क्या भारत की राष्ट्रीय भाषा अंग्रेज़ी होनी चाहिए?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंग्लिश भारत की राष्ट्रीय भाषा के दिन भर सकते हैं क्योंकि इंग्लिश हमारे यहां की मूल भाषा नहीं है इंग्लिश अंग्रेजों की भाषा है और आज भी इंग्लिश बोलकर की इंग्लिश लिख कर के हम आज भी बात को महसूस करते हैं कि हम आज भी अंग्रेजों की मानसिक गुलाम है अब आप देखिए कि भारत में पहना हुआ तो इंग्लिश में खानपान तो इंग्लिश है हम के तौर तरीके इस चाबी भी अधिकांश वेस्टर्न कल्चर के फोन वर्क इंग्लिश मीडियम सारी करते हैं इसलिए मेरे विचार से शायद लोकमान्य तिलक ने बहुत सही कहा था यह बात कि किसी का भी शारीरिक रूप से स्वतंत्र हो जाना आसान है मानसिक रूप से सफल सोना बहुत कठिन है और सच्चाई में सुकून का वही है जो मानसिक रूप से हो क्योंकि शारीरिक रूप से विकलांग व्यक्ति को स्वतंत्र कराने करना आसान है जो मानसिक गुलाम हो जाते हैं उनको स्वतंत्र कराना बहुत कठिन है उसी में आज भी भारत को देख सकते हैं कि भारत की जो लीडर से अधिकारी होते हैं कि आप अन्य लोग हैं वे आज भी इंग्लिश कोई पसंद करते हैं जबकि मैं भी शिकार करता हूं कि अंतर्राष्ट्रीय भाषा के रूप में इंग्लिश सी है लेकिन हमारी राष्ट्रीय भाषा हिंदी नहीं होनी चाहिए

english bharat ki rashtriya bhasha ke din bhar sakte hai kyonki english hamare yahan ki mul bhasha nahi hai english angrejo ki bhasha hai aur aaj bhi english bolkar ki english likh kar ke hum aaj bhi baat ko mehsus karte hai ki hum aaj bhi angrejo ki mansik gulam hai ab aap dekhie ki bharat mein pehna hua toh english mein khanpan toh english hai hum ke taur tarike is chabi bhi adhikaansh western culture ke phone work english medium saree karte hai isliye mere vichar se shayad lokamanya tilak ne bahut sahi kaha tha yeh baat ki kisi ka bhi sharirik roop se swatantra ho jana aasaan hai mansik roop se safal sona bahut kathin hai aur sacchai mein sukoon ka wahi hai jo mansik roop se ho kyonki sharirik roop se viklaang vyakti ko swatantra karane karna aasaan hai jo mansik gulam ho jaate hai unko swatantra karana bahut kathin hai usi mein aaj bhi bharat ko dekh sakte hai ki bharat ki jo leader se adhikari hote hai ki aap anya log hai ve aaj bhi english koi pasand karte hai jabki main bhi shikaar karta hoon ki antarrashtriya bhasha ke roop mein english si hai lekin hamari rashtriya bhasha hindi nahi honi chahiye

इंग्लिश भारत की राष्ट्रीय भाषा के दिन भर सकते हैं क्योंकि इंग्लिश हमारे यहां की मूल भाषा न

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  411
KooApp_icon
WhatsApp_icon
24 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
badhawa dena in english ; matrubhasha se aap kya samajhte hain ; rajwadi chahie hamen man bhar rahiye ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!