जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं?...


user

Dr. J.Singh

Financial Expert || Ayurvedic Doctor

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लक्ष्य याद करते हैं और क्या क्या कर के क्वेश्चन आ सकता है क्या हम क्या करें हम से बात हुई आपकी

lakshya yaad karte hain aur kya kya kar ke question aa sakta hai kya hum kya kare hum se baat hui aapki

लक्ष्य याद करते हैं और क्या क्या कर के क्वेश्चन आ सकता है क्या हम क्या करें हम से बात हुई

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  197
WhatsApp_icon
25 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ansh jalandra

Motivational speaker & criminal lawyer

0:27
Play

Likes  143  Dislikes    views  2368
WhatsApp_icon
user

Santosh Singh indrwar

Business Consultant & Life Couch

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब आप अकेले होते हैं तो आपके हाथों के बारे में सोचते हैं ज्यादातर लोग तो अपने भूत के बारे में सोचते हैं कि मेरे भूत में यह हुआ था मेरे पास तुम्हें यह हुआ था और कुछ लोग फ्यूचर के बारे में भी सोचते

jab aap akele hote hain toh aapke hathon ke bare me sochte hain jyadatar log toh apne bhoot ke bare me sochte hain ki mere bhoot me yah hua tha mere paas tumhe yah hua tha aur kuch log future ke bare me bhi sochte

जब आप अकेले होते हैं तो आपके हाथों के बारे में सोचते हैं ज्यादातर लोग तो अपने भूत के बारे

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  81
WhatsApp_icon
user

Dr.Paramjit Singh

Health and Fitness Expert/ Lecturer In Physical Education/

0:50
Play

Likes  114  Dislikes    views  1776
WhatsApp_icon
user

Bk Arun Kaushik

Youth Counselor Motivational Speaker

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार प्रश्न पूछा है जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं साथ ही यह प्रश्न पहले किसी ने नहीं पूछा इसलिए ना ही किसी से शेयर किया संजू आज आप लोगों ने पूछा है तो आपसे शेयर कर मैं जब दीप अकेला होता हूं मेरे मन में सजाया जाता है कि मैंने जो इतना जीवन में अनुभव आया है उसको शेयर करो सब के साथ केवल उन लोगों के साथ रिंकू इसकी आवश्यकता हो ताकि हमारी आने वाली समस्याओं को पेश करने में अकाउंट बन सके यदि मेरे मन में आता है कि जब मैं अकेला होता हूं क्योंकि युवा वर्ग से 99856 जुड़ा हुआ हूं उनको अधिक से अधिक उनको एक सफल तनावमुक्त नशा मुक्त जीवन जीने में हेल्प कर सकूं उसके लिए कई प्रकार के तरीके ढूंढता रहता यह भी मन में आता है कि जो भी कार्य करूं मैं पहले की एक-एक आने से कुछ नया होता कि मुझे भी उस कार्य करने में आनंद आए और वर्तमान समय के अनुसार भी हो ऐसे तो और भी बहुत से आईडी अजमल में चलते रहते हैं परंतु इतना ही काफी है लिखना धन्यवाद

namaskar prashna poocha hai jab aap akele hote hain toh aap kin baaton ke bare me sochte hain saath hi yah prashna pehle kisi ne nahi poocha isliye na hi kisi se share kiya sanju aaj aap logo ne poocha hai toh aapse share kar main jab deep akela hota hoon mere man me sajaya jata hai ki maine jo itna jeevan me anubhav aaya hai usko share karo sab ke saath keval un logo ke saath rinku iski avashyakta ho taki hamari aane wali samasyaon ko pesh karne me account ban sake yadi mere man me aata hai ki jab main akela hota hoon kyonki yuva varg se 99856 juda hua hoon unko adhik se adhik unko ek safal tanaavmukt nasha mukt jeevan jeene me help kar sakun uske liye kai prakar ke tarike dhundhta rehta yah bhi man me aata hai ki jo bhi karya karu main pehle ki ek ek aane se kuch naya hota ki mujhe bhi us karya karne me anand aaye aur vartaman samay ke anusaar bhi ho aise toh aur bhi bahut se id ajamal me chalte rehte hain parantu itna hi kaafi hai likhna dhanyavad

नमस्कार प्रश्न पूछा है जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं साथ ही य

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

1:03
Play

Likes  529  Dislikes    views  6880
WhatsApp_icon
user

MRI

Retired Executive (PSU), Electrical Engineer, AUTHOR, हिंदी भषा में चार पुस्तकें प्रकाशित. जल्द ही तीन और प्रकाशित होने वाली हैं ।

