अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो वो कौन सा होता?...


user

Anshu Saxena

Business Manager

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल पढ़ रहा हूं अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो वह कौन सा होता मैंने आपको से पूछ रहे हैं मैं सिर्फ यह कहना चाहता हूं कि जब भगवान ने संसार को रचास की रचना करें उनसे यह जरूर ताकि यह जो हमारा शरीर है जीव जंतुओं का हमारा हम सब में किसको मने में भूख लगती है एनी क्या सोचकर यह आइडिया किसने आपको दिया मैं भगवान से यह पूछता कि इसमें पेट बना दिया क्योंकि इस पेट से सारे रिश्ते जुड़ गए वह जानवर के हो या इंसान क्यों भूख एक ऐसी चीज थी जिसका आईडिया मैं भगवान से जरूर हूं ताकि आपको कहां से मिला

aapka sawaal padh raha hoon agar aap bhagwan se koi ek sawaal puch sakte toh vaah kaun sa hota maine aapko se puch rahe hain main sirf yah kehna chahta hoon ki jab bhagwan ne sansar ko rachas ki rachna kare unse yah zaroor taki yah jo hamara sharir hai jeev jantuon ka hamara hum sab me kisko mane me bhukh lagti hai any kya sochkar yah idea kisne aapko diya main bhagwan se yah poochta ki isme pet bana diya kyonki is pet se saare rishte jud gaye vaah janwar ke ho ya insaan kyon bhukh ek aisi cheez thi jiska idea main bhagwan se zaroor hoon taki aapko kaha se mila

आपका सवाल पढ़ रहा हूं अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो वह कौन सा होता मैंने आपको स

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  68
WhatsApp_icon
25 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Bk Arun Kaushik

Youth Counselor Motivational Speaker

2:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मेरा भगवान से यह प्रशन होता कि आज संसार की जैसी परिस्थितियां हैं इनको बदलने के लिए आप कब आओगे कितना समय लोगे क्योंकि गीता में लिखा है जब-जब धर्म की ग्लानि होती है तब मुझे आना पड़ता है और धर्म पिलाने की निशानियां जो बताई गई है वह पूरी भी हो चुकी है जैसे कि कहा गया है कि धर्म गिलानी के चिन्ह नंबर 1 अनाज कुड़ियों में बिकेगा जो कि आजकल अनाज पैकेट में बिक रहा है गाय विष्ठा अर्थात कचरा खाएगी जो कि हम देख रहे हैं गाय कुछ भी खा सकती है जो कि हमारी मां है गंदगी खा रही है जिसका हम दूध अमृत समान पीते हैं कि शो का सिंगार होगा अर्थात आज मेरा पूरा ध्यान अपने शरीर को सजाने संवारने में ही लगा रहता है विशेष रूप से किस और चेहरा अपना सिम मांगेगी पर मांगेगी यह तो लगता है बहुत पुरानी बात हो चुकी है सब परिवार के सदस्य इकट्ठे युवा आगे जिससे कि हम कल अब कहते हैं एक अच्छी खेलेंगे सबसे महत्वपूर्ण बात की घर घर वैश्यालय बन जाएंगे जो कि आई टीवी और इंटरनेट बना दिया है इस प्रकार से लिखा गया है और और धर्मों में भी भिन्न-भिन्न रूप में प्रभु के आने का समय बताया गया है जैसे कि कहा गया है कि कयामत का समय होगा कुछ समय जिसे कि हमने धर्म गिलानी था कहां है खुदा आएगा हमें कमरों में से उठाकर ले जाएगा सर जी और मैं तो बस भगवान से यही प्रश्न पूछूंगा किस समय तो हो चुका है अब आप कब आ कर इन परिस्थितियों को बदलो गी अभी सबको परिवर्तन चाहिए प्लीज अब और संसार की हालत देखी नहीं जा रही अब तो परिवर्तन कर दो भगवान मैं आपसे रिक्वेस्ट कर रहा हूं यह मेरा परमात्मा से यह प्रसन्न होगा थैंक यू

namaskar mera bhagwan se yah prashn hota ki aaj sansar ki jaisi paristhiyaann hain inko badalne ke liye aap kab aaoge kitna samay loge kyonki geeta me likha hai jab jab dharm ki glani hoti hai tab mujhe aana padta hai aur dharm pilane ki nishaniyan jo batai gayi hai vaah puri bhi ho chuki hai jaise ki kaha gaya hai ki dharm gilani ke chinh number 1 anaaj kudiyon me bikega jo ki aajkal anaaj packet me bik raha hai gaay vishtha arthat kachra khaegee jo ki hum dekh rahe hain gaay kuch bhi kha sakti hai jo ki hamari maa hai gandagi kha rahi hai jiska hum doodh amrit saman peete hain ki show ka shingar hoga arthat aaj mera pura dhyan apne sharir ko sajane sanvarane me hi laga rehta hai vishesh roop se kis aur chehra apna sim mangegi par mangegi yah toh lagta hai bahut purani baat ho chuki hai sab parivar ke sadasya ikatthe yuva aage jisse ki hum kal ab kehte hain ek achi khelenge sabse mahatvapurna baat ki ghar ghar vaishyalaya ban jaenge jo ki I TV aur internet bana diya hai is prakar se likha gaya hai aur aur dharmon me bhi bhinn bhinn roop me prabhu ke aane ka samay bataya gaya hai jaise ki kaha gaya hai ki qayaamat ka samay hoga kuch samay jise ki humne dharm gilani tha kaha hai khuda aayega hamein kamron me se uthaakar le jaega sir ji aur main toh bus bhagwan se yahi prashna poochhoonga kis samay toh ho chuka hai ab aap kab aa kar in paristhitiyon ko badlo gi abhi sabko parivartan chahiye please ab aur sansar ki halat dekhi nahi ja rahi ab toh parivartan kar do bhagwan main aapse request kar raha hoon yah mera paramatma se yah prasann hoga thank you

नमस्कार मेरा भगवान से यह प्रशन होता कि आज संसार की जैसी परिस्थितियां हैं इनको बदलने के लिए

