Traffic Rules तोड़ने पर सख्ती बढ़ी - क्या ये सही कदम है?...


user

Dr.Pavan Mishra

Naturopath Doctor | Physician

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाय गुड मॉर्निंग इससे अच्छा कदम कुछ और नहीं हो सकता है क्योंकि इससे बहुत सारे चीजों में बचा हो जाएगा लोग जो ऐसे ही दर उधर कट मारके गाड़ी चलाते हैं और इसकी वजह से एक्सीडेंट वगैरा होते रहते हैं वह सारे चाहिए नहीं तो बहुत ही अच्छा नहीं है मैं क्योंकि मैंने देखा है रेड लाइट होती है उसके बावजूद भी लोग खास करके निकल जाते हैं इमरजेंसी है कि नहीं है इसमें थोड़ा सही से देखना चाहिए कि इमरजेंसी है या क्या है उस हिसाब से थोड़ा इस को मेंटेन करने की आवश्यकता है ठीक है बहुत अच्छा है नहीं लेकिन उसके साथ-साथ और भी चीजों को थोड़ा बदलने की आवश्यकता है और इसमें जो फाइन लगाए हुए हैं चालान का वह थोड़ा सा ज्यादा लगाया हुआ है वह इसलिए क्योंकि इन्होंने जो बहुत सारे फॉरेन कंट्री का एक दिया था डाटा की वहां की जो प्रति व्यक्ति आयु है उसके हिसाब से जो वहां का चालान है वह ठीक है वहां के लिए यहां की जो प्रति व्यक्ति आय हैं उसके हिसाब से यहां तो चालान होता है वह तो पूरा ही उसकी चली जाएगी जो मंथली आए होती है चालान में उसके चली जाएगी फिर उसके पास कुछ पैसे बचेंगे नहीं तो फिर वह क्राइम नहीं करेगा तो और क्या करेगा तो इसमें चालान का जो अमाउंट है उसे थोड़ा सा संशोधन करने की आवश्यकता है सख्ती बरतना अच्छी बात है लेकिन जो चालान का अमाउंट इसमें तय किया गया है उसमें थोड़ा संशोधन करने की जरूरत है वह बहुत आवश्यक है धन्यवाद

hi good morning isse accha kadam kuch aur nahi ho sakta hai kyonki isse bahut saare chijon mein bacha ho jaega log jo aise hi dar udhar cut marke gaadi chalte hain aur iski wajah se accident vagera hote rehte hain vaah saare chahiye nahi toh bahut hi accha nahi hai kyonki maine dekha hai red light hoti hai uske bawajud bhi log khaas karke nikal jaate hain emergency hai ki nahi hai isme thoda sahi se dekhna chahiye ki emergency hai ya kya hai us hisab se thoda is ko maintain karne ki avashyakta hai theek hai bahut accha hai nahi lekin uske saath saath aur bhi chijon ko thoda badalne ki avashyakta hai aur isme jo fine lagaye hue hain chalan ka vaah thoda sa zyada lagaya hua hai vaah isliye kyonki inhone jo bahut saare foreign country ka ek diya tha data ki wahan ki jo prati vyakti aayu hai uske hisab se jo wahan ka chalan hai vaah theek hai wahan ke liye yahan ki jo prati vyakti aay hain uske hisab se yahan toh chalan hota hai vaah toh pura hi uski chali jayegi jo monthly aaye hoti hai chalan mein uske chali jayegi phir uske paas kuch paise bachenge nahi toh phir vaah crime nahi karega toh aur kya karega toh isme chalan ka jo amount hai use thoda sa sanshodhan karne ki avashyakta hai sakhti bartana achi baat hai lekin jo chalan ka amount isme tay kiya gaya hai usme thoda sanshodhan karne ki zarurat hai vaah bahut aavashyak hai dhanyavad

हाय गुड मॉर्निंग इससे अच्छा कदम कुछ और नहीं हो सकता है क्योंकि इससे बहुत सारे चीजों में ब

Romanized Version
Likes  119  Dislikes    views  1758
WhatsApp_icon
21 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

2:49

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए ट्रैफिक के नियम तोड़ने पर अगर शक्ति बढ़ती है फाइंस बढ़ते हैं तो यह अच्छा कदम है और एक लेकिन थोड़ा सा सोचा जा सकता था कि क्या इतना फाइन बढ़ाना जरूरी है या थोड़ा कम कर देते तो अच्छा रहता आशा दूसरी बात भाई खाली फाइंड बनाने से यह दिक्कत परेशानी खत्म नहीं होगी और दिक्कत परेशानी क्या थी देख परेशानी यह थी यामीन मुद्दा यह था कि भाई लोग एक्सीडेंट में पूरे भारतवर्ष में बहुत मारे जाते हैं आपको बताएं 1 दिन में करीब 400 लोग पूरे भारतवर्ष में हमारे रह जाते हैं या मर जाते हैं रोड एक्सीडेंट में जिसमें अधिकतर लोग 18 से 35 साल के उम्र के होते हैं अब सोच के जवान आदमी या औरत आगर रोड एक्सीडेंट में चली जा रहे हैं तू ही कितनी बड़ी है ना आप चिंता का कारण है ऐसा नहीं होना चाहिए जो अपनी गलती से जाते हैं दूसरी ओर बाकी कारणों से जाते हैं अपनी गलती होती कि मैं बिना हेलमेट के गाड़ी चला रहा हूं मैं रॉन्ग साइड में गाड़ी चला रहा हूं यह सारी अपनी गलती हो गई दूसरी गलतियां क्या है जिस पर भी सरकार को ध्यान देना चाहिए था और सरकार ने इन बातों पर तो चलो ठीक है लगाम कस दी कि वह आपको हेलमेट पहन के चलाने आपको रॉन्ग साइड नहीं चलाना है ना यह सब तो देख लिया और फाइन बढ़ा दिया लेकिन दूसरी अहम बात जो सरकार को देखनी चाहिए कि जो सरकार ने नहीं देखी वह यह था कि भाई क्या रोड से ठीक-ठाक है भाई रोड पर हमारा सिग्नल काम करता है या नहीं करता क्या ज़ेबरा क्रॉसिंग दिखता है या नहीं देखता क्या रोड पर गड्ढे भरे गए हैं या नहीं भरे गए या गड्ढे अभी भी है क्या कहीं पर अगर खुदाई होती है तो वहां पर हालात कैसे होते हैं उसको मैनेज करने के बारे में किसी ने सोचा है उसको कैसे ठीक से किया जाए ताकि वहां पर कोई गड्ढे में गिर ना जाए कोई एक्सीडेंट ना हो जाए कोई हादसा ना हो जाए इसके लिए सरकार ने क्या किया है यह देखना बहुत जरूरी था बल्कि सबसे पहले छूट तो देखना चाहिए था उसके बाद या उसके साथ हमें यह लगाम कसनी चाहिए थे कि मैं यहां पर हेलमेट नहीं पहनेंगे रॉन्ग साइड चलाएंगे वगैरह वगैरह तो आपको ज्यादा फाइंड देना पड़ेगा तो दोनों एंगल को दे देते तो ज्यादा बेहतर रहता अभी मेरे हिसाब से इन्होंने खाली सरकार ने खाली है क्या इंदल को देखा है कि वह चलो फटाफट साइन बड़ा तो मैं खाली फाइन बढ़ाने से सलूशन हल नहीं होती थोड़ा बहुत असर पड़ेगा लेकिन हमें तो यह देखना है कि क्या एक इंसान सिर्फ है रोड पर जाने के लिए ट्रैवल करने के लिए चाहे वह पैदल ट्रेवल कर रहा हूं ऑटो में हो टू व्हीलर में हो कार में हो बस में हूं कैसे भी ट्रेवल कर रहे क्या व्हाट्सएप है या नहीं है क्या सरकार को कुछ करना चाहिए या नहीं करना चाहिए देखने के बाद है यह सबसे ज्यादा जरूरी है

dekhiye traffic ke niyam todne par agar shakti badhti hai fains badhte hai toh yah accha kadam hai aur ek lekin thoda sa socha ja sakta tha ki kya itna fine badhana zaroori hai ya thoda kam kar dete toh accha rehta asha dusri baat bhai khaali find banane se yah dikkat pareshani khatam nahi hogi aur dikkat pareshani kya thi dekh pareshani yah thi yameen mudda yah tha ki bhai log accident mein poore bharatvarsh mein bahut maare jaate hai aapko bataye 1 din mein kareeb 400 log poore bharatvarsh mein hamare reh jaate hai ya mar jaate hai road accident mein jisme adhiktar log 18 se 35 saal ke umr ke hote hai ab soch ke jawaan aadmi ya aurat aagar road accident mein chali ja rahe hai tu hi kitni baadi hai na aap chinta ka karan hai aisa nahi hona chahiye jo apni galti se jaate hai dusri aur baki karanon se jaate hai apni galti hoti ki main bina helmet ke gaadi chala raha hoon main wrong side mein gaadi chala raha hoon yah saree apni galti ho gayi dusri galtiya kya hai jis par bhi sarkar ko dhyan dena chahiye tha aur sarkar ne in baaton par toh chalo theek hai lagaam cas di ki vaah aapko helmet pahan ke chalane aapko wrong side nahi chalana hai na yah sab toh dekh liya aur fine badha diya lekin dusri aham baat jo sarkar ko dekhni chahiye ki jo sarkar ne nahi dekhi vaah yah tha ki bhai kya road se theek thak hai bhai road par hamara signal kaam karta hai ya nahi karta kya zebra crossing dikhta hai ya nahi dekhta kya road par gaddhe bhare gaye hai ya nahi bhare gaye ya gaddhe abhi bhi hai kya kahin par agar khudai hoti hai toh wahan par haalaat kaise hote hai usko manage karne ke bare mein kisi ne socha hai usko kaise theek se kiya jaaye taki wahan par koi gaddhe mein gir na jaaye koi accident na ho jaaye koi hadsa na ho jaaye iske liye sarkar ne kya kiya hai yah dekhna bahut zaroori tha balki sabse pehle chhut toh dekhna chahiye tha uske baad ya uske saath hamein yah lagaam kasani chahiye the ki main yahan par helmet nahi pahnenge wrong side chalayenge vagera vagairah toh aapko zyada find dena padega toh dono Angle ko de dete toh zyada behtar rehta abhi mere hisab se inhone khaali sarkar ne khaali hai kya endla ko dekha hai ki vaah chalo phataphat sign bada toh main khaali fine badhane se salution hal nahi hoti thoda bahut asar padega lekin hamein toh yah dekhna hai ki kya ek insaan sirf hai road par jaane ke liye travel karne ke liye chahen vaah paidal travel kar raha hoon auto mein ho to wheeler mein ho car mein ho bus mein hoon kaise bhi travel kar rahe kya whatsapp hai ya nahi hai kya sarkar ko kuch karna chahiye ya nahi karna chahiye dekhne ke baad hai yah sabse zyada zaroori hai

देखिए ट्रैफिक के नियम तोड़ने पर अगर शक्ति बढ़ती है फाइंस बढ़ते हैं तो यह अच्छा कदम है और ए

Romanized Version
Likes  552  Dislikes    views  7950
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ट्रैफिक रूल तोड़ने पर सबसे बड़ी क्या यह सही कदम है जी हां एकदम सही कदम है उसमें पब्लिक का ही हेल्प सही रहता है और उनके फायदे के लिए नक्शा

traffic rule todne par sabse badi kya yah sahi kadam hai ji haan ekdam sahi kadam hai usme public ka hi help sahi rehta hai aur unke fayde ke liye naksha

