya koi baat nahi aap modi ji ke kaamkaaj ko bataye tab us pata chalega ki nahi modi ji ne kuch behtar kiya hai congress se zyada accha kaam modi ji ne kiya hai dhanyavad

आपका सवाल है कि मोदी जी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार क्यों है देखिए

Romanized Version
Likes  226  Dislikes    views  4316
WhatsApp_icon
user
0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसी जरूरी नहीं है कि मोदी हजारों लोगों को खुश रख पाए या करोड़ों लोगों को खुश रख पाए यह जरूरी है कि उन्होंने कितने लोगों को खुश किया देखिए पांच ऊंगली जिस प्रकार बराबर नहीं होती उसी प्रकार तमाम लोग हमारी ही साथ नहीं चल सकते यह भी जरूरी है अगर हम काम करते अच्छे ढंग से तो हो सकता है वह हमारे काम को देखकर हमें दिखाने का प्रयास करें आलोचना से भी मैं पता चलता है कि हमारे अंदर की कमियां क्या है

aisi zaroori nahi hai ki modi hazaro logo ko khush rakh paye ya karodo logo ko khush rakh paye yah zaroori hai ki unhone kitne logo ko khush kiya dekhiye paanch ungli jis prakar barabar nahi hoti usi prakar tamaam log hamari hi saath nahi chal sakte yah bhi zaroori hai agar hum kaam karte acche dhang se toh ho sakta hai vaah hamare kaam ko dekhkar hamein dikhane ka prayas kare aalochana se bhi main pata chalta hai ki hamare andar ki kamiyan kya hai

ऐसी जरूरी नहीं है कि मोदी हजारों लोगों को खुश रख पाए या करोड़ों लोगों को खुश रख पाए यह जरू

Romanized Version
Likes  63  Dislikes    views  613
WhatsApp_icon
user

Pankaj Vasuja

Cinematographer

2:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोदी को वोट देने ना देने वालों को उसके लोचना करने का अधिकार क्यों है सुरेश है अभी मोदी एक प्रधानमंत्री है और प्रधानमंत्री लेवल पर जब हो इलेक्शन लड़ता है तो लोकसभा का इलेक्शन लड़ा जाता है और लोकसभा के इलेक्शन में जनता का फैसला प्रधानमंत्री मोदी को अपनाने पर वही जनता अगर विधानसभा में आती है तो आप देखें पिछले कोई तीन चार विधानसभा इलेक्शन हुए महाराष्ट्र में राजस्थान में मध्यप्रदेश में और भी एक दो जगह वहां पर बीजेपी का इतना रुझान नहीं बना तो वही जनता उस समय विधानसभा में और कोई नहीं चाहती वही उनके आलोचक बन जाते हैं तो आप ही हैं आप की सरकार बना रहे हैं और आप ही आलोचना कर रहे हैं लेकिन प्ले धर्म अलग-अलग है जैसे कि अभी हाल ही में लद्दाख क्षेत्र में आपने देखा भी पहले तो भाषण दिया लद्दाख वाले मंत्री ने कश्मीर के जब वह देश के हिसाब से बात कर रहे थे कश्मीर के जूते अब्दुल्लाह जी उनके खिलाफ कड़ी कड़ी बातें कहीं और जैसे ही बात आई अभी सत्र की तो उनमें मोदी जी की थोड़ी सी आलोचना बालेश्वर भी सुनने को मिले तो व्यक्ति की राय बदल जाती है कोई स्टेट लेवल की बात करते हैं कोई देश लेवल की बात करता है मोदी देश के सिंबल के हिसाब से आलोचना नहीं करता कोई वह अपने एरिया के लोचना करता है क्योंकि प्रशासन ने साबित हुआ हुआ है कि हर आदमी अपने लेवल तक आते दुखी हो ही जाता है जैसे मान लो स्टेट का कोई हो स्टेट का व्यक्ति हो उसको डिस्ट्रिक्ट में सीट ना मिली और टिकट ना मिली हो बीजेपी की हो वैसे नाराज हो जाता है और भी बहुत से कारण बनते हैं कुछ जगह से डेरा वाला रिक्शा कांड था तो वहां की जनता धार्मिक भावना से हो गई अनपढ़ थोड़ी जनतंत्र की खूबसूरती है अभी आजकल मोबाइल वगैरह यह साधन चल गए हैं इसकी आलोचना ही ज्यादा सुनती है कार्य हो रहा है और गलत भी हो अच्छा वह हमें चाहिए हमारा भी पक्ष भी हम सॉन्ग रखें ताकि कल को ऐसी नीतियां ना हो कि 25000 का चालान आपको हाथ में भरना पड़े इस बात का भी ध्यान रखें विपक्ष को भी स्टोन रहने दे लोकतंत्र की खूबसूरती बनी रामदेव और मीडिया वाले तो बोले ही नहीं इस बात पर आपने लोकतंत्र का एकदम बढ़ा अच्छे तरीके से तोड़ा है राम-राम

