जीवन का क्या अर्थ है और जीवन में क्या महत्वपूर्ण है?...


user

RIZVI AMROHVI

Psychologist

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन का क्या अर्थ है जीवन का अर्थ सच्चाई ईमानदारी भाईचारा और मानवता की सेवा ही जीवन का अर्थ है और जीवन में क्या महत्वपूर्ण जीवन में धर्म जो है वह महत्वपूर्ण है धर्म कोई भी हो या नहीं कब होगा मुसलमानों की कॉपी चाहिए धर्म महत्वपूर्ण है और धर्म की भूमिका जो है वह बहुत महत्वपूर्ण है अगर रात मानव इंसान और कोई भी शख्स अगर धर्म का नहीं मानता तो वह कुछ उसका जीवन जीवन नहीं है दोनों महत्वपूर्ण जाइएगा सच्चाई के साथ ईमानदारी के साथ धर्म का पालन करें और अपने कर्तव्यों का पालन करें अपने परिवार की सेवा करें अपने देश की सेवा करें यह महत्वपूर्ण जीवन के अलावा कुछ महत्वपूर्ण है

jeevan ka kya arth hai jeevan ka arth sacchai imaandaari bhaichara aur manavta ki seva hi jeevan ka arth hai aur jeevan me kya mahatvapurna jeevan me dharm jo hai vaah mahatvapurna hai dharm koi bhi ho ya nahi kab hoga musalmanon ki copy chahiye dharm mahatvapurna hai aur dharm ki bhumika jo hai vaah bahut mahatvapurna hai agar raat manav insaan aur koi bhi sakhs agar dharm ka nahi maanta toh vaah kuch uska jeevan jeevan nahi hai dono mahatvapurna jaiega sacchai ke saath imaandaari ke saath dharm ka palan kare aur apne kartavyon ka palan kare apne parivar ki seva kare apne desh ki seva kare yah mahatvapurna jeevan ke alava kuch mahatvapurna hai

जीवन का क्या अर्थ है जीवन का अर्थ सच्चाई ईमानदारी भाईचारा और मानवता की सेवा ही जीवन का अर्

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
18 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन भगवान के प्रति लगाव रखना सब कर्म करना ज्ञान प्राप्त करना अपने जीवन के लक्ष्य पूरा करना माता पिता की सेवा करना समाज की सेवा करना और उसे कमजोर व्यक्तियों की सेवा करता ऐसा परमो धर्मा का पालन करना विशेष सारी जो शक करना है अगर इनको करेंगे तो आपका जीवन उज्जवल हो यही जीवन जब तक जिंदगी है सांस चल रही कमी सर कहीं ना मिले और अच्छे कर्म करें माता पिता की सेवा करें कि अगर सत्कर्म करेंगे तो हमें अच्छे फल मिलेंगे हमारा भाग्य बनेगा दुष्कर्म करेंगे तो मैं उसका सजा ईश्वर देशभक्त पक्का मम्मी

jeevan bhagwan ke prati lagav rakhna sab karm karna gyaan prapt karna apne jeevan ke lakshya pura karna mata pita ki seva karna samaj ki seva karna aur use kamjor vyaktiyon ki seva karta aisa paramo dharma ka palan karna vishesh saari jo shak karna hai agar inko karenge toh aapka jeevan ujjawal ho yahi jeevan jab tak zindagi hai saans chal rahi kami sir kahin na mile aur acche karm kare mata pita ki seva kare ki agar satkarm karenge toh hamein acche fal milenge hamara bhagya banega dushkarm karenge toh main uska saza ishwar deshbhakt pakka mummy

जीवन भगवान के प्रति लगाव रखना सब कर्म करना ज्ञान प्राप्त करना अपने जीवन के लक्ष्य पूरा करन

Romanized Version
Likes  188  Dislikes    views  1616
WhatsApp_icon
user

Sharad Pandey

Writer Motivator

0:59
Play

Likes  6  Dislikes    views  145
WhatsApp_icon
user
0:27
Play

Likes  315  Dislikes    views  3937
WhatsApp_icon
user

Chahat

Beautician

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिंदगी जीने का नाम है और हम जो चाहते हैं जब तक हम वह कर नहीं लेते तब तक उसका महत्व पूरा नहीं होता आपको वह कर लेना चाहिए जो आप करना चाहते हैं वह पा लेना चाहिए जो आप पाना चाहते हैं और कभी अपने लक्ष्य को ना भूलें क्योंकि जब तक आप अपने लक्ष्य को नहीं पापा आएंगे तब तक जिंदगी जीने का मजा नहीं आएगा

zindagi jeene ka naam hai aur hum jo chahte hain jab tak hum vaah kar nahi lete tab tak uska mahatva pura nahi hota aapko vaah kar lena chahiye jo aap karna chahte hain vaah paa lena chahiye jo aap paana chahte hain aur kabhi apne lakshya ko na bhoolein kyonki jab tak aap apne lakshya ko nahi papa aayenge tab tak zindagi jeene ka maza nahi aayega

