BJP की विचारधारा कांग्रेस से कैसे भिन्न है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

5:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कांग्रेस और बीजेपी की विचारधारा में जमीन आसमान का अंतर है राष्ट्रीयता की बात करें आप स्वयं की बात करें तो बीजेपी में सिर्फ एक आरएसएस का है इसमें राज्य पास टाइम है राष्ट्रीय है वह बीजेपी में तो आप कहीं कहीं कहीं का रोड़ा हो गया है कई विभिन्न पार्टियों को चोट चोट कद्दावर नेता जो हैं वह लोग बीजेपी में समाहित हो चुके हैं जबकि कांग्रेस में कभी देश की भावना नहीं रही कांग्रेस देश प्रेम की भावना नहीं रही देश प्रेम की भावना रही होती तो मुझे आती है देख कर के बड़ा आश्चर्य होता है कि इतनी बड़ी कांग्रेस 25 साल उसने राज्य किया है 70 साल से राज्य की है और इसकी स्थापना 1919 में हुई है तब से और अब तक केवल गांधी परिवार ही आ किस गांधी परिवार के लीडर के बनते हैं क्या कोई और नहीं है यदि इनकी की भावना नहीं रही होती तो डॉक्टर प्रणब मुखर्जी जैसा क्रिएट इंसान जो देश का पीएम अमर चाहिए था उसको उन्होंने राष्ट्रपति बना करके केवल इस भावना के साथ ही राहुल गांधी का रास्ता साफ करने के लिए उन्होंने राष्ट्रपति भारत को कभी देश के लिए आसान हो मैं तो चली नहीं रहा है जबकि देश सर्वोपरि होना चाहिए ना कोई पार्टी बड़ी है ना कोई लीडर पड़ा है ना कोई पद बड़ा है सबसे बड़ा देश है देश विकास है देश प्रेम है यही हमारी जाती है यही हमारा धर्म है यही हमारा सबसे बड़ा कर्तव्य है जो देश उसे पढ़ा हुआ नहीं है इस विदेश के लिए प्रेम नहीं है टॉप रिटर्न भी नथिंग है तो पार्टी भी नहीं है हम सब में होने जा रहे हैं देखिए आप अकेले जर्मनी नहीं होती आप इस चीज में अकेले जर्मनी ने समस्त दूसरे से युद्ध किया सिर्फ देश प्रेम के कारण मोमबत्ती कट्टरता भर्ती भर्ती अमनमणि पूरे विश्व से टकरा गया अरे हम संसार को प्रेम तो जब करेंगे जब हम भारत को प्रेम करें हम भारत के चाहे जिस देश की भूमि काम खा रहे हैं इस दुनिया में मारा पालन किया है उस देश की भूमि के प्रति हमारा कर्तव्य नहीं वह हमारी मां है जब हम अपनी मां की सुरक्षा नहीं कर सकते और विश्व के अन्य देशों की बात करते हैं स्क्रीन की बात करते हैं हम से पहले अपनी मां को दो यातायत करो मां का सम्मान करो इसको वंदे मातरम बोलने में शर्म आती है हम बंदे मातरम नहीं बोल सकते हैं कि कोई बात है क्या अरे सब मैं तो पीछे हैं सब जाति पीछे हैं सब कुछ पीछे पहले देश है करें देश प्रेम है देश का विकास है उस देश के नागरिक मेरे भाई हैं हम प्रतिज्ञा में प्रतिज्ञा तो रोज करते हैं तो समस्त भारतीय मेरे भाई बहन हैं लेकिन हमें कितने फुट है जाति के नाम पर बैठे हुए धर्मों के नाम पर बैठे हुए हैं क्षेत्र के नाम पर बैठे हुए भाषा के नाम पर बैठे हुए हमें तो जगह-जगह में हमारे व्यक्तिगत स्वार्थों ने इतना तो ऊपर का राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे देश सुरक्षा के मुद्दे देश हित के मुद्दे जो शाहरुख जो पूरे देश के होते हैं राजनीतिक पार्टियां एक हो सकती हमारे राजनीतिक लीडर एक नहीं हो सकते हैं हमारे राजनीतिक द्वेष प्रवीण में हो गए हैं दुश्मनों के गले मिलते हैं अपनों की प्रशंसा करते हैं यहां तक कि देश के चुनावों में विदेशी लोगों का दुश्मन लोग देश के लोगों का हम साथ चाहते उनका समर्थन चाहते हैं हमारी हम भारतीयों की गैरत बहुत अधिक गिरी हुई है ऐसी भावनाएं रहेगी जब तक देश प्रेम विकसित नहीं होगा हमारी तो पार्टी अब तो क्या हजार पार्टी है बन जाए व्यक्तिगत स्वार्थ लीडरों ने अपनी पार्टियां गठित करनी है वह देख रहे हो आप देश में कितनी कंपनियां हैं तो उनकी बात देश प्रेम की भावना बीजेपी में नहीं है ना कांग्रेस में केवल कह सकते तो आप की पसंद कह सकते हैं आरक्षण में क्या सकते हैं जो भारतीय संस्कृति से वो कौन हैं देश की भावनाओं से परिपूर्ण हैं देश का विकास चाहता है देश को संगठित करना चाहता है बाकी पार्टियों को आप जानते हो कि मित्रोज पार्टी में बदलते हैं कांग्रेस के बीजेपी में घुसते हैं बीजेपी का कांग्रेस में घुसते हैं इस सप्ताह रहती है उधर रोज की पार्टी में बदले वक़्त बदल लेते हैं जिनका कोई वजूद नहीं बिल्कुल नहीं तुम बहुत बड़ी कविता