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते हैं तो कौन सा होता तो मैं पूछता भगवान आपको और अपने साथ करने का अनुरोध करने का सबसे सरलतम तरीका कौन सा है सबसे कम श्रम व प्रयास संभाग कौनसा है यह मैं वर्ष पूछता जैसे एक स्थाई आनंद सनातन आनंद की प्राप्ति के लिए मैं अपने अंदर आप लोग की उस प्रक्रिया को अपना सकें जिस भाव में स्थित

agar aap bhagwan se koi ek sawaal puch sakte hain toh kaun sa hota toh main poochta bhagwan aapko aur apne saath karne ka anurodh karne ka sabse saralatam tarika kaun sa hai sabse kam shram va prayas sambhag kaunsa hai yah main varsh poochta jaise ek sthai anand sanatan anand ki prapti ke liye main apne andar aap log ki us prakriya ko apna sake jis bhav me sthit

अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते हैं तो कौन सा होता तो मैं पूछता भगवान आपको और अपने स

Romanized Version
Likes  346  Dislikes    views  3073
WhatsApp_icon
user

Ritesh Sah

Engineer

0:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं भगवान से पूछता क्या भगवान कैसे बने

main bhagwan se poochta kya bhagwan kaise bane

मैं भगवान से पूछता क्या भगवान कैसे बने

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  58
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान से हम यही कहते कि भगवान इस संसार में जो नकारात्मक सोच वाले हैं उनकी नकारात्मक सोच मत थोड़ा सा दृढ़ता दे दो क्योंकि सोच सकारात्मक हो जाए और वह अच्छे और बुरे की पहचान कर सकें जीवन में उनके माया मोह ममता इन सब चीजों से दूर होकर के एक अच्छे व्यक्तित्व के धनी हो जाए और समाज की सेवा करने लगे ताकि लोगों को समाज में किसी से कोई चिंता नहीं एक धर्म हो कई धर्मों को नहीं होना चाहिए जो भी धर्म तुम को सबसे अच्छा लगे वह सब सब धर्मों का मालिक एक ही स्तर होता है यह जो छल प्रपंच करके मिलन 50 रन बनाए बैठे हैं और अपनी अपनी रोटियां सेक रहे हैं जनता को लड़ा रहे हैं यही कहता कि भगवान उनको सद्बुद्धि दो धन पर चलने का मार्ग दो अगर कोई गलत दिशा में चले तो उनको तत्काल उसी समय कोई ऐसी सजा दे दो क्यों द्वारा गलत कार्य करने की हिम्मत नगर तक का हाल उसके लिए सजा की व्यवस्था भगवान से करना चाहिए

bhagwan se hum yahi kehte ki bhagwan is sansar me jo nakaratmak soch waale hain unki nakaratmak soch mat thoda sa dridhta de do kyonki soch sakaratmak ho jaaye aur vaah acche aur bure ki pehchaan kar sake jeevan me unke maya moh mamata in sab chijon se dur hokar ke ek acche vyaktitva ke dhani ho jaaye aur samaj ki seva karne lage taki logo ko samaj me kisi se koi chinta nahi ek dharm ho kai dharmon ko nahi hona chahiye jo bhi dharm tum ko sabse accha lage vaah sab sab dharmon ka malik ek hi sthar hota hai yah jo chhal PRAPANCH karke milan 50 run banaye baithe hain aur apni apni rotiyan sake rahe hain janta ko lada rahe hain yahi kahata ki bhagwan unko sadbuddhi do dhan par chalne ka marg do agar koi galat disha me chale toh unko tatkal usi samay koi aisi saza de do kyon dwara galat karya karne ki himmat nagar tak ka haal uske liye saza ki vyavastha bhagwan se karna chahiye

भगवान से हम यही कहते कि भगवान इस संसार में जो नकारात्मक सोच वाले हैं उनकी नकारात्मक सोच मत

Romanized Version
Likes  232  Dislikes    views  2240
WhatsApp_icon
user

Pramod Kushwaha

famous Motivational Guru N Painter

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं प्रमोद कुशवाहा मोटिवेशनल गुरु फेमस आर्टिस्ट प्रमोद कुशवाहा मध्य प्रदेश जबलपुर से वो कल परिवार में आपका स्वागत करता हूं किसी ने प्रश्न किया है सर जी अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो वह कौन सा होता तो मेरा प्रश्न ही होता अपन देखने रोज-रोज राजा देखे कभी कभी भगवान कभी नहीं देता समझे प्रश्न ऐसी कौन सी चीज है जो अपन रोज रोज देखते हैं राजा कविता भी देखता है अब राजा नहीं है तो प्रधानमंत्री समझ सकते तो ऐसी कौन सी चीज है जो अपन देखते हैं रोज रोज राजा देखता है कभी-कभी भगवान कभी भी नहीं देखता ऐसी तीन लोग अलग-अलग है आम जनता जिसको रोज देती है राजा यादें प्रधानमंत्री कौशल कविता भी देखता है और भगवान कभी भी नहीं देखता तुझे मेरे भगवान मैं आपसे प्रश्न नहीं करूंगा ऐसी कौन सी चीज है जो आप कभी नहीं देख पाते प्रश्न बहुत ही प्यारा था

main pramod kushwaha Motivational guru famous artist pramod kushwaha madhya pradesh jabalpur se vo kal parivar me aapka swaagat karta hoon kisi ne prashna kiya hai sir ji agar aap bhagwan se koi ek sawaal puch sakte toh vaah kaun sa hota toh mera prashna hi hota apan dekhne roj roj raja dekhe kabhi kabhi bhagwan kabhi nahi deta samjhe prashna aisi kaun si cheez hai jo apan roj roj dekhte hain raja kavita bhi dekhta hai ab raja nahi hai toh pradhanmantri samajh sakte toh aisi kaun si cheez hai jo apan dekhte hain roj roj raja dekhta hai kabhi kabhi bhagwan kabhi bhi nahi dekhta aisi teen log alag alag hai aam janta jisko roj deti hai raja yaadain pradhanmantri kaushal kavita bhi dekhta hai aur bhagwan kabhi bhi nahi dekhta tujhe mere bhagwan main aapse prashna nahi karunga aisi kaun si cheez hai jo aap kabhi nahi dekh paate prashna bahut hi pyara tha

