आप अपने आपको सिर्फ़ तीन शब्दों में कैसे डिस्क्राइब करेंगे?...


user

En Rajendra Kumar Joshi

Life Coach, Motivator

2:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार अपने आप को व्यक्त करने के लिए मेरे पास 3 शब्द पहला शांति दूसरा निश्चय और तीसरा कर्म योग यह तीन मंत्र है जो मैंने अपने जीवन में आत्मसात किए हैं और करता जा रहा है मैं हमेशा अपने आप को शांत रखने की कोशिश करता हूं और अब स्थिति यह है कि बड़ी से बड़ी परेशानियों में भी मुझे क्रोध नहीं आता मेरी शांति पर कोई फर्क नहीं पड़ता दूसरा निश्चल निश्चल इसलिए कह रहा हूं क्योंकि चाहे किसी प्रकार भी भी बाधा जाए परेशानी आ जाए आसपास की सब लोग मेरे से मुंह मोड़ ले उसके बाद भी जो चीज मैंने सोच ली है उससे मैं सट्टा नहीं मैं हमेशा निश्चल रहता हूं मेरा संकल्प अटल है और उस पर हमेशा रहता हूं बना रहता हूं चाहे उसके लिए मुझे अपने आप को ही क्यों ना मिटा ना पड़ जाए तब भी मैं उस पर बना रहूंगा तीसरा है कर्म योगी कर्म योगी इसलिए मैं इस कार्य में लगता हूं उस समय मुझे कोई काम नहीं रहता कि आप इस के दाएं बाएं भी मेरे लिए कोई और चीज है जब कार पर लगता हूं तो मैं अपने बच्चों की तरफ तेरा ध्यान होता है ना ही किसी और चीज की तरह मैं सिर्फ का को पूर्ण करने के लिए युक्ति सोचता हूं आप उस कार्य को पूर्ण करते ही दम लेता हूं तो मेरे तो यही तीन शब्द है संत निश्चल और कर्म योग इसे आप जो चाहे समझे मैं अपने आप को ऐसे ही व्यक्त करता हूं धन्यवाद

namaskar apne aap ko vyakt karne ke liye mere paas 3 shabd pehla shanti doosra nishchay aur teesra karm yog yah teen mantra hai jo maine apne jeevan me aatmsat kiye hain aur karta ja raha hai main hamesha apne aap ko shaant rakhne ki koshish karta hoon aur ab sthiti yah hai ki badi se badi pareshaniyo me bhi mujhe krodh nahi aata meri shanti par koi fark nahi padta doosra nishchal nishchal isliye keh raha hoon kyonki chahen kisi prakar bhi bhi badha jaaye pareshani aa jaaye aaspass ki sab log mere se mooh mod le uske baad bhi jo cheez maine soch li hai usse main satta nahi main hamesha nishchal rehta hoon mera sankalp atal hai aur us par hamesha rehta hoon bana rehta hoon chahen uske liye mujhe apne aap ko hi kyon na mita na pad jaaye tab bhi main us par bana rahunga teesra hai karm yogi karm yogi isliye main is karya me lagta hoon us samay mujhe koi kaam nahi rehta ki aap is ke dayen baen bhi mere liye koi aur cheez hai jab car par lagta hoon toh main apne baccho ki taraf tera dhyan hota hai na hi kisi aur cheez ki tarah main sirf ka ko purn karne ke liye yukti sochta hoon aap us karya ko purn karte hi dum leta hoon toh mere toh yahi teen shabd hai sant nishchal aur karm yog ise aap jo chahen samjhe main apne aap ko aise hi vyakt karta hoon dhanyavad

नमस्कार अपने आप को व्यक्त करने के लिए मेरे पास 3 शब्द पहला शांति दूसरा निश्चय और तीसरा कर्

Romanized Version
Likes  74  Dislikes    views  716
KooApp_icon
WhatsApp_icon
25 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
apne shabdon mein ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!