पूर्ण परमात्मा कौन है उसे कैसे प्राप्त किया जा सकता है और उनकी भक्ति करने का सर्वश्रेष्ठ तरीक़ा क्या है?...


user

Dr Sampadananda Mishra

Sanskrit scholar, Author, Director, Sri Aurobindo Foundation for Indian Culture

3:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पूर्ण परमात्मा देखें क्योंकि जो कुछ रिकॉर्डिंग भी तमाम शास्त्रों में हर व्यक्ति खुद ही परमात्मा परमात्मा को अपने अंदर ही उपलब्ध करना है परमात्मा हमारे अंदर हमसे अलग नहीं होता अगर मतलब हम हमारे खुद को अच्छी तरह से हम समझे संपूर्ण तरह से हम उपलब्ध करें जो आत्मज्ञान प्राप्त हो सकती है आत्मज्ञान भागवत ज्ञान और जगत जयप्रकाश उद्यान में जनता आती है तब पूर्ण परमात्मा को हम हमारे अंदर ही उपलब्ध और सबसे कम हमारे अंदर होता है उस प्रकार का भाग अपने आप जागृत होता है और इसी भागने जोधपुर में परमात्मा के अंदर उपलब्ध किया जो भारत में सब कुछ कोई अंतर नहीं है इसलिए भारतीय संस्कृति में भारतीय परंपरा में भारत की आध्यात्मिक परंपरा में गोलाकार मंडला का हम लिखते हैं लिखते हैं सब कुछ पुर में जो इस मंत्र का उच्चारण करते हैं पूर्णिमा व्यास पूर्णिमा उपलब्ध नहीं कर पाते क्योंकि हमें खंडित फैसला में रहते हैं लेकिन जब हमारे अंदर बहुत लंबी होती है कि हम खुद भी पूर्व

purn paramatma dekhen kyonki jo kuch recording bhi tamaam shastron mein har vyakti khud hi paramatma paramatma ko apne andar hi uplabdh karna hai paramatma hamare andar humse alag nahi hota agar matlab hum hamare khud ko achi tarah se hum samjhe sampurna tarah se hum uplabdh kare jo atmagyan prapt ho sakti hai atmagyan bhagwat gyaan aur jagat jayprakash udyan mein janta aati hai tab purn paramatma ko hum hamare andar hi uplabdh aur sabse kam hamare andar hota hai us prakar ka bhag apne aap jagrit hota hai aur isi bhagne jodhpur mein paramatma ke andar uplabdh kiya jo bharat mein sab kuch koi antar nahi hai isliye bharatiya sanskriti mein bharatiya parampara mein bharat ki aadhyatmik parampara mein golaakar mandla ka hum likhte hain likhte hain sab kuch pur mein jo is mantra ka ucharan karte hain poornima vyas poornima uplabdh nahi kar paate kyonki hamein khandit faisla mein rehte hain lekin jab hamare andar bahut lambi hoti hai ki hum khud bhi purv

पूर्ण परमात्मा देखें क्योंकि जो कुछ रिकॉर्डिंग भी तमाम शास्त्रों में हर व्यक्ति खुद ही परम

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  125
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!