मैं एक पुरुष हूँ और मेरे मन में प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के ख़याल आते हैं तो मुझे क्या करना चाहिए?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं पुरुष और मेरे मन में प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के ख्याल आते तो मुझे क्या करना चाहिए लिखिए पुरुषों में प्रताड़ना की वजह से चलाते हैं यह आप गलत दिशा में आपके विचार जा रहे हैं आप मत आना गलत चीज है वह आत्महत्या की थी एक तरह से मुस्तफा हो गए आपको नहीं करनी चाहिए खुद ही आप अपने दुश्मन अपनी जान के बने हुए जरूरी यह है कि जीवन में आप अपनी सोच को बदलें पॉजिटिव सोच अगर रखेंगे योगा मेडिटेशन प्राणायाम भी एप्स लोड कर अगर करेंगे ध्यान करेंगे तो आपको इसमें काफी सहायता मिल सकती है जीवन में आपको अगर कोई समस्याएं हैं या आपको किसी से नाराजगी तो उसका गुस्सा आप अपने आपको के ऊपर अगर उतारेंगे तो उससे उस समस्या का या उस गुस्से का हल नहीं निकलेगा क्योंकि उसको किसी और के ऊपर होगा और उसका आपको अपने आप के ऊपर गुस्सा निकाल रहे इसी को आत्मिक प्रताड़ना कहते हैं लेकिन यह सही नहीं क्यों क्योंकि जिस व्यक्ति के ऊपर गुस्सा है उसके व्यवहार की वजह से या उसकी वाणी की वजह से क्या हो सकता है कि आज आपकी कोई अपेक्षा पूरी ना हो जरूरी नहीं है कि आप जिंदगी में जो अपेक्षा करते हैं जो आप चाहते हैं जो आप सोचते हैं वह सामने वाला वही करें या वही बोले सब लोगों का अलग अलग है ममता भी हो सकता है सब लोगों के अलग-अलग काम हो सकते हैं जैसे आप अपने मन से स्वतंत्र हैं वैसे सामने वाला व्यक्त स्वतंत्र हैं सोचने के लिए और बोलने के लिए आपको अगर उसकी बात अच्छी नहीं लगती है या आपका उस आपको उसका व्यवहार अच्छा नहीं लगता है तो आप उससे दूर हो जाइए और उसे भूल जाए और आप अपने आप के ऊपर कोई तरह का गुस्सा यार यह अपने ऊपर ना करें इसे नुकसान आपको ही होगा आपको भगवान ने जीने के लिए एक मौका दिया तो उस मौके का सदुपयोग करें और अपनी सोच आप सही करें आप इसके लिए किसी न किसी काम में लग जाए जाने की प्रवृत्ति सील हो जाए आप कोई ना कोई अगर प्रवर्ती करेंगे तो उससे आपको चार पैसे की आवक इनकम भी होगी और आप अपने पैर पर खड़े हो जाएंगे और आप का ध्यान भी उस काम में लगा रहेगा इस तरह से आप रोटी में होंगे तो आपको इन सब बातों से छुटकारा मिल जाएगा और आपके मन में फिर आत्महत्या का विचार नहीं आएगा जिस व्यक्ति के कारण आपको आत्म प्रताड़ना करने की प्रेरणा मिली हो उस व्यक्ति से दूर हो जाना बेहतर है और आगे चलकर आपको आपके मर्जी मुताबिक या आपकी इच्छा मुताबिक जरूर दूसरा व्यक्ति आपको ऐसा मिलेगा जो आपको पसंद करता हूं चाहता हूं आपके विचार से सहमत हूं जिंदगी का ऐसा हम यही नहीं सोचना चाहिए कि जिंदगी बहुत छोटी है जिंदगी बहुत हमें जिंदगी में ऐसे काम करने चाहिए जिससे हम अपने आपको अपने परिवार जनों को अपने माता-पिता को और हमारे संपर्क में जितने भी लोग आते हैं सबको हम एक तरफ से प्रेरित बल बने हम उनके बारे में सोचें और उनको हम जितना हम से हो सके फायदा पहुंचा है और सबवे हंसी-खुशी बाकी और सब के साथी आनंद करने में ही जिंदगी का मजा है जिंदगी का आनंद ही आनंद को भले ही आपके मन नहीं होना चाहिए लेकिन आपको उसे बाहर निकालना पड़ेगा इस तरह से आप अपनी इस भावना से दूर जाकर जिंदगी में खुश खुशियां बटोर सकते हैं बहुत-बहुत शुभकामनाएं धन्यवाद

main purush aur mere man me prataadana ki wajah se atmahatya ke khayal aate toh mujhe kya karna chahiye likhiye purushon me prataadana ki wajah se chalte hain yah aap galat disha me aapke vichar ja rahe hain aap mat aana galat cheez hai vaah atmahatya ki thi ek tarah se mustafa ho gaye aapko nahi karni chahiye khud hi aap apne dushman apni jaan ke bane hue zaroori yah hai ki jeevan me aap apni soch ko badale positive soch agar rakhenge yoga meditation pranayaam bhi apps load kar agar karenge dhyan karenge toh aapko isme kaafi sahayta mil sakti hai jeevan me aapko agar koi samasyaen hain ya aapko kisi se narajgi toh uska gussa aap apne aapko ke upar agar utarenge toh usse us samasya ka ya us gusse ka hal nahi niklega kyonki usko kisi aur ke upar hoga aur uska aapko apne aap ke upar gussa nikaal rahe isi ko atmik prataadana kehte hain lekin yah sahi nahi kyon kyonki jis vyakti ke upar gussa hai uske vyavhar ki wajah se ya uski vani ki wajah se kya ho sakta hai ki aaj aapki koi apeksha puri na ho zaroori nahi hai ki aap zindagi me jo apeksha karte hain jo aap chahte hain jo aap sochte hain vaah saamne vala wahi kare ya wahi bole sab logo ka alag alag hai mamata bhi ho sakta hai sab logo ke alag alag kaam ho sakte hain jaise aap apne man se swatantra hain waise saamne vala vyakt swatantra hain sochne ke liye aur bolne ke liye aapko agar uski baat achi nahi lagti hai ya aapka us aapko uska vyavhar accha nahi lagta hai toh aap usse dur ho jaiye aur use bhool jaaye aur aap apne aap ke upar koi tarah ka gussa yaar yah apne upar na kare ise nuksan aapko hi hoga aapko bhagwan ne jeene ke liye ek mauka diya toh us mauke ka sadupyog kare aur apni soch aap sahi kare aap iske liye kisi na kisi kaam me lag jaaye jaane ki pravritti seal ho jaaye aap koi na koi agar pravarti karenge toh usse aapko char paise ki avak income bhi hogi aur aap apne pair par khade ho jaenge aur aap ka dhyan bhi us kaam me laga rahega is tarah se aap roti me honge toh aapko in sab baaton se chhutkara mil jaega aur aapke man me phir atmahatya ka vichar nahi aayega jis vyakti ke karan aapko aatm prataadana karne ki prerna mili ho us vyakti se dur ho jana behtar hai aur aage chalkar aapko aapke marji mutabik ya aapki iccha mutabik zaroor doosra vyakti aapko aisa milega jo aapko pasand karta hoon chahta hoon aapke vichar se sahmat hoon zindagi ka aisa hum yahi nahi sochna chahiye ki zindagi bahut choti hai zindagi bahut hamein zindagi me aise kaam karne chahiye jisse hum apne aapko apne parivar jano ko apne mata pita ko aur hamare sampark me jitne bhi log aate hain sabko hum ek taraf se prerit bal bane hum unke bare me sochen aur unko hum jitna hum se ho sake fayda pohcha hai aur subway hansi khushi baki aur sab ke sathi anand karne me hi zindagi ka maza hai zindagi ka anand hi anand ko bhale hi aapke man nahi hona chahiye lekin aapko use bahar nikalna padega is tarah se aap apni is bhavna se dur jaakar zindagi me khush khushiya bator sakte hain bahut bahut subhkamnaayain dhanyavad

मैं पुरुष और मेरे मन में प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के ख्याल आते तो मुझे क्या करना चाहि

Romanized Version
Likes  337  Dislikes    views  3709
WhatsApp_icon
25 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

Likes  46  Dislikes    views  1545
WhatsApp_icon
user
3:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

साहब मर्द को दर्द नहीं होता है आप एक पुरुषों का आत्महत्या की बात सोचते हैं यह बात आपकी कमजोरी को दर्शाता है तथा इससे यह स्पष्ट होता है कि आप मुश्किलों का सामना करने से डरते हैं दुनिया में ऐसी कोई समस्या नहीं है जिसका समाधान ना हो अगर आप बताना की वजह से आत्महत्या करने के बाद सोचते हैं तो इसका मतलब आप मुश्किलों से घबराते मुश्किलों से घबराना नहीं चाहिए बस मुश्किलों का डटकर सामना करना चाहिए और आत्महत्या करने की बात तो केवल बुजदिल लोग सोचते हैं आप ऐसा ख्याल अपने मन से निकाल दीजिए आप प्रताड़ित ना हो हर समस्या का समाधान मिलेगा आप अपनी समस्या बताएं आत्महत्या का प्रयास ना करें मानव जीवन में कुछ कर दिखाने की कोशिश करें और आपकी समस्या का समाधान अवश्य मिलेगा बस आप अपनी समस्याओं के पीछे जाकर देखें कि आपकी समस्या क्या है आपकी समस्या कहां से शुरू हुए हैं कोई भी समस्या होगी आपको कोई बेवजह प्रताड़ित नहीं करेगा अगर कोई बेवजह प्रताड़ित करता है तो उसके लिए हमारे देश में कानून व्यवस्था है पुलिस व्यवस्था है सामाजिक व्यवस्था है हर प्रकार की व्यवस्था उपलब्ध है आप कौन सी व्यवस्था का उपयोग कर सकते हैं कौन सी आपके लिए उचित होगी सामाजिक न्याय अन्याय की व्यवस्था होती है अगर आपको लगता है कि उस स्थान से समस्या है उस स्थान में रहने से समस्या है तो आप उस स्थान को बदल दें या आपको व्यवसायिक बताना है आप अपना व्यवसाय बदल गए कुछ भी बदल गए हर दिन जिंदगी नए सिरे से शुरू की जा सकती है इसलिए आप आत्महत्या का ख्याल त्याग में मानव जीवन मिला है उसका सदुपयोग करें देश के लिए समाज के लिए अपने लिए जितने जिनकी जिंदगी मिली है उतने दिन आराम से जी और यह आत्महत्या करने का सोच अपने मन से निकाल दें अगर कोई समस्या हो तो उसको बताएं समाधान करने की कोशिश की जाएगी आत्महत्या ना करें धन्यवाद

saheb mard ko dard nahi hota hai aap ek purushon ka atmahatya ki baat sochte hain yah baat aapki kamzori ko darshata hai tatha isse yah spasht hota hai ki aap mushkilon ka samana karne se darte hain duniya me aisi koi samasya nahi hai jiska samadhan na ho agar aap batana ki wajah se atmahatya karne ke baad sochte hain toh iska matlab aap mushkilon se ghabarate mushkilon se ghabrana nahi chahiye bus mushkilon ka dantkar samana karna chahiye aur atmahatya karne ki baat toh keval bujdil log sochte hain aap aisa khayal apne man se nikaal dijiye aap pratarit na ho har samasya ka samadhan milega aap apni samasya bataye atmahatya ka prayas na kare manav jeevan me kuch kar dikhane ki koshish kare aur aapki samasya ka samadhan avashya milega bus aap apni samasyaon ke peeche jaakar dekhen ki aapki samasya kya hai aapki samasya kaha se shuru hue hain koi bhi samasya hogi aapko koi bewajah pratarit nahi karega agar koi bewajah pratarit karta hai toh uske liye hamare desh me kanoon vyavastha hai police vyavastha hai samajik vyavastha hai har prakar ki vyavastha uplabdh hai aap kaun si vyavastha ka upyog kar sakte hain kaun si aapke liye uchit hogi samajik nyay anyay ki vyavastha hoti hai agar aapko lagta hai ki us sthan se samasya hai us sthan me rehne se samasya hai toh aap us sthan ko badal de ya aapko vyavasayik batana hai aap apna vyavasaya badal gaye kuch bhi badal gaye har din zindagi naye sire se shuru ki ja sakti hai isliye aap atmahatya ka khayal tyag me manav jeevan mila hai uska sadupyog kare desh ke liye samaj ke liye apne liye jitne jinki zindagi mili hai utne din aaram se ji aur yah atmahatya karne ka soch apne man se nikaal de agar koi samasya ho toh usko bataye samadhan karne ki koshish ki jayegi atmahatya na kare dhanyavad

साहब मर्द को दर्द नहीं होता है आप एक पुरुषों का आत्महत्या की बात सोचते हैं यह बात आपकी कम

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  105
WhatsApp_icon
user

Prof (Dr) S. S. Prasad.