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है जब आप अकेले होते हैं तो आप इन बातों के बारे में मेरी बात है मैं अकेला ही हूं अकेला होता हूं कि बात नहीं अकेला ही हूं मैंने निर्णय ही किया कि मैं अकेला रहूंगा मनीष आती नहीं मर्डर हो चुका नौकरी से 65 साल का हूं कौन होता कि मैं किन बारे में कुछ चल चलते हुए लोगों को देखना और सुना है किताब लिखना और पढ़ना मेहंदी लिखने का 2 भाषाओं का जानने का शुभ दिन हो 5 भाषाएं बोल देता हूं हिंदी में लिखता हूं कविताएं कहानियां लेख मेरी छुट्टी है किताबों में तौर पर छात्र के साथ तैयार हो गई है और शाम को रोज शाम को हम कैरम खेलते हैं और जब भी टाइम नहीं था सो जाता हूं दिन में 8 घंटे क्या कोई क्या होगी अगली कविता क्या होगी कैसे होगी और भाई अपनी किताब कैसा रहेगा कहानियां रहेंगी लिखेंगे कहेगी कब्रिस्तान के बारे में कई भाई-बहनों के बारे में कभी दोस्तों के बारे में सोच लेते हैं कभी-कभी कर लेता

aapne poocha hai jab aap akele hote hain toh aap in baaton ke bare me meri baat hai main akela hi hoon akela hota hoon ki baat nahi akela hi hoon maine nirnay hi kiya ki main akela rahunga manish aati nahi murder ho chuka naukri se 65 saal ka hoon kaun hota ki main kin bare me kuch chal chalte hue logo ko dekhna aur suna hai kitab likhna aur padhna mehendi likhne ka 2 bhashaon ka jaanne ka shubha din ho 5 bhashayen bol deta hoon hindi me likhta hoon kavitayen kahaniya lekh meri chhutti hai kitabon me taur par chatra ke saath taiyar ho gayi hai aur shaam ko roj shaam ko hum carrom khelte hain aur jab bhi time nahi tha so jata hoon din me 8 ghante kya koi kya hogi agli kavita kya hogi kaise hogi aur bhai apni kitab kaisa rahega kahaniya rahegi likhenge kahegi kabristan ke bare me kai bhai bahnon ke bare me kabhi doston ke bare me soch lete hain kabhi kabhi kar leta

आपने पूछा है जब आप अकेले होते हैं तो आप इन बातों के बारे में मेरी बात है मैं अकेला ही हूं

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  235
WhatsApp_icon
user

Meena Varma

Professor/Career Advice

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि जब आप अकेले होते तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं इंसान जब अकेला होता है तो उसके दिमाग में बहुत सी बातें घूमती है जो कि वह सब के साथ में लिखी नहीं सोच सकता है सबसे पहले तो वह अपने भविष्य की योजनाएं जो बना रहा है वह जो उसने जो करना है भविष्य का क्या प्लान है उसके बारे में किसको कहते कि वेट करना है कैसे उसको करना इस बारे में सोचता है और अकेले जब हम अकेले होते हैं तो अकेले में अकेलेपन में बहुत सी बातें थी जो सबके साथ में नहीं सोचते हैं इसलिए हम होते कुछ लोग होते हैं जो चिप रिश्ते रिश्ते

aapka sawaal hai ki jab aap akele hote toh aap kin baaton ke bare me sochte hain insaan jab akela hota hai toh uske dimag me bahut si batein ghoomti hai jo ki vaah sab ke saath me likhi nahi soch sakta hai sabse pehle toh vaah apne bhavishya ki yojanaye jo bana raha hai vaah jo usne jo karna hai bhavishya ka kya plan hai uske bare me kisko kehte ki wait karna hai kaise usko karna is bare me sochta hai aur akele jab hum akele hote hain toh akele me akelepan me bahut si batein thi jo sabke saath me nahi sochte hain isliye hum hote kuch log hote hain jo chip rishte rishte

आपका सवाल है कि जब आप अकेले होते तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं इंसान जब अकेला होता

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  1130
WhatsApp_icon
user

Pankaj Vasuja

Cinematographer

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब मैं अकेला होता हूं तो मैं सोचता हूं कि मोबाइल चला लूं नहीं नहीं एप्लीकेशन में नया-नया कोई ना कोई ना करता रहूं सोशल मीडिया भी उंगली करता रहता हूं आजकल तो अकेले है वैसे ना अकेला कभी नहीं होता एक पता नहीं भगवान जैसा कोई मित्र होता है वह मुझसे बात करता रहता है हमेशा सबके साथ ऐसा होता है क्या धन्यवाद

jab main akela hota hoon toh main sochta hoon ki mobile chala loon nahi nahi application mein naya naya koi na koi na karta rahun social media bhi ungli karta rehta hoon aajkal toh akele hai waise na akela kabhi nahi hota ek pata nahi bhagwan jaisa koi mitra hota hai vaah mujhse baat karta rehta hai hamesha sabke saath aisa hota hai kya dhanyavad