जिंदगी जीने का नाम है और हम जो चाहते हैं जब तक हम वह कर नहीं लेते तब तक उसका महत्व पूरा नह

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  107
WhatsApp_icon
user

BK Vishal

Rajyoga Trainer

2:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जीवन एक यात्रा है और हर यात्रा का हर यात्रा की मंजिल उसकी पूर्णता है मंजिल पर पहुंचना यात्रा का लक्ष्य है अगर आप मंजिल पर नहीं पहुंच पाते हैं यात्रा व्यर्थ हो जाती है तो सोचने वाली बात यह है कि आपने अपने जीवन की यात्रा की मंदिर क्या तय की है आपके हिसाब से आपने अपनी यात्रा का लक्ष्य क्या रखा है आपको वहां पहुंचना है तो आप कहेंगे यह हमें नहीं पता आप ही बताइए तो मैं समझता हूं कि यात्राएं जो की जाती है वह सुख शांति आनंद और प्रेम के लेके जाते हैं ईश्वर की प्राप्ति के लिए कि जाते हैं अब यह और बात है कि यात्रा आज तक आपने की होंगी वह सभी यात्राएं स्थूल थी और उन यात्राओं में अपने यहां की यात्रा तय है क्योंकि मालिया वैष्णो देवी जाना चाहते हैं आप हरिद्वार जाना चाहते हैं तिरुपति जाना चाहते हैं तो वहां पहुंचते हैं अनेकों मुश्किलों का सामना करके वहां पहुंचकर फिर आप वहां जाकर के ईश्वर का दर्शन करते हैं परंतु सिर्फ दर्शन मात्र हो जाता है एक मूर्ति का देखने तक सीमित रह जाता है चरित्र में नहीं पहुंचता तो अगर आप मुझसे पूछे कि जीवन रूपी यात्रा का मंदिर क्या है तो मैं कहूंगा एक आत्मा जो जीवन रूपी यात्रा तय करती है उसकी मंजिल है परमात्मा की अनुभूति करना परमात्मा द्वारा बीज प्राप्त करना यानी परमानंद को प्राप्त करना अगर आप परम आनंद प्राप्त करने में सफल रहे तो आपकी यात्रा सफल रहे अन्यथा तुम लोग रोज जीते हैं रोज मरते भी हैं अब आपका दूसरा प्रश्न आता है कि जीवन में महत्वपूर्ण क्या है बस महत्वपूर्ण यही है कि अपनी मंजिल को विश्व नाखूनों का जोर लगाकर भी आपको पाने का प्रयास करते रहना है वाही लेना है वह लक्ष्य आपका भ्रमित ना हो आप से छूटे नहीं यह सबसे महत्वपूर्ण है बाकी सारी चीजें इसके नीचे आ जाते हैं ओम शांति

dekhiye jeevan ek yatra hai aur har yatra ka har yatra ki manjil uski purnata hai manjil par pahunchana yatra ka lakshya hai agar aap manjil par nahi pohch paate hain yatra vyarth ho jaati hai toh sochne wali baat yah hai ki aapne apne jeevan ki yatra ki mandir kya tay ki hai aapke hisab se aapne apni yatra ka lakshya kya rakha hai aapko wahan pahunchana hai toh aap kahenge yah hamein nahi pata aap hi bataiye toh main samajhata hoon ki yatraen jo ki jaati hai vaah sukh shanti anand aur prem ke leke jaate hain ishwar ki prapti ke liye ki jaate hain ab yah aur baat hai ki yatra aaj tak aapne ki hongi vaah sabhi yatraen sthool thi aur un yatraon me apne yahan ki yatra tay hai kyonki maliya vaishno devi jana chahte hain aap haridwar jana chahte hain tirupati jana chahte hain toh wahan pahunchate hain anekon mushkilon ka samana karke wahan pahuchkar phir aap wahan jaakar ke ishwar ka darshan karte hain parantu sirf darshan matra ho jata hai ek murti ka dekhne tak simit reh jata hai charitra me nahi pahuchta toh agar aap mujhse pooche ki jeevan rupee yatra ka mandir kya hai toh main kahunga ek aatma jo jeevan rupee yatra tay karti hai uski manjil hai paramatma ki anubhuti karna paramatma dwara beej prapt karna yani parmanand ko prapt karna agar aap param anand prapt karne me safal rahe toh aapki yatra safal rahe anyatha tum log roj jeete hain roj marte bhi hain ab aapka doosra prashna aata hai ki jeevan me mahatvapurna kya hai bus mahatvapurna yahi hai ki apni manjil ko vishwa nakhuno ka jor lagakar bhi aapko paane ka prayas karte rehna hai vahi lena hai vaah lakshya aapka bharmit na ho aap se chhoote nahi yah sabse mahatvapurna hai baki saari cheezen iske niche aa jaate hain om shanti