Psychiatrist ,Medical Practice & Teaching Faculty.

5:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार जी मैं डॉ एसएस प्रसाद मनोरोग विशेषज्ञ आपने प्रश्न किया है मैं एक पुरुष हूं और मेरे मन में प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या की ख्याल आते हैं तो मुझे क्या करना चाहिए बहुत सुंदर प्रश्न आपने किया है आप जब ऐसा सोच रहे हैं कि मुझे क्या करना चाहिए तो इसका शॉर्ट में यही जवाब है कि आप पॉजिटिव सोचिए सकारात्मक जब सोच आप जब जब करेंगे कि आत्महत्या करने ख्याल आपका स्वता समाप्त हो जाएगा जिस इंसान के अंदर में अपनी कठिनाइयों के प्रति सजगता का बोध हो जाए उसी कठिनाई सोता दूर हो जाती है मुझे लगता है कि आपके अंदर में यह बोध हो गया है कि मुझे क्या करना चाहिए तो आप ऐसे पॉजिटिव थॉट वाले लोगों से मिली है अपने दोस्त से मिलिए अपने माता-पिता से मिलिए अपने भाइयों से मिलीं अपने परिवार से मिली है और जिन लोगों ने आपको प्रताड़ना दिया है उसको किसी माध्यम से जुड़ने की कोशिश कीजिए की प्रताड़ना देने का वजह क्या है आपको किसी कारण से का प्रधान आदि गई है तो आप उस पर जाना को भूल जाइए और नए तरीके से जीने की आदत डालिए एक्स लोगों ने कहा गया है बीती ताहि बिसार दे आगे की सुधि लो जो बीती हुई बातें है उसे भूल जाइए और नए तरीके से जीवन चर्या बनाई नए तरीके से जवाब जीने की कला सीखे गे तो आपका यह आत्महत्या करने के ख्याल स्वता समाप्त हो जाएगा क्योंकि एक इंसान ही एक ऐसा दुनिया में जीव है जो अपनी भावनाओं को व्यक्त करके हंसता है हंसी एक बहुत बड़ी बात है कि इस माइनिंग आप हंसते रहिए मुस्कुराते रहिए और उसने मुस्कुराने से आपका सारा नेगेटिव थॉट सोते दूर हो जाएगा दुनिया में कोई जीव ऐसा नहीं है इंसान को छोड़कर जो हंसता होगा लकी मोशन सभी के हैं भावनाएं सभी में हैं लेकिन हंसने का गुण से भी इंसान के अंदर भी पाया जाता है यह बहुत बड़ा गुण है और हंसने से इंसान का जो नेगेटिव थॉट होता है उस समाप्त हो जाता है जो पिछली बातें हैं वह भूल जाता है तो हंसना एक बहुत बड़ा कला है और योग है इस योग को अपनाएं हंसते रहिए और ईश्वर के प्रति कृतज्ञ रहिए और अपने कर्म और अपने मेहनत पर विश्वास रखिए सफलता मिलेगी और आप खुश रहेंगे और आत्महत्या करने के ख्याल भी समाप्त हो जाएगा और जिन लोगों ने आपको पर धरना दिया है वह लोग आपके प्रति ऑनलाइन हो जाएंगे ऐसे ऑनलाइन होंगे हो यही सोचेंगे कि मनु जी सुपर स्टार नादिया हुआ आदमी तो और एक कम होता चला गया है और आगे निकल रहा है और अपने मुकाम पर पड़ा प्राप्त कर लेंगे आप अपनी अपनी सफलता को प्राप्त करेंगे तो एक-दो समस्या आपके अंदर में है आत्महत्या करने का यह सत्र समाप्त हो जाएगी धन्यवाद

namaskar ji main Dr. SS prasad manorog visheshagya aapne prashna kiya hai main ek purush hoon aur mere man me prataadana ki wajah se atmahatya ki khayal aate hain toh mujhe kya karna chahiye bahut sundar prashna aapne kiya hai aap jab aisa soch rahe hain ki mujhe kya karna chahiye toh iska short me yahi jawab hai ki aap positive sochiye sakaratmak jab soch aap jab jab karenge ki atmahatya karne khayal aapka swata samapt ho jaega jis insaan ke andar me apni kathinaiyon ke prati sajgata ka bodh ho jaaye usi kathinai sota dur ho jaati hai mujhe lagta hai ki aapke andar me yah bodh ho gaya hai ki mujhe kya karna chahiye toh aap aise positive thought waale logo se mili hai apne dost se miliye apne mata pita se miliye apne bhaiyo se milin apne parivar se mili hai aur jin logo ne aapko prataadana diya hai usko kisi madhyam se judne ki koshish kijiye ki prataadana dene ka wajah kya hai aapko kisi karan se ka pradhan aadi gayi hai toh aap us par jana ko bhool jaiye aur naye tarike se jeene ki aadat daaliye x logo ne kaha gaya hai biti tahi bisar de aage ki sudhi lo jo biti hui batein hai use bhool jaiye aur naye tarike se jeevan charya banai naye tarike se jawab jeene ki kala sikhe gay toh aapka yah atmahatya karne ke khayal swata samapt ho jaega kyonki ek insaan hi ek aisa duniya me jeev hai jo apni bhavnao ko vyakt karke hansata hai hansi ek bahut badi baat hai ki is Mining aap hansate rahiye muskurate rahiye aur usne muskurane se aapka saara Negative thought sote dur ho jaega duniya me koi jeev aisa nahi hai insaan ko chhodkar jo hansata hoga lucky motion sabhi ke hain bhaavnaye sabhi me hain lekin hasne ka gun se bhi insaan ke andar bhi paya jata hai yah bahut bada gun hai aur hasne se insaan ka jo Negative thought hota hai us samapt ho jata hai jo pichali batein hain vaah bhool jata hai toh hansana ek bahut bada kala hai aur yog hai is yog ko apanaen hansate rahiye aur ishwar ke prati kritagya rahiye aur apne karm aur apne mehnat par vishwas rakhiye safalta milegi aur aap khush rahenge aur atmahatya karne ke khayal bhi samapt ho jaega aur jin logo ne aapko par dharna diya hai vaah log aapke prati online ho jaenge aise online honge ho yahi sochenge ki manu ji super star nadia hua aadmi toh aur ek kam hota chala gaya hai aur aage nikal raha hai aur apne mukam par pada prapt kar lenge aap apni apni safalta ko prapt karenge toh ek do samasya aapke andar me hai atmahatya karne ka yah satra samapt ho jayegi dhanyavad

नमस्कार जी मैं डॉ एसएस प्रसाद मनोरोग विशेषज्ञ आपने प्रश्न किया है मैं एक पुरुष हूं और मेरे

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  316
WhatsApp_icon
user

Ansh jalandra

Motivational speaker & criminal lawyer

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी पुरुष है आपकी मन में प्रताड़ना की वजह से आता बताएगा कोई भी प्रॉब्लम हो मरना इस सेट करना कोई सलूशन नहीं है आपको आतंकवादियों का कोई भी प्रावधान नहीं है कानून आप को सजा दे सकते अगर आप सुसाइड कर दो सुसाइड में हम मर गए वह बात अलग है बाकी दोस्तों की भी चलेंगे अपनी टाइम शेड्यूल बिजी रखेंगे करियर पर ध्यान देने जाए तो आप सही हो जाओगे

abhi purush hai aapki man me prataadana ki wajah se aata batayega koi bhi problem ho marna is set karna koi salution nahi hai aapko aatankwadion ka koi bhi pravadhan nahi hai kanoon aap ko saza de sakte agar aap suicide kar do suicide me hum mar gaye vaah baat alag hai baki doston ki bhi chalenge apni time schedule busy rakhenge career par dhyan dene jaaye toh aap sahi ho jaoge

अभी पुरुष है आपकी मन में प्रताड़ना की वजह से आता बताएगा कोई भी प्रॉब्लम हो मरना इस सेट करन

Romanized Version
Likes  115  Dislikes    views  2390
WhatsApp_icon
user

Shwetima Sahay

Social Worker

5:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है मैं पुरुष हूं और मेरे मन में प्रस्तावना की वजह से आत्महत्या ही चलाते तो मुझे क्या करना चाहिए मुझे बिल्कुल आत्महत्या कोई राजस्थानी होता है आपको पता है आत्मा भटकती आत्मा तय करने के बाद हम आत्मा भटकती है तो और भी ज्यादा कष्ट होता है हम तो अपने ug1 है ना भगवान ने दो हाथ दो पैर दी हैं तो दिमाग की है सोचने के लिए आरतियां देखने के लिए काम कर सकते हैं अपने जीवन को सुधार सकते हैं जो हम को प्रताड़ित करने को पत्र लिखकर उनसे दूरी बनाए जो आप को प्रताड़ित कर रहे तुमसे दूर हो जाइए और आप पुरुष है ना पुरुष मींस क्या होता है बलवान उसका मतलब यह होता है बलवान तो अपने मन को बलवान बनाइए शरीर के साथ-साथ मन की भी मिनी मजबूती लाइए और जो प्रताड़ित कर रहे हैं उनका सामना कीजिए क्यों डर ना किसी से अब क्यों आत्महत्या करना आत्महत्या बहुत ही कार्य लोग करते हैं इसलिए कायरता बिल्कुल ना दिखाएं अपनी पूरी समस्या या नहीं लिखे हैं कि आप किस वजह से प्रताड़ित हो रहे हैं और कौन आपको पता ही कर रहा है तो अगर आपको कोई प्रताड़ित कर रहा है तो इसकी आपको प्लीज बीपी है आप कंप्लेंट कर सकते हैं कि आप को प्रताड़ित किया जा रहा है या जो भी प्रताड़ित कर रहा हूं आपके घर में लोग कर रहे हो बाहर के लोग करते हो तो आपकी कर्ज लेकर रखा हो तो लोग आपको पर टाइप कर रहे हो आपने किसी काम से तो आप तो आप अपने गवर्नमेंट जॉब योगी है डीएम है उनसे मिले बहुत सारे रास्ते होते हैं सेक्स समाधान बहुत जाते हैं आप बस उनके समाधान को ढूंढिए आत्महत्या करने कोई समाधान नहीं होता है आप क्या करने के बाद अब ना भटके गे तो उसमें आप लिखना क्यों कर लिया लेकिन कुछ नहीं बचा है आप फिर से आप अपने मनुष्य के जीवन में नहीं आ सकते हैं कभी अपना एक पुस्तक पढ़ी आत्मा पर वह कितना ज्यादा मैं भी नाम लिया पड़ रहा है मैं आपको बताऊंगी कि इतना अपने आत्मा बहुत तकलीफ में रहती है प्यासी रहती है बहुत ज्यादा तकलीफ में रहती है हम लोग नहीं समझ में आता है इसलिए आप जो हैं कभी भी आते के बारे में नहीं सोचा अपने जीवन को सुधारने का मौका आपको मूर्ति मिलते हैं और अपने जीवन को सुधारने के बहुत सारे रास्ते आपके आसपास जो भी आपके बहुत अच्छे मित्र हैं या मां है देने भाई हैं जो भी हमसे समस्या भोले अपनी समस्या का समाधान होगा उन्हीं से बोले बात करें कि हमको यह ढंग से प्रताड़ित किया जा रहा है जो भी आपने यहां वजह नहीं लिखा है कि हम तो मैं आपको क्लियर चली नहीं बता पा रही हूं लेकिन आत्महत्या बिल्कुल ना करें खाता है अपनी जो भी प्रॉब्लम है उससे लड़ना सके मजबूती से लड़ने की कोशिश करें आज आज प्रॉब्लम है कल नहीं रहेगी कोई भी प्रॉब्लम परमानेंट नहीं रहती एक ना एक दिन भगवान उससे लड़ने की हिम्मत रखते भगवान रास्ता भी निकाल देते हैं यह हमेशा एक विश्वास है कि ईश्वर पर हमेशा विश्वास रखना चाहिए अपनी जो भी प्रॉब्लम है उनको सॉन्ग दीजिए विश्वास रखिए और मेहनत कीजिए कि आप जो भी आपको प्रॉब्लम है जो भी प्रताड़ित कर रहा है तो आप जाकर दूसरे से चला लीजिए अपने रिश्तेदार से अपने दोस्तों से कि देखो मेरा यह प्रॉब्लम है हम कैसे उसको सुलझाएं या फिर वह लोग जाकर जो आपको प्राइड करें उनको जाकर समझ जाएंगे एक रास्ता निकलेगा आपको है ना तब की भी हत्या के बारे में जरा भी नहीं सोचना चाहिए तुलसी भी नहीं भगवान ने आपको जीवन दिया है ना मनुष्य का जीवन बहुत मुश्किल से मिलता है तो उसको संभाल के रखे सजाके रखना और खुश रहें दुखी ना हो भगवान हमेशा ध्यान रखें अगर आपको बहुत तकलीफ हो रही है ना तो देखी तो आप जरूर कीजिए योगा कीजिए उसमें कोई पैसे पैसे नहीं लगते योगा घर में बैठकर की और अब आधे घंटे बैठकर कम से कम में स्टेशन किया भगवान में नहीं हो जाइए आंखें बंद कीजिए और एकदम ईश्वर को याद कीजिए और अपनी जो भी समस्या है उसे मेश्वर किस्मत की और आधे घंटे या 15 मिनट भी आपको समय से 15 मिनट के लिए भी आंखें बंद करके ईश्वर को समर्पित कर दें उसमें अपने आप को दिखेगी कितना मिलेगा आपको बहुत अच्छा लगेगा और फिर आपको लगेगा कि मन एकदम हल्का हो गया तो किसी भी परेशानी से लड़ने की आप में एक ताकत अंदर से फ्री होगी गलत बात है

