क्या गरीबी एक मन: स्थिति मात्र है?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:33

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या गरीबी एक तो बनो स्थिति मात्र है जी नहीं आप तो गरीबी किसे कह रहे हैं एक तो वह क्लियर नहीं है क्योंकि गरीबी विचारों की भी गरीबी होती है पैसे की भी गरीबी होती है शरीर की भी गरीबी होती है और हमारे एजुकेशन की भी गरीबी होती है सब कुछ की गरीबी होती है लेकिन अगर आप का अर्थ यह है कि आर्थिक गरीबी तो यह कोई भी तरह की गरीबी मनोज नहीं झेलना पड़ता है आर्थिक गरीबी जो होती है वह झेलना पड़ता है दूसरी भी गरीबी होती है वह चिल्लाती बहुत है बहुत सारे पैसे से अमीर घराने के लोग अमीर लोग भी मन के इतने गरीब होते हैं कि उसका उदाहरण आप बहुत कुछ देख सकते हैं कि वह अपने तन पर भी या अपने घर वालों के प्रति भी पैसा खर्च करने से कतराते हैं तो वह मन के गरीब है उनके पास तो बहुत है उसे जितना भी खर्च करें उनके पास धन बहुत है लेकिन वह मन से गरीब है इसलिए गरीबी तो होता है वह हम एक पकड़कर चलते प्रेम की पैसे से जो आदमी गरीब होता है तो वह जीवन के यापन के लिए पर्याप्त धन नहीं कमा पा रहा है किसी वजह से तो वह बहुत कुछ है और गरीबी आर्थिक गरीबी एक जगह पर हमारे अभिशाप है एक कलंक है गरीबी आर्थिक गरीबी एक तरह का कलंक है भगवान किसी को भी गरीब पैदा ना करें ऐसा मैं मानता हूं कि गरीबी ने बहुत दुख कभी धूप कभी अवेल ना कभी बहुत कुछ झेलना पड़ता है गरीबी की वजह से इसलिए हम हैं गरीबी को हटाने का करेगी अपनी मिटाने का गरीबी को मिटाने का जिंदगी एक और प्रयास करना चाहिए और प्रयासरत रहना चाहिए बहुत-बहुत धन्यवाद और बहुत सारी शुभकामनाएं

kya garibi ek toh bano sthiti matra hai ji nahi aap toh garibi kise keh rahe hain ek toh vaah clear nahi hai kyonki garibi vicharon ki bhi garibi hoti hai paise ki bhi garibi hoti hai sharir ki bhi garibi hoti hai aur hamare education ki bhi garibi hoti hai sab kuch ki garibi hoti hai lekin agar aap ka arth yah hai ki aarthik garibi toh yah koi bhi tarah ki garibi manoj nahi jhelna padta hai aarthik garibi jo hoti hai vaah jhelna padta hai dusri bhi garibi hoti hai vaah chillati bahut hai bahut saare paise se amir gharane ke log amir log bhi man ke itne garib hote hain ki uska udaharan aap bahut kuch dekh sakte hain ki vaah apne tan par bhi ya apne ghar walon ke prati bhi paisa kharch karne se katrate hain toh vaah man ke garib hai unke paas toh bahut hai use jitna bhi kharch kare unke paas dhan bahut hai lekin vaah man se garib hai isliye garibi toh hota hai vaah hum ek pakadakar chalte prem ki paise se jo aadmi garib hota hai toh vaah jeevan ke yaapan ke liye paryapt dhan nahi kama paa raha hai kisi wajah se toh vaah bahut kuch hai aur garibi aarthik garibi ek jagah par hamare abhishap hai ek kalank hai garibi aarthik garibi ek tarah ka kalank hai bhagwan kisi ko bhi garib paida na kare aisa main manata hoon ki garibi ne bahut dukh kabhi dhoop kabhi avail na kabhi bahut kuch jhelna padta hai garibi ki wajah se isliye hum hain garibi ko hatane ka karegi apni mitne ka garibi ko mitne ka zindagi ek aur prayas karna chahiye aur prayasarat rehna chahiye bahut bahut dhanyavad aur bahut saree subhkamnaayain

क्या गरीबी एक तो बनो स्थिति मात्र है जी नहीं आप तो गरीबी किसे कह रहे हैं एक तो वह क्लियर न

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1304
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!