modi ko vote dene na dene walon ko uske lochna karne ka adhikaar kyon hai suresh hai abhi modi ek pradhanmantri hai aur pradhanmantri level par jab ho election ladata hai toh lok sabha ka election lada jata hai aur lok sabha ke election mein janta ka faisla pradhanmantri modi ko apnane par wahi janta agar vidhan sabha mein aati hai toh aap dekhen pichle koi teen char vidhan sabha election hue maharashtra mein rajasthan mein madhya pradesh mein aur bhi ek do jagah wahan par bjp ka itna rujhan nahi bana toh wahi janta us samay vidhan sabha mein aur koi nahi chahti wahi unke aalochak ban jaate hai toh aap hi hai aap ki sarkar bana rahe hai aur aap hi aalochana kar rahe hai lekin play dharm alag alag hai jaise ki abhi haal hi mein ladakh kshetra mein aapne dekha bhi pehle toh bhashan diya ladakh waale mantri ne kashmir ke jab vaah desh ke hisab se baat kar rahe the kashmir ke joote Abdullah ji unke khilaf kadi kadi batein kahin aur jaise hi baat I abhi satra ki toh unmen modi ji ki thodi si aalochana baleshwar bhi sunne ko mile toh vyakti ki rai badal jaati hai koi state level ki baat karte hai koi desh level ki baat karta hai modi desh ke symbol ke hisab se aalochana nahi karta koi vaah apne area ke lochna karta hai kyonki prashasan ne saabit hua hua hai ki har aadmi apne level tak aate dukhi ho hi jata hai jaise maan lo state ka koi ho state ka vyakti ho usko district mein seat na mili aur ticket na mili ho bjp ki ho waise naaraj ho jata hai aur bhi bahut se karan bante hai kuch jagah se dera vala riksha kaand tha toh wahan ki janta dharmik bhavna se ho gayi anpad thodi jantantra ki khoobsoorti hai abhi aajkal mobile vagera yah sadhan chal gaye hai iski aalochana hi zyada sunti hai karya ho raha hai aur galat bhi ho accha vaah hamein chahiye hamara bhi paksh bhi hum song rakhen taki kal ko aisi nitiyan na ho ki 25000 ka chalan aapko hath mein bharna pade is baat ka bhi dhyan rakhen vipaksh ko bhi stone rehne de loktantra ki khoobsoorti bani ramdev aur media waale toh bole hi nahi is baat par aapne loktantra ka ekdam badha acche tarike se toda hai ram ram

मोदी को वोट देने ना देने वालों को उसके लोचना करने का अधिकार क्यों है सुरेश है अभी मोदी एक

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोदी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार क्यों है जी हां बिल्कुल है मोदी को वोट जिन्होंने दिया है वह और मोदी को जिन्होंने वोट नहीं दिया है वह वह सब उनके मतदाता है चाहे वह दिया या नहीं दिया है क्योंकि मूवी ही अगर प्रधानमंत्री बने और उनकी सरकार जो चला रहे हैं वह तो वह पूरे भारत के हर एक नागरिकों के हक और सुगमता के लिए उनके संबंधित के लिए उनकी प्रसिद्ध है मोदी जी क्योंकि उनको ऊंची ड्यूटी प्राइम मिनिस्टर भारत के 135 करोड़ करोड़ लोगों के प्रति अब जिन्होंने वोट नहीं दिया उसके भी वह प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने वोट दिया उसके प्रधानमंत्री जिन्होंने उनको वोट नहीं दिया करने का यही लोकशाही की खूबसूरती है और ऐसा होना ही चाहिए ताकि हमारे जो राजनेता है चाहे बिजी हो या कोई भी प्रधानमंत्री हो या किसी की पार्टी के लिए सरकार हो लेकिन आलोचनाओं से मूंग को काम करने का बल मिलता है जब तक आलोचक नहीं होते हैं तब तक उनको काम करने की प्रेरणा को कम मिलती है वह आलोचना किधर से भी कई नेता काम करते हैं ऐसा भी देखने में आया कि हां जन सामान्य की मुश्किलें बहुत ही आसानी से दूर हो और सब को अपने हक का अपनी समस्याओं का समाधान लिए धन्यवाद

modi ko vote na dene walon ko unki aalochana karne ka adhikaar kyon hai ji haan bilkul hai modi ko vote jinhone diya hai vaah aur modi ko jinhone vote nahi diya hai vaah vaah sab unke matdata hai chahen vaah diya ya nahi diya hai kyonki movie hi agar pradhanmantri bane aur unki sarkar jo chala rahe hain vaah toh vaah poore bharat ke har ek nagriko ke haq aur sugamata ke liye unke sambandhit ke liye unki prasiddh hai modi ji kyonki unko uchi duty prime minister bharat ke 135 crore crore logo ke prati ab jinhone vote nahi diya uske bhi vaah pradhanmantri hain jinhone vote diya uske pradhanmantri jinhone unko vote nahi diya karne ka yahi lokshahi ki khoobsoorti hai aur aisa hona hi chahiye taki hamare jo raajneta hai chahen busy ho ya koi bhi pradhanmantri ho ya kisi ki party ke liye sarkar ho lekin aalochanaon se moong ko kaam karne ka bal milta hai jab tak aalochak nahi hote hain tab tak unko kaam karne ki prerna ko kam milti hai vaah aalochana kidhar se bhi kai neta kaam karte hain aisa bhi dekhne mein aaya ki haan jan samanya ki mushkilen bahut hi aasani se dur ho aur sab ko apne haq ka apni samasyaon ka samadhan liye dhanyavad

मोदी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार क्यों है जी हां बिल्कुल है मोदी को

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1293
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

7:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्री मोदी जी नहीं अभी तो जो भी दोस्त हैं जनप्रतिनिधि हैं उनकी कृति up34 खुशियों में कर सकते हैं नंबर 129 नाम कोई गवर्नर घोटाला सिद्धू झाइयों को क्रिटिसाइज करैक्टर रूप से डाउन हो उनकी क्रिटिसाइज की जानी चाहिए नैतिक रूप से निष्ठावान नहीं हो देश के विरुद्ध कार्य कर रहे हो उनकी की साइज की जानी चाहिए लेकिन क्या यह सब बातें मोदी जी कर रहे हैं क्या मोदी जी ने कर रहे हैं टुकुर मोदी जी की क्रिटिसाइज ना तो उन लोगों को करनी चाहिए जिन्होंने वोट भी है और नव उनको करनी चाहिए जिन्होंने बोल नहीं अब यही सवाल विपक्षियों की या विरोधियों की तो मेरे दोस्त यह वह भारत देश है जो सीता जैसे चरित्र पर उंगली उठाते हैं लोग हैं जो सिर्फ मोदी जी मैं आपको एक निष्ठावान कार्यकर्ता उनका अपने देश के प्रति जो पहला प्रधानमंत्री है जो देश के लिए 18 घंटे काम है अब उनकी पक्षियों की तो आदत है वह तो बुराइयां कविता अच्छी सूरत वालों की बुराइयां की जाती है ऐसे विपक्षियों की तो जानते हैं कि उनकी तो बोलने की आदत है कोई विश्वास नहीं करता है यही कारण था कि वे भोंकते रहे लेकिन मोदी जी अकेले ही बीजेपी में मोदी जी 2019 के चुनाव में कितने देश चलाने वाले होने वाले बरोहिया करने वाले समस्त नेताओं को पराजित किया और सरकार बनाकर दिखाइए मोदी के चरित्र पर उंगली उठाना यह बताएं लोगों में ना तो समझने की क्षमता है ना हमारी एबिलिटी है ना हमारी क्वालिफिकेशन है हम तो केवल बुराई करना जानते हैं हम ऐसे देश के नागरिक हैं क्योंकि आपको तो मुरली की सूचना है और आपको शायरी चुटकुला याद होगा एक बार एक सऊदी अरब का एक कुत्ता भारत में आया तो यहां की कुत्तों ने पूछा मैया तुम बात क्यों नहीं रहे अपने देश को चोट तो आगे उस कुत्ते ने बहुत अच्छा जवाब दिया मेरे देश में उल्टा सीधा बोलने की कोई आजादी नहीं है हम किसी को ऊपर कुछ भी नहीं भाग सकते हैं जबकि भारत में पूर्ण बोलने की आजादी है मौके की सुनता है मैं अजीब और फिर क्यों पूछ सकता हूं इसलिए मेरे देश को छोड़ कर के मैं भारत आ गया वह चुटकुला बिल्कुल एकदम फिट होता है कि आप लोगों की आदत है कि ताजा जो उंगली उठा सकते हैं तो मोदी विचारे तो एक इंसान है मेरे विचार से उनको बुराइयां ना करके उनके इमानदारी से किए गए कार्यों की सराहना करनी चाहिए जो देता है समर्पण है उसकी सम्मान किया जाना चाहिए अब यह तो लोगों के अपने-अपने विचार है क्योंकि भारत में बोली की भी सुख मिलता है और अपने विचार व्यक्त चलो नाजायज फायदा उठाते हैं यही कारण है कि जिन लोगों को भारत सरकार भारत के नागरिक बड़े प्यार से रखते सम्मान करते हैं वे लोग भी बड़े रघुराई चिल्ला चिल्ला कर कहते हैं उस देश का कार्य कर रहे हैं मेरे दोस्त हमारे संविधान में बोलने की शादी है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि किसी भी होता रहा है मैं बोल देता है और ना अपनी मेहनत से इतना पेट से विपक्ष में बोलने वाले लोग कभी अपने गिरेबान में झांकना चाहिए उनकी पार्टी में दल बदलने वाले गिरगिट की तरह रंग बदलने वाले चित्रकूट पार्टी बदलने वाले सत्ता सुख शांति वाले रिश्वत को भ्रमण लिखने वाले स्टेटस तुम किस चरित्र उठा कर देख ऐसे लोगों से जुड़ने गबन करने वाले हो उल्टा चलने वाले हो रिश्वत कौन हो भाई भतीजावाद चलाने वाले हूं जातिवाद फैलाने वाले हो धर्म बाग का जहर फैलाने वाले हो उन लोगों से आप अच्छे विचारों की कदर किसी को भी दे सकता है खाने में रखा पूर्वक कर रहा हूं अब लोग करते हैं तो करने दो उस वक्त भी देखा थी जब जाता है लोदीपुर चल रहा है हजार जो किस्मत वाले होते हैं वह तो बहुत पी रहे थे उनका तो काम बोलता है उनके संसद और विधानसभा जबकि जानते 1 दिन का विधानसभा लोकसभा का खर्चा कितना होता है और मूर्ति में होता है और वह दूसरी नहीं चलने देते हैं बाथरूम कर देते हैं कोई जन समस्या की बात नहीं उठाते कुछ जानकारी बातें नहीं करते हैं उन लोगों से अब तक नहीं कर सकते हैं क्योंकि उनके बच्चे जैसा बना हुआ है