मैं प्रमोद कुशवाहा मोटिवेशनल गुरु फेमस आर्टिस्ट प्रमोद कुशवाहा मध्य प्रदेश जबलपुर से वो क

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  98
WhatsApp_icon
user

Jagdish Panwar Bishnoi

राजनीति व जीवन की हर समस्या का हल

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सब को सुखी रखना भगवान अगर है जो लोग खुद भगवान बने बैठे हैं उनके दिमाग में कुछ सद्बुद्धि देना बस यही मेरी परम मित्र प्रबंधक दुआ करता हूं कि जो लोग आगे भगवान कुबूल करें भगवान बनने की पूरी करें यह उनका ही जो आजकल चल रहा है उनके कारण ही यह

sab ko sukhi rakhna bhagwan agar hai jo log khud bhagwan bane baithe hain unke dimag me kuch sadbuddhi dena bus yahi meri param mitra prabandhak dua karta hoon ki jo log aage bhagwan kubul kare bhagwan banne ki puri kare yah unka hi jo aajkal chal raha hai unke karan hi yah

सब को सुखी रखना भगवान अगर है जो लोग खुद भगवान बने बैठे हैं उनके दिमाग में कुछ सद्बुद्धि दे

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

Dr.Paramjit Singh

Health and Fitness Expert/ Lecturer In Physical Education/

0:40
Play

Likes  124  Dislikes    views  1989
WhatsApp_icon
user

Ansh jalandra

Motivational speaker & criminal lawyer

0:21
Play

Likes  150  Dislikes    views  3296
WhatsApp_icon
user

Dinesh Mishra

Theosophists | Accountant

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो वह कौन सा होता व्हाई मेरा सवाल यह होता कि हमें क्यों बार-बार आप मां के उधर में जन्म दिया करते हैं और जन्म देने के बाद में हमारी मृत्यु किया करते हैं यह जो जन्म और मरण का सिलसिला है जन्म में भी हमें कष्ट हुआ करता है और मरण में भी हमें कष्ट हुआ करता है इसलिए यह जन्म मरण से क्या मिला करता है जीवन में यह कृपया बताने का कष्ट करें और हमें इस जन्म मरण से मुक्त करें

agar aap bhagwan se koi ek sawaal puch sakte toh vaah kaun sa hota why mera sawaal yah hota ki hamein kyon baar baar aap maa ke udhar me janam diya karte hain aur janam dene ke baad me hamari mrityu kiya karte hain yah jo janam aur maran ka silsila hai janam me bhi hamein kasht hua karta hai aur maran me bhi hamein kasht hua karta hai isliye yah janam maran se kya mila karta hai jeevan me yah kripya batane ka kasht kare aur hamein is janam maran se mukt kare

अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो वह कौन सा होता व्हाई मेरा सवाल यह होता कि हमें क्

Romanized Version
Likes  242  Dislikes    views  1507
WhatsApp_icon
user

Mrityunjay Bishwakarma

Yoga Trainer | Life Coach | Relationship Expert

6:06
Play

Likes  132  Dislikes    views  1664
WhatsApp_icon
user

Rasbihari Pandey

लेखन / कविता पाठ

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हे भगवान तुमने यह इतने वसंत दुनिया क्यों बनाई है कोई इतना गरीब कोई इतना अमीर कोई फुटपाथ पर सोने के लिए विवश है किसी के पास कमरे ही कमरे हैं बंद कमरों में ताला पड़ा हुआ है तुम्हारी बनाई हुई इस दुनिया में इतनी विषमता क्यों है प्रभु

hai bhagwan tumne yah itne vasant duniya kyon banai hai koi itna garib koi itna amir koi footpath par sone ke liye vivash hai kisi ke paas kamre hi kamre hain band kamron mein tala pada hua hai tumhari banai hui is duniya mein itni vishamata kyon hai prabhu

हे भगवान तुमने यह इतने वसंत दुनिया क्यों बनाई है कोई इतना गरीब कोई इतना अमीर कोई फुटपाथ पर