aapka prashna hai main purush hoon aur mere man me prastavna ki wajah se atmahatya hi chalte toh mujhe kya karna chahiye mujhe bilkul atmahatya koi rajasthani hota hai aapko pata hai aatma bhatakti aatma tay karne ke baad hum aatma bhatakti hai toh aur bhi zyada kasht hota hai hum toh apne ug1 hai na bhagwan ne do hath do pair di hain toh dimag ki hai sochne ke liye aratiyan dekhne ke liye kaam kar sakte hain apne jeevan ko sudhaar sakte hain jo hum ko pratarit karne ko patra likhkar unse doori banaye jo aap ko pratarit kar rahe tumse dur ho jaiye aur aap purush hai na purush means kya hota hai balwan uska matlab yah hota hai balwan toh apne man ko balwan banaiye sharir ke saath saath man ki bhi mini majbuti laiye aur jo pratarit kar rahe hain unka samana kijiye kyon dar na kisi se ab kyon atmahatya karna atmahatya bahut hi karya log karte hain isliye kayarata bilkul na dikhaen apni puri samasya ya nahi likhe hain ki aap kis wajah se pratarit ho rahe hain aur kaun aapko pata hi kar raha hai toh agar aapko koi pratarit kar raha hai toh iski aapko please BP hai aap complaint kar sakte hain ki aap ko pratarit kiya ja raha hai ya jo bhi pratarit kar raha hoon aapke ghar me log kar rahe ho bahar ke log karte ho toh aapki karj lekar rakha ho toh log aapko par type kar rahe ho aapne kisi kaam se toh aap toh aap apne government job yogi hai dm hai unse mile bahut saare raste hote hain sex samadhan bahut jaate hain aap bus unke samadhan ko dhundhiye atmahatya karne koi samadhan nahi hota hai aap kya karne ke baad ab na bhatke gay toh usme aap likhna kyon kar liya lekin kuch nahi bacha hai aap phir se aap apne manushya ke jeevan me nahi aa sakte hain kabhi apna ek pustak padhi aatma par vaah kitna zyada main bhi naam liya pad raha hai main aapko bataungi ki itna apne aatma bahut takleef me rehti hai pyasi rehti hai bahut zyada takleef me rehti hai hum log nahi samajh me aata hai isliye aap jo hain kabhi bhi aate ke bare me nahi socha apne jeevan ko sudhaarne ka mauka aapko murti milte hain aur apne jeevan ko sudhaarne ke bahut saare raste aapke aaspass jo bhi aapke bahut acche mitra hain ya maa hai dene bhai hain jo bhi humse samasya bhole apni samasya ka samadhan hoga unhi se bole baat kare ki hamko yah dhang se pratarit kiya ja raha hai jo bhi aapne yahan wajah nahi likha hai ki hum toh main aapko clear chali nahi bata paa rahi hoon lekin atmahatya bilkul na kare khaata hai apni jo bhi problem hai usse ladana sake majbuti se ladane ki koshish kare aaj aaj problem hai kal nahi rahegi koi bhi problem permanent nahi rehti ek na ek din bhagwan usse ladane ki himmat rakhte bhagwan rasta bhi nikaal dete hain yah hamesha ek vishwas hai ki ishwar par hamesha vishwas rakhna chahiye apni jo bhi problem hai unko song dijiye vishwas rakhiye aur mehnat kijiye ki aap jo bhi aapko problem hai jo bhi pratarit kar raha hai toh aap jaakar dusre se chala lijiye apne rishtedar se apne doston se ki dekho mera yah problem hai hum kaise usko suljhayain ya phir vaah log jaakar jo aapko pride kare unko jaakar samajh jaenge ek rasta niklega aapko hai na tab ki bhi hatya ke bare me zara bhi nahi sochna chahiye tulsi bhi nahi bhagwan ne aapko jeevan diya hai na manushya ka jeevan bahut mushkil se milta hai toh usko sambhaal ke rakhe sajake rakhna aur khush rahein dukhi na ho bhagwan hamesha dhyan rakhen agar aapko bahut takleef ho rahi hai na toh dekhi toh aap zaroor kijiye yoga kijiye usme koi paise paise nahi lagte yoga ghar me baithkar ki aur ab aadhe ghante baithkar kam se kam me station kiya bhagwan me nahi ho jaiye aankhen band kijiye aur ekdam ishwar ko yaad kijiye aur apni jo bhi samasya hai use meshwar kismat ki aur aadhe ghante ya 15 minute bhi aapko samay se 15 minute ke liye bhi aankhen band karke ishwar ko samarpit kar de usme apne aap ko dikhegi kitna milega aapko bahut accha lagega aur phir aapko lagega ki man ekdam halka ho gaya toh kisi bhi pareshani se ladane ki aap me ek takat andar se free hogi galat baat hai

आपका प्रश्न है मैं पुरुष हूं और मेरे मन में प्रस्तावना की वजह से आत्महत्या ही चलाते तो मुझ

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  725
WhatsApp_icon
user

Narshi Ram Aazad

Agriculture Expert Or Motivational Speaker

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी आप एक पुरुष है और अगर आप की प्रताड़ना की वजह से आकर आत्महत्या की ख्याल आते तो सबसे पहले तो मैं चीज आपको क्लियर कर दूं आप एक पुरुष है और पुरुष होता है जो समाज का और देश का सबसे बड़ा व्यक्ति होता है और पुरुष प्रधान देश की मरा कहा जाता है तो ऐसे पुरुषों को इंसान को कभी हिम्मत नहीं आनी चाहिए कई बार होता सिचुएशन हमारे को ऑपोजिट हो जाती है जिसमें कि हम कुछ सिचुएशन को हैंडल नहीं कर पाते लेकिन उस स्थिति में हमें कहीं ना कहीं यह कुछ एक्स्ट्रा जोक्स पोजिटिव चीजें होती केवल उन्हीं के बारे में सोचना चाहिए जैसे प्रताड़ना की स्थिति उत्पन्न होती है तब उसमें आप पीछे के जो आपके अनुभव है जो आपके अच्छे अनुभव है उन लाखों लोगों को इस अनुभव को याद कीजिए अगर आप ऐसा करते हैं क्योंकि कई बार जैसे अभी आपकी क्रीटेड केलो स्टेज है आपको पता नहीं किया जा सकता है आज से 1 मंथ पहले 2 मिनट पहले या छह सिक्स मंथ पहले जो है आपके साथ बहुत अच्छा अभी हुआ हो या आपके साथ बहुत अच्छी चीज हुई हो तो ऐसी स्थिति में आप पुरानी चीजों को जो अच्छी चीजें हुए को याद कीजिए और आप अपनी एबिलिटी को देखिए आप देखिए कि आप इस धरती पर आए हैं आप एक पुरुष हैं और आप इस क्या कुछ कर सकते आप की अपार क्षमता है जिसको आप पहचान नहीं पा रहे तो उस अपनी क्षमताओं को पहचानिए और पता लिखिए छोटी चीजें होती है हमें एक लो प्ले दो करते हैं कई बार हमें ऐसे लगता कि हमें आसपास के सभी लोग प्रताड़ित करते हैं हमें अपने मन से अपने अंदर की ज्योति ज्योति उस आत्मीयता को खोजना होता है अगर आप अपने आप को अपने आप की खोज कर लेते हो तो आपको यह चीजें बिल्कुल छोटी लगने लग गई प्रताड़ना वगैरह कुछ ऐसा नहीं है तो आप एक सफल पुरुष है और एक अच्छे इंसान हैं कोई दिक्कत नहीं ऐसी चीजें घबराना नहीं चाहिए और आपको एक अच्छे पेड़ को में और अच्छी पॉजिटिव थिंक के साथ आगे बढ़ना चाहिए

dekhi aap ek purush hai aur agar aap ki prataadana ki wajah se aakar atmahatya ki khayal aate toh sabse pehle toh main cheez aapko clear kar doon aap ek purush hai aur purush hota hai jo samaj ka aur desh ka sabse bada vyakti hota hai aur purush pradhan desh ki mara kaha jata hai toh aise purushon ko insaan ko kabhi himmat nahi aani chahiye kai baar hota situation hamare ko opposite ho jaati hai jisme ki hum kuch situation ko handle nahi kar paate lekin us sthiti me hamein kahin na kahin yah kuch extra jokes pojitiv cheezen hoti keval unhi ke bare me sochna chahiye jaise prataadana ki sthiti utpann hoti hai tab usme aap peeche ke jo aapke anubhav hai jo aapke acche anubhav hai un laakhon logo ko is anubhav ko yaad kijiye agar aap aisa karte hain kyonki kai baar jaise abhi aapki krited kelo stage hai aapko pata nahi kiya ja sakta hai aaj se 1 month pehle 2 minute pehle ya cheh six month pehle jo hai aapke saath bahut accha abhi hua ho ya aapke saath bahut achi cheez hui ho toh aisi sthiti me aap purani chijon ko jo achi cheezen hue ko yaad kijiye aur aap apni ability ko dekhiye aap dekhiye ki aap is dharti par aaye hain aap ek purush hain aur aap is kya kuch kar sakte aap ki apaar kshamta hai jisko aap pehchaan nahi paa rahe toh us apni kshamataon ko pehchaniye aur pata likhiye choti cheezen hoti hai hamein ek lo play do karte hain kai baar hamein aise lagta ki hamein aaspass ke sabhi log pratarit karte hain hamein apne man se apne andar ki jyoti jyoti us atmiyata ko khojana hota hai agar aap apne aap ko apne aap ki khoj kar lete ho toh aapko yah cheezen bilkul choti lagne lag gayi prataadana vagera kuch aisa nahi hai toh aap ek safal purush hai aur ek acche insaan hain koi dikkat nahi aisi cheezen ghabrana nahi chahiye aur aapko ek acche ped ko me aur achi positive think ke saath aage badhana chahiye

देखी आप एक पुरुष है और अगर आप की प्रताड़ना की वजह से आकर आत्महत्या की ख्याल आते तो सबसे पह