shri modi ji nahi abhi toh jo bhi dost hain janapratinidhi hain unki kriti up34 khushiyon mein kar sakte hain number 129 naam koi governor ghotala sidhu jhaiyon ko criticize character roop se down ho unki criticize ki jani chahiye naitik roop se nisthawan nahi ho desh ke viruddh karya kar rahe ho unki ki size ki jani chahiye lekin kya yah sab batein modi ji kar rahe kya modi ji ne kar rahe hain tukur modi ji ki criticize na toh un logo ko karni chahiye jinhone vote bhi hai aur nav unko karni chahiye jinhone bol nahi ab yahi sawaal vipakshiyon ki ya virodhiyon ki toh mere dost yah vaah bharat desh hai jo sita jaise charitra par ungli uthate hain log hain jo sirf modi ji main aapko ek nisthawan karyakarta unka apne desh ke prati jo pehla pradhanmantri hai jo desh ke liye 18 ghante kaam hai ab unki pakshiyo ki toh aadat hai vaah toh buraiyan kavita achi surat walon ki buraiyan ki jaati hai aise vipakshiyon ki toh jante hain ki unki toh bolne ki aadat hai koi vishwas nahi karta hai yahi karan tha ki ve bhonkte rahe lekin modi ji akele hi bjp mein modi ji 2019 ke chunav mein kitne desh chalane waale hone waale barohiya karne waale samast netaon ko parajit kiya aur sarkar banakar dikhaaiye modi ke charitra par ungli uthana yah bataye logo mein na toh samjhne ki kshamta hai na hamari ability hai na hamari qualification hai hum toh keval burayi karna jante hain hum aise desh ke nagarik hain kyonki aapko toh murli ki soochna hai aur aapko shaayari chutkula yaad hoga ek baar ek saudi arab ka ek kutta bharat mein aaya toh yahan ki kutto ne poocha maiya tum baat kyon nahi rahe apne desh ko chot toh aage us kutte ne bahut accha jawab diya mere desh mein ulta seedha bolne ki koi azadi nahi hai hum kisi ko upar kuch bhi nahi bhag sakte hain jabki bharat mein purn bolne ki azadi hai mauke ki sunta hai ajib aur phir kyon puch sakta hoon isliye mere desh ko chod kar ke main bharat aa gaya vaah chutkula bilkul ekdam fit hota hai ki aap logo ki aadat hai ki taaza jo ungli utha sakte hain toh modi vichare toh ek insaan hai mere vichar se unko buraiyan na karke unke imaandari se kiye gaye karyo ki sarahana karni chahiye jo deta hai samarpan hai uski sammaan kiya jana chahiye ab yah toh logo ke apne apne vichar hai kyonki bharat mein boli ki bhi sukh milta hai aur apne vichar vyakt chalo najayaj fayda uthate hain yahi karan hai ki jin logo ko bharat sarkar bharat ke nagarik bade pyar se rakhte sammaan karte hain ve log bhi bade raghurai chilla chilla kar kehte hain us desh ka karya kar rahe hain mere dost hamare samvidhan mein bolne ki shadi hai lekin iska matlab yah nahi ki kisi bhi hota raha hai bol deta hai aur na apni mehnat se itna pet se vipaksh mein bolne waale log kabhi apne gireban mein jhankana chahiye unki party mein dal badalne waale girgit ki tarah rang badalne waale chitrakoot party badalne waale satta sukh shanti waale rishwat ko bhraman likhne waale status tum kis charitra utha kar dekh aise logo se judne gaban karne waale ho ulta chalne waale ho rishwat kaun ho bhai bhatijavad chalane waale hoon jaatiwad felane waale ho dharm bagh ka zehar felane waale ho un logo se aap acche vicharon ki kadar kisi ko bhi de sakta hai khane mein rakha purvak kar raha hoon ab log karte hain toh karne do us waqt bhi dekha thi jab jata hai lodipur chal raha hai hazaar jo kismat waale hote hain vaah toh bahut p rahe the unka toh kaam bolta hai unke sansad aur vidhan sabha jabki jante 1 din ka vidhan sabha lok sabha ka kharcha kitna hota hai aur murti mein hota hai aur vaah dusri nahi chalne dete hain bathroom kar dete hain koi jan samasya ki baat nahi uthate kuch jaankari batein nahi karte hain un logo se ab tak nahi kar sakte hain kyonki unke bacche jaisa bana hua hai

श्री मोदी जी नहीं अभी तो जो भी दोस्त हैं जनप्रतिनिधि हैं उनकी कृति up34 खुशियों में कर सकत