ट्रैफिक रूल तोड़ने पर सबसे बड़ी क्या यह सही कदम है जी हां एकदम सही कदम है उसमें पब्लिक का

Romanized Version
Likes  355  Dislikes    views  5022
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

3:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि ट्रैफिक रूल बढ़ने पर शक्ति बढ़ी है यह बहुत अच्छा फैसला है सरकार का और हमारे देश में ट्रैफिक रूल बढ़िया होना चाहिए ट्रैफिक रूल जब बढ़िया हो जाएगा तो लोग अनुशासन में रहेंगे और अनुशासन में रहेंगे तो अनुशासित व्यक्ति ही नए भारत का निर्माण करेगा हम लोग चर्चा करते हैं कि बेंगलुरु में ऐसा है आप बाइक से जाते हो फोर व्हीलर से जाते हो ऑटोमेटिक चालान कट जाता है और चालान आपके घर आ जाता है तो वैसा रूल रेगुलेशन पूरे हिंदुस्तान में होना चाहिए हम लोग चर्चा करते हैं कि सऊदी अरब का कानून बड़ा सख्त है वहां जो भी गलत कर्म करता है गलत काम करता है उसको फांसी होती है तो हमारे देश में अगर कानून बढ़िया बन जाएगा तो लोग गलत काम करने से डरेंगे जब गलत काम करने से डरेंगे तो देश ऑटोमेटिक तरक्की करेगा तो प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का जितना भी फैसला हो रहा है यह भारत की तरक्की के लिए हो रहा है भारत को अनुशासित बनाने के लिए हो रहा है कि भारत अनुशासित बन जाएगा तो फिर देखी दुनिया में भारत का परचम लहराएगा मैं आपको बता देना चाहता हूं प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने ब्लॉक अमीर पुतिन और डोनाल्ड ट्रंप को पीछे छोड़ दिया आज के डेट में दुनिया के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने दुनिया के शक्तिशाली व्यक्ति सोचिए यह हम सभी भारत वासियों के लिए गर्व गर्व की बात है जो दुनिया का सबसे शक्तिशाली व्यक्ति है क्या उसका फैसला गलत हो सकता है नहीं और जो भी फैसला करेंगे हम लोगों को यही मानकर चलना है कि यह देश हित के लिए फैसला है बस उसका समर्थन करना है ट्रैफिक अच्छा बनाया जा रहा है हम समर्थन करेंगे अगर धारा 370 हटाया गया तो हमारे देश की भलाई के लिए हटाया गया है अगर भारतीय जनता पार्टी राम मंदिर बनवा आएगी तो देश की तरक्की के लिए बनवाई कि अगर मोदी जी किसी मुस्लिम व्यक्ति से मिलते हैं तो हमें उसका विरोध नहीं करना है हमें यह मानकर चलना है कि मोदी जी देश की तरक्की के लिए काम कर रहे हैं मोदी जी किसी धर्म या किसी जाति के लिए कार्य नहीं कर रहे हैं मोदी जी के लिए 125 करोड़ देशवासी मायने रखते हैं और अपने देश को वह सर्वोच्च स्थान पर रखते हैं तो देश से पहले उसके बाद पार्टी है उसके बाद बोलोगे तो कहने का तात्पर्य है मोदी जी ऐसे देश भक्त हैं जिनका हमें साथ देना चाहिए क्योंकि मोदी जी के नेतृत्व में ही हिंदुस्तान का गौरव और हिंदुस्तान का सम्मान बढ़ा है अभी और ज्यादा बढ़ेगा धुन हिंदुस्तान फिर से विकसित देश बोला जाएगा फिर से सोने की चिड़िया बोली जाएगी फिर से विश्व गुरु बोला जाएगा भारत धन्यवाद

aapka sawaal hai ki traffic rule badhne par shakti badhi hai yah bahut accha faisla hai sarkar ka aur hamare desh mein traffic rule badhiya hona chahiye traffic rule jab badhiya ho jaega toh log anushasan mein rahenge aur anushasan mein rahenge toh anushasit vyakti hi naye bharat ka nirmaan karega hum log charcha karte hain ki bengaluru mein aisa hai aap bike se jaate ho four wheeler se jaate ho Automatic chalan cut jata hai aur chalan aapke ghar aa jata hai toh waisa rule regulation poore Hindustan mein hona chahiye hum log charcha karte hain ki saudi arab ka kanoon bada sakht hai wahan jo bhi galat karm karta hai galat kaam karta hai usko fansi hoti hai toh hamare desh mein agar kanoon badhiya ban jaega toh log galat kaam karne se darenge jab galat kaam karne se darenge toh desh Automatic tarakki karega toh pradhanmantri shri narendra modi ji ka jitna bhi faisla ho raha hai yah bharat ki tarakki ke liye ho raha hai bharat ko anushasit banane ke liye ho raha hai ki bharat anushasit ban jaega toh phir dekhi duniya mein bharat ka parcham laharyaga main aapko bata dena chahta hoon pradhanmantri shri narendra modi ji ne block amir putin aur donald trump ko peeche chod diya aaj ke date mein duniya ke sabse shaktishali vyakti pradhanmantri shri narendra modi ji ne duniya ke shaktishali vyakti sochiye yah hum sabhi bharat vasiyo ke liye garv garv ki baat hai jo duniya ka sabse shaktishali vyakti hai kya uska faisla galat ho sakta hai nahi aur jo bhi faisla karenge hum logo ko yahi maankar chalna hai ki yah desh hit ke liye faisla hai bus uska samarthan karna hai traffic accha banaya ja raha hai hum samarthan karenge agar dhara 370 hataya gaya toh hamare desh ki bhalai ke liye hataya gaya hai agar bharatiya janta party ram mandir banwa aayegi toh desh ki tarakki ke liye banwaai ki agar modi ji kisi muslim vyakti se milte hain toh hamein uska virodh nahi karna hai hamein yah maankar chalna hai ki modi ji desh ki tarakki ke liye kaam kar rahe hain modi ji kisi dharm ya kisi jati ke liye karya nahi kar rahe hain modi ji ke liye 125 crore deshvasi maayne rakhte hain aur apne desh ko vaah sarvoch sthan par rakhte hain toh desh se pehle uske baad party hai uske baad bologe toh kehne ka tatparya hai modi ji aise desh bhakt hain jinka hamein saath dena chahiye kyonki modi ji ke netritva mein hi Hindustan ka gaurav aur Hindustan ka sammaan badha hai abhi aur zyada badhega dhun Hindustan phir se viksit desh bola jaega phir se sone ki chidiya boli jayegi phir se vishwa guru bola jaega bharat dhanyavad

आपका सवाल है कि ट्रैफिक रूल बढ़ने पर शक्ति बढ़ी है यह बहुत अच्छा फैसला है सरकार का और हमार

Romanized Version
Likes  211  Dislikes    views  4218
WhatsApp_icon
user

महेश सेठ

रेकी ग्रैंडमास्टर,लाइफ कोच

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल सही कदम है क्योंकि ट्रैफिक रूल्स जो लोग फॉलो नहीं करते उन्हीं पर शक्ति होनी चाहिए बस में चाहिए और एकदम सही कदम में भारत के लोगों को बहुत ही लापरवाह हैं सोचते हैं कामचोर हैं निकम्मे हैं अगर इनको का सख्ती से नहीं सुधारा जाए तो सुधारते भी नहीं हो सकता है मेरी बातें कड़ी लगे यह सही है बहुत ही बना डीड लोग हैं इन पर शक्ति बहुत जरूरी है धन्यवाद नमस्कार

bilkul sahi kadam hai kyonki traffic rules jo log follow nahi karte unhi par shakti honi chahiye bus mein chahiye aur ekdam sahi kadam mein bharat ke logo ko bahut hi laaparavaah hain sochte hain kaamchor hain nikamme hain agar inko ka sakhti se nahi sudhara jaaye toh sudharte bhi nahi ho sakta hai meri batein kadi lage yah sahi hai bahut hi bana deed log hain in par shakti bahut zaroori hai dhanyavad namaskar

बिल्कुल सही कदम है क्योंकि ट्रैफिक रूल्स जो लोग फॉलो नहीं करते उन्हीं पर शक्ति होनी चाहिए

Romanized Version
Likes  174  Dislikes    views  2663
WhatsApp_icon
user

Rajveer

Career Counselor

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ट्रैफिक रूल्स में जो नियम बनाए गए हैं यहां सही कदम है क्योंकि जितनी दुर्घटनाएं होती है उस पर कुछ कंट्रोल होगा दूसरा जो लोग नियमों का पालन नहीं करते हैं उनके लिए सबसे अच्छा होगा इससे दुर्घटना में कमी आएगी

traffic rules mein jo niyam banaye gaye hain yahan sahi kadam hai kyonki jitni durghatanaen hoti hai us par kuch control hoga doosra jo log niyamon ka palan nahi karte hain unke liye sabse accha hoga isse durghatna mein kami aaegi

ट्रैफिक रूल्स में जो नियम बनाए गए हैं यहां सही कदम है क्योंकि जितनी दुर्घटनाएं होती है उस

Romanized Version
Likes  128  Dislikes    views  1870
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सफीपुर छोड़ने पर शक्ति बढ़ी क्या यह सही कदम है इसके लिए दो पहलू हैं हम इसको दोनों पहलुओं पर विचार कर सकते हैं पहला पहलू यह है कि ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर शक्ति बढ़ी है उसमें चालान की रकम का बढ़ोतरी होने से आम जनता में जो ट्रैफिक रूल्स को फॉलो करने के लिए जागृत चालान के डर से जागृति आई है और वह कौन से सो गए हैं कि हमें ट्रैफिक रूल्स को फॉलो करना है ताकि हम चालान से बच सकें और इसके दूसरे पहलू पर विचार करें तो इसके पीछे विरोध भी बहुत हो रहा है क्योंकि बहुत सारी तकलीफों का सामना दीपक आम जनता कर रही और सड़क की हालत हो या सड़क के किनारे एनफोर्समेंट घूमते हुए थे जो पशुओं का जमावड़ा हो या पुलिस प्रशासन द्वारा इसी तरह से कम पैसे लेकर वो सब जो होता है इसकी संभावना हो जाती है वैसे अगर हम पॉजिटिव हुए हैं देखे तो जनजागृति थोड़ी बड़ी है और लोग का फिटनेस को ओबे करने के लिए प्रयास कर रहे हैं लेकिन विरोध भी उतना ही हो रहा है कि सहेली विस्तार में कम से कम हेलमेट का प्रयोग छोटे शहरों में उसको छोड़ देनी चाहिए या करावे का हमारा विचार से इसलिए कुछ न कुछ से मॉडिफिकेशन हमारे कानून ने करने कि आगे चलकर भविष्य में जरूरत पड़ सकती है और सरकार विचार करेगी क्योंकि संसद में जो कानून पास हुआ मोटर व्हीकल एक्ट तो सभी राज्य सरकारों में इसका किसी रूप में पालन नहीं किया इसका मतलब कि यह दंड की रकम जो है वह काफी ज्यादा है और बहुत ज्यादा बुरा आम जनता के पढ़ने की ज्यादा संभावना है

safipur chodne par shakti badhi kya yah sahi kadam hai iske liye do pahaloo hain hum isko dono pahaluwon par vichar kar sakte hain pehla pahaloo yah hai ki traffic rules todne par shakti badhi hai usme chalan ki rakam ka badhotari hone se aam janta mein jo traffic rules ko follow karne ke liye jagrit chalan ke dar se jagriti I hai aur vaah kaunsi so gaye hain ki hamein traffic rules ko follow karna hai taki hum chalan se bach sake aur iske dusre pahaloo par vichar kare toh iske peeche virodh bhi bahut ho raha hai kyonki bahut saree takaleephon ka samana deepak aam janta kar rahi aur sadak ki halat ho ya sadak ke kinare enaforsament ghumte hue the jo pashuo ka jamavada ho ya police prashasan dwara isi tarah se kam paise lekar vo sab jo hota hai iski sambhavna ho jaati hai waise agar hum positive hue hain dekhe toh janajagriti thodi badi hai aur log ka fitness ko obey karne ke liye prayas kar rahe hain lekin virodh bhi utana hi ho raha hai ki saheli vistaar mein kam se kam helmet ka prayog chote shaharon mein usko chod deni chahiye ya karave ka hamara vichar se isliye kuch na kuch se modification hamare kanoon ne karne ki aage chalkar bhavishya mein zarurat pad sakti hai aur sarkar vichar karegi kyonki sansad mein jo kanoon paas hua motor vehicle act toh sabhi rajya sarkaro mein iska kisi roop mein palan nahi kiya iska matlab ki yah dand ki rakam jo hai vaah kaafi zyada hai aur bahut zyada bura aam janta ke padhne ki zyada sambhavna hai

