मुझे बहुत शर्म आती है। मैं अपनी पर्सनालिटी को कैसे सुधारूँ?...


user

Maruti Makwana

Performance Strategist

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आपको अगर बहुत शर्म आती है तो यह आपकी अपनी सेल्फ बिलीफ की वजह से है बहुत सारे लोग अपने आपको अपनी फिजिकल अपीरियंस या फिर अपने बैकग्राउंड से कनेक्ट करके बहुत सारी ऐसी चीजें होती है जो अपने दिमाग में ठान लेते हैं या घुसा देते हैं और उसकी वजह से उनका सेल्फ बिलीफ जो है वह बहुत ही लो हो जाता है जैसे कुछ लोग रंग में धरा से सावलिया काले होते हैं कुछ लोग अपनी बॉडी से दुबले नहीं होते या फिर बहुत ही दुख ले या फिर बहुत ही मोटे होते हैं इन चीजों को ध्यान में रखकर अपने आप को अच्छा या बुरा समझना यह काफी आम बात है लेकिन इसका अपने आप पर सेल्फ बिलीफ पर असर करना यह बहुत ही बुरी बात है भगवान ने हर इंसान को एक जैसी दिमाग एक जैसी शक्ल नहीं दी है लेकिन यही एक अमरा प्लस पॉइंट है कि हम बाकी उसे अलग है तो अगर आप किसी और को से साथ अपने आप को कम प्यार करते हो तो याद रखो उसकी पर्सनलिटी और आपकी पर्सनालिटी दोनों अलग है किसी से बात करने में झिझक करना या शर्माना यह किसी प्रॉब्लम का सलूशन नहीं है अगर आपको शर्म आती है तो सबसे पहले तो आप अपने आप को बाकी लोगों से कनेक्ट करना सीखो जवाब करने करना सीखो गे तो आपको समझ में आएगा कि उन सब में भी बहुत सारे इश्यू है बहुत सारी चीज है आती है जिस जो परफेक्ट नहीं है और इसीलिए एक आगामी आम बातें हम सारे इंसान हैं और हम सब में दोष और गुण दोनों होते हैं इसमें शर्माने वाली कोई बात ही नहीं है

dekhiye aapko agar bahut sharm aati hai toh yah aapki apni self belief ki wajah se hai bahut saare log apne aapko apni physical apiriyans ya phir apne background se connect karke bahut saree aisi cheezen hoti hai jo apne dimag mein than lete hain ya ghusa dete hain aur uski wajah se unka self belief jo hai vaah bahut hi lo ho jata hai jaise kuch log rang mein dhara se savliya kaale hote hain kuch log apni body se duble nahi hote ya phir bahut hi dukh le ya phir bahut hi mote hote hain in chijon ko dhyan mein rakhakar apne aap ko accha ya bura samajhna yah kaafi aam baat hai lekin iska apne aap par self belief par asar karna yah bahut hi buri baat hai bhagwan ne har insaan ko ek jaisi dimag ek jaisi shakl nahi di hai lekin yahi ek amara plus point hai ki hum baki use alag hai toh agar aap kisi aur ko se saath apne aap ko kam pyar karte ho toh yaad rakho uski parsanaliti aur aapki personality dono alag hai kisi se baat karne mein jhijhak karna ya sharmaana yah kisi problem ka salution nahi hai agar aapko sharm aati hai toh sabse pehle toh aap apne aap ko baki logo se connect karna sikho jawab karne karna sikho gay toh aapko samajh mein aayega ki un sab mein bhi bahut saare issue hai bahut saree cheez hai aati hai jis jo perfect nahi hai aur isliye ek aagaami aam batein hum saare insaan hain aur hum sab mein dosh aur gun dono hote hain isme sharmane wali koi baat hi nahi hai

देखिए आपको अगर बहुत शर्म आती है तो यह आपकी अपनी सेल्फ बिलीफ की वजह से है बहुत सारे लोग अपन

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  411
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
sharam aana in english ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!