देखिए जीवन एक यात्रा है और हर यात्रा का हर यात्रा की मंजिल उसकी पूर्णता है मंजिल पर पहुंचन

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  1114
WhatsApp_icon
user

Norang sharma

Social Worker

4:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों वोकल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज का सवाल है कि जीवन का क्या अर्थ है और जीवन में क्या महत्वपूर्ण है क्योंकि दोस्तों हम सभी अपना जीवन जी रहे हैं और कई लोग तो जी नहीं रहे बल्कि जीवन को झेल रहे हैं और जीवन उनको झील रहा है क्योंकि न तो वह लोग अपनी भरपूर जिंदगी जी पा रहे हैं और ना ही वह लोग मर पा रहे हैं क्योंकि जिन्होंने आता नहीं है कि कैसे जिया जाए और अपनी मुश्किलों को वह इतना ज्यादा खुद पर हावी कर लेते हैं दबाव में सरवाइव नहीं कर पाते हैं लोग इतनी उनकी जिंदगी उन्हीं पर बोझ बन जाती है तो जीवन के मायने बहुत व्यापक है और जीवन का अर्थ तो अलग अलग होता है हर इंसान के लिए किसी के लिए तो जीवन एक चुनौती है जिसमें वह नई नई चुनौतियों का सामना करते हुए निरंतर आगे बढ़ते कुछ लोगों के लिए जीवन एक भोज है जिस वह कौन है जैसे तैसे धोकर क्यों पूरा करना है और किसी किसी के लिए जीवन एक अवसर है इस अवसर का उपयोग व भौतिक चीजों से लेकर तो मुक्ति की पराकाष्ठा तक जाने में वह लोग करते हैं इसे अलग-अलग लोगों के लिए जीवन के जो मायनी है जीवन के जो अर्थ है वह विस्तृत और अलग-अलग है अब बात आती है कि जीवन में महत्वपूर्ण क्या है तो दोस्तों निरंतर अपने लक्ष्य की तरफ अगर आप आगे बढ़ रहे हैं और एक सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं तो वही जीवन के लिए महत्वपूर्ण है कि आपने जीवन के अर्थ को समझाया नहीं क्या आपने अपने जीवन की महत्ता को उसकी वैल्यू को आपने कितना समझा वही जीवन में महत्वपूर्ण हो जाता है वही इंपॉर्टेंट हो जाता है क्या फिर हम जीवन से क्या चाहते हैं और हम जो चाहते हैं क्या हम उसे एक टाइमलाइन में एक तय समय सीमा में पूरा कर पाने में सक्षम है भी या नहीं क्योंकि अगर हम लोग एक कैलकुलेटेड रिस्क लेते हुए जीवन में उपलब्धियां अर्जित नहीं करते तो भी जीवन के मायने खो जाते हैं उसकी सार्थकता खुल जाती है तो हम जो चाहते हैं अपने जीवन से जो भी लक्ष्य हमने अपने जीवन के लिए तय किए हैं जो भी गोल जो भी टारगेट हमने सेट किए हैं क्या हम उनकी तरफ बढ़ रहे हैं हमारा एक एक काम हमारी एक-एक गतिविधि क्या हमें अपने लक्ष्य के नजदीक लेकर के सारी यह जीवन में महत्वपूर्ण है लेकिन कई लोगों को तो जो सामने परिस्थितियां आ गई वो लोग उन्हें जीने में मशगूल हो जाते हैं या उनमें उलझ कर रह जाती हैं उन्हें अपने जीवन को कैसे बनाना है उन्हें अपने जीवन को कैसे डालना है उन्हें वह अच्छे से नहीं आता परिस्थितियों के गुलाम बन कर रह जाते हैं जबकि कुछ लोग जो जीवन की बागडोर को अपने हाथों में लेते हैं वह अपने जीवन को गढ़ने में एक मनचाहा आकार देने में भी सक्षम हो जाते हैं तो यह तमाम चीजें हमारी अपनी इच्छाशक्ति पर हमारे विवेक पर और हमारी समझ पर निर्भर करती है कि हम अपने जीवन में क्या बन पाते हैं और जीवन को अपने लिए क्या बना पाते हैं इतने जीवन में आप अपने आप से क्या चाहते हैं आप जीवन पर क्या चा यह सवाल आपको बार-बार पूछना होता है जब तक आपको यह सवाल पागल नहीं कर देता आप अपने जीवन में कुछ रचनात्मक नहीं कर पाएंगे सार्थक नहीं कर पाएंगे और कुछ मीनिंग फुल नहीं कर पाएंगे इसलिए शांति से बैठकर कभी विवेकपूर्ण तरीके से आपको विचार करना होगा आपको जवाब एक दिन अपने आप मिल जाएगा धन्यवाद