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  347
WhatsApp_icon
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दरअसल पसंद करता शाम में भगवान को नहीं जानता है भगवान से सवाल पूछने का कोई प्रश्न ही नहीं रह जाता है पहली बार भगवान ने मनुष्य की चेतना ज्योति है जिस पर आधारित वह है उसको दर्शन पाना चाहता है और उसकी पद्धति योग संप्रदाय से गुरुओं से प्राप्त रहती है और उस पथ आश्रम का वह सदस्य होता है या उसका अनुकरण करता होता है ईश्वर भगवान अपने ही स्वरूप बंदे में बिंदु से साथ होता है ईश्वर दर्शन में त्रिनेत्र नहीं होता है क्योंकि जो साक्ष्य करण की शक्ति ज्योति है वह भी स्वर्ण कला से जागृत हो रहे हैं संपूर्ण चेतना रहस्य उसके द्वारा निर्मित हो रहे हैं जो कि की कला है कि मैं हूं यहीं से भिन्नता डाल कर के अपने स्वरूप में स्थित बनाता है मैं हूं के द्वारा एक पुद्गल प्रथा कुछ बता सकती जोमनो रूप में फैशन करती है वह उसकी अनुष्का ला है मैं की भी स्थापना से सुरक्षा के लिए करा गया है शरीर के और यह गॉड गिफ्टेड चीज है जिसमें मैं हूं एक ड्राइवर बन जाता है शरीर के अंदर फिर आगे जो भ्रमित भी है उसमें फसाया जाए अपने को दिन में बनता है जबकि उसका रिवर्स जब लिखित करण दिशा में जब ध्यान आता है तो अपने शुरू को इस तिथि के अंदर वह प्रभावित होता है जो भ्रांतियां हैं वह अज्ञानता व से दिखेगा कौन हमारे नैन से नैन देखेंगे उसके सुनेगा कौन हमारे कानों से आवाज सुनेंगे उसकी और वही आधारभूत उसकी देन है तो यहां प्रश्न उठता है कि उससे क्या प्रश्न पूछेंगे अभी हम व्यवस्था में भी सहारे में रहते हैं बड़े होते तो मां बाप के सहारे में रहते हैं समाज में रहते हैं तो अपने परिवार और संबंधियों मित्र मंडलों के सहारे रहते हैं सदैव सहारे में ही जीवन का ज्ञापन हो रहा है सेल्फ नेट जब आएगी जब सतत इस बिंदु पर अपनी स्थापना हो जाए और वही यह इतना इंडिकेट्स ने कहा है कि जीव अविनाशी है उसका विनाश नहीं होता है शिक्षण दशा के अंदर तक इसकी प्रक्रिया चलती है लेकिन हम अपनी परिधि नीची भूमिकाएं बना लेते हैं संक्षेप में हम अपने आप को संक्षिप्त करते हैं क्योंकि हमारा पग मोहर लगने चालू हो जाते हैं कि मैं फला का बच्चा हूं मेरा यह मेरा वह है और अब यह संसार एक दायरे में अपने स्वरूप का छातीत करता है जबकि वह व्यापक पर फलन होता है एक बालक को अमीरी गरीबी से कोई मतलब नहीं है तो उसके मन गीता में चलती है लेकिन बाद में वह कुंठित हो जाता है क्योंकि हम सोते हैं उसमें इस तरह बड़े होते हुए भी हमें लगता कि हम बड़े हो रहे हैं शरीर से परिपूर्ण हो रहे लेकिन ज्ञान के दायरे में कोई उन्नति नहीं होती है जो भी बाहरी जगत में विज्ञान की संरचना होरी किन कारणों से हो रही है वह विकल्प सम बनाएं संभावनाएं और इच्छाएं कहां से उत्पीड़ित हो रही है पता भी नहीं है कि क्षेत्रों कहां से हो रही है हाल लिखने की शादी जरूर मियां और उसके कृष्णा जागृत होती तो हम व्याकुल सोते हैं कैसा करना चाहिए ऐसा होना चाहिए ऐसे में मजा है तो जिओ को चलाएं मान सृष्टि में किया गया है कि ताकि वह प्रक्रिया में रहें अन्यथा अगर भूख न हो तो 1 दिन में बैठा हुआ सांप भी आगे टाइम नहीं कर सकता गतिमान करने के लिए जिओ को चलाएं मान करने के लिए यह उर्मिला पकड़ती रूप से नियोजित है शरीर के अंदर लेकिन उसके पीछे जो चीज ना है वहां रहे हैं मनुष्य योजनाओं में सिर्फ गिरा हुआ है उसे पता है लेकिन थोड़ा नहीं पा रहा है हमारे अंत करण में एक ऐसी दशा होते जान निर्लिप्त हो जाता वहां कुछ नहीं होता आज के युग में भी लोग सहारा ढूंढते हैं कि कोई मध्य रामा प्रियंका झा संवेदनाएं सुना हो जाए और मैं मुक्त हो जाता जो बढ़ रही है इसका कारण ही है लेकिन सहारा जो है गलत है या ज्ञान ता है तो ईश्वर के रूप में जिन्होंने सकारात्मक ढंग किया हुआ है उस सबसे पूजनीय सबसे आदरणीय सबसे सम्मानित सबसे सुरेश जिसकी शब्द की तुलना नहीं हो पा रही है ऐसा मानकर के दर्शन आपला स्थित होता है वह और उसमें श्रद्धा विनर भाव पर भी दबाव करुणा भाव ऐसी संवेदनाएं भावनाओं पर वह उसकी परिपूर्णता खुशी होती है तो वहां से सब पूछने का क्या रहेगा क्योंकि आज तक जो चीज नहीं उपलब्ध हुई और किसी को नहीं वही पट्टी कूलर को होने वाली है वह रही है और ऐसी चीज प्रैक्टिस हो जाएगी जो वह परिपूर्णता में आ जाएगा उसके बाद शेष कुछ नहीं रह जाएगा जगत की मनोदशा में जितने भी मिलते हैं दर्द है तमाम शीशम से नष्ट हो जा रही है जीवन मरण से और अपने स्वरूप में वैसे ही अपने आप को पा रहा है और जितनी भी ज्ञान की गहराई का आवेदन है आना जाना बंद संपूर्ण शिक्षाओं का सार और एसएससी जी स्वर्ग प्राप्त हो रहा है और उसको मैं अल्लासनी परिश्रम के द्वारा ऐसी जागृति डाली है भारत और प्रोसेस रहेगा क्या सिर्फ उसकी आंखों से आंसू ढंग सकते हैं और हॉट उसके चरणों को चूमने के लिए हो जाएगा उसके अंदर जो दुनिया को वापस दे सकता है वह चोरों के लिए सामर्थ मान हो सकता है क्या प्रसन्न पूजा तक पूछ सकते हैं भगवान के आगे तो यह हमारे दिमाग से प्रसन्न हो जाता है से धन्यवाद

