क्या भगवान को पाना जीवन का लक्ष्य है?...


user

कृष्णा नंद मिश्र। वशिष्ठ जी।

विद्या।दान।यज्ञ करना

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान को पाना जीवन का लक्ष्मी बनाना चाहिए अपना लक्ष्य चाहोगे भगवान श्याम मिलने के लिए भगवान का पाना जीवन का लक्ष्य होगा तब के अंदर अभिमान आ जाएगा जब परमात्मा को पा गए हो सकता हूं मंजिल आपको प्राप्त नहीं हो सकता जोगिया अनुभव किया कि हम भगवान पानी का मेरा जीवन ही लक्ष्य है जीवन क्या होता है और जी व दोनों अलग जिंदगी है और भगवान भी जिंदगी और जीवन से बहुत भिन्न है पर आता है साथ में खाता है साथ में पीता है साथ में लेकिन उसका अनुभव नहीं हो सकता जैसे मान लीजिए माता-पिता है तुम माता-पिता होने के बाद बहुत बालक ऐसे भी हैं उनके आचरण व्यवहार या कुछ भी माता-पिता से तालुकात नहीं खाता जो अपने माता पिता को नहीं पा सकता हूं इस जीवन से माता-पिता का सेवा करके उसकी उत्तरदायित्व को नहीं प्राप्त कर सकता तो भगवान को पाना जीवन बहुत कठिन है पिछले कहूंगा कि आप इतना बने चले अपने आचरण व्यवहार से माता-पिता के कोई भगवान वाले हो जो भगवान को पाने की आचरण माता पिता की सेवा में लगा दें जब आप स्वयं पवित्र हो जाएंगे परमात्मा को स्वयं आपके घर ही आ जाते हैं कहीं जाने की जरूरत नहीं है क्या भगवान को पाना जीवन का लक्ष्य जीवन का लक्ष्य भगवान को पाना नहीं है भगवाना करके स्वयं जीवन लक को बताएंगे जय श्री राधे जय श्री कृष्ण कोई बात हमारी ठेस पहुंची हो तो मैं क्षमा चाहता हूं आप लोगों से अनुरोध करते हुए

bhagwan ko paana jeevan ka laxmi banana chahiye apna lakshya chahoge bhagwan shyam milne ke liye bhagwan ka paana jeevan ka lakshya hoga tab ke andar abhimaan aa jaega jab paramatma ko paa gaye ho sakta hoon manjil aapko prapt nahi ho sakta jogiya anubhav kiya ki hum bhagwan paani ka mera jeevan hi lakshya hai jeevan kya hota hai aur ji va dono alag zindagi hai aur bhagwan bhi zindagi aur jeevan se bahut bhinn hai par aata hai saath me khaata hai saath me pita hai saath me lekin uska anubhav nahi ho sakta jaise maan lijiye mata pita hai tum mata pita hone ke baad bahut balak aise bhi hain unke aacharan vyavhar ya kuch bhi mata pita se talukat nahi khaata jo apne mata pita ko nahi paa sakta hoon is jeevan se mata pita ka seva karke uski uttardayitva ko nahi prapt kar sakta toh bhagwan ko paana jeevan bahut kathin hai pichle kahunga ki aap itna bane chale apne aacharan vyavhar se mata pita ke koi bhagwan waale ho jo bhagwan ko paane ki aacharan mata pita ki seva me laga de jab aap swayam pavitra ho jaenge paramatma ko swayam aapke ghar hi aa jaate hain kahin jaane ki zarurat nahi hai kya bhagwan ko paana jeevan ka lakshya jeevan ka lakshya bhagwan ko paana nahi hai bhagvana karke swayam jeevan luck ko batayenge jai shri radhe jai shri krishna koi baat hamari thes pahuchi ho toh main kshama chahta hoon aap logo se anurodh karte hue

भगवान को पाना जीवन का लक्ष्मी बनाना चाहिए अपना लक्ष्य चाहोगे भगवान श्याम मिलने के लिए भग

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  91
KooApp_icon
WhatsApp_icon
25 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!