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  321
WhatsApp_icon
user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो आपका प्रश्न है मैं खुश हूं और मेरे मन में प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के चलाते हैं तो मुझे क्या करना चाहिए आप ऐसे अकेले नहीं है मेरे पास कई लोगों के फोन आते हैं अपनी कुंडली दिखाने के लिए और वह जब वह कुंडली दिखाते हैं उस बीच में भी उम्र को बता देते हैं उसके बाद में भी जब रेगुलर होता है तो ऐसा लगता है जिंदगी कोई मतलब नहीं है इसके लिए मैं काम कर रहा हूं क्यों करूं जब मैं खुश नहीं हूं मुझे कोई समझने वाला ही नहीं जिंदगी में तो किसके लिए करूं सच बात है लेकिन बस इतना बात मत चला रहा है तो सिर्फ अपने बारे में सोच और यह सोचिए आपके जो माधव माता-पिता हैं उनके जो पहले थे उनका क्या संबंध था समाज के अंदर आपके परिवार का क्या संबंध था अपने परिवार के लिए भी हैं आप बाहर में कितने बच्चे हैं जो अनाथ हो लोग उनकी और यदि नहीं आप पर शहर हो रहा तो आप सेपरेट हो जाएं तलाक ले ले लेकिन यह जिंदगी है खूबसूरत जिंदगी जिंदगी जिंदगी इसको खत्म नहीं करना किसी किसी कॉलेज के चक्कर में कभी भी सोच लें आत्महत्या नहीं इसको किसी तरह हर्ट नहीं करना कहीं लोग हजारों लोग हजारों लोगों आप क्योंकि आदमी की दिक्कत क्या होती है वह क्लेश नहीं सेंड कर सकते इसलिए इस तरह का विचार अपने मन से निकाले धन्यवाद

hello aapka prashna hai main khush hoon aur mere man me prataadana ki wajah se atmahatya ke chalte hain toh mujhe kya karna chahiye aap aise akele nahi hai mere paas kai logo ke phone aate hain apni kundali dikhane ke liye aur vaah jab vaah kundali dikhate hain us beech me bhi umar ko bata dete hain uske baad me bhi jab regular hota hai toh aisa lagta hai zindagi koi matlab nahi hai iske liye main kaam kar raha hoon kyon karu jab main khush nahi hoon mujhe koi samjhne vala hi nahi zindagi me toh kiske liye karu sach baat hai lekin bus itna baat mat chala raha hai toh sirf apne bare me soch aur yah sochiye aapke jo madhav mata pita hain unke jo pehle the unka kya sambandh tha samaj ke andar aapke parivar ka kya sambandh tha apne parivar ke liye bhi hain aap bahar me kitne bacche hain jo anath ho log unki aur yadi nahi aap par shehar ho raha toh aap separate ho jayen talak le le lekin yah zindagi hai khoobsurat zindagi zindagi zindagi isko khatam nahi karna kisi kisi college ke chakkar me kabhi bhi soch le atmahatya nahi isko kisi tarah heart nahi karna kahin log hazaro log hazaro logo aap kyonki aadmi ki dikkat kya hoti hai vaah kalesh nahi send kar sakte isliye is tarah ka vichar apne man se nikale dhanyavad

हेलो आपका प्रश्न है मैं खुश हूं और मेरे मन में प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के चलाते हैं

Romanized Version
Likes  158  Dislikes    views  1524
WhatsApp_icon
user
1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने एक ख्याल छोड़ दे आत्मविश्वास को साथ ले मालन करें ध्यान करें ईश्वर का भजन करें ओम का जाप करें मन सकारात्मक ओबामा का जाप करें और गायत्री मंत्र का जाप करें आपका सकारात्मक उर्जा के अंदर आती थी प्रतीत होगी और पिछला सब कुछ भूल गया कुछ याद रख कर वर्तमान में अपने आप को रखते हुए वर्तमान में देखें और एक कदम आगे बढ़ाए वन्य संरक्षण से बहुत सुंदर है चुनौतीपूर्ण है और भगवान ने जन्म दिया है तो हमें देना चाहिए उसका कोई न कोई उद्देश्य केवल के पीछे होता है हो सकता है वह आपसे भी कुछ काम करवाना चाहते हैं मरने से नहीं सोचे मरना तो 1 दिन सभी को है जीने की सोचें और संघर्षों का सामना करें

apne ek khayal chhod de aatmvishvaas ko saath le malan kare dhyan kare ishwar ka bhajan kare om ka jaap kare man sakaratmak obama ka jaap kare aur gayatri mantra ka jaap kare aapka sakaratmak urja ke andar aati thi pratit hogi aur pichla sab kuch bhool gaya kuch yaad rakh kar vartaman me apne aap ko rakhte hue vartaman me dekhen aur ek kadam aage badhae vanya sanrakshan se bahut sundar hai chunautipurn hai aur bhagwan ne janam diya hai toh hamein dena chahiye uska koi na koi uddeshya keval ke peeche hota hai ho sakta hai vaah aapse bhi kuch kaam karwana chahte hain marne se nahi soche marna toh 1 din sabhi ko hai jeene ki sochen aur sangharshon ka samana kare

अपने एक ख्याल छोड़ दे आत्मविश्वास को साथ ले मालन करें ध्यान करें ईश्वर का भजन करें ओम का ज

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  506
WhatsApp_icon
user

Atul Roy

Family Counsellor (Online & telephonic)

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आत्महत्या के जो ख्याल आते हैं उनसे बचने के लिए आप मेडिटेशन कर सकते हैं सकारात्मक गतिविधि कर सकते हैं और सकारात्मक ऊर्जा शिव से आप जोड़ सकते हैं जैसे कि आध्यात्मिकता की और अब जा सकते हैं और आप उन लोगों की आप किताबें पढ़ सकते हैं जिन्होंने इस जिंदगी में सब कुछ हार कर भी जिंदगी को दोबारा जीने के लिए नए रास्ते खुद बनाए बहुत सारी चीजें हैं जो आपको सही मोड़ पर ला सकती हैं आपको सकारात्मक ऊर्जा दे सकती हैं बेहतर है आपको देखने की टॉप सबसे पहले चिंतन मनन कीजिए कि आखिर आप क्या पढ़ सकते हैं आप कैसे फ्रेंड बना सकते हैं कैसे आपको गुजिया सकारात्मक ऊर्जा के रूप में आपको मिल सकते हैं और यदि आप आवश्यकता समझे तो अब मुझ से भी संपर्क कर सकते हैं मेरा कांटेक्ट नंबर 1987 361 505 पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं

atmahatya ke jo khayal aate hain unse bachne ke liye aap meditation kar sakte hain sakaratmak gatividhi kar sakte hain aur sakaratmak urja shiv se aap jod sakte hain jaise ki aadhyatmikta ki aur ab ja sakte hain aur aap un logo ki aap kitaben padh sakte hain jinhone is zindagi me sab kuch haar kar bhi zindagi ko dobara jeene ke liye naye raste khud banaye bahut saari cheezen hain jo aapko sahi mod par la sakti hain aapko sakaratmak urja de sakti hain behtar hai aapko dekhne ki top sabse pehle chintan manan kijiye ki aakhir aap kya padh sakte hain aap kaise friend bana sakte hain kaise aapko gujiya sakaratmak urja ke roop me aapko mil sakte hain aur yadi aap avashyakta samjhe toh ab mujhse se bhi sampark kar sakte hain mera Contact number 1987 361 505 par whatsapp bhi kar sakte hain

आत्महत्या के जो ख्याल आते हैं उनसे बचने के लिए आप मेडिटेशन कर सकते हैं सकारात्मक गतिविधि क

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  513
WhatsApp_icon
user

Anju pandey

Social Worker

3:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आत्महत्या करना किसी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकता और अगर आपने धरती पर जन्म लिया है तो आपके लिए बहुत सारे काम हो सकते हैं आपकी वजह से प्रताड़ित है यह मुझे नहीं मालूम और हर इंसान कभी ना कभी कहीं ना कहीं किसी ना किसी तरह से प्रताड़ित जरूर होता है कोई ऐसी बात होती है जो दिल पर लग जाती है और हम परेशान हो जाते हैं कभी कभी उस बात को हम अपने अंदर इतना ज्यादा बिठा लेते हैं कि हमें कोई रास्ता नजर नहीं आता आत्महत्या के अलावा पर यह कोई विकल्प नहीं है जीवन सिर्फ एक बार मिलता है उसको पूरी तरह से जीना चाहिए बहुत सारी वजह हो सकती है कोई बात नहीं पर हर अंधेरी रात के बाद अच्छी सुबह भी तो होती है और हमें उस सुबह का इंतजार करना चाहिए एक बार एक संत के पास एक बहुत बड़े घर की महिला आई और उसने कहा कि मेरे पास सब कुछ है भगवान का दिया पर मैं खुश नहीं हूं मेरा मन करता है कि मैं आत्महत्या कर लूं सत ने कहा कि उनके आश्रम में एक लेडी झाड़ू लगा रही थी जो बिल्कुल मलीन हालत में थी आप उससे मिल लो भूत के पास जब गई तो उसने कहा कि आप इतने दिन अवस्था में है वह फटी साड़ी पहनी हुई है फिर भी झाड़ू लगा रही हूं और गाना गा रही है भजन कर रही है इसका क्या कारण है आप इतनी खुश कैसे रह सकती है इस अवस्था में तुलसी बोला कि और कुछ साल पहले मेरे साथ भी बहुत बड़ी प्रॉब्लम थी मेरा पति मुझे यह शराब पीता था मारता था और ऐसे करके बहुत प्रताड़ित करता था कुछ दिन बाद उसका देहांत हो गया एक मेरा बेटा था आप एक रोड एक्सीडेंट में उसकी मृत्यु हो गई मैंने सोचा कि अब मैं जीकर क्या करूंगी मुझे भी मर जाना चाहिए तो मैं भी आत्महत्या करने निकल पड़े पर जब आत्महत्या करने जा रही थी तो मेरे दरवाजे पर एक बिल्ली आ गई और बिल्ली को देखते ही मैंने सोचा कि मैं तो मरने की जा रही हूं यह दूध रखा है क्यों ना बिल्ली को दे दो बिल्ली को उसने जब बहुत दिया तो बिल्ली ने जब दूध पीकर जो चेहरा बनाया उसको देखकर उस महिला को लगा कि कितनी आत्म संतुष्टि से उसने दूध पिया और वह कितनी खुश थी दिख रही थी तो उस बिल्ली के चेहरे का भाव देखकर उसने आत्महत्या का ख्याल त्याग दिया उसने मन से निकाल दिया उसने सोचा कि एक छोटी सी हेल्प करके मदद करके मेरे अंदर इतनी संतुष्टि आ गई तो क्यों ना मैं किसी और को खुशियां दूं तो इसलिए दूसरों को खुश रखने में दूसरों को खुशियां देने में दूसरों के लिए कुछ सेवा करने में जो अपने अंदर आत्म संतुष्टि आती है उस भाव से उसने आत्महत्या का त्याग कर दिया तो इसलिए जीवन में बहुत सारे रास्ते आपको मिलेंगे प्रभु जब एक रास्ता बंद करता है तो चार खोल नहीं देता है तो मैं तो यही कहूंगी कि आपको अपना या अपने लिए कुछ ऐसा काम होना चाहिए अपना मन किसी ऐसी जगह पर लगाना चाहिए कुछ ऐसा काम करो जिससे आपको खुशी मिले आपको संतोष मिले आनंद मिले और जब आप खुद से खुश रहेंगे अपने आपको खुश रखेंगे तो आप पूरी दुनिया को खुश रख सकते हैं तो सबसे पहले आपको यह सोचना होगा कि आपको क्या करना अच्छा लगता है आपको किस चीज में खुशी मिलती है कौन सा ऐसा काम है कौन सी ऐसी बात है क्या ऐसा करो कि हां मुझे अच्छा लगता है तो इसलिए पहले अपने आप से बात कीजिए एकांत में बैठकर आत्म मंथन कीजिए और सोचिए कि आपको क्या करना है बहुत सारे रास्ते दुनिया में मिलेंगे बहुत सारे लोग आपको मिलेंगे और जीवन बहुत अच्छा है तो कृपया अपने जीवन को बहुत अच्छे से बताइए आनंदपुर में बताइए

