अपनी दोस्त की भावनाओं को चोट पहुँचाए बिना उससे पैसे वापस कैसे पा सकते हैं?...


user

Sefali

Media-Ad Sales

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने दोस्त की भावनाओं को चोट पहुंचाए बिना कैसे जो है पैसे वापस मांगे देखिए यह जो सिचुएशन होता है ऐसे नहीं होता है बहुत अनकंफर्टेबल सी सिचुएशन होती है जो आपको अपने दोस्त से पैसे वापस मांगने होता है जब आप अपने दोस्त को पैसे वापस वापस मांग रहे हैं एक बार फिर रखें कि आप जो भी उनको बोल रहे हैं मान लें कि जो भी क्वेश्चन बता रहे हैं आपको क्यों जरूरत है उस पैसों की इम्मीडिएटली एक तो है वह सब चीजों को एकदम उनके सामने प्रस्तुत कर रखें ज्यादा घुमा फिरा कर बात ना करें कि आप दे सकते हो क्या यह हो सकता है कि आपके लिए रखे आपको चाहिए इस वक्त जब उन्हें जरूरत पड़ी थी आपने मदद कि जब आपको जरूरत है अब उनको भी मदद करनी चाहिए तो बातें क्लियर फेस केयर रखें और थोड़ा बिजी हो जाएगा इस चीज को

apne dost ki bhavnao ko chot pahunchaye bina kaise jo hai paise wapas mange dekhiye yah jo situation hota hai aise nahi hota hai bahut uncomfortable si situation hoti hai jo aapko apne dost se paise wapas mangne hota hai jab aap apne dost ko paise wapas wapas maang rahe hain ek baar phir rakhen ki aap jo bhi unko bol rahe hain maan le ki jo bhi question bata rahe hain aapko kyon zarurat hai us paison ki immidietali ek toh hai vaah sab chijon ko ekdam unke saamne prastut kar rakhen zyada ghuma fira kar baat na kare ki aap de sakte ho kya yah ho sakta hai ki aapke liye rakhe aapko chahiye is waqt jab unhe zarurat padi thi aapne madad ki jab aapko zarurat hai ab unko bhi madad karni chahiye toh batein clear face care rakhen aur thoda busy ho jaega is cheez ko

अपने दोस्त की भावनाओं को चोट पहुंचाए बिना कैसे जो है पैसे वापस मांगे देखिए यह जो सिचुएशन ह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  14
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Vatsal

Engineering Student

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैसे कई मौके आते हैं जब किसी को उधार देते हैं अपने दोस्त को और उसके बाद जबलपुर जरूरत पड़ती है तो हम उसे पैसा दे देते हैं चाहे वह हमसे मांगे तभी हम उस को पकड़ते हैं और अगर नहीं मांगे तब भी हम दीवारों पर करते हैं उस को परेशान देखकर तो ऐसे मौके पर पैसा दे देते हैं लेकिन कई बार ऐसा होता है कि कुछ लोग जो है वह पैसे को लौट आते नहीं कुछ लोग भूल जाते हैं कि वही उरलेले के टाइम पर याद आ गया लेकिन वो लौट आने के टाइम पर वह भूल जाते हैं ऐसा कैसे हो सकता है दूसरा कैसे होता है कि जो दूसरे इंसान जिसने पैसे लिए थे वह अपने आप को हमेशा इस परिस्थिति में महसूस करेगी वह पैसे को नहीं लौटा सकता है क्योंकि इस्तेमाल हो चुका उसका काम निपट गया अब वह उस चीज को ऐसे देखता है कि यहां भी लौटा देंगे अब तो पैसे का काम निबट गया नहीं कि जब हमारे सर पर प्रेशर होता है कि भाई यह पैसा जमा करना है तब तक टाइम फाउंडेशन है कि हां हमें पैसा चाहिए लेकिन लौट आने में कोई टाइम आउट नहीं होती चिंता नहीं है चिंता मुक्त है कभी भी लौटा देंगे इस तरीके की चीजें मांगने में शर्म महसूस हो सकती है क्योंकि डायरेक्ट मांगने में उसे सामने वाले इंसान को बुरा भी लग सकता है क्योंकि जरूरी नहीं सामने वाले इंसान की टेंशन नहीं हो पैसे ना देने के पैसे देने की टेंशन ना हो ऐसा नहीं मांगने पर बुरा लग सकता इसलिए आप कोशिश कीजिए कि आप बहुत समय तक मांगी है नहीं पैसा इंतजार कीजिए कि वह अपने आप जिस तरीके से मांगना है या इस तरीके से उसे भी रहता है उसी जो कह सकते हैं जिससे कि बुरा भी ना लगे और वैसे भी आपको वापस मिल जाए