सफीपुर छोड़ने पर शक्ति बढ़ी क्या यह सही कदम है इसके लिए दो पहलू हैं हम इसको दोनों पहलुओं

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  1057
WhatsApp_icon
user
1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी बहुत ही अच्छा क्वेश्चन है आपका की ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर शक्ति बढ़ी क्या यह सही कदम है बिल्कुल सही कदम है मेरे हिसाब से सरकार के बहुत ही अच्छा कदम है लेकिन इस पर मांग बढ़ा दिया जो पैसों का मानव बढ़ा दिया यह बहुत ही गलत कदम है इस पर जो है इतना पैसा चार्ज एक आम आदमी के लिए नहीं होना चाहिए आप अभी मान लीजिए कोई इमरजेंसी में जा रहा अचानक किसी ने हाथ दे दिया कि गाड़ी में बैठा लो बहुत अच्छा कोई चोट लग गई रूल्स गलत है और उस तोड़ना तो बिल्कुल गलत है इस पर सावधानी और गलती से हो जाती है तो उसे उस पर कोई भी कदम ना लिया जाए उसे माफ कर दिया जाए और अगर जानबूझकर हो जबरदस्ती घुस रहा है तू दिखता है क्या तो शराब पी के कुछ कार्रवाई करनी चाहिए हमरा के हिसाब से

vicky bahut hi accha question hai aapka ki traffic rules todne par shakti badhi kya yah sahi kadam hai bilkul sahi kadam hai mere hisab se sarkar ke bahut hi accha kadam hai lekin is par maang badha diya jo paison ka manav badha diya yah bahut hi galat kadam hai is par jo hai itna paisa charge ek aam aadmi ke liye nahi hona chahiye aap abhi maan lijiye koi emergency mein ja raha achanak kisi ne hath de diya ki gaadi mein baitha lo bahut accha koi chot lag gayi rules galat hai aur us todna toh bilkul galat hai is par savdhani aur galti se ho jaati hai toh use us par koi bhi kadam na liya jaaye use maaf kar diya jaaye aur agar janbujhkar ho jabardasti ghus raha hai tu dikhta hai kya toh sharab p ke kuch karyawahi karni chahiye hamara ke hisab se

विकी बहुत ही अच्छा क्वेश्चन है आपका की ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर शक्ति बढ़ी क्या यह सही कदम

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  416
WhatsApp_icon
user

Greeshma Nataraj

Psychology Counseling, Life Coach, NLP, Cognitive Behavioral Therapist, Motivational Speaker, Handwriting Signature Analyst.

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुड आफ्टरनून हां यह सही है कि अगर आप ट्रैफिक रूल्स तोड़ते हो तो आप खुश रखते रक्तदान भी जरूरी है क्योंकि होता क्या है जब लेडीस ड्राइव करते हैं जानबूझकर देखा गया है कि जनता के पीछे से हाकिंग करते हैं या ऐसे कट करते हैं कि फिर वह प्रॉब्लम हो जाती है तो आई रियली फील की ट्रैफिक रूल्स थोड़े तक होना चाहिए फुटपाथ पर ड्राइविंग अलार्म नहीं करनी चाहिए और जिस जेबरा क्रॉसिंग लाइन से उसके अंदर गाड़ियां पार्क करनी चाहिए यह सब गवर्मेंट देखना जरूरी है ऐसा मुझे लगता है धन्यवाद

good afternoon haan yah sahi hai ki agar aap traffic rules todte ho toh aap khush rakhte raktadan bhi zaroori hai kyonki hota kya hai jab ladies drive karte hain janbujhkar dekha gaya hai ki janta ke peeche se hawking karte hain ya aise cut karte hain ki phir vaah problem ho jaati hai toh I really feel ki traffic rules thode tak hona chahiye footpath par driving alarm nahi karni chahiye aur jis jabraa crossing line se uske andar gadiyan park karni chahiye yah sab government dekhna zaroori hai aisa mujhe lagta hai dhanyavad

गुड आफ्टरनून हां यह सही है कि अगर आप ट्रैफिक रूल्स तोड़ते हो तो आप खुश रखते रक्तदान भी जरू

Romanized Version
Likes  275  Dislikes    views  3934
WhatsApp_icon
user

Abhishek Shekher Gaur

Civil Engineer

1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ट्रैफिक रूल तोड़ने पर शक्ति बढ़ी क्या सही कदम है देखिए जहां तक मुझे लगता है अगर मेरी राय में सुनी जाए तो यह कदम सही है लेकिन थोड़ा एक्सट्रीम पड़ गया मतलब हां थोड़ा जुर्माना में चाहिए था क्योंकि उस जुर्माने में ना लोगों को पता चल गया था सर्वप्रथम आएंगे हम निकल जाएंगे तो थोड़ा एक्स्ट्रा तो जरूरी था लेकिन इतना ज्यादा भी नहीं किसी 200 से हजारों हजार पड़ता तो सीधे 10,000 यह नहीं सही है इतना ज्यादा नहीं बढ़ाना चाहिए था कि आतंक होने लग गया लेट अभी तक बहुत कुछ लोगों का बहुत ज्यादा कट गया है लेकिन बाकी लोग रूल फॉलो करने की कोशिश करने लग गए हैं अच्छी चीज है यह मौका देख नियमों का डर होना चाहिए जरूर जल्ला होता है वह काहे के लिए बने अगर हमें उनसे डर ही नहीं लगता मैं उनको तोड़ने में मजा आ रहा है घर तो फिर उनको बनाने का क्या मतलब है वह आपको एक डिसिप्लिन सिखाने के लिए बनते हैं और रोड पर आपने देखा है उसकी वजह से ही कई चीजें हो जाती है कहीं एक्सीडेंट होते हैं और अगर आपने हेलमेट नहीं लगाया या फिर कोई ऐसा बंदा गाड़ी चलाते हुए आ गया जिसके पास ड्राइविंग लाइसेंस नहीं है उसे सीखा नहीं है सही से बस चला रहा है तो सोचे कितने लोगों की जान ले सकता है तो यह सब चीजें हैं तो उसके लिए सही है अच्छा किया गया इतना क्यों नहीं होना चाहता होना चाहता मतलब मुझे लगता है जितना भी किया गया उसका पचास साठ परसेंट होता तो ज्यादा सही रहता थैंक यू

traffic rule todne par shakti badhi kya sahi kadam hai dekhiye jaha tak mujhe lagta hai agar meri rai mein suni jaaye toh yah kadam sahi hai lekin thoda extreme pad gaya matlab haan thoda jurmana mein chahiye tha kyonki us jurmane mein na logo ko pata chal gaya tha sarvapratham aayenge hum nikal jaenge toh thoda extra toh zaroori tha lekin itna zyada bhi nahi kisi 200 se hazaro hazaar padta toh sidhe 10 000 yah nahi sahi hai itna zyada nahi badhana chahiye tha ki aatank hone lag gaya late abhi tak bahut kuch logo ka bahut zyada cut gaya hai lekin baki log rule follow karne ki koshish karne lag gaye hain achi cheez hai yah mauka dekh niyamon ka dar hona chahiye zaroor jalla hota hai vaah kaahe ke liye bane agar hamein unse dar hi nahi lagta main unko todne mein maza aa raha hai ghar toh phir unko banane ka kya matlab hai vaah aapko ek discipline sikhane ke liye bante hain aur road par aapne dekha hai uski wajah se hi kai cheezen ho jaati hai kahin accident hote hain aur agar aapne helmet nahi lagaya ya phir koi aisa banda gaadi chalte hue aa gaya jiske paas driving license nahi hai use seekha nahi hai sahi se bus chala raha hai toh soche kitne logo ki jaan le sakta hai toh yah sab cheezen hain toh uske liye sahi hai accha kiya gaya itna kyon nahi hona chahta hona chahta matlab mujhe lagta hai jitna bhi kiya gaya uska pachaas saath percent hota toh zyada sahi rehta thank you

ट्रैफिक रूल तोड़ने पर शक्ति बढ़ी क्या सही कदम है देखिए जहां तक मुझे लगता है अगर मेरी राय म