dekhiye atmahatya karna kisi bhi samasya ka samadhan nahi ho sakta aur agar aapne dharti par janam liya hai toh aapke liye bahut saare kaam ho sakte hain aapki wajah se pratarit hai yah mujhe nahi maloom aur har insaan kabhi na kabhi kahin na kahin kisi na kisi tarah se pratarit zaroor hota hai koi aisi baat hoti hai jo dil par lag jaati hai aur hum pareshan ho jaate hain kabhi kabhi us baat ko hum apne andar itna zyada bitha lete hain ki hamein koi rasta nazar nahi aata atmahatya ke alava par yah koi vikalp nahi hai jeevan sirf ek baar milta hai usko puri tarah se jeena chahiye bahut saari wajah ho sakti hai koi baat nahi par har andheri raat ke baad achi subah bhi toh hoti hai aur hamein us subah ka intejar karna chahiye ek baar ek sant ke paas ek bahut bade ghar ki mahila I aur usne kaha ki mere paas sab kuch hai bhagwan ka diya par main khush nahi hoon mera man karta hai ki main atmahatya kar loon sat ne kaha ki unke ashram me ek lady jhadu laga rahi thi jo bilkul malin halat me thi aap usse mil lo bhoot ke paas jab gayi toh usne kaha ki aap itne din avastha me hai vaah fati saree pahani hui hai phir bhi jhadu laga rahi hoon aur gaana jaayega rahi hai bhajan kar rahi hai iska kya karan hai aap itni khush kaise reh sakti hai is avastha me tulsi bola ki aur kuch saal pehle mere saath bhi bahut badi problem thi mera pati mujhe yah sharab pita tha maarta tha aur aise karke bahut pratarit karta tha kuch din baad uska dehant ho gaya ek mera beta tha aap ek road accident me uski mrityu ho gayi maine socha ki ab main jeekar kya karungi mujhe bhi mar jana chahiye toh main bhi atmahatya karne nikal pade par jab atmahatya karne ja rahi thi toh mere darwaze par ek billi aa gayi aur billi ko dekhte hi maine socha ki main toh marne ki ja rahi hoon yah doodh rakha hai kyon na billi ko de do billi ko usne jab bahut diya toh billi ne jab doodh peekar jo chehra banaya usko dekhkar us mahila ko laga ki kitni aatm santushti se usne doodh piya aur vaah kitni khush thi dikh rahi thi toh us billi ke chehre ka bhav dekhkar usne atmahatya ka khayal tyag diya usne man se nikaal diya usne socha ki ek choti si help karke madad karke mere andar itni santushti aa gayi toh kyon na main kisi aur ko khushiya doon toh isliye dusro ko khush rakhne me dusro ko khushiya dene me dusro ke liye kuch seva karne me jo apne andar aatm santushti aati hai us bhav se usne atmahatya ka tyag kar diya toh isliye jeevan me bahut saare raste aapko milenge prabhu jab ek rasta band karta hai toh char khol nahi deta hai toh main toh yahi kahungi ki aapko apna ya apne liye kuch aisa kaam hona chahiye apna man kisi aisi jagah par lagana chahiye kuch aisa kaam karo jisse aapko khushi mile aapko santosh mile anand mile aur jab aap khud se khush rahenge apne aapko khush rakhenge toh aap puri duniya ko khush rakh sakte hain toh sabse pehle aapko yah sochna hoga ki aapko kya karna accha lagta hai aapko kis cheez me khushi milti hai kaun sa aisa kaam hai kaun si aisi baat hai kya aisa karo ki haan mujhe accha lagta hai toh isliye pehle apne aap se baat kijiye ekant me baithkar aatm manthan kijiye aur sochiye ki aapko kya karna hai bahut saare raste duniya me milenge bahut saare log aapko milenge aur jeevan bahut accha hai toh kripya apne jeevan ko bahut acche se bataiye anandpur me bataiye

देखिए आत्महत्या करना किसी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकता और अगर आपने धरती पर जन्म लिया ह

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
user

Gyandeep Kkr

Social Activist

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह आत्महत्या भूलकर भी ना सोचे करने की क्योंकि हम जब परेशान हो जाते हैं तो अगर मन में ऐसा आता भी है तो यह बहुत गलत बात है क्योंकि आत्महत्या करने के बाद जी की परेशानी खत्म नहीं होती बल्कि और भी बढ़ जाती है क्योंकि जीवित रहने पर आप उसका सलूशन खोज सकते हैं इसी धरती पर जो मरने के बाद नहीं मिल सकता मरने के बाद कोई वह चीज माफ नहीं हो जाती बल्कि आपको अपने कर्म का दंड जो और भी होता है वह भी भोगना पड़ता है और इसके लिए आप ऐसे कर सकते हैं एक सच्चे आध्यात्मिक संत की शरण में जा सकते हैं उसकी आप खोज ऐसे कर सकते मैं आपको एक पोस्ट करती हूं यह मैंने खुद पड़ी है इसमें सामाजिक आध्यात्मिक हर ट्रांसलेट प्रमाण के गीत ज्ञान है और लोगों को क्या लाभ हुए हैं वर्तमान में उसके भी प्रमाण हैं कई आत्महत्या की सोचते हैं परमात्मा न्यू को कैसे जीवन बदल दिया यह भी आप जाने कि आप इसको फ्री में प्राप्त कर सकते हैं परंतु लॉक डाउन के कारण अभी क्रोम में सर्च कीजिए जीने की राह पुस्तक है लिखिए क्रोम में डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू डॉट एस यू पी आर ई एम ई जी ओ जी डॉट ओआरजी वेबसाइट खुल जाएगी और राइट साइड में टॉप में तीन लेटी हुई है उस पर क्लिक कीजिए सारे ऑप्शन आएंगे पब्लिकेशन पर क्लिक कीजिए और जब ऑप्शन खुल जाएंगे तो जीने की राह पुस्तक पर क्लिक कीजिए डाउनलोड होकर कुछ ही देर में सामने आ जाएगी और बाद में भी आप इसको देख सकते हैं फाइल मैनेजर डाउनलोड में यह पुस्तक जरूर पढ़ें और यह आत्महत्या करनी है परमात्मा की पुस्तक के द्वारा जान सकते हैं और वर्तमान में प्रमाण भी देख सकते हैं लोगों से बात भी कर सकती है आपको हर लिहाज से पुस्तक पढ़ने के लिए

yah atmahatya bhulkar bhi na soche karne ki kyonki hum jab pareshan ho jaate hain toh agar man me aisa aata bhi hai toh yah bahut galat baat hai kyonki atmahatya karne ke baad ji ki pareshani khatam nahi hoti balki aur bhi badh jaati hai kyonki jeevit rehne par aap uska salution khoj sakte hain isi dharti par jo marne ke baad nahi mil sakta marne ke baad koi vaah cheez maaf nahi ho jaati balki aapko apne karm ka dand jo aur bhi hota hai vaah bhi bhogna padta hai aur iske liye aap aise kar sakte hain ek sacche aadhyatmik sant ki sharan me ja sakte hain uski aap khoj aise kar sakte main aapko ek post karti hoon yah maine khud padi hai isme samajik aadhyatmik har translate pramaan ke geet gyaan hai aur logo ko kya labh hue hain vartaman me uske bhi pramaan hain kai atmahatya ki sochte hain paramatma new ko kaise jeevan badal diya yah bhi aap jaane ki aap isko free me prapt kar sakte hain parantu lock down ke karan abhi chrome me search kijiye jeene ki raah pustak hai likhiye chrome me w w w dot S you p R E M E ji O ji dot ORG website khul jayegi aur right side me top me teen leti hui hai us par click kijiye saare option aayenge publication par click kijiye aur jab option khul jaenge toh jeene ki raah pustak par click kijiye download hokar kuch hi der me saamne aa jayegi aur baad me bhi aap isko dekh sakte hain file manager download me yah pustak zaroor padhen aur yah atmahatya karni hai paramatma ki pustak ke dwara jaan sakte hain aur vartaman me pramaan bhi dekh sakte hain logo se baat bhi kar sakti hai aapko har lihaj se pustak padhne ke liye

यह आत्महत्या भूलकर भी ना सोचे करने की क्योंकि हम जब परेशान हो जाते हैं तो अगर मन में ऐसा आ

Romanized Version
Likes  143  Dislikes    views  556
WhatsApp_icon
user
5:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बुखार उतारने की वजह से आत्महत्या के ख्याल आता है तो मैं क्या करूं महिलाओं पूछा तो पूनम के लिए है लेकिन किसी को किसी के लिए प्रताड़ित मतलब कोई किसी को पता नहीं कर सकता सीधी सी बात है आप बुलाया है फिर भी आपको कोई नहीं कर सकता कि आपको कोई प्रताड़ित करें किसी भी तरीके की खराब स्थिति चल रही होती बहुत बुरी बस जली हो तो दूसरों में चले जाते हैं टूट जाते हैं कि मुझे नहीं करना मुझे नहीं जीना मानसिक संतुलन जो है थोड़ा गड़बड़ आ जाता है कमजोर हो जाता है दिमाग में जो है हमारा चित्र भीतर हो जाता है और हमें गलत भावनाएं आने लगती है कि मुझे क्यों जिंदा रहे हैं ठीक है एकमात्र उपाय है तो सबसे पहले तो मैं यहां पर डॉक्टर के पास जाएंगे काउंसलिंग व्यक्ति भी अपनी जिंदगी में कोई प्रॉब्लम नहीं होती बात कही जाती है कि सबसे पहले जो नेगेटिव नहीं कराते आत्मविश्वास मनोबल आपका थोड़े से सबसे पहले उनसे दूर हुई भी पॉसिबल जितना हो सके ठीक है उनसे दूर हुए लोगों से दूर दूर नहीं रह सकते किसी भी कारण तो उनसे वार्तालाप कम कीजिए आप ऐसे लोगों से मिले और बात कीजिए जो लोग आपको अच्छा खेलकर आते हैं एक इंसानियत के तौर पर इंसान से बात करते हैं ना कि आपको कुछ भी उल्टा सीधा बोलते हैं ठीक है फिर बात करते हैं उनसे बात कीजिए और अपनी दूसरी चीज नहीं कहूंगी जिस पर जा थाना के पीछे कुछ भेजा था अगर आपकी लाइफ में हैं जैसे कि आप किसी के लिए किसी के पास घर के सुपर गाड़ी करते हैं तो भगवान नगर आप को सही सलामत रखा है ईश्वर की दया से आप सही सलामत हाथों से सहमत हैं तो सबसे पहले आप अपने पैरों पर खड़े हुए और अपना कुछ चीजें जब आप अपना कुछ करेंगे तो दूसरों के ऊपर से जो कोडिपेंडेंसी है वो खत्म हो जाएगी के पैसों के लिए करो किसी के लिए अपने ऊपर काम कीजिए ठीक है दूसरी चीज अगर आप अपने ऊपर काम करेंगे आपके पास पैसे आप दूसरों को पर किसी तरह से डिपेंड नहीं है तो डेफिनेटली आप रहेंगे नहीं वहां पर जहां पर आपको इतना प्रताड़ित किया जा रहा है कि आप मतलब आत्महत्या की सोचते हैं तो वहां पर क्यों रह रहे हैं आप वहां से एक डॉक्टर भी बताएगा कैसी परिस्थितियों से दूर है दूसरी चीज़ अपनी दिनचर्या को ठीक कीजिए ठीक है और योग योग कर सकते हैं जो बहुत अच्छा रहता है जब हम चारों में चले जाते हैं उससे बाहर निकलने के लिए अपनी लाइफ को फील करने के लिए वापस अपने आपको प्रिपेयर करने के लिए अपने ऊपर काम कीजिए कि वह अपनी हेल्थ पर हो मेडिटेशन हो सब कुछ करिए ठीक है दूसरी चीज हम इतना हक टूट जाते हैं किसी के कहने पर प्रताड़ित की बात की गई है ना परियों के बाद मुझे यहां पर प्रताड़ना के बाद प्रताड़ित किए जाने से हम इतना हक टूट जाते हैं और बाहर नहीं जब हमको लगता है कि हम अच्छे हैं सामने वाला कह रहा है कि तुम अच्छे हो तो हम सोचते हैं अच्छे हैं और सामने वाला कह रहा है कि तुम बुरे हो तो हम कहते हैं कि तुम बुरे हो हम बुरे हैं ठीक है यह वाली के सामने वाले के हिसाब से खुद को जज करने लगते हैं और सामने वाले कभी हमें अगर अच्छे लोग हमारी लाइफ में नहीं है तू अभी कभी नहीं कहने वाले हो जबकि झाइयां बुराइयां दोनों के अंदर होती है जो इंसान अच्छा होगा आपका भला चाहेगा वाक्य बुराइयों को बुराइयां कहेगा तो अच्छाइयों को छाया भी करेगा अच्छा करेगा तू कोडिपेंडेंसी है जिस वजह से आपको परेशान किया जाता है प्रताड़ित किया जाता है उसे खत्म कीजिए ठीक है और खुद पर काम कीजिए ऐसे दो लोगों से दूर रहिए और दूसरी चीज अपने अंदर स्टील अपने अंदर सील गुड जो होता है अच्छे थिंकिंग दूसरों के साथ मत बनाइए जब दूसरे आपको अच्छा कहें तब आप अच्छा महसूस कीजिए जब हमें सबसे ज्यादा कोई तोड़ देता या नहीं दूसरों के कहने पर हमको हमारे पर ज्यादा असर पड़ने लगता है तभी हम सौरव में जाते हैं क्योंकि आप ही मान के चलिए क्या आप अकेले ससुर लोग हैं जिनके हाथ पर सब कट जाते हैं और फिर भी वह लाइफ में कुछ कर लेते हैं यह मेरा दिल है और कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनका जो सब कुछ उनके पास हाथ पैर सब सलाम तुमको एक छोटी सी बात कोई बोल देता है उधर चले जाते हैं रास्ते के लिए आते घर से चले आते हमें लगता है कि यह हमें कुछ अच्छा बोलेगा तभी हम खुशी महसूस करेंगे बुरा बोल दिया अब हम क्या करें यार हम तो बुरे हैं इस हद तक तो मुझे मेंटल प्रताड़ना हो यानी कि मानसिक तौर पर आपको कोई फालतू ताने दे रहा है आपके शरीर को लेकर आपके काम को लेकर इतना ज्यादा बोल रहा है जो भी दिन कुछ भी हो सकता है वह भी इतना जहां पर प्रताड़ित किया गया जहां पर इतना को लग रहा है कि मैं आत्महत्या कर लूं