darasal pasand karta shaam mein bhagwan ko nahi jaanta hai bhagwan se sawaal poochne ka koi prashna hi nahi reh jata hai pehli baar bhagwan ne manushya ki chetna jyoti hai jis par aadharit vaah hai usko darshan paana chahta hai aur uski paddhatee yog sampraday se guruon se prapt rehti hai aur us path ashram ka vaah sadasya hota hai ya uska anukaran karta hota hai ishwar bhagwan apne hi swaroop bande mein bindu se saath hota hai ishwar darshan mein trinetra nahi hota hai kyonki jo sakshya karan ki shakti jyoti hai vaah bhi swarn kala se jagrit ho rahe hain sampurna chetna rahasya uske dwara nirmit ho rahe hain jo ki ki kala hai ki main hoon yahin se bhinnata daal kar ke apne swaroop mein sthit banata hai hoon ke dwara ek pudgal pratha kuch bata sakti jomno roop mein fashion karti hai vaah uski anushka la hai ki bhi sthapna se suraksha ke liye kara gaya hai sharir ke aur yah god gifted cheez hai jisme main hoon ek driver ban jata hai sharir ke andar phir aage jo bharmit bhi hai usme phasaya jaaye apne ko din mein baata hai jabki uska reverse jab likhit karan disha mein jab dhyan aata hai toh apne shuru ko is tithi ke andar vaah prabhavit hota hai jo bhrantiyan hain vaah agyanata va se dikhega kaun hamare nain se nain dekhenge uske sunegaa kaun hamare kanon se awaaz sunenge uski aur wahi adharbhut uski the hai toh yahan prashna uthata hai ki usse kya prashna puchenge abhi hum vyavastha mein bhi sahare mein rehte hain bade hote toh maa baap ke sahare mein rehte hain samaj mein rehte hain toh apne parivar aur sambandhiyon mitra mandalo ke sahare rehte hain sadaiv sahare mein hi jeevan ka gyapan ho raha hai self net jab aayegi jab satat is bindu par apni sthapna ho jaaye aur wahi yah itna indicates ne kaha hai ki jeev avinashi hai uska vinash nahi hota hai shikshan dasha ke andar tak iski prakriya chalti hai lekin hum apni paridhi nichi bhumikaen bana lete hain sankshep mein hum apne aap ko sanshipta karte hain kyonki hamara pug mohar lagne chaalu ho jaate hain ki main phala ka baccha hoon mera yah mera vaah hai aur ab yah sansar ek daayre mein apne swaroop ka chatit karta hai jabki vaah vyapak par phalan hota hai ek balak ko amiri garibi se koi matlab nahi hai toh uske man geeta mein chalti hai lekin baad mein vaah kunthit ho jata hai kyonki hum sote hain usme is tarah bade hote hue bhi hamein lagta ki hum bade ho rahe hain sharir se paripurna ho rahe lekin gyaan ke daayre mein koi unnati nahi hoti hai jo bhi bahri jagat mein vigyan ki sanrachna hori kin karanon se ho rahi hai vaah vikalp some banaye sambhavnayen aur ichhaen kahaan se utpidit ho rahi hai pata bhi nahi hai ki kshetro kahaan se ho rahi hai haal likhne ki shadi zaroor miyan aur uske krishna jagrit hoti toh hum vyakul sote hain kaisa karna chahiye aisa hona chahiye aise mein maza hai toh jio ko chalaye maan shrishti mein kiya gaya hai ki taki vaah prakriya mein rahein anyatha agar bhukh na ho toh 1 din mein baitha hua saap bhi aage time nahi kar sakta gatiman karne ke liye jio ko chalaye maan karne ke liye yah urmila pakadti roop se niyojit hai sharir ke andar lekin uske peeche jo cheez na hai wahan rahe hain manushya yojnao mein sirf gira hua hai use pata hai lekin thoda nahi paa raha hai hamare ant karan mein ek aisi dasha hote jaan nirlipt ho jata wahan kuch nahi hota aaj ke yug mein bhi log sahara dhoondhate hain ki koi madhya rama priyanka jha sanvednaen suna ho jaaye aur main mukt ho jata jo badh rahi hai iska karan hi hai lekin sahara jo hai galat hai ya gyaan ta hai toh ishwar ke roop mein jinhone sakaratmak dhang kiya hua hai us sabse pujaniya sabse adaraniya sabse sammanit sabse suresh jiski shabd ki tulna nahi ho paa rahi hai aisa maankar ke darshan apla sthit hota hai vaah aur usme shraddha winner bhav par bhi dabaav karuna bhav aisi sanvednaen bhavnao par vaah uski paripurnata khushi hoti hai toh wahan se sab poochne ka kya rahega kyonki aaj tak jo cheez nahi uplabdh hui aur kisi ko nahi wahi patti cooler ko hone wali hai vaah rahi hai aur aisi cheez practice ho jayegi jo vaah paripurnata mein aa jaega uske baad shesh kuch nahi reh jaega jagat ki manodasha mein jitne bhi milte hain dard hai tamaam sheesham se nasht ho ja rahi hai jeevan maran se aur apne swaroop mein waise hi apne aap ko paa raha hai aur jitni bhi gyaan ki gehrai ka avedan hai aana jana band sampurna shikshaon ka saar aur ssc ji swarg prapt ho raha hai aur usko main allasani parishram ke dwara aisi jagriti dali hai bharat aur process rahega kya sirf uski aankho se aasu dhang sakte hain aur hot uske charno ko chumne ke liye ho jaega uske andar jo duniya ko wapas de sakta hai vaah choron ke liye samarth maan ho sakta hai kya prasann puja tak puch sakte hain bhagwan ke aage toh yah hamare dimag se prasann ho jata hai se dhanyavad

दरअसल पसंद करता शाम में भगवान को नहीं जानता है भगवान से सवाल पूछने का कोई प्रश्न ही नहीं र

Romanized Version
Likes  49  Dislikes    views  1035
WhatsApp_icon
play
user
0:16

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो कौन सा होता तो मैं भगवान से पूछता कि दुनिया का भविष्य क्या होगा आने वाला समय दुनिया में कैसा होगा इसके बारे में लेखक ने भगवान से जानकारी लेता

agar aap bhagwan se koi ek sawaal puch sakte toh kaun sa hota toh main bhagwan se poochta ki duniya ka bhavishya kya hoga aane vala samay duniya mein kaisa hoga iske bare mein lekhak ne bhagwan se jaankari leta

अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो कौन सा होता तो मैं भगवान से पूछता कि दुनिया का भवि