namaskar doston vocal par sun rahe mere sabhi buddhijeevi shrotaon ko mera pyar bhara namaskar aaj ka sawaal hai ki jeevan ka kya arth hai aur jeevan mein kya mahatvapurna hai kyonki doston hum sabhi apna jeevan ji rahe hain aur kai log toh ji nahi rahe balki jeevan ko jhel rahe hain aur jeevan unko jheel raha hai kyonki na toh vaah log apni bharpur zindagi ji paa rahe hain aur na hi vaah log mar paa rahe hain kyonki jinhone aata nahi hai ki kaise jiya jaaye aur apni mushkilon ko vaah itna zyada khud par haavi kar lete hain dabaav mein survive nahi kar paate hain log itni unki zindagi unhi par bojh ban jaati hai toh jeevan ke maayne bahut vyapak hai aur jeevan ka arth toh alag alag hota hai har insaan ke liye kisi ke liye toh jeevan ek chunauti hai jisme vaah nayi nayi chunautiyon ka samana karte hue nirantar aage badhte kuch logo ke liye jeevan ek bhoj hai jis vaah kaun hai jaise taise dhokar kyon pura karna hai aur kisi kisi ke liye jeevan ek avsar hai is avsar ka upyog va bhautik chijon se lekar toh mukti ki parakashtha tak jaane mein vaah log karte hain ise alag alag logo ke liye jeevan ke jo mayni hai jeevan ke jo arth hai vaah vistrit aur alag alag hai ab baat aati hai ki jeevan mein mahatvapurna kya hai toh doston nirantar apne lakshya ki taraf agar aap aage badh rahe hain aur ek sahi disha mein aage badh rahe hain toh wahi jeevan ke liye mahatvapurna hai ki aapne jeevan ke arth ko samjhaya nahi kya aapne apne jeevan ki mahatta ko uski value ko aapne kitna samjha wahi jeevan mein mahatvapurna ho jata hai wahi important ho jata hai kya phir hum jeevan se kya chahte hain aur hum jo chahte kya hum use ek timeline mein ek tay samay seema mein pura kar paane mein saksham hai bhi ya nahi kyonki agar hum log ek kailkuleted risk lete hue jeevan mein upalabdhiyaan arjit nahi karte toh bhi jeevan ke maayne kho jaate hain uski sarthakta khul jaati hai toh hum jo chahte hain apne jeevan se jo bhi lakshya humne apne jeevan ke liye tay kiye hain jo bhi gol jo bhi target humne set kiye kya hum unki taraf badh rahe hain hamara ek ek kaam hamari ek ek gatividhi kya hamein apne lakshya ke nazdeek lekar ke saree yah jeevan mein mahatvapurna hai lekin kai logo ko toh jo saamne paristhiyaann aa gayi vo log unhe jeene mein mashagul ho jaate hain ya unmen ulajh kar reh jaati hain unhe apne jeevan ko kaise banana hai unhe apne jeevan ko kaise dalna hai unhe vaah acche se nahi aata paristhitiyon ke gulam ban kar reh jaate hain jabki kuch log jo jeevan ki baghdor ko apne hathon mein lete hain vaah apne jeevan ko gadhane mein ek manchaha aakaar dene mein bhi saksham ho jaate hain toh yah tamaam cheezen hamari apni ichchhaashakti par hamare vivek par aur hamari samajh par nirbhar karti hai ki hum apne jeevan mein kya ban paate hain aur jeevan ko apne liye kya bana paate hain itne jeevan mein aap apne aap se kya chahte hain aap jeevan par kya cha yah sawaal aapko baar baar poochna hota hai jab tak aapko yah sawaal Pagal nahi kar deta aap apne jeevan mein kuch rachnatmak nahi kar payenge sarthak nahi kar payenge aur kuch meaning full nahi kar payenge isliye shanti se baithkar kabhi vivekpurn tarike se aapko vichar karna hoga aapko jawab ek din apne aap mil jaega dhanyavad

नमस्कार दोस्तों वोकल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  941
WhatsApp_icon
play
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन का क्या अर्थ है और जीवन में क्या महत्वपूर्ण है जीवन का अर्थ है जीवन जीना ओके सबके साथ सबके साथ ओके और जीवन में क्या महत्व पर है जीवन में पहले तो हम खुद महत्वपूर्ण है उसके बाद हमारा फैमिली हमारा परिवार महत्वपूर्ण पाकिस्तान में

jeevan ka kya arth hai aur jeevan mein kya mahatvapurna hai jeevan ka arth hai jeevan jeena ok sabke saath sabke saath ok aur jeevan mein kya mahatva par hai jeevan mein pehle toh hum khud mahatvapurna hai uske baad hamara family hamara parivar mahatvapurna pakistan mein