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  2064
WhatsApp_icon
user

Nayan Zee

Motivational Scientist ! Speaker And Journalist

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पड़ सकती है क्या यह सही कदम है ट्रैफिक रूल में जो सख्ती बरती गई है क्या यह सही कदम है यह इस पर विचार शेयर करने के लिए कहा गया है तो मेरा तो यह मानना है बिल्कुल सख्ती बरती जानी चाहिए बिल्कुल बरती जानी चाहिए नहीं बात क्यों बरती जानी चाहिए क्यों नहीं बरती जानी चाहिए विषय आने से पहले यह बहुत जरूरी है समझना कि हम इंसान को कि जब गाड़ी खरीदते हैं तो क्या मुझे यह पता नहीं होता है बाइक खरीदे फोर व्हीलर खरीदे तो रूल्स क्या है नियम क्या है कानून क्या है और उसको चलाने के क्या रूल से तरीके कोई भी वाहन जब सीखते हैं तो क्या बिना सीखे चलाने लगते सीखना पड़ता है समझना पड़ता है कैसे बैलेंस रखा जाए कैसे किया जाए कैसे चलाया जाए और जब वह सीख लेते हैं तो गाड़ी उसी हिसाब से चलाते ट्रेन होते हैं तो चलाते हैं तो जैसे आप बाइक सीखते हैं फोर व्हीलर सीखते हैं और चलाने का गुड जानते हैं तभी आप चलाते हैं ना उसी तरह से यह सीखना समझना भी बहुत जरूरी है कि मैं जब रोड पर अपनी गाड़ी निकालता हूं तो उसके नियम क्या है कानून क्या है कायदे क्या है यह एक सुविधा है आपने खरीदी उसके लिए रास्ते बनाए जाते उस पर चलना होता उसकी एक नियम सब पता होता कागज सही से रखना है सारे नाम बताओ फिर भी हम लापरवाही बरतते फाइन एक करो रोज सजाए कुछ भी हो जाए उम्र कैद हो जाए कुछ भी हो जाए एक विषय ही अलग है हम करेंगे ऐसा क्यों ऐसा बिल्कुल नहीं करेंगे नियम कानून से चलना अनुशासन इंसान को उस देश को हर किसी को महान बनाने के लिए एक बहुत बड़ी चीज होती अनुशासन जानते हुए भी नॉलेज होते हुए भी फिर भी हमारी आदत सी बन गई है चीजों को अपने मन मुताबिक मनमाफिक करने की मनमौजी करने की किसी चीज का डर होना चाहिए क्या होना चाहिए एक अनुशासन डर आपको अनुशासन की वजह से भी आता है और इधर जैसी बात नहीं है नियम कानून का पालन करना एक अपने आपको वाइल्ड व्यक्ति कर सकता नियम कानून का कायदे से चलना जीवन में जो रूल्स बने है इस को फॉलो करना एक महान व्यक्ति ही कर सकता है उपद्रवी व्यक्ति ने अज्ञानी व्यक्ति नहीं कर सकता इलेक्ट्रेट व्यक्ति नहीं कर सकता अनपढ़ गवार नहीं कर जो करता है नियम को फॉलो नियम कायदे के साथ चलता है इसका मतलब वह पढ़ा-लिखा समझदार है और सच में वह अनुशासित व्यक्ति महान है वह इंसान जो गाय देखो कानून को समझता है उस मुताबिक अपनी चीजों को रूट गाड़ी चलाते हैं नियम कानून क्या कहता है सब पता होते हुए भी हम इलेक्ट्रेट की तरह व्यवहार करते हैं शान समझते हैं नियम कानून को तो जब मन हो गया निकल लिए जैसे निकल लिए कुछ भी कर ली है दाएं बाएं कुछ भी कर ली चीजों को पढ़े लिखे हैं और तरीका जानते हैं उसको अपनाना चाहिए अनुशासन आप और हम अपनाएंगे हमारे आने वाला जन्नत से भी वही अपना है आज क्यों इतनी बड़ी समस्या है और इसलिए कि हमारे पहले भी जो लोग थे वह भी ऐसी तेरा मनमानी क्या करते होंगे उनको देखकर हमने सीखा हम को देखकर और बच्चे सीखें तीज कब चाहिए अच्छा में गीत डंडा क्यों चलाना पर डंडे उठाने की जरूरत क्यों पड़ी एक रुपए भी फ्रेंड की जरूरत नहीं थी अगर हम अनुशासन में अव्वल होते अगर हम इज्जत और प्रतिष्ठित से इस चीजों को देखते रॉयल होते होना है नियम कानून कानून का पालन करना वायल वायल व्यक्ति का काम रिट्रीट व्यक्ति ऐसा नियम कानून तोड़ेगा इलिटरेट पढ़ा लिखा भी होते लिफ्ट जाहिल है गवार क्योंकि यह शान की बात हो ही नहीं सकता एक डंडे की भी जरूरत नहीं ₹1 के दंड की जरूरत नहीं है अगर हम अनुशासित होते और गलती पर कोई रोक देना तो मेरे लिए वह करोड़ों रुपया से बढ़कर संभल के चलना अनुसार होना चाहिए इसलिए अगर हम ऐसा नहीं करते हैं तो यह दोस्त हराना बिल्कुल जायज नहीं है इस शक्ति की शक्ति क्यों क्यों लगाई जा रही है इतनी शक्ति इसलिए कि हम क्षेत्र हो चुके हैं मानने को तैयार नहीं बातों से समझने के लिए रात का भूत बातों से नहीं मानते यही स्थिति यह हो गई है तो यह इसलिए हो रहा रही बात त्रुटि हो जाए कहीं से मिस्टेक हो गई तो वहां अनुशासन में अगर 99% है उसमें एक कोई पर्सेंट या कुछ लोग मिस्टेक कर दिए कहीं पर तो वह एक अलग विषय था तब फिर इतनी शक्ति होती भी नहीं यहां तो 99% लोग अनुशासन का पालन करने करना ही नहीं चाहते जब तक उन पर डंडा ना चले ही इसलिए हुआ है और इसलिए ऐसा जरूरी समझा जा रहा है इसलिए ऐसा करना पड़ा यह अवेयरनेस की चीजें हम आपको जागना होगा सरकारें तो नियम कानून बनाएंगे हम चाहे दर्द भर भर के भी अनुशासन ही बने रहे शाहनगर समझने वाले ऐसा भी करते रहेंगे कितनी बनेगी कानून कितने बनेंगे बनते रहेंगे टूटते रहे नगर चीजें अच्छी हो अगर हम आओ यार हो यह शक्ति रखी रह जाएगी डब्बे की जरूरत नहीं पड़ेगी इसकी यह होना चाहिए कि हम लोगों को आज से इस वक्त से संकल्प लेना होगा कि अनुशासन के हिसाब से रोड पर अपनी गाड़ी को लेकर चले अगर चीजें नहीं है तो उसको सुधार के चक्कर पेट्रोल नहीं रहेगा तो गाड़ी कैसे चलेगी तेल नहीं रहेगा गाड़ी के अंदर नहीं हुआ तो गाड़ी कैसे चलेगी मन बनाते हैं ना चलने के लिए उसी तरह से चलने के लिए अपनी हर चीजों को अपडेट रखना चाहती तो हमने चलाने के लिए जिसके लिए सफल शक्ति कोई बहुत जरूरी चीज नहीं है कोई उसकी जरूरत नहीं है गलत है सही है यह तो बात का विश्व की जरूरत क्यों पड़ी इसलिए जरूरत पड़ी कि हम अधिकांश लोग अनुशासन में नहीं थे रोड पर गाड़ी चलाते हैं नियम को फॉलो नहीं करते हैं गाड़ी का कागज पर जो भी है कागजात वह सही नहीं रखते जैसे कैसे मनमानी मनमर्जियां करते दिक्कत है हम ही लोगों को झेलनी होती सरकार का क्या वह तो एक सिस्टम डिवेलप करती है हम लोगों के लिए हमें लोगों का पैसा है और सभी लोगों को फिर दंड भी देना पड़ता है वह तो हमारे पैसे पर काम कर रही सरकारी व्यवस्था है और हमें लोगों पर सख्ती बरती जाती क्यों इसलिए कि हम अवेयर नहीं है नियम कानून को नहीं समझते इतनी बड़ी आबादी है देश में रास्ते उसे मृत है उसी पर सब को चलना है तो कानून के हिसाब

traffic rules todne pad sakti hai kya yah sahi kadam hai traffic rule mein jo sakhti barti gayi hai kya yah sahi kadam hai yah is par vichar share karne ke liye kaha gaya hai toh mera toh yah manana hai bilkul sakhti barti jani chahiye bilkul barti jani chahiye nahi baat kyon barti jani chahiye kyon nahi barti jani chahiye vishay aane se pehle yah bahut zaroori hai samajhna ki hum insaan ko ki jab gaadi kharidte hain toh kya mujhe yah pata nahi hota hai bike kharide four wheeler kharide toh rules kya hai niyam kya hai kanoon kya hai aur usko chalane ke kya rule se tarike koi bhi vaahan jab sikhate hain toh kya bina sikhe chalane lagte sikhna padta hai samajhna padta hai kaise balance rakha jaaye kaise kiya jaaye kaise chalaya jaaye aur jab vaah seekh lete hain toh gaadi usi hisab se chalte train hote hain toh chalte hain toh jaise aap bike sikhate hain four wheeler sikhate hain aur chalane ka good jante hain tabhi aap chalte hain na usi tarah se yah sikhna samajhna bhi bahut zaroori hai ki main jab road par apni gaadi nikalata hoon toh uske niyam kya hai kanoon kya hai kayade kya hai yah ek suvidha hai aapne kharidi uske liye raste banaye jaate us par chalna hota uski ek niyam sab pata hota kagaz sahi se rakhna hai saare naam batao phir bhi hum laparwahi bartate fine ek karo roj sajaye kuch bhi ho jaaye umr kaid ho jaaye kuch bhi ho jaaye ek vishay hi alag hai hum karenge aisa kyon aisa bilkul nahi karenge niyam kanoon se chalna anushasan insaan ko us desh ko har kisi ko mahaan banne liye ek bahut badi cheez hoti anushasan jante hue bhi knowledge hote hue bhi phir bhi hamari aadat si ban gayi hai chijon ko apne man mutabik manamafik karne ki manmauji karne ki kisi cheez ka dar hona chahiye kya hona chahiye ek anushasan dar aapko anushasan ki wajah se bhi aata hai aur idhar jaisi baat nahi hai niyam kanoon ka palan karna ek apne aapko wild vyakti kar sakta niyam kanoon ka kayade se chalna jeevan mein jo rules bane hai is ko follow karna ek mahaan vyakti hi kar sakta hai upadravi vyakti ne agyani vyakti nahi kar sakta ilektret vyakti nahi kar sakta anpad gavar nahi kar jo karta hai niyam ko follow niyam kayade ke saath chalta hai iska matlab vaah padha likha samajhdar hai aur sach mein vaah anushasit vyakti mahaan hai vaah insaan jo gaay dekho kanoon ko samajhata hai us mutabik apni chijon ko root gaadi chalte hain niyam kanoon kya kahata hai sab pata hote hue bhi hum ilektret ki tarah vyavhar karte hain shan samajhte hain niyam kanoon ko toh jab man ho gaya nikal liye jaise nikal liye kuch bhi kar li hai dayen baen kuch bhi kar li chijon ko padhe likhe hain aur tarika jante hain usko apnana chahiye anushasan aap aur hum apanaenge hamare aane vala jannat se bhi wahi apna hai aaj kyon itni badi samasya hai aur isliye ki hamare pehle bhi jo log the vaah bhi aisi tera manmani kya karte honge unko dekhkar humne seekha hum ko dekhkar aur bacche sikhe teej kab chahiye accha mein geet danda kyon chalana par dande uthane ki zarurat kyon padi ek rupaye bhi friend ki zarurat nahi thi agar hum anushasan mein avval hote agar hum izzat aur pratishthit se is chijon ko dekhte royal hote hona hai niyam kanoon kanoon ka palan karna vial vial vyakti ka kaam retreat vyakti aisa niyam kanoon todega ilitret padha likha bhi hote lift jaahil hai gavar kyonki yah shan ki baat ho hi nahi sakta ek dande ki bhi zarurat nahi Rs ke dand ki zarurat nahi hai agar hum anushasit hote aur galti par koi rok dena toh mere liye vaah karodo rupya se badhkar sambhal ke chalna anusaar hona chahiye isliye agar hum aisa nahi karte hain toh yah dost harana bilkul jayaj nahi hai is shakti ki shakti kyon kyon lagayi ja rahi hai itni shakti isliye ki hum kshetra ho chuke hain manne ko taiyar nahi baaton se samjhne ke liye raat ka bhoot baaton se nahi maante yahi sthiti yah ho gayi hai toh yah isliye ho raha rahi baat truti ho jaaye kahin se mistake ho gayi toh wahan anushasan mein agar 99 hai usme ek koi percent ya kuch log mistake kar diye kahin par toh vaah ek alag vishay tha tab phir itni shakti hoti bhi nahi yahan toh 99 log anushasan ka palan karne karna hi nahi chahte jab tak un par danda na chale hi isliye hua hai aur isliye aisa zaroori samjha ja raha hai isliye aisa karna pada yah awareness ki cheezen hum aapko jagana hoga sarkaren toh niyam kanoon banayenge hum chahen dard bhar bhar ke bhi anushasan hi bane rahe shahanagar samjhne waale aisa bhi karte rahenge kitni banegi kanoon kitne banenge bante rahenge tutate rahe nagar cheezen achi ho agar hum aao yaar ho yah shakti rakhi reh jayegi dabbe ki zarurat nahi padegi iski yah hona chahiye ki hum logo ko aaj se is waqt se sankalp lena hoga ki anushasan ke hisab se road par apni gaadi ko lekar chale agar cheezen nahi hai toh usko sudhaar ke chakkar petrol nahi rahega toh gaadi kaise chalegi tel nahi rahega gaadi ke andar nahi hua toh gaadi kaise chalegi man banate hain na chalne ke liye usi tarah se chalne ke liye apni har chijon ko update rakhna chahti toh humne chalane ke liye jiske liye safal shakti koi bahut zaroori cheez nahi hai koi uski zarurat nahi hai galat hai sahi hai yah toh baat ka vishwa ki zarurat kyon padi isliye zarurat padi ki hum adhikaansh log anushasan mein nahi the road par gaadi chalte hain niyam ko follow nahi karte hain gaadi ka kagaz par jo bhi hai kagajat vaah sahi nahi rakhte jaise kaise manmani manamarjiya karte dikkat hai hum hi logo ko jhelani hoti sarkar ka kya vaah toh ek system develop karti hai hum logo ke liye hamein logo ka paisa hai aur sabhi logo ko phir dand bhi dena padta hai vaah toh hamare paise par kaam kar rahi sarkari vyavastha hai aur hamein logo par sakhti barti jaati kyon isliye ki hum aveyar nahi hai niyam kanoon ko nahi samajhte itni badi aabadi hai desh mein raste use mrit hai usi par sab ko chalna hai toh kanoon ke hisab

ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पड़ सकती है क्या यह सही कदम है ट्रैफिक रूल में जो सख्ती बरती गई है क्

Romanized Version
Likes  101  Dislikes    views  1496
WhatsApp_icon
user

Jeet Dholakia

Anchor and Media Professional

3:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा यह मानना है कि ट्रैफिक रूल्स जो है वह किसके लिए बनाए गए हैं कि आम लोगों में जागरूकता आए कि उसे ऐसा बोला जाता है कि ट्रैफिक रूल्स का हमने सख्त कर दिए सरकार ऐसा बोलती है कि हमने ट्रैफिक रूल्स सख्त कर दिए हैं तो उसके कारण आकस्मिक की संख्या कम होगी पूरी गलत बात है कि यह ट्रैफिक रूल्स को फॉलो नहीं करते उससे काफी सारे अकस्मात होते यह मैं मरता था कि मानता नहीं हूं क्योंकि हमारे देश में जिस तरह का ट्रैफिक है और मैं बताना चाहता हूं कि एक अनमैनेज्ड ट्रैफिक हमारे देश में कई जगहों पर तो वहां पर ट्रैफिक सिग्नल नहीं होते हैं ट्रैफिक पुलिस नहीं होते हैं तो उसका क्या दौर मैंने उसके बारे में कुछ सोचा है आइए जो ट्राफिक रूल सा नए बनाए गए सख्त बनाए गए हैं इसमें जो जुर्माना भरना पड़ता है आपको उसकी रकम काफी बढ़ाई गई है और जो पहले ₹100 में उजाला था वह उसकी जगह पर 1000 2000 5000 कर दिया है तो मेरे ख्याल से यह बात है एकदम गलत है क्योंकि आप एक बार किसी और से हजारों रुपए लोगे तो आपको क्या पता की दूसरी बार वह गलती नहीं करेगा और आपको लाना है लाना है कुछ उसमें कुछ बदलाव लाना है तो मैं बताना चाहता हूं कि डॉर्मेंट को उसके बारे में थोड़ी जागरूकता फैलाने पड़ेगी क्योंकि आप लोगों पर सीधे एक ट्रैफिक रूल लगा दोगे और शक्ति के कदम लोगे तो लोग सामने आपको जवाब देंगे वह मेरे ख्याल से गवर्नमेंट को यह नहीं करना चाहिए पर पहले आ गवर्नमेंट को लोगों में जागरूकता लाने की कोशिश करनी चाहिए जिसके कारण लोगों में अगर थोड़ी भी जागरूकता आएगी उनको लगेगा कि हां मेरे लिए यह सही है मुझे नहीं करना चाहिए अगर रेड सिग्नल है तो मुझे वहां पर रुकना ही है चाहे कुछ भी हो जाए चाहे कितने सेकेंड बाकियों मुझे रुकना ही है वहां पर तो गड़ा की लोगों में एक अवेयरनेस आएगी तू ही मेरे ख्याल से ऐसा लगता है कि ट्रैफिक रूल्स लोग लोग होंगे वह फॉलो करेंगे आवरणा गवर्नमेंट अगर शक्ति करेगी तो सामने जवाब में लोग भी उतने ही साथ हो जाएंगे और गवर्नमेंट को पहले यह सोचना चाहिए कि हम लोगों को अच्छे रास्ते दे पा रहे हैं हम लोगों को अच्छी सुविधा दे पा रहे हैं तभी जाकर गवर्नमेंट को हक बनता है कि लोगों पर इस तरह के आज तक ट्रैफिक रूल्स लगा दे रही है वह पर्याप्त मात्रा में है क्या नहीं वह सरकार को देखना चाहिए ना कि यह आरजू बना की रकम बढ़ाने से लोगों में जागरुकता आएगी और लोग यह ट्रैफिक रूल्स फॉलो करें कि मुझे लगता कि यह सही कदम है और सरकार को पहले खुद सोचना चाहिए कि वह कितना दे पा रही है लोगों को और सामने आ लोगों की भी मैं एक बात पता चला कि लोगों की भी मीटिंग होती है कि हम भी अपना शरीर है अपना बॉडी है तो क्यों हम उनको अकस्मात में दवा दे या फिर हम जागृत हो और लोग भी सतर्क होने चाहिए अपने खुद के प्रति तू ही मेरे ख्याल से यह कुछ अच्छा हो सकता है और इसके कारण ही ट्रैफिक रूल्स तक जाने की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी

mera yah manana hai ki traffic rules jo hai vaah kiske liye banaye gaye hain ki aam logo mein jagrukta aaye ki use aisa bola jata hai ki traffic rules ka humne sakht kar diye sarkar aisa bolti hai ki humne traffic rules sakht kar diye hain toh uske karan aakasmik ki sankhya kam hogi puri galat baat hai ki yah traffic rules ko follow nahi karte usse kaafi saare akasmat hote yah main marta tha ki manata nahi hoon kyonki hamare desh mein jis tarah ka traffic hai aur main bataana chahta hoon ki ek anamainejd traffic hamare desh mein kai jagaho par toh wahan par traffic signal nahi hote hain traffic police nahi hote hain toh uska kya daur maine uske bare mein kuch socha hai aaiye jo traffic rule sa naye banaye gaye sakht banaye gaye hain isme jo jurmana bharna padta hai aapko uski rakam kaafi badhai gayi hai aur jo pehle Rs mein ujaala tha vaah uski jagah par 1000 2000 5000 kar diya hai toh mere khayal se yah baat hai ekdam galat hai kyonki aap ek baar kisi aur se hazaro rupaye loge toh aapko kya pata ki dusri baar vaah galti nahi karega aur aapko lana hai lana hai kuch usme kuch badlav lana hai toh main bataana chahta hoon ki dormant ko uske bare mein thodi jagrukta felane padegi kyonki aap logo par sidhe ek traffic rule laga doge aur shakti ke kadam loge toh log saamne aapko jawab denge vaah mere khayal se government ko yah nahi karna chahiye par pehle aa government ko logo mein jagrukta lane ki koshish karni chahiye jiske karan logo mein agar thodi bhi jagrukta aayegi unko lagega ki haan mere liye yah sahi hai mujhe nahi karna chahiye agar red signal hai toh mujhe wahan par rukna hi hai chahen kuch bhi ho jaaye chahen kitne second baakiyon mujhe rukna hi hai wahan par toh gada ki logo mein ek awareness aayegi tu hi mere khayal se aisa lagta hai ki traffic rules log log honge vaah follow karenge avarana government agar shakti karegi toh saamne jawab mein log bhi utne hi saath ho jaenge aur government ko pehle yah sochna chahiye ki hum logo ko acche raste de paa rahe hain hum logo ko achi suvidha de paa rahe hain tabhi jaakar government ko haq baata hai ki logo par is tarah ke aaj tak traffic rules laga de rahi hai vaah paryapt matra mein hai kya nahi vaah sarkar ko dekhna chahiye na ki yah aaraju bana ki rakam badhane se logo mein jagrukta aayegi aur log yah traffic rules follow kare ki mujhe lagta ki yah sahi kadam hai aur sarkar ko pehle khud sochna chahiye ki vaah kitna de paa rahi hai logo ko aur saamne aa logo ki bhi main ek baat pata chala ki logo ki bhi meeting hoti hai ki hum bhi apna sharir hai apna body hai toh kyon hum unko akasmat mein dawa de ya phir hum jagrit ho aur log bhi satark hone chahiye apne khud ke prati tu hi mere khayal se yah kuch accha ho sakta hai aur iske karan hi traffic rules tak jaane ki koi zarurat nahi padegi

मेरा यह मानना है कि ट्रैफिक रूल्स जो है वह किसके लिए बनाए गए हैं कि आम लोगों में जागरूकता

Romanized Version
Likes  184  Dislikes    views  2381
WhatsApp_icon
user

Niraj Devani

PHILOSOPHER

2:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए एक तरह से देखा जाए तो यह बहुत ही सही कदम है क्योंकि जब तक ट्रैफिक रूल्स हम फॉलो नहीं करेंगे तब तक जो एक डर का माहौल है सड़क पर जो अकस्मात होते हैं दुर्घटनाएं होती है उसके लिए वह बना रहेगा ट्रैफिक रूल्स इसीलिए बने गए बनाए गए हैं ताकि कम से कम दुर्घटनाएं हो और कभी भी जान हानि ना हो तो ट्राफिक रूल्स कोई ऐसा नहीं है कि उसको अगर फॉलो करेंगे तो हम गाड़ी चला ही नहीं पाएंगे इतना हक भी नहीं है लेकिन हम एक आदत सी हो गई है कि जब मन चाहे हम ट्रेफिक रूट्स को तोड़ देते हैं ना तो हेलमेट पहन लेंगे ना तो अपनी साइड में गाड़ी चलाएंगे ना कोई जो स्पीड लिमिट है उसको फॉलो करेंगे और भी कई सारी चीजें है जिसको हम नजरअंदाज करके ही ड्राइविंग करते हैं तो यह ट्रैफिक रूल्स पर जब शक्ति बढ़ेगी यह तोड़ने पर अगर जो उसके तोड़ने पर जो हमें दंड मिलता है उसको बढ़ाया जाएगा यानी कि 100 200 500 की जगह पर 5000 10000 हो जाएगा तो यह बहुत ही कठिन हो जाएगा लोगों के लिए इन रूल्स को तोड़ना क्योंकि अब तक आप बच्चों को गाड़ी दे देते थे कि चलो ठीक है पकड़ा गया तो ₹200 सो ₹200 देकर छूट जाएंगे लेकिन अगर अब ₹5000 या ₹10000 दंड है लाइसेंस के बिना नेट चलाने के तो फिर कोई भी मां बाप अपने 18 साल से कम वाले यानी कि जिनके पास लाइसेंस नहीं है ऐसे बच्चों को यह लोगों को अपना भी कल कभी नहीं देंगे तो इससे देखी आप कितनी कितनी सावधानी यह बढ़ती जाएगी और कितनी हद तक यह समस्या है जो अकस्मात जीएम बच्चे कर देते हैं कई बार और रोक बच्चों की जान भी जाती है तो बहुत शोर हो जाएगा बहुत हद तक यह सब तो यह मुझे तो लगता है कि बहुत सही कदम है कोई कोई चीज है इसमें गलत है यानी कि अगर आपको सिटी में हेलमेट पहना है तो उसके लिए कुछ रूल्स में थोड़ी सी आपको छूट देनी चाहिए क्योंकि सिटी में लोग इतने इतने थोड़े-थोड़े डिस्टेंस पर आवाजाही करते रहते हैं तो फिर इसमें थोड़ी छूट मिल जाए तो उसमें कोई दिक्कत नहीं है लेकिन जो हाइवे पर हेलमेट है वह तो बहुत ही सरल यानी कि एकदम मस्त होना चाहिए ठीक है और ज्यादातर मैं सोचता हूं कि 80% मेरा मानना है कि यह बहुत सही कदम उठाया गया है लोगों की सेफ्टी के लिए