bukhar utarane ki wajah se atmahatya ke khayal aata hai toh main kya karu mahilaon poocha toh poonam ke liye hai lekin kisi ko kisi ke liye pratarit matlab koi kisi ko pata nahi kar sakta seedhi si baat hai aap bulaya hai phir bhi aapko koi nahi kar sakta ki aapko koi pratarit kare kisi bhi tarike ki kharab sthiti chal rahi hoti bahut buri bus jali ho toh dusro me chale jaate hain toot jaate hain ki mujhe nahi karna mujhe nahi jeena mansik santulan jo hai thoda gadbad aa jata hai kamjor ho jata hai dimag me jo hai hamara chitra bheetar ho jata hai aur hamein galat bhaavnaye aane lagti hai ki mujhe kyon zinda rahe hain theek hai ekmatra upay hai toh sabse pehle toh main yahan par doctor ke paas jaenge kaunsaling vyakti bhi apni zindagi me koi problem nahi hoti baat kahi jaati hai ki sabse pehle jo Negative nahi karate aatmvishvaas manobal aapka thode se sabse pehle unse dur hui bhi possible jitna ho sake theek hai unse dur hue logo se dur dur nahi reh sakte kisi bhi karan toh unse vartalaap kam kijiye aap aise logo se mile aur baat kijiye jo log aapko accha khelkar aate hain ek insaniyat ke taur par insaan se baat karte hain na ki aapko kuch bhi ulta seedha bolte hain theek hai phir baat karte hain unse baat kijiye aur apni dusri cheez nahi kahungi jis par ja thana ke peeche kuch bheja tha agar aapki life me hain jaise ki aap kisi ke liye kisi ke paas ghar ke super gaadi karte hain toh bhagwan nagar aap ko sahi salamat rakha hai ishwar ki daya se aap sahi salamat hathon se sahmat hain toh sabse pehle aap apne pairon par khade hue aur apna kuch cheezen jab aap apna kuch karenge toh dusro ke upar se jo kodipendensi hai vo khatam ho jayegi ke paison ke liye karo kisi ke liye apne upar kaam kijiye theek hai dusri cheez agar aap apne upar kaam karenge aapke paas paise aap dusro ko par kisi tarah se depend nahi hai toh definetli aap rahenge nahi wahan par jaha par aapko itna pratarit kiya ja raha hai ki aap matlab atmahatya ki sochte hain toh wahan par kyon reh rahe hain aap wahan se ek doctor bhi batayega kaisi paristhitiyon se dur hai dusri cheez apni dincharya ko theek kijiye theek hai aur yog yog kar sakte hain jo bahut accha rehta hai jab hum charo me chale jaate hain usse bahar nikalne ke liye apni life ko feel karne ke liye wapas apne aapko prepare karne ke liye apne upar kaam kijiye ki vaah apni health par ho meditation ho sab kuch kariye theek hai dusri cheez hum itna haq toot jaate hain kisi ke kehne par pratarit ki baat ki gayi hai na pariyon ke baad mujhe yahan par prataadana ke baad pratarit kiye jaane se hum itna haq toot jaate hain aur bahar nahi jab hamko lagta hai ki hum acche hain saamne vala keh raha hai ki tum acche ho toh hum sochte hain acche hain aur saamne vala keh raha hai ki tum bure ho toh hum kehte hain ki tum bure ho hum bure hain theek hai yah wali ke saamne waale ke hisab se khud ko judge karne lagte hain aur saamne waale kabhi hamein agar acche log hamari life me nahi hai tu abhi kabhi nahi kehne waale ho jabki jhaiyan buraiyan dono ke andar hoti hai jo insaan accha hoga aapka bhala chahega vakya buraiyon ko buraiyan kahega toh acchhaiyon ko chhaya bhi karega accha karega tu kodipendensi hai jis wajah se aapko pareshan kiya jata hai pratarit kiya jata hai use khatam kijiye theek hai aur khud par kaam kijiye aise do logo se dur rahiye aur dusri cheez apne andar steel apne andar seal good jo hota hai acche thinking dusro ke saath mat banaiye jab dusre aapko accha kahein tab aap accha mehsus kijiye jab hamein sabse zyada koi tod deta ya nahi dusro ke kehne par hamko hamare par zyada asar padane lagta hai tabhi hum saurav me jaate hain kyonki aap hi maan ke chaliye kya aap akele sasur log hain jinke hath par sab cut jaate hain aur phir bhi vaah life me kuch kar lete hain yah mera dil hai aur kuch log aise hote hain jinka jo sab kuch unke paas hath pair sab salaam tumko ek choti si baat koi bol deta hai udhar chale jaate hain raste ke liye aate ghar se chale aate hamein lagta hai ki yah hamein kuch accha bolega tabhi hum khushi mehsus karenge bura bol diya ab hum kya kare yaar hum toh bure hain is had tak toh mujhe mental prataadana ho yani ki mansik taur par aapko koi faltu tane de raha hai aapke sharir ko lekar aapke kaam ko lekar itna zyada bol raha hai jo bhi din kuch bhi ho sakta hai vaah bhi itna jaha par pratarit kiya gaya jaha par itna ko lag raha hai ki main atmahatya kar loon

बुखार उतारने की वजह से आत्महत्या के ख्याल आता है तो मैं क्या करूं महिलाओं पूछा तो पूनम के

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  82
WhatsApp_icon
user

Dr. Vikas Bhatheja

Psychologist

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे दोस्त सबसे पहले मैं आपको बता दूं कि आत्महत्या कोई विकल्प नहीं है आपकी प्रताड़ना किस वजह से है आपको कौन परेशान कर रहा है यह बातें अभी स्पष्ट नहीं है लेकिन यह मैं जरूर कहूंगा कि आत्महत्या कोई विकल्प नहीं है मैं आपसे एक चीज की अपेक्षा रखता हूं कि आप अपनी चीजों को एक बार फिर देखें खुले मन से देखें सकारात्मक रूप से देखें देखें क्या वजह है जिससे परेशानी हो रही है उन चीजों को दूर करने की कोशिश करें जिससे परेशानियां दूर हो रही है और जहां जिसकी मदद हो परिवार की समाज की या किसी डॉक्टर की तो जरूर लें लेकिन आत्महत्या का ख्याल भी अपने मन से निकाल दे

mere dost sabse pehle main aapko bata doon ki atmahatya koi vikalp nahi hai aapki prataadana kis wajah se hai aapko kaun pareshan kar raha hai yah batein abhi spasht nahi hai lekin yah main zaroor kahunga ki atmahatya koi vikalp nahi hai main aapse ek cheez ki apeksha rakhta hoon ki aap apni chijon ko ek baar phir dekhen khule man se dekhen sakaratmak roop se dekhen dekhen kya wajah hai jisse pareshani ho rahi hai un chijon ko dur karne ki koshish kare jisse pareshaniya dur ho rahi hai aur jaha jiski madad ho parivar ki samaj ki ya kisi doctor ki toh zaroor le lekin atmahatya ka khayal bhi apne man se nikaal de

मेरे दोस्त सबसे पहले मैं आपको बता दूं कि आत्महत्या कोई विकल्प नहीं है आपकी प्रताड़ना किस व

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
user

Dr. KRISHNA CHANDRA

Rehabilitation Psychologist

0:36
Play

Likes  988  Dislikes    views  17386
WhatsApp_icon
user

Dr.Mitali Jha

Psychologist

2:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले हमें यह जाने की जरूरत है कि बताना है क्या पूरी है या स्त्री फर्क नहीं पड़ता अगर हम दुख में दुखी होना सीख जाता है तो बताना मेरे साथ बनी रहती है फर्क नहीं पड़ता कि हमारा जेंडर क्या है हमारी ताकत कितनी है हमारे पास में क्या-क्या योग्यताएं फर्क नहीं पड़ता प्रताड़ना क्यों ले रहे हैं जब आपको पता है कि वह आपके लिए प्रताड़ना है प्रताड़ना का मतलब जो आपको कष्ट दे रहा है जो आपके मेंटल हेल्थ के लिए अच्छा नहीं है जो आपके अपने दिमागी संतुलन के लिए अच्छा नहीं है जब हमें पता है कि वह प्रताड़ना है तो उससे बाहर निकलिए आत्महत्या क्यों करनी है वह एक इंसान जो भी बताना दे रहा है या वह एक इंसीडेंट जिससे आप बहुत दुखी हो रहे हो इतना ज्यादा बलशाली है कि आप को मार डाले आप इतना कमजोर है अपनी कमजोरी की तरफ फोकस होने की वजह है अपनी ताकत की तरफ खर्च हुए अपने यहां के प्रश्न लिखा है क्योंकि आपको पता है कि जो आप सोच रहे हो सही नहीं है जब चुके हैं आप आगे बढ़ी है और जो भी कोई कितना भी करीबी कितना भी महत्वपूर्ण जिसकी वजह से भी आप कोई तकलीफ हो रही है उससे दूर हो जाए उसे छोड़ दीजिए हम रिश्ते इसलिए नहीं बनाते कि रिश्ते हमें तकलीफ दे सके हम जिस तरह से बनाते हैं कि हम बहुत ज्यादा सपोर्ट सिस्टम के साथ रह सके रिश्ते हमारे लिए होते हैं अगर हमारे लिए नहीं है उस रस्ते को छोड़ देना अच्छा उस परिस्थिति को छोड़ देना अच्छा है जिस परिस्थिति में मैं प्रताड़ित हो रहा हूं सोच लो फिर से देखिए फिर से अपने आप को आप बहुत के प्रबल है आप बहुत योग्य हैं अब बहुत सामर्थ्य माने लाचार कि जिस बात की विशाल की किस बात की दुख में सुख मत ढूंढो दर्द सहने में अपने आप को महान मत समझना दारु को दूर कर के महान बने आप एक मात्र इंसान है तो आप कर सकता है उम्मीद है आप मेरी बात को समझा ऑल द बेस्ट धन्यवाद

sabse pehle hamein yah jaane ki zarurat hai ki batana hai kya puri hai ya stree fark nahi padta agar hum dukh me dukhi hona seekh jata hai toh batana mere saath bani rehti hai fark nahi padta ki hamara gender kya hai hamari takat kitni hai hamare paas me kya kya yogyataen fark nahi padta prataadana kyon le rahe hain jab aapko pata hai ki vaah aapke liye prataadana hai prataadana ka matlab jo aapko kasht de raha hai jo aapke mental health ke liye accha nahi hai jo aapke apne dimagi santulan ke liye accha nahi hai jab hamein pata hai ki vaah prataadana hai toh usse bahar nikliye atmahatya kyon karni hai vaah ek insaan jo bhi batana de raha hai ya vaah ek insident jisse aap bahut dukhi ho rahe ho itna zyada balshali hai ki aap ko maar dale aap itna kamjor hai apni kamzori ki taraf focus hone ki wajah hai apni takat ki taraf kharch hue apne yahan ke prashna likha hai kyonki aapko pata hai ki jo aap soch rahe ho sahi nahi hai jab chuke hain aap aage badhi hai aur jo bhi koi kitna bhi karibi kitna bhi mahatvapurna jiski wajah se bhi aap koi takleef ho rahi hai usse dur ho jaaye use chhod dijiye hum rishte isliye nahi banate ki rishte hamein takleef de sake hum jis tarah se banate hain ki hum bahut zyada support system ke saath reh sake rishte hamare liye hote hain agar hamare liye nahi hai us raste ko chhod dena accha us paristhiti ko chhod dena accha hai jis paristhiti me main pratarit ho raha hoon soch lo phir se dekhiye phir se apne aap ko aap bahut ke prabal hai aap bahut yogya hain ab bahut samarthya maane lachar ki jis baat ki vishal ki kis baat ki dukh me sukh mat dhundho dard sahane me apne aap ko mahaan mat samajhna daaru ko dur kar ke mahaan bane aap ek matra insaan hai toh aap kar sakta hai ummid hai aap meri baat ko samjha all the best dhanyavad

