भारत में नदियों को क्यों पूजा जाता है?...


user

Dr Sampadananda Mishra

Sanskrit scholar, Author, Director, Sri Aurobindo Foundation for Indian Culture

3:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत की नदियों को क्यों पूजा जाता है जो सीधा उत्तर है भारत में आदिम काल से प्राचीन काल से पुरातन काल से प्रकृति का पूजन प्रकृति को आदर करना प्रकृति को सम्मान करना हमारे जो सभ्यता का हमारी संस्कृति का एक का बहुत महत्वपूर्ण अंश है खली नदी नहीं पहाड़ पर्वत पत्थर पशु पक्षी सबका आदर करना हमारे साथ गुलदस्ता नदी भी एक प्रकृति के अंदर है उसका सम्मान करना आदर करना भी हमारा एक गुण है हमारा कर्तव्य बनता है दूसरा कारण यह है कि यदि जिसे हम गम भरे में तो उन्हें एक मन जो है हमारे अंदर जो अपवित्र भावना है जब जल में हम उतरते हैं स्नान करते हैं गंगा में पानी के अंदर भी एक एनर्जी है जो हमारे पवित्र भावनाओं को भी पवित्र बना दे बना देता है चाहे कुछ क्षण के लिए जो पानी के अंदर एनर्जी को उस शक्ति को सामर्थ्य को मानव ने अनुभव किया है उसको पीकर भी देखा है कि उस पानी को एक बार हम पी लेते हैं वह पानी में भी इस प्रकार का गुण है उससे बहुत सारे रोग मिट जाते हैं बहुत दोस्त माल झुकना पड़ता है क्योंकि यह हमको पवित्र बनाता है इसे हमारे आदर बढ़ता है सामान पड़ता है इस कारण हो सकता है क्योंकि एक कृषि प्रधान देश है और नदियों की आवश्यकता बहुत है और नदियों के नाम से जो भूमि खंड होते हैं तो वह भी कंफर्टेबल होते हैं जिससे हमको हमारा जीवन के भरण-पोषण सहायक इसलिए आदर का पात्र है यह मान कर भी हम नदियों का पूजन करते हैं तो दो तीन कारण है जिसके लिए हम नदियों का आदर करना सम्मान का पूजा करना अरुण को देवी के रूप में सम्मानित करना पूजा करना यह हमारी संस्कृति का एक कारण महत्वपूर्ण अंश है

bharat ki nadiyon ko kyon puja jata hai jo seedha uttar hai bharat mein aadim kaal se prachin kaal se puratan kaal se prakriti ka pujan prakriti ko aadar karna prakriti ko sammaan karna hamare jo sabhyata ka hamari sanskriti ka ek ka bahut mahatvapurna ansh hai khali nadi nahi pahad parvat patthar pashu pakshi sabka aadar karna hamare saath guldasta nadi bhi ek prakriti ke andar hai uska sammaan karna aadar karna bhi hamara ek gun hai hamara kartavya baata hai doosra karan yah hai ki yadi jise hum gum bhare mein toh unhe ek man jo hai hamare andar jo apavitra bhavna hai jab jal mein hum utarate hain snan karte hain ganga mein paani ke andar bhi ek energy hai jo hamare pavitra bhavnao ko bhi pavitra bana de bana deta hai chahen kuch kshan ke liye jo paani ke andar energy ko us shakti ko samarthya ko manav ne anubhav kiya hai usko peekar bhi dekha hai ki us paani ko ek baar hum p lete hain vaah paani mein bhi is prakar ka gun hai usse bahut saare rog mit jaate hain bahut dost maal jhukna padta hai kyonki yah hamko pavitra banata hai ise hamare aadar badhta hai saamaan padta hai is karan ho sakta hai kyonki ek krishi pradhan desh hai aur nadiyon ki avashyakta bahut hai aur nadiyon ke naam se jo bhoomi khand hote hain toh vaah bhi Comfortable hote hain jisse hamko hamara jeevan ke bharan poshan sahayak isliye aadar ka patra hai yah maan kar bhi hum nadiyon ka pujan karte hain toh do teen karan hai jiske liye hum nadiyon ka aadar karna sammaan ka puja karna arun ko devi ke roop mein sammanit karna puja karna yah hamari sanskriti ka ek karan mahatvapurna ansh hai

भारत की नदियों को क्यों पूजा जाता है जो सीधा उत्तर है भारत में आदिम काल से प्राचीन काल से

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  207
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!