जब मैं अकेला होता हूं तो मैं सोचता हूं कि मोबाइल चला लूं नहीं नहीं एप्लीकेशन में नया-नया क

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  235
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं ताकि मेरा मानना है मैं अकेले होता तो यह बारंबार मेरे मैसेज अपने एक बातें हैं पुनः आया करती हैं कि यह संसार जो है बिल्कुल स्वस्थ हो जाए और कोई भी व्यक्ति यशवंत नारे और किसी भी व्यक्ति की आरती की स्थिति इतनी खराब ना हो जिसे स्थिति को बर्दाश्त ना कर इतना जरूर उसके पास रहे कि उसे रोटी कपड़ा के लिए सोचने की आवश्यकता ना पड़े कभी तो यह सब प्रश्न है यार यह सब इन्हीं समस्याओं के बारे में जब मैं अकेले रहता हूं तो सोचता रहता हूं लेकिन यह इतनी बड़ी विस्तृत समस्या हर विशाल समस्या है अपने बस का तो रोग नहीं है लेकिन मैं यहां तक कोशिश करता हूं कि जिस भी एरिया में रहता हूं उस एरिया को बस सोचता हो कि है एरिया बिल्कुल स्वस्थ रहें और किसी व्यक्ति को जहां तक कुछ कमी ना हो जहां तक मेरा मेरे जितना हो सकता है मैं करता भी हूं इसमें कोई डाउट की बात नहीं है धन्यवाद

aapka question hai jab aap akele hote hain toh aap kin baaton ke bare mein sochte hain taki mera manana hai akele hota toh yah barambar mere massage apne ek batein hain punh aaya karti hain ki yah sansar jo hai bilkul swasthya ho jaaye aur koi bhi vyakti yashvant nare aur kisi bhi vyakti ki aarti ki sthiti itni kharab na ho jise sthiti ko bardaasht na kar itna zaroor uske paas rahe ki use roti kapda ke liye sochne ki avashyakta na pade kabhi toh yah sab prashna hai yaar yah sab inhin samasyaon ke bare mein jab main akele rehta hoon toh sochta rehta hoon lekin yah itni badi vistrit samasya har vishal samasya hai apne bus ka toh rog nahi hai lekin main yahan tak koshish karta hoon ki jis bhi area mein rehta hoon us area ko bus sochta ho ki hai area bilkul swasthya rahein aur kisi vyakti ko jaha tak kuch kami na ho jaha tak mera mere jitna ho sakta hai karta bhi hoon isme koi doubt ki baat nahi hai dhanyavad

आपका क्वेश्चन है जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं ताकि मेरा मानन

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  1096
WhatsApp_icon
user

Lalit Maheshwari

Social Worker

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब भी मैं अकेला होता हूं तो मैं ओन्ली फॉर एक ही बात करता हूं अपनी डायरी को लिखता हूं और जो भी वह फ्यूचर टाइम के अंदर करना चाहता हूं उनको मैं मेनफ्रेम वर्क बनाता हूं और उनकी व्हेन स्टार्ट ही क्रिएट करता हूं विश्व रूप में एंड वर्ड के रूप में थैंक यू

jab bhi main akela hota hoon toh main only for ek hi baat karta hoon apni diary ko likhta hoon aur jo bhi vaah future time ke andar karna chahta hoon unko main mainframe work banata hoon aur unki when start hi create karta hoon vishwa roop mein and word ke roop mein thank you

जब भी मैं अकेला होता हूं तो मैं ओन्ली फॉर एक ही बात करता हूं अपनी डायरी को लिखता हूं और जो

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
play
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे छपरा से जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते अवकाश लोग अपनी फैमिली के बारे में सोचते हैं क्या करना है क्या नहीं फिर कभी तो रिप्लाई करना या फिर उसमें अभी क्या करना है कुछ काम बाकी रह गया है तो वह पूरा कर ले फिर अपना कुछ ना कुछ नहीं जो है आज कितनी है उसी में बिजी रहना चाहिए तुरंत पूरा कल कोई प्रॉब्लम ना हो

mujhe chapra se jab aap akele hote hain toh aap kin baaton ke bare mein sochte avkash log apni family ke bare mein sochte kya karna hai kya nahi phir kabhi toh reply karna ya phir usme abhi kya karna hai kuch kaam baki reh gaya hai toh vaah pura kar le phir apna kuch na kuch nahi jo hai aaj kitni hai usi mein busy rehna chahiye turant pura kal koi problem na ho