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  1918
WhatsApp_icon
user

Lalit Tomar

Police Service

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब भी मैं भगवान से कोई प्रश्न पाता तो वही होता है कि परमात्मा जैसे कि मुझे भी मैं आपके अलग-अलग रूप से कह सकते हो तो क्यों अपने हर व्यक्ति का एक अलग भगवान पैदा कर दिया है क्यों नहीं आप आकर उन्हें समझाते हो जब यह पूरी दुनिया खत्म हो जाएगी तब आऊंगा यह मेरा उनसे प्रश्नों का जवाब एक हो तो हर व्यक्ति का केवल एक भगवान क्यों नहीं होता है कि उसने अलग-अलग भगवान पैदा कर लिए कहीं पर अल्लाह हो गई है कहीं पर हिंदू धर्म के इतने सारे देवी देवता हो गई है कहीं पर लाइक यहूदियों के हो गए हैं कहीं पर ट्यूशन के हो गए हैं ऐसा क्यों है क्यों नहीं आ पाते हो और सब को बताते हो कि भाई आपस में लड़ो मत मैं हूं जो कुछ भी हूं जय हिंद

jab bhi main bhagwan se koi prashna pata toh wahi hota hai ki paramatma jaise ki mujhe bhi main aapke alag alag roop se keh sakte ho toh kyon apne har vyakti ka ek alag bhagwan paida kar diya hai kyon nahi aap aakar unhe smajhate ho jab yah puri duniya khatam ho jayegi tab aaunga yah mera unse prashnon ka jawab ek ho toh har vyakti ka keval ek bhagwan kyon nahi hota hai ki usne alag alag bhagwan paida kar liye kahin par allah ho gayi hai kahin par hindu dharm ke itne saare devi devta ho gayi hai kahin par like yahudiyo ke ho gaye hain kahin par tuition ke ho gaye hain aisa kyon hai kyon nahi aa paate ho aur sab ko batatey ho ki bhai aapas mein lado mat main hoon jo kuch bhi hoon jai hind

जब भी मैं भगवान से कोई प्रश्न पाता तो वही होता है कि परमात्मा जैसे कि मुझे भी मैं आपके अलग

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  142
WhatsApp_icon
user

Karan Janwa

Automobile Engineer

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं दुकान से कोई स्टेशन पहुंच सकता तुम्हें जैसा कि ईश्वर अपने सबसे उत्तम प्रजाति मनुष्य की रचना की उस मनुष्य अनेक आविष्कार किए और मनुष्य की प्रकृति की रक्षा के लिए और कुछ किया और उनको अपनी शादी होते हुए कुछ इंसान की मूर्ति सुरजन की भरी प्रति अमर हो क्या उन्होंने मतलब पिक्चर

agar main dukaan se koi station pohch sakta tumhe jaisa ki ishwar apne sabse uttam prajati manushya ki rachna ki us manushya anek avishkar kiye aur manushya ki prakriti ki raksha ke liye aur kuch kiya aur unko apni shadi hote hue kuch insaan ki murti surjan ki bhari prati amar ho kya unhone matlab picture

अगर मैं दुकान से कोई स्टेशन पहुंच सकता तुम्हें जैसा कि ईश्वर अपने सबसे उत्तम प्रजाति मनुष्

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  401
WhatsApp_icon
user

Dr Manoj Kumar Bhambu

Doctorate of Philosophy

2:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप भगवान से कोई प्रश्न पूछ सकते तो कौन सा होता मुझे यह प्रश्न ही अधूरा लगता है हम भगवान से सब कुछ पूछ सकते हैं और वह हमारे प्रश्नों का जवाब दे देता है सिरसा में महसूस करने की आवश्यकता है यह जो जवाब हमारे दिमाग में आ रहा है वह भगवान के पास से आ रहा है भगवान हमें दे रहा है क्योंकि बहुत से लोग एक वाक्य बोलते हैं भगवान की मर्जी के बगैर पत्ता भी नहीं हिलता अगर इस वाक्य में थोड़ी भी सच्चाई है तो हमारे मन में जो भी विचार आता है उसका उदगम स्थान भगवान है और जो सुविचार का जवाब आता है उसका भी उद्गम स्थान है भगवान ही है एक तरफ लोग कहते हैं कि भगवान श्री शक्तिमान सर्वव्यापी सभी दृष्टा है और दूसरी तरफ खुद से भी कुछ करने का दावा करते हैं मुझे इन दोनों बातों में विरोधाभास लगता है इसलिए मैं भगवान से हर प्रश्न पूछ सकता हूं और हर बार भगवान से मुझे जवाब मिलता है आप अगर आप मुझे यह कहे कि मैं भगवान से अगला प्रश्न क्या करने वाला तो पहले मैं भगवान को धन्यवाद करूंगा और फिर कहूंगा भगवान बता आगे क्या करना है

agar aap bhagwan se koi prashna puch sakte toh kaun sa hota mujhe yah prashna hi adhura lagta hai hum bhagwan se sab kuch puch sakte hain aur vaah hamare prashnon ka jawab de deta hai sirsa mein mehsus karne ki avashyakta hai yah jo jawab hamare dimag mein aa raha hai vaah bhagwan ke paas se aa raha hai bhagwan hamein de raha hai kyonki bahut se log ek vakya bolte hain bhagwan ki marji ke bagair patta bhi nahi hilata agar is vakya mein thodi bhi sacchai hai toh hamare man mein jo bhi vichar aata hai uska udagam sthan bhagwan hai aur jo suvichar ka jawab aata hai uska bhi udgam sthan hai bhagwan hi hai ek taraf log kehte hain ki bhagwan shri shaktiman sarvavyapi sabhi drishta hai aur dusri taraf khud se bhi kuch karne ka daawa karte hain mujhe in dono baaton mein virodhabhas lagta hai isliye main bhagwan se har prashna puch sakta hoon aur har baar bhagwan se mujhe jawab milta hai aap agar aap mujhe yah kahe ki main bhagwan se agla prashna kya karne vala toh pehle main bhagwan ko dhanyavad karunga aur phir kahunga bhagwan bata aage kya karna hai

अगर आप भगवान से कोई प्रश्न पूछ सकते तो कौन सा होता मुझे यह प्रश्न ही अधूरा लगता है हम भगवा

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  149
WhatsApp_icon
user
0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं भगवान से एक सवाल पूछ सकता तो मैं कहता कि हे प्रभु इस विश्व के सभी लोगों को गरीबी मत देना और एक बात और कि उन्हें अमेरिकी इतना देना कि वह घमंड करें इंसान की कीमत ही ना समझे और उसे आत्मविश्वास देना और उन्हें इतनी दया देना कि वह हर लोगों की मदद कर सके और दुनिया के लोग कभी भी उनका स्वास्थ्य बिगड़ नहीं मैं यही भगवान से मानता

agar main bhagwan se ek sawaal puch sakta toh main kahata ki hai prabhu is vishwa ke sabhi logo ko garibi mat dena aur ek baat aur ki unhe american itna dena ki vaah ghamand kare insaan ki kimat hi na samjhe aur use aatmvishvaas dena aur unhe itni daya dena ki vaah har logo ki madad kar sake aur duniya ke log kabhi bhi unka swasthya bigad nahi main yahi bhagwan se manata

