भारतीय संस्कृति का क्या महत्व है?...


user

Vatsal

Engineering Student

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किस भारतीय संस्कृति भारतीय कल्चर जो है वह एक अनूठा कल्चर है पूरे दुनिया में विश्व भर में अगर आप ईश्वर की तुलना भारतीय करें देखिए अगर अन्य अन्य देशों में कोई एक ही धर्म का मैक्सिमम समूह होता है यानी मैक्सिमम लोग किसी एक ही रीजन के होते हैं अगर आप अमेरिका देखें बहुत डोमिनेटिंग का बहुत ज्यादा मात्रा में मैक्सिमम प्रशंसा की है बट मैक्सिमम कृष्ण इंडोनेशिया पाकिस्तान मैक्सिमम मुस्लिम है वहां पर तू इस तरीके की चीजें हर देश में जो है मैक्सिमम एक समुदाय लेकिन भारत में यदि आप देखें तुम्हारे धर्म जो है मिक्स सारे धर्म जो है एक साथ रहते हैं सभी जाति के लोग एक साथ रहते हैं सभी कल्चर के लोग एक साथ रहते हैं सभी त्योहार एक साथ मनाते हैं यह लगाकर जान अगर आप मैरिड लाइफ रिलेशनशिप को कंपेयर करें ग्राउंड रिपोर्ट देखें तो आपको पता लगेगा वहां पर

kis bharatiya sanskriti bharatiya culture jo hai vaah ek anutha culture hai poore duniya mein vishwa bhar mein agar aap ishwar ki tulna bharatiya kare dekhiye agar anya anya deshon mein koi ek hi dharm ka maximum samuh hota hai yani maximum log kisi ek hi reason ke hote hain agar aap america dekhen bahut domineting ka bahut zyada matra mein maximum prashansa ki hai but maximum krishna indonesia pakistan maximum muslim hai wahan par tu is tarike ki cheezen har desh mein jo hai maximum ek samuday lekin bharat mein yadi aap dekhen tumhare dharm jo hai mix saare dharm jo hai ek saath rehte hain sabhi jati ke log ek saath rehte hain sabhi culture ke log ek saath rehte hain sabhi tyohar ek saath manate hain yah lagakar jaan agar aap married life Relationship ko compare kare ground report dekhen toh aapko pata lagega wahan par

किस भारतीय संस्कृति भारतीय कल्चर जो है वह एक अनूठा कल्चर है पूरे दुनिया में विश्व भर में अ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  25
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Ravi Sharma

Advocate

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय संस्कृति और भारतीय मूल ना केवल भारतीयता का प्रतिनिधित्व करते हैं साथ ही साथ पूरे विश्व को भारतीयता का पाठ पढ़ाते हैं भारत में जिस प्रकार से विभिन्न वर्गों के संप्रदायों के त सब धर्मों के लोग सैकड़ों वर्षो से एक साथ रह रहे हैं तथा जिस प्रकार का सामाजिक व सामंजस्य बना हुआ है इस देश में वह अपने आप में एक मिसाल है आज के समय में जहां छोटे छोटे देश में गृह युद्ध चलते रहते हैं भारत जैसे विशाल का है देश में गृह युद्ध होने की संभावना भारत की स्वाधीनता के पश्चात कभी भी नहीं बनी इसका एक महत्वपूर्ण कारण है भारतीय संस्कृति भारत के लोगों ने जिस प्रकार से विदेशी धर्मों को विदेशी लोगों को तथा विदेशी मूल्यों को अपनाया लेकिन साथ ही साथ भारतीय संस्कृति को हजारों वर्षों तक सहेज कर रखा संभाल के रखा वह एक अपने आप में एक बहुत बड़ी बात है और इस प्रकार की जो चीजें हैं बाकी देशों में देखने को नहीं मिलती न जाने कितने धर्मों के मतावलंबी पार क्यों पर आक्रमण करें तथा भारत को अपना गुलाम बनाया परंतु भारत और जंजीरों को तोड़ता हुआ आगे बढ़ता गया तथा अपनी संस्कृति मूल्य व धर्म को कभी नहीं छोड़ा मुझे ऐसा लगता है कि भारतीय था जो है पूरे विश्व के लिए एक आदर्श की तरह आज भी खड़ी है तथा चाहे वह योग हो चाहे आयुर्वेद हो जाती भारतीय सहनशीलता हो पूरे विश्व में इसकी मिसाल दी जाती है तथा इसकी प्रशंसा की जाती है भारत में पिछले कुछ वर्षों में जिस प्रकार से सामाजिक आर्थिक व राजनीतिक पैमाने पर अपने आपको खरा उतरा है मुझे ऐसा लगता है कि आने वाले समय में भारत विश्व गुरु की तरह बंद करो पड़ेगा और यह सब बिना भारतीय संस्कृति और मूल्यों के संभव नहीं है तो मुझे ऐसा लगता है भारतीय कला मूल्य संस्कृति धर्म तथा इतिहास भारत को एक सर्वश्रेष्ठ राष्ट्र घोषित करता है तथा आने वाले समय में भारत की संस्कृति में है राज की कोई संभावना नजर नहीं आती धन्यवाद