जीवन का क्या अर्थ है और जीवन में क्या महत्वपूर्ण है जीवन का अर्थ है जीवन जीना ओके सबके साथ

Romanized Version
Likes  348  Dislikes    views  4317
WhatsApp_icon
user

Dr. Guddy Kumari

UPSC Coach / Ph.d

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन का क्या अर्थ है जीवन में क्या महत्व है जीवन का अर्थ है जीने की कला और जीवन में क्या महत्व है जीवन में सबसे महत्वपूर्ण है शांति खुशी प्यार

jeevan ka kya arth hai jeevan mein kya mahatva hai jeevan ka arth hai jeene ki kala aur jeevan mein kya mahatva hai jeevan mein sabse mahatvapurna hai shanti khushi pyar

जीवन का क्या अर्थ है जीवन में क्या महत्व है जीवन का अर्थ है जीने की कला और जीवन में क्या म

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  424
WhatsApp_icon
user

ANIL SINGH

Business Man | Ex-Teacher

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन का अर्थ होता है लेकिन अगर मेरे नजर से देखा जाए तो जीवन पर तो सच्चे मायने में वही है खुद को जान सके पहचान सके उसके जीवन का उद्देश्य से समझ सके कि उसको जीवन क्यों मिला है जानते हो मेरे कहने का तात्पर्य है कि आप खुद को जान लेंगे तो सर्वज्ञ हो जाएंगे हमें खुद को जाना है उसका अर्थ क्या है आपने पूछा जीवन का अर्थ क्या है जीवन पर ही है कि हमें अपनी लाइफ में ऐसे कर्म करना है जिससे हम कुछ पा सकें कुछ पाने करते तो वह कर आप समझ सकते हो कि देखे जीवन में कुछ पाना है तो बीवी बच्चा कुत्ता ताकत कैसे करेंगे ध्यान योग के द्वारा के जीवन में अंतिम लक्ष्य मोक्ष प्राप्त करना होता है कैसे मिलेगा योग के द्वारा जीवन में महत्वपूर्ण क्या होता है कि नहीं होता क्या अपने कर्म अच्छे तरीके से करें कर्म करेंगे तो हिसाब से आपको फल मिलेगा और कर्म की गति कहना बहुत मुश्किल होता है कि क्या कर्म किए जिसका हमें इस जनम में फल मिल रहा है इसी का नाम है पर वही होता है तब से मैच पुणे कर्म कर्म का उद्देश्य को जाना आवश्यक है उसकी सहायता करें और आगे बढ़े कभी ऐसा काम ना करें जिससे खुद का दिल दुख दूसरों का दिल दुखा

jeevan ka arth hota hai lekin agar mere nazar se dekha jaaye toh jeevan par toh sacche maayne mein wahi hai khud ko jaan sake pehchaan sake uske jeevan ka uddeshya se samajh sake ki usko jeevan kyon mila hai jante ho mere kehne ka tatparya hai ki aap khud ko jaan lenge toh sarvagya ho jaenge hamein khud ko jana hai uska arth kya hai aapne poocha jeevan ka arth kya hai jeevan par hi hai ki hamein apni life mein aise karm karna hai jisse hum kuch paa sake kuch paane karte toh vaah kar aap samajh sakte ho ki dekhe jeevan mein kuch paana hai toh biwi baccha kutta takat kaise karenge dhyan yog ke dwara ke jeevan mein antim lakshya moksha prapt karna hota hai kaise milega yog ke dwara jeevan mein mahatvapurna kya hota hai ki nahi hota kya apne karm acche tarike se kare karm karenge toh hisab se aapko fal milega aur karm ki gati kehna bahut mushkil hota hai ki kya karm kiye jiska hamein is janam mein fal mil raha hai isi ka naam hai par wahi hota hai tab se match pune karm karm ka uddeshya ko jana aavashyak hai uski sahayta kare aur aage badhe kabhi aisa kaam na kare jisse khud ka dil dukh dusro ka dil dukha

जीवन का अर्थ होता है लेकिन अगर मेरे नजर से देखा जाए तो जीवन पर तो सच्चे मायने में वही है ख

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  483
WhatsApp_icon
user

Ajay

Life line

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन जीने का नाम है जीवन जीने का नाम है जिंदा है तो आपके पास जीवन है मर गए तो जीवन नहीं है

jeevan jeene ka naam hai jeevan jeene ka naam hai zinda hai toh aapke paas jeevan hai mar gaye toh jeevan nahi hai