सबसे पहले हमें यह जाने की जरूरत है कि बताना है क्या पूरी है या स्त्री फर्क नहीं पड़ता अगर

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  686
WhatsApp_icon
user

Deepika Bhardwaj

Independent journalist, Documentary filmmaker and Human Rights activist

2:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर पुरुष से जो कि भारत में है और किसी भी तरह की किसी भी तरह की प्रताड़ना का किसी भी तरह की इंजस्टिस कार्य किसी भी तरह के झूठे इंसान का इतिहास महसूस करता है और उनकी मन में आत्महत्या का ख्याल आता है तुमको चाहूंगी कि आज से 15 साल पहले की बात करूं तो शायद 20 साल पहले की बात करूं तो कोई प्लेटफार्म नहीं था पुरुषों के लिए लेकिन आज के समय में पुरुषों के लिए बहुत सारी ऐसी हेल्पलाइन हैं ऐसे डेडीकेटेड प्लेटफॉर्म इंडिपेंडेंट नेशन चलाती है सिंपल प्रिंटेड ली है इंडियन फैमिली फाउंडेशन हेसर्घट ऑनलाइन मिल सकते हैं या मैं खुद ही बता सकती उसे भी नंबर टू पुणे पांचवी क्लास फ्रॉम थे इस पर इन पर कॉल कीजिए आपकी जो भी दिक्कत है आप जैसी चीज से अपनी जिंदगी में गुजर रहे हैं और शेयर कीजिए अगर आप किसी कानूनी किताबें खाते हुए झांसी नहीं लग रहा कि आप कैसे निकलेंगे तुमसे बात कीजिए सहायता कर रही थी जिनको झूठा करता है कहते फोकट में दोनों ने बहुत अच्छी बात बोली आत्महत्या कर ली तू ऐसा मत कीजिए अपनी अपनी हुसैन शुरू कीजिए आपने जो भी दिक्कत है उसकी जिंदगी बहुत बड़ी होती है माने तो बड़ी होती है आप माने तो बहुत छोटी होती और जासूसी कनक टाइम या जो खाता है वह भी कहीं ना कहीं किसी ना किसी तरह से जरूर भी जाएगा और सबसे इंपोर्टेंट बात आप अगर अपने आप को मारते हैं तो कुछ नहीं जाता आपकी जो माता-पिता है वही देखना चाहती तो प्लीज ऐसा मत सोचिए

har purush se jo ki bharat mein hai aur kisi bhi tarah ki kisi bhi tarah ki prataadana ka kisi bhi tarah ki injustice karya kisi bhi tarah ke jhuthe insaan ka itihas mehsus karta hai aur unki man mein atmahatya ka khayal aata hai tumko chahungi ki aaj se 15 saal pehle ki baat karu toh shayad 20 saal pehle ki baat karu toh koi platform nahi tha purushon ke liye lekin aaj ke samay mein purushon ke liye bahut saree aisi helpline hain aise dediketed platform independent nation chalati hai simple printed li hai indian family foundation hesarghat online mil sakte hain ya main khud hi bata sakti use bhi number to pune paanchvi class from the is par in par call kijiye aapki jo bhi dikkat hai aap jaisi cheez se apni zindagi mein gujar rahe hain aur share kijiye agar aap kisi kanooni kitaben khate hue jhansi nahi lag raha ki aap kaise nikalenge tumse baat kijiye sahayta kar rahi thi jinako jhutha karta hai kehte fokat mein dono ne bahut achi baat boli atmahatya kar li tu aisa mat kijiye apni apni hussain shuru kijiye aapne jo bhi dikkat hai uski zindagi bahut badi hoti hai maane toh badi hoti hai aap maane toh bahut choti hoti aur jasoosi kanak time ya jo khaata hai vaah bhi kahin na kahin kisi na kisi tarah se zaroor bhi jaega aur sabse important baat aap agar apne aap ko marte hain toh kuch nahi jata aapki jo mata pita hai wahi dekhna chahti toh please aisa mat sochiye

हर पुरुष से जो कि भारत में है और किसी भी तरह की किसी भी तरह की प्रताड़ना का किसी भी तरह की

Romanized Version
Likes  110  Dislikes    views  4210
WhatsApp_icon
user

Dr Kanahaiya

Dr Kanahaiya Reki Grand Masstr Apt .Sujok .Homyopathy .

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका मैं आपको दवा भी बता सकता हूं

aapka main aapko dawa bhi bata sakta hoon

आपका मैं आपको दवा भी बता सकता हूं

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

4:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप एक पुरुष है और आपके मन में प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के ख्याल आते हैं तो आपको क्या करना चाहिए मैं आपसे पूछना चाहता हूं आपको कौन प्रताड़ित कर रहा है अगर कोई व्यक्ति प्रताड़ित कर रहा है आपको और उसके बाद अगर आप चुप बैठे हैं और आत्महत्या का ख्याल अपने मन में लाते हैं तो इसमें सबसे बड़ी गलती आपकी है 21वीं सदी है और प्रधानमंत्री मोदी जी का भारत है यह कांग्रेस पार्टी के नेता का भारत नहीं है यह मोदी जी का भारत है आपको जो प्रताड़ित कर रहा है जो कष्ट पहुंचा रहा है उसके खिलाफ पुलिस थाने में जाकर रिपोर्ट दर्ज करवाई ए तुरंत एक्शन होगा अगर वह दोषी पाया गया तो उसको करावास होगा आप टेंशन मत लीजिए और एक चीज आपको बताना चाहता हूं जब स्थिति खराब हो तो आत्महत्या का ख्याल कभी नहीं लाना चाहिए मन में यह जो मनुष्य का जीवन मिला है ना कि बड़े सौभाग्य से मिला है आप हिंदुस्तान के वासी हो हिंदुस्तान के धरती पर जन्म हुआ है जो व्यक्ति आत्महत्या करता है संत समाज तो उसे माफ कर देगा लेकिन उसे ऊपर वाला कभी माफ नहीं करता है आपकी आत्मा भटकेगी घूमेगी करोड़ों वर्ष वर्ष तक खाना मिलेगा ना पानी मिलेगा रोगे इतना बुरा हाल होगा स्ट्रगल करने से क्यों पीछे भागते हो कोई अगर आपके ऊपर आरोप लगा दिया तो अब समय का इंतजार करिए और उस आरोप को गलत साबित करिए आपके अंदर दम होना चाहिए आप अच्छे हो तो अच्छा अगर आपके ऊपर बुरे का कोई आरोप लगाता है तो अच्छा कुतुब करना होगा कि मैं अच्छा हूं कार्य से कभी पीछे मत भागी कर्म से पीछे भाग रहे हो क्योंकि आप कमजोर हो मैं कर्म नहीं करूंगा क्यों नहीं करोगे भैया कर्म करने के लिए धरती पर आए हो कि कर्म नहीं करने के लिए धरती पर आए हो यह जिंदगी इतनी खूबसूरत है इसकी अहमियत को समझो माता पिता ने इतना मेहनत से पाल पोस कर बड़ा किया हो सकता है आपकी शादी भी हो गई हो आप मर जाओगे तो आपके बच्चों को कौन देखेगा आपके परिवार को कौन देखेगा आपके माता-पिता को कौन देखेगा उनका ख्याल कौन रखेगा तो आत्महत्या का ख्याल मत लाइए मन में जितना हो सके जीवन में संघर्ष करिए संघर्ष से कभी पीछे मत भाग्य मौत का बुलावा है गाना ऊपर से कोई नहीं रोक पाएगा जाना ही पड़ेगा जिंदगी मिली है एक-एक पल सही से जिओ अच्छे से जिओ 70 साल 80 साल 90 साल 100 साल 100 साल से अधिक जिंदा कोई नहीं रह पाएगा 100 साल तक बुलावा ऊपर से पक्का आ जाएगा और आ जाएगा तो जाना ही पड़ेगा कोई नहीं रोक सकता है तो अपने जीवन के समय को सही से जीने में लगाइए समाज के लिए जीने की कोशिश करिए देश के लिए जीने की कोशिश करिए और अपने माता-पिता का अच्छा सा ख्याल रखिए क्योंकि वह लोग बुजुर्ग हो गए होंगे आप माता-पिता अपने बच्चे को पैदा करके बड़ा करते हैं पढ़ाते लिखा थे इसीलिए कि जब वह बुजुर्ग होंगे तो उनका बेटा या बेटी उनका सेवा करेगा सेवा करने का समय आया तो आप आत्महत्या करने जा रहे हो क्या ऐसे काम चलेगा सभी लोग आत्महत्या करने लगेंगे तो यह देश कैसे चलेगा यह दुनिया कैसे चलेगी आपको भगवान माफ नहीं करेंगे आत्महत्या करोगे तो अब भगवान जिसको माफ नहीं करते हैं उसका क्या हाल होता है आप जानते होंगे हमें बताने की जरूरत नहीं है तो आपसे मैं यही कहना चाहूंगा आप अपने जीवन को अच्छे से जीने का कोशिश करिए और जो आपको प्रताड़ित करता है जो आपको नुकसान पहुंचाता है उसके खिलाफ पुलिस थाने में रिपोर्ट लिखाई है पक्का एक्शन होगा धन्यवाद

aap ek purush hai aur aapke man mein prataadana ki wajah se atmahatya ke khayal aate hain toh aapko kya karna chahiye main aapse poochna chahta hoon aapko kaun pratarit kar raha hai agar koi vyakti pratarit kar raha hai aapko aur uske baad agar aap chup baithe hain aur atmahatya ka khayal apne man mein laate hain toh isme sabse badi galti aapki hai vi sadi hai aur pradhanmantri modi ji ka bharat hai yah congress party ke neta ka bharat nahi hai yah modi ji ka bharat hai aapko jo pratarit kar raha hai jo kasht pohcha raha hai uske khilaf police thane mein jaakar report darj karwai a turant action hoga agar vaah doshi paya gaya toh usko karawas hoga aap tension mat lijiye aur ek cheez aapko bataana chahta hoon jab sthiti kharab ho toh atmahatya ka khayal kabhi nahi lana chahiye man mein yah jo manushya ka jeevan mila hai na ki bade saubhagya se mila hai aap Hindustan ke waasi ho Hindustan ke dharti par janam hua hai jo vyakti atmahatya karta hai sant samaj toh use maaf kar dega lekin use upar vala kabhi maaf nahi karta hai aapki aatma bhatkegi ghumegi karodo varsh varsh tak khana milega na paani milega roge itna bura haal hoga struggle karne se kyon peeche bhagte ho koi agar aapke upar aarop laga diya toh ab samay ka intejar kariye aur us aarop ko galat saabit kariye aapke andar dum hona chahiye aap acche ho toh accha agar aapke upar bure ka koi aarop lagaata hai toh accha qutub karna hoga ki main accha hoon karya se kabhi peeche mat bhaagi karm se peeche bhag rahe ho kyonki aap kamjor ho main karm nahi karunga kyon nahi karoge bhaiya karm karne ke liye dharti par aaye ho ki karm nahi karne ke liye dharti par aaye ho yah zindagi itni khoobsurat hai iski ahamiyat ko samjho mata pita ne itna mehnat se pal pos kar bada kiya ho sakta hai aapki shadi bhi ho gayi ho aap mar jaoge toh aapke baccho ko kaun dekhega aapke parivar ko kaun dekhega aapke mata pita ko kaun dekhega unka khayal kaun rakhega toh atmahatya ka khayal mat laiye man mein jitna ho sake jeevan mein sangharsh kariye sangharsh se kabhi peeche mat bhagya maut ka bulava hai gaana upar se koi nahi rok payega jana hi padega zindagi mili hai ek ek pal sahi se jio acche se jio 70 saal 80 saal 90 saal 100 saal 100 saal se adhik zinda koi nahi reh payega 100 saal tak bulava upar se pakka aa jaega aur aa jaega toh jana hi padega koi nahi rok sakta hai toh apne jeevan ke samay ko sahi se jeene mein lagaaiye samaj ke liye jeene ki koshish kariye desh ke liye jeene ki koshish kariye aur apne mata pita ka accha sa khayal rakhiye kyonki vaah log bujurg ho gaye honge aap mata pita apne bacche ko paida karke bada karte hain padhate likha the isliye ki jab vaah bujurg honge toh unka beta ya beti unka seva karega seva karne ka samay aaya toh aap atmahatya karne ja rahe ho kya aise kaam chalega sabhi log atmahatya karne lagenge toh yah desh kaise chalega yah duniya kaise chalegi aapko bhagwan maaf nahi karenge atmahatya karoge toh ab bhagwan jisko maaf nahi karte hain uska kya haal hota hai aap jante honge hamein batane ki zarurat nahi hai toh aapse main yahi kehna chahunga aap apne jeevan ko acche se jeene ka koshish kariye aur jo aapko pratarit karta hai jo aapko nuksan pohchta hai uske khilaf police thane mein report likhai hai pakka action hoga dhanyavad

