क्या भगवान को पाना जीवन का लक्ष्य है?...


user

Tej Sahu

Author | Journalist

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वर्तमान में भगवान को नहीं वर्तमान में जीवन का उद्देश्य बनते जा रहा है अपनी भौतिक सुख-सुविधाओं की पूर्ति करना एक दौर था जब वह जो है योगा ऋषि मुनि तपस्या करके भगवान की प्राप्ति करते थे वर्तमान दौर में एक व्यक्ति की औसतन आयु आज जो है उनके रहन-सहन उनकी उनके यह जीवन शैली पर ही निर्भर करती है ऐसे में भगवान को पाना जीवन का लक्ष्य जी आप सब मानते हैं समझते हैं तो घर में ही नारायण की सेवा जो है महसूस करनी होगी आपको प्रयास करना होगा कि आसपास के जो आप के लोग होते हैं तो गरीब तबके के लोग हैं क्या आप उनकी सही से हटा कर पा रहे हैं क्योंकि हर एक व्यक्ति में भगवान का वास होता है यदि इस आप इस बात को समझ सकते हैं तो वाकई में आप जो है भगवान को पा लेंगे और आपका जीवन सार्थक होगी हमारे आसपास हम सबके अंदर एक हद है देवी सकती है उसे जागृत करने की आवश्यकता है हमें सकारात्मक की आवश्यकता है तो अपने आसपास में जो लोग हैं उन्हें आप भगवान मानकर उनकी सेवा करते माता-पिता का सेवा करें यही मानव जीवन की सर्वोत्तम सेवा होगी धन्यवाद

vartaman me bhagwan ko nahi vartaman me jeevan ka uddeshya bante ja raha hai apni bhautik sukh suvidhaon ki purti karna ek daur tha jab vaah jo hai yoga rishi muni tapasya karke bhagwan ki prapti karte the vartaman daur me ek vyakti ki ausatan aayu aaj jo hai unke rahan sahan unki unke yah jeevan shaili par hi nirbhar karti hai aise me bhagwan ko paana jeevan ka lakshya ji aap sab maante hain samajhte hain toh ghar me hi narayan ki seva jo hai mehsus karni hogi aapko prayas karna hoga ki aaspass ke jo aap ke log hote hain toh garib tabke ke log hain kya aap unki sahi se hata kar paa rahe hain kyonki har ek vyakti me bhagwan ka was hota hai yadi is aap is baat ko samajh sakte hain toh vaakai me aap jo hai bhagwan ko paa lenge aur aapka jeevan sarthak hogi hamare aaspass hum sabke andar ek had hai devi sakti hai use jagrit karne ki avashyakta hai hamein sakaratmak ki avashyakta hai toh apne aaspass me jo log hain unhe aap bhagwan maankar unki seva karte mata pita ka seva kare yahi manav jeevan ki sarvottam seva hogi dhanyavad

वर्तमान में भगवान को नहीं वर्तमान में जीवन का उद्देश्य बनते जा रहा है अपनी भौतिक सुख-सुविध

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  110
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!