dekhiye ek tarah se dekha jaaye toh yah bahut hi sahi kadam hai kyonki jab tak traffic rules hum follow nahi karenge tab tak jo ek dar ka maahaul hai sadak par jo akasmat hote hai durghatanaen hoti hai uske liye vaah bana rahega traffic rules isliye bane gaye banaye gaye hai taki kam se kam durghatanaen ho aur kabhi bhi jaan hani na ho toh traffic rules koi aisa nahi hai ki usko agar follow karenge toh hum gaadi chala hi nahi payenge itna haq bhi nahi hai lekin hum ek aadat si ho gayi hai ki jab man chahen hum traffic roots ko tod dete hai na toh helmet pahan lenge na toh apni side mein gaadi chalayenge na koi jo speed limit hai usko follow karenge aur bhi kai saree cheezen hai jisko hum najarandaj karke hi driving karte hai toh yah traffic rules par jab shakti badhegi yah todne par agar jo uske todne par jo hamein dand milta hai usko badhaya jaega yani ki 100 200 500 ki jagah par 5000 10000 ho jaega toh yah bahut hi kathin ho jaega logo ke liye in rules ko todna kyonki ab tak aap baccho ko gaadi de dete the ki chalo theek hai pakada gaya toh Rs so Rs dekar chhut jaenge lekin agar ab Rs ya Rs dand hai license ke bina net chalane ke toh phir koi bhi maa baap apne 18 saal se kam waale yani ki jinke paas license nahi hai aise baccho ko yah logo ko apna bhi kal kabhi nahi denge toh isse dekhi aap kitni kitni savdhani yah badhti jayegi aur kitni had tak yah samasya hai jo akasmat GM bacche kar dete hai kai baar aur rok baccho ki jaan bhi jaati hai toh bahut shor ho jaega bahut had tak yah sab toh yah mujhe toh lagta hai ki bahut sahi kadam hai koi koi cheez hai isme galat hai yani ki agar aapko city mein helmet pehna hai toh uske liye kuch rules mein thodi si aapko chhut deni chahiye kyonki city mein log itne itne thode thode distance par avajahi karte rehte hai toh phir isme thodi chhut mil jaaye toh usme koi dikkat nahi hai lekin jo highway par helmet hai vaah toh bahut hi saral yani ki ekdam mast hona chahiye theek hai aur jyadatar main sochta hoon ki 80 mera manana hai ki yah bahut sahi kadam uthaya gaya hai logo ki safety ke liye

देखिए एक तरह से देखा जाए तो यह बहुत ही सही कदम है क्योंकि जब तक ट्रैफिक रूल्स हम फॉलो नहीं

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  665
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ट्रैफिक रूल्स तोड़ने के कारण ही एक्सीडेंट बहुत ज्यादा होते हैं और जाम की समस्या भी ज्यादा होती है तो जाम से भी छुटकारा मिले और दुर्घटनाएं भी कम गठित हो इसके लिए शक्ति बढ़ाने अच्छी बात है हालांकि फिलहाल जितना ज्यादा फाइन लगाया गया है उतना ज्यादा फाइन उचित है नहीं नियमों की कड़ाई से पालन करवाया जाए यह ज्यादा जरूरी है फाइन बढ़ा देना समस्या का समाधान नहीं है और ज्यादा फाइन बढ़ने से समस्याएं सुलझी नहीं है बल्कि भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिला है जैसे किसी गलती के लिए अगर आपको 25000 फाइन किया जाता है तो अब 500 ₹1000 देकर छूटने में ही अपनी भलाई समझेंगे तो अगला इंसान भी 500 1000 की लालच में आपको छोड़ देगा भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिला है फाइन को कम करना चाहिए शक्ति जरूर करानी चाहिए धन्यवाद

traffic rules todne ke karan hi accident bahut zyada hote hain aur jam ki samasya bhi zyada hoti hai toh jam se bhi chhutkara mile aur durghatanaen bhi kam gathit ho iske liye shakti badhane achi baat hai halaki filhal jitna zyada fine lagaya gaya hai utana zyada fine uchit hai nahi niyamon ki kadai se palan karvaya jaaye yah zyada zaroori hai fine badha dena samasya ka samadhan nahi hai aur zyada fine badhne se samasyaen suljhi nahi hai balki bhrashtachar ko badhawa mila hai jaise kisi galti ke liye agar aapko 25000 fine kiya jata hai toh ab 500 Rs dekar chutney mein hi apni bhalai samjhenge toh agla insaan bhi 500 1000 ki lalach mein aapko chod dega bhrashtachar ko badhawa mila hai fine ko kam karna chahiye shakti zaroor karani chahiye dhanyavad

ट्रैफिक रूल्स तोड़ने के कारण ही एक्सीडेंट बहुत ज्यादा होते हैं और जाम की समस्या भी ज्यादा

Romanized Version
Likes  76  Dislikes    views  1574
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी मुझे ऐसा लगता है कि ट्रैफिक नियम तोड़ने पर शक की जो बड़ी है वह दोनों ही पक्षों के लिए ठीक है इसलिए ठीक है क्योंकि ट्रैफिक नियम का पालन लोग नहीं करते आ रहे हैं आ हमारी यह हैबिट है पालन नहीं करना और अगर इसके लिए कुछ ऐसा कदम उठाया जाए जिस वक्त है तो मुझे लगता है कि शायद लोग पालन करेंगे क्योंकि यह चीज है पेट में डालनी चाहिए हम ही वह लोग हैं जो विदेश में जाकर ट्रैफिक रूल्स को फॉलो करते हैं हम ही वह लोग हैं जो विदेश में जाकर सिंघम नहीं खाते हैं ताकि फाइन ना भरना पड़ जाए हम ही वह लोग हैं जो विदेश में जाकर शौचालय में जाकर ही टॉयलेट करते हैं खुले में सड़क में कोई विरोध नहीं करते हम ही वह लोग हैं जो वहां पर बाइक भी अच्छे से चलाते हैं अपने देश में और अपने देश में आकर और ट्रैफिक लाइट को फॉलो नहीं करते कोई नियम है जो हमें सच में उस जगह पहुंचा सकता है हमारे ट्रैफिक रूल्स को फॉलो करने की संख्या को बढ़ा देता है एंबुलेंस पहुंचने के लिए अगर एक अच्छा तरीका निकाल देता है तो उसमें कोई बुराई नहीं है हां स्पाइन थोड़ा ज्यादा है तो मुझे लगता है कि कभी अगर कोई व्यक्ति गलती से ट्रैफिक पार्क कर दे तो उसके लिए सच में बहुत बड़ी परेशानी क्यों की नियमावली में पैसे या फाइन इतना ज्यादा कर दिया गया है कि अब आपके पास गलती करने की गुंजाइश ही नहीं है अगर आप लेट होते हैं ऑफिस के लिए कभी और आपने उसके लिए ट्रैफिक सूट तोड़ा तो शायद आप के महीने भर की सैलरी जो है आपको देनी पड़ सकती है तो इसलिए अब आपको एक्स्ट्रा क्वेश्चन रखना पड़ेगा ट्रैफिक रूल तो दोनों ही तरफ से एक तरफ जहां भी ठीक है कि पैसे बड़े हैं तो हो सकता है लोग पालन करें तो मैं थोड़ा साइकिल हूं आपकी विचार में जाना था तो आप बताइए क्या होना चाहिए कमेंट बॉक्स में धन्यवाद

dekhi mujhe aisa lagta hai ki traffic niyam todne par shak ki jo badi hai vaah dono hi pakshon ke liye theek hai isliye theek hai kyonki traffic niyam ka palan log nahi karte aa rahe hain aa hamari yah habit hai palan nahi karna aur agar iske liye kuch aisa kadam uthaya jaaye jis waqt hai toh mujhe lagta hai ki shayad log palan karenge kyonki yah cheez hai pet mein daalni chahiye hum hi vaah log hain jo videsh mein jaakar traffic rules ko follow karte hain hum hi vaah log hain jo videsh mein jaakar singham nahi khate hain taki fine na bharna pad jaaye hum hi vaah log hain jo videsh mein jaakar shauchalay mein jaakar hi toilet karte hain khule mein sadak mein koi virodh nahi karte hum hi vaah log hain jo wahan par bike bhi acche se chalte hain apne desh mein aur apne desh mein aakar aur traffic light ko follow nahi karte koi niyam hai jo hamein sach mein us jagah pohcha sakta hai hamare traffic rules ko follow karne ki sankhya ko badha deta hai ambulance pahuchne ke liye agar ek accha tarika nikaal deta hai toh usme koi burayi nahi hai haan spine thoda zyada hai toh mujhe lagta hai ki kabhi agar koi vyakti galti se traffic park kar de toh uske liye sach mein bahut badi pareshani kyon ki niyamawli mein paise ya fine itna zyada kar diya gaya hai ki ab aapke paas galti karne ki gunjaiesh hi nahi hai agar aap late hote hain office ke liye kabhi aur aapne uske liye traffic suit toda toh shayad aap ke mahine bhar ki salary jo hai aapko deni pad sakti hai toh isliye ab aapko extra question rakhna padega traffic rule toh dono hi taraf se ek taraf jaha bhi theek hai ki paise bade hain toh ho sakta hai log palan kare toh main thoda cycle hoon aapki vichar mein jana tha toh aap bataye kya hona chahiye comment box mein dhanyavad

देखी मुझे ऐसा लगता है कि ट्रैफिक नियम तोड़ने पर शक की जो बड़ी है वह दोनों ही पक्षों के लिए