kaise kai mauke aate hain jab kisi ko udhaar dete hain apne dost ko aur uske baad jabalpur zarurat padti hai toh hum use paisa de dete hain chahen vaah humse mange tabhi hum us ko pakadten hain aur agar nahi mange tab bhi hum deewaaron par karte hain us ko pareshan dekhkar toh aise mauke par paisa de dete hain lekin kai baar aisa hota hai ki kuch log jo hai vaah paise ko lot aate nahi kuch log bhool jaate hain ki wahi uralele ke time par yaad aa gaya lekin vo lot aane ke time par vaah bhool jaate hain aisa kaise ho sakta hai doosra kaise hota hai ki jo dusre insaan jisne paise liye the vaah apne aap ko hamesha is paristithi mein mehsus karegi vaah paise ko nahi lauta sakta hai kyonki istemal ho chuka uska nipat gaya ab vaah us cheez ko aise dekhta hai ki yahan bhi lauta denge ab toh paise ka kaam nibat gaya nahi ki jab hamare sir par pressure hota hai ki bhai yah paisa jama karna hai tab tak time foundation hai ki haan hamein paisa chahiye lekin lot aane mein koi time out nahi hoti chinta nahi hai chinta mukt hai kabhi bhi lauta denge is tarike ki cheezen mangne mein sharm mehsus ho sakti hai kyonki direct mangne mein use saamne waale insaan ko bura bhi lag sakta hai kyonki zaroori nahi saamne waale insaan ki tension nahi ho paise na dene ke paise dene ki tension na ho aisa nahi mangne par bura lag sakta isliye aap koshish kijiye ki aap bahut samay tak maangi hai nahi paisa intejar kijiye ki vaah apne aap jis tarike se maangna hai ya is tarike se use bhi rehta hai usi jo keh sakte hain jisse ki bura bhi na lage aur waise bhi aapko wapas mil jaaye

कैसे कई मौके आते हैं जब किसी को उधार देते हैं अपने दोस्त को और उसके बाद जबलपुर जरूरत पड़ती

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  9
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा कई बार होता है जब हम अपने दोस्तों को पैसे दे देते हैं या फिर हम कोई शेयरिंग में काम करते हैं तो वहां पर हम एक तरफ पैसे दे देते हैं उसके बाद हम को बहुत ज्यादा झिझक होती है उन्हें अपने दोस्त से पैसे वापस मांगने में और हम को ऐसा लगता है कि उनकी भावनाओं को चोट पहुंचेगी या उनको ऐसा लगेगा कि हम थोड़ा चीज भेज दिया कर रहे हैं और उनसे पैसे मांगने वाला मांग रहे हैं वापस तो ऐसा कुछ भी नहीं है पहले तो अपने माइंड से यह सब चीजें निकालनी होगी हमें यह मैसेज भेज कर दिखा दिखा रहे हैं या फिर अपने दोस्त की भावनाओं को चोट पहुंचाने की दोस्ती में कभी भी इस तरह की भावना नहीं आनी चाहिए और जो भी होना चाहिए वह साफ साफ होना चाहिए तभी आप अच्छे दोस्त चला सकते हैं तो मेरे हिसाब से आपको जो करना चाहिए आपको डायरेक्टली उनसे बात करनी चाहिए जब भी आप दोनों अकेले में हूं किस तरह से वहां अपने खर्चा किया था या फिर उनको पूरी बात बतानी चाहिए ऐसे ऐसे वहां पर कितना खर्चा हुआ था जिसके मैं आधे पैसे उनके पास थे या फिर कभी आपने जहां पर उनको पैसे दिया और वह आपको वापस करना भूल गए तो वह चीज आपको बता नहीं चाहिए मैंने उस टाइम तुम्हें पैसे दिए थे और तुमने मुझे वापस नहीं करें अभी तो आप जब हम से सीधे सीधे एक बार बात बोलेंगे तो कहीं ना कहीं उनको हो सकता है कि उन को लगे कि आप आप उनको सिर्फ छोटा दिखाने के लिए कुछ उनकी भावनाओं को चोट पहुंचे परंतु बाद में जाकर उनको इस चीज का बुरा नहीं लगेगा क्योंकि आप पैसे के मामले में ज्यादातर दोषियों में टूट भी जाती है कई के बारे में मामले में तो इसी वजह से सबसे पहले सीधे सीधे बात करनी चाहिए उनसे और उनको समझाना चाहिए और हो सकता है कि वह भूल भी गए हो आपके पैसे के बारे में मैसेज आपको वापस ना करें तो जवाब उनको बोलेंगे तुमको याद भी आ जाएगा और वह आपको सीधे सीधे बात करके पैसा आपकी वापस भी आपको मिल जाएंगे और किसी भी तरह की उनकी भावनाओं को भी चोट नहीं पहुंचेगा और आपको भी बोलने में ज्यादा जरूरत नहीं होगी

