बचपन में आपका ड्रीम नौकरी कौन सा था?...


user

Akash Kustwar

National Karate Instructor

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर बात बचपन की की जाए तो बचपन में जो नौकरी करने का ड्रीम था तो बचपन में इंजेक्शन बहुत लगते थे तो मेरा भी इच्छा था कि मैं भी डॉक्टर बोलूं और उनकी डॉक्टर को खुद सोचो मतलब सभी को इंजेक्शन लगाऊं तो डॉक्टर भी था लेकिन थोड़ा सा बड़ा हुआ तो लगा मुझे कि इंजीनियर बनना चाहिए इंजीनियर बहुत पैसा कमाता है कंप्यूटर बंद कर सब आना चाहिए रोड वोट बनाऊंगा सब चीज करूंगा लेकिन उसे मैं कुछ पता नहीं है ताकि सभी फील्ड अलग अलग होती है इंजीनियर में अगर कंप्यूटर करना तो कंप्यूटर वाले फील्ड वाला रोड का नहीं कर सकता है रोड वाला करना चाहे तो कंप्यूटर का नहीं कर सकता फिर यह इंजीनियर बनना फिर उसके बाद इनिंग करते हो सोचा कि सिविल सर्विसेस में जाना है तैयारी करना है लेकिन समय का हेयर फेल होते होते आज मसला डिस्ट्रिक्ट बन चुका हूं बिजनेस लाइन में घुस चुका हूं थोड़ी ऑनलाइन लगभग सूख चुकी है धन्यवाद

agar baat bachpan ki ki jaaye toh bachpan mein jo naukri karne ka dream tha toh bachpan mein injection bahut lagte the toh mera bhi iccha tha ki main bhi doctor bolu aur unki doctor ko khud socho matlab sabhi ko injection lagau toh doctor bhi tha lekin thoda sa bada hua toh laga mujhe ki engineer banna chahiye engineer bahut paisa kamata hai computer band kar sab aana chahiye road vote banaunga sab cheez karunga lekin use main kuch pata nahi hai taki sabhi field alag alag hoti hai engineer mein agar computer karna toh computer waale field vala road ka nahi kar sakta hai road vala karna chahen toh computer ka nahi kar sakta phir yah engineer banna phir uske baad inning karte ho socha ki civil services mein jana hai taiyari karna hai lekin samay ka hair fail hote hote aaj masala district ban chuka hoon business line mein ghus chuka hoon thodi online lagbhag sukh chuki hai dhanyavad

अगर बात बचपन की की जाए तो बचपन में जो नौकरी करने का ड्रीम था तो बचपन में इंजेक्शन बहुत लग

Romanized Version
Likes  89  Dislikes    views  1777
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

1:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मातीचा कृष्ण बचपन में आकर ट्रेन नौकरी कौन सा था कि मुझे तब जब बचपन में जब मैं छोटी थी मुझे आर्मी में जाना था मेरा ड्रीम था कि मैं आर्मी में जाओगी देश की सेवा करो मेरी 12वीं कक्षा फ्रेश हुई उसके बाद मैंने क्लियर फेस मोटर विद एग्जांपल लॉन्ग जंप सब कुछ क्लियर हुआ हाइट हाइट 1 इंच कमाई और मैं जनरल में हूं तो फिर मुझे उस वजह से फेल कर दिया गया तब मैं बहुत दुखी हूं कि बहुत मेरा सोची लेकिन बाद में मैंने तय किया कि जिन लोगों से वहां से मैं फेल हो सरनेम आउट्रिन काउंसलिंग का किया कुछ इनको और वहां गवर्नमेंट बने और काफी सारे जो है पुलिस के यह वह सब उनका कि हमें के काफी लोग आए उन लोगों को मैंने ट्रेनिंग दिया था मुझे करवा हुआ कि आज मैंने इन लोगों को ट्रेनिंग दिया और मैंने अपना मुंह सपना साकार किया ठीक है मैं नहीं जा पाई तो क्या हुआ मैंने उन लोगों को ट्रेनिंग किया बिल्डिंग प्लैनिंग ट्रैकिंग मॉडलिंग कैसे प्रेग्नेंट करते हैं बसेरा पुलिंग करते हैं एनिमल है तो कैसे बचना चाहिए अच्छा लगा लेकिन उस टाइम पर मुझे तो मैंने वह सपना भी अपना पूरा किया साथ ही साथ में पढ़ाई भी चलती है बहुत अच्छा रहा ठीक है कभी-कभी ऐसे नहीं तो वैसे भी सपने पूरे कर लिए जाता है