मुझे छपरा से जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते अवकाश लोग अपनी फैमिली

Romanized Version
Likes  399  Dislikes    views  5453
WhatsApp_icon
user
0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब मैं अकेला होता हूं तो वह कल पर लोगों के प्रश्नों के उत्तर देने के बारे में सोचता हूं कि किस प्रकार से उन्हें उनके सवालों के जवाब दो ताकि लोग उससे संतुष्ट हो उन्होंने सही सही जानकारी दे सकूं यही मेरा काम है और मैं उसे बखूबी निभाने की कोशिश कर रहा हूं

jab main akela hota hoon toh vaah kal par logo ke prashnon ke uttar dene ke bare mein sochta hoon ki kis prakar se unhe unke sawalon ke jawab do taki log usse santusht ho unhone sahi sahi jaankari de sakun yahi mera kaam hai aur main use bakhubi nibhane ki koshish kar raha hoon

जब मैं अकेला होता हूं तो वह कल पर लोगों के प्रश्नों के उत्तर देने के बारे में सोचता हूं कि

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  1727
WhatsApp_icon
user

Ram jee kushwaha

Man Power Supply

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों गुड मॉर्निंग मैं अकेले होता हूं तो क्या सोचता हूं वह हर इंसान के लिए अपनी अपनी सोच होती है तो मैं बोलना चाहूंगा मैं तुझे प्राइवेट जॉब करता हूं उससे खांसी कम नहीं होती है मैं तो सोचता हूं यार मैं अपना खुद का बिजनेस कब शुरू करूं कि मैं किसी के अंडर पर काम करूं खुद कभी नहीं तो मैं दूसरों को काम कितने लोग बेरोजगार हैं और उनको आराम करो ना काम देता हूं ऐसा सोचता हूं शायद इस सबके लिए भी अच्छा होगा और हमारे लिए भी अच्छा होगा और फ्यूचर प्लानिंग के लिए भी ठीक होगा खुद का बिजनेस करो खुद ही सोच तुम खुद का बिजनेस करूं अच्छा खासा तुम लाख दो लाख मंथली इनकम है अकेला रहता तो बस यही सोचता हूं 20 25 30000 फैसले में हैंडल नहीं होगा धन्यवाद

doston good morning main akele hota hoon toh kya sochta hoon vaah har insaan ke liye apni apni soch hoti hai toh main bolna chahunga main tujhe private job karta hoon usse khansi kam nahi hoti hai toh sochta hoon yaar main apna khud ka business kab shuru karu ki main kisi ke under par kaam karu khud kabhi nahi toh main dusro ko kaam kitne log berozgaar hain aur unko aaram karo na kaam deta hoon aisa sochta hoon shayad is sabke liye bhi accha hoga aur hamare liye bhi accha hoga aur future planning ke liye bhi theek hoga khud ka business karo khud hi soch tum khud ka business karu accha khasa tum lakh do lakh monthly income hai akela rehta toh bus yahi sochta hoon 20 25 30000 faisle mein handle nahi hoga dhanyavad

दोस्तों गुड मॉर्निंग मैं अकेले होता हूं तो क्या सोचता हूं वह हर इंसान के लिए अपनी अपनी सोच

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  99
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं जब मनुष्य अकेला होता है तो वह अपनी अच्छाइयों और अपनी कमियों के बारे में विचार करता है या जो उसने किसी दूसरे के साथ कोई गलत कार्य किया होता है वह विचार भी उसके मस्तिष्क में घूम रहे होते हैं इसलिए अकेले या कुछ समय एकांत में बैठना चाहिए और अपने अच्छे और बुरे कर्मों के बारे में विचार अवश्य करना चाहिए धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

namaskar aapka prashna hai jab aap akele hote hain toh aap kin baaton ke bare me sochte hain jab manushya akela hota hai toh vaah apni acchhaiyon aur apni kamiyon ke bare me vichar karta hai ya jo usne kisi dusre ke saath koi galat karya kiya hota hai vaah vichar bhi uske mastishk me ghum rahe hote hain isliye akele ya kuch samay ekant me baithana chahiye aur apne acche aur bure karmon ke bare me vichar avashya karna chahiye dhanyavad aapka din shubha ho

नमस्कार आपका प्रश्न है जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं जब मनुष्