aisa kai baar hota hai jab hum apne doston ko paise de dete hain ya phir hum koi sharing mein kaam karte hain toh wahan par hum ek taraf paise de dete hain uske baad hum ko bahut zyada jhijhak hoti hai unhe apne dost se paise wapas mangne mein aur hum ko aisa lagta hai ki unki bhavnao ko chot pahunchegi ya unko aisa lagega ki hum thoda cheez bhej diya kar rahe hain aur unse paise mangne vala maang rahe hain wapas toh aisa kuch bhi nahi hai pehle toh apne mind se yah sab cheezen nikaalanee hogi hamein yah massage bhej kar dikha dikha rahe hain ya phir apne dost ki bhavnao ko chot pahunchane ki dosti mein kabhi bhi is tarah ki bhavna nahi aani chahiye aur jo bhi hona chahiye vaah saaf saaf hona chahiye tabhi aap acche dost chala sakte hain toh mere hisab se aapko jo karna chahiye aapko directly unse baat karni chahiye jab bhi aap dono akele mein hoon kis tarah se wahan apne kharcha kiya tha ya phir unko puri baat batani chahiye aise aise wahan par kitna kharcha hua tha jiske main aadhe paise unke paas the ya phir kabhi aapne jaha par unko paise diya aur vaah aapko wapas karna bhool gaye toh vaah cheez aapko bata nahi chahiye maine us time tumhe paise diye the aur tumne mujhe wapas nahi kare abhi toh aap jab hum se sidhe seedhe ek baar baat bolenge toh kahin na kahin unko ho sakta hai ki un ko lage ki aap aap unko sirf chota dikhane ke liye kuch unki bhavnao ko chot pahuche parantu baad mein jaakar unko is cheez ka bura nahi lagega kyonki aap paise ke mamle mein jyadatar doshiyon mein toot bhi jaati hai kai ke bare mein mamle mein toh isi wajah se sabse pehle sidhe seedhe baat karni chahiye unse aur unko samajhana chahiye aur ho sakta hai ki vaah bhool bhi gaye ho aapke paise ke bare mein massage aapko wapas na kare toh jawab unko bolenge tumko yaad bhi aa jaega aur vaah aapko sidhe seedhe baat karke paisa aapki wapas bhi aapko mil jaenge aur kisi bhi tarah ki unki bhavnao ko bhi chot nahi pahunchaega aur aapko bhi bolne mein zyada zarurat nahi hogi

ऐसा कई बार होता है जब हम अपने दोस्तों को पैसे दे देते हैं या फिर हम कोई शेयरिंग में काम कर

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  70
WhatsApp_icon
play
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:02