जीवन जीने का नाम है जीवन जीने का नाम है जिंदा है तो आपके पास जीवन है मर गए तो जीवन नहीं है

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जनता की सेवा में क्या मिला

janta ki seva me kya mila

जनता की सेवा में क्या मिला

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  174
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप किसी भी बच्चे को देखिए वह कितना भोला कितना मासूम होता है जून के साथ-साथ वह अपनी जीवनशैली चलता है भरता है और जैसा होता है जीवन का सच जो हम किसी और यह नहीं कर सकते हम उसे सोचे समझे अपने जीवन को सुंदर सुशील से नियमित आदर्श बनाएं ऐसे कार्य करें कि हमारे जाने के बाद हमें चार लोग या तो कर ले अपने जीवन को हमेशा उन्नति और अच्छा बनाने की कोशिश करें जीवन में क्या महत्व है या अलग-अलग मूर्तियों के अलग अलग सोचा कोई मनुष्य जीवन में क्या बनना चाहता हूं और किस समय से शादी करना चाहता है यह सब चिड़िया का लगा दो महत्वपूर्ण क्या है उसके लिए कोई निश्चित नहीं जा सकती इसके लिए क्या मुझसे मैं तो मैंने अपने जीवन में क्या बोलना नहीं किया

aap kisi bhi bacche ko dekhiye vaah kitna bhola kitna masoom hota hai june ke saath saath vaah apni jeevan shaili chalta hai bharta hai aur jaisa hota hai jeevan ka sach jo hum kisi aur yah nahi kar sakte hum use soche samjhe apne jeevan ko sundar sushil se niyamit adarsh banaye aise karya kare ki hamare jaane ke baad hamein char log ya toh kar le apne jeevan ko hamesha unnati aur accha banane ki koshish kare jeevan me kya mahatva hai ya alag alag murtiyon ke alag alag socha koi manushya jeevan me kya banna chahta hoon aur kis samay se shaadi karna chahta hai yah sab chidiya ka laga do mahatvapurna kya hai uske liye koi nishchit nahi ja sakti iske liye kya mujhse main toh maine apne jeevan me kya bolna nahi kiya

आप किसी भी बच्चे को देखिए वह कितना भोला कितना मासूम होता है जून के साथ-साथ वह अपनी जीवनशैल

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  120
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल जीवन का क्या अर्थ है और जीवन में क्या महत्वपूर्ण है कि महात्मा बुद्ध ने बोला करते थे जीवन एक धोखा है वह ऐसा क्यों बोलते हैं मुझे लगता है कि उन्होंने लोगों को देख लो खुद केस्ट तो खुद की चिंता नहीं है लेकिन दूसरे वस्तु और बहुत सारे ऐसे जियो के पीछे भागते हैं जिसका अस्तित्व ना तो उन्हें पता है कि वह है क्या पहले और क्यों यह भी पता नहीं लेकिन भागते भागते वक्त वक्त ऐसे ही मर जाते हैं वह धोखे में हैं उन्हें जीवन का कोई सच्चाई मालूम है वह धोखे में है उसके पीछे भागते बात तो जान दे दी है तो वह इसलिए बोलते थे जीवन धोखा है मुझे भी लगता है जीवन धोखा है और एक बात जीवन में क्या महत्वपूर्ण है आप बोल रहे हैं जीवन महत्वपूर्ण है आपके अस्तित्व मतलब खुद के अस्तित्व जो है वह सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है फिल्म 1 जनवरी होनी चाहिए अब कौन है क्या है या जिसके पीछे भाग रहे हैं वह क्या है इस महत्वपूर्ण होता है जीवन में मेरे हिसाब से

aapka sawaal jeevan ka kya arth hai aur jeevan mein kya mahatvapurna hai ki mahatma buddha ne bola karte the jeevan ek dhokha hai vaah aisa kyon bolte hain mujhe lagta hai ki unhone logo ko dekh lo khud kest toh khud ki chinta nahi hai lekin dusre vastu aur bahut saare aise jio ke peeche bhagte hain jiska astitva na toh unhe pata hai ki vaah hai kya pehle aur kyon yah bhi pata nahi lekin bhagte bhagte waqt waqt aise hi mar jaate hain vaah dhokhe mein hain unhe jeevan ka koi sacchai maloom hai vaah dhokhe mein hai uske peeche bhagte baat toh jaan de di hai toh vaah isliye bolte the jeevan dhokha hai mujhe bhi lagta hai jeevan dhokha hai aur ek baat jeevan mein kya mahatvapurna hai aap bol rahe hain jeevan mahatvapurna hai aapke astitva matlab khud ke astitva jo hai vaah sabse zyada mahatvapurna hai film 1 january honi chahiye ab kaun hai kya hai ya jiske peeche bhag rahe hain vaah kya hai is mahatvapurna hota hai jeevan mein mere hisab se