Romanized Version
Likes  44  Dislikes    views  923
WhatsApp_icon
user

Mohit Chouksey

Business Coach at MLM

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां अगर सोचा जाए तो एक हद तक यह बहुत सही है सराहनीय कदम है पर जिस प्रकार से चालान की राशि बढ़ाई गई है यह उपयुक्त नहीं है बहुत ज्यादा है और इससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा है हालांकि वह नियमों का पालन करना सीख रहे हैं पर डायरेक्ट किसी को डराकर अगर कोई काम किया जाए तो उतना सफल नहीं होता जिसको प्रेरणा देकर अगर किया जाए तो अगर आप डरा कर उनको करना चाह रहे हैं तो ठीक है मगर यह जो चालान की राशि है वह थोड़ी कम होनी चाहिए बहुत ज्यादा चालान की राशि रखी गई है जो कि आम आदमी बिल्कुल बर्दाश्त नहीं कर सकता ना उसको पी कर सकता है उसकी पूरी कमाई उसी में चली जाती है तो चालान की राशि को बिल्कुल कम होना चाहिए बाकी मैं उसको कहूंगा कि हां एक सराहनीय कदम है इससे लोगों में एक ऐसी आपने उत्पन्न हो यह क्यों नियमों का पालन करने लगे हैं और कोई भी नियम तोड़ने से पहले सोचने लगे हैं तो यह बहुत ही अच्छा कदम है धन्यवाद

ji haan agar socha jaaye toh ek had tak yah bahut sahi hai sarahniya kadam hai par jis prakar se chalan ki rashi badhai gayi hai yah upyukt nahi hai bahut zyada hai aur isse logo ko pareshani ka samana karna pada hai halaki vaah niyamon ka palan karna seekh rahe hain par direct kisi ko darakar agar koi kaam kiya jaaye toh utana safal nahi hota jisko prerna dekar agar kiya jaaye toh agar aap dara kar unko karna chah rahe hain toh theek hai magar yah jo chalan ki rashi hai vaah thodi kam honi chahiye bahut zyada chalan ki rashi rakhi gayi hai jo ki aam aadmi bilkul bardaasht nahi kar sakta na usko p kar sakta hai uski puri kamai usi mein chali jaati hai toh chalan ki rashi ko bilkul kam hona chahiye baki main usko kahunga ki haan ek sarahniya kadam hai isse logo mein ek aisi aapne utpann ho yah kyon niyamon ka palan karne lage hain aur koi bhi niyam todne se pehle sochne lage hain toh yah bahut hi accha kadam hai dhanyavad

जी हां अगर सोचा जाए तो एक हद तक यह बहुत सही है सराहनीय कदम है पर जिस प्रकार से चालान की रा

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  508
WhatsApp_icon
user

Sanjeet Soni

Vocalist/Youtuber

3:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बहुत-बहुत नमस्कार मेरा नाम संजीत सोनू है मैं एक यूट्यूब पर हु आर यू ट्यूब में शहडोल डायरी के नाम से मेरा एक चैनल चलता है वह कल में भी मैं शहडोल हरीश के नाम से आप सभी के सामने मत मानना ट्रैफिक रूल्स आप अपने लिए बानो आप अपनी सेफ्टी के लिए हेलमेट पहन लो आप पर कोई शक ना करें आपकी गाड़ी की नॉर्मल तरीके से जांच ना उसके लिए आप गाड़ी के कागज रखो भगवान ना करे कभी ऐसा कुछ हो कि आप कभी एक्सीडेंट हो जाए या फिर आपकी गाड़ी चोरी चली जाए या फिर कुछ एक्सीडेंट में क्षतिग्रस्त हो जाए तो उसे ट्यूशन से बचने के लिए आप इंश्योरेंस करा कर रखें कि आपकी गाड़ी तो कुछ हानि होती है तो आपको मॉनेटरी क्लास नहीं होगा तो आपको सिचुएशन के लिए इंश्योरेंस करा लीजिए आपकी गाड़ी पूरी तरीके से वैलिड है उसके लिए आपका गज रख लीजिए आप सीना तान के रोड पर चले ना आपको कोई कुछ नहीं कोई कुछ भी नहीं बोलेगा हेलमेट आपने अपनी सेफ्टी के लिए पहना इंश्योरेंस अपने-अपने सेफ्टी के लिए रखा है गाड़ी के कागज आपने अपनी सहूलियत के लिए रखा है कोई भी रोके आप सीधा बोलिए ना भाई मेरे पास तब है दिखाऊं क्या दिखाओ दिखा कर आगे बढ़ जाओ शक्ति उसमें शक्ति पर एक रुपए की है साहब आप समझ जाओ बहुत अच्छी बात है अगर भाई समझाया तो जाहिर है गवर्नमेंट की तरफ से क्या है अभी कुछ ऐसा मुद्दा उठाती भाई रोडे सही नहीं है और यह है वह है तब रोडे तो देखे पहले भी नहीं थी फिर कुछ हो गई और अब कुछ नहीं है आगे हो सकता है वह भी सही हो जाए और बिगड़ भी जाए अल्टीमेटली तो उसी हां यह है कि ट्रैफिक रूल्स की अनदेखी करना इन लॉजिकल अरगुमेंट्स में पुलिस वालों से भी आपके लिए ही प्रॉब्लम क्रिएट कर रही है सारी चीज है तो बेटर है कि आप सारे नियम कानून मानते हुए कागजात वगैरह लेकर चले हेलमेट लगा ले और भी सेफ्टी गियर होते अगर आपको पहन कर चलेंगे तो और भी अच्छा है लेकिन रूल्स रेगुलेशन फॉलो करें एम्प्लीमेंट हुआ है कुछ राज्यों में नहीं भी हुआ है जैसे कि हमारे मध्य प्रदेश में भी नहीं हुआ है लेकिन फिर भी हम लोग फॉलो करते हैं पर्सनली में हेलमेट वगैरा लगा कर चलता हूं और गाड़ी के कागज वगैरह मेरे पास है और फोन में भी आजकल सुविधा आ गई है आपको जी फोन में भी कर ले तारी कागज की जो की कॉपी है वह संबंधित डिपार्टमेंट से करवाकर और आप फोन में भी रख सकते हैं आप फोन में भी दिखाइए कोई दिक्कत नहीं है तो अरुण जाने के लिए शान है मारना है तो अच्छी बात है नहीं तो बेकार के विवाद में पढ़कर आपका इंटरनल खराब करके कुछ मतलब नहीं है थोड़ी-थोड़ी चीजें मान लेंगे अपने आप कितनी जगह लगती है उसके लिए गाड़ी रखे रहिए और कहीं भी जा सकते हो मेरी बातें आपको समझ में आ गई होगी और यह शक्ति वाली बात नहीं है समाजवादी बात है और इसके अलावा भी अगर कोई शंका सवाल या फिर कंफ्यूजन हो तो जरुर बताएं मैं उसको भी दूर करूंगा बहुत-बहुत धन्यवाद

ji bahut bahut namaskar mera naam sanjeet sonu hai ek youtube par hoon R you tube mein shahdol diary ke naam se mera ek channel chalta hai vaah kal mein bhi main shahdol harish ke naam se aap sabhi ke saamne mat manana traffic rules aap apne liye bano aap apni safety ke liye helmet pahan lo aap par koi shak na kare aapki gaadi ki normal tarike se jaanch na uske liye aap gaadi ke kagaz rakho bhagwan na kare kabhi aisa kuch ho ki aap kabhi accident ho jaaye ya phir aapki gaadi chori chali jaaye ya phir kuch accident mein kshatigrast ho jaaye toh use tuition se bachne ke liye aap insurance kara kar rakhen ki aapki gaadi toh kuch hani hoti hai toh aapko monetary class nahi hoga toh aapko situation ke liye insurance kara lijiye aapki gaadi puri tarike se valid hai uske liye aapka gaj rakh lijiye aap seena taan ke road par chale na aapko koi kuch nahi koi kuch bhi nahi bolega helmet aapne apni safety ke liye pehna insurance apne apne safety ke liye rakha hai gaadi ke kagaz aapne apni sahuliyat ke liye rakha hai koi bhi roke aap seedha bolie na bhai mere paas tab hai dikhaun kya dikhaao dikha kar aage badh jao shakti usme shakti par ek rupaye ki hai saheb aap samajh jao bahut achi baat hai agar bhai samjhaya toh jaahir hai government ki taraf se kya hai abhi kuch aisa mudda uthaati bhai rode sahi nahi hai aur yah hai vaah hai tab rode toh dekhe pehle bhi nahi thi phir kuch ho gayi aur ab kuch nahi hai aage ho sakta hai vaah bhi sahi ho jaaye aur bigad bhi jaaye altimetli toh usi haan yah hai ki traffic rules ki andekha karna in logical araguments mein police walon se bhi aapke liye hi problem create kar rahi hai saree cheez hai toh better hai ki aap saare niyam kanoon maante hue kagajat vagera lekar chale helmet laga le aur bhi safety gear hote agar aapko pahan kar chalenge toh aur bhi accha hai lekin rules regulation follow kare empliment hua hai kuch rajyo mein nahi bhi hua hai jaise ki hamare madhya pradesh mein bhi nahi hua hai lekin phir bhi hum log follow karte hai personally mein helmet vagera laga kar chalta hoon aur gaadi ke kagaz vagera mere paas hai aur phone mein bhi aajkal suvidha aa gayi hai aapko ji phone mein bhi kar le tari kagaz ki jo ki copy hai vaah sambandhit department se karvakar aur aap phone mein bhi rakh sakte hai aap phone mein bhi dikhaaiye koi dikkat nahi hai toh arun jaane ke liye shan hai marna hai toh achi baat hai nahi toh bekar ke vivaad mein padhakar aapka internal kharab karke kuch matlab nahi hai thodi thodi cheezen maan lenge apne aap kitni jagah lagti hai uske liye gaadi rakhe rahiye aur kahin bhi ja sakte ho meri batein aapko samajh mein aa gayi hogi aur yah shakti wali baat nahi hai samajwadi baat hai aur iske alava bhi agar koi shanka sawaal ya phir confusion ho toh zaroor bataye main usko bhi dur karunga bahut bahut dhanyavad

जी बहुत-बहुत नमस्कार मेरा नाम संजीत सोनू है मैं एक यूट्यूब पर हु आर यू ट्यूब में शहडोल डाय

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  243
WhatsApp_icon
user
1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड सब में क्वेश्चन किया ट्रैफिक रूल तोड़ने पर सस्ती घड़ी चाहिए सही है तो क्वेश्चन आपने बहुत गलत किया है यह बात सही है कि ट्रैफिक रूल संघे शक्ति से पेश किए जा रहे हैं उसे कड़ाई से पालन किया जा रहा है जिससे किया आम नागरिक को ट्रैफिक में कोई प्रॉब्लम ना हो और जिस के लाइसेंस बैग हैं वही गाड़ी चलाएं और ट्रैफिक नियमों का पालन करें ना कि जिनके पास लाइसेंस धारी नहीं है वह भी गाड़ी चलाएं और ट्रैफिक प्रॉब्लम में डालने जरूर सुने हैं ट्रैफिक के लिए उन नियमों का हम सभी नागरिकों को पालन करना चाहिए

hello friend sab mein question kiya traffic rule todne par sasti ghadi chahiye sahi hai toh question aapne bahut galat kiya hai yah baat sahi hai ki traffic rule sanghe shakti se pesh kiye ja rahe hain use kadai se palan kiya ja raha hai jisse kiya aam nagarik ko traffic mein koi problem na ho aur jis ke license bag hain wahi gaadi chalaye aur traffic niyamon ka palan kare na ki jinke paas license dhari nahi hai vaah bhi gaadi chalaye aur traffic problem mein dalne zaroor sune hain traffic ke liye un niyamon ka hum sabhi nagriko ko palan karna chahiye

हेलो फ्रेंड सब में क्वेश्चन किया ट्रैफिक रूल तोड़ने पर सस्ती घड़ी चाहिए सही है तो क्वेश्