Romanized Version
Likes  225  Dislikes    views  3272
WhatsApp_icon
user

Akash Gupta

Pharmacist

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका काफी अच्छा सवाल है कि जब आप अकेले होते हैं तो किन बातों के बारे में सोचते हैं दोस्तों मैं बताना चाहता हूं जब मैं अकेला होता हूं तब मैं अपने प्रोफेशन अपने काम और अपनी लाइफ के बारे में सोचता हूं उसको किस तरह और बेहतर बना सकता हूं इसी चीज के बारे में मैं अपने खाली टाइम में जब मैं अकेला होता हूं तब मैं यही सब सारी चाहिए सोचता हूं कि मैं अपनी फैमिली में लोगों को कैसे खुश रख सकता हूं कैसे मैं उन्हें खुशियां दे सकता हूं जो वह चाहते हैं जो मुझसे डांस हैं वह मेरे मुन्ने के में कैसे ले सकता हूं इन्हीं चीजों के बारे में अकेले में सोचता हूं और अपने काम को और मिलाएं को ज्यादा ज्यादा बेहतर बनाने के लिए लगा रहता हूं कुछ कुछ हमेशा करता रहता हूं ताकि मैं अपने आप को और अपनी लाइफ को बेहतर बना सकूं धन्यवाद

aapka kaafi accha sawaal hai ki jab aap akele hote hain toh kin baaton ke bare mein sochte hain doston main batana chahta hoon jab main akela hota hoon tab main apne profession apne kaam aur apni life ke bare mein sochta hoon usko kis tarah aur behtar bana sakta hoon isi cheez ke bare mein main apne khaali time mein jab main akela hota hoon tab main yahi sab saari chahiye sochta hoon ki main apni family mein logo ko kaise khush rakh sakta hoon kaise main unhe khushiya de sakta hoon jo vaah chahte hain jo mujhse dance hain vaah mere munne ke mein kaise le sakta hoon inhin chijon ke bare mein akele mein sochta hoon aur apne kaam ko aur milaen ko zyada zyada behtar banane ke liye laga rehta hoon kuch kuch hamesha karta rehta hoon taki main apne aap ko aur apni life ko behtar bana saku dhanyavad

आपका काफी अच्छा सवाल है कि जब आप अकेले होते हैं तो किन बातों के बारे में सोचते हैं दोस्तों

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  64
WhatsApp_icon
user

Norang sharma

Social Worker

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज का सवाल है कि जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं दोस्तों हर इंसान का अलग-अलग थॉट प्रोसेस होता है अलग-अलग विषय होती हैं अलग-अलग स्वभाव होता है उनसे अकॉर्डिंग जो थिंकिंग है किसी के मन में चलती रहती है जहां तक मैं अपनी बात करूं तो मैं जब अकेला होता हूं तो अपने परिवार के बारे में अपने करियर को लेकर और जीवन में मुझे क्या करना है और मैंने जो सोचा था उस लक्ष्य को में कितना अचीव कर पाया मैं इन चीजों के बारे में सोचता हूं कभी-कभी उटपटांग चीजें भी दिमाग में चलती हैं नेगेटिव थिंकिंग भी आ जाती है लेकिन फिर मैं अपने आप को संभाल लेता हूं मैं अपने आप को किसी क्रिएटिव एक्टिविटी में जोड़ दें तुम जैसे डांस म्यूजिक यह दो मुझे बेहद पसंद है मैं जब भी फ्री होता हूं मैं डांस करने लगता हूं क्योंकि यह मुझे मानसिक रूप से और शारीरिक रूप से फिट रखता है लेकिन दोस्तों हर किसी की अपनी अपनी कुछ ऑफिस होती हैं लाइक सोते डिसलाइक्स होते हैं उसी हिसाब की जो थिंकिंग है वह किसी के मन में चलती रहती है धन्यवाद

namaskar doston vaah kal par sun rahe mere sabhi buddhijeevi shrotaon ko mera pyar bhara namaskar aaj ka sawaal hai ki jab aap akele hote hain toh aap kin baaton ke bare me sochte hain doston har insaan ka alag alag thought process hota hai alag alag vishay hoti hain alag alag swabhav hota hai unse according jo thinking hai kisi ke man me chalti rehti hai jaha tak main apni baat karu toh main jab akela hota hoon toh apne parivar ke bare me apne career ko lekar aur jeevan me mujhe kya karna hai aur maine jo socha tha us lakshya ko me kitna achieve kar paya main in chijon ke bare me sochta hoon kabhi kabhi utaptang cheezen bhi dimag me chalti hain Negative thinking bhi aa jaati hai lekin phir main apne aap ko sambhaal leta hoon main apne aap ko kisi creative activity me jod de tum jaise dance music yah do mujhe behad pasand hai main jab bhi free hota hoon main dance karne lagta hoon kyonki yah mujhe mansik roop se aur sharirik roop se fit rakhta hai lekin doston har kisi ki apni apni kuch office hoti hain like sote dislaiks hote hain usi hisab ki jo thinking hai vaah kisi ke man me chalti rehti hai dhanyavad