आपका सवाल जीवन का क्या अर्थ है और जीवन में क्या महत्वपूर्ण है कि महात्मा बुद्ध ने बोला करत

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  616
WhatsApp_icon
user

Damini

Study

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन का अर्थ है लोगों को प्रेम देना इस संसार को प्रेम देना है सम्मान देना जब आप लोगों को प्रेम रोग सम्मान दोगे तो आपको भी वही मिलेगा यदि आप किसी भी चीज को या किसी भी व्यक्ति को प्रेम से नहीं जीत सकते आपसे बल से जीत कर भी खुश नहीं रह पाओगे और यही है इस जीवन का सबसे बड़ा सच कि आप इस संसार को प्रेम दो और प्रेम लो

jeevan ka arth hai logo ko prem dena is sansar ko prem dena hai sammaan dena jab aap logo ko prem rog sammaan doge toh aapko bhi wahi milega yadi aap kisi bhi cheez ko ya kisi bhi vyakti ko prem se nahi jeet sakte aapse bal se jeet kar bhi khush nahi reh paoge aur yahi hai is jeevan ka sabse bada sach ki aap is sansar ko prem do aur prem lo

जीवन का अर्थ है लोगों को प्रेम देना इस संसार को प्रेम देना है सम्मान देना जब आप लोगों को प

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
user

Kesharram

Teacher

2:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन का क्या है दोस्तों जीवन का बहुत बड़ा क्योंकि हम हमारे जीवन में जो भी घटनाएं जो भी समस्याएं हैं और जिस प्रकार से यह अपना घर कर रही है उसको हम सा रूप से चलने देते हैं इसके लिए क्या-क्या में संघर्ष तो करना पड़ता है लेकिन संघर्ष काम कर कर के मुकाबला करते तो जीवन का सही में अर्थ होता है कि जीवन में एक कठिन से कठिन समय से उसको हल करना और अपने आगे आने वाले समय में आगे बढ़ते इसलिए दोस्तों यह हमेशा ही एक सहारा बन कर के हमारे जीवन पानी जीना चाहिए जिससे किसी प्रकार की कोई समस्या ना हो और आगे चलकर के हम हमारा अच्छा विकास के साथ होता है कि दो हम महत्वपूर्ण निर्णय ले पाते हैं उसमें अमूल दूध देखने की बात तो यह है कि जीवन का सार सुन उसके रंग में रंग दे जितना उसमें बल है उसकी धार देखो किनारे करना सीखो यह जीवन में लक्ष्य देती है अगर आप लगते को आदर देते हैं तो उसमें असफल हो जाते हैं और उसी रिश्ते काम आ गले लगा लेते पार कर लेते हैं जीवन में महत्वपूर्ण इसलिए है क्योंकि जिन्हें का जीवन में स्वतंत्रता का है हम अपने मन की सोच रहे हैं जो हमारे दिमाग में चलता है उसको हम उजागर कर रहे हैं और हम ऐसे कदम उठा रहे हैं आने वाले समय में एक मिसाल बनेगी और उसको लाखों-करोड़ों लोग अपने जीवन में उतारेंगे यह कामना हम अपने जीवन में करते हैं धन्यवाद दोस्तों

jeevan ka kya hai doston jeevan ka bahut bada kyonki hum hamare jeevan mein jo bhi ghatnaye jo bhi samasyaen hain aur jis prakar se yah apna ghar kar rahi hai usko hum sa roop se chalne dete hain iske liye kya kya mein sangharsh toh karna padta hai lekin sangharsh kaam kar kar ke muqabla karte toh jeevan ka sahi mein arth hota hai ki jeevan mein ek kathin se kathin samay se usko hal karna aur apne aage aane waale samay mein aage badhte isliye doston yah hamesha hi ek sahara ban kar ke hamare jeevan paani jeena chahiye jisse kisi prakar ki koi samasya na ho aur aage chalkar ke hum hamara accha vikas ke saath hota hai ki do hum mahatvapurna nirnay le paate hain usme amul doodh dekhne ki baat toh yah hai ki jeevan ka saar sun uske rang mein rang de jitna usme bal hai uski dhar dekho kinare karna sikho yah jeevan mein lakshya deti hai agar aap lagte ko aadar dete hain toh usme asafal ho jaate hain aur usi rishte kaam aa gale laga lete par kar lete hain jeevan mein mahatvapurna isliye hai kyonki jinhen ka jeevan mein swatantrata ka hai hum apne man ki soch rahe hain jo hamare dimag mein chalta hai usko hum ujagar kar rahe hain aur hum aise kadam utha rahe hain aane waale samay mein ek misal banegi aur usko laakhon karodo log apne jeevan mein utarenge yah kamna hum apne jeevan mein karte hain dhanyavad doston