bharatiya sanskriti aur bharatiya mul na keval bharatiyta ka pratinidhitva karte hain saath hi saath poore vishwa ko bharatiyta ka path padhate hain bharat mein jis prakar se vibhinn vargon ke sampradayon ke t sab dharmon ke log saikadon varsho se ek saath reh rahe hain tatha jis prakar ka samajik va samanjasya bana hua hai is desh mein vaah apne aap mein ek misal hai aaj ke samay mein jaha chote chhote desh mein grah yudh chalte rehte hain bharat jaise vishal ka hai desh mein grah yudh hone ki sambhavna bharat ki swadheenta ke pashchat kabhi bhi nahi bani iska ek mahatvapurna karan hai bharatiya sanskriti bharat ke logo ne jis prakar se videshi dharmon ko videshi logo ko tatha videshi mulyon ko apnaya lekin saath hi saath bharatiya sanskriti ko hazaro varshon tak sahej kar rakha sambhaal ke rakha vaah ek apne aap mein ek bahut badi baat hai aur is prakar ki jo cheezen hain baki deshon mein dekhne ko nahi milti na jaane kitne dharmon ke matavalambi par kyon par aakraman kare tatha bharat ko apna gulam banaya parantu bharat aur janjiron ko todta hua aage badhta gaya tatha apni sanskriti mulya va dharm ko kabhi nahi choda mujhe aisa lagta hai ki bharatiya tha jo hai poore vishwa ke liye ek adarsh ki tarah aaj bhi khadi hai tatha chahen vaah yog ho chahen ayurveda ho jaati bharatiya sahansheelta ho poore vishwa mein iski misal di jaati hai tatha iski prashansa ki jaati hai bharat mein pichle kuch varshon mein jis prakar se samajik aarthik va raajnitik paimane par apne aapko Khara utara hai mujhe aisa lagta hai ki aane waale samay mein bharat vishwa guru ki tarah band karo padega aur yah sab bina bharatiya sanskriti aur mulyon ke sambhav nahi hai toh mujhe aisa lagta hai bharatiya kala mulya sanskriti dharm tatha itihas bharat ko ek sarvashreshtha rashtra ghoshit karta hai tatha aane waale samay mein bharat ki sanskriti mein hai raj ki koi sambhavna nazar nahi aati dhanyavad

भारतीय संस्कृति और भारतीय मूल ना केवल भारतीयता का प्रतिनिधित्व करते हैं साथ ही साथ पूरे वि

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  466
WhatsApp_icon
user

Ridhima

Mass Communications Student

1:11
Play

Likes    Dislikes    views  28
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

PK भारतीय संस्कृति जो है वह विश्व में सबसे पुरानी और सबसे प्रसिद्ध है और भारतीय संस्कृति में जो है बहुत सारी चीजें होते हैं और बताना चाहूंगा कि हमारे देश में जो लोग हैं वह अलग अलग धर्म के लोग अलग-अलग जाति के लोग जो है वह साथ में कंधे से कंधा मिलाकर एक साथ मिलकर खुशी से रहते हैं और और भारत का इतिहास भी आ रहा है और हम लोग जितने भी पैसे वाले सब आपस में मिल बैठकर सेलिब्रेट करते हो खुशियां मनाते हैं चाहे वह कोई भी आदमी हो जैसे होली हुआ दिवाली हुआ गणपति पूजा हुआ दशहरा हुआ और खुशी द्वारा सेट करते हैं और खुशियां बांटते हैं

PK bharatiya sanskriti jo hai vaah vishwa mein sabse purani aur sabse prasiddh hai aur bharatiya sanskriti mein jo hai bahut saree cheezen hote hain aur bataana chahunga ki hamare desh mein jo log hain vaah alag alag dharm ke log alag alag jati ke log jo hai vaah saath mein kandhe se kandha milakar ek saath milkar khushi se rehte hain aur aur bharat ka itihas bhi aa raha hai aur hum log jitne bhi paise waale sab aapas mein mil baithkar celebrate karte ho khushiya manate hain chahen vaah koi bhi aadmi ho jaise holi hua diwali hua ganapati puja hua dussehra hua aur khushi dwara set karte hain aur khushiya bantate hain

PK भारतीय संस्कृति जो है वह विश्व में सबसे पुरानी और सबसे प्रसिद्ध है और भारतीय संस्कृति म

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  187
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
bhartiya sanskriti ka mahatva ; aaj tak dharm ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!