maticha krishna bachpan mein aakar train naukri kaun sa tha ki mujhe tab jab bachpan mein jab main choti thi mujhe army mein jana tha mera dream tha ki main army mein jaogi desh ki seva karo meri vi kaksha fresh hui uske baad maine clear face motor with example long jump sab kuch clear hua height height 1 inch kamai aur main general mein hoon toh phir mujhe us wajah se fail kar diya gaya tab main bahut dukhi hoon ki bahut mera sochi lekin baad mein maine tay kiya ki jin logo se wahan se main fail ho surname autrin kaunsaling ka kiya kuch inko aur wahan government bane aur kaafi saare jo hai police ke yah vaah sab unka ki hamein ke kaafi log aaye un logo ko maine training diya tha mujhe karva hua ki aaj maine in logo ko training diya aur maine apna mooh sapna saakar kiya theek hai nahi ja payi toh kya hua maine un logo ko training kiya building planning tracking modelling kaise pregnant karte hain basera puling karte hain animal hai toh kaise bachna chahiye accha laga lekin us time par mujhe toh maine vaah sapna bhi apna pura kiya saath hi saath mein padhai bhi chalti hai bahut accha raha theek hai kabhi kabhi aise nahi toh waise bhi sapne poore kar liye jata hai

मातीचा कृष्ण बचपन में आकर ट्रेन नौकरी कौन सा था कि मुझे तब जब बचपन में जब मैं छोटी थी मुझे

Romanized Version
Likes  398  Dislikes    views  4935
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मकान में आप अभियान नौकरी कौन सा कहां है ना आर्मी का जवान करना और आपका जो विचार है वह अपना कीजिएगा और उसका अपना पास होता है और उसका भाग में

makan mein aap abhiyan naukri kaun sa kahaan hai na army ka jawaan karna aur aapka jo vichar hai vaah apna kijiega aur uska apna paas hota hai aur uska bhag mein

मकान में आप अभियान नौकरी कौन सा कहां है ना आर्मी का जवान करना और आपका जो विचार है वह अपना

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
user

Ashish Verma

IAS Officer

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बचपन में मेरा टीम नौकरी पुलिस बनना था परंतु हम जैसे जैसे विकास करते हैं वैसे हमारी सपने और ड्रीम जो होते हैं वह अलग अलग होते चले जाते हैं और जैसे-जैसे हमारी क्षमता है बढ़ती जाती है वैसे हम अपने एक चीज को हासिल ना कर तो उसको और ज्यादा बढ़ाने की कोशिश करते जैसे कोई व्यापार खोल दिया करो चलने लगता है तो हमारे दिमाग भी आता है इस व्यापार को और बढ़ाया जाए उसी तरह जैसे जैसे हम पढ़ाई करते हैं जैसे-जैसे अमर शिक्षा बढ़ती है वैसे-वैसे हम सोचते हैं कि यह नौकरी मेरे लिए आसान है और इस नौकरी को मासिक कर सकते हैं इसलिए हम का भी जाए तो मालिक से बढ़ती जाती हैं और उसमें कंफर्टेबल महसूस करते हैं तो ही हमारी इच्छा बढ़ती हैं थैंक्स सो मच

bachpan mein mera team naukri police banna tha parantu hum jaise jaise vikas karte hain waise hamari sapne aur dream jo hote hain vaah alag alag hote chale jaate hain aur jaise jaise hamari kshamta hai badhti jaati hai waise hum apne ek cheez ko hasil na kar toh usko aur zyada badhane ki koshish karte jaise koi vyapar khol diya karo chalne lagta hai toh hamare dimag bhi aata hai is vyapar ko aur badhaya jaaye usi tarah jaise jaise hum padhai karte hain jaise jaise amar shiksha badhti hai waise waise hum sochte hain ki yah naukri mere liye aasaan hai aur is naukri ko maasik kar sakte hain isliye hum ka bhi jaaye toh malik se badhti jaati hain aur usme Comfortable mehsus karte hain toh hi hamari iccha badhti hain thanks so match

बचपन में मेरा टीम नौकरी पुलिस बनना था परंतु हम जैसे जैसे विकास करते हैं वैसे हमारी सपने और

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  384
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार साथियों बचपन के ड्रीम की है तो बचपन से क्या कोई खास बचपन नहीं था मेरा आठवीं क्लास में था तब मैंने एक बार एक आईएएस के बारे में सुना था सुना था अपने से बड़े लोगों से कि वह आईएएस का बहुत पावर होता है जो चाहे वह कर सकता है तभी से मेरे मन में ख्याल आया क्यों ना आईएएस के बनाया जाता है उसके बाद में धीरे-धीरे बढ़ा हुआ आज बैचलर डिग्री लेकिन लगा हुआ हूं उसी सपने की पिक्चर देखो कब पूरा होता है धन्यवाद

namaskar sathiyo bachpan ke dream ki hai toh bachpan se kya koi khaas bachpan nahi tha mera aatthvi class mein tha tab maine ek baar ek IAS ke bare mein suna tha suna tha apne se bade logo se ki vaah IAS ka bahut power hota hai jo chahen vaah kar sakta hai tabhi se mere man mein khayal aaya kyon na IAS ke banaya jata hai uske baad mein dhire dhire badha hua aaj bachelor degree lekin laga hua hoon usi sapne ki picture dekho kab pura hota hai dhanyavad

नमस्कार साथियों बचपन के ड्रीम की है तो बचपन से क्या कोई खास बचपन नहीं था मेरा आठवीं क्लास

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  159
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!