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  1173
WhatsApp_icon
user

Sachin Sinha

Journalist

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोदी को वोट ना देने वालों में उनकी आलोचना करने वालों का का अधिकार क्यों हैं जैसे महात्मा गांधी को गाली देने वालों को अधिकार है वहीं को भी को भी को बोलने का रूप आलोचना करने का बिल्कुल साथ-साथ अधिकार है क्योंकि हम भी इसी देश में रहते हैं देश के नागरिक हैं जा सब को एक समान मौलिक अधिकार प्रदान किया गया ब्रह्मा विष्णु महेश की बधाई नहीं है इसका जानकारी दीजिए बहुत अच्छे से आपको बहुत अच्छे पता चले जाते हैं क्या आपने अभी तक आपका नाम पर कभी आपने कभी आपने सामने नहीं लाया कमिंग की पुण्यतिथि मनाई क्या बोलते हैं जन्म दिवस नहीं मनाया कभी मालूम नहीं पड़ने दिया कि आपका असली पैदा पैदा करने वाला का नाम क्या है आलोचना तो बिल्कुल होगी और जितना लिखेंगे जैसे हम लिखना महात्मा गांधी के बारे में आरोप लगा मत ना करते हैं वही हमको भी पूरा अधिकार है और हम इस अधिकार को अधिकार का उपयोग

modi ko vote na dene walon mein unki aalochana karne walon ka ka adhikaar kyon hai jaise mahatma gandhi ko gaali dene walon ko adhikaar hai wahi ko bhi ko bhi ko bolne ka roop aalochana karne ka bilkul saath saath adhikaar hai kyonki hum bhi isi desh mein rehte hai desh ke nagarik hai ja sab ko ek saman maulik adhikaar pradan kiya gaya brahma vishnu mahesh ki badhai nahi hai iska jaankari dijiye bahut acche se aapko bahut acche pata chale jaate hai kya aapne abhi tak aapka naam par kabhi aapne kabhi aapne saamne nahi laya coming ki punyatithi manai kya bolte hai janam divas nahi manaya kabhi maloom nahi padane diya ki aapka asli paida paida karne vala ka naam kya hai aalochana toh bilkul hogi aur jitna likhenge jaise hum likhna mahatma gandhi ke bare mein aarop laga mat na karte hai wahi hamko bhi pura adhikaar hai aur hum is adhikaar ko adhikaar ka upyog

मोदी को वोट ना देने वालों में उनकी आलोचना करने वालों का का अधिकार क्यों हैं जैसे महात्मा ग

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  389
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल है कि मोदी जी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार किसी का नहीं है सवाल भी है कि मां हमारे देश का जो प्रधानमंत्री है वह क्या कर रहा है हमने उसे वोट दिया या नहीं दिया इससे यह मुश्किलों चांदी करेंगे प्यार नहीं है हमारे देश के प्रधानमंत्री के कार्य की जब चुनकर देश के प्रधानमंत्री बन गए तो पूरे 120 करोड़ जितने भी देश की जानते हैं उनके प्रधानमंत्री है तो उनको उनकी रचना करने का अधिकार है क्योंकि इससे सब पूरी देश की पूरी लोगों का हित जुड़ा हुआ होता है जो भी फैसले से सरकार लेती है जब मोदी ला रहे उनकी उसे ही दे रहे हिंदुस्तान के जो संविधान है उसमें कैसे-कैसे सुलोचना के लिए किस शब्द का प्रयोग करें यह भी एक वजह है कि इस काम के लिए पर देश के प्रधानमंत्री को भी चाहिए कि वह दूसरे दल के लोगों के प्रति भी गलत शब्द इस्तेमाल ना करें कि उसे देश की जो प्रधानमंत्री पद की गरिमा गिरती है तो मेरे ख्याल में जो संविधान के अनुसार जो में अधिकार दिए गए हम मोदी नरेंद्र मोदी की रोशनी कम बात तो देश के प्रधानमंत्री की आलोचना करने उनके कार्यों का लेखा-जोखा करने के बाद अधिकार हमें धन्यवाद

sawaal hai ki modi ji ko vote na dene walon ko unki aalochana karne ka adhikaar kisi ka nahi hai sawaal bhi hai ki maa hamare desh ka jo pradhanmantri hai vaah kya kar raha hai humne use vote diya ya nahi diya isse yah mushkilon chaandi karenge pyar nahi hai hamare desh ke pradhanmantri ke karya ki jab chunkar desh ke pradhanmantri ban gaye toh poore 120 crore jitne bhi desh ki jante hain unke pradhanmantri hai toh unko unki rachna karne ka adhikaar hai kyonki isse sab puri desh ki puri logo ka hit juda hua hota hai jo bhi faisle se sarkar leti hai jab modi la rahe unki use hi de rahe Hindustan ke jo samvidhan hai usme kaise kaise sulochna ke liye kis shabd ka prayog kare yah bhi ek wajah hai ki is kaam ke liye par desh ke pradhanmantri ko bhi chahiye ki vaah dusre dal ke logo ke prati bhi galat shabd istemal na kare ki use desh ki jo pradhanmantri pad ki garima girti hai toh mere khayal mein jo samvidhan ke anusaar jo mein adhikaar diye gaye hum modi narendra modi ki roshni kam baat toh desh ke pradhanmantri ki aalochana karne unke karyo ka lekha jokha karne ke baad adhikaar hamein dhanyavad

सवाल है कि मोदी जी को वोट ना देने वालों को उनकी आलोचना करने का अधिकार किसी का नहीं है सवाल