नमस्कार दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज

Romanized Version
Likes  98  Dislikes    views  2880
WhatsApp_icon
user

Ajay kaushik

Astrologer

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब मैं अकेला होता हूं तो मैं यही सोचता हूं कि भगवान ने हमें क्यों बनाया मुझे लगता है कि भगवान ने हमें एक ऐसे गेम बनाया है सब कुछ है जिसमें सब कुछ है हमारी लाइफ लाइन हमारे कुछ खेलने का रूल से और ऊपर बैठकर भगवानाराम से हमारे जैसन खेल रहे हैं उस गेम को देखता है

jab main akela hota hoon toh main yahi sochta hoon ki bhagwan ne hamein kyon banaya mujhe lagta hai ki bhagwan ne hamein ek aise game banaya hai sab kuch hai jisme sab kuch hai hamari life line hamare kuch khelne ka rule se aur upar baithkar bhagavanaram se hamare jaisan khel rahe hain us game ko dekhta hai

जब मैं अकेला होता हूं तो मैं यही सोचता हूं कि भगवान ने हमें क्यों बनाया मुझे लगता है कि भग

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  230
WhatsApp_icon
user

Shubham Saini

Software Engineer

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब मैं अकेला होता हूं अपने जीवन में तुम्हें किन बातों पर सोचता हूं तुम्हें उन बातों पर सोचता हूं अपने भविष्य की बातों पर कि मेरा भविष्य कैसा होगा हम अपना बर्तमान सही करने में लग जाते हैं हम खुद के बारे में सोचते हैं जब व्यक्ति कभी अकेला होता है उसके आसपास कोई ना हो तो ज्यादातर व्यक्ति अपने बारे में ही सोचता है और आज के दौर में लोग अपने बारे में सोचना भूल जाते हैं

jab main akela hota hoon apne jeevan me tumhe kin baaton par sochta hoon tumhe un baaton par sochta hoon apne bhavishya ki baaton par ki mera bhavishya kaisa hoga hum apna bartaman sahi karne me lag jaate hain hum khud ke bare me sochte hain jab vyakti kabhi akela hota hai uske aaspass koi na ho toh jyadatar vyakti apne bare me hi sochta hai aur aaj ke daur me log apne bare me sochna bhool jaate hain

जब मैं अकेला होता हूं अपने जीवन में तुम्हें किन बातों पर सोचता हूं तुम्हें उन बातों पर सोच

Romanized Version
Likes  203  Dislikes    views  985
WhatsApp_icon
user

Prakash Kumar

Business Owner

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं मैं जब अकेला होता हूं तो मैं सोचता हूं कि आगे का समय कैसा जाएगा और मुझे क्या करना चाहिए कोशिश करता हूं कि कुछ अच्छा ही हो मेरे साथ में और कुछ अच्छा करने की कोशिश करता हूं इसलिए मैं यह सोचता रहता हूं कि कुछ अच्छा ही हूं और अच्छा ही करो

jab aap akele hote hain toh aap kin baaton ke bare mein sochte hain main jab akela hota hoon toh main sochta hoon ki aage ka samay kaisa jaega aur mujhe kya karna chahiye koshish karta hoon ki kuch accha hi ho mere saath mein aur kuch accha karne ki koshish karta hoon isliye main yah sochta rehta hoon ki kuch accha hi hoon aur accha hi karo

जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं मैं जब अकेला होता हूं तो मैं सो

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  163
WhatsApp_icon
user

Kajal Jaisansaria Agarwal

Financial Planner

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं जब भी अकेली होती हूं तो मैं यह सोचती हूं कि मैं खुद को एक का सफलतापूर्वक ऐसे कंपनी का मैनेजर के रूप में देखते हो कि मैं मेरे पास गाड़ी होगी बंगला होगा लोग मेरे अंडर में काम करेंगे बिल्कुल सपने आते रहते हैं सफलता वाले ऊंचाइयों वाले सपने में लिखती रहती हूं कि मेरे नीचे बहुत सारे लोग काम कर रहे हैं

main jab bhi akeli hoti hoon toh main yah sochti hoon ki main khud ko ek ka safaltaapurvak aise company ka manager ke roop mein dekhte ho ki main mere paas gaadi hogi bangla hoga log mere under mein kaam karenge bilkul sapne aate rehte hai safalta waale unchaiyon waale sapne mein likhti rehti hoon ki mere niche bahut saare log kaam kar rahe hain

मैं जब भी अकेली होती हूं तो मैं यह सोचती हूं कि मैं खुद को एक का सफलतापूर्वक ऐसे कंपनी का