अगर मैं भगवान से एक सवाल पूछ सकता तो मैं कहता कि हे प्रभु इस विश्व के सभी लोगों को गरीबी म

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  168
WhatsApp_icon
user

Debidutta Swain

IAS Aspirant | Life Motivational Speaker,Daily Story Teller

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान के पास अगर मेरा एक प्रश्न होगा तो यह क्या होगा इसका उत्तर में ऐसे देना चाहता हूं कि यह जो का धरती है बोला जाता है अगर यहां पर भगवान के प्रश्न है तो यही बात मानना पड़ेगा कि भगवान हमें सभी को इस धरती में भेजे हैं और मौत के बाद कहीं ना कहीं भगवान के घर हम जानते हैं मतलब स्वर्ग या नर्क में जाते हैं क्योंकि भगवान के आस-पास रहते हैं तुमको पहले मानना पड़ेगी भगवान का डिमांड मैं भगवान से यही पूछना चाहूंगा कि भगवान क्या यह पृथ्वी आपका टेलीविजन चैनल इन टेलिविजन चैनल में देखते हैं क्या देखते हैं कि उसे मैं कुछ नाटक वाली चलता है उसी में कोई आता है कोई किसी का मौत हो जाता है फिर कोई रोता है कोई किसी का शादी होता है कोई हंसता है कोई रोता है और कुछ टाइम के बाद दो नाटक खत्म हो जाता है रोटी भी का प्रोग्राम बंद हो जाता है लता के भगवान हम सभी कोई धरती में भेजे हैं तो फिर हमारे अंदर में इतना दुख पीड़ा पीड़ा यह दुख कामना इस क्यों दिए हैं हम अगर अगर मैं दुखी में रहता हूं तो कहीं ना कहीं भगवान ऊपर नीतीश को देख रहा है यह टीवी है ओके तो मकान ऊपर इसको देख रहा है मैं अगर रो रहा हूं तो उसको देखकर मजा ले रहा है अगर मैं हस रहा हो तो उसको देखकर मजा ले रहा है ओके मेरा अगर कोई प्रिया सहोदर का मौत हो जाता है तो उसमें वह मजा ले रहा है फ्री में अगर कुछ अच्छे करता हूं उसमें मजा लेता है तो कहीं ना कहीं में क्या एक कठपुतली हूं मैं भगवान से यह प्रश्न पूछना चाहूंगा कि क्यों हमको ऐसे कठपुतली बनाकर रखे हो भगवान आप एक बार हमको इस धरती में भेजते हो फिर कुछ टाइम के बाद ले जाते हो फिर यह बंधन क्यों बनाए हो यह हम सभी को इतना दुख में क्यों डालते रहते हो कठपुतली क्यों बनाते हो सभी को यह मेरा भगवान के लिए प्रश्न रहेगा

bhagwan ke paas agar mera ek prashna hoga toh yah kya hoga iska uttar mein aise dena chahta hoon ki yah jo ka dharti hai bola jata hai agar yahan par bhagwan ke prashna hai toh yahi baat manana padega ki bhagwan hamein sabhi ko is dharti mein bheje hain aur maut ke baad kahin na kahin bhagwan ke ghar hum jante hain matlab swarg ya nark mein jaate hain kyonki bhagwan ke aas paas rehte hain tumko pehle manana padegi bhagwan ka demand main bhagwan se yahi poochna chahunga ki bhagwan kya yah prithvi aapka television channel in television channel mein dekhte kya dekhte hain ki use main kuch natak wali chalta hai usi mein koi aata hai koi kisi ka maut ho jata hai phir koi rota hai koi kisi ka shadi hota hai koi hansata hai koi rota hai aur kuch time ke baad do natak khatam ho jata hai roti bhi ka program band ho jata hai lata ke bhagwan hum sabhi koi dharti mein bheje hain toh phir hamare andar mein itna dukh peeda peeda yah dukh kamna is kyon diye hain hum agar agar main dukhi mein rehta hoon toh kahin na kahin bhagwan upar nitish ko dekh raha hai yah TV hai ok toh makan upar isko dekh raha hai agar ro raha hoon toh usko dekhkar maza le raha hai agar main has raha ho toh usko dekhkar maza le raha hai ok mera agar koi priya sahodar ka maut ho jata hai toh usme vaah maza le raha hai free mein agar kuch acche karta hoon usme maza leta hai toh kahin na kahin mein kya ek kathaputali hoon main bhagwan se yah prashna poochna chahunga ki kyon hamko aise kathaputali banakar rakhe ho bhagwan aap ek baar hamko is dharti mein bhejate ho phir kuch time ke baad le jaate ho phir yah bandhan kyon banaye ho yah hum sabhi ko itna dukh mein kyon daalte rehte ho kathaputali kyon banate ho sabhi ko yah mera bhagwan ke liye prashna rahega

भगवान के पास अगर मेरा एक प्रश्न होगा तो यह क्या होगा इसका उत्तर में ऐसे देना चाहता हूं कि