आप एक पुरुष है और आपके मन में प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के ख्याल आते हैं तो आपको क्या

Romanized Version
Likes  211  Dislikes    views  4212
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं एक पुरुष और मेरे मन में प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या ख्याल आता है तो मुझे क्या करना चाहिए अरे भाई मर्द को दर्द होता नहीं है बरहाल आपने पटाना की वजह से आत्महत्या करने का ख्याल आता है लेकिन यह नहीं लिखा यह नहीं बताया आपने केक किस वजह से आता है आप बेरोजगार हैं या आप रोजगार है आपका रोजगार आपका सही नहीं चल रहा आपका वैसे सही नहीं चल रहा आपके वाइफ की प्रॉब्लम है बच्चों की प्रॉब्लम है क्या परेशानी है आप यह बताइए और आत्महत्या करना यह तो बहुत गलत है भाई ऐसे नहीं होता लिहाजा आप से बोल कर कर करें जिस चीज से आप भेज रहे हैं बताएं आप अगर अभी यहां पर क्लियर कर देते तो होता क्या आपको सभी लोग अच्छे एडवाइजर देते हैं थैंक यू

main ek purush aur mere man mein prataadana ki wajah se atmahatya khayal aata hai toh mujhe kya karna chahiye are bhai mard ko dard hota nahi hai barhal aapne patana ki wajah se atmahatya karne ka khayal aata hai lekin yah nahi likha yah nahi bataya aapne cake kis wajah se aata hai aap berozgaar hai ya aap rojgar hai aapka rojgar aapka sahi nahi chal raha aapka waise sahi nahi chal raha aapke wife ki problem hai baccho ki problem hai kya pareshani hai aap yah bataye aur atmahatya karna yah toh bahut galat hai bhai aise nahi hota lihaja aap se bol kar kar kare jis cheez se aap bhej rahe hai bataye aap agar abhi yahan par clear kar dete toh hota kya aapko sabhi log acche advisor dete hai thank you

मैं एक पुरुष और मेरे मन में प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या ख्याल आता है तो मुझे क्या करना च

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  164
WhatsApp_icon
user
1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के ख्याल तो आते हैं कि बार-बार आत्महत्या कर ले लेकिन यह बात सत्य है कि उससे हमारे दुख दूर नहीं होंगे माना हमने आत्महत्या कर ली आगे हमें पशु योनि में जन्म मिल गया फिर वही दुख कोई जानवर बन गए कोई दुख फिर क्या फायदा वह आत्महत्या करने का इससे अच्छा है संघर्ष करो और इस शरीर पर हमारा अधिकार नहीं है क्योंकि यह परमेश्वर का दिया हुआ है इससे में भगवान को पाना है इसलिए आत्महत्या बिल्कुल ना करें जीने की राह पुस्तक है दुनिया की सबसे अनमोल पुस्तक है वह है आपको फ्री मिल जाएगी सर्च कर ले इंटरनेट से डाउनलोड कर ले या फिर उसे घर पर मंगा ले फ्री आती है सतगुरु देव जी की जय हमारी वेबसाइट डब्लू डब्लू डब्लू डॉट जगतगुरु रामपाल जी डॉट ओआरजी से आप डाउनलोड भी कर सकते हैं अनमोल पुस्तक आत्महत्या के कभी जिंदगी में ख्याल नहीं आ सकता सत साहेब

prataadana ki wajah se atmahatya ke khayal toh aate hain ki baar baar atmahatya kar le lekin yah baat satya hai ki usse hamare dukh dur nahi honge mana humne atmahatya kar li aage hamein pashu yoni mein janam mil gaya phir wahi dukh koi janwar ban gaye koi dukh phir kya fayda vaah atmahatya karne ka isse accha hai sangharsh karo aur is sharir par hamara adhikaar nahi hai kyonki yah parmeshwar ka diya hua hai isse mein bhagwan ko paana hai isliye atmahatya bilkul na kare jeene ki raah pustak hai duniya ki sabse anmol pustak hai vaah hai aapko free mil jayegi search kar le internet se download kar le ya phir use ghar par Manga le free aati hai satguru dev ji ki jai hamari website w w w dot jagatguru rampal ji dot ORG se aap download bhi kar sakte hain anmol pustak atmahatya ke kabhi zindagi mein khayal nahi aa sakta sat saheb

प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के ख्याल तो आते हैं कि बार-बार आत्महत्या कर ले लेकिन यह बात

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  96
WhatsApp_icon
user
1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शपथ मैं बता दूं कि आत्महत्या किसी भी समस्या का समाधान नहीं होती आप एक मनुष्य हैं पुरुष नहीं पुरुष लोग जब अपने प्रताड़ित होते हैं इसी वजह से समस्या से सामान गिर जाते हैं तो अपनी समस्याओं से भागने का एक लघु लघु रास्ता अपना लिया आत्महत्या जो कि बहुत ही गलत है आप किसी पक्षी को देख ले किसी भी पशु का देख ले वह कितने भी उसी में है किसी भी विषय वस्तु में बदबू कभी भी आत्महत्या नहीं होता है आपके कभी भी किसी तोते को बिजली में कभी मरते हुए नहीं देखा होगा कभी आपने कुत्ते को जैसे को जंजीर में बना हुआ था कभी भी मरता नहीं लगी करता है कितने भी बंधन में रहे कोई कितना भी मारे और वह अपने प्राण नहीं चाहता है तो आपको भी यह रखना है कि समस्या का समाधान बट उस से भागी मत हम आत्महत्या का विचार त्याग दिए ठीक नहीं है उचित नहीं है क्या आपकी समस्या से भागना चाहते हो तो आप अपनी सोचता तो शायद छुटकारा पाने बट आप किस तरीके से परेशान उस तरीके से आपकी फैमिली में पता नहीं कितने लोग और प्रसन्न हो जाएंगे इसलिए उचित नहीं है धन्यवाद

shapath main bata doon ki atmahatya kisi bhi samasya ka samadhan nahi hoti aap ek manushya hain purush nahi purush log jab apne pratarit hote hain isi wajah se samasya se saamaan gir jaate hain toh apni samasyaon se bhagne ka ek laghu laghu rasta apna liya atmahatya jo ki bahut hi galat hai aap kisi pakshi ko dekh le kisi bhi pashu ka dekh le vaah kitne bhi usi mein hai kisi bhi vishay vastu mein badbu kabhi bhi atmahatya nahi hota hai aapke kabhi bhi kisi tote ko bijli mein kabhi marte hue nahi dekha hoga kabhi aapne kutte ko jaise ko zanjeer mein bana hua tha kabhi bhi marta nahi lagi karta hai kitne bhi bandhan mein rahe koi kitna bhi maare aur vaah apne praan nahi chahta hai toh aapko bhi yah rakhna hai ki samasya ka samadhan but us se bhaagi mat hum atmahatya ka vichar tyag diye theek nahi hai uchit nahi hai kya aapki samasya se bhaagna chahte ho toh aap apni sochta toh shayad chhutkara paane but aap kis tarike se pareshan us tarike se aapki family mein pata nahi kitne log aur prasann ho jaenge isliye uchit nahi hai dhanyavad

शपथ मैं बता दूं कि आत्महत्या किसी भी समस्या का समाधान नहीं होती आप एक मनुष्य हैं पुरुष नही

Romanized Version
Likes  108  Dislikes    views  1414
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं एक पुरुष हूं और मेरे मन में प्राण प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के ख्याल आता है तो मुझे क्या करना चाहिए आत्महत्या के ख्याल ना आए उसके लिए आपको क्या करना चाहिए नेगेटिव मत सोचिए उसके लिए आपको मेडिटेशन करना पड़ेगा सुबह जल्दी उठे मेडिटेशन रात को जल्दी सो जाइए ठीक है वक्त बेवक्त योगा करिए प्राणी एक्सरसाइज करें यह गाना सुनना मूवी देखना दोस्तों से बात करना फैमिली में रहना यह सब कुछ रखो आत्महत्या

main ek purush hoon aur mere man mein praan prataadana ki wajah se atmahatya ke khayal aata hai toh mujhe kya karna chahiye atmahatya ke khayal na aaye uske liye aapko kya karna chahiye Negative mat sochiye uske liye aapko meditation karna padega subah jaldi uthe meditation raat ko jaldi so jaiye theek hai waqt bevakt yoga kariye prani exercise kare yah gaana sunana movie dekhna doston se baat karna family mein rehna yah sab kuch rakho atmahatya

मैं एक पुरुष हूं और मेरे मन में प्राण प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के ख्याल आता है तो मुझ

Romanized Version
Likes  379  Dislikes    views  5422
WhatsApp_icon
user

Dr. Guddy Kumari

UPSC Coach / Ph.d

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कृष्ण में एक पुरुष और मेरे मन में प्रसारण की वजह से आत्महत्या के ख्याल आते हैं मुझे क्या करना चाहिए देखिए भाई साहब आपके मन में जो आत्महत्या का ख्याल आता है उसको तो पहले आप बिलकुल छोड़ दी अब समस्या का समाधान ढूंढ अगर आप पठान की वजह से आत्महत्या करते हैं तो आप लोगों को समाज में कैसे देखे जाते हैं कि कोई प्रदान करें तो हम आत्महत्या करने और तो जवाब जरूर दें क्योंकि सिर्फ यह दवा सिर्फ आपका नहीं होगा आपके जैसे बहुत सारे अच्छे लोग होंगे जो आपके जवाब से प्रेरित होंगे वह भी उन्हें भी एक हिम्मत पैदा होगा लोग समाज से इस तरह के प्रसारण से लड़ने की उम्र क्षमता आएगी इसीलिए आत्महत्या तो कायर करते हैं आप करो वाले काम मत कीजिए और यह आत्महत्या का प्लान जो आपके बिल्कुल थोड़े और जवाब देने की किसी भी समस्या को उसके चैलेंज को स्वीकार करने की हिम्मत रखिए और उसका जवाब दीजिए धन्यवाद

krishna mein ek purush aur mere man mein prasaran ki wajah se atmahatya ke khayal aate hain mujhe kya karna chahiye dekhiye bhai saheb aapke man mein jo atmahatya ka khayal aata hai usko toh pehle aap bilkul chod di ab samasya ka samadhan dhundh agar aap pathan ki wajah se atmahatya karte hain toh aap logo ko samaj mein kaise dekhe jaate hain ki koi pradan kare toh hum atmahatya karne aur toh jawab zaroor de kyonki sirf yah dawa sirf aapka nahi hoga aapke jaise bahut saare acche log honge jo aapke jawab se prerit honge vaah bhi unhe bhi ek himmat paida hoga log samaj se is tarah ke prasaran se ladane ki umr kshamta aayegi isliye atmahatya toh kayar karte hain aap karo waale kaam mat kijiye aur yah atmahatya ka plan jo aapke bilkul thode aur jawab dene ki kisi bhi samasya ko uske challenge ko sweekar karne ki himmat rakhiye aur uska jawab dijiye dhanyavad

कृष्ण में एक पुरुष और मेरे मन में प्रसारण की वजह से आत्महत्या के ख्याल आते हैं मुझे क्या क

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  13
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!