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  776
WhatsApp_icon
user
1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी ट्रैफिक रूल तोड़ने पर जो है गवर्नमेंट ने सके बढ़ा दी है क्या यह कदम सही आप यह सवाल है तो मैं हूं कि यह कदम बिल्कुल सही है सरकार का क्योंकि इससे जुड़े लोगों में एक तू चाहिए समझ जाएगी कि भाई आगरा में ट्रैफिक रूल का चालान जमा कर ट्रैफिक रूल तोड़ते हैं तो हमें बहुत भारी चला देना पड़ता है पहले क्या होता कि शायद पांच सो ₹1000 तक के चैनल अतिथि चिलुकुरी क्या मुकुट करते हैं लेकिन अब सरकार ने इसे बढ़ाकर 1000 10000 5000 नियमों के अनुसार कर दिया है यह बहुत भारी है भारी है मैं किसी भी व्यक्ति के लिए खासकर अगर मेरी क्लॉक का बेटी है उसके लिए बहुत भारी है उससे इतने उसकी जी पर बहुत बड़ा असर पड़ सकता है तो वह सिटी वक्त जरूर कल आ जाएगी क्या में जो है आज नियम नहीं धोने चाहिए हमें आप सब कुछ है बिल्कुल आप नियमों के अनुसार करना चाहिए और यहां पर चेतावनी भी जो है लोगों को देना चाहती की क्या प्रतिक्रिया में का पालन कीजिए नहीं तो आपको मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है सरकार का बिल्कुल सही कदम है और मुझे लगता कि लोगों को से आज तक मुझे फिर से करना चाहिए इससे जो लोग हैं जो नियमों को पालन नहीं करते और आर्ट इंस्टिट्यूट को हल्के में लेते हैं उनमें कमी आएगी और शायद उन्हें समझ आएगी कि भाई और ट्रस्ट ग्रुप को अगर फॉलो करें अर्जेंट भेजो है उसने भी जो है कमी आ सकती है तो कुछ समय तक हमें इंतजार करना पड़ेगा और उसके बाद मैं किस्तों की कसम बिल्कुल सही है लेकिन अभी भी मैं क्योंकि 2 महीने बिल्कुल सही स्टेप गया है

vicky traffic rule todne par jo hai government ne sake badha di hai kya yah kadam sahi aap yah sawaal hai toh main hoon ki yah kadam bilkul sahi hai sarkar ka kyonki isse jude logo mein ek tu chahiye samajh jayegi ki bhai agra mein traffic rule ka chalan jama kar traffic rule todte hain toh hamein bahut bhari chala dena padta hai pehle kya hota ki shayad paanch so Rs tak ke channel atithi chilukuri kya mukut karte hain lekin ab sarkar ne ise badhakar 1000 10000 5000 niyamon ke anusaar kar diya hai yah bahut bhari hai bhari hai kisi bhi vyakti ke liye khaskar agar meri clock ka beti hai uske liye bahut bhari hai usse itne uski ji par bahut bada asar pad sakta hai toh vaah city waqt zaroor kal aa jayegi kya mein jo hai aaj niyam nahi dhone chahiye hamein aap sab kuch hai bilkul aap niyamon ke anusaar karna chahiye aur yahan par chetavani bhi jo hai logo ko dena chahti ki kya pratikriya mein ka palan kijiye nahi toh aapko musibaton ka samana karna pad sakta hai sarkar ka bilkul sahi kadam hai aur mujhe lagta ki logo ko se aaj tak mujhe phir se karna chahiye isse jo log hain jo niyamon ko palan nahi karte aur art institute ko halke mein lete hain unmen kami aayegi aur shayad unhe samajh aayegi ki bhai aur trust group ko agar follow kare urgent bhejo hai usne bhi jo hai kami aa sakti hai toh kuch samay tak hamein intejar karna padega aur uske baad main kiston ki kasam bilkul sahi hai lekin abhi bhi main kyonki 2 mahine bilkul sahi step gaya hai

विकी ट्रैफिक रूल तोड़ने पर जो है गवर्नमेंट ने सके बढ़ा दी है क्या यह कदम सही आप यह सवाल है

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  766
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल सही कदम है बिल्कुल सही आप चाहे जहां किसी भी देश में चले जाइए ट्रैफिक मुर्गी कितने तक नहीं सकते हैं कि आप बिना सीट बेल्ट लगाया कि जाएंगे सब कैंसिल हो जाता है आपका लाइसेंस कैंसिल तुरंत चलाएंगे आप ही तो ट्रैफिक रूल बनाए गए बढ़िया-बढ़िया 4 साल 5 साल 10 साल की दवाई विचार मेरा यही है कि जो किया है बिल्कुल सही किया चाहे जिस की सरकार होती होती होती होती किसी की भी होती मेरे कोई फर्क नहीं पड़ा लेकिन यह कदम बहुत अच्छा था सच में थोड़ा सुधार होगा हमारे लोगों की सुबह में जो हुआ है हम लोगों की ही हुआ है इससे हमारा कोई लॉस्ट तो है नहीं धन के अलावा है और धन जा रहा है तो उसमें तो अच्छी बात है हमारी कि हमारी भलाई के लिए मम्मी कहती हैं अगर तुमने खाना नहीं खाया ना तो ₹5 कम से ले लूंगी ठीक है या गलत कहा अगर तुम छत से कूदे ना तुमसे ₹1000 लूंगी क्या गलत का तुमको भी नहीं तुम बच भी जाओगे अभी तो बचेंगे हेलमेट नहीं लगाए ₹10000 जुर्माना ₹50000

bilkul sahi kadam hai bilkul sahi aap chahen jaha kisi bhi desh mein chale jaiye traffic murgi kitne tak nahi sakte hain ki aap bina seat belt lagaya ki jaenge sab cancel ho jata hai aapka license cancel turant chalayenge aap hi toh traffic rule banaye gaye badhiya badhiya 4 saal 5 saal 10 saal ki dawai vichar mera yahi hai ki jo kiya hai bilkul sahi kiya chahen jis ki sarkar hoti hoti hoti hoti kisi ki bhi hoti mere koi fark nahi pada lekin yah kadam bahut accha tha sach mein thoda sudhaar hoga hamare logo ki subah mein jo hua hai hum logo ki hi hua hai isse hamara koi lost toh hai nahi dhan ke alava hai aur dhan ja raha hai toh usme toh achi baat hai hamari ki hamari bhalai ke liye mummy kehti hain agar tumne khana nahi khaya na toh Rs kam se le lungi theek hai ya galat kaha agar tum chhat se kude na tumse Rs lungi kya galat ka tumko bhi nahi tum bach bhi jaoge abhi toh bachenge helmet nahi lagaye Rs jurmana Rs

बिल्कुल सही कदम है बिल्कुल सही आप चाहे जहां किसी भी देश में चले जाइए ट्रैफिक मुर्गी कितने

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  254
WhatsApp_icon
user

Aliya

Career Counsellor

2:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर शक्ति बढ़ी क्या यह सही कदम है तो यह बहुत सही है क्योंकि इससे इंसान की शक्ति के लिए पर किया गया है आपको हेलमेट लगाकर चलोगे तो एक्सीडेंट दुर्घटना में आपका कुछ अलग ज्यादा नुकसान नहीं होगा और जो भी सारे और उसे जो भी कार्य नहीं है मैं वह जनता के लिए इजाजत के लिए क्या-क्या है लेकिन अगर हम इसमें अगर देखें तो अगर माली जी आपके घर पर कोई नहीं है कोई व्यक्ति है कोई औरत अपने घर पर है उसे घर पर कोई नहीं है और कोई बाहर का लड़का आता है जिसके पास जो चोर कपड़े पहने हैं उसके पास नहीं जूते हैं और नहीं कल मैच है और औरत बहुत ज्यादा बीमार है औरत को ज्यादा बीमार है उसे तो 5 मिनट के अंदर ही उसे हॉस्पिटल पहुंचा नहीं है ठीक है लड़का हेलमेट हेलमेट जूते नहीं हो जाएगा वह क्या करेगा उसे एक चाबी चाहिए और बाइक चाहिए जो कि करते हैं वह चाबी और बाइक लेकर उस औरत को तुरंत हॉस्पिटल लेकर जाएगा तू हॉस्पिटल में लेकर जाने का दौरा देखो लड़का पकड़ा जाता है तो उस पर कार्रवाई की जाएगी ट्रैफिक रूल तोड़ने के नियम के तहत वेल्मेट हो सके लाइसेंस को सके हेलमेट और लाइसेंस जूते और 17 के जिले में उस औरत की जान जा सकती है सही तो है सही तो नंबर शिखंडी प्रसन्न चाहिए परफेक्ट बट इसके भी इसके कुछ एडवांटेक्स भी है तू मेरे ख्याल से तो यह सही है लेकिन इसके गुण होने चाहिए कि वह उसकी वजह वजह को देखकर भी उसमें छोड़ देनी चाहिए जैसे चरित्रों को छोड़ता है तो उसकी वजह क्या है अगर कोई गहरी होता है जिसे मैंने वह सैंपल दिया था इमरजेंसी का तो सही बताया तो सिर्फ लड़के में कोई क्या-क्या चीज नहीं होनी चाहिए आगरा से कोई जाता है तो उसके लिए एकदम सही है उसके लिए जो कार्रवाई बनाई गई है वह बिल्कुल होना चाहिए

aapka sawaal hai ki traffic rules todne par shakti badhi kya yah sahi kadam hai toh yah bahut sahi hai kyonki isse insaan ki shakti ke liye par kiya gaya hai aapko helmet lagakar chaloge toh accident durghatna mein aapka kuch alag zyada nuksan nahi hoga aur jo bhi saare aur use jo bhi karya nahi hai vaah janta ke liye ijajat ke liye kya kya hai lekin agar hum isme agar dekhen toh agar maali ji aapke ghar par koi nahi hai koi vyakti hai koi aurat apne ghar par hai use ghar par koi nahi hai aur koi bahar ka ladka aata hai jiske paas jo chor kapde pehne hai uske paas nahi joote hai aur nahi kal match hai aur aurat bahut zyada bimar hai aurat ko zyada bimar hai use toh 5 minute ke andar hi use hospital pohcha nahi hai theek hai ladka helmet helmet joote nahi ho jaega vaah kya karega use ek chabi chahiye aur bike chahiye jo ki karte hai vaah chabi aur bike lekar us aurat ko turant hospital lekar jaega tu hospital mein lekar jaane ka daura dekho ladka pakada jata hai toh us par karyawahi ki jayegi traffic rule todne ke niyam ke tahat velmet ho sake license ko sake helmet aur license joote aur 17 ke jile mein us aurat ki jaan ja sakti hai sahi toh hai sahi toh number shikhandi prasann chahiye perfect but iske bhi iske kuch edavanteks bhi hai tu mere khayal se toh yah sahi hai lekin iske gun hone chahiye ki vaah uski wajah wajah ko dekhkar bhi usme chod deni chahiye jaise charitron ko chodta hai toh uski wajah kya hai agar koi gehri hota hai jise maine vaah sample diya tha emergency ka toh sahi bataya toh sirf ladke mein koi kya kya cheez nahi honi chahiye agra se koi jata hai toh uske liye ekdam sahi hai uske liye jo karyawahi banai gayi hai vaah bilkul hona chahiye

आपका सवाल है कि ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर शक्ति बढ़ी क्या यह सही कदम है तो यह बहुत सही है क्

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  715
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!