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  74
WhatsApp_icon
user

Kishan Kumar

Motivational speaker

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड आप का क्वेश्चन है अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो वह कौन सा सवाल होता है दोस्तों मैं भगवान से एक ही सवाल पूछता कि आपने दुनिया तो बनाई है और लोगों को भी यहां पर लोग रह रहे हैं आप क्यों उनके माता-पिता एक बेटे से क्यों उनको अलग कर देते हो क्यों उनको उम्र से पहले उनकी जिंदगी ले लेते हो और और उनके लड़के बच्चे वैसे असहाय ग्रुप में रह जाते हैं मैं अपने फैमिली के लिए रह जाते हैं ऐसा क्यों करते हो मैं भगवान से यही पूछता कि उनकी खुशियां चंद मिनटों में क्यों छीन ले जाते हो थैंक यू

hello friend aap ka question hai agar aap bhagwan se koi ek sawaal puch sakte toh vaah kaun sa sawaal hota hai doston main bhagwan se ek hi sawaal poochta ki aapne duniya toh banai hai aur logo ko bhi yahan par log reh rahe hain aap kyon unke mata pita ek bete se kyon unko alag kar dete ho kyon unko umr se pehle unki zindagi le lete ho aur aur unke ladke bacche waise asahay group mein reh jaate hain main apne family ke liye reh jaate hain aisa kyon karte ho main bhagwan se yahi poochta ki unki khushiya chand minaton mein kyon cheen le jaate ho thank you

हेलो फ्रेंड आप का क्वेश्चन है अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो वह कौन सा सवाल होता

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  504
WhatsApp_icon
user

Rajesh Kumar Pandey

Career Counsellor

0:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान से एक सवाल पूछना जानते हैं क्या पूछेंगे कि हम कौन है और क्या है

bhagwan se ek sawaal poochna jante kya puchenge ki hum kaun hai aur kya hai

भगवान से एक सवाल पूछना जानते हैं क्या पूछेंगे कि हम कौन है और क्या है

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
user

Pankaj Kr(youtube -AJ PANKAJ MATHS GURU)

Motivational Speaker/YouTube-AJ PANKAJ MATHS GURU

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरे मुझे यह प्रश्न पूछने पूजा जाता तो मैं सबसे पहले स्वर से पूछता कि हे प्रभु आप इस संसार में शांति लाने के लिए आतंकवाद उत्पन्न होने वाली समस्या को ही खत्म कर दें जिससे कि देश में ही ने विश्व में कई आतंकवादी ना उत्पन्न और आतंकवाद उत्पन्न नहीं होगा तो पूरे विश्व में सुख सहित पूरे विश्व में शांति बनी रहेगी और इस शांति बनी रहेगी और लोग शांति बनी रहने से लोगों में भाईचारा का प्रेम बढ़ेगा लोग एक दूसरे की भावनाओं को समझेंगे मैं यही प्रश्न ईश्वर से पूछूंगा

arre mujhe yah prashna poochne puja jata toh main sabse pehle swar se poochta ki hai prabhu aap is sansar mein shanti lane ke liye aatankwad utpann hone wali samasya ko hi khatam kar de jisse ki desh mein hi ne vishwa mein kai aatankwadi na utpann aur aatankwad utpann nahi hoga toh poore vishwa mein sukh sahit poore vishwa mein shanti bani rahegi aur is shanti bani rahegi aur log shanti bani rehne se logo mein bhaichara ka prem badhega log ek dusre ki bhavnao ko samjhenge main yahi prashna ishwar se poochhoonga

अरे मुझे यह प्रश्न पूछने पूजा जाता तो मैं सबसे पहले स्वर से पूछता कि हे प्रभु आप इस संसार

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
user

Prakash Kumar

Business Owner

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो वह कौन सा होता अगर मैं भगवान से कोई सवाल पूछ सकता हूं तो शायद मेरा सवाल यही होता कि भगवान अपने ऐसी दुनिया क्यों बनाई यहां ऊंच-नीच जात-पात जाति धर्म बड़ा छोटा गरीब अमीर आदमी ऐसा ही क्यों देखता है सब को एक समान सम्मान क्यों नहीं देता है मेरी इच्छा यही होगी

agar aap bhagwan se koi ek sawaal puch sakte toh vaah kaun sa hota agar main bhagwan se koi sawaal puch sakta hoon toh shayad mera sawaal yahi hota ki bhagwan apne aisi duniya kyon banai yahan unch neech jaat pat jati dharm bada chota garib amir aadmi aisa hi kyon dekhta hai sab ko ek saman sammaan kyon nahi deta hai meri iccha yahi hogi

अगर आप भगवान से कोई एक सवाल पूछ सकते तो वह कौन सा होता अगर मैं भगवान से कोई सवाल पूछ सकता

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user

Shubham Saini

Software Engineer

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर हम भगवान से प्रश्न करना चाहेंगे तो वह यह होगा कि इस दुनिया का रचना कैसे हुआ यह हमारा मुझसे प्रश्न रहेगा

agar hum bhagwan se prashna karna chahenge toh vaah yah hoga ki is duniya ka rachna kaise hua yah hamara mujhse prashna rahega

अगर हम भगवान से प्रश्न करना चाहेंगे तो वह यह होगा कि इस दुनिया का रचना कैसे हुआ यह हमारा म

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  662
WhatsApp_icon
user

Paras

Blessing Baba

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर भगवान से कोई प्रश्न पूछा जाए तो मेरा यही प्रश्न है कि मोह माया की नगरी क्यों बनाई गई अगर यह मोह माया की नगरी नहीं होती तो हमें ना तो सुख सुख और ना ही दुख दोनों को भोगना होता यही मेरा प्रश्न रहेगा बाकी तो उन्होंने किताब है तू धरती पर ही रखी है दी हुए उपदेश सभी धर्मों के अनुयायियों ने अपने अपने ज्ञान बांटे हैं सबका अपना-अपना तर्क है आप सब अपनी विचारधारा के अनुसार उसको करते हैं और उसको फॉलो करते हैं

agar bhagwan se koi prashna poocha jaaye toh mera yahi prashna hai ki moh maya ki nagari kyon banai gayi agar yah moh maya ki nagari nahi hoti toh hamein na toh sukh sukh aur na hi dukh dono ko bhogna hota yahi mera prashna rahega baki toh unhone kitab hai tu dharti par hi rakhi hai di hue updesh sabhi dharmon ke anuyayiyon ne apne apne gyaan bante hain sabka apna apna tark hai aap sab apni vichardhara ke anusaar usko karte hain aur usko follow karte hain

अगर भगवान से कोई प्रश्न पूछा जाए तो मेरा यही प्रश्न है कि मोह माया की नगरी क्यों बनाई गई अ

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  149
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!