रक्षामंत्री राजनाथ सिंह की पाकिस्तान को चेतावनी - कहा "पहले से और बड़ा झटका देंगे" - क्या ये कहना चाहिए था?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यस मैं राजनाथ जी का समर्थन करूंगा बात के लिए क्योंकि पाकिस्तान इस कैटेगरी का देश है जिसने भी दुश्मनी को कभी नहीं कि हमारे बार-बार समझाने के पश्चात भी आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम दे रहा है आतंकवादियों को पाल रहा है उनका पोषण कर रहा है प्रशिक्षण दे रहा है परिणामस्वरूप भारत के बहुत बढ़िया सकता है इस को सबक सिखाया जाए

Yes main rajnath ji ka samarthan karunga baat ke liye kyonki pakistan is category ka desh hai jisne bhi dushmani ko kabhi nahi ki hamare baar baar samjhane ke pashchat bhi aatankwadi gatividhiyon ko anjaam de raha hai aatankwadion ko pal raha hai unka poshan kar raha hai prashikshan de raha hai parinaamasvaroop bharat ke bahut badhiya sakta hai is ko sabak sikhaya jaaye

यस मैं राजनाथ जी का समर्थन करूंगा बात के लिए क्योंकि पाकिस्तान इस कैटेगरी का देश है जिसने

Romanized Version
Likes  57  Dislikes    views  1151
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Abhishek Shekher Gaur

Civil Engineer

1:02

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आप यह समझ में यह प्रश्न पॉलिटिक्स पाकिस्तान हमें आंख तरह रहा है तो यह उसके ऊपर एक प्रश्न डालने की टेक्निक है की कोशिश भी मत करना यह है यह ऐसा नहीं है कि इंडिया कर ही देगा इंडिया जब रिजेक्ट करता है इंडिया खुद कुछ नहीं करता है पहले इनीशिएट नहीं करता है जब उधर से कुछ आता है तब इधर से करता तो जो पाकिस्तान को एक कहा गया है यह इसीलिए कहा गया क्योंकि वह आकर तरह का था कि यह कर देंगे आइटम बम मार देंगे यह उनके मंत्री कुछ भी कह रहे हैं आजकल दिए इसलिए कहा गया है ताकि उन पर प्रेशर है थोड़ा वह हम को हल्के में लेना बंद करें वह यह सोचे कि नहीं नहीं हम ज्यादा नाटक करेंगे तो उधर से भी करा रिएक्शन आ सकता है और हो सकता है प्रिय मित्र कर दें कि मतलब हमें देखकर कि यह ज्यादा आगे बढ़ रहे हैं तो हम पहले से हमला कर दे इसको बोला था प्रिय प्रिय तो यह सिर्फ प्रश्न पॉलिटिक्स है ज्यादा कुछ नहीं है थैंक यू

dekhiye aap yah samajh mein yah prashna politics pakistan hamein aankh tarah raha hai toh yah uske upar ek prashna dalne ki technique hai ki koshish bhi mat karna yah hai yah aisa nahi hai ki india kar hi dega india jab reject karta hai india khud kuch nahi karta hai pehle inishiet nahi karta hai jab udhar se kuch aata hai tab idhar se karta toh jo pakistan ko ek kaha gaya hai yah isliye kaha gaya kyonki vaah aakar tarah ka tha ki yah kar denge item bomb maar denge yah unke mantri kuch bhi keh rahe hain aajkal diye isliye kaha gaya hai taki un par pressure hai thoda vaah hum ko halke mein lena band kare vaah yah soche ki nahi nahi hum zyada natak karenge toh udhar se bhi kara reaction aa sakta hai aur ho sakta hai priya mitra kar de ki matlab hamein dekhkar ki yah zyada aage badh rahe hain toh hum pehle se hamla kar de isko bola tha priya priya toh yah sirf prashna politics hai zyada kuch nahi hai thank you

देखिए आप यह समझ में यह प्रश्न पॉलिटिक्स पाकिस्तान हमें आंख तरह रहा है तो यह उसके ऊपर एक प्

Romanized Version
Likes  48  Dislikes    views  1638
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दी की विदेश नीति या इंटरनेशनल डिप्लोमेट्स में जब भी बात करते हैं डिप्लोमेसी की बात करते हैं तब हमें यह पता होता है हम यह थोड़ा कैलकुलेट तरीके से हमेशा अपने विचारों को रखते हैं कि हमें कब बोलना है क्या बोलना है और खासतौर पर राजनाथ सिंह जी हमारे जो इस समय रक्षा मंत्री हैं वह एक परिपक्व नेता है ऐसे नेता नहीं है जो कुछ भी बोल देंगे कुछ भी करके के तरीके उनका भी बार नहीं है तो और अगर उनको कुछ बोलना है यार को को संदेश देना है एक बड़े स्तर पर संदेश देना जैसे कि रोने को समय पहले कहा था कि अब कश्मीर का कोई बात नहीं होगा बात होगी तो सिर्फ एलओसी पर होगी और उसके पास पीओके पर होगी कि कैसे इस पे क्यों को वापस लिया जाए तो मुझे लगता है कि इस तरह का स्टैंड लेने वाला कर देता है तो वह हमारे देश के लिए और हमारे सेना का मनोबल बढ़ाने के लिए काफी अच्छा है और इसको कहने से मुझे लगता है कि कोई ज्यादा दिक्कत किसी भारतीय को अगर बोला है तो अगर चेतावनी देते हैं तो हो सकता है कि लोग जो सामने वाले हैं वह पहले से कोशिश ना करें अगर करते भी हैं तो जो कहा है उसे करने में कंप्लीट पूरे कर रहे मुझे कोई दिक्कत नहीं है हमारे देश काफी स्ट्रॉन्ग है और हर तरह की परेशानियों से जूझ कर बाहर निकला है तो उसे पता है कि किस समय कब वार करना है क्या करना है बहुत धन्यवाद

di ki videsh niti ya international diplomets mein jab bhi baat karte hai diplomacy ki baat karte hai tab hamein yah pata hota hai hum yah thoda calculate tarike se hamesha apne vicharon ko rakhte hai ki hamein kab bolna hai kya bolna hai aur khaasataur par rajnath Singh ji hamare jo is samay raksha mantri hai vaah ek paripakva neta hai aise neta nahi hai jo kuch bhi bol denge kuch bhi karke ke tarike unka bhi baar nahi hai toh aur agar unko kuch bolna hai yaar ko ko sandesh dena hai ek bade sthar par sandesh dena jaise ki rone ko samay pehle kaha tha ki ab kashmir ka koi baat nahi hoga baat hogi toh sirf loc par hogi aur uske paas POK par hogi ki kaise is pe kyon ko wapas liya jaaye toh mujhe lagta hai ki is tarah ka stand lene vala kar deta hai toh vaah hamare desh ke liye aur hamare sena ka manobal badhane ke liye kaafi accha hai aur isko kehne se mujhe lagta hai ki koi zyada dikkat kisi bharatiya ko agar bola hai toh agar chetavani dete hai toh ho sakta hai ki log jo saamne waale hai vaah pehle se koshish na kare agar karte bhi hai toh jo kaha hai use karne mein complete poore kar rahe mujhe koi dikkat nahi hai hamare desh kaafi strong hai aur har tarah ki pareshaniyo se joojh kar bahar nikala hai toh use pata hai ki kis samay kab war karna hai kya karna hai bahut dhanyavad

दी की विदेश नीति या इंटरनेशनल डिप्लोमेट्स में जब भी बात करते हैं डिप्लोमेसी की बात करते है

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  833
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!