हम ईश्वर पर भरोसा करें या फिर साइंस पर?...


user

Anju pandey

Fashion Expert

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक सवाल है हम ईश्वर पर भरोसा करें या फिर साइंस पर मेरा कहना यह है कि किसी पर भी भरोसा करना हमारा व्यक्तिगत विचार हो सकता है मेरा पर्सनल मैटर है कि हम किस पर भरोसा करते हैं ईश्वर हमेशा साथ नहीं दिखाई देता हूं और साइंस में प्रयोग करके प्रैक्टिकल करके दिखा सकता है पर फिर भी हम ईश्वर पर भरोसा करते हैं तो प्रकृति के कण-कण में ईश्वर व्याप्त है और अगर हम देखते हैं तो साइंस अगर कुछ में प्रयोग करके दिखाता है तो उसका कोई ना कोई ऐसा तत्व है जो उस से जुड़ा हुआ है प्रकृति से जुड़ा हुआ है और हमारी संस्कृति से जुड़ा हुआ होता है आजकल छोटा सा उदाहरण है अगर हम कहते हैं कि खाने से पहले हमें हाथ धोना चाहिए तो साइंस इसके आपको 10 रीजन देगा कि क्यों धोना चाहिए और वह रीजन कहीं ना कहीं उस प्रकृति से जुड़े वैदिक परंपरा से जुड़े हुए हैं और अगर साइंस उसको प्रयोग करके दिखा रहा है तो वह भी इंसान है जिसने साइंस की खोज की है और अगर हम माने तो उसको भी ईश्वर में ही बनाया है तो दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं पर यह हमारा व्यक्तिगत विचार हो सकता है कि हमें किस पर भरोसा करना चाहिए हम किस से ज्यादा सेटिस्फाई हैं क्योंकि जब हम किसी पर भरोसा करते हैं तो अपने मन से करते हैं अपने दिल से करते हैं और जिस पर हमारी आस्था होती है जिस पर विश्वास होता है उसी को हम मानने लगते हैं तो इससे कोई बहस तो नहीं की जा सकती पर सबका अपना अपना मत है कि वह किस पर भरोसा करता है तो ही आपका व्यक्तिगत विचार हो सकता है

ek sawaal hai hum ishwar par bharosa kare ya phir science par mera kehna yah hai ki kisi par bhi bharosa karna hamara vyaktigat vichar ho sakta hai mera personal matter hai ki hum kis par bharosa karte hain ishwar hamesha saath nahi dikhai deta hoon aur science me prayog karke practical karke dikha sakta hai par phir bhi hum ishwar par bharosa karte hain toh prakriti ke kan kan me ishwar vyapt hai aur agar hum dekhte hain toh science agar kuch me prayog karke dikhaata hai toh uska koi na koi aisa tatva hai jo us se juda hua hai prakriti se juda hua hai aur hamari sanskriti se juda hua hota hai aajkal chota sa udaharan hai agar hum kehte hain ki khane se pehle hamein hath dhona chahiye toh science iske aapko 10 reason dega ki kyon dhona chahiye aur vaah reason kahin na kahin us prakriti se jude vaidik parampara se jude hue hain aur agar science usko prayog karke dikha raha hai toh vaah bhi insaan hai jisne science ki khoj ki hai aur agar hum maane toh usko bhi ishwar me hi banaya hai toh dono ek hi sikke ke do pahaloo hain par yah hamara vyaktigat vichar ho sakta hai ki hamein kis par bharosa karna chahiye hum kis se zyada satisfy hain kyonki jab hum kisi par bharosa karte hain toh apne man se karte hain apne dil se karte hain aur jis par hamari astha hoti hai jis par vishwas hota hai usi ko hum manne lagte hain toh isse koi bahas toh nahi ki ja sakti par sabka apna apna mat hai ki vaah kis par bharosa karta hai toh hi aapka vyaktigat vichar ho sakta hai

एक सवाल है हम ईश्वर पर भरोसा करें या फिर साइंस पर मेरा कहना यह है कि किसी पर भी भरोसा करना

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  99
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
ishwar ji aapka phone baj raha hai ; कल को शायद रहे ना रहे जिंदगी का भरोसा नहीं ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!