जीवन का क्या है दोस्तों जीवन का बहुत बड़ा क्योंकि हम हमारे जीवन में जो भी घटनाएं जो भी समस

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  265
WhatsApp_icon
user

meethalal

study and granite work

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज का सवाल है कि जीवन का क्या अर्थ है और जीवन में क्या महत्वपूर्ण है तो मेरे हिसाब से जीवन का अर्थ है कि शुभ विकसित ज्ञान को ही जीवन कहा जाता है जिस व्यक्ति के अंतर्गत सुरक्षित ज्ञान होगा उसका जीवन निश्चित रूप से अच्छा होगा और विलायक के अंदर किसी भी समस्या हो प्रॉब्लम हो तो कुछ भी हो जाए तो भी वह उन पर काबू पा सकता है और यही जीवन में महत्वपूर्ण

aaj ka sawaal hai ki jeevan ka kya arth hai aur jeevan mein kya mahatvapurna hai toh mere hisab se jeevan ka arth hai ki shubha viksit gyaan ko hi jeevan kaha jata hai jis vyakti ke antargat surakshit gyaan hoga uska jeevan nishchit roop se accha hoga aur vilaayak ke andar kisi bhi samasya ho problem ho toh kuch bhi ho jaaye toh bhi vaah un par kabu paa sakta hai aur yahi jeevan mein mahatvapurna

आज का सवाल है कि जीवन का क्या अर्थ है और जीवन में क्या महत्वपूर्ण है तो मेरे हिसाब से जीव

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user

Kriti

Volunteer

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन का क्या अर्थ है और जीवन में क्या महत्व पूर्ण देखे जीवन का अर्थ क्या है यदि हमें यह जीवन मिला है तो इसमें हमें कुछ करके दिखाना है क्योंकि हर किसी को नसीब में नहीं होता कि वह इंसान का रूप लेकर जाने और वहां से जानवर होते हैं और हम बहुत ज्यादा किस्मत मिला है तो हमें उसको अच्छे से जीना है उसमें कुछ करके दिखाना है बताना है कि हम क्या है एक अच्छे इंसान बनकर दिखाना है यह हमारे जीवन का अर्थ है कि हम जब जानवर है जो बोल नहीं सकते हैं उनका ख्याल भी रखना है क्योंकि उन्होंने उनको भगवान ने कुछ नहीं दिया है उनको भगवान ने सिर्फ मासूमियत दी है इनोसेंसी दी है जिससे कि वह लोगों का मन जीत लेते हैं और उनका हमें रखना है और यही जीवन का अर्थ है कि आप किसके लिए क्या कर सकते हो आप खुद के लिए कितना जीते हो दूसरों के लिए कितना देते हो और यही जिंदगी होती है और महत्वपूर्ण जीवन में यह है कि आप अपना ख्याल रखो अपने घर वालों का ख्याल रखो अपने आसपास के लोगों का ख्याल रखो साथ ही जुनून जानवर हैं उनका ख्याल रखिए जितना ज्यादा आप लोगों के लिए कर सकते हो करो कि यहां से जाओगे तो लोग यह

jeevan ka kya arth hai aur jeevan mein kya mahatva purn dekhe jeevan ka arth kya hai yadi hamein yah jeevan mila hai toh isme hamein kuch karke dikhana hai kyonki har kisi ko nasib mein nahi hota ki vaah insaan ka roop lekar jaane aur wahan se janwar hote hain aur hum bahut zyada kismat mila hai toh hamein usko acche se jeena hai usme kuch karke dikhana hai bataana hai ki hum kya hai ek acche insaan bankar dikhana hai yah hamare jeevan ka arth hai ki hum jab janwar hai jo bol nahi sakte hain unka khayal bhi rakhna hai kyonki unhone unko bhagwan ne kuch nahi diya hai unko bhagwan ne sirf masumiyat di hai inosensi di hai jisse ki vaah logo ka man jeet lete hain aur unka hamein rakhna hai aur yahi jeevan ka arth hai ki aap kiske liye kya kar sakte ho aap khud ke liye kitna jeete ho dusro ke liye kitna dete ho aur yahi zindagi hoti hai aur mahatvapurna jeevan mein yah hai ki aap apna khayal rakho apne ghar walon ka khayal rakho apne aaspass ke logo ka khayal rakho saath hi junun janwar hain unka khayal rakhiye jitna zyada aap logo ke liye kar sakte ho karo ki yahan se jaoge toh log yah

जीवन का क्या अर्थ है और जीवन में क्या महत्व पूर्ण देखे जीवन का अर्थ क्या है यदि हमें यह जी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!