चिंता से अच्छा चिंतन क्यों माना गया है?...


user
1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चिंता और चिंतन में एक थोड़ा बेसिक प्रक्रिया है कि जब हम किसी भी विषय पर नकारात्मक सोचते हैं तो चिंता बन जाती है और जब हम उसी विषय पर सकारात्मक सोचते हैं तो वह चिंतन बन जाता है बस यह फर्क जिस दिन समझ में आ गया तो आपको पता चल जाएगा की चिंता हमारे लिए चिता समान है और चिंतन अमृततुल्य है तो हमेशा सदा चिंतन करना है कभी-कभी लोग कहते हैं प्रभु का चिंतन करो किसी अपने ही लक्ष्य का चिंतन करो तो चिंतन सदा किया जा सकता है उससे आपकी ऊर्जा बढ़ेगी मानसिक भी और शारीरिक भी तो इसीलिए ध्यान रखें चिंतन सर्वोपरि है चिंतन ही करना है और चिंता जरा सी भी अगर हो गई तो कहीं ना कहीं से कोई रोग आपको लग सकता है तो असली सावधान रहें चिंता से दूर रहें और चिंतन के साथ रहे ओम शांति

chinta aur chintan me ek thoda basic prakriya hai ki jab hum kisi bhi vishay par nakaratmak sochte hain toh chinta ban jaati hai aur jab hum usi vishay par sakaratmak sochte hain toh vaah chintan ban jata hai bus yah fark jis din samajh me aa gaya toh aapko pata chal jaega ki chinta hamare liye chita saman hai aur chintan amrittulya hai toh hamesha sada chintan karna hai kabhi kabhi log kehte hain prabhu ka chintan karo kisi apne hi lakshya ka chintan karo toh chintan sada kiya ja sakta hai usse aapki urja badhegi mansik bhi aur sharirik bhi toh isliye dhyan rakhen chintan sarvopari hai chintan hi karna hai aur chinta zara si bhi agar ho gayi toh kahin na kahin se koi rog aapko lag sakta hai toh asli savdhaan rahein chinta se dur rahein aur chintan ke saath rahe om shanti

चिंता और चिंतन में एक थोड़ा बेसिक प्रक्रिया है कि जब हम किसी भी विषय पर नकारात्मक सोचते है

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  144
KooApp_icon
WhatsApp_icon
13 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
चिंता नहीं चिंतन करो ; chinta nahi chintan karo ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!