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
user

Mayur Gosai

Integrated facility management services

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है जब आप अकेले होते हैं क्या सोचते सोचते हो मीटिंग वक्त हमारा जो है आज कौन सा रोटी बोर के आज हमें क्या करना है उसके ऊपर काम के ऊपर ज्यादा सोच रहेगा क्योंकि दिन भर में जो हमें काम करना है उसके बारे में अगर पहले से ही सोचते नहीं रखेंगे तो हमें सक्सेस था बहुत कब मिलेगी तो फिर अकेले के दौरान हम पहले तो अपने काम के बारे में सोचते हैं फिर भी टाइम मिलता है तो कैरियर के बारे में सोचते हैं फैमिली के बारे में सोचती है खेल के बारे में सोचते हैं और कोई प्लानिंग करते हैं कि वह अभी छुट्टियों का दिन आएगा तो कहां घूमने जाएंगे वह सब सोचते हैं दिनभर जो प्रक्रिया है थे सिचुएशन दे कैसी सिचुएशन है और कैसी सिचुएशन आने वाली है उसके ऊपर हम हमारी सोच रहे थे तो दिन भर कर जो सोचने का नजरिया है कुछ होता नहीं कुछ बातें फिक्स होती है कुछ बातें जो सिचुएशन के ऊपर डिपेंड आती है तो इसी तरह से हमारे निजी जिंदगी में सोच सकते हैं

aapka sawaal hai jab aap akele hote kya sochte sochte ho meeting waqt hamara jo hai aaj kaun sa roti bore ke aaj hamein kya karna hai uske upar kaam ke upar zyada soch rahega kyonki din bhar mein jo hamein kaam karna hai uske bare mein agar pehle se hi sochte nahi rakhenge toh hamein success tha bahut kab milegi toh phir akele ke dauran hum pehle toh apne kaam ke bare mein sochte hain phir bhi time milta hai toh carrier ke bare mein sochte hain family ke bare mein sochti hai khel ke bare mein sochte hain aur koi planning karte hain ki vaah abhi chhuttiyon ka din aayega toh kahaan ghoomne jaenge vaah sab sochte hain dinbhar jo prakriya hai the situation de kaisi situation hai aur kaisi situation aane wali hai uske upar hum hamari soch rahe the toh din bhar kar jo sochne ka najariya hai kuch hota nahi kuch batein fix hoti hai kuch batein jo situation ke upar depend aati hai toh isi tarah se hamare niji zindagi mein soch sakte hain

आपका सवाल है जब आप अकेले होते हैं क्या सोचते सोचते हो मीटिंग वक्त हमारा जो है आज कौन सा रो

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user
1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब मैं आपके लिए होती हूं तो क्या करती हूं आप यह पूछना चाहते हैं मैं जब अकेली होती हूं तो बस यही सोचती हूं कि हम ऐसा कौन सा काम करें जो हमारे लिए सही हो हमारी फैमिली के लिए सही हो हमारे आने वाले फ्यूचर के लिए सही हो जो हमारे में से किसी को कोई ठेस न पहुंचे हमारे जैसे कभी किसी का दिल ना दुखे और हमेशा कोई काम ना करें जिससे हमारी फैमिली को हमारे वैसे शर्मिंदगी महसूस हो मैं हमेशा चाहती हूं कि जितना भी हो सके उतना समाज सेवा कर सकूं छोटे-छोटे बच्चे को पढ़ा सकूं फ्री सेवा कर सकूं मेरे मन में हमेशा यही सब ख्याल आते हैं और मैं हमेशा ऐसा ही महसूस करती हूं कि मेरे पास जितना हो सके उतना दूसरे का हेल्प कर सकूं और मैं इसके ऐसा क्या करूं जिससे मैं दूसरे को हेल्प कर सकूं टाइम दे सकूं एक दूसरे का दिल की बात समझ सको दूसरे का दर्द बांट सकूं दूसरे को हेल्प जहां तक हो वहां तक में हेल्प कर सकूं आगे सबकी अपनी अपनी सोच होती है हमारी सोच तो ऐसी है

jab main aapke liye hoti hoon toh kya karti hoon aap yah poochna chahte hain main jab akeli hoti hoon toh bus yahi sochti hoon ki hum aisa kaun sa kaam kare jo hamare liye sahi ho hamari family ke liye sahi ho hamare aane waale future ke liye sahi ho jo hamare mein se kisi ko koi thes na pahuche hamare jaise kabhi kisi ka dil na dukhe aur hamesha koi kaam na kare jisse hamari family ko hamare waise sharmindagi mehsus ho main hamesha chahti hoon ki jitna bhi ho sake utana samaj seva kar sakun chhote chhote bacche ko padha sakun free seva kar sakun mere man mein hamesha yahi sab khayal aate hain aur main hamesha aisa hi mehsus karti hoon ki mere paas jitna ho sake utana dusre ka help kar sakun aur main iske aisa kya karu jisse main dusre ko help kar sakun time de sakun ek dusre ka dil ki baat samajh Sako dusre ka dard baant sakun dusre ko help jaha tak ho wahan tak mein help kar sakun aage sabki apni apni soch hoti hai hamari soch toh aisi hai