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी दोस्तों का क्या है कि जब भी कोई भी दोस्त फाइनेंसियल प्रॉब्लम होता है तो सारे दोस्त उसके मिलकर मदद करते हैं लेकिन जब भी आप अपने किसी फ्रेंड से पैसे लेते हैं तो उसे यह तो कहते हैं कि मैं उसको एक महीने बाद दे दूंगा दो महीने बाद दे दूंगा और वह आपकी बात पर टच करके आपको पैसे दे देता लेकिन हां जब वह आपने उसको बोला है कि 1 मंथ के बाद 2 मंथ के बाद आपको उसको पैसे लौटाने तो मुझे लगता है कि वह दिन टाइम अगर आप उसको पैसे लौटाएंगे तो इतना कॉन्फिडेंस रहेगा नेक्स्ट टाइम आप पर भरोसा भी रखेगा वह और नेक्स्ट टाइम आपको अगर प्रॉब्लम आती है फाइनेंसियल तो मुझे लगता है कि हमेशा हेल्प करेगा तू ही बेस्ट हो यही है कि जितने डेकोरेशन के लिए आपने अपने फ्रेंड से पैसा उधार लिया है लेकिन टाइम अगर आपको उसको पैसा दे कर देते हैं तो मुझे लगता है कि कोई प्रॉब्लम नहीं आएगी आप अपने दोस्त की भावनाओं को बिल्कुल ठीक नहीं पहुंचाओगे हां लेकिन अगर आपने 1 महीने का क्या क्या बोला लिया पैसा और उसके 6 महीने और 1 साल तक आप उसके पैसे नहीं लौटा रहे तो लगता है कहीं ना कहीं दिक्कत जरूर आएगी और रिलेशन भी खराब होगा

vicky doston ka kya hai ki jab bhi koi bhi dost financial problem hota hai toh saare dost uske milkar madad karte hain lekin jab bhi aap apne kisi friend se paise lete hain toh use yah toh kehte hain ki main usko ek mahine baad de dunga do mahine baad de dunga aur vaah aapki baat par touch karke aapko paise de deta lekin haan jab vaah aapne usko bola hai ki 1 month ke baad 2 month ke baad aapko usko paise lautane toh mujhe lagta hai ki vaah din time agar aap usko paise lautaenge toh itna confidence rahega next time aap par bharosa bhi rakhega vaah aur next time aapko agar problem aati hai financial toh mujhe lagta hai ki hamesha help karega tu hi best ho yahi hai ki jitne decoration ke liye aapne apne friend se paisa udhaar liya hai lekin time agar aapko usko paisa de kar dete hain toh mujhe lagta hai ki koi problem nahi aayegi aap apne dost ki bhavnao ko bilkul theek nahi pahunchaoge haan lekin agar aapne 1 mahine ka kya kya bola liya paisa aur uske 6 mahine aur 1 saal tak aap uske paise nahi lauta rahe toh lagta hai kahin na kahin dikkat zaroor aayegi aur relation bhi kharab hoga

विकी दोस्तों का क्या है कि जब भी कोई भी दोस्त फाइनेंसियल प्रॉब्लम होता है तो सारे दोस्त उस

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आपके दोस्त हैं तो आप उनसे पैसे मांगने के लिए जो कि आप ने दिए थे कोई झिझक होनी ही नहीं चाहिए आप उन्हें बहुत आराम से बोली कि अगर उन्हें पैसे की जरूरत नहीं है तो आप रात को कैसे वापस करते क्योंकि आपको पैसों की जरूरत है आप उन्हें बताएंगे कि आपको पैसे की जरूरत है तो वह अपने आप आपके पैसे आपको वापस कर देंगे

dekhiye aapke dost hain toh aap unse paise mangne ke liye jo ki aap ne diye the koi jhijhak honi hi nahi chahiye aap unhe bahut aaram se boli ki agar unhe paise ki zarurat nahi hai toh aap raat ko kaise wapas karte kyonki aapko paison ki zarurat hai aap unhe batayenge ki aapko paise ki zarurat hai toh vaah apne aap aapke paise aapko wapas kar denge

देखिए आपके दोस्त हैं तो आप उनसे पैसे मांगने के लिए जो कि आप ने दिए थे कोई झिझक होनी ही नही

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  62
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!