congress aur bjp ki vichardhara mein jameen aasman ka antar hai rastriyata ki baat kare aap swayam ki baat kare toh bjp mein sirf ek R ka hai isme rajya paas time hai rashtriya hai vaah bjp mein toh aap kahin kahin kahin ka roda ho gaya hai kai vibhinn partiyon ko chot chot kaddavar neta jo hain vaah log bjp mein samahit ho chuke hain jabki congress mein kabhi desh ki bhavna nahi rahi congress desh prem ki bhavna nahi rahi desh prem ki bhavna rahi hoti toh mujhe aati hai dekh kar ke bada aashcharya hota hai ki itni badi congress 25 saal usne rajya kiya hai 70 saal se rajya ki hai aur iski sthapna 1919 mein hui hai tab se aur ab tak keval gandhi parivar hi aa kis gandhi parivar ke leader ke bante kya koi aur nahi hai yadi inki ki bhavna nahi rahi hoti toh doctor pranab mukherjee jaisa create insaan jo desh ka pm amar chahiye tha usko unhone rashtrapati bana karke keval is bhavna ke saath hi rahul gandhi ka rasta saaf karne ke liye unhone rashtrapati bharat ko kabhi desh ke liye aasaan ho main toh chali nahi raha hai jabki desh sarvopari hona chahiye na koi party badi hai na koi leader pada hai na koi pad bada hai sabse bada desh hai desh vikas hai desh prem hai yahi hamari jaati hai yahi hamara dharm hai yahi hamara sabse bada kartavya hai jo desh use padha hua nahi hai is videsh ke liye prem nahi hai top return bhi nothing hai toh party bhi nahi hai hum sab mein hone ja rahe hain dekhiye aap akele germany nahi hoti aap is cheez mein akele germany ne samast dusre se yudh kiya sirf desh prem ke karan mombatti kattartaa bharti bharti amanamani poore vishwa se takara gaya are hum sansar ko prem toh jab karenge jab hum bharat ko prem kare hum bharat ke chahen jis desh ki bhoomi kaam kha rahe hain is duniya mein mara palan kiya hai us desh ki bhoomi ke prati hamara kartavya nahi vaah hamari maa hai jab hum apni maa ki suraksha nahi kar sakte aur vishwa ke anya deshon ki baat karte hain screen ki baat karte hain hum se pehle apni maa ko do yatayat karo maa ka sammaan karo isko vande mataram bolne mein sharm aati hai hum bande mataram nahi bol sakte hain ki koi baat hai kya are sab main toh peeche hain sab jati peeche hain sab kuch peeche pehle desh hai kare desh prem hai desh ka vikas hai us desh ke nagarik mere bhai hain hum pratigya mein pratigya toh roj karte hain toh samast bharatiya mere bhai behen hain lekin hamein kitne feet hai jati ke naam par baithe hue dharmon ke naam par baithe hue hain kshetra ke naam par baithe hue bhasha ke naam par baithe hue hamein toh jagah jagah mein hamare vyaktigat swarthon ne itna toh upar ka rashtriya suraksha ke mudde desh suraksha ke mudde desh hit ke mudde jo shahrukh jo poore desh ke hote hain raajnitik partyian ek ho sakti hamare raajnitik leader ek nahi ho sakte hain hamare raajnitik dvesh praveen mein ho gaye hain dushmano ke gale milte hain apnon ki prashansa karte hain yahan tak ki desh ke chunavon mein videshi logo ka dushman log desh ke logo ka hum saath chahte unka samarthan chahte hain hamari hum bharatiyon ki gairat bahut adhik giri hui hai aisi bhaavnaye rahegi jab tak desh prem viksit nahi hoga hamari toh party ab toh kya hazaar party hai ban jaaye vyaktigat swarth lidaron ne apni partyian gathit karni hai vaah dekh rahe ho aap desh mein kitni companiya hain toh unki baat desh prem ki bhavna bjp mein nahi hai na congress mein keval keh sakte toh aap ki pasand keh sakte hain aarakshan mein kya sakte hain jo bharatiya sanskriti se vo kaun hain desh ki bhavnao se paripurna hain desh ka vikas chahta hai desh ko sangathit karna chahta hai baki partiyon ko aap jante ho ki mitroj party mein badalte hain congress ke bjp mein ghuste hain bjp ka congress mein ghuste hain is saptah rehti hai udhar roj ki party mein badle waqt badal lete hain jinka koi wajood nahi bilkul nahi tum bahut badi kavita

कांग्रेस और बीजेपी की विचारधारा में जमीन आसमान का अंतर है राष्ट्रीयता की बात करें आप स्वयं

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  1179
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!