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  180
WhatsApp_icon
user
2:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार एक बार प्रधानमंत्री बन जाने के बाद नरेंद्र मोदी अब तक के प्रधानमंत्री हैं उनके प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने उनकी पार्टी को वोट दिया और उनके भी जिन्होंने वोट नहीं दिया उस देश के प्रधानमंत्री देश की सभी जनता के प्रधानमंत्री हैं तो उनके फैसले को अच्छा या बुरा बताना देश की जनता का अधिकार है हक है अच्छा या बुरा बताना बुरा जब हम बता रहे हैं तो इसका मतलब उसकी आलोचना कर रहे हैं तो मतलब उनके पास उनकी आलोचना करने का भी अधिकार है अगर हम प्रसंता भी कर सकते हैं आलोचना भी कर सकते हैं अब आप जैसे देखें आप अमेरिका कोई पैसा लेता है या पाकिस्तान में कुछ होता है तो आप उसकी आलोचना करते हैं आप उसकी निंदा करते हैं आप उसे गलत बताते हैं तो उसका आपसे सीधा कोई लेना देना तो है नहीं लेकिन फिर भी आपने कोई उसको उसको वहां की व्यवस्था के लिए या इसके लिए कोई योगदान नहीं किया है फिर भी आलोचना हम करते तो आलोचना हम किसी की भी कर सकते हैं आलोचना का जो अधिकार है वह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता में शामिल है अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार हमें हमारा संविधान दे तो हम अपना मत रख सकते हैं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का मतलब हम अपनी राय किसी भी विषय पर जाहिर कर सकते हैं जो भी फैसला हो उसे गलत बता सकता मोदी को वोट ना देने वालों को भी उनकी आलोचना का उतना ही अधिकार है जितना उन लोगों को जिन्होंने उनकी पार्टी को वोट किया है वोट किया है

namaskar ek baar pradhanmantri ban jaane ke baad narendra modi ab tak ke pradhanmantri hain unke pradhanmantri hain jinhone unki party ko vote diya aur unke bhi jinhone vote nahi diya us desh ke pradhanmantri desh ki sabhi janta ke pradhanmantri hain toh unke faisle ko accha ya bura batana desh ki janta ka adhikaar hai haq hai accha ya bura batana bura jab hum bata rahe hain toh iska matlab uski aalochana kar rahe hain toh matlab unke paas unki aalochana karne ka bhi adhikaar hai agar hum prasanta bhi kar sakte hain aalochana bhi kar sakte hain ab aap jaise dekhen aap america koi paisa leta hai ya pakistan me kuch hota hai toh aap uski aalochana karte hain aap uski ninda karte hain aap use galat batatey hain toh uska aapse seedha koi lena dena toh hai nahi lekin phir bhi aapne koi usko usko wahan ki vyavastha ke liye ya iske liye koi yogdan nahi kiya hai phir bhi aalochana hum karte toh aalochana hum kisi ki bhi kar sakte hain aalochana ka jo adhikaar hai vaah abhivyakti ki swatantrata me shaamil hai abhivyakti ki swatantrata ka adhikaar hamein hamara samvidhan de toh hum apna mat rakh sakte hain abhivyakti ki swatantrata ka matlab hum apni rai kisi bhi vishay par jaahir kar sakte hain jo bhi faisla ho use galat bata sakta modi ko vote na dene walon ko bhi unki aalochana ka utana hi adhikaar hai jitna un logo ko jinhone unki party ko vote kiya hai vote kiya hai

नमस्कार एक बार प्रधानमंत्री बन जाने के बाद नरेंद्र मोदी अब तक के प्रधानमंत्री हैं उनके प्र

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  259
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रधानमंत्री बन जाने के बाद आदरणीय श्री नरेंद्र मोदी जी पूरे देश के नेता हैं इसलिए उनकी आलोचना और प्रशंसा का अधिकार उन सभी लोगों को है जिन्होंने उन्हें वोट दिया है या नहीं दिया है

pradhanmantri ban jaane ke baad adaraniya shri narendra modi ji poore desh ke neta hain isliye unki aalochana aur prashansa ka adhikaar un sabhi logo ko hai jinhone unhe vote diya hai ya nahi diya hai

प्रधानमंत्री बन जाने के बाद आदरणीय श्री नरेंद्र मोदी जी पूरे देश के नेता हैं इसलिए उनकी आल

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
user

Shravan Sharma

Journalist

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आरुष नाम विरोध यह हमारा लोकतांत्रिक अधिकार है मोदी ही नहीं किसी के भी खिलाफ कभी भी कहीं भी किसी भी जगह हम विरोध कर सकते हैं उस विचारधारा का उस पार्टी का या किसी एक शख्स का क्योंकि लोकतंत्र हमारा संविधान यह हमें अधिकार देता है विरोध प्रदर्शनों का विरोध का हालांकि विरोध का जो तरीका है जो माहौल तैयार किया गया है और तू माहौल बना है इस दौरान विरोध प्रदर्शनों में हिंसा का इसे किसी भी तरह से जायज नहीं ठहराया जा सकता और यह विरोध प्रदर्शन का सही तरीका नहीं है लेकिन विरोध प्रदर्शन यह जो है आवाम की आवाज है और यह हमारा संविधान का अधिकार है लोकतंत्र यही ताकत है और यही खूबसूरती है

arush naam virodh yah hamara loktantrik adhikaar hai modi hi nahi kisi ke bhi khilaf kabhi bhi kahin bhi kisi bhi jagah hum virodh kar sakte hai us vichardhara ka us party ka ya kisi ek sakhs ka kyonki loktantra hamara samvidhan yah hamein adhikaar deta hai virodh pradarshanon ka virodh ka halaki virodh ka jo tarika hai jo maahaul taiyar kiya gaya hai aur tu maahaul bana hai is dauran virodh pradarshanon mein hinsa ka ise kisi bhi tarah se jayaj nahi thehraya ja sakta aur yah virodh pradarshan ka sahi tarika nahi hai lekin virodh pradarshan yah jo hai avam ki awaaz hai aur yah hamara samvidhan ka adhikaar hai loktantra yahi takat hai aur yahi khoobsoorti hai