जब मैं आपके लिए होती हूं तो क्या करती हूं आप यह पूछना चाहते हैं मैं जब अकेली होती हूं तो ब

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  68
WhatsApp_icon
user

Kishan Kumar

Motivational speaker

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स आप का क्वेश्चन है जब आप अकेले होते हैं तो आपकी बातों की बारे में सोचते हैं बहुत ही अच्छा सवाल है आज के टाइम में जब लोग अपने बारे में नहीं सोच रहे हैं जो भागदौड़ की जिंदगी में तो याद मेरे को टाइम मिला है अपने बारे में सोचने के लिए तो मैं गिरी सोचता हूं और अपना डायरी बना रखा उसमें हमेशा डिलीवर दिल्ली लिखता हूं कि मुझे फ्यूचर में क्या करना है क्या नहीं करना है उसको दिल्ली लिखता हूं और मैं अपने बारे में सोचता हूं कि दुनिया में समय क्या ऐसा काम करूं लोगों के लिए कि उनको मैं क्या दे सकती क्यों मनुष्य का जन्म एक बार मिला है तो मैं क्या देखे दुनिया को जाऊं और इस संसार को या अपने माता-पिता या अपने आने वाली फैमिली को क्या देकर जाऊं जो हमारे लिए वह यादगार का पल्ला है रहे और लोगों मेरे को जाने तो मैं वह इंसान हूं जो दुनिया को देखने नहीं आया हूं हम वह इंसान हैं जो दुनिया को दिखाने आया हूं मोहित जी सोचता हूं कि दुनिया को मैं क्या दिखा कर जाऊं क्या इतिहास रच कर जाऊं तो मैं वहां वही सोचता हूं वही करता हूं थैंक यू आपने यह सवाल पूछा

hello friends aap ka question hai jab aap akele hote hain toh aapki baaton ki bare mein sochte hain bahut hi accha sawaal hai aaj ke time mein jab log apne bare mein nahi soch rahe hain jo bhagdaud ki zindagi mein toh yaad mere ko time mila hai apne bare mein sochne ke liye toh main giri sochta hoon aur apna diary bana rakha usme hamesha deliver delhi likhta hoon ki mujhe future mein kya karna hai kya nahi karna hai usko delhi likhta hoon aur main apne bare mein sochta hoon ki duniya mein samay kya aisa kaam karu logo ke liye ki unko main kya de sakti kyon manushya ka janam ek baar mila hai toh main kya dekhe duniya ko jaaun aur is sansar ko ya apne mata pita ya apne aane wali family ko kya dekar jaaun jo hamare liye vaah yaadgaar ka palla hai rahe aur logo mere ko jaane toh main vaah insaan hoon jo duniya ko dekhne nahi aaya hoon hum vaah insaan hain jo duniya ko dikhane aaya hoon mohit ji sochta hoon ki duniya ko main kya dikha kar jaaun kya itihas rach kar jaaun toh main wahan wahi sochta hoon wahi karta hoon thank you aapne yah sawaal poocha

हेलो फ्रेंड्स आप का क्वेश्चन है जब आप अकेले होते हैं तो आपकी बातों की बारे में सोचते हैं ब

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
user

NARGIS RAHMAN

Professor

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं तो मैं इसका उत्तर देना चाहूंगी जब हम अकेले होते हैं तो हम सोचते हैं क्या हम अपने भविष्य को अपनी जिंदगी को कैसे बेहतर बनाएं इसके लिए हमें क्या करें कौन सी राह चुनी जिससे हमारे जिंदगी बेहतर अगर आपको आंसर सही लगे और अच्छा लगे तो लाइक कीजिए थैंक यू

aapka prashna hai jab aap akele hote hain toh aap kin baaton ke bare mein sochte hain toh main iska uttar dena chahungi jab hum akele hote hain toh hum sochte kya hum apne bhavishya ko apni zindagi ko kaise behtar banaye iske liye hamein kya kare kaun si raah chuni jisse hamare zindagi behtar agar aapko answer sahi lage aur accha lage toh like kijiye thank you

आपका प्रश्न है जब आप अकेले होते हैं तो आप किन बातों के बारे में सोचते हैं तो मैं इसका उत्त

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  172
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!