आरुष नाम विरोध यह हमारा लोकतांत्रिक अधिकार है मोदी ही नहीं किसी के भी खिलाफ कभी भी कहीं भी

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

Engineer

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी मैं यही कहना चाहूंगा कि मोदी जी बहुत ही अच्छा देश चला रहे हैं इसमें कोई डाउट नहीं है क्योंकि डिफेंस के लेकर हर चीजें जो है मजबूत होती जा रही है हर चीज ऑनलाइन हो गई यह पब्लिक भी जानती है सिर्फ इतना ही कमी है कि कुछ लोगों की वजह से करप्शन अभी भी चल रहा है जो हर जगह जाकर मोदी जी नहीं देख सकते उसे हमें ही अविनाश लाना पड़ेगा और हमें देखना पड़ेगा तब हमारा भारत आगे बढ़ेगा नहीं कि पीछे और एक साथ सबको मिलकर चलना है ना ही कि एक दूसरे को काटे और विपक्षी पार्टियों में जाकर मिल जाए यह नहीं देखी जिसका काम अच्छा है उसी को सपोर्ट करना चाहिए ना कि जिन्होंने 70 सालों में मैं कांग्रेस की बात नहीं करता हूं जो काम करता है उसी को सपोर्ट करना चाहिए

dekhi main yahi kehna chahunga ki modi ji bahut hi accha desh chala rahe hain isme koi doubt nahi hai kyonki defence ke lekar har cheezen jo hai majboot hoti ja rahi hai har cheez online ho gayi yah public bhi jaanti hai sirf itna hi kami hai ki kuch logo ki wajah se corruption abhi bhi chal raha hai jo har jagah jaakar modi ji nahi dekh sakte use hamein hi avinash lana padega aur hamein dekhna padega tab hamara bharat aage badhega nahi ki peeche aur ek saath sabko milkar chalna hai na hi ki ek dusre ko kaate aur vipakshi partiyon me jaakar mil jaaye yah nahi dekhi jiska kaam accha hai usi ko support karna chahiye na ki jinhone 70 salon me main congress ki baat nahi karta hoon jo kaam karta hai usi ko support karna chahiye

देखी मैं यही कहना चाहूंगा कि मोदी जी बहुत ही अच्छा देश चला रहे हैं इसमें कोई डाउट नहीं है

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  60
WhatsApp_icon
user

Vimla Bidawatka

Spiritual Thinker

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका कहना है कि मोदी को वोट ना देने वाले कौन की आलोचना करने का अधिकार क्यों है क्योंकि हम भारत देश में है और यह लोकतंत्र है हमको जिस को भी बोल देना है हम देंगे जिस को वोट नहीं देना नहीं देंगे लेकिन अगर कोई राजनीतिज्ञ है तो हम किसी के लिए आलोचना कर सकते हैं हमारे पास से स्वतंत्रता है कि अगर किसी ने काम अच्छा नहीं किया है सब कुछ मैंने आप को वोट नहीं दिया लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि मैं आपकी आलोचना नहीं कर सकते हो मैं कर सकती हूं क्योंकि आप एक पब्लिक सर्वेंट हैं चाहे प्रधानमंत्री हो या मंत्री को कोई भी हो लेकिन आलोचना करने का अधिकार मुझे मिलता है अगर आपने कुछ अच्छा काम नहीं किया सब कुछ किसी ने वोट दिया है और आप कुछ बन गए हैं तो अगर मुझे कोई काम पसंद नहीं है तो मैं आ कर सकती हूं तू यह मेरा अधिकार छीन नहीं जाता है लोकतंत्र में यह हो नहीं सकता है कि जो वोट देगा वही आलोचना कर सकता है लगे तो हम अच्छा बोलेंगे खराब लगे तो खराब लगेगी बोलेंगे लेकिन आलोचना को सहने की आपने शक्ति होनी चाहिए यह हर राजनीति के क्या हर किसी में यह बात होगी कि एक इंसान में कुछ अच्छा सुनता है तो बुरा सुनने की भी उसमें शक्ति होनी चाहिए अगर वह बुरा नहीं सुनता है तो फिर उसको पब्लिक सर्वेंट बनने की कोई जरूरत नहीं है इस्तीफा दे देना चाहिए

aapka kehna hai ki modi ko vote na dene waale kaun ki aalochana karne ka adhikaar kyon hai kyonki hum bharat desh mein hai aur yah loktantra hai hamko jis ko bhi bol dena hai hum denge jis ko vote nahi dena nahi denge lekin agar koi rajanitigya hai toh hum kisi ke liye aalochana kar sakte hain hamare paas se swatantrata hai ki agar kisi ne kaam accha nahi kiya hai sab kuch maine aap ko vote nahi diya lekin iska yah matlab nahi hai ki main aapki aalochana nahi kar sakte ho main kar sakti hoon kyonki aap ek public servant hain chahen pradhanmantri ho ya mantri ko koi bhi ho lekin aalochana karne ka adhikaar mujhe milta hai agar aapne kuch accha kaam nahi kiya sab kuch kisi ne vote diya hai aur aap kuch ban gaye hain toh agar mujhe koi kaam pasand nahi hai toh main aa kar sakti hoon tu yah mera adhikaar cheen nahi jata hai loktantra mein yah ho nahi sakta hai ki jo vote dega wahi aalochana kar sakta hai lage toh hum accha bolenge kharab lage toh kharab lagegi bolenge lekin aalochana ko sahane ki aapne shakti honi chahiye yah har raajneeti ke kya har kisi mein yah baat hogi ki ek insaan mein kuch accha sunta hai toh bura sunne ki bhi usme shakti honi chahiye agar vaah bura nahi sunta hai toh phir usko public servant banne ki koi zarurat nahi hai istifa de dena chahiye

आपका कहना है कि मोदी को वोट ना देने वाले कौन की आलोचना करने का अधिकार क्यों है क्योंकि हम

Romanized Version
Likes  95  Dislikes    views  1900
WhatsApp_icon
user

Neeraj Shukla

Philosopher || Avid Reader.

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका जो प्रश्न है कि मोदी को वोट ना देने वालों को ज्यादा उतना करने का अधिकार क्यों ऐसा नहीं है अगर कोई भी सरकार या को भी व्यक्ति किसी विशेष देश या राज्य के लिए कार्य करता है कि मोदी जी को वोट नहीं दिया या वोट दिया है और दिए हुए व्यक्ति को भी अधिकार है कि वह बोल सके और नहीं भी बोल सकता है ऐसा कुछ भी नहीं है लेकिन आपका जो प्रश्न है कि आलोचना करने का अधिकार के अधिकार होने चाहिए अगर सब आलोचक नहीं होंगे तो मुझे नहीं लगता कि एक समय के साथ कार्य हो पाएगा ठीक है सत्ता में बैठी है भारतीय जनता पार्टी नरेंद्र मोदी जी देश के प्रधानमंत्री हैं लेकिन वे किसी भी विशेष चीज के पीछे आलोचकों का होना भी बहुत ज्यादा जरूरी है कि आलोचक होते हैं जो आपको शक्ति देते हैं जो आपको दोबारा समृद्ध बनाते हैं आपको शक्तिशाली बनाते हो आप को खड़ा करने में देखिए हर चीज में किसी ना किसी में ढूंढ बोले जैसे अगर आप कहीं नरेंद्र मोदी सरकार एक बेहतर सरकार है तो मैं भी कह सकता हूं नरेंद्र मोदी सरकार है कुछ खामियां भी हैं तो जाहिर सी बात है आलोचकों का ध्यान उन विभिन्न विषयों पर विशेष प्रभाव रहता होगा तो उनको अधिकार है बोलने की बेरोजगारी और इन्वायरमेंट पर उतना ध्यान ना देना नहीं जा सकती नरेंद्र मोदी के खिलाफ बोलने की कुछ मुद्दे हैं जैसे कि मजदूरों को बढ़ावा मिलना चाहिए किसानों के लिए तो ऐसा बेचे आप आलोचकों को प्रतिबंधित नहीं कर सकते उनका अधिकार है ऐसा इंडियन सिटीजन भारत के नागरिक होने के नाते उनका अधिकार है कि आलोचना कर सकते हैं

aapka jo prashna hai ki modi ko vote na dene walon ko zyada utana karne ka adhikaar kyon aisa nahi hai agar koi bhi sarkar ya ko bhi vyakti kisi vishesh desh ya rajya ke liye karya karta hai ki modi ji ko vote nahi diya ya vote diya hai aur diye hue vyakti ko bhi adhikaar hai ki vaah bol sake aur nahi bhi bol sakta hai aisa kuch bhi nahi hai lekin aapka jo prashna hai ki aalochana karne ka adhikaar ke adhikaar hone chahiye agar sab aalochak nahi honge toh mujhe nahi lagta ki ek samay ke saath karya ho payega theek hai satta mein baithi hai bharatiya janta party narendra modi ji desh ke pradhanmantri hain lekin ve kisi bhi vishesh cheez ke peeche aalochakon ka hona bhi bahut zyada zaroori hai ki aalochak hote hain jo aapko shakti dete hain jo aapko dobara samriddh banate hain aapko shaktishali banate ho aap ko khada karne mein dekhiye har cheez mein kisi na kisi mein dhundh bole jaise agar aap kahin narendra modi sarkar ek behtar sarkar hai toh main bhi keh sakta hoon narendra modi sarkar hai kuch khamiyan bhi hain toh jaahir si baat hai aalochakon ka dhyan un vibhinn vishyon par vishesh prabhav rehta hoga toh unko adhikaar hai bolne ki berojgari aur environment par utana dhyan na dena nahi ja sakti narendra modi ke khilaf bolne ki kuch mudde hain jaise ki majduro ko badhawa milna chahiye kisano ke liye toh aisa beche aap aalochakon ko pratibandhit nahi kar sakte unka adhikaar hai aisa indian citizen bharat ke nagarik hone ke naate unka adhikaar hai ki aalochana kar sakte hain

आपका जो प्रश्न है कि मोदी को वोट ना देने वालों को ज्यादा उतना करने का अधिकार क्यों